बीएफ इंग्लिश बीपी

छवि स्रोत,सेक्सी मूवी नंगी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी पार्क सेक्स वीडियो: बीएफ इंग्लिश बीपी, मेरे जिस्म के हर अंग को ऐसे देख रहे थे जैसे कोई भूखा कुत्ता मांस के टुकड़े को देखता है.

सनी लियोन एक्स एक्स वीडियो बीएफ

मैंने उससे कहा- ठीक है, फिर मैं जाता हूं।जैसे ही मैं जाने के लिए अपने कदम उठाए, उसने मेरा हाथ पकड़ लिया. हरियाणा वाली सेक्सी बीएफआंटी ने एक पतली सी नाइटी पहन रखी थी, जिसमें वो गजब का माल लग रही थीं.

कुछ समय बाद मैं कार से उतरा और ज्योति के पास आकर उससे सॉरी बोलने की सोचने लगा. भोजपुरी बीएफ सेक्सी ओपनजिन पाठकों ने मेरी वो कहानी नहीं पढ़ी है, वे इस लिंक पर जाकर पढ़ सकते हैं.

फिर मैंने सुना कि पतिदेव ने अपना थूक अपनी हथेली पर लिया और उसको शायद अपने लंड के टोपे पर मलने लगे.बीएफ इंग्लिश बीपी: ” महेश के इस धक्के से उसका लंड 6 इंच तक नीलम की चूत को फाड़ता हुआ घुस चुका था जिसकी वजह से नीलम दर्द के मारे चिल्ला उठी।महेश ने जैसे ही अब अपने लंड को अंदर बाहर करना शुरू किया नीलम का दर्द थोड़ी देर में ही ख़त्म हो गया और उसे इतना मजा आने लगा कि वह बहुत ज़ोर से अपने चूतड़ों को उछाल उछालकर अपने ससुर से चुदवाने लगी.

लेकिन वो कहानी आपके रेस्पॉन्स[emailprotected]पर मिलने के बाद लिखूंगा.जब हम उनके कमरे के पास पहुंचे, तो उन्होंने मुझे अन्दर आकर बैठने को कहा.

एचडी वीडियो सेक्सी बीएफ वीडियो - बीएफ इंग्लिश बीपी

रजू दोबारा से मेरा साथ देने लगी और गर्म होकर उसने मेरे लंड पर हाथ रख लिया.फिर मैंने अपनी पोज़िशन सैट की और अपनी गर्दन के नीचे तकिया लगा लिया.

मैं सबके मेल्स पढ़ती हूँ और जितना हो सकता है, उतनों के रिप्लाई भी देती हूं. बीएफ इंग्लिश बीपी मैं एक बॉटल लेकर आया और पास में ही एक मेडिकल स्टोर था, वहां से डॉटेट कंडोम का एक पैकेट ले लिया … क्योंकि मुझे पता था कि आज क्या होने वाला है.

फिर उसने मुझे धक्का देकर बेड पर गिरा दिया और पेटीकोट ब्लाउज खोल दिया.

बीएफ इंग्लिश बीपी?

उसके मोटे मोटे दूध उसके सूट में इस तरह से कसे हुए थे कि मन करने लगा था कि इनको बस दबाता ही रहूं दिन रात. हाय … क्या मस्त चुचे थे उनके … मैं एकदम से उनके ऊपर टूट पड़ा और चुचे चूसने लगा. जब उसकी जालीदार पतली पैंटी नहीं खुली तो मैंने उसको खींच कर फाड़ ही दिया.

मॉम ने मेरी तरफ हैरत से देखते हुए पूछा- जैसे कौन?मैंने कहा- जैसे राजनाथ. तब चूत के दर्द का कुछ अहसास हुआ पर इस परम आनन्द के आगे वो दर्द कुछ भी नहीं था।फिर मैं बाथरूम गयी औऱ फ्रेश होकर रॉकी के साथ नंगी ही सो गई।सुबह जब दरवाजे पर दस्तक हुई तो हमारी आंख खुली और जल्दी से कपड़े पहन कर मैंने ही दरवाजा खोला।बाहर प्रभात और निक्कू खड़े थे।घड़ी में समय देखा तो 10. ये लंड डालने पर पता चल रहा था कि सच में उसकी चूत में बहुत दिनों से लंड नहीं गया था.

फिर हम लोगों ने चाय पी, पर मेरी नजर सिर्फ उनके मम्मों को घूर रही थी. मैं फटाफट से अपने सारे कपड़े उतार दिए और लंड को रीना के मुँह के आगे कर दिया. हमने उसके दोस्तों से पूछताछ की, लेकिन किसी ने ज्यादा कुछ नहीं बताया.

अब रजू ने मीनू की गांड में उंगली करनी शुरू कर दी थी और वो अपने एक हाथ से अपने चूचों को दबा रही थी. उत्तेजना में आकर मैंने उसकी जांघ पर हाथ रख दिया और वो घबरा कर उठ गई.

आप सबका मेल मुझे बहुत प्रोत्साहित करता है और इससे मुझे आगे की कहानी बताने में बहुत सहायता मिलती है.

हम दोनों ऐसे ही मजाक करते हुए एक दूसरे को छेड़ रहे थे कि तभी मीनू हम दोनों को ढूंढती हुई आ गयी.

आपके क़रीब आते ही मैं अपना कण्ट्रोल खो देती हूँ इसीलिए मैंने फैसला किया है कि आज के बाद मैं आपके क़रीब नहीं आऊँगी. मेरी बीवी मेरी ही नजरों के सामने पराये मर्द के लंड की तारीफ कर रही थी. मैंने अन्दर घुसते ही उन्हें कमर के बल से खींच लिया और अपनी गोद में उठा कर उनके होंठों पर अपने होंठों से मधुर प्रहार करना शुरू कर दिया.

मेरा लंड अब मेरी जींस को फाड़ने पर तैयार था और मुझे वहां दर्द भी होने लगा था. यह सुनते ही मेरी पत्नी खुशी खुशी तैयार हो गयी और उसने सासुजी से घूमने जाने को कहा. मेरे ससुराल जाकर मैं वापस आने लगा तो उसने अकेले में बुला कर मुझसे कहा कि आपके लंड की चुदाई के बाद मेरी चूत असली सुहागन महसूस कर रही है.

इन आवाजों को सुन कर एक बार तो मैंने सोचा कि शायद आज फिर सुमिना ने कुणाल को अपनी चूत की प्यास बुझाने के लिए मेरी गैरमौजूदगी में बुला रखा है.

जब तक दोनों का पानी नहीं निकल गया, हम लोग एक दूसरे के लंड चूत को चूसते रहे. मैंने धीरे से चारू के कान में पूछा कि क्या तुम गांड मरवाने के लिए तैयार हो?उसने मेरी आंखों में झाँक कर हां का जवाब दिया. हर्ष ने घर के लिए कुछ सामान खरीदा, फिर हम दोनों ने गोलगप्पे खाये और घर के लिए निकल दिए.

ये मेरे बेटे की बहू है … मुझे शक है, इसलिए तू उसे कुछ मत बताना ओके. उसके बाद उन्होंने मुझे इशारा किया, तो मैं समझ गयी, दरसल उन्हें तम्बाकू खाने का शौक था, मैंने पास में रखी उनकी तम्बाकू की डब्बी उठाई और तंबाकू और चूना निकाल कर अपनी हथेली में ले लिया. मैंने नीचे जाके पहले अपना मुँह थोड़ा पानी डाल के साफ़ किया, फिर टॉवल से मुँह पौंछ कर साफ़ किया.

सिर्फ़ लंड को चूत में डाल कर कुछ देर तक दिलाया और माल निकालने को चुदाई नहीं कहते … चूत पसीने पसीने होनी चाहिए.

सास मजे लें भी क्यों नहीं … कई साल से उनकी चुत में मेरे ससुर का लंड नहीं गया था. दीदी ने फिर से कहा- कम से कम एक बार रोज मुझे तुम्हारा साथ चाहिए होगा.

बीएफ इंग्लिश बीपी नहीं बेटी, अब ऐसे नहीं डालूंगा, तुम्हें अपनी जुबान से कहना होगा कि पिता जी आप मेरी चूत में अपना लंड घुसाओ. हम दोनों शॉवर के नीचे खड़े गए और एक दूसरे से अठखेलियां करते हुए नहा कर बाहर आ गए.

बीएफ इंग्लिश बीपी मैं एकदम नंगा खड़ा था, जिससे मेरा खड़ा लंड उनकी तरफ मुँह करके खड़ा होके ऊपर नीचे सर हिलाने लगा. फिर उऩ्होंने अपना लंड मेरी मैक्सी पर मेरी चूत के पास सटा दिया और फिर मेरी गांड के पीछे हाथ ले जाकर उसको पकड़ लिया.

मन कर रहा था कि उसके हाथ में ही वीर्य निकाल दूं लेकिन अभी उसकी चूत भी चोदनी बाकी थी इसलिए मैंने उसका हाथ हटा लिया.

हिन्दी सेक्सी विडियो में

कुछ मिनट बाद ही उसकी एक लंबी गर्म पिचकारी मुझे अपने अंदर महसूस हुई फिर तो बहुत सी पिचकारियाँ मुझे अपने अंदर महसूस हुई. तब तक मेरी चूत का पकोड़ा बन चुका था। पर उसका लन्ड फिर भी अच्छा लग रहा था। रॉकी ने चुदाई पूरी करके लन्ड बाहर निकाला. तो शिवानी ने कहा- देखो सागर एक बार चोदो या कई बार … बात तो एक ही है.

वो पीछे हटने की कोशिश करने लगी तो मैंने अपने दूसरे हाथ को भी उसके कन्धे पर रख दिया. फिर मैंने पति की जांघों पर अपने हाथों का सहारा लेते हुए अपनी गांड को उनके लंड पर उछालना शुरू कर दिया. चाची ने मेरे हाथ को मुँह से हटा दिया- आह साले … तेरा लंड कितना बड़ा है … और इतना मोटा … मैं तो मर गई … तेरे चाचा का तो इसके सामने बेकार है … उई … फट गई रे मेरी चुत … चुद गयी रे मैं … आआह ऊऊह … कमीने धीरे धीरे चोद.

आगे की कहानी बताने से पहले मैं अपने पाठकों को अपने बारे में बता देना चाहता हूं.

और फिर मुझे होश आया कि मैं सच में भाभी के साथ था और उनकी चूत मार चुका था. हम लोग नई दिल्ली एयरपोर्ट से तीन बजे के फ्लाइट से रवाना हुए और करीब करीब सत्ताइस घंटे के यात्रा के बाद मेक्सिको सिटी पहुंचे. मगर आज मुझे अपनी उसी सोच का बहुत ही दुख हो रहा है कि मैंने तुमको क्या सोचा था और तुम क्या निकली.

आंटी को मैं उनके बेडरूम की तरफ लेकर गया ताकि वो उनको आराम से बेड पर लिटा कर आराम करने के लिए कह सकूं. राहुल जैसे ही पंकज के साथ कमरे में घुसा था, उसने चुपके से सारिका की पैंटी को वाशरूम में बाहर से ही फेंक दिया था. रेखा के दिमाग में बदमाशी घूम रही थी, उसने बीच में बेड पर रखकर बोतल घुमा दी … बोतल नीता के सामने आकर ही रुकी.

फिर उसने अपना हाथ बढ़ा कर मेरी चुत पर रख दिया और चुत पर हाथ घुमाने लगा. मैं उससे बोला- मैडम आप जबान संभालकर बात करो … मैं कभी भी किसी लेडी को गलत निगाह से नहीं देखता हूँ … हर औरत को मैं रिस्पेक्टफुल्ली देखता हूँ.

मुझे कोई काम होता, तो मैं सेंटर पर उसके भाई के भरोसे ही छोड़ कर चला जाता था. ‌फिर हम लोग मूवी देखने गए … मगर मेरा ध्यान तो सारा स्मायरा की तरफ ही था. उन्होंने मेरे मुँह को ऊपर किया और मेरे होंठों पर किस कर दिया … मैं शर्मा गया.

फिर ऐसे ही कुछ दिन बीते थे कि एक दिन भाभी ने मम्मी से फोन पे कहा- आज मैं घर पर अकेली हूँ और मेरी तबीयत भी ठीक नहीं है.

नेहा भी धीरे से हम दोनों के पास आ गई और आंटी ने नेहा की शर्ट के बटन खोलने चालू कर दिये. जब तक दोनों का पानी नहीं निकल गया, हम लोग एक दूसरे के लंड चूत को चूसते रहे. जिसको मैं सह नहीं सका इसलिए मैंने उसके ब्वॉयफ्रेंड से तेज तुमको चोदा.

इधर बाहर टीवी देखते हुए महेश ने नीलम की गांड पर अपना लंड लगा दिया तो नीलम बहकने लगी और उसकी आंखें बंद हो गईं. फिर अगले दिन मुझे दूसरे पेपर की तैयारी करनी थी तो मैं तैयारी करने के लिए बैठ गया.

फिर उसने मुझे अपने केबिन में बुलाया और पूछने लगा कि तुम्हारे सामने एक गैर मर्द ने तुम्हारी बीवी की चुदाई कर दी तो तुम्हें बुरा नहीं लगा?मैंने कहा कि शुरू में तो मुझे बहुत गुस्सा आया था लेकिन फिर बाद में सब नॉर्मल लगने लगा था. अपने लिए चाय लेकर मेरे पास वाले सोफे पर बैठ गई। हम तीनों चाय पी रहे थे तो मेरी नज़र बार-बार सुलक्षणा के बूब्स पर ही जा रही थी।बातों-बातों मैं मैंने महसूस किया कि आंटी की तबियत ठीक नहीं थी तो वो चाय पीने के बाद बोली- बेटा तुम दोनों बातें करो, मेरी तबियत ठीक नहीं लग रही है तो मैं थोड़ा आराम कर लेती हूं. फिर मैं अपना एक हाथ नीचे की तरफ ले गया और उसके पेट को सहलाता हुआ उसकी जांघों के बीच पहुंच गया.

बड़े बड़े दूध वाली सेक्सी पिक्चर

जब मुश्ताक से बर्दाश्त नहीं हुआ तो उसने सीमा को खड़ी किया और बेड पर धक्का दिया.

ये सब बातें सुन कर मैं धीरे-धीरे उनसे और चिपक गया, जिस कारण उनके चुचे मेरे सीने से टच होने लगे. एक तो माहौल सेक्सी था और सेक्स आज सभी के दिमाग पर चढ़ा हुआ था … किसी को नहीं मालूम था कि क्या होगा, पर मस्ती पूरी होगी ये यकीन था. उसने अगले ही पल झट से मुकुल राय के लंड के सुपारे को अपने रसीले होंठों में भर लिया और अपनी जीभ उस पर रगडते हुए उसे जोर जोर से चूसने लगी।मुकुल राय के आनन्द में कई गुना बढ़ोतरी हो गई थी, अपने पापा के मुख से निकलती ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ ने परीशा को और भी उत्तेजित कर दिया.

एक बार तो उसने हैरानी से देखा लेकिन फिर वो नजर नीचे करके मुस्काते हुए अंदर चली गई. मैं- आप बस कुछ भी कर लो … मुझे उनके साथ अकेले में रहने का इंतज़ाम करो. बीएफ पिक्चर शॉटकाफी देर तक ऐसे ही पड़े रह कर एक दूसरे को चूमने के बाद हमने कपड़े पहन लिए.

इस तरह से कहां कहां से ढूँढ ढूँढ कर वे दोनों एक दूसरे को गालियां देते हुए चुदाई करते रहे. मैंने स्वरा से हाथ मिलाया और पूजा (दोस्त की गर्लफ्रेंड) से भी हाय किया.

मैंने कभी नहीं सोचा था कि मैं किसी लड़की के साथ इस तरह से लेस्बियन वाला मजा लूंगी. फिर मैंने सुना कि पतिदेव ने अपना थूक अपनी हथेली पर लिया और उसको शायद अपने लंड के टोपे पर मलने लगे. अब तुझे चुदने में मुझे चोदने में दुगना मजा आएगा।अब रुकना मेरी सहनशक्ति से बाहर था। मैंने रॉकी को खींच के बेड पर पटक दिया और खुद उसके ऊपर चढ़ गई। रॉकी का लण्ड अपने हाथ से ही अपनी चूत में सेट करके पूरा अंदर ले लिया.

उन्हें नंगी अवस्था में देख कर मुझे ऐसा लग रहा था मानो कोई जन्नत की परी मेरे सामने लेटी हो. जब उसने जांघें नहीं खोलीं तो मैं उसकी पैंटी को खोलने लगा तो कहने लगी- नहीं विजय, ये सब गलत है. मैं भी उन्हें मजे में चोद रहा था और बोल रहा था- हां मॉम … मेरी रंडी मॉम … मैं तुम्हें इसी तरह रोज चोदूंगा, तुझे अपनी रंडी बनाकर रखूंगा.

मेरे हाथ उसके मस्त कड़ियल बदन पर फेरते ही मुझे उसके ठोस शरीर का अहसास हो गया.

चूत पर मेरे होंठों का चुम्बन पाते ही वो पागल सी हो गई और अपनी चुत को मेरे मुँह पर पैर खोल कर रख दिया. गांड के मामले में एक बात मैंने देखी थी कि गांड की चुदाई कितनी बार भी करवा लो लेकिन जब भी गांड में लंड जाता है तो वो दर्द करती है.

यूं ही मदभरी निगाहों से देखते हुए भाभी ने मेरी पूरी पैंट नीचे तक उतार दी. खाने के लिए हमने घर से ही पूड़ी और सब्जी ले रखी थी इसलिए वही खा ली. देखते-देखते लौड़ा बिना मेरी इजाजत के ही तन गया और लिंग के हुक्म पर हाथ अपने आप ही लोअर की इलास्टिक से जबरदस्ती अंदर घुस कर फ्रेंची के ऊपर से ही अंदर तने हुए, स्पर्श के लिए मचलते, मेरे प्यासे लिंग को सहलाने लगा.

फिर मैंने उसके गुलाब की पंखुड़ियों जैसे आकार वाले और अंगूर से ज्यादा रस भरे होंठों पर अपने होंठ रख दिए और चूसने लगा. तभी कहानी बताते हुए सासुजी ने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और ख़ूब अच्छे से चूसने लगीं. लेकिन मैंने उनको मना कर दिया कि मेरे एग्जाम आने वाले हैं और मैं घर पर रहकर ही पढ़ाई करूंगी.

बीएफ इंग्लिश बीपी शुरू में जब पहली बार मैंने एक रंडी की चूत चोदी तो बहुत मजा आया लेकिन फिर धीरे-धीरे मजा आना कम होता चला गया. मैं पानी उन्हें देने जा रहा था, लेकिन मैंने उन्हें पानी नहीं पिलाया बल्कि पानी उनके ऊपर गिरा दिया.

फुल एचडी सेक्सी शॉट

ये मेरे बेटे की बहू है … मुझे शक है, इसलिए तू उसे कुछ मत बताना ओके. मैंने धीरे से चारू के कान में पूछा कि क्या तुम गांड मरवाने के लिए तैयार हो?उसने मेरी आंखों में झाँक कर हां का जवाब दिया. मेरी इच्छा तो हुई कि करवट बदल लूं, उसकी तरफ अपनी पीठ कर लूं और वह अपना मस्त फनफनाता लंड मेरी गांड में डाल दे.

बोली- नहीं, अभी जाने दीजिये, मम्मी पापा और भाई कल दो दिन के लिए गोरखपुर जा रहे हैं. उसके बाद मैंने गर्लफ्रेंड के निप्पल को चुटकी से मसलना शुरू कर दिया तो वो कराह उठी और मीनू एकदम से जैसे चुप हो गई. बीएफ सेक्सी फिल्म दिखा दोआपको कहानी पसंद आई हो तो अपना प्यार देना, अगर नहीं पसंद आई हो तो भी बता देना.

मगर मैंने ज्यादा इस बात को तवज्जो नहीं दी क्योंकि आशा हमारी नौकरानी थी और वो हमारे घर के किसी भी हिस्से में जाने के लिए आजाद थी.

बीच-बीच में वो कह रहा था- साली … आह्ह … तुझे तो जिन्दगी भर मैं अपनी रंडी बना कर रखूंगा. ”मुझे पता है कि यह मेरी ओर से गलत है क्योंकि आप मेरे सबसे अच्छे दोस्त की माँ हैं लेकिन आप मेरे लिए उससे कहीं बढ़कर हैं.

मेरे घर में मैं और मेरी पत्नी शहर में रहते हैं और मेरे मम्मी पापा गांव में रहते हैं. आह्ह … इस्स् … ओह्ह … हिमांशु …जब आंटी को नेहा की हालत खराब होती दिखी तो आंटी ने कहा- राजा अब देर मत कर, इसकी चूत की खुजली मिटा दे. विनय ने फिर अपने कपड़े निकालने शुरू किये और वो देखते ही देखते मेरे सामने पूरा नंगा हो गया.

उसने राहुल को सॉरी बोलते हुए एक और पेग के लिए पूछा पर राहुल ने स्पष्ट मना कर दिया.

तू निश्चिन्त रह … और मुझसे कभी भी ऐसे बात ना करना वरना मैं तुम से कभी नहीं बोलूँगी. तभी वह झटकते हुए बोली- छी: वहां पर भी कोई करता है क्या?मैंने उसको बोला- लड़की के तो दोनों छेद ही लंड डालने के लिए बने होते हैं. मैंने ज़ोर ज़ोर से धक्के देना शुरू कर दिए और चाची की चुत के अन्दर ही झड़ गया.

नेपाली के बीएफ सेक्सीफिर वो बोली- प्रकाश एक बार मेरी चुत फिर से मार यार, जाने हम फिर कब मिलें या नहीं. वे तीनों अपने चूचे मेरे शरीर के ऊपर रगड़ने लगीं … गालों पर, होंठों पर निप्पल फिराने लगीं.

राखी सेक्सी व्हिडिओ

अब स्विमिंग पूल में भी वो एक दूसरे के प्राईवेट पार्ट्स को छेड़ने लगी थीं. अपने वीर्य से मैंने उसका मुँह पूरा भर दिया और लंड उसके मुँह में ही डाले रहा जिससे मेरा रस उसके अंदर तक चला जाए. ”ईईईइ … स्स्सस्स्स्स … गौरी शर्मा गई।आपतो एत बात बताऊँ?”हओ?” मेरा दिल धक्-धक् करने लगा।आप दीदी को तो नहीं बताओगे ना?”किच्च”वो दीदी ने मुझे बताया था कि उन्होंने अपनी सुहागलात तो ऐसी ही नाइटी पहनी थी.

मेरा आधा लंड अन्दर चला गया और चाची की चीख तेज़ हो गयी- आआआहह … माँ … मर गई … आह … ऊऊह. दूसरी तरफ से आशीष बोला- क्या हुआ?मैंने कहा- अब मैं फोन रख रही हूं, मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है. चयन के बहुत ज़िद करने पर मैंने जोर जोर से दबा कर चयन के निप्पलों को भी चूसना स्टार्ट कर दिया.

वो मेरी चूत में जीभ को घुसा-घुसा कर उसको मजा दे रहा था और मैं बदहवास सी होने लगी थी. मुझे उसकी आंखों में तैरती हुई प्यास का आभास हो चुका था, इसलिए थोड़ा सा उसके पास सरक गया और उसका हाथ पकड़ लिया. ऊपर टॉप था और नीचे लोअर। उस दिन मैंने नीचे से ब्रा और पैंटी नहीं पहनी हुई थी.

उसके कानों में फुसफुसायी- मैं तुम्हें बहुत पसंद करती हूं अंकित … और मुझे पता है कि तुम भी मुझे चाहते हो. उसकी भी आंखें बंद हो गईं और वो मुझे अपने अन्दर बहता हुआ महसूस करने लगी.

मुझे अपनी कोमल नर्म जांघों पर उसके हाथों की छुअन अच्छी लग रही थी और मजा आने लगा था.

वो बोली- नहीं सुधीर, ये नहीं प्लीज …बस मेरी जान, बस एक बार देखने दो अपनी चूत को … एक किस करने के बाद वापस पहन लेना!”फिर भी उसने पैंटी को पकड़े रखा लेकिन मेरे जोर के आगे उसका जोर नहीं चला और उसकी चूत नंगी हो गई. बीएफ चुदाई वाला सेक्समैंने कहा- मुझे कोई ऐतराज़ नहीं है, मगर वो मुझे कोई कुछ नहीं करेगा. सेक्सी सेक्सी सेक्सी सेक्सी सेक्सी बीएफअन्दर जाकर उसने मुझे फोन किया और कहा- जनाब क्या अपने घर नहीं जाना है … या बाहर ही खड़े रहोगे?यह सुन कर जैसे मुझे होश आया. आंटी की मैक्सी हवा में और सरक कर आंटी की चूत को बेपर्दा करने में लगी हुई थी.

वो पीछे हटने की कोशिश करने लगी तो मैंने अपने दूसरे हाथ को भी उसके कन्धे पर रख दिया.

उसका घर पास में ही था, उसने लॉक खोला, उसके घर कोई नहीं था, जब मैंने उनके बारे में पूछा तब उसने बताया कि सब शादी में गए हैं और मैं भी वहीं से लौटा हूँ. अब मुझे दर्द भी कम हो रहा था और पहली चुदाई का मज़ा भी बहुत आ रहा था. तो उसने भी मुश्ताक को कहा- नहीं ऐसा नहीं है!कह कर उसने मुश्ताक को किस किया.

ज्योति को गए हुए आधा घंटा बीत चुका था। महेश अपने कमरे में टीवी देख रहा था. मैंने ना बोला तो अंकल ने बोला- ठीक है, तुम अपने लिए चाय बना लो और पी लो. इसलिये मैंने धीरे से उसके दोनों चूतड़ों को अपने हाथों से कस कर पकड़ा और एक जोर का धक्का उसकी गांड में दे मारा, जिससे मेरा पूरा का पूरा लंड उसकी गांड में समा गया.

हरियाणा गाने सेक्सी

मुझे बहुत मजा आ रहा था। वह अब मेरे मुँह को जल्दी-जल्दी चोदने लगा और अपना सारा वीर्य मेरे मुँह में ही छोड़ दिया. मैं भी उनके पीछे चल रहा था और ज्योति को चलते हुए देखकर जैसे आहें भर रहा था. फिर मैंने उनके पेट को सहलाते हुए उनसे पूछा- कल रात को मेरे साथ कैसा लगा?वैसे ही वो छूटते ही बोलीं- सचमुच बहुत मज़ा आया.

मैं कुछ समझी नहीं?”तुझे कुछ समझना नहीं है, बस टांगें चौड़ी कर के अपनी भोसड़ी खोल के लेट जा!”मम्मी लेटी, उपिंदर ने उसकी चूत की फांकों के बीच में एक गुलाब जामुन रखा और बोला ‘पेल दे राजेश …’राजेश ने लण्ड मेरी माँ की चूत के अंदर कर दिया, धक्के शुरू किये.

मैं भाभी को थोड़ा और तड़पाना चाहता था इसीलिए लंड को उनकी चुत पर रख के ऊपर नीचे फिराता रहा और कभी हल्का सा अंदर डाल के फिर बाहर दाने पर मार मार के चुत पर रगड़ने लगता। इससे भाभी के सब्र का बाँध टूट गया और उनकी आग भड़क उठी।जैसे ही मैंने दुबारा लंड का मुंह चुत के अंदर डाला, भाभी ने एकदम से मुझे पकड़ा और नीचे से जोर का झटका मारा। लंड एकदम से चुत को चीरता हुआ भाभी के अंदर घुस गया और बच्चादानी से जा टकराया.

मेरी सिसकारियों से सर ज़्यादा उत्तेजित हो चुके थे … और वो ज़ोर ज़ोर से मेरी गांड मार रहे थे. फिर वो धीरे धीरे मेरी नर्म गुदाज गांड पर हाथ फेरने लगा। मैंने उसका हाथ हटा दिया और उठ बैठा।उसने लाइट ऑन की और मुझे बुरी तरीके से घूरा। उसने लाइट ऑन ही रहने दी और मेरे सामने ही अपनी अंडरवियर नीचे खिसका दी।मैंने आंखें बंद कर ली। तब तो मुझे साइज का कुछ पता नहीं था पर अब लगता है उसकी बीवी उसको देती नहीं रही होगी तभी उसने ऐसी हरकत की. बीएफ बिहारी हिंदीमैंने पहले ही बताया था कि वो अन्दर ब्रा नहीं पहनती थीं, तो मेरा हाथ सीधा उनके बाएं चुचे को छू गया.

तभी मीनू बोल पड़ी- तुम लोग सो गये क्या?मैंने एकदम से हाथ रजू के चूचों से बाहर निकाल दिया. मैं जब नहा ली तो मुझे अहसास हुआ मैंने जल्दी जल्दी में कपड़े तो बाहर ही छोड़ दिए थे. उसकी चूत भी शायद मेरे लंड को लेकर अपने अंदर की गर्मी को शांत करने के लिए उससे माफी मंगवा रही थी.

आंटी ने अपनी दोनों टांगें फैलायीं और मेरे दोनों तरफ करके मेरी जांघों पर बैठ गई. ऋतु को लगा कि दोनों हाथ मेरे ही हैं और उसने कुछ नहीं कहा। ऋतु अब धीरे-धीरे मस्ती से भरती जा रही थी.

उसकी आँखों से आंसू निकल रहे थे।भैया धीरज रखो तुम कर भी क्या सकते हो? जितना ज्यादा सोचोगे उतना ही तुम परेशान होगे.

थोड़ी देर लंड चुसवाने के बाद मैंने उन्हें अपने नीचे लिटा कर अपना लंड एक झटके में ही उनकी चूत में डाल दिया. मेरे नंगे चूतड़ देखते ही पति ने एक बार उनको हाथ से दबा दिया और फिर मेरी गांड को किस करने लगे. तभी आंटी बोलीं- क्या हुआ वरुण … कुछ भी छुपाने की जरूरत नहीं है … होता है और अब चलो.

हिंदी में बीएफ फिल्म एक्स एक्स एक्स क्या तुम मालिश से इसका इलाज कर सकते हो?पहले मुझे बहुत गुस्सा आया कि मैं यहां जिस हसीना को चोदने की हसरत से आया था. मैं पेट के बल लेट गयी और उसने मेरा पेटीकोट मेरी गांड तक कर दिया था.

मेरा आधा लंड अन्दर चला गया और चाची की चीख तेज़ हो गयी- आआआहह … माँ … मर गई … आह … ऊऊह. मैंने कहा- नहीं मम्मी जी, ऐसे आपको छोड़ कर तो हम दोनों एंजाय भी नहीं कर सकते. इतना कह कर सासू माँ रुक गईं, तो मैंने उनके दूध को चूसते हुए कहा- फिर?सासू माँ- मैंने उनसे शर्माते हुए कहा कि कोई देख लेगा.

हॉर्स एंड लड़की सेक्सी वीडियो

मैंने फिर से उससे पूछा- अब कहां निकालूं?उसने बोला- मैं आपका दही पीना चाहती हूं, प्लीज़ मेरे मुँह में निकाल दो. अब आगे:जीजा मेरे सामने लंड निकाल कर खड़े हो गये थे और भोला मेरी चुदाई जोरों से कर रहा था. मुझे इतना मजा आने लगा कि मैंने डिल्डो को किस करना छोड़ दिया और दीदी को ही किस करने लगी.

मैं जल्दी से उनकी उंगली अपने मुँह में लेकर चूसने लगा जिसे देखकर वो और ज़ोर से हँसने लगीं. मैंने एक जोर से धक्का मारा और वीना आंटी की चूत में मेरा आधा लंड चला गया.

चूत से रस निकल निकल कर उसकी जांघें गीली कर चुका था।तकरीबन 10 मिनट की भीषण चुसाई के बाद अचानक मुकुल राय को लगने लगा जैसे उसकी शक्ति का केंद्र बिंदु उसका लंड बन गया है.

मैंने वीना आंटी से बोला- मेरा निकलने वाला है … कहां लोगी?आंटी बोलीं- मुझे तुम्हारा ये अमृत पीना है … इसे मेरे मुँह में निकाल दो. ये सभी 27-28 साल की उम्रवर्ग के हैं और सभी की पिछले एक या डेढ़ साल में शादी हुई है. तब डॉक्टर बोला- हां शायद हो गई साफ … लेकिन इसे पूरी तरह से चेक करना पड़ेगा.

मैंने उसको पहले ही बता दिया था कि मैं तुमसे शादी नहीं कर सकता और वो भी उस चीज के लिए पहले से ही तैयार थी. मैं शादी के बारे में नहीं सोच रहा था क्योंकि मैं ऐसे ही जिदंगी में मस्त रहना चाहता हूँ. नमस्कार दोस्तो, आपको मेरी कहानीकंप्यूटर सीखने के बहाने सेक्स का खेलअच्छी लगी.

मुझे पहले तो गुस्सा आया लेकिन फिर मैंने सोचा कि देखूं तो सही ये क्या-क्या कर रही है.

बीएफ इंग्लिश बीपी: मैंने बाथरूम में जाकर फिर से उनकी चुदाई की और घर वालों के वापस आने तक हम पति-पत्नी की तरह रहे. मैं- चाची कैसे लगा?चाची- बहुत मस्त लगा जीशान … मुझे इतना मज़ा कभी नहीं मिला.

चाची चीख रही थीं- वो मैं झड़ गई … आआआह … ऊऊऊउफ…इतनी ज़ोर की चुदाई में चाची झड़ गईं. यह समझ लो कि आज तुम्हें चूत से जंग करनी है और उसको इतना मारना है कि वो फिर कभी तुम्हारे लंड के आगे आंख ना उठा पाए. उसके बाद मैंने रजू के चूचों को जोर से दबाते हुए उसकी चूत में उंगली करना शुरू कर दिया.

तभी मीनू बोल पड़ी- तुम लोग सो गये क्या?मैंने एकदम से हाथ रजू के चूचों से बाहर निकाल दिया.

” समीर ने अपनी बहन से कहा और अपने होंठों को ज्योति के नर्म होंठों पर रख दिया. बेड के एक कोने पर जीजा सो रहे थे और दूसरे कोने पर मैं लेटी हुई थी, मगर मुझे नींद नहीं आ रही थी. जो औरतें अकेली थी वो भी बिल्कुल उन्मुक्त थीं और सब कुछ देख कर भी अनजान बन रही थी.