बीएफ सिटी

छवि स्रोत,बीएफ सेक्सी वीडियो चूत मारने वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ वीडियो सेक्स फुल: बीएफ सिटी, आपको क्या काम है?अशोक- मेरे बिजनेस राइवल ने किसी को कह कर मेरी फाइल को उधर दबवाया हुआ है, जिससे मुझे बहुत नुकसान हो रहा है.

सेक्सी पूरी बीएफ

एक ये है … अपनी बहन का कितना ख्याल रखता है … प्रिया को साथ ले जाने के लिए इसका इंतजार कर रहा है. बेटे ने मां को चोदा बीएफ सेक्सीआखिरी की कुछ बूंदें उसके होंठों पर लगाते हुए मैंने लंड बाहर निकाला।फिर वो उठी और कहा- अब से हर छुट्टी में मुझे ये मिठाई चाहिए।मैंने भी लिप लॉक करते हुए उसे कहा- जरूर मेरी बहना।सुबह सब वापस आ गए थे.

फिर जैसे ही उन्होंने अपनी टांगों को फैलाया, मैंने देखा की मॉम की चुत एकदम क्लीन थी. बीएफ नंगी बीएफ सेक्सीफिर मैंने पूछा- अब मुझे क्या मिलेगा?उसने बोला- जो आप बोलो … मैंने तो पहले भी बोला था.

मैंने उनकी पीठ पर जैसे ही स्वीट बाइट और किस करना चालू किया, वह पागल होने लगीं.बीएफ सिटी: उसको इस हमले की आशंका न थी और वो जोर से चिल्ला उठी- आह्ह … मर गयी ….

अभिषेक बोला- ऐसे बिना चिकनाई के गांड मारूंगा, तो तुम्हें बहुत दर्द होगा.आप एनर्जी ड्रिंक रख लीजिए और अब मुझे जाने की आज्ञा दें … मैं चलता हूँ.

बीएफ सेक्सी 2019 - बीएफ सिटी

जबकि अप्रैल में बच्चों के एग्जाम की वजह से मुझे जयपुर में ही बच्चों के पास रुकना पड़ा.वो मान गई और अपने जीभ से मारते पैरों को गीला करते हुए ऊपर बढ़ने लगी.

मगर अभी भी मन को समझा नहीं पा रही थी कि अपने पति की दिलदारी की तारीफ करूं या अपनी हिम्मत की जो मैं प्रीत से चुदने के लिए तैयार हो गयी?किसी गैर मर्द के साथ वह मेरी पहली चुदाई थी. बीएफ सिटी जैसे ही उस लड़की‌ ने मेरे बैग को‌ नीचे पटका, मेरा पारा और भी चढ़ गया.

वो मेरी कमर को कस कर पकड़ते हुए मेरे सीने में मुंह छिपाकर चुदवाने लगी.

बीएफ सिटी?

हालांकि खड़ा लंड देख कर भाभी कुछ बोली नहीं क्योंकि उनको पता था कि इसी लंड से उनकी चुत चुदने वाली थी. मैं एक हाथ से उनकी कमर और एक हाथ से कपड़ों के ऊपर से ही घुटनों के आस पास सहला रहा था. मगर बाप का लंड भाई के लंड से कहीं ज्यादा दमदार और शक्तिशाली साबित हुआ.

उन्होंने पूछा- कैसी लगीं मेरी फोटो … जो मैंने भेजी हैं?मैंने बोला- मलीहा जी, आप तो बहुत ही मस्त लग रही हैं … बिल्कुल किसी मॉडल की तरह हैं. जैसे जैसे मैं धक्का लगाता गया, वैसे वैसे भाभी की कामुकता बढ़ने लगी थी. मगर मैं झट से अपने लंड को उसकी पहुंच से दूर कर देता था वो बड़ी मुश्किल से कभी कभी ही लंड को छू पा रही थी.

वो विक्रम के मूसल जैसे लंड को चाटने लगी और उसके प्रीकम को निगलने लगी. जब लंड अन्दर जाता, तो मेरे लंड के साईड का हिस्सा सरनी की बुंड के गोल गोल चूतड़ों से टकरा रहा था. विक्रम का मूसल लंड संजू की चूत को फाड़ते हुए पूरा टाईटली चुत के अन्दर जिस तेजी से जा रहा था … उसी तेजी से बाहर आ रहा था.

मैंने किसी तरह से अनु को इस बात से भटकाया और हनीमून के लिए कमल को साथ ले चलने के लिए मना लिया. मैं हल्की हल्की मादक सिसकारियां लेने लगी थी उम्म्ह… अहह… हय… याह… हौले हौले मुझे मजा आने लगा और मैं अह अह की आवाजें निकालने लगी.

इसी बीच मैंने सास का ब्लाउज उतार कर अलग कर दिया और उनके बाल पकड़ कर अपना लंड चुसवाने लगा.

कुछ ही देर में मेरा दर्द बहुत ही कम हो गया और मैं प्यार से चुदती रही.

मैं- और ज़ोर से करो चाची … वाओ कितने मस्त झटके दे रही हो … आआआआह!चाची- अब तू चुपचाप मज़े ले मादरचोद, चाचीचोद. एक ही लड़की की अभी तक शादी हुई थी … और वो अब अपनी दूसरी लड़की की शादी के लिए लड़का तलाश रहे थे. उसके बाद अब मैं जोर जोर से धक्के लगाने लगा और साथ में बूब्स को भी दोनों हाथों से पकड़ कर मसलने लगा.

उसका जोश देखकर मैं भी धीरे धीरे अपने धक्कों की गति को तेज़ करने लगा, जिससे शायरा की गर्म सिसकारियां भी तेज हो गईं. और आप सुनकर ताज्जुब करोगे कि उनका लंड पूरे दस इंच का था … बड़ा मस्त लंड था. उसी समय इत्तेफाक से एक फोन आ जाने के कारण मुझे कुछ जरूरी काम निकल आया.

सुपारा अन्दर जाते ही वो मेरी पीठ पर नाखून चलाने लगी जिससे उत्तेजित होकर मैंने दो धक्के मारकर पूरा लण्ड उसकी चूत में उतार दिया.

रंगोली बाहर का जायजा लेकर आयी और चुपके से अन्दर का नज़ारा देखने लगी. वो दिखने में एकदम गोरी ऐसी मानो जैसे सफेद रंग की संगमरमर की मूरत हो. उनका पल्लू अब पूरी तरह से उनकी गोद में पड़ा था और छातियाँ गहरी सांस से ऊपर नीचे हो रही थी.

हमारी ड्रेस को देख कर सुनील भैया भी तारीफ करने लगे कि हम दोनों बहुत ही हॉट लग रही हैं. मैं उसके लंड को बड़ी हसरत से देखने लगी थी, शायद वो भी मेरी चुदास को समझ गया था. मैंने पूछा- कैसी लगी मेरी गांड?वो बोला- जानू भांग और अफीम जैसी बहुत गन्दी स्मेल आ रही थी.

कुछ देर उसके मम्मों को सहलाने के बाद, मैं बारी बारी से उनको चूस रहा था.

मैं बोला- नहीं दीदी, प्लीज आप जो कहेंगी, मैं वही करूंगा … पर आप मम्मी पापा को मत बताना. संजू की चूत से लंड का बहुत सारा वीर्य निकल रहा था, जो काफी ज्यादा मात्रा में था और बहुत गाढ़ा था.

बीएफ सिटी आप मेरे लिए कुछ देर लड़की नहीं बन सकते?मैं अब सच में हैरान था कि ये लड़की क्या बोले जा रही है. करीब रात के 9 बजे मुझे पायल का फोन आया कि मैं अपनी फ्रेंड के साथ उसके घर के बाहर खड़ी हूँ.

बीएफ सिटी जैसे जैसे लण्ड की ठोकर पड़ती … मालू आह … आह … कहकर मेरा जोश बढ़ा देती. डॉक्टर साहब की गांड मारने में मैं ऐसा मस्त हुआ कि मैं उनकी चूमा चाटी भूल गया.

शिल्पा- तुम्हें क्या है … तुम तो मजे करके चले जाते हो … संभालना तो मुझे पड़ता है.

हिंदी में सेक्स बीएफ हिंदी

मैं थोड़ा हिचकिचाया, तो उन्होंने बोला- बैठ जाओ … वैसे भी तुम जल्दी ही इस स्टाफ रूम का हिस्सा बनने वाले हो. कुछ देर तक मुझे प्रिंसिपल की टेबल पर चोदने के बाद अभिषेक खुद जाकर प्रिंसिपल की कुर्सी पर बैठ गया और मुझे अपनी गोद में उठा कर मुझे अपने खड़े लंड पर गांड के बल बिठा लिया. मैं- अब से इस चूत का पूरा ख्याल रखूंगा … रोज तुम्हारी चूत चोदकर तुम्हें मजा दूंगा.

फिर मैंने उसकी पेंटी को शरीर से अलग किया, तो देखा चुत की झांटें नदारद थीं पूरी चुत के बाल बड़े ही करीने से शेव किये गए थे, बस चुत की फांकों के ऊपर थोड़े से बाल एक मखमली त्रिभुज के आकर में बने हुए थे, जो काफी अच्छे लग रहे थे. मैंने उसकी चूचियों को छोड़ा और पेट से चूमते-चूमते नीचे की ओर जाने लगा तो वो एकदम पागल सी होने लगी. कुछ ही पलों में उसका दर्द मजा में बदल गया और वो मस्ती भरी आवाजें निकालने लगीं.

मेरे बेटे ने मुझे बिस्तर पर लिटाया और अपना लंड मेरी चूत पर रगड़ने लगा.

उस गांव में मैंने अपनी ख्वाहिश कैसे पूरी की?दोस्तो, मैं सिमरन हूं, मुझे पता है कि आपको मेरी कहानियाँ बहुत पसंद आती हैं. अब मैंने आगे बढ़ने का मन बनाया और एक रात्रि को 69 पोज़ीशन में मज़ा लेते लेते एक लम्बा मोटा बैंगन उसकी चूत में डाल दिया और धीरे धीरे सावधानीपूर्वक उस लंबे मोटे बैंगन से उसकी चुदाई करने लगा. मैंने भी पीछे से हाथ ले जाकर उसकी जीन्स को टटोलते हुए उसकी पैंट के अन्दर हाथ डाला तो मैंने पाया कि उसने पैंटी भी नहीं पहनी हुई थी.

मैंने भी उसका टॉप निकाल फेंका और उसके मम्मों को ब्रा के ऊपर से ही मसलने लगा. क्योंकि उन पर अभी तक किसी का हाथ नहीं लगा था, इसलिए वो काफ़ी कड़क थे. थोड़ी देर बाद अनिल ने पिंकी से कहा कि वो उसका भी चूस दे … तो पिंकी रवि पर अहसान चढ़ाते हुए बोली- अनिल का नहीं, चूसूंगी तो केवल रवि का.

मैं भी मुस्कुराते हुए पीने लगी।टाइट ब्रा पैंटी की वजह से मैं गर्म हो रही थी।मैंने खाना खत्म किया और शराब पीते पीते कमरे में चली आयी। मैं बिस्तर पर बैठ गई. तो मार्च के महीने में हमारे यहाँ भी बकचोदी शुरू हो गयी और सब अपने अपने घरों में क़ैद हो गए.

इतने में सास ने मेरे लोवर में अपना हाथ डाल दिया और मेरे लंड को जोर से दबाने लगी. मेरे लिये एक एक पल काटना मुश्किल हो रहा था; बार बार मोबाइल खोल कर चेक कर रहा था. खन्ना सर के आने के बाद हम दोनों कम्पनी में आ गए। उसके बाद जब भी मौका मिलता तो मैं सपना को चोद आता।वो आज भी मेरे लंड की दीवानी है.

इसी बीच मैंने सास का ब्लाउज उतार कर अलग कर दिया और उनके बाल पकड़ कर अपना लंड चुसवाने लगा.

वो दोनों अपनी चुदाई में इतने मस्त थे कि उनको कुछ होश नहीं था कि आस-पास कोई आ भी सकता है. मैंने कहा- तू कुछ दिन पहले मुझसे बोलती, तो मैं अब तक तुम दोनों का संगम करवा देती. मैं अपनी बीवी को जितना शरीफ समझता था, वो उतनी ही ज्यादा कमीनी निकली.

मैंने उसके होंठों को अपने होंठों पर कसते हुए कहा- बस अब सब कुछ भूल कर इस पल का मजा लो. मैंने भाभी को अपनी तरफ घुमाया और उनकी एक चूची को अपने मुँह में ले लिया.

शाम को मेरे मामा का बड़ा वाला लड़का आया, जिसकी उम्र 4 साल थी; उसने कहा- भैया आपको मम्मी बुला रही हैं. मैंने वैसे ही टी-शर्ट को ऊपर उठा कर उसके दोनों मम्मे हाथों में ले लिए. देविका- तुम आज मेरी हर एक ख्वाहिश को पूरा कर दो, मुझे मज़ा आ रहा है … ऐसे ही करते रहो.

मारवाड़ी सेक्सी चूत वीडियो

एक बार की चुदाई के बाद तो हम दोनों ने बहुत बार सेक्स किया और बहुत मजा लिया.

तो मेरी भी दिली तमन्ना हुई कि अपनी पत्नी के साथ किसी कपल से इस तरह का आनंद प्राप्त किया जाए. अब मैं ब्रा में थी तो रोहित ब्रा के ऊपर से ही स्तन दबाता और किस करता।फिर रोहित ने मेरी सलवार का नाड़ा पकड़कर खींच दिया. जब उसका बेटा स्कूल जाता, तब हम दोनों खुल कर लंड चुत चुदाई की बात करते.

चाची- अच्छा मदद करूँगी … दोनों की चुत गांड दिलाऊंगी … तू धीरे कर प्लीज. अब उसकी स्पीड सच में तेज हो गयी थी और मुझे मेरी गांड में दर्द सा होने लगा था. सेक्सी बीएफ चाचाखन्ना सर के आने के बाद हम दोनों कम्पनी में आ गए। उसके बाद जब भी मौका मिलता तो मैं सपना को चोद आता।वो आज भी मेरे लंड की दीवानी है.

उन दोनों सेल्सगर्ल ने हमें अब एक से एक डिजाईन व कलर के पैंटी-ब्रा दिखाने शुरू कर दिए. मगर मेरे पर्स में एक पर्ची थी, जिस पर मकान मालकिन का पता और उनके घर का फोन नम्बर लिखा हुआ था.

(उंगली करना जारी रखो)कुछ देर बाद उसने मुझसे पूछा- तुम क्या कर रहे हो. मैं नहीं समझ पा रही थी कि इतना दर्द होता है, तो फिर मजा कैसे आता है. वर्षों से मैं अन्तर्वासना मंच से जुड़ा हूँ, अंतरवासना मंच में मेरी कहानियों को आप सब पाठकों तक पहुंचाया।मेरी पिछली कहानी थीअस्पताल में मिली शादीशुदा लड़कीयह कहानी टीचर एंड स्टूडेंट सेक्स स्टोरी है.

फिर मैं काफी देर तक जम कर कभी चूत कभी गांड को बारी बारी से चोदता रहा. कुछ देर उसके मम्मों को सहलाने के बाद, मैं बारी बारी से उनको चूस रहा था. औरत को पूरी नंगी देखने का अपना मजा है लेकिन औरत जब नीचे से नंगी हो और उसने ऊपर केवल एक पतला कपड़ा डाला हुआ हो जिसमें से उसके अंगों को को महसूस किया जा सके तो उसके बदन को मसलने और छूने में अलग मजा आता है.

दीपा ने उसका लंड मुंह से निकाल कर कहा- अपने याड़ी से चुसवाने को बड़ा चिकना किया है तो उसी के पास चले जाओ और चुसवा आओ.

वहां आने के बाद फोन पर जीजा कहने लगे- बंध्या हम लोग 10 बजे तक आ जायेंगे. अगर आप मुझसे संपर्क करना चाहते हैंवीडियो या कॉल के माध्यम से… तो आपका स्वागत है.

वो डर गयी और फिर मैंने उसको अच्छे तरीके से पहली चुदाई का अनुभव समझाया. शिल्पा दिख नहीं रही थी इसलिए मैंने समझ लिया कि वो बाथरूम में गई होगी. मैं उसको इतना गर्म कर देता था कि उसको बस अपने चुदने का इंतज़ार हो गया था.

मैं समझ गया कि भाभी की चुत में आग लगी हुई है और उसको मेरा लंड चाहिए है. एक कुकोल्ड पति की दोस्त से बीवी की चुदाई की तमन्ना ने उसकी पत्नी और दोस्त के सेक्स सम्बन्ध बनवा दिए. चूंकि यह मेरी पहली सेक्स कहानी है, तो कोई भूल दिखे, तो माफ कर दीजिए.

बीएफ सिटी तो उसने भी मेरा हाथ दबा दिया और हम दोनों कार में बैठ गए और उसने कार अपने घर की तरफ बढ़ा दी।मेरी कहानी पर अपने विचार मुझे अवश्य भेजें. फिर मैं नीचे आया और उसकी नाभि को चूमते हुए उसकी पैंटी के पास किस किया.

हिंदी ब्लू फिल्म सेक्सी दिखाओ

यह सब करके उसने अपनी नाइटी भी उतार कर फैंक दी और पूरी तरह से नंगी हो गई. हम घर से निकल चुके हैं … और अर्णव कैसा है?दीदी- वो भी ठीक यहीं पर हैं. आपका लंड मुझे अपने पेट तक घुसता महसूस हो रहा है, आह्ह … मेरे प्यारे बापू … चोदो मुझे … आह्ह!” ज्योति ने अपने पिता की बात का जवाब सिसकारियां लेते हुए दिया।मेरी बेटी, मैं तो कब से तुझे मजा देने के लिए तैयार था मगर तुम ही नखरे कर रही थी.

इससे आंटी भी खुश रहने लगीं और उनके घर के सब लोग मेरा कुछ ज्यादा ही ध्यान रखने लगे. संजू ने विक्रम की आंखों में हैरानी से देखा और बोली- क्या मैं सह पाऊंगी?विक्रम ने कहा- हां भाभी, आप बहुत सेक्सी हो. डब्लू डब्लू सेक्सी बीएफ फुल एचडी”इतना कहकर भैया रुक गए। अब तो उनका सिकंदर जोर-जोर से उछलकूद मचाने लगा था।फिर क्या हुआ?” भाभी ने पूछा।अरे … होने को क्या था वहीं इच साली का गेम बजा डाला। बाप … क्या मस्त पूपड़ी थी अपुन को भोत मज़ा आया। उसने खुश होकर अपुन को पहनने को नए कपड़े दिए, एक हज़ार रुपया बी दिया और नाश्ता बी करवाया.

अगर आपने मेरी बात को अनदेखा किया तो आपको भी हमें अस्पताल में भर्ती करवाना पड़ेगा.

फिर मैंने उसकी गर्दन पर जीभ लगा दी और अपने होंठों से शॉवर से गिर रहे पानी को चूसने लगा. यही मौका था, मैंने दादी से कहा- दादी सच बताना, चुदवाने में औरत को क्या मजा मिलता है?मजे की बात नहीं है, विजय.

उम्म्म्म … क्या स्वाद था।मेरे चाटने से सीमा को भी मजा आने लगा और उनके मुख से सीत्कारें निकलने लगीं ‘एयेए … आआह … ऑश सीईई!थोड़ी देर उसकी चूत चाटने के बाद उसका पानी निकलने लगा जिसे मैंने मजे से पी लिया।फिर मैंने भाभी को अपना लंड चूसने को बोला तो वे मना करने लगी, बोली- ये सब अच्छा नहीं है. रात भर में फिर 3 बार उसने मेरी गांड बजाई।उसने मेरा लन्ड भी चूसा।मेरे लिये यह एक बिल्कुल नया डिल्डो Xxx अनुभव था. तो अब अगली बार इस प्रेम और सेक्स कहानी में आगे लिखूंगा कि क्या हुआ.

उसके बाद क्या हुआ?दोस्तो, मैं रॉकी आपका दोस्त अपनी पिछली कहानीबारिश की बूंदें और वोसे आगे की कहानी लेकर आया हूँ.

मैं- अच्छा, अच्छा ठीक है … पर चलो ना … कल‌ मूवी देखकर आते है और कॉर्नर की सीट लेंगे. फिर मुझे भी इस उम्र में न जाने क्यों गांड मरवाने के सुख की लालसा भी होने लगी थी. जैसे ही मेरा लौड़ा पूरा तन कर खड़ा हो गया, शीना ने उसको चूसना छोड़ दिया और सीधे से वो मेरे लण्ड को अपने हाथ में पकड़ के अपनी चूत मैं घुसाने के लिए उस पर बैठ गई.

भोजपुरिया बीएफ हिंदी मेंउसने लाल रंग की साड़ी और बैकलैस ब्लाउज पहना हुआ था, उसका ये ब्लाउज बहुत ही गहरे गले का था. उसने कहा- मैं अपने पेरेंट्स से आज ही बात करता हूँ और तुम अपने पेरेंट्स को मनाओ.

इंडियन देसी एक्स

धीरे-धीरे मैं उसे भूल गया और आगे की पढ़ाई के लिए मैं दूसरे शहर चला गया और वह यहीं पढ़ने लगी।फिर मैं अपने घर आया और अचानक एक दिन वो मुझे सामने से आती दिख गयी. साथ ही मेरी सभी प्यारी फीमेल फ्रेंड्स भी अपनी चुत को खूब टांगें उठवा कर चुदवा रही होंगी. कोई चोरी तो की नहीं है, पर जब उसके पति को ये मालूम होगा कि उस रात कौन था या उसे यह मालूम होगा कि उसके पति के साथ कौन थी तो इससे फर्क तो कुछ भी नहीं पड़ेगा पर जरूरत भी क्या है? और फिर कोई भी किसी के साथ हो, ये तो तय है कि कोई भी अपने पार्टनर के साथ नहीं था.

”चल!”उसने मेरी नंगी कमर में हाथ डाला और हम चलने लगे।कामिनी वो दोनों सो गए होंगे?”क्या पता, उपिन्दर भी मम्मी को ऐसे ही बाथरूम में ले जा रहा हो सोने से पहले सुनहरी जल पिलाने!”हाँ शायद!” वो मुस्कुराई. मेरा लंड अब उसकी गान्ड में चुभने लगा।मैं दोनों हाथों से उसके बूब्स दबाने लगा और वो उसकी गान्ड मेरे लौड़े पर रगड़ने लगी।मैंने उसे बिस्तर पर उल्टा लिटा दिया और तेल की कटोरी से उसकी गान्ड के छेद में तेल की बूंदें डालकर उंगली से चोदने लगा. अब मैं मामी के मम्मों को पीने लगा और एक हाथ से उनकी चूत को सहलाने लगा.

हम दोनों एक दूसरे से इतनी जोर से चिपक गए थे कि हमारे बीच से हवा ही निकलने में असमर्थ थी. दोस्तो, कैसे हो आप सब? मेरा नाम अमन है और मैं 24 साल का हूँ। मैं उत्तराखंड के एक छोटे से शहर का रहने वाला हूँ। दिखने में ठीक ही हूँ. जल्द ही मैं अपनी अगली देवर भाबी Xxx कहानी में आगे हुई भाबी की चुदाई को लिखूंगा कि हम दोनों ने अपनी अधूरी इच्छा कैसे पूरी की.

मैं बोला- तो फिर आप क्या सोच रही हो?मैंने वो मेरे करीब आयी और मेरे सीने से लगकर नीचे हाथ ले गयी. तो चलिए अब शुरू करते हैं कहानी को खुद नीलम की जुबानी।यह कहानी सुनें.

मेरा लंड तो शायरा की चुत की ठुकाई कर ही रहा था … साथ ही मेरे ऐसे लेटकर धक्के मारने से मेरे लंड के ऊपर का भाग भी शायरा की चूत के दाने से रगड़ने लगा था.

वो कुछ देर तो ऐसे ही मुझे घूर घूरकर देखती रही, फिर पैर से पटकते हुए ऊपर सीढ़ियां चढ़ गयी. हिंदी बीएफ रेप वीडियोइसलिए शायरा ने जो ब्रा पैंटी के सैट निकाल कर रखे हुए थे, उनमें से उसने एक को पसंद कर लिया. सेक्सी बीएफ हिंदी मुसलमानीपहली बार के प्रयास में उसका लंड मेरी गांड के अन्दर जा ही नहीं पाया. उसने बिना एक शब्द बोले मेरे लंड को और जोर से पकड़ कर चूसना शुरू कर दिया.

फिर मैं उसके गालों को चूमता हुआ उसके होंठों पर आ गया।फिर मैंने उसकी गर्दन पर किस करना शुरु किया और करते करते उसके कान के पीछे चला गया और कान पर हल्की सी बाइट कर दी।इससे वो गर्म होने लगी।पैंट में मेरे लण्ड का बुरा हाल था मगर मैं कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहता था।मैंने कहा- बेबी … ये टॉप उतार दो.

2 महीने से ज्यादा हो गए उनको वहां फंसे हुए!और यहां मुझे भी 2 महीने से ज्यादा हो गए चुदाई किये हुए!ऐसा लग रहा था कि जैसे सरकार ने चुदाई पर भी लॉकडाउन लगा दिया है और चूत को कोरोना से बचाव के लिए ‘क्वॉरेंटाइन’ कर दिया है. अनिल ने ड्रामा करते हुए रवि से कहा- यार आज तूने मेरी पिछले पांच साल की तमन्ना पूरी कर दी. जब मैंने देखा कि सरनी की फुद्दी गीली हो चुकी है और मेरे लंड को अन्दर जाने में ज्यादा दिक्कत नहीं होगी, तो मैंने किस करते करते अपने लंड को सरनी की फुद्दी पर सैट कर दिया.

दूर से देखो तो लगता था कि मैंने सिर्फ पैंटी का कमर का पट्टा ही पहना है।इतनी टाइट पैंटी थी कि मेरे चूत ने पानी से भीगो दिया था।मैं अपनी ब्रा पहनने लगी. मैंने कहा- तो आपका लंड आपको ज्यादा परेशान कर रहा हो, तो मेरी में डाल दो. लेकिन मैंने बहुत ही प्यार से कहा- तुम अच्छी लग रही हो मुझे!और सब सांस में कह डाला कि क्यों मैंने रुकने का फैसला किया।चाय उबल के गिर गई और उसने मुझे ऐसे देखा की बस जैसे सन्न रह गई हो.

सेक्सी वीडियो देखने का ऐप

जैसे ही शीना का पानी निकल गया और वह शांत मेरे ऊपर ही पड़ गई, संजना ने उठकर शीना को मुझ से अलग कर दिया और खुद मेरा लौड़ा अपनी चूत में घुसाने लगी. अभिषेक बोला- ऐसे बिना चिकनाई के गांड मारूंगा, तो तुम्हें बहुत दर्द होगा. मैं- कोई बात नहीं, तुम बाथरूम में जाकर लंड को पूरी तरह से साफ़ करके मेरे पास आओ.

आज से पहले कभी इतना सुखद अनुभव कभी नहीं हुआ, इतना मजा कभी भी नहीं आया.

”पता है दीदी त्या बोलती है?” उसने अपनी आँखें चौड़ी करते हुए कहा।क्या?” मेरा दिल जोर-जोर से धड़कने लगा।वो बोलती हैं : मेरा बस चले तो जिंदगी भर तुम्हें यहीं रख लूँ.

मैंने जैसे ही भाई के लंड को हाथ में पकड़ा तो भाई एकदम से जैसे तड़प गये. पंजाबी लड़की की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मेरे यार का बॉस एक पंजाबी लड़की को यानि मुझे बिहारी समझ कर चोदने जा रहा था. इमरान हाशमी की सेक्सी बीएफन्यासा के वॉशरूम से बाहर आने पर मैंने उसे अपने हाथ से कपड़े पहनाए और उसके मोटे मोटे चूचों को दबाने लगा.

अब मैं उसको उठा कर अपने बेड पर ले गया और उसकी दोनों टांगों को अपने कंधे पर रख कर जम कर चोदने लगा. यह बात उसने मजाक में कही थी तो पीछे से दीपा ने एक धौल लगा दिया उसके!घूम फिर कर डिनर करके रात को 11 बजे सब लोग लौटे. जाते समय उसने मुझे कोई चीज भेंट की और कहा- ये मेरी निशानी के तौर पर रख लो.

दूसरे भागपति के सामने यार का लंड चूसामें आपने जाना था कि मेरी बीवी सुमन ने मेरे दोस्त का लंड मस्त होकर चूसा. मुझे उनके सामने खड़े होने में भी शर्म‌ आ रही थी, इसलिए मैं अब वहां खड़ा नहीं हुआ बल्कि वहां से पैदल‌ ही चलकर कॉलेज आ गया.

कुछ देर बाद मैं अभिषेक का पूरा आठ इंच का लंड मैं हलक तक लेकर चूसने लगी.

आप मुझे भी अपनी बीडीएसएम टॉर्चर सेक्स बतायें और अपने अनुभव मेरे साथ भी शेयर करें. ज़ल्द ही मैंने अपना लंड अंजू के मुंह में दे दिया और तीसरी धार अंजू के मुंह में गिर गयी. उसी मस्ती के दौर में न्यासा ने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और मुझे किस करने लगी.

बीएफ बीएफ नंगी पिक्चर मैंने उससे पूछा- क्या सरप्राइज है?मगर वो कातिल स्माइल देते हुए बोली- यदि बता दिया तो सरप्राइज क्या रहेगा. मैंने कहा- तो आप मुझसे भी तो कह सकती थीं!मेरी मॉम ये सुनकर मेरी तरफ ऐसे देखने लगीं जैसे उन्हें मेरी बात समझ ही न आई हो.

दर्द से चिल्लाने की जगह वो उल्टा ये बोला- एक बार में पूरा डाल दें … संकोच न करें. ज़ारा- और पता है मैं कितनी तड़पती हूं?मैं- सॉरी यार अब रोना बंद करो नहीं तो मैं भी रो दूंगा!ये कहते-कहते मेरा गला भर्रा गया तो ज़ारा उठी, अपनी आंखें पौंछीं और सीधे पैर कर बैठ गयी. मैंने उस दिन आंटी से काफी बातचीत की और उनके व्यवहार से मुझे लगने लगा कि मुझे अपना बाकी के समय में से कुछ समय इन लोगों के साथ भी बिताना चाहिए.

बीएफ चाहिए इंग्लिश में

दो मिनट बाद अनीता ने उसे खींच कर हटा दिया और मुझे बांहों में जकड़ लिया. तभी रोहित बोला- इतने दिनों बाद मिली हो जान … एक किस तो दे दो!और वो मुझे पकड़ कर किस करने लगा।मैंने सोचा कि एक दो बार किस करेगा, चलो कर देती हूँ।उसने दो, चार बार किस करी फिर वो करता ही गया. और इसे हमारे बारे में सब पता है और इसे ये भी पता है कि हमें एक दूसरे के साथ सेक्स करने में क्या क्या पसंद है.

मेरे हज़्बेंड ने बहुत कोशिश की, वो दुबारा मैरिज कर ले, मगर वो कुछ भी सुनने को तैयार ही नहीं होती थी. जब रात वो मेरे कमरे में आया और मालिश करने लगा, तब मैंने उससे बोला- थोड़ा ऊपर हाथ लाकर मेरी जांघों के जोड़ पर मालिश करो.

वो अपनी सहेलियों के बारे में बताती थी कि किसकी सेटिंग किसके साथ है.

फिर मेरी पैंट की जेब में हाथ डाल कर मेरा लंड पकड़ कर फुसफुसा कर बोला- बहुत सख्त है. लड़कियां बिल्कुल कुत्ते की तरह आदमी को मारती या ज़ंजीरों में कैद करके उनसे अपनी चुत गांड चुसवातीं. अंतर्वासना के सभी पाठक मेरी वाइफ के नंगे जिस्म से बहुत अच्छे तरीके से वाकिफ हैं.

उनकी साड़ी का पल्लू उनके कन्धों से नीचे सरक गया था और हम दोनों की सांसें भरी हो रही थी. मैंने होंठ हटा कर उसे टाईट वाला हग किया और बोला- बस जान … अब दर्द नहीं होगा. उसने जल्दी से मेरे सारे कपड़े उतार कर फेंक दिए और कहने लगा- मौसी, आराम से करने का समय नहीं है.

मैं आगे से कुछ नहीं कहूंगी मगर ऐसे नाराज मत हो।मैं बोला- ठीक है, मैं तुम्हें किस करने की भी नहीं कहूंगा.

बीएफ सिटी: आपका लंड मुझे अपने पेट तक घुसता महसूस हो रहा है, आह्ह … मेरे प्यारे बापू … चोदो मुझे … आह्ह!” ज्योति ने अपने पिता की बात का जवाब सिसकारियां लेते हुए दिया।मेरी बेटी, मैं तो कब से तुझे मजा देने के लिए तैयार था मगर तुम ही नखरे कर रही थी. वो अब हल्का हल्का कसमसा तो रही थी मगर मेरा विरोध बिल्कुल भी नहीं कर रही थी इसलिये उसके होंठों के रस को चूसते चूसते मैं अपना एक हाथ अब धीरे से उसके पपीतों पर भी ले आया.

तभी दीदी बोली- आज क्या हो गया है तुम्हें … ऐसा क्यों कर रहे हो? तबीयत तो ठीक है तुम्हारी. तो वह भी हंसने लगा और बोला कि पेमेन्ट तो मुझे करना चाहिये … लौंडे मेरा बहुत दिल रख रहे थे. विक्रम और संजू ने किसिंग के लगभग सारे पोज अपना लिए थे, पर अभी भी वो लोग चूमने में लगे हुए थे.

कुछ दिन बाद पहले साल की पढ़ाई ख़त्म हो गई, तो प्रिंसिपल सर ने मुझे अपने हॉस्पिटल में आने के लिए कह दिया.

हम दोनों होटल आए, तो मैंने उसे ऑफर किया कि यदि तुम चाहो तो ड्रिंक एन्जॉय कर सकती हो. उसके मुँह से एक हल्की सी चीख निकल गई, उसने कहा- ऊई … आह … धीरे-धीरे करो … दर्द हो रहा है … क्योंकि तुम्हारा लंड तुम्हारे भाई के लंड से बहुत मोटा है. सुबह 11 बजे उनकी ट्रेन थी तो हम सभी स्टेशन गए।उनको ट्रेन में बैठा कर हम सामान लाने बाजार की तरफ चल दिये और सबसे पहले दारू के ठेके पर जाकर हमने 12 बियर के कैन लिए.