बीएफ भोजपुरी सेक्सी एचडी

छवि स्रोत,गाड की फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

और सेक्सी फोटो: बीएफ भोजपुरी सेक्सी एचडी, रघु- वो वो बाबूजी मैंने अपना उसके अन्दर डालने की बहुत कोशिश की, जा नहीं रहा था.

दिल्ली की चूत

उसकी ब्रा को उसकी छाती से हटाया तो उसकी गोरी गोरी चूचियां नंगी हो गयीं. कार्टर क्रूजमैं अपनी नंगी गांड पर उसके खड़े लंड को महसूस कर सकती थी।मैं झट से खड़ी हो गई और उसे धन्यवाद बोल कर दौड़ती हुई बंगले की तरफ भागी.

मेरा आधा लंड रवीना की चूत में उतर गया और उसने मेरी पीठ पर नाखूनों से नोंच लिया. नहाते हुए लड़की की वीडियोउनके गरम और नॉनवेज जोक्स सुनने से मेरी चुत में भी कुलबुलाहट होने लगी थी.

अब मैं अपना दायाँ हाथ उसकी सुराही जैसी गर्दन पर लपेट कर किस कर रहा था। कभी उसका नीचे का होंठ तो कभी ऊपर वाला होंठ चूस रहा था.बीएफ भोजपुरी सेक्सी एचडी: कोई 5 मिनट के बाद पूरा लंड आसानी से अन्दर बाहर होने लगा और श्वेता को भी मजा आने लगा.

उसके झुकते हुए ही मैंने उसकी चूचियों को अंदर तक देख लिया या फिर यूं कहें कि उसने झुक कर अपनी चूचियां मेरे सामने लटका दी थीं.मैं अपनी चूत उछाल उछाल कर संघर्ष करते हुए उनके लंड से जबरदस्त लोहा लेने लगी थी.

चूत चाटने का मजा - बीएफ भोजपुरी सेक्सी एचडी

किस्मत से रात को वापिस आते समय वो मुझे फिर मिली और हम साथ में घर आए.मैंने उस ढली उम्र वाली औरत की चूत के अन्दर अपनी पूरी जीभ डाल दी और उसको चुसाई का सुख देने लगा.

जैसे जैसे भाभी के जिस्म को कल्पना में मैं ऊपर से नीचे तक चूमता जा रहा था वैसे ही मेरे लंड में कसाव और ज्यादा तेज हो रहा था. बीएफ भोजपुरी सेक्सी एचडी मगर मैं इतना कहना चाहता हूं कि जब भी इसके साथ कुछ करे तो सेफ जगह करना.

दो बार मुठ मारने से मुझे गहरी नींद लग गई थी, जिस वजह से मैं सुबह 7 बजे उठा.

बीएफ भोजपुरी सेक्सी एचडी?

मैं आशा करता हूं कि आप लोगों को मेरी सेक्स कहानी जरूर पसंद आई होगी. बस केवल मूर्ति की तरह दीवार से टिकी हुई लंड का मजा लेते हुए कामुक आवाजें निकाल रही थीं. उसके बाद अपना 8 इंच का लौड़ा उनकी गांड में और बुर में घुसा कर काफी देर तक लगातार अन्दर बाहर करना, डर्टी हार्ड सेक्स मुझे बहुत पसंद है.

सुरेश को कुछ समझ नहीं आया, तो वो भी बाहर देखने लगा और बाहर नज़र पड़ते ही उसके लौड़े ने फिर अंगड़ाई ली. मैंने उसे उसके घर के पास छोड़ा और फिर वापस अपने घर आ गया।मेरे लंड मे अभी भी हल्का दर्द हो रहा था। मैंने घर आकर खाना खाया और सो गया. इसीलिए जब रवीना को कॉलेज में एडमिशन मिला तो मैं ही उसके लिए रूम देखने गया था और वहां पर मैंने रात में उसकी बुर मार ली थी.

मैंने उससे कह दिया कि अगर उसे पैसे चाहिएं तो मैं पैसे देने के लिए भी तैयार हूं मगर इस शनिवार की रात वो बस मेरी ही होगी. उसने भी अपना बड़ा लंड निकाल कर मेरी चूत पर लगा दिया और एक धक्के में ही अन्दर कर दिया. एक दो मिनट ऐसे करने के बाद वो बोले- लो मेरी जान … अब संभालो लंड को अपनी चूत में!और उन्होंने एक धक्का ताकत से मार दिया.

सिसकारते हुए वो कहने लगी- आह्ह … परेश, अम्म … मैं एक अरसे से प्यासी हूं … मुझे प्यार चाहिए … एक मर्द का प्यार चाहिए … क्या तुम मुझे वो प्यार दे सकते हो?मैंने भी उनकी चूचियों में मुंह देते हुए कहा- आह्ह … हां भाभी … मैं आपकी हर हसरत को पूरी करूंगा. सुबह के करीब 10:00 बजे हम होटल में पहुंच गए। एक बेहतरीन फाइव स्टार होटल में उन्होंने रूम बुक किया हुआ था.

उसके बाद बोली- अब तुम देखो मैं तुम्हारे इस केले के ऊपर बैठकर कितनी तक मजा करूंगी … तुम बस चुपचाप लेटे रहना … गांड भी उचकाई, तो गांड तोड़ दूंगी.

वो तेज़ तेज़ सांस लेती हुई अपनी गांड उछालने लगी। कुछ क्षण बाद उसने और तेज़ तेज़ झटके लिए और फिर झड़ने लगी.

उसके कहने पर मैं झट से नीचे झुकी और उसका लंड अपने मुंह में ले लिया. तभी सुरेश को लगा कोई आ रहा है, तो उसने कहा- ठीक है, तुम जल्दी से कपड़े पहनो … बाकी का चैकअप बाद में करूंगा. पारिज़ा कुछ पल बाद मुझे अपने ऊपर से हटाकर बाथरूम में चली गई और मैंने सीधे लेटते हुए लंड से कंडोम को निकाल कर डस्टबिन में फेंक दिया.

मैंने चाची की दोनों मोटी मोटी चुची को पूरी तरह से दबा दबा कर उनका दूध पी गया. ‘क्या हुआ जानू … आज अपनी दिशा की याद नहीं आई क्या?’ दिशा इठला कर बोली. जब वो फिर से तैयार हुई तो मैंने धक्के के साथ फिर से लंड को सरकाया और जोर लगाते हुए आधा लंड उसकी गांड में उतार दिया.

उसने मजे से अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ लिया और लंड के टोपे पर अपने होंठ रख दिए.

लगभग 10 घंटे के सफर में हम पूरे सफर के दौरान चूमा चाटी करते रहे और मेरे लंड का बुरा हाल हो गया. जब हमारी फोन पर बात होती थी तो मैंने पहले ही उसके बारे में पता कर लिया था कि उसको क्या क्या पसंद है. फिर मैं उसके होंठों से जाम का मजा लेने के साथ साथ उसकी पकी हुई जवानी को चूसने लगा.

मैं भी दस-बाहर धक्कों के बाद उसकी चूत में झड़ने लगा और उसने भी अपनी टांगों को कस कर मेरी गांड पर भींच लिया. [emailprotected]हिंदी Sexxy Story का अगला भाग:लेडीज टेलर ने चोद दिया- 2. गीता को मुखिया की बात याद आई कि किसी को बताना मत और वैसे भी गीता अच्छी तरह जानती थी कि मुखिया का नाम लेकर कोई फायदा नहीं.

उनकी बड़ी बेटी रोज़ी उस समय मुश्किल से 18-19 वर्ष की थी। जबकि एक छोटी बेटी और एक बेटा था।रोज़ी इतनी सुंदर थी कि एक नज़र में कोई भी उस पर फिदा हो सकता था। मेरे ऑफिस में प्रवेश के लिए उस घर के गेट के सामने से होकर ही रास्ता था.

मेरे सामने एक हुस्न की परी थी, जो आगे जाकर मेरे दिल की धड़कन बनने वाली थी. मां ने मेरे लंड को हाथ में भर लिया और मैं उसकी चूत को जोर जोर से सहलाने लगा.

बीएफ भोजपुरी सेक्सी एचडी कालू- लेकिन मालिक गांव के सब लोग हवेली के भूत के बारे में जानते हैं. तो मैंने उन्हें वो वीडियो दिखा दिए, जिसमें पापा मम्मी को चोदने के बाद झड़ गए थे और मम्मी खुश भी नहीं हुई थीं.

बीएफ भोजपुरी सेक्सी एचडी इस पोजीशन में उसकी भारी सी गांड मेरे सामने आ गयी और वो आगे से नीचे की ओर झुक गयी. वे मम्मी की चुत में लंड पेल कर पुल्ल पुल्ल करके झड़ जाते थे और मेरी मम्मी को कोई मजा नहीं आता था.

ये मेरी पहली सेक्सी मालिश चुदवाई स्टोरी है, इसलिए मुझसे लिखने में कोई गलती हो जाए तो प्लीज़ नजरअंदाज कर देना.

देहाती बीएफ मूवीस

जब मैं अकेली यहां तड़पती रहती हूं तो तब कोई मेरे बारे में नहीं सोचता. मेरे चूतड़ों और चूचियों को देख कर सभी कामुक लोगों का लंड खड़ा हो जाता है. जब मैं उसकी गांड चाट रहा था, तो मेरी बहन बड़े ही मादक आवाजों से ‘सीई … सीई … उह.

फिर मैं सॉरी बोलते हुए वकील के सामने ही झुक गयी और मेरा पल्लू नीचे गिर गया. इतना बोल कर वो मेरा हाथ पकड़ कर मुझे बेड पर ले गयी और अपनी ब्रा मेरे सामने खोल कर एक तरफ रख दी. उनकी बेटी मेरे लंड पर मस्ती से कूदती रही और आखिर में हम दोनों झड़ने की कगार पर आ गए.

मैं फ़ोन पर राहुल से सेक्स कर रही थी और रूम में रियल में राज से चुद रही थी.

आज भी मेरा और तुली का रिश्ता कायम है और आज भी यह बात मेरे तुली और उसके पति के अलावा कोई नहीं जानता. उसने भी इतनी जल्दी ब्लाउज उतारा था कि मुझे अपने स्तनों को छुपाने का मौका भी नहीं मिला. जब मैंने पैंटी के अंदर हाथ डाला तो मेरी उंगलियां उसकी चूत के रस से चिपचिपी हो गयीं।दोस्तो, किसी जवान लड़की की चूत पर मेरी उंगलियों का वो पहला स्पर्श था.

मैं बहुत परेशान थी कि अब मैं क्या करूंगी … मैं घर कब और कैसे जाऊंगी. रास्ते में एक मोहल्ले से सामने से भीड़ को आते हुए देखा, तो टैक्सी वाला टैक्सी छोड़ कर भाग गया. वो बड़े ही अजीब ढंग से मुझे देखने लगी और बोली- हमारी पसंद काफी मिलती जुलती है.

अब मुझसे सहन नहीं हुआ और मेरे मुँह से एक चीख निकल गयी- उई मम्मी मर गई … मेरी चुत फट गई … आह मम्मी मर गई रे!उसने मेरी तरफ देख कर कहा- क्या हुआ भाभी मरवाओगी क्या … आवाज बंद करो. जब मेरा होने वाला था, तब मेरे मुँह से अपने आप ही निकलने लगा- सुनयना मेरी जान … तेरी चुत बहुत ही मस्त है … आह तुझे इस तरह चोदने में बहुत मजा आ रहा है.

चूंकि ये सेक्स हम दोनों का पहली बार था तो उसको मैं जरा सा भी दर्द नहीं देना चाह रहा था।उसके बाद मैंने उसको बेड पर लिटा कर अपना लंड उसकी चूत के मुंह पर रखा और उससे इशारे में अंदर डालने के लिए पूछा तो उसने भी हाँ में सर हिला दिया. मुझे आशा है कि आपको यह सेक्सी बीबी की चुदाई कहानी जरूर पंसद आई होगी. भले ही वो पीना नहीं चाहती थी लेकिन उसके पास मेरे वीर्य को निगलने के सिवाय कोई विकल्प नहीं था.

मैं बस नंगी गर्ल की चूचियों को बौरा कर चूसने लगा और मस्ती से दीदी के दूध चूसे जा रहा था.

वो मना करने लगी मगर मैंने जबरन वो नोट उसके हाथ में रख दिया और तेज़ तेज़ चलता हुआ बाहर की ओर चल दिया।उस दिन के बाद से हमें जब भी मौका मिलता हम सेक्स का मजा लेते। अब वो भी मेरे लंड की आदी हो गयी थी. सोचा आज अपनी देसी इरोटिक स्टोरी भी आप लोगों को बताऊं।कहानी शुरू करने से पहले मैं आपको अपने बारे में बता देता हूं. मैंने कान में फुसफुसाया- एक बार पकड़ो ना प्लीज!उसने मेरी रिक्वेस्ट का कोई रेस्पोन्स नहीं दिया.

उसकी लाल चूत जो अब हल्की हल्की गीली हो रही थी, उसका मुहाना बहुत रसीला हो चला था. सुनयना भाभी का पेट पूरा सपाट था और उसके ऊपर एक छोटी सी मदहोश कर देने वाली नाभि थी, जो कि बहुत सुन्दर दिख रही थी.

वो एक घूंट शराब का लेती और फिर एक बार मेरे लंड को अपने मुंह में लेती. उसके बाद मैंने लंड से उसकी गांड को सहलाई और अपने लंड को पारिज़ा की गांड पर सैट कर दिया. प्रीति ने मुझे हिलाया तो मैं सपनों से जागा।ये देख कर हम तीनों मुस्कराने लगे।प्रीति ने मुझसे कहा- आपको दीदी इतनी अच्छी लगी क्या?ये बोलकर वो हंसने लगी।मैं कुछ नहीं बोला और जाने लगा तो कविता ने कहा- मैं समोसे बना रही हूं, आप खाकर जाना.

कुंवारी लड़की की नंगी बीएफ

तू एक बार चुद कर तो देख!फिर वह मेरे सामने नंगी लेट गई और लेटते ही मैंने उसकी चूत पर अपने लंड का टोपा रखा और एक जोरदार झटका मारा.

ऊपर आकर भाभी ने हाथ से लंड पकड़ा और अपनी चुत की फांकों में सैट कर लिया. मैं कुछ समझ पाता कि मैडम नीचे बैठ गईं और मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूसने लगीं. अब आगे की माँ बेटे की चोदाई कहानी:कुछ पल तक मैं उसकी चूचियों को अपने सीने से सटाये रहा और मज़ा लेता रहा.

मुझे थोड़ा सा दर्द हुआ, पर सुनयना भाभी के मुँह से एक जोर से चीख निकली- आइइइइइ मर गई!उनकी आंखों से आंसू निकलने लगे और बोलने लगीं- आह मार ही दोगे क्या, थोड़ा धीरे धीरे करो ना. मैं- ठीक है … मैं कल पूरा एलबम लेकर तेरे घर आऊंगी, तब देख लेना ओके. ब्लू फिल्म का गानाउस दिन तो हम सब घर पर ही रहे, लेकिन यह सिलसिला अभी भी जारी रहने वाला था.

असल में एक लडकी की चुदाई करते हुए पड़ोस की बंगाली भाभी ने मुझे देख लिया. जिससे अब उनका पूरा लंड बिना किसी रूकावट के सट सटासट अन्दर बाहर होने लगा था.

दर्द को बर्दाश्त करते हुए मैंने उससे कहा- बस थोड़ी देर के लिए रुक जाओ. एक दिन उसने बताया कि उसकी शादी घरवालों ने जल्दी करा दी थी और उसका पति बहुत ही सीधा सा है … जबकि मैं काफी चुलबुली रही हूँ. मैं जिस काम से आया था, वो उसके पापा से ही था, तो मैं कुछ सोचने लगा.

अब पापा ने मम्मी को नीचे लिटाया और खुद उनकी टांगों के बीच जाकर उनकी चूत को चाटने लगे. वो मादक स्वर में आह करते हुए बोलीं- पूरा अन्दर गया ना!उनकी कामवासना भरी मादक कराह से मैं और ज्यादा उत्तेजित हो गया और मैंने अपना पूरा लंड भाभी की चूत में घुसा दिया. मैडम बोलीं- तू तो बहुत मस्त चुदाई करता है … और चोद … चोद मुझे … आहह … अहहा … ओहह … अहह … उम्म्म … उफफ … आहह.

मगर ये आग शरीर की सामान्य कद काठी के परिचय तक ही सिमट कर रह जाती थी.

वो भी गांड उठा उठा आकर चुत चुसाई का मजा लेते हुए मादक सिसकारियां ले रही थी. एक हफ्ते बाद फिल्म की शूटिंग शुरू हो गई और मैं और लोगों के साथ शूटिंग करने लगी.

बीच में एक बार मम्मी की सिहरन मुझे महसूस हुई तो मैं समझ गया कि मम्मी झड़ गई हैं. खाना खाने के बाद संजू की मां बोलीं कि संजू जा, भैया को अपने रूम में सुला लेना और इनसे कुछ पढ़ भी लेना. अब मैं पूरी नंगी उनके सामने थी, तो मैंने अपने हाथों से अपने उभार ढकने की नामुमकिन कोशिश की.

आज रात मैंने उससे कहा कि मादरचोद तेरे से तो मेरे पापा अच्छे हैं कि वह तो कैमरा के सामने भी अपना लंड खड़ा करके अपनी बेटी की चुदाई करते हैं. नमस्कार पाठको और पाठिकाओ, मैं पिंकी सेन फिर से आपको चुदाई की दुनिया में ले जाने आ गई हूँ. हिंदी सेक्सी सटोरिया में पढ़ें कि दोस्त के साथ परिवार सहित भ्रमण पर जाते हुए मैंने अपने दोस्त की सेक्सी बीवी की चुदाई चलती ट्रेन के शौचालय में की.

बीएफ भोजपुरी सेक्सी एचडी उसके दो दिन बाद फिर उसी का फोन आया और वो बोली कि उसके घर में आज कोई नहीं है. भाभी की चीख़ फिर से निकल गयी- उइ मां मार दिया साले ने … फाड़ दी मेरी गांड!पारो भाभी दर्द से तड़पने लगीं.

बीएफ हिंदी एक्स एक्स एक्स एक्स

मेरे समझाने के बाद भी वो नहीं मान रही थी।अब अंजू ग़ुस्से से बोली- जो करना है कर लो. अब भाभी की चूत भी कह रही थी कि और मत तड़पा इस प्यारी चूत को … डाल दो अपना लंड. उसने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया तो उसकी नज़र मेरी और उसकी जांघ पर लगे खून पर गई।तो उसने बोला- अरे, तेरी सील टूटी नहीं थी क्या अभी? मैं तो तुझे सौ लौड़ों से चुदी हुई रंडी समझ चोद रहा था.

सुबह ग्यारह बजे उठे तो हम दोनों के बदन पर हम दोनों के कामरस की सूख कर पपड़ी बन गयी थी, जिसे देख कर हम दोनों मुस्कुरा दिए और एक दूसरे को चूमने लगे. अन्तर्वासना के पाठकों एवं प्यारी पाठिकाओं आप सभी को दिल से नमस्कार. हैप्पी क्रिसमस विशेषभाभी आंख नचाते हुए बोलीं- अच्छा … क्या क्या खूबसूरत दिख रहा है!मैंने कहा- बहुत कुछ भाभी.

उसके प्रेग्नेंट होने का डर था इसलिए मैं उसको बच्चा ने होने की गोली खिला देता था.

अचानक से मेरे पोतों (लंड के नीचे लटकती दो गोलियाँ) पर 2 नर्म सी उँगलियाँ रेंगी तो मैंने देखा कि प्रेरणा की छोटी बहन (मेरी भाभी) मेरे पोतों को सहला रही थी जो प्रेरणा भाभी की गांड पर टकरा रहे थे. आखिरी के 5 मिनट में मैंने उसे फिर से जानवरों की तरह चोदा, जिसमें श्वेता को दर्द और मजा दोनों आया.

उन्हें भी मेरा लंड फील होने लगा क्योंकि मैं उनके ऊपर चढ़ कर मसाज दे रहा था. मैंने रागिनी के गर्भ में बच्चा डाल दिया था और मुझे इस पर गर्व महसूस हो रहा था. फिर उसकी कमर को दोनों हाथों से पकड़ कर लिंग को उसकी सेक्सी गांड के छेद पर रख लिया और दबाव डालने के साथ ही धीरे-धीरे लिंग का टॉप उसकी गुदा में समाता चला गया.

अब आगे देसी बुर कीचुदाई स्टोरी:मैं चाची के पास गया और पीछे से उनकी गांड को सहलाने लगा.

रघु- बाबूजी शुरू के दो दिन तो मैंने कुछ नहीं किया, फिर असल बात ये है मुझे कुछ आता भी नहीं था. दोस्तो, जैसा कि आप जानते ही हो कि मैं जीन्स, पैंट या बरमूडा के नीचे कुछ भी नहीं पहनता हूँ. मेरा ये ब्लाउज थोड़ा ज़्यादा लो-कट था, जिसमें से मेरी चूचियां साफ़ दिख रही थीं.

सेक्स करते हुए दिखाएँमेरी क्सक्सक्स हिंदी स्टोरी में पढ़ें कि मैं होटल के कमरे में दो चुदासी गर्ल्स के बीच था. भाभी को मज़ा आने लगा और वो ज़ोर ज़ोर से सिसकारने लगी- आह्ह … जीत … चोद … आह्ह … चोद मेरे राजा … अपने दमदार लंड का दम दिखा दे … मेरी चूत की प्यास बुझा दे … आह्ह … चोद मुझे … चोद चोदकर मुझे फिर से हरी कर दे मेरी जान … मुझे तेरे बच्चे की मां बना दे … आह्ह … मैं तेरे लंड की पूजा करूंगी।ये कहकर भाभी गांड उठा उठाकर चुदने लगी और कुछ देर में ही झड़ गयी.

बीएफ पिक्चर भेजो भाई

मगर उसने नहीं जाने दिया, तो मैंने उसे एक आंख मारी और झुक कर अपना दूध थोड़ा दबा कर उसे दिखाया, तो वो हंस दिया और उसने हम दोनों को अन्दर जाने दिया. मैंने टेबल पर रखी एक फाइल को हाथ से धीरे से सरकाया और नीचे गिरा दिया. डर्टी हार्ड सेक्स स्टोरी शुरू करने से पहले मैं अपने बारे में कुछ दो चार बातें बता देता हूं.

तो यह बोला कि तुम्हारे पापा को थोड़े दिनों के लिए यहां बुला लो और तुम अपने पापा से चुदाई करवा लो … मैं किसी को कुछ नहीं कहूँगा … और तुम भी किसी को कुछ मत बोलना. मैं दर्द से कराह उठी और एकदम से राजीव मेरे ऊपर आकर मेरे बदन में घुसने को हो गया. मनीषा की कमर पकड़कर मैंने धक्का मारा तो मेरे लण्ड का सुपारा मनीषा की चूत के अन्दर हो गया.

आज उनकी उम्र 60 साल है मगर अभी भी वो चालीस साल के जवां मर्द दिखते हैं. लेकिन ऐसे बिना दरवाजा बंद किये मैंने खुल के खेल भी तो नहीं सकती थी पर मुझ पर वासना हावी थी सो मैंने कोठरी का बल्ब निकाल कर एक तरफ रख दिया जिससे अंधेरा हो गया. दोस्तो, मैं विवेक जोशी एक बार फिर से आपको अपनी देवर भाबी सेक्स स्टोरी सुनाने आ गया हूँ.

मनोज जब उसकी चूत को चाट चाट कर हांफने लगा तो उसने पूजा को लंड चूसने का आग्रह किया. ऐसे में मैंने भी अब अपने आप पर कंट्रोल करते हुए उससे शरारत करने के मन से कहा- राहुल, मेरा किसी और से अफेयर है.

फिर नीचे से उसकी सलवार को खोलने लगा तो उसने नाड़ा खुद खोल दिया मगर सलवार पूरी उतारने से मना कर दिया.

मै ज़रा सा आगे हुआ और धीरे धीरे सेक्स का खेल शुरू हो गया।मैंने उसकी गर्दन पर चूमना चालू कर दिया. कुत्ता वाला एक्स वीडियोवो एक घूंट शराब का लेती और फिर एक बार मेरे लंड को अपने मुंह में लेती. मां बेटा सेक्स कॉमदोस्ती ये गाँव की सेक्सी लड़की की कहानी आप लोगों को कैसी लगी, मुझे मेल करके ज़रूर बताना. फिर मैंने उनको बोल दिया- आप जाओ, प्रेरणा भाभी को मैं अपनी कार से क्लीनिक ले जाऊंगा.

रात के 2:30 बजे थे, अकेला मैं अपनी कार चला रहा था और कुछ यादें दिमाग में दौड़ रही थीं.

जैसे ही मैंने ब्रेक लगाए तो भाभी की चूचियां एकदम से मेरी पीठ से चिपक गयीं. क्या मस्त माल थी वो दोस्तो। रवीना उसकी चूचियों को पीने लगी और उसको पूरी तरह से गर्म करने लगी. मैं उसकी गर्दन पकड़कर अपने लंड पर दबा देता तो वह घबराने लगती और ढेर सारी लार मेरे लंड पर गिरा देती.

मैंने उसकी पैंटी में हाथ देकर उसकी बुर को सहलाना शुरू कर दिया और तब तक रवीना ने उसकी पूरी नाइटी उतरवा दी. वो भी पूरीमस्ती में लंड चूसे जा रही थीसो लंड का पूरा रस वो गटागट पी गई. कुछ देर लंड चुसवाने के बाद मैंने उसकी पैंटी उतार दी और उसे चित लिटा दिया.

पिक्चर वीडियो एचडी बीएफ

आप मुझ तक अपनी बात कहने के लिए इस सेक्स कहानी के लेखक आरव को मेल कर सकते हैं. चूत को मसलते मसलते मैंने उनकी चूत में दो उंगलियां डाल दीं और अन्दर-बाहर करने लगा. मजे से सेक्स किया और शरीर ठंडा होने के बाद दोनों रात के दो बजे नहाने चले गए.

फिलहाल इस गर्लफ्रेंड की चुदाई हिन्दी में कहानी में अभी के लिए इतना ही। अपनी प्रतिक्रिया देना न भूलें.

इसी बीच राहुल का हाथ मुझे मेरी कमर से होता हुआ मेरी गांड पर फिरता महसूस हुआ.

फिर उन्होंने अपने लंड का सुपारा मेरी चूत के प्रवेश द्वार से सटा दिया और मेरे ऊपर झुक गए और मेरा निचला होंठ चूसने लगे. कुछ देर ऊपर से चाटने के बाद मां ने पापा का लंड अपने मुंह में भर लिया. इंग्लिश नंगि फिल्मकरीब आधा घंटा की गांड चुदाई के बाद उसके लंड का रस मेरी गांड में गिरा, तो मुझे राहत सी मिलने लगी.

उन्होंने मेरा लंड हाथ में पकड़ा और बोलीं- तेरा लंड तो मेरे हबी से भी बहुत बड़ा है और मोटा भी है. मेरी चूत के भीतर उनके वीर्य की अनुभूति ने मुझमें एक अजीब सी मादकता भर दी और मैं पुनः झड़ने के कगार पर आ पहुंची. रानी ने मुझे देखा और हल्के से मुस्कुराते हुए कहा- आ गए … कब आए?मैंने कहा- बस अभी ही आया हूँ.

मेरे मन ने कहा कि इसकी गांड तो आज मारना ही है, चाहे मारपीट ही क्यों न हो जाए. मूवी स्टार्ट होने के कुछ देर बाद मैंने महक का हाथ पकड़ लिया और बोला- तुम्हारे हाथ इतने ठंडे क्यों हो गए?उसने बोला- शायद AC चालू है इसलिए.

मैंने आंखें खोलीं, तो वो शख्स होश में आ गया था और मुस्कुराते हुए मेरे मम्मों को दबा रहा था.

मेरे दोस्त की अम्मी की चुत का रस मेरे पूरे मुँह पर लगा पड़ा था और मेरी आंखें वासना से लाल हो गई थीं. मनीषा को बेड पर लिटाकर मैंने अपनी टीशर्ट उतार दी और मनीषा पर लेटकर उसके होंठ चूसने लगा, मनीषा भी मेरे होंठ चूसकर जवाब दे रही थी. उस रात मैंने सोचा कि क्या चाची का इस उम्र में लंड लेने का मन करता होगा.

एडल्ट मूवी इसे देख कर ऐसे लगता है, जैसे भगवान ने बनाते टाइम बस गांड पर ज़्यादा ध्यान दिया होगा. उसने लाल रंग की साड़ी पहनी हुई थी, जिसे देख कर मैं समझ गया कि ये मां की साड़ी थी, जिसे पापा ने अब तक संभाल कर रखा था.

वो सांवली सी लड़की, एकदम मस्त फिगर वाली मेरी आंखों में मानो जादू कर गई. वो बोली- मेरे प्यारे लंड वाले प्यारे चोदू भैया … आपको जैसे भी, जो भी करना है … करो. रिया- अच्छा तुझे कैसे लगा कि किया है?मैं- जैसे तूने मुझे किस की वो कोई एक्सपीरियंस वाला ही कर सकता है ऐसे!रिया- घर वाले बड़ा मुझे बाहर जाने देते हैं? मैं कैसे किसी को कर सकती थी?मैं- बातें मत बना, इतना मुझे पक्का पता है कि तूने किस कर रखा है.

पंजाबी का बीएफ सेक्सी

उस समय मेरी शादी नहीं हुई थी तो हर लड़की को देख कर मन काफी मचल उठता था। रोज़ी तो फिर अप्सरा थी. ये सुनते ही मुखिया जी को सुमन की चुदाई की याद आने लगी और वो खुश हो गया. फिर अगले दिन मैं उसको मिलने शाम के समय में गया। वो कुछ अजीब तरीके से चलते हुए आ रही थी.

कभी कभी वो अपने घुटने को मेरे लंड पर रगड़ देती थीं … जो भाभी की चुदास बढ़ने का संकेत था. एक बार की बात है कि हमारे साथ रहने के लिए मेरी सहेली का भाई भी आ गया। उसका नाम था अंकित। मैं भी उसको अपना भाई ही मानती थी। वो 23 साल का था.

इससे उसकी चूत इतनी गर्म हो गयी कि मेरे लंड में भी गर्मी महसूस होने लगी.

थोड़ी देर बाद ज्योति मैडम ने मेरे लंड को पकड़ा और सहलाना शुरू कर दिया. अब मैंने उसके गले में बांहें डाल लीं और वो मेरी चूचियों का मर्दन करता रहा. उसके हुस्न और उसके कातिल चुदाई की देवी जैसे सौन्दर्य को देख कर मैं बस उसे देखने में ही खो गया.

मगर भाभी के साथ रात में अकेले घर में खुद को सोचकर मेरा लंड बिल्कुल भी सहज नहीं हो रहा था. मैं दो बार झड़ चुकी थी मगर वो किसी पहलवान की तरह मेरी चुत को चोदता तरहा. ‘आआहह आआहह … अहह … आज बहुत ताकत आ गयी है गुरू तुझमें … इतनी दम से तो कभी नहीं पेला था तुमने.

मैंने सुनयना भाबी को गांड मरवाने के लिए बोला, पर उन्होंने मना कर दिया.

बीएफ भोजपुरी सेक्सी एचडी: उसने चिकने टोपे को अपने मुंह में भर लिया और लॉलीपॉप की तरह मेरे लौड़े को चूसने लगी. जब मैं उसकी चूचियां देख रहा था, तब उसने मुझे देख लिया और मुस्कुराने लगी.

आखिर इतने दिनों बाद मेरी योनि के अन्दर कुछ गया था सो मज़ा तो आना ही था. सर्दियों के दिन थे और सभी घरवाले किसी रिश्तेदार की शादी में गए हुए थे, तो मैं घर पर अकेली थी. आप इस सेक्स कहानी के नीचे कमेंट भी कर सकते हैं … मुझे मेल भी कर सकते हैं.

अचानक से मेरे पोतों (लंड के नीचे लटकती दो गोलियाँ) पर 2 नर्म सी उँगलियाँ रेंगी तो मैंने देखा कि प्रेरणा की छोटी बहन (मेरी भाभी) मेरे पोतों को सहला रही थी जो प्रेरणा भाभी की गांड पर टकरा रहे थे.

फिर चाची बोलीं- केवल तुम्हारे चाचा जानते हैं कि मैं प्रेग्नेंट हूँ. वैसे हमें कोई प्रॉब्लम नहीं थी … क्योंकि अंकल खुद भी थोड़े रोमांटिक मिजाज के आदमी थे … इसलिए हम दोनों अंकल के सामने रोमांटिक बातें करते रहते थे. मैं दानिश के रूम की तरफ बढ़ा कि तभी मुझे सिसकारियों की आवाज़ आने लगी और मैं ठिठक गया.