देहाती हिंदी बीएफ चुदाई

छवि स्रोत,सेक्सी बफ वीडियो बफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी फिल्म हिंदी ऑडियो: देहाती हिंदी बीएफ चुदाई, रजनी की चूत में मैं झटके लगाता और उसकी गांड के छेद में मेरी पत्नी डिल्डो से झटके लगाती… इस तरह रजनी का गैंग बैंग बन गया था और वो बहुत मज़े से अपने दोनों छेदों की चुदाई करवा रही थी.

ಕನ್ನಡ ಸಕ್ಸ್ ಬಿಎಫ್

मेरे जैसे मस्त, गांड की चुदाई के शौकीन मेरे गांडू दोस्तों को मेरा सलाम गे सेक्स स्टोरीज के प्रेमी लौंडेबाज दोस्तों को मेरी कुलबुलाती गांड. एक्स एक्स एक्स डॉट वीडियो डॉट कॉमपर हर लड़की को यह दर्द सहना ही पड़ता है, यह असीम आनन्द को प्राप्त करने के मार्ग का फाटक है। आज मैंने उस दरवाजे को तोड़ कर तुम्हारे असीम आनन्द का मार्ग हमेशा के लिए खोल दिया है।वैसे तो मैं दर्द से परेशान थी, पर उसके इस प्रवचन से मुझे हंसी आई और मैंने महसूस किया कि मेरा दर्द भी पहले से कम हो गया है। मैं शरमा के मुस्कुरा उठी और रोहन से नजरें हटा कर बोली- तुम सॉरी मत बोलो.

हम दोनों ने 10 मिनट तक स्मूच किया। मैंने उसके टॉप के ऊपर से ही उसके मम्मों को पकड़ लिए लेकिन उसने मेरा हाथ हटा दिया।मैंने भी थोड़ा नाराज होने का ड्रामा किया, तो उसने मुझे पकड़ कर किस किया और मेरे हाथ पकड़ कर अपने मम्मों पे रखवा लिए और दबवाने लगी।‘आह आह उफ़. এক্স এক্স ফুল এইচডি ভিডিওसाहिल- अब मुझे समझ आया कि तेरा लंड तना क्यों था पानी में… नीलिमा और रीता को स्विम सूट में देखकर तेरी नियत डोल गई.

अभी मैं आपको अपनी एक नई स्टोरी के साथ!जैसा कि आप सभी जानते हो कि मेरा वाइफ स्वैपिंग क्लब है जिसमें बहुत सारे कपल हैं जो वाइफ स्वैपिंग का मज़ा लेते हैं.देहाती हिंदी बीएफ चुदाई: करीब 15 मिनट की लंड चुसाई के बाद मैंने उनको सीधा करके अपना लंड उनकी चुत पर रखकर जोरदार शॉट मारा। मेरे लंड का 1/3 हिस्सा चुत के अन्दर घुस गया। आंटी की चुत दर्द से परपरा उठी.

फिर तुझे इसका कैसे पता लगा?सुमन- क्या दीदी आप भी ये तो 9वीं क्लास में ही साइन्स की किताब में था.जिससे उनको बहुत मज़ा आ रहा था। वो लेटे-लेटे ही अपनी गांड को उछालने लगीं। जैसे कि उन्हें इससे चुत पर गुदगुदी हो रही हो।यह सेक्सी आंटी की चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!वो वासना से तड़पने लगीं और बोलीं- बस अंकित अब इसे चुत में डाल दे बेटा.

देसी क्सक्सक्स हिंदी - देहाती हिंदी बीएफ चुदाई

आंटी खड़ी होकर बोली- ले मैंने आँखें बंद कर ली, अब बता!मैं आंटी के पास गया और उनकी उनकी साड़ी नाभि से नीचे करके उनकी नाभि को जीभ से चाटते हुए बोला- मुझे आपकी नाभि बहुत अच्छी लगती है.आप ऐसे हंस क्यों रही हो? मैंने कुछ ग़लत कहा क्या?टीना हंस-हंस के पागल हो रही थी, उसका पेट दर्द करने लगा था। काफ़ी देर बाद उसने अपने आपको संभाला।टीना- मुझे पता था तू ऐसा ही कुछ बताएगी.

बाद में बात करती हूँ।‘ओके जान आई लव यू बेबी और नाइट का प्लान हो तो ज़रूर याद करना।’मैं- ओके बाइ।मैंने कॉल कट कर दी। उसके बाद मैं सोचने लगी कि अब क्या होगा. देहाती हिंदी बीएफ चुदाई उसके बाद मैं उठा, अब हम दोनों पूरे नंगे हो गये, मेरा लंड पूरा टाईट था तो मैडम लंड देखकर बोली- साले कमीने, तेरा कितना बड़ा है?मैंने कहा- हाँ, यह आपके लिए ही है.

पर मेरे दिमाग में तो बस एक ही सवाल था कि मैं इनका जीजा कैसे हुआ।थोड़ी देर सोचने के बाद मेरी भी आंख लगने ही वाली थी कि कोई मेरे पैरों की उंगली खींचने लगा, मैंने चौंककर अंधेरे में फोन का उजाला करके देखा तो वही लड़की थी.

देहाती हिंदी बीएफ चुदाई?

तब मज़ा रस बाहर आएगा।पूजा अब घुटनों के बल बैठ गई और सुपारे को जीभ से चाटने लगी। धीरे-धीरे वो मुँह को पूरा खोल कर टोपा मुँह में भर के चूसने लगी। वैसे तो उसके छोटे से मुँह में संजय का विशाल लंड जाना मुश्किल था. इसलिए पहले तो मैं सोचने लगा कि लंड का क्या होगा। पर ध्यान आया कि मैंने भी कंडोम पहना था, तो मैं निश्चिन्त हो गया।फिर मैंने उससे कहा- तुम लेटी रहना. अगले दिन मैं सुबह जल्दी पहुँच गया इंस्टिट्यूट… वहाँ पर सर की वाइफ अकेली ही बैठी थी जैसे मैंने सोचा था.

अब मैं बाजार में तो जा नहीं सकता इसके लिए… आखिर हमारी भी कुछ बायोलॉजिकल नीड्स हैं. उसमें से एकदम आर-पार दिखता था। वो गाउन मैंने ब्रा-पैंटी के ऊपर पहन लिया. इन दोनों ने भी लगभग आधा घंटा मुझे खूब रगड़ कर चोदा, वो भी मेरी गांड और चूत में झड़ गए.

उतरते ही उसकी तो शामत आ गई, क्योंकि पानी के दबाव से उसका टॉप ऊपर तैर गया और उसके मोटे मोटे मम्मे अजय को फिर ललचा गए. मैं एक मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब करता हूँ।बात आज से लगभग 2 साल पहले की है, जब जॉब से आने के बाद फ्रेश होकर मैं अपने बिस्तर पर लेट कर वी-चैट यूज किया करता था। वी-चैट में भी मस्त फीचर्स हैं जैसे कि ‘शेक. थोड़ी देर बाद मेरी नज़र एक आदमी पर पड़ी, वो दिखने में तो पतला सा था पर स्मार्ट था.

मेरी उम्र तब 19 साल और ऊपर कुछ दिन ही हुई थी, मेरा बड़ा भाई सुन्दर मुझसे 8 साल बड़ा था और उसकी बीवी अनुपमा से उसका तलाक हो चुका था. मॉम बोली- कहाँ हो और क्या रही हो?तो मैं बोली- मॉल में हूँ मॉम और आइसक्रीम खा रही हूँ।और अमित का लन्ड जोर से चाट कर आवाज़ सुना दी।मॉम को क्या पता लन्ड है या आइसक्रीम…तभी अमित ने जानबूझ कर जोर से मेरी चुत पे दाँत चुभा दिए।मेरे मुँह से चीख निकल गई।मॉम ने पूछा- क्या हुआ?मैं बोली- कुछ नहीं मॉम, वो दांत में उंगली कट गई।फिर मॉम बोली- जल्दी आ जाना, टाइम बहुत हो गया है।और फोन रख दिया.

उस वजह से भाभी पूरी मदहोश हो गई थीं।उस वक्त वो क्या कातिल माल लग रही थीं उनका पूरा बदन मैंने चूस कर गीला किया था।वो इस दौरान कम से कम 4 बार छूट चुकी थीं। भाभी की चूत इतनी गीली हुई पड़ी थी कि मेरा लंड आराम से अन्दर-बाहर जा रहा था।तभी वो फिर से अकड़ने लगीं और मुझे ‘आई लव यू दीप.

मैंने धीरे से कहा- क्या करें?वह कुछ ना बोली, मैंने फिर उसकी कमर में हाथ डाला, उसने भी मेरी कमर पर हाथ रख दिया.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… ‘ की हल्की-हल्की आवाजें आने लगीं।ये सब देख कर मैं बहुत गरम हो गई थी। मेरा हाथ मेरी चुत पर कब चला गया. अब झांसी केवल डेढ़ घंटे की दूरी पर है। हम सब मेरे रिश्तेदार की सब्जी बाड़ी में बैठकर नाश्ता करेंगे, और यहीं से झांसी जाकर सीधे घूमने निकलेंगे। लेकिन उससे पहले पास की नदी में नहा कर आयेंगे। पानी भी साफ है और प्रकृति का भी पूरा आनंद उठाना है। सभी अपने बैगों से नहाने के कपड़े निकाल कर साथ रख लें।यह आवाज एक सर की थी, यहाँ पर उनकी बहन का ससुराल था, हम मेन रोड से एक कि. काटता रहा।मैंने खड़े-खड़े ही उसका दो बार पानी निकाल दिया।फिर शाम को हम बार में बैठे थे। वो लौंडे ताड़ कर कहती कि यार ऊटी की ठंड में कितने गर्म लंड घूम रहे हैं।मैंने कहा- और क्या.

तो मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को कॉलेज से पिक किया और अपने घर ले आया। वो भी बिना मना किए मेरे साथ आ गई। शायद उसे भी पता था कि आज उसे मेरा लंड चोदने वाला है।मैंने उसे घर लाकर बैठने को कहा और उसके लिए कोल्डड्रिंक लाया। उसने ठंडा पिया और मेरी तरफ देखने लगी।मैंने भी देर ना करते हुए उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उसे चूमने लगा। वो भी मेरा साथ देने लगी. वो मेरे लंड को मसलती रही।अब मैंने उसको नीचे लिटाया और उसके बड़े-बड़े मम्मों के बीच में अपना लंड रख दिया। कुछ देर तक ऐसा करने के बाद उसने मेरा लंड अपने मुँह में डाला और चूसना शुरू कर दिया।लगभग 5 मिनट तक उसने मेरे लंड को बहुत अच्छे तरीके से चूसा। उसके बाद मैं भी उसकी चूत पर किस करने लगा।उसकी चूत पर हल्के-हल्के रेशमी से बाल आए हुए थे. जाते-जाते आलोक ने मेरी चूत को सहला दिया जिससे मेरे अंदर चुदाई का कीड़ा गुनगुनाने लगा।आलोक को दूध दे कर मैं वापस कमरे में आ गई और गेट बंद कर लिया.

‘ इऽऽऽऽय… ये क्या कर रहे हो…’ जिंदगी में पहली बार किसी ने मेरी चूत को पीछे से चाटा था, पर वो रुकने वाला नहीं था, मेरी बुर चाटने के बाद उसने मेरी गांड के छेद को चाटना शुरू कर दिया.

तो हम लोगों के सामने एक गंभीर समस्या आ गई थी कि कैसे पूजा और अग्रवाल भाई बहन होते हुए सेक्स कर सकते हैं तो जैसे ही आप लोगों के सुझाव को ध्यान रखते हुए मिस पूजा गोयल ने अपने भाई के सामने एक शर्त रखी- आप मेरे भाई हैं लेकिन मैं आपके साथ बेइंसाफी नहीं कर सकती हूँ कि आप मुझे ना छुएं! मैं घर पर आपकी बहन हूँ, लेकिन यहाँ आप चाहो तो मुझे आप अपनी वाइफ भी बना सकते हो! लेकिन घर पर मैं आपकी बहन ही रहूँगी. उसके कड़क होते निप्पलों को कपड़े के ऊपर से ही मींजने लगा। लेकिन इस तरह बीच में कपड़ा आ रहा था।फिर मैंने उसकी कमीज को थोड़ा ऊपर किया तो नीलू बोली- रुको. मेरी गांड तृप्त हो गई। गांड कुछ गरम भी हो गई थी और चिनमिना रही थी।फिर उसने दुबारा पेला.

ज्यादा मोटा और बड़ा होने के कारण वो मुख में बड़ी मुश्किल से घुस रहा था. अब उसे क्या अंदाजा था कि मैं उसकी चूत के ख्यालों में खोया उसे देखने, चूमने, चाटने और चोदने की प्लानिंग कर रहा था; और वो मुझे इसी के लिये विश कर रही थी. ये लड़कियाँ अंग्रेजन हेरोइनों की देखादेखी पैसे के लिए कुछ भी कर लेतीं हैं, सचमुच में कोई कैसे उस गन्दी जगह पर अपना मुंह लगा सकता है?’‘अरे कोई जगह गन्दी होती है तो फिर साफ़ भी तो हो जाती है कि नहीं?’‘अंकल जी, साफ़ करने से क्या.

मैंने कहा- मुझे कोई ऐतराज नहीं… पर मैं सिर्फ रेशमा को नहीं, नीलिमा को भी चोदना चाहता हूँ.

थोड़ा काम बचा था, वो पूरा करने चली गई। वापस जाते वक़्त मैंने उसे 500 रूपए दिए और दरवाजा लगाते वक़्त उसकी साड़ी उठाकर उसके टाँगों के बीच मुँह डाल कर चूत भी चख ली।तब वो बोली- इतनी भी ठरक ठीक नहीं है. मेरी जान।करीब 15 मिनट तक पूजा जी-जान से लंड चूसती रही मगर संजय तो फ्लॉरा की चुदाई करके आया था.

देहाती हिंदी बीएफ चुदाई पर तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो और मैं तुम्हें जम कर चोदना चाहता हूँ। तुम्हारी चूत और गांड को चाट कर उसका टेस्ट लेना चाहता हूँ. और घर में भी रात को रहना ज्यादा पसंद नहीं है।भाभी ने पूछा- ऐसा क्यों?मैंने कहा- मुझे घर पर नींद नहीं आती.

देहाती हिंदी बीएफ चुदाई उस पर झांट का एक बाल भी नहीं था।यह देखकर मेरा लंड एकदम कड़क हो गया था और नाग की तरह फुंफकार रहा था।मैंने उसको लंड मुँह में लेने को बोला. इसी तरह अगर किसी ने चूत के रस का स्वाद ले लिया हो, वो भी ज्यादा दिन बिना सेक्स के नहीं रह सकता.

तो रानी भाभी ने खुद बताया कि पहली बार उसके सगे मामा ने उसे चोदा था जब वो ग्यारहवीं की परीक्षा के बाद गर्मी की छुट्टी में नाना जी के यहाँ जबलपुर गई थी.

सेक्सी कहानी कहानी कहानी

मुझे इस सेक्स स्टोरी पर आपके मेल्स का इन्तजार रहेगा।[emailprotected]. इस लगातार मर्दन से मेरे मम्मे एकदम सख्त और लाल पड़ गए थे, मैं कराह रही थी।रवि का लंड खड़ा हो चुका था और मेरी चूत पर रगड़ खा रहा था जिससे मेरी चूत गीली होने लगी. मैंने उसको अपनी तरफ घुमाया और उसके नर्म होंठों पर अपने होंठ रख दिए और किस करने लगा.

30 बजे हिम्मत ने मेरे खाते में 4000 रुपये डलवा दिए और फोन करके बता दिया कि पैसे जमा कर दिए हैं. रयान बोला- मैं तुम्हारे लिए कॉफ़ी बनता हूँ…उसने दो कप कॉफ़ी बनाई और लेकर अपने बेड रूम में आ गया. शायद मेरे सोने के बाद उनमें से किसी के टॉयलेट जाने के कारण उनकी जगह आपस में बदल गई थी.

वो उठकर खुद अपनी ब्रा और पेन्टी उतार दी और मेरे मुँह में बुर चिपका दी.

मुझसे कोई काम करवाना है क्या?वो बोलीं- अरे तुझसे काम तो बहुत करवाना है लेकिन वो सब बाद में बताती हूँ. मगर मैं यह देख कर हैरान था कि मैडम में आग कितनी थी, वो 2 या 3 मिनट में ही पानी गिरा देती थी, मैंने खुद गिना, उसने 5 बार पानी गिराया. कुछ देर हम तीनों यूँ ही पड़े हुए अपनी सांसों को काबू करने के लिए आराम करते रहे.

मुझे सैंडविच गेम करना है।मैं हैरान था, मैंने कहा- अब एक और लंड कहाँ से लाऊँ. उसके मुँह से ‘स्ससीई आआह्ह ऊउह्ही स्सस्स स्सीईईईई की आवाज आ रही थी, उसका शरीर अकड़ने लगा और वो जोर की सिसकारी के साथ झड़ गई, मैंने उसका सारा पानी पी लिया. जब माला फिर से फर्श पर बैठने लगी तब मैंने उसे मना किया और पकड़ कर अपने पास बिस्तर पर बिठा लिया.

जी हाँ मैं उन्ही परीक्षित कुमार की बात कर रही हूँ, जिन्होंने कुछ दिन पहले ही मेरे साथ एक चुदाई की कहानी अन्तर्वासना पर लिखी थी. पर थोड़े टाइट होने के बाद उसके कपड़े लगभग मुझे आ ही जाते थे।मैं नहाने चला गया, जब मैं बाथरूम में गया तो देखा कि आंटी के कपड़े नीचे ही पड़े हुए थे। मैंने उन कपड़ों को जैसे ही साइड में रखने के लिए उठाया.

आप ही पिला दो।यह कहकर दुशाली ने अपनी जाँघों को क्रॉस करते हुए दूध मेरी तरफ उठा दिए। उसकी भिंची हुई जाँघों को देखकर मेरा लंड खड़ा हो रहा था। मैंने सोचा इसको मेरी फीलिंग्स कैसे बताऊं. मुझे इससे कोई एतराज नहीं है क्योंकि मुझे पता है कि वो मुझे प्यार करते हैं. क्यों फाड़ रहा है।फिर थोड़ी देर बाद उन्हें मज़ा आने लगा और मैंने भी स्पीड बढ़ा दी। पूरे बाथरूम में हमारी चुदाई वाली आवाजें ऐसे आने लगीं.

मैंने देखा कि रूम का दरवाजा थोड़ा सा खुला हुआ था तो मैंने सोचा कि शायद मैडम जाग रही है तो इसलिए मैं रूम के बहुत करीब गया और जैसे ही मैंने अंदर देखा तो देखकर मेरे होश उड़ गये और मेरी दोनों आँखें फैल गई, क्योंकि उस समय मेरी बॉस मेक्सी के ऊपर से ही अपनी चूत को सहला रही थी और आअहह उउफफफ्फ़ हनमम्म कर रही थी.

यह हिंदी चुदाई की कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!कुछ देर बाद मैं उठा और मैंने भाभी की सलवार का नाड़ा खोल दिया और उनकी सलवार के साथ पेंटी भी उतार फेंकी। मेरे सलवार और पेंटी खोलते ही सोनू भाभी ने अपनी दोनों जांघें आपस में मिला दीं।मैंने कहा- जांघें चौड़ी करो न बेबी. मैंने उसकी चुत पर सुपारा रख कर दबाया। मुझे उसकी चुत बहुत टाइट लगी। मैंने कहा- क्या हुआ. करीब 10 मिनट तक हम किस करते रहे, फिर मैंने उसको कपड़े उतारने के लिए बोला तो मना करने लगी.

मेरे होंठ चूसते चूसते सुल्लू रानी मेरे कानों में फुसफसाई- राजे बाबू देखो मैं जन्नत की सैर कराऊँगी तुमको!इतना कह कर रानी ने मेरे मुंह में जीभ घुसा के बहुत देर तक प्यार दिया. आज मौका है सोचो 5 लंड एक साथ तुम चूस रही हो सोचो कितना मज़ा आएगा।फ्लॉरा की वासना इतनी बढ़ गई थी कि उसे होश भी नहीं रहा और सबसे बड़ी बात लंड चूसने की.

उसकी बड़ी बड़ी चुची, बड़े मोटे चूतड़ गांड और खास कर उसकी बन पाव सी फूली हुई चूत जो मैं हमेशा चोदता रहता हूँ. मैंने उन्हें जमकर दबाया एकदम निचोड़ दिए और निप्पलों को मैं चूस चूस कर बीच बीच में काटने लगा. कुछ लड़के भी हैं जिन्होंने आज तक मुठ नहीं मारी। भाई ये दुनिया बहुत बड़ी है.

गधा और लड़की सेक्सी

फिर बॉस मुझसे बोले- मैडम मेरे साथ नहीं जाएँगी क्योंकि बेटी का स्कूल है तो इसलिए तू दुकान बंद करने के बाद मेरे घर पर ही रहना.

इस तरह हम पूरे जोश में लगभग तीस मिनट चुदाई करते रहे, फिर वो थकने लग गई थी क्योंकि वो दो बार झड़ गई थी. जिस काम के लिए मैं आया हूँ, वो मुझे ठीक से करने दो… अगर तुम कोआपरेट करोगी तो सब कुछ सही होगा, तुम को भी अच्छा लगेगा और मुझको भी!उसने सहमति में सिर हिला के मुझे ग्रीन सिग्नल दिया पर मुंह से कुछ न बोली. अंदर छेड़ा छाड़ी पूरे जोरों पर थी, चारों ओर अँधेरा था, हल्का म्यूजिक चल रहा था.

20 मिनट तक सचिन ने मेरे पूरे शरीर को दुबारा चूमा, चाटा, चूसा… और वो दुबारा मेरी चुदाई करने के लिए तैयार हो गए. हाइट 5’9” है, मैं औरंगाबाद में रहता हूँ।उन दिनों की बात है जब मैं 18 साल का था. हिंदी मूवी पोर्नमैं उसको और तड़पाना चाहता था मगर जितनी देर मेरा लंड उसकी चूत से बाहर था, मैं भी बराबर ही तड़प रहा था.

वो मेरे माथे को पीछे से पकड़ के अपने लौड़े से दूर करना चाह रहा था लेकिन मैंने अपना लपलपाना जारी रखा. भाभी भी मेरे लंड को अपने चूतड़ों में दबा रही थी।भाभी बोली- राज, मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ!और मेरे होंठ चूम लिये.

‘तो फिर सोचो कि शादी के बाद ऐसा क्या होता है जिसके असर से मुहाँसे चले जाते हैं और स्किन चमकने दमकने लगती है?’ मैंने कहा. अब तो अजय और विवेक भी इनके ग्रुप में शामिल हो गए थे और अब चारों की आपस में खूब बातें होती थीं. उसने मुझे मम्मी से मिलवाया, पर मेरी नजर बार-बार काजल पर फिर रही थी.

मैंने उसको उठाया और बेड पर पटक दिया, अब मेरे मन की इच्छा पूरी होने वाली थी।मैंने एक एक करके उसके सारे कपड़े उतार दिए, अब शानवी सिर्फ ब्रा और पेंटी में थी।क्या मस्त फिगर था उसका… कसम से… वो एकदम माल लग रही थी. फिर हम एक दूसरे को बाहों में लेकर नंगे ही लेट गये और सुनीता अपनी पुरानी चुदाई की सेक्सी कहानी सुनाने लगी. अभी तो बहुत फाड़ना है तुझे।तो उसने कहा- मुझे दूसरे काम भी हैं तो आज नहीं कर सकती।उसकी बात को अनसुना करके मैं पानी पीकर आया और उसे अपना खड़ा लंड थमाते हुए कहा- अब इसका क्या करूँ?तो वो बोली- आज चूस के शांत कर दूँगी कल नीचे डाल लेना.

मैंने तुरंत उठ कर माला के कन्धों पर उसका लटकता हुआ ब्लाउज और अधखुली साड़ी को खींच कर उसके बदन से अलग कर दिया.

मुझे एक जोर का झटका सा लगा क्यूंकि मुझे मामी से ऐसे व्यव्हार की आशा नहीं थी. मगर अपने मेरी लूली को मुँह में क्यों लिया?सुमन- क्यों तुम्हें अच्छा नहीं लगा क्या?मॉंटी- नहीं बहुत मज़ा आया मगर मुँह में लेने से क्या होता है.

माँ ने कहा- इसलिए तो मैं तुमसे चुदाई करवा रही हूँ, ठीक से चोद पाओगे न?‘साली, अभी दिखाता हूँ मैं तुझे मेरी हैसियत!’आलोक ने माँ को बेड पर लिटा दिया, फिर पेटीकोट का नाड़ा खोल कर अलग कर दिया और माँ की चूत पर हाथ फेरते हुए उसने अपना मुंह माँ की चूत पर रखा और चाटने लगा, माँ जोर से चिल्लाने लगी- आह औऊ हम्म… हहह हाह हय उम्म्ह… अहह… हय… याह… और कर ना बहुत अच्छा लग रहा है. अंजलि- किशोर, मैं बच्ची नहीं हूँ, मुझे पता है कि मेरा क्या हाल होने वाला है, बस तुम रुकना नहीं… चाहे कुछ हो जाए!मेरी सबसे बड़ी समस्या थी कि मेरे पास कंडोम नहीं था. मुझे वो बोली- मुठ मार मार के कितना मोटा किया हुआ है तूने इस लंड को!मैं हंसा और कहा- देखता हूँ आज तू इसे और कितना मोटा करती है?ग़ज़ब का मज़ा आ रहा था.

चौथा अजय शर्मा उम्र 23 साल दुबला-पतला सा है।पाँचवां साहिल ख़ान, इसकी उम्र 22 साल है। ये भी जिम वाला ही है और सबसे हैण्डसम भी है।इनके साथ टीना शर्मा, उम्र 22 साल छोटे-छोटे बाल, एकदम वाइट. मेरे जिस्म में सनसनाहट सी दौड़ने लगी, मेरी जांघे आपस में सिमट चुकी थी, इतना वो बता पाई थी कि उसका हाथ जो अभी तक मेरे लंड के सुपारे पर चल रहा था, अब मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में लेकर अपनी चूत पर चलाने लगी. वो कुछ रिएक्ट नहीं करती। उसके चुप रहने से मेरी हिम्मत भी बढ़ रही थी।मैं एक दिन ऊपर कमरे में कसरत कर रहा था तो वो भी आ गई और बोलने लगी- भैया, आपकी बॉडी तो सलमान टाइप है.

देहाती हिंदी बीएफ चुदाई मैंने जल्दी से उधर अपनी दो उंगलियां डाल दीं।तो आंटी सेक्स की मस्ती में कराह का थोड़ी सी हिलने लगीं और मेरे हाथ को धकेलने लगीं, तो मैंने और जोर से उंगली को अन्दर कर दिया।फिर थोड़ी देर बाद आंटी अपनी गांड हिलाने लगीं. मैंने अभी थोड़ा सा लौड़ा ही रजनी की चूत के अंदर डाला था कि वो ऊँची ऊँची दहाड़ती हुई कराहने लगी- उई आह आह उफ्फ्फ जीजू आह चुदवा दिया साली बहन… चोद… ने आज… आह.

गुजराती सेक्सी वीडियो देखने वाला

मुझे एक बात तो पक्की हो गई कि मेरी अम्मी एक नंबर की चुदक्कड़ औरत है और मेरे अब्बू भी दूसरी औरतों और अपनी बेटी जैसी कमसिन लड़कियों को चोदते हैं. बहुत तेज दर्द हो रहा है, मेरी जान निकल जाएगी।मैंने उसे समझाया कि पहली बार दर्द थोड़ा ज्यादा होता है. इससे पहले कि मैं कुछ बोलता उस बालक के रोने की आवाज़ सुन कर माला ने उठ कर मुझ से ले लिया.

और तभी मेरे मुठ की धार सीधा दरवाजे के ऊपर पड़ी और मैं वहाँ से अपने कमरे में निकल लिया।अब मैं रात भर सोचता रहा कि भाभी की चुदाई कैसे की जाए. पर मेरी तरफ बड़े ध्यान से देखते हुए वो बोली- आयुष?तो मैंने भी उसके चेहरे पर नजर डाली तो देखा कि यह तो मेरी क्लासमेट आकृति थी जिसको क्लास में कोई देखता भी नहीं था उसके मोटापे की वजह से… पर आज वो बदल चुकी थी, उसका फिगर तो कमाल का हो चुका था, गोरा बदन, नशीली आँखें. बीएफ वीडियो सनी लियोन वीडियोएक नर्स से फोन सेक्स के बाद चुदाई-1एक नर्स से फोन सेक्स के बाद चुदाई-2अभी तक मेरी देसी चुदाई स्टोरी में आपने पढ़ा कि एक रोंग नंबर काल से एक लड़की मेरी गर्लफ्रेंड बनी, नर्सिंग का कोर्स करके वो मोहाली में नर्स लग गई.

लेकिन संजना को चुदाई में इसका जरा सा भी भनक नहीं लगी।चुदाई से संजू के मुँह से लगातार कामुकता भरे स्वर में आवाज आ रही थी- आह.

जे जे बड़े मम्में हैं उसके!’ स्नेहा ने अपने हाथों से इशारा करके दिखाया मुझे!‘अच्छा तुझे कैसे पता कि कितने बड़े बूब्स हैं उसके… देखे हैं क्या तूने?’ मैंने आश्चर्य से पूछा. जैसे-तैसे शाम हो गई और मौसा-मौसी दोनों आ गए।अब रात के 8 बज चुके थे और हम सब खाना खा रहे थे।तभी मौसा जी बोले- अभी… कल ज़रा बैंक आ जाना, मुझे एक कला्इंट के पैसे भेजने है, मैं तुम्हें एडरस बता दूंगा, तुम उसको पहुंचा देना।इधर शानवी की फट रही थी कि कहीं मैं कुछ बता ना दूं, पर मेरे मन में तो कुछ और ही था।पर वो सब भी इतना आसान नहीं था.

बाकी लड़के भी तो नॉर्मल हैं, फिर मुझे ही क्यों भगवान ने लड़कों के लिए आकर्षण दिया… और अगर दिया तो ऐसे समाज में पैदा ही क्यों किया. पूरा माल निकल जाने के बाद निशा ने अपनी जीभ से मेरा लंड अच्छे से साफ किया और हम दोनों नहा कर बाहर आ गए. हॉस्पिटल पहुँच कर ओपीडी में देखा कि एक आंटी जिनकी उम्र तक़रीबन 40 साल होगी.

मेरा रंग थोड़ा सांवला हैं और मेरे लिंग की लंबाई लगभग 5-6″ होगी क्योंकि मैंने कभी इसकी नाप नहीं ली.

क्योंकि उस वक्त तक मुझे चुदाई की उतनी समझ नहीं थी।एक रात की बात है. चुदाई शुरू होते ही मानसी की ऐसी हालत देख कर मेरी तो जैसेगांड ही फट गईथी. मैं एक घंटे बाद आती हूँ।मेरी माँ भी आराम कर रही थी तो मैं ऊपर वाले कमरे में चला आया। थोड़ी देर बाद में नीचे आया और उसको आँख मारकर और इशारे से ऊपर बुलाया। वो बैग बंद करके ऊपर आ गई। मैंने हाथ पकड़ कर उसको अपनी ओर खींचा और कहा- तू प्यार करती है मुझसे?उसने कहा- हाँ.

रंडी खाना के बीएफमैंने धीरे-धीरे से लंड पर ज़ोर लगाया और उनकी चुत में अपने लंड का टोपा घुसा दिया और फिर धीरे-धीरे धक्कों को तेज करता गया। फिर पूरा लंड उनकी चुत में पेल दिया, वो चिल्लाने लगीं और उनकी चीखें पूरे बाथरूम में गूंजने लगीं।पर उनके चिल्लाने में भी एक अजीब सा प्यार आ रहा था. जूसी मुस्करा दी, बोली कुछ नहीं लेकिन ऐसा लगा कि अब वो नार्मल है गई है.

एक्स एक्स एक्स एक्स वीडियो फुल सेक्सी

पर जल्दी कर लें।‘अबे ले तो रहा हूँ।’वह फिर बोला- जल्दी करें।मैं धकापेल शुरू हो गया. रवि का लंड रोहन और आलोक की अपेक्षा थोड़ा बड़ा और मोटा है इसीलिए मुझे रवि के साथ चुदाई के दौरान थोड़ा सा मीठा दर्द महसूस होता है। रवि का लंड मेरी चूत में घुसते ही मैं कराह उठी और बोली- उईईई… माँ… उम्म्ह… अहह… हय… याह… जरा धीरे… रवि… आवाजें बाहर जा रही होंगी. मैं राजस्थान के कोटा शहर में रहता हूँ और यही से बी टेक कर रहा हूँ, मैंने अभी तक सेक्स नहीं किया था और रोज रात को मुठ मारकर सोता था, रोज सोचता कि कैसे मैं सेक्स का आनन्द लूँ, और सोच सोच कर दिन 3-4 बार लंड हिला हिलाकर मुठ मार लेता था कि एक दिन मेरी बंजर ज़िंदगी में मोड़ आया और हमारे पड़ोस में अमदाबाद के अंकल आंटी रहने आए.

जब तक वो जमा हुआ पुराना रस इस अंग से शीघ्रता से स्खलित नहीं होगा तब तक ये मुहाँसे नहीं जायेंगे. जिससे बुर में चिकनाई हो गई थी।अब मैंने नीनू से पूछा- क्या दर्द कर रहा है।तो वो बोली- नहीं. ‘साले हरामी कुत्ते, क्या कर रहा है, नहीं… छोड़ो मुझे!’ माँ चिल्लाई मुझ पर- नहीं बेटा, ऐसा मत कर मेरी गांड मत मार!अब आलोक ने दोनों हाथों से माँ की गांड फैलाई हुई थी.

साराह की स्कर्ट तो शार्ट थी जिससे स्कर्ट का पहनना या ना पहनना बराबर था पर उसने पैंटी पहन रखी थी. वैसे भी मोहल्ले की कोई कन्या जिसका नाम ले ले के हम सब मुठ मारते हैं या अपनी बीवी को उसी कामिनी का ध्यान लगा के चोदते हैं तो उसे इतने नजदीक से देखने बतियाने का मौका सालों में ही कभी आ पाता है. उतरते ही उसकी तो शामत आ गई, क्योंकि पानी के दबाव से उसका टॉप ऊपर तैर गया और उसके मोटे मोटे मम्मे अजय को फिर ललचा गए.

हालांकि मेरे चूसने की वजह से रवि का लंड बिल्कुल गीला था…पर फिर भी उन्होंने अपने लंड पर कंडोम चढ़ा लिया… चुदाई के दौरान रवि सुरक्षा का पूरा ध्यान रखते हैं।फिर रवि ने अपने दोनों हाथों से मेरी टांगों को फैलाया और अपने लंड को मेरी चूत के छेद पर रखकर अंदर की तरफ धक्का देने लगे. मैं बोली- मुझे बहुत शर्म आएगी आप दोनों के सामने!तब उन्होंने समझाया कि वो भी लड़कियाँ ही हैं और शरमाने की कोई बात नहीं है.

किसी भी मस्त लड़की को देखकर मेरा लंड फुंफकार मारने लगता था।बारहवीं क्लास के 6 महीने बीत चुके थे और मेरा लंड अब चुत की तलाश में था। कोशिश करने पर एक पटाखा मुझे पट गई, बस फिर क्या.

आपने उसके साथ ऐसा घिनौना काम किया!काका- चुप, साला हरामी वो साला तेरा जीजा उसको बांझ कहता था. जापानी बीएफअब रीना ने मेरे व्यापार में अपना सहयोग देना शुरू कर दिया था, वो रोज मस्त मस्त अलग अलग रंगों के सूट पहने कर आती और अपनी जवानी से मेरे लन्ड महाराज को तड़पाने लगी. सेक्सी वीडियो जवान लड़की कीहिलते चुचे आह मुझे बेहद दिलकश लग रहे थे। मेरे हाथ रसीली भाभी की गांड दबा का चुत में लंड का मजा ले रहे थे।‘ऊऊऊ माँ. चुदाई के दौरान वह एक बार स्खलित हो चुकी थी और अब उसकी चूत से फच फच की आवाज आ रही थी.

पेंटी की मस्त और मादक महक सूंघते हुए मैंने मेरे होंठ चुत पर रख कर पेंटी को खींचकर निकाल दिया.

इतना मज़ा आ रहा था जिसका कोई हिसाब नहीं…उसने भी आनन्द लेते हुए हल्की हल्की सीत्कार भरनी शुरू कर दी. खुजली सी होने लगी, ऐसा लगा बस उसको रगड़ती रहूँ, मगर मुझे ये अच्छा नहीं लगा तो मैंने जल्दी से नहा लिया। उसके बाद बहुत बार वैसी बेचैनी महसूस करती हूँ, मगर ध्यान हटा कर रिलेक्स हो जाती हूँ।टीना- ओह पगली. तो मैं दोपहर 2 बजे घर आ गया। मैं बाथरूम में हाथ पाँव धोने गया तो मुझे नीनू की ब्रा-पेंटी नहीं दिखी। मुझे पता चल गया कि उसने अपनी ब्रा-पेंटी धोकर सूखने डाल दी।आज वो बहुत खुश दिख रही थी और मेरी ज़्यादा केयर कर रही थी। उसने मेरी पसंद का खाना बना कर मुझे खिलाया। अब मैं ये सोचने लगा कि अब आगे क्या करूँ। ये सोचते-सोचते ही मुझे शाम को नींद आ गई.

मैंने उसके होंठों पर किस किया तो उसने मुझसे कहा- मुझे वो वाली वीडियो देखनी है।मैंने कहा- कौन सी? किसिंग वाली. फ्लैट के बाजू के फ्लैट में एक भाभी रहती थीं जिनका नाम रोज़ी था। वो भाभी मुझे रोज कामुक भाव से देखती थीं और मैं भी उनको देखकर सोचता था कि बस आज ये किसी तरह मिल जाए बाकी सब मिलने के बाद देख लूँगा।इस तरह काफ़ी टाइम बीत गया।एक दिन मेरी किस्मत खुली. रीना रानी ने झिड़कने वाले अंदाज़ में कहा- दोनों प्रेमी अब जग जाओ… आधा घंटा सो लिए… ज़्यादा सोते रहे तो सोते ही रह जाओगे और पापा घर आ जायँगे….

सेक्सी वीडियो इंग्लिश जानवर वाला

चलो तुम भी तो अपने नाग को आज़ाद करो। मैं भी तो देखूँ कैसा है वो?राजू तो जैसे हुकुम का गुलाम था. मैंने अपनी पकड़ को मजबूत बना लिया अब मैंने उसके दोनों हाथो को पकड़ कर एक हाथ उसकी चूत पे ले गया. अंकल से पता लगा कि उनकी मम्मी गुजर चुकी हैं और उनकी बहन अमरीका में है, उनके पापा रिटायर हो चुके हैं.

मुझे हिसार के जाखोद खेड़ा गाँव में जाना था जैसा कि रवि ने मौसी को उस कागज़ पर लिख कर दिया था.

मेरा इशारा समझ वो सुपारा मुंह में ले गई और इसे खूब गीला करके चूसने लगी जैसे पाइप से कोल्ड ड्रिंक चूसते हैं.

गीता चाय बनाने को चली गई, तो मैंने शर्मिंदा सा चुपचाप सोफ़े पर बैठा रहा. मैं राजस्थान के कोटा शहर में रहता हूँ और यही से बी टेक कर रहा हूँ, मैंने अभी तक सेक्स नहीं किया था और रोज रात को मुठ मारकर सोता था, रोज सोचता कि कैसे मैं सेक्स का आनन्द लूँ, और सोच सोच कर दिन 3-4 बार लंड हिला हिलाकर मुठ मार लेता था कि एक दिन मेरी बंजर ज़िंदगी में मोड़ आया और हमारे पड़ोस में अमदाबाद के अंकल आंटी रहने आए. सेक्सी ब्लू फिल्म देवर भाभी की!’तब रोहन ने मुझे संभालते हुए गंभीर स्वर में कहा- तुम भी तो वही सब कर रही हो, अपने बारे में कुछ सोचा है?अब मेरे पैरों तले जमीन खिसक गई.

इन सब आवाज़ों और दनादन होती चुदाई ने पूरा माहौल बहुत कामुक बना दिया था. बस में ज़्यादा भीड़ नहीं थी। मैं पीछे की सीट पर था और मेरे पास में एक गाँव की महिला बैठी थी, जिसकी उम्र तकरीबन 45 साल की रही होगी। वो सांवली थी. एकदम आज़ाद भी है।दिव्या- हाँ अमित, लेकिन कभी लगता है कि सेटल होती तो अच्छा रहता ना, दुनिया की नज़र में मेरा इस नाजायज़ तरीके से रहना.

मुझे सच में नहीं पता।टीना- क्यों तू अंडरगार्मेंट्स नहीं पहनती क्या. महारानी अंजलि जी मुझको क्षमा करें… दासी का आपके आदेश की अवहेलना करने का कोई इरादा नहीं था परन्तु कुछ हालात ही ऐसे बन गए कि दासी मजबूर हो गई.

एक रात को उसका फोन आया- आज तो रहा नहीं जा रहा… प्लीज, आकर मेरी चूत को शांत कर दो! साली फूली फूली बैठी है, फड़फड़ा रही है, शांत होने का नाम ही नहीं ले रही, बहुत उंगलियाँ कर कर के मैं थक गई… थक गई मैं इसे चोद चोद के… इसे तो तुम्हारा लंड ही चाहिए तो प्लीज् आप जल्दी से देर किए बिना फ़ौरन आ जाओ, मैं तैयार बैठी हूँ.

मुझे हँसती देख के जीजू बोले- क्या बात हैं साली जी, आप तो बड़ी मुस्कुरा रही हो… लंड लेने की बेताबी है या हमारी मजाक उड़ा रही हो?मैंने अपनी चुची को मसलते हुए कहा- दोनों ही हैं एक साथ!जीजू मेरे करीब आये तो मैंने देखा कि उनका देसी लंड जैसे अंडरवीयर को फाड़ने वाला था. थोड़ी देर बाड 2 चाईनीज या पहाड़ी सी दिखने वाली लड़कियाँ आई और मुझे कहा- चलो हमारे साथ!और एक कमरे में ले गई, वो कमरा वैसा था जैसा मॉडेल्स या हीरो हेरोइन के तैयार होने के लिए होता है. मैंने रीना रानी को कॉफ़ी बनाने भेज दिया और सुल्लू रानी से कहा कि डिनर में खीर बनाये.

गार्डन सेक्सी बीएफ उसके बाद दोनों एक दूसरे के गले लगे और ओंठ चूसने लगे, दुबारा आई लव यू कहा और घर को निकल पड़े. स्नेहा ने मेरे हाथ से खाली प्लेट ले के पास के डब्बे में डाल दी और हिरनी जैसे कुलांचे भरती हुई चल दी मैं पीछे से उसके नितम्बों का उतार चढ़ाव देखता रह गया.

मुझसे सांस भी ठीक से नहीं ली जा रही थी। उधर नीचे जमीन पर पड़े कंकड़ आदि मेरी पीठ पर चुभ रहे थे। मेरे बड़े कूल्हे भी जमीन में रगड़ रहे थे।दीपक के बाद अब चंदन ने मेरी चुत में अपना लंड ठूंस दिया था और दीपक ने मुँह में पेल दिया। वे दोनों मुझे खूब रगड़ रहे थे. पहली बार तो मैंने अपना माल बाहर उसके पेट पर छुड़वाया था, मगर बाद की दो बार मैंने उसकी चूत के अंदर ही माल गिराया. अब सुन इसको फुन्नी नहीं लंड या लौड़ा कहा कर समझी और तेरी ये जो है इसको चुत बोला कर.

हिंदी सेक्सी सेक्सी सेक्स सेक्स

मुझे गांड चटवाने में बहुत अच्छा लग रहा था, मैं दोनों का सर पकड़ कर अपनी चूत और गांड पर दबाने लगी. मेरे शौहर का मुश्किल से पांच इंच का होगा लेकिन ये तो उसका डबल से भी ज़्यादा है और बहुत मोटा भी!मैंने कहा- कौन चुदवाती होगी इससे?कहने लगे- पसंद आया?मैंने कहा- नहीं, मुझे नहीं करना है!उन्होंने कहा- एक बार चलो, तुम्हारी चूत की सारी गर्मी निकल जायेगी या तुम चुदाई छोड़ दोगी या फिर रंडी बन जाओगी. ’मुझे भी यही चाहिए था पर मैं रुक गई, उनके लंड पर कंडोम चढ़ाया और खुद पीठ के बल लेट गई- जल्दी डालो!मैंने जानबूझ कर ‘मुझे जल्दी है’ ऐसा दिखाया.

आप और रानी भाभी उसी के बेडरूम में चुदाई करना पूरे दो घंटे! मैं बाहर आँगन में बैठ कर चौकीदारी करती रहूँगी, मान लो कोई आ भी गया तो एकदम से भीतर आ नहीं पायेगा, हमें संभलने का मौका मिलेगा. उसको नहीं पता था। इधर संजय भी नंगा हो गया और पूजा को बिस्तर पे लिटा कर उस पर पागल कुत्ते की तरह टूट पड़ा।कभी उसकी छोटी चूचियों को दबाता.

उसके गले में पहनी हुई पतली सी सोने की चेन उसके मम्मों के बीच जाकर छुप गई थी.

मैं उससे लंड को मुँह में लेने के लिए बोलने ही वाला था कि उससे पहले मेरी सिस्टर ने लंड को मुँह में ले लिया. मैं भी तो तुम्हारी आंटी की चूत खूब चाटता हूँ चोदने से पहले!’ मैंने कहा. लेकिन क्या करूँ जवान हूँ और चूत चाटने की ऐसी लत लग गई है कि बता नहीं सकता।मुझे भाभी और आंटियों में बहुत दिलचस्पी है.

भाभी भी मेरे लंड को अपने चूतड़ों में दबा रही थी।भाभी बोली- राज, मैं तुमसे बहुत प्यार करती हूँ!और मेरे होंठ चूम लिये. उसकी पूरी उंगली चूत के अंदर थी जिसे अब वो अंदर-बाहर कर रहा था, उसके नाख़ून मुझे चुभ रहे थे लेकिन मजा भी उतना ही आ रहा था. माला ने भी मेरा पूरा साथ दिया और खुद ही अपने पेटीकोट का नाड़ा खोल कर उसे नीचे गिरने दिया तथा पूर्ण नग्न हो गई.

इसके बाद मैं अपने घर चला आया।दोस्तो, मैं यह कहानी लिखना तो नहीं चाहता था, पर कुछ दिन पहले मैंने डॉ.

देहाती हिंदी बीएफ चुदाई: मैं भी तो तुम्हारी आंटी की चूत खूब चाटता हूँ चोदने से पहले!’ मैंने कहा. शनिवार को दोपहर में राजे तो अपने काम से कहीं चला गया और रीना मेरे बच्चों के साथ राजे की कार और ड्राइवर को लेकर अम्बिएंस मॉल में घूमने चली गई.

अब क्या बताऊँ? उसकी चूत में एक अलग ही स्वाद आ रहा था, या फिर यूँ कहूँ कि बहुत दिनों में चूत को चाटा था इसलिए भी मुझे एक अलग स्वाद आ रहा था. आपसे मिलाने के लिए माला और बालक को मैं थोड़ी देर बाद घर जा कर ले आऊंगी. रोहन मेरे पीछे ही था और मेरे हाथों को पकड़ा हुआ था…तभी उसके झटके तेज हो गए और वो झड़ने लगा।मैंने रोहन से कहा- रोहन खाली हो गया क्या तेरा?तो रोहन ने कहा- हाँ मम्मी, मुझसे कंट्रोल ही नहीं हुआ…उत्तेजना के कारण मेरी चूत भी पानी छोड़ रही थी।ग्यारह बजने को थे… फिर हम लोग पूल से वापस अपने अपने रूम में आ गए.

और आप प्लीज़ मुझे मार कर मुझसे होमवर्क कराएं।वो बिल्कुल ऐसा ही करने लगीं।मुझे होमवर्क देकर वो किचन में काम करने चली गईं। मैं पीछे से उनके मस्ताने जिस्म को निहारने लगा क्योंकि मुझे दूर से ही उनका किचन दिख रहा था। जैसे ही वो मुड़ीं.

आख़िर ऐसा क्यों?मैंने हल्के से उसकी लुंगी को उसका लंड देखने के लिए ऊपर उठाया और तो मैं भाई का लंड देखकर चौंक गई। वो सिर्फ़ 2 इंच का था। मुझे देखकर बड़ा अफसोस हुआ कि भाई का लंड नहीं. पूरे स्टाफ को वो कैसे खुश रखती है और आज यहाँ के मालिक के साथ गई हुई है।’‘फिर. अब सुन अन्तर्वासना वर्ल्ड की सबसे बेस्ट साइट है हिंदी सेक्स स्टोरी के लिए और वहाँ बहुत से राइटर हैं मगर मेरी फेवरेट पिंकी सेन है, तू उसकी ‘विज्ञान से चूत चुदाई ज्ञान तक’ स्टोरी रीड करना.