बीएफ बोलने वाली

छवि स्रोत,नेट चलाइए

तस्वीर का शीर्षक ,

जंगली बीएफ दिखाइए: बीएफ बोलने वाली, मैं उतेजित होकर भाभी की ब्रा खोल भी नहीं पाया तो मैंने ब्रा के हुक एक झटके से तोड़ दिए.

सेक्सी इंग्लिश हिंदी फिल्म

सुरजन अपना लंड पकड़कर सहला रहा था।मस्ती और सेक्स से आंखें चढ़ रहीं थी मेरी। कामुक सीन था. लौंडिया लंदन खिलाएंगेहमारे बीच ये सब कैसे हुआ?प्रिय पाठको, यह सेक्स विद क्यूट गर्लफ्रेंड की मेरी सच्ची सेक्स कहानी है.

अब आगे कैसे भाई ने बहन को चोदा:अब अफ़रोज़ ने मेरी ही अदा में मुझे किस किया. इंग्लिश सेक्सी वीडियो छोटी लड़कीदीदी की शानदार गांड और टाइट बूब्स देख कर मेरा तो हमेशा ही मन करने लगता था उनकी चुदाई करने का, पर कुछ नहीं हो पाया.

अब हम दोनों का एक दूसरे के बिना बिल्कुल मन नहीं लगता था और हम दोनों मिलने के लिए बहुत बेताब थे.बीएफ बोलने वाली: पर औरत जबरदस्त थी, बोली- साले भड़वे … बोल तो देता … तेरे लंड में ताक़त तो है अब दिखा … मैं भी देखती हूँ भैन के लंड … तू कितना टिकता है.

मैं भाभी के 34 साइज के मम्मों को बहुत जोर से और पूरी ताकत के साथ चूस और चाट रहा था.मेरा हुस्न देख उनके तंबू तन गए।लौड़ों के तंबू देख मेरी चूत भी मचलने लगी.

ओप्पो 17 प्रो - बीएफ बोलने वाली

सुम्मी बेड पर जोर जोर से सिसकारियां भर रही थी और हरीश का नाम ले लेकर चिल्ला रही थी.मैं समझ गया कि इसको लंड झेलना मुश्किल हो गया है … मैं उसे सहलाने और चूमने लगा.

मम्मी आशा भरी नजरों से चाची की तरफ देख कर बोलीं- वो कैसे?चाची ने कहा कि एक शर्त पर बताऊंगी?मम्मी ने कहा- मुझे तेरी हर शर्त मंजूर है. बीएफ बोलने वाली जब तक तुझे पूरी नंगी करके, तेरा एक एक अंग चाट चाट के चूम चूम कर तुझे चोद न लूं मुझे तसल्ली नहीं होगी.

मैंने भी मां से और कुछ नहीं बोला और चुपचाप खाना खाकर, बाहर टहलने निकल गया.

बीएफ बोलने वाली?

मुझे भाभी की यह बात कुछ अजीब सी लगी क्योंकि मैंने इस से पहले कभी ऐसा नहीं सुना था. यूँ तो मैं पूनम बुआ के सामने ऐसे पहले भी बात कर चुका था, पर आज मैं पूनम बुआ को चोद कर अपना लंड शांत करने का मन बना चुका था और उसके लिए थोड़ा और खुलना बहुत जरूरी था. चुदाई का ये खेल दिन ब दिन बढ़ता जा रहा था और हम दोनों को पता नहीं चला कि कब साहिल को हम दोनों पर शक हो गया था.

अब बहार की बुर ने फिर से पानी छोड़ा तो गीलेपन की वजह से मेरा लण्ड मतवाला हो गया. क्योंकि वो दोनों खिड़की की तरफ मुँह करके खड़े थे और उन दोनों का पूरा ध्यान चुदाई पर था. बहू ने भी धक्के लगाना बंद करके मुझे अपने दूध पिलाने लगी, नीचे उनकी चूत से रिसता दूध भी मेरे लंड को नहलाता हुआ झांटों को भी नहला रहा था.

उसकी पैंटी उतारते ही मैंने देखा कि बन्द लाइट में भी प्रभा की चूत बिल्कुल चांद की तरह चमक रही थी. मैंने बोला- क्यों बे साली रांड … मेरा लंड पसंद नहीं आया, जो अपनी बहन के ब्वॉयफ्रेंड का लंड चूस रही थी तू रंडी!ये कह कर मैं हिना के मुँह को पकड़ कर उसे चोदने लगा. मैं उसकी तरफ कुछ और बढ़ गया और अपना कड़क लंड उसकी गांड में छुआ कर हल्के हल्के ऊपर नीचे करने लगा.

झड़ने के बाद चाची ने मुस्कुरा कर देखा और हम दोनों उधर ही जमीन पर लेट गए. प्रिंसेस सेक्स कहानी में आगे बढ़ने से पहले मैं कहानी के पात्रों का परिचय दे देता हूँ.

लेकिन दोस्तो, मेरी कमज़ोरी … उसकी गांड के वो दोनों खरबूजे मुझे ललचा रहे थे, मेरा लंड खड़ा था.

निखिल ने भी अपने मूसल लंड को अपनी मौसी की चूत में एक बार में ही पूरा उतार दिया.

हम दोनों रोज सुबह अंधेरे में किसी कोने में कभी चूमाचाटी करते … तो कभी मैं उसके बूब्स दबाता, चुत को सहला देता या कभी वह मेरा लंड चूस देती. मुझे महसूस हुआ कि मुकेश थोड़ी बड़ी उम्र के हैं। देखने में वो हट्टे कट्टे थे, चौड़ा सीना था। पहली रात हमको अलग अलग सुलाया गया।अगली रात से पहले मौसी बोली- वो काम (फिटकरी वाला) फिर कर लेना।रात को आलीशान कमरे को सजा मुझे मेरी नन्द ने बिस्तर पर बिठा दिया।अंदर डर सा था कि चोरी न पकड़ी जाए।मुकेश आये और उनके मुंह से दारू की गंध आ रही थी. कुछ देर बाद रमेश दीदी के ऊपर चढ़ गया और अपना लंड दीदी की चुत पर रख कर घिसने लगा.

और अगर वो लंड आपका हो तो क्या आपको कोई ऐतराज है?तोमर साब खुश हो कर बोले- अरे वाह, फिर तो मजा आ जाएगा. कमरे में आने के बाद मम्मी ने अपनी तौलिया भी मम्मों से नीचे उतार कर कमर से बांध ली. जिसके प्रतिउत्तर में नीतू भी रूपाली की चूत को अपने दांतों से कुतर देती।दोनों ने एक दूसरे के बदन पर अपनी अपनी अमिट छाप छोड़ दी थी।इस खेल को शुरू हुए बहुत समय हो गया था और मैं भी अब कभी भी झड़ने वाला था.

जैसे ही मां सो गईं, मैं बिस्तर पर से उठा और बाथरूम जो कि कमरे के सामने ही था, वहां गया.

करीब 10 मिनट के बाद अहमद ने चुत में वीर्य भर दिया और मेरे ऊपर गिर गए. अब मैं उसकी टांगों के बीच में मुंह देकर लेट गया और उसकी चूत में जीभ देकर उसको चूसने लगा. उसने मेरी दीदी के चुचों की, गांड की, चिकनी कमर की … सबकी फोटो ले लीं.

मैंने ब्लूफिल्म में देखा था कि विदेशी लड़कियां किस तरह से लंड चूसने की कला दिखाती हैं. मैंने भी मां से और कुछ नहीं बोला और चुपचाप खाना खाकर, बाहर टहलने निकल गया. दिन चढ़े जब नींद खुली तो देखा कि बहूरानी खूब गहरी नींद में है और उनके मुख पर एक मनमोहक मुस्कान तैर रही है.

भाभी की चुत चाटते हुए अभी मुझे दो मिनट ही हुए थे कि उन्होंने धीरे धीरे मूत की धार मेरे मुँह में छोड़ना शुरू कर दी.

कुछ देर बताने के बाद उन्होंने मुझसे वही बात दुबारा से पूछी, तो मैंने पहला उत्तर गलत बताया. फिर ब्रा और पैंटी भी उतार दी क्योंकि पटाने के मदमस्त मौकों पर ये सब कपड़े दिक्कत करते हैं.

बीएफ बोलने वाली मैं- हां … अह्ह!मैंने अपने बॉक्सर के ऊपर से अपने लंड के उभार को पकड़ लिया और उसकी चूचियों के सहलाने को देखते हुए लंड को सहलाने लगा. जहां ममता ने अपने लिए कुछ सलवार सूट लिए और अभय ने भी अपने लिए जींस टी-शर्ट खरीद लिए.

बीएफ बोलने वाली उनकी चुत के ऊपर कुछ बाल एक त्रिभुज के आकार में उगे थे और वो भी छोटे छोटे ट्रिम किए हुए थे. अभिनव को बचपन से ही वही अचार पसंद है और आप शादी में शामिल हो जाओगे तो वहां भी सबको अच्छा लगेगा.

मिहिका ने कुछ माल तो गटक लिया पर बाकी का बचा माल उसने उठ कर कमरे से बाहर जाकर थूक दिया.

ग़दर सेक्सी फिल्म

मैं फड़फड़ाने लगी मगर उनका बदन मेरे ऊपर था।थोड़ी देर बाद वो लंड निकालकर बोले- शबनम कैसा लगा अपनी गांड का स्वाद?मैं लंड को चाटते हुए बोली- जेठ जी, मजा आ गया. चूचियों के निप्पल के चारों तरफ के घेरे में जीभ चलाते हुए जब दूसरे हाथ से मामी जी की चूची को पकड़ कर दबाते हुए मैंने निप्पल को चुटकी में पकड़ कर खींचा तो मस्ती में मामी जी की सिसकारी निकल गयी- आह राहुल … उफ्फ और ज़ोर से मसलो … मेरे चूचियों को ओह्ह्ह उंह अहह अह्ह्ह्ह राहुल मेरे सैंया!मामी जी अपनी कमर को हिलाते हिलाते सिसकारी भर रही थीं … और अपने दोनों हाथों को मेरी कमर पर दबा रही थीं. समय ऐसे ही गुजरता गया और मेरी बहन की शादी भी हो गयी और मैं शहर में एक कारखाने में नौकरी करने लगा.

यामिना ने जल्दी से मेरे लण्ड को दो तीन बार फैंटा और बोली- सर, बस, मैं बाहर जा रही हूँ, आज फ़लक ने अपनी जॉब की एप्पलीकेशन देने आना है. वो भी मुझसे अच्छे से बात कर रही थी तो हम दोनों में सिम के अलावा भी बात होने लगी. फिर उसने एकदम से अपनी टांगें मेरे सिर पर लपेट लीं और पूरी ताकत लगाकर मेरी नाक को अपनी चूत में घुसा लिया.

वो मेरी तरफ देख कर बोला- क्यों प्राची की मार रहा था … तब तो आप मज़े से देख रही थीं.

अब मेरी दोनों चूचियां ब्लाउज से आज़ाद खुली हवा में तनी थीं लेकिन मैंने उन्हें छिपाया नहीं बल्कि अपना मुँह उसके मुँह के पास ले जाकर अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए. शीना की बुर की सील टूट चुकी थी, उसकी बुर से खून बहना शुरू हो गया था. पर मैंने उसे नहीं रोका।वो दबाव डालता जा रहा था और मेरी सील टूटती जा रही थी और अचानक से पूरी फट गयी.

अब तो टाइम मिलते ही मिहिका मुझे काल पर बता देती है कि आज रोहतक आ रही हूँ या कलानौर जा रही हूँ, वहीं होटल में मिल जाना … मस्ती करेंगे. भैया मां के लिए भी आप ही पसंद कर लो ना!अभय ने 2 सैट पसंद किए एक ब्लैक और एक रेड. मैंने मामी की गांड के छेद को चाटने के साथ-साथ अपनी जीभ को ऊपर से नीचे और फिर नीचे से ऊपर पूरी दरार में फेरना शुरू कर दी.

ये सब देख सुन कर मैंने एक दिन पूछ लिया- क्या हुआ दी?तो दीदी फट से बोलीं- ये गुड़िया मेरे निप्पल खींचती है न … तो दर्द सा होने लगता है. इतना बोल कर ममता ने अपने भाई के पैंट की चैन खोली और अन्दर हाथ डाल कर उसका लंड पकड़ कर बाहर निकाल लिया.

मैं सोच रहा था कि मुझे उर्वशी से ज्यादा प्रज्ञा पसंद थी और ये बात उर्वशी को भी पता थी. उसने अपनी चूत फैलाई और मुझे हुक्म दिया- साले कुत्ते, देखता ही रहेगा या चाटेगा भी इस चूत को. ऐसा होते हुए काफी समय हो गया और मैंने अब तक अपनी मां को अनेक तरह से देख लिया था जो एक जवान लड़के की यौन उत्कंठा को बढ़ाने में काफी था.

ममता मुँह फाड़े अभय को देख रही थी- मैं नहीं मानती … आप सफेद झूठ बोल रहे हो, ये इम्पॉसिबल है.

अब तो दीदी खुद के हाथों से रमेश की गांड पकड़ने लगी थीं- आह चोद दे आह साले … मस्त अन्दर तक पेल रहा है … आह कितने दिनों से मेरी चुदने की इच्छा आज पूरी हुई है. तभी उसके मुँह से निकला- ये इतना मोटा होता है?उसका पूरा मुँह खुला का खुला रह गया. वो तेजी से सिसकार रही थी- आह्ह … आह्ह … ओह्ह नो … नो … ओह्ह … विशाल … वि.

सेल्सगर्ल- मैं आई हेल्प यू मेम?नेहा- यस कुछ लेटेस्ट डिजाइन के ब्रा पैंटी सेट्स दिखाओ. वह भी जब मुझे मिलती, तो मुझे उसकी आंखों में एक अलग ही वासना दिखाई देती थी.

अब तक मैं भी उनके कमरे के बिस्तर पर नंगा लेटा हुआ अपने लंड को सहला रहा था. मुझे फीडबैक दें। आपके मैसेज का मैं इंतजार करूंगा।मेरा ईमेल आईडी मैंने नीचे दिया हुआ है। कहानी पर कमेंट करना न भूलें।[emailprotected]. फिर मां ने मेरे लंड पर तेल की धार गिराना चालू की और मेरे लंड को पूरा तेल से भिगो दिया.

दामाद और सास की सेक्सी

यह दृश्य देखकर मेरी चुत फड़क उठी और मेरा मन दोबारा से सेक्स करने का करने लगा.

इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाता, कुच्ची उस लड़की से बोला- अब बोलो, क्या कहती हो!ये कहते हुए कुच्ची का इशारा मेरी तरफ था. फिर जब जीजाजी नाईट डयूटी में जाते थे तो मैं दीदी के कमरे में जाने लगा था. जब आधा लंड गांड में घुस गया तो उन्होंने धीरे धीरे गांड मारनी शुरू कर दी.

उसका लंड बाहर निकला, तो शीला आंटी ने मोबाइल एक तरफ रखा और कपड़े उतार कर अपनी गांड हिलाते हुई आ गईं. कुछ ही देर में तीनों 3सम सेक्स में थक कर एक दूसरे से लिपट कर सो गए. राजस्थानी सेक्स हिंदीअब भाभी के जीने का सहारा मात्र उनका बच्चा रह गया था जो अब 9 साल का हो गया था.

उसने अपने नाखून मेरी गर्दन के नीचे पीठ में ऐसे गड़ा दिए, मानो वो अपने नाखूनों की सहायता से ऊपर की ओर होने का प्रयास कर रही हो. गांव में मेरे चाचा की बड़ी लड़की यानि मेरी बड़ी बहन की शादी थी तो मैं और मेरा पूरा परिवार गांव आ गया था.

शहजाद की ये बात सुनकर मैंने खिड़की से आवाज दे दी कि शहजाद तुम चिंता मत करो हम सब तुम्हारे सहारे ही हैं. उसके बाद मैंने मम्मी के सामने अपनी पड़ोसन चाची को भी चोदा और मम्मी की गांड भी मारी. आगे क्या क्या हुआ … वो सब मैं आपको मॉम सन हॉट सेक्स स्टोरी में अगले भाग में लिखूंगा.

एक दिन जब मैं नहा रहा था … तब चाची घर आ गईं और मम्मी से बातें करने लगीं. बस थोड़ा परेशान तो करते थे, पर हॉस्टल में हम भी उनके साथ मस्ती करते थे … तो सब चलता रहता था. विवाह के बाद तीनों कुंवारी राजकुमारियों के साथ मेरी सुहागरात का जश्न मनाने के लिए तालाब के आनन्द महल में तैयारी की गई.

वो बाथरूम में से लाल रंग की झीनी नाइटी पहन कर बगल के बेडरूम में चली गई थी.

मेरी टाँगें उठा दीं उसने उसने!उसने झटका मारा और लंड का सुपारा फंसा दिया मेरी फुद्दी में।मैं चीखी- आह्ह … ईई ऊईई … फट गयी … उफ मादरचोद … फाड़ दी।बिना रुके उसने दो तीन झटके मारे और मेरी भोसड़ी खोल कर रख दी. मैंने भाभी की बात से संतुष्ट होते हुए हां में सर हिलाते हुए कहा- ठीक है भाभी.

फिर मैंने उनसे कहा- भाभी, आप उनको आज रात के 9:00 बजे तक बुला लीजिए. पूनम अपने कपड़े ठीक करके नन्नू के पास चली गईं और मैं उठ कर बाथरूम में चला गया. इनके आने के कुछ ही दिन बाद हनीप्रीत मुझसे पट गई और उचक उचक चुदवाने लगी.

मैं समझ गया कि इसको लंड झेलना मुश्किल हो गया है … मैं उसे सहलाने और चूमने लगा. अब पिताजी की तबियत ज्यादा खराब रहने की वजह से वो मां की चुदाई नहीं कर पाते थे. वैसे भी तेरी मॉम रश्मि को सूरज से अब किसी भी तरह का जिस्मानी सुख नहीं मिलता है.

बीएफ बोलने वाली भाभी- आरुष अभी जो तुमने गलती की थी कपड़े पहनकर, उसकी सजा तुम्हें जरूर मिलेगी. अफ़रोज़ बड़ी मायूसी के साथ बोला- देखा आपा … अब ये खड़ा ही नहीं हो रहा है.

हिंदी गावरान सेक्सी

पूजा दूसरी राजकुमारी का नाम है, ये उस वंश की दूसरी रानी की बेटी है. गोविन्द को राजेश समझ कर डाक्टर बोला- हो सकता है राजेश कि बिंदु को किसी और ने यानि किसी टेढ़े लंड वालेमर्द ने चोदाहो. तभी किसी बात को लेकर मेरे मुँह से किंजल का नाम निकल गया तो उसने उसकी ही बात पकड़ कर चालू कर दी.

फिर एक लड़के ने मुझे एक गिलास दिया और कहा- कि भाभी जी इसे पी लीजिए, इससे आपमें नई ऊर्जा आ जाएगी. मैं- अरे ये तो अभी से तैयार है!तभी वह आगे को झुका और उसने अपना चेहरा मेरे सीने में छिपा लिया. सेक्सी हिंदी फुल एचडी वीडियो[emailprotected]हस्बैंड एंड वाइफ सेक्स कहानी का अगला भाग:दो से बेहतर चार- 3.

अब मैं और ज़्यादा तड़पने लगी।मैंने अपना हाथ लुंगी के ऊपर से ही उनके लंड पर रखा और लंड को पकड़कर दबाने लगी।इधर उन्होंने अपनी एक उंगली मेरी चूत में डाल कर मुझे और ज़्यादा बेचैन कर दिया।उनका दूसरा हाथ मेरे बूब्स पर था.

फिर दो मिनट के बाद मैं उठ कर नगमा के पास आ गया और बोला- हिना उठे तो बोलना मैं आया था … अभी मैं जाता हूँ. अगर मैं उसे आगे कुछ करने देती, तो इसका मतलब था कि मैं चुदवाने के लिए ज़्यादा बेकरार हूँ … और अगर उसे मना करती तो उसका मूड ख़राब हो जाता और शायद फिर वह मुझसे बात भी ना करता.

कुछ बूंदें नीचे फर्श पर गिर गईं, तो भाभी के कहे अनुसार मैंने जीभ से उन बूंदों को भी चाट लिया. मैं इस मौके को किसी भी वजह से गंवाना नहीं चाहता था, तो मैंने देर ना करते हुए अपने कपड़े उतारे और पूनम बुआ के ऊपर चढ़ गया. अब मैं रोज राजेश के साथ चुदवाती हूँ और बिंदु गोविन्द से चुदाई करवाती है.

मैंने धक्के मारना रोक कर बहू को फिर से बांहों में जकड़ लिया और पलटी मार कर बहूरानी को अपने ऊपर कर लिया, मैंने लंड को चूत में से बाहर नहीं निकलने दिया था.

उसकी दोनों टांगें हवा में उठी हुई थीं और वो मादक सिसकारियां भर कर मुझसे और तेज तेज चोदने की कह रही थी. मेरे दिमाग़ में अब बार बार एक ही बात आ रही थी कि चाची की सांसें तेज़ क्यों चल रही थीं. उसने मेरी बात का जवाब देते हुए कहा- मेरी छोड़ बे … अपनी बता आज़कल भी गांड मरवाते हो या छोड़ दिया?मैंने उसको थोड़ा मस्का लगाने के लिए कह दिया कि आप जैसा कोई दुबारा मिला ही नहीं, तो बस यूं ही चल रहा है.

फुल सेक्सी दिखाएंजब ट्रेन आ गई और वो लोग ट्रेन में चढ़ने लगे तो दोस्त ने फिर से कहा- घर का ध्यान रखना. चूत चुसाई के साथ विवेक अपने दोनों हाथों से उसके बूब्स भी दबा रहा था और अपनी जीभ से उसकी चूत को भी चाट रहा था.

कौन सेक्सी

वहां मैंने मां को अपने हाथों से नहलाया और मां की झांटों के बाल व बगलों के बाल भी साफ कर दिए. भाभी एक साथ उन तीनों को चुदाई का मजा देने में शायद असमर्थ थीं लेकिन फिर भी पता नहीं क्यों भाभी उनसे चुदी जा रही थीं. वो बोली- मैं किसी भी तरह की कसम खाने को तैयार हूँ कि मैं कल रात तक एकदम कुंवारी थी.

उन रस भरी चूचियों के ऊपर दो भूरे रंग के कड़क निप्पलों को देखकर मैं पागल सा हो गया. वो एक तरफ मेरी दीदी की चूचियों को भींचे हुए था और दूसरी तरफ दीदी की गांड में लंड रगड़ कर मजा ले रहा था. कमर मेरी कमर से चिपकी हुई थी और उसके बूब्स मेरे सीने से चिपक गए थे.

लेखक की पिछली कहानी:शादी से पहले मंगेतर की चूत गांड चुदाई का मजाहैलो फेंड्स, मेरा नाम पुष्पेंद्र सिंह है, आज मैं आपको अपने जीवन की एक अनोखी सेक्स कहानी सुनाने जा रहा हूं. मैं फिर से दर्द का नाटक करने लगी और बोली- बहुत दर्द हो रहा है; आराम से कर!जब गाउन ऊपर तक हो गया तो मेरी चूचियां बगल से निकल गईं जो साफ़ दिख रही थीं।नीलेश मेरी चूचियों को निहार रहा था।थोड़ी देर मालिश के बाद मैं बोली- नीलेश कमर से नीचे भी तेल लगा दे!वो बोला- कहाँ दीदी?मैं बोली- गधे … चूतड़ों पर।मैं चूतड़ों के बल ही लेटी हुई थी।मेरे कहने पर वो पैंटी के ऊपर से ही मेरी गांड दबाने लगा. दोस्तो, अब मैंने ठान ली कि शनिवार को मम्मी की अय्यासी जरूर देखूंगा.

आपको बस मेरी सेक्स कहानी के मेल लिखना है, जिससे मुझे आत्मिक शांति मिलती है. जब दोपहर को मैं वापस आयी तो दरवाज़ा खुला था और रुबिका और शहज़ाद दोनों नंगे लेटे थे.

पंद्रह मिनट बाद मैंने अपना लंड चूत से बाहर निकाला और चुत पर माल पानी छोड़ दिया.

एक ही झटके में वो नंगा हो गया और उसका मोटा लंड भन्नाता हुआ बाहर निकल आया. बालवीरxxxमैं रसोई में गया तो देखा कि मां वहां नंगी खड़ी होकर खाना बना रही थीं. हिंदी भाषा में सेक्सी फिल्मअम्मी और चाची की आपस में बहुत बनती थी, दोनों बहुत ही अच्छी दोस्त थी. फिर करीब आठ दिन बाद कुच्ची ने कहा- चल आज एक दावत में जाना है, तैयार हो जा!मेरे पूछने पर उसने बताया कि शब्बो के गांव में ही चलना है.

इस तरह उस रात राजेश ने मुझे बार बार चोदा और हर बार मेरी चूत में लंड की पिचकारी से गर्म गर्म वीर्य छोड़ा.

मां के छूने से ही मेरा लंड खड़ा होने लगा और मेरी चड्डी के अन्दर तंबू बनाने लगा जिसे देख मां मुस्कुराने लगीं. वो हंसती हुई बोलीं- बेटा इस चड्डी को भी उतार दे, आज मैं तेरे हथियार की भी मालिश कर देती हूँ. लंड 7 इंच का काफी मोटा है जो किसी की चुत में भी हाहाकार मचा सकता है.

मैंने मुस्कुराते हुए कहा- क्यों नहीं … आपको चोदने के लिए तो कुछ भी करूंगा. कुछ देर बाद मैंने फिर से शन्नो के बूब्स दबाने शुरू कर दिए और चूसने लगा. वैसे भी तुम्हारे पास कोई सबूत नहीं है … तुम्हारी बात कोई नहीं मानेगा.

कोरियन सेक्सी व्हिडीओ

बेड पर लेटे हुए मैं सोचती रही कि अफ़रोज़ के कुंवारे लंड को कैसे अपनी चुत का रास्ता दिखाया जाए. अपने सेक्स में कभी हम किसी तीसरे की कल्पना करके एक दूसरे के साथ चुदाई को खूब एन्जॉय करते थे. मेरी चुत का दाना भी चूसो इसे चबा जाओ, चुत में अपनी पूरी जीभ डाल दो … इस्स्स्स … एम्म्म …वो बिन जल मछली के जैसे मचल रही थी और अपने बूब्स दबा रही थी.

भाभी एक साथ उन तीनों को चुदाई का मजा देने में शायद असमर्थ थीं लेकिन फिर भी पता नहीं क्यों भाभी उनसे चुदी जा रही थीं.

मैंने कहा- वो क्या?उसने मेरे हाथ को अपने सीने में रख दिया और बोली- राज, तुम मुझे खुश कर दो!मैंने कहा- ये गलत है.

धक्का लगते ही मामी के चीखने की आवाज़ निकली और वो बेड पर आगे को गिर पड़ीं. वो एक बार के लिए मेरी तरफ मुड़ी और देखकर स्माइल करने लगी मगर फिर से मूवी देखने लगी. राजस्थानी लड़की की सेक्सी वीडियोवहां जो भी 7-8 लोग थे, वो सब सेक्स वीडियो देख अपना लंड हिला रहे थे.

जब ट्रेन आ गई और वो लोग ट्रेन में चढ़ने लगे तो दोस्त ने फिर से कहा- घर का ध्यान रखना. दूसरे दिन से हम दोनों ने अपने इस टूर को हर दिन बिना कंडोम के चुदाई करके सेलिब्रेट किया. मैंने बोला- हम इस शहर में नहीं रहते हैं … हम दिल्ली से यहां टूर पर आए हैं.

फिर उसने शर्माकर आंखें बंद करके धीरे से अपना लंड मेरी चुत में डाल दिया. मैं शीना को दवाई देते हुए बोला- चलो चूत में ना सही, अपने मुंह में तो ले लो!शीना- हां अंकल, ये कर सकती हूं अभी!ये बोलकर शीना मेरे लोअर में से लन्ड निकाल कर नीचे बैठ कर चूसने लगी.

चाची इतना गर्म हो गयी थीं कि उनके नाख़ून मेरी पीठ पर गड़ कर मुझे दर्द दे रहे थे.

फिर तीनों बहनों को एक साथ एक ही बिस्तर पर कैसे चोदा, वो भी लिखूंगा. विवेक- अगर तुम बाहर जाकर मुकर गईं तो!हुर्रेम- मैं झूठ नहीं बोल रही हूं. भाभी की चुत चाटते हुए अभी मुझे दो मिनट ही हुए थे कि उन्होंने धीरे धीरे मूत की धार मेरे मुँह में छोड़ना शुरू कर दी.

बीपी सेक्सी बीपी सेक्सी बीपी सेक्सी मैंने उसका गाउन ऊपर किया और ब्रा का हुक खोल कर उसके दूध दबाने शुरू कर दिए, निप्पल दबाने लगा. मेरे और बहूरानी के अन्तरंग संबंधों का एक आरंभिक दौर था जब बहूरानी चूत लंड चुदाई जैसे शब्द सुनते ही अपने कान हथेलियों से ढक लेती थी.

इसके बाद मैंने भी सोचा कि क्यों ना मैं भी अपनी रियल लाइफ सेक्स की कुछ बातें आप लोगों के साथ शेयर करूं।दोस्तो, स्टोरीज तो बहुत सारी हैं लेकिन मैं आप लोगों को सारी बात शुरू से ही बताऊंगा जब मैंने अपनी लाइफ में पहली बार सेक्स का अनुभव किया. खैर जैसे-तैसे हम मुंबई पहुंच गए!वहां पहुंचकर भैया ने अच्छी तरह हाल-चाल पूछा. कारण ये कि विगत वर्ष में मुझे आप सब चहेते पाठक पाठिकाओं के दसियों ई मेल मिले जिनमे सिर्फ अदिति बहूरानी के संग कोई नया कथानक लिखने का आग्रह किया जाता रहा है.

सेक्स सेक्सी वीडियो पोर्न

रात में करीब एक बजे मेरी नींद खुली, तो मैंने देखा मां का पेटीकोट ऊपर को उठा था. सेक्सी मौसी की चुदाई की हिंदी कहानी में पढ़ें मैं अपनी छोटी मौसी के घर गया था. मैंने उसके नर्म नर्म होंठों को किस करना शुरू किया और वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी.

मैंने शन्नो की चूत में लंड की मार तेज़ कर दी और तेज़ी से अन्दर-बाहर करने लगा. मुझे उनके शरीर का मादक स्पर्श मिल रहा था जिससे मैं और अधिक उत्तेजित होकर अपनी मां की चुदाई करते टाइम ये भूल गया था कि आज मैं अपनी मां की चुदाई कर रहा हूँ.

वो तो मेरी बच्चेदानी में अंडाणु की नली टेढ़ी होने से शुक्राणु और अंडाणु का मिलन नहीं हो पाता है.

पूजा लंड पर चूत सैट करके धीरे से हल्की सिसकारी के साथ बैठ गई और ऊपर नीचे होने लगी. मैं लंड हिलाता हुआ बोला- तो जल्दी बुलाओ भाभी उस दुधारू को … मुझे आपको जल्दी चोदना है. तो दोस्तो, मैं उम्मीद करती हूं कि आप लोगों को मेरी सेक्स कहानी पसन्द आयी होगी.

और मैं उठकर टेबल पर उल्टी होकर लेट गई और उनके लंड को चूसने चाटने लगी।उन्होंने अपनी एक टांग मेज पर रख दी और मेरे मम्मों के बीच में लंड फंसा कर घिसने लगे।मैं उनकी गांड चाटने लगी और उनके अंडे चूसने लगी।वे बोले- वाह हरामजादी रंडी, क्या नर्म नर्म मम्में हैं मादरचोद कुतिया।कुछ देर तक वे मेरे मम्मों के बीच में लंड घिसते रहे और फिर उन्होंने मेरे मुँह में लंड डाल दिया और मुंह को चोदने लगे. उसकी इस बात पर मेरी जान में जान आयी और मैं उसी पल अपनी बांहों में भरकर उसे किस करने लगा. हमारे घर के ठीक सामने एक मंच बना हुआ है, जिसे पूजन पण्डाल के नाम से जाना जाता है.

कुछ देर लंड चुसाने के बाद उसने मुझे खड़ा किया और सामने पेशेंट बेड पर मुझे लिटा कर मेरी स्कर्ट उठा कर मेरी पैंटी उतार दी.

बीएफ बोलने वाली: शमा की आंखों में मस्ती छाने लगी- ऊऊओह … आह्ह्ह्ह मुझे कुचल दो राहुल … मैं बहुत प्यासी हूँ. वो मेरी बात समझते हुए बोलीं- अच्छा ये बात है … वैसे तुम किसी लड़की को पसंद करते हो?मैं बोला- अभी तक तो नहीं … मगर आपके जैसी कोई हो, तो बताना.

फिर मैंने उनके दोनों हाथ को अपने हाथों से जोर से दबाया और गले को चूसने लगा. ममता लंड मुँह से निकाल कर बोली- ऐसे क्या देख रहे हो? क्या किसी ने इस तरह तुम्हारा लंड नहीं चूसा? वैसे मेरी रगों में भी वही खून दौड़ रहा है. इस तरह मौसी के सामने मैंने राज खोला और उन्होंने मुझे फिटकरी से चूत की सिकाई करने को कहा.

भाभी समझ गईं और वो घुटने के बल पर बैठ कर मेरा लंड मुँह में लेने लगीं.

थोड़ी देर में आंटी को औंधा कर दिया और उनकी गांड ने ढेर सारा थूक लगा दिया. सर मेरे लंड को देखकर बोले- देख शबनम साली रांड देख इसका लंड कैसा टनटना रहा है. उसके बाद वो दोनों चीज़ें उन्होंने साइड में टेबल पर रख दीं और मेरे पास बेड पर आकर लेट गये.