बीएफ हिंदी बुर की चुदाई

छवि स्रोत,सेक्सी व्हिडीओ सेक्सी एक्स

तस्वीर का शीर्षक ,

नौकर और मालकिन का सेक्सी: बीएफ हिंदी बुर की चुदाई, कपड़े तो निकालने दो।मोना पहले ही वासना की आग में जल रही थी। अब राजू ने उसकी आग को और भड़का दिया था। उसने राजू को अलग किया और अपने जिस्म को कपड़ों से आज़ाद किया। सोने सा चमकता जिस्म देख कर राजू का लंड झटके खाने लगा।मोना- ऐसे क्या देख रहे हो.

सेक्सी फिल्म चुदाई देसी

जिससे बुर में चिकनाई हो गई थी।अब मैंने नीनू से पूछा- क्या दर्द कर रहा है।तो वो बोली- नहीं. पंजाबी सेक्सी वीडियो साड़ी वालीतो इसकी बॉडी भी अच्छी बनी हुई है।तीसरा विक्की जोशी उम्र 24 ये ठीक-ठाक सा ही है.

उसने मुझसे कहा- आज कुछ नमकीन हो जाए…बस फिर क्या था, मैंने उसे बेड पे खींच लिया. सेक्सी फुल हिंदी एचडीमैंने एक भी ना सुनी।बाद में देखा तो मेरी बनियान में खून लग गया था। उसने भी मेरी पीठ पर नाखूनों से खून निकाल दिया।फिर उसके सामान्य होने पर धीरे-धीरे चुदाई शुरू हो गई। पहला दौर तो 3 मिनट ही चला। मैंने बिना लंड को चुत से बाहर निकाले दूसरा दौर शुरू कर दिया। अबकी बार 20 मिनट तक खूब चोदा और दोनों साथ में ही झड़ गए। इसके बाद कुछ देर तक दोनों ने आराम किया.

हालाँकि विवेक और अजय दोनों ने ही मम्मे दबाने और घोड़ी बना कर चोदने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी पर बेड का मजा कुछ और ही होता है और अभी उनके लंड की पिचकारी छूटी भी नहीं थी.बीएफ हिंदी बुर की चुदाई: मगर उनका कहानी में कोई खास रोल नहीं है, इसी लिए इंट्रो नहीं दिया। वैसे ही और भी बहुत लोग कहानी में आएँगे मगर कुछ देर के लिए.

मामू कब से चूस रही हूँ आज आपका रस क्यों नहीं निकल रहा है, मेरा मुँह दुखने लगा है।संजय- मेरी जान ये ऐसे नहीं निकलेगा.लेकिन मैं और मेरे दोनों दोस्त इस फूहड़ता को काफी पसंद कर रहे थे क्योंकि ये शब्द हमारे लिए वियाग्रा का काम कर रहे थे!अचानक एंड्रयू तेज धक्के मारता हुआ हम दोनों के कॉमन टारगेट को चोदने लगा.

सेक्सी पिक्चर बताइए अंग्रेजी में - बीएफ हिंदी बुर की चुदाई

मेरा लंड उसकी चूत की संकरी चट्टान जैसी दीवारों को भेदता हुआ उसकी बच्चेदानी से टकरा रहा था और हर बार जब उसके किले की दीवार से मेरे लंड का टोपा टकराता तो वो अपने रोमांच को मुस्कराहट बिखेर कर दर्शाती.मैं बिस्तर के कोने से सो रही थी… अन्नू बीच में थी और रोहन दूसरे कोने पर!मुझे नींद नहीं आ रही थी… मैं तो बस यही सोच रही थी ‘जाने रोहित क्या सोच रहा होगा…उसे भी खुद पर ग्लानि हो रही होगी?’वैसे रोहन और रोहित हर बात आपस मे शेयर करते है तो मैंने सोचा कि कल में रोहन से इस घटना के बारे में बात करुँगी.

आज वो शरमा नहीं रही थी। मैंने आज पूरी नाइटी पहले ही उतार दी और जोरों से उसके मम्मों को अपनी मुठ्ठी में भर कर दबाने लगा।तो नीनू बोली- भैया क्या आज ही पूरा निचोड़ दोगे क्या? मैं कहीं भाग जाने वाली नहीं हूँ. बीएफ हिंदी बुर की चुदाई आंटी- तुझे कैसे पता नर्म हैं?मैं- मैंने प्याज़ देते वक्त महसूस किया था.

जाने दो मैं तुम्हें बोर नहीं करना चाहती हूँ।मैंने कहा- मैं बोर नहीं होने वाला.

बीएफ हिंदी बुर की चुदाई?

मैं बोला- आप शादीशुदा हो?वो बोली- हाँ… पर अब हम साथ नहीं रहते, शादी के कुछ दिन के बाद ही हमारा तलाक़ हो गया था!मैंने इस बारे में ज़्यादा ना पूछते हुए सीधा बोला- आप लगटी नहीं हो शादीशुदा… मैंने भी आपको सिंगल ही समझा था. मगर कुल मिलाकर वो खुश थी, उसके चेहरे पे एक अलग ही मुस्कान नज़र आ रही थी।दोस्तो, उधर मोना को अपनी किस्मत चमकती नज़र आ रही थी. अभी ये फुल जोश में है, लौड़ा घुसा देना चाहिए। बस यही सोच कर उसने उंगली बाहर निकाल ली और लंड पर अच्छे से थूक लगा कर उसको चुत के छेद पर सैट कर दिया।पूजा- आह जल्दी करो ना.

हॉस्पिटल पहुँच कर ओपीडी में देखा कि एक आंटी जिनकी उम्र तक़रीबन 40 साल होगी. उसका मुंह चूम कर मैंने कहा- तुम दोनों माँ बेटी को हार्दिक बधाईयाँ…. वो फूली हुई थी तो वो बोले- तुम्हारी चूत आज कुछ अलग सी लग रही है?तो मैं एकदम से डर गई कि अब क्या बोलूँ? तभी मैंने कहा- चुदने के लिये तैयार है, तुम बस अपना लंड निकाल कर डाल दो!वो बोले- नहीं, पहले मैं चाट कर रस पिऊंगा फिर डालूँगा!मैं अब कुछ बोल ही नहीं पाई कि क्या करें, बस जो होना है वो होगा.

हमारा प्लान यही था कि आज हम चारू को इतना तड़पायें कि उन्हें भी पता चले कि उनकी बीवी के साथ उनकी चुदाई देख कर कोमल अकेले में कितना तड़पी है।इस प्लान के तहत मैंने कोमल की लाल रंग की ब्रा का हुक खोला और ब्रा के साथ ही उसके मम्मों को दबाने सहलाने लगी, फिर धीरे से ब्रा को शरीर से अलग किया और उसके निप्पल को ऐंठने लगी. उसने काले रंग की वायर्ड ब्रा पहनी हुई थी जो उसके मम्मों की शेप को और अच्छा और उभार रही थी. पहले उसको किस किया, फिर सुपारे को थोड़ा मुँह में लेके चूसने लगी। एक मिनट चूसने के बाद उसने वापस लंड अन्दर कर दिया और हँसती हुई नीचे भाग गई।संजय- उफ़फ्फ़ साली इत्ती सी है मगर चुदवाने को बेताब है। इसका भी जल्दी कुछ करना होगा.

वैसे टैंकर का पानी कोई नहीं पीता, वो पानी सिर्फ नहाने धोने के काम आता है. सुल्लू रानी ने एक ज़ोर की झुरझुरी ली और ढेर सा चूतरस मेरे मुंह में आ गया.

!हम दोनों हँसने लगे।आंटी ने कहा- तो है क्या केले जैसा टेस्ट?संदीप ने कहा- हाँ मीठा तो है.

’आगे से राहुल राहुल के अधखुले कच्छे से उसका लौड़ा माँ के मुँह से निकल गया तो माँ ने राहुल का लंड हाथ में ले लिया। पवन अंकल झटके मारते रहे ओर माँ ‘म्मा.

अब आगे:कुछ देर बाद मैंने भी लंड बाहर निकाल लिया और नताशा ने आराम करने कि गर्ज से अपने पैर थोड़ा फैला दिए. रात में करीब बारह बजे का समय था, हमें कोई मिल भी नहीं रहा था कि रास्ता पूछ लें! हम बस चले जा रहे थे!चलते चलते मुझे कुछ अजीब सा लग रहा था, शायद शादी का खाना कुछ ठीक नहीं था. चुत का छेद भी मुझे साफ़ दिख रहा था।अब उन्होंने अपनी चुत में से केला निकाला, उसमें थोड़ा सा थूक लगाया.

पर टाइम और जगह नहीं मिली।मैंने दीदी के मुँह से चुदाई की बात सुनकर अपना लंड सहलाया।दीदी ने मुझे लंड सहलाते हुए देखा और मुस्कुरा कर दूध उठा कर दिखाते हुए कहा- भाई मेरा भी चुदाई का मन कर रहा है. देख तू बुरा मत माँन, तूने जिद की इसलिए कहा!दीपा- नहीं रे… अगर मैं एक बात कहूँ तो हम दोनों अपनी इच्छा पूरी कर सकती हैं. मैंने उसे पहली बार देखा, उसने टाईट स्लीवलेस टीशर्ट और काली जींस पहनी थी। टी शर्ट में से उसकी काली ब्रा की पट्टी बाहर दिख रही थी.

ये सब मुझे पता है।टीना- ओह रियली तो ज़रा एक्सप्लनेशन दोगी?सुमन- वो जब लड़का और लड़की शादी के बाद एक साथ सोते है और चिपकते हैं उसको सेक्स कहते हैं।टीना- हा हा हा हा हा तू तो हा हा हा कसम से दुनिया का आठवाँ अजूबा है।सुमन- क्या हुआ दीदी.

कभी सोचा है?मेरे अन्दर अचानक से लहर सी दौड़ उठी और दिल की धड़कनें तेज़ होने लगीं। मुझे समझ में नहीं आया कि क्या ज़वाब दूँ।मैं चुप रहा तो रमीज़ ने फिर पूछा- देखेगा कि वो लंबी सी चीज़ कैसी है?मैं- हाँ, क्यों नहीं. मैंने अलमारी से मोमबत्ती निकाली और जला कर जहाँ सुन्दर खाना खाने बैठा था, वहाँ नीचे लगाने के लिए झुकी. पर बोला- एक शर्त है, वो ही पहने रहना होगा जो अभी पहने हो…निष्ठा बोली- धत्त…क्योंकि वो तो शार्ट नाइटी में थी.

पर हम नॉर्मल दोस्त बन कर रह रहे हैं।आपको मेरी ये चुदाई की कहानी कैसी लगी. [emailprotected]मेरी सेक्सी कहानी : जिस्म की वासना-2रवि स्मार्ट की सभी कहानियाँ. राजू ने लंड को मेरी पत्नी के मुंह में ठेल कर धीरे-2 चोदना चालू किया.

हमारे एग्जाम चल रहे थे और किरण के परिवार की रिश्तेदारी में शादी थी, अब वो तो शादी में नहीं जा सकती थी इसलिए उसके पापा ने मेरे पापा से बोला कि उसको कुछ दिनों के लिए आपके पास रखें.

क्योंकि मैं परीक्षित का लंड चूस रही थी और रानी चिंटू का लंड चूस रही थी तो 10 मिनट बाद हम दोनों ने जगह बदली, दोनों बीच बीच में हम दोनों लंड को बदलकर 3-4 बार मुँह में ले लेती और रानी और मैं भी किस करने लगती. प्लीज मेरी चूत में ही सारा माल छोड़ दो, पर मुझे सुबह एक आईपिल लाकर दे देना।मैंने उसकी बात मानी और एक मोटी धार मेरे लंड से निकली, जिससे सोनम की चूत भर गई। हम लोग काफ़ी देर तक ऐसे ही नंगे एक-दूसरे के ऊपर पड़े रहे।दोस्तो ये कहानी मेरी खुद की आप बीती है.

बीएफ हिंदी बुर की चुदाई वैसे भी, उसका सूट मैं पहले ही फाड़ चुका था और उसको वापस जाने के लिए नए कपड़ों की जरूरत थी. इन तीनों से चुदाई करवाती हैं। ज़्यादातर गाँव का वो भगत ही मेरी माँ की चुदाई करता है। मुझे थोड़ा शक हुआ तो मैंने थोड़ा माँ पर नजर रखी.

बीएफ हिंदी बुर की चुदाई ’ की आवाज निकल गई। फिर मैंने सोनू भाभी को नीचे खड़ा किया और अपनी शर्ट को उतार दिया। फिर सोनू भाभी की कुर्ती को भी उतार दिया। सोनू भाभी की कुर्ती उतरते ही उनकी ब्लैक ब्रा में बड़े और मोटे व एकदम गोल मम्मे दिखने लगे। सच में. तुझे तो मेरे दोस्तों से मिलवाना पड़ेगा, तेरी जैसी गांडू बहुत कम हैं और ऐसी गांड को लंड हमेशा ढूँढते ही रहते हैं।उन्होंने मेरे से काम के पैसे भी नहीं लिए और चल दिए।दोस्तो, यह थी मेरी तीसरे अनुभव की गांड चुदाई की गे सेक्स स्टोरी।आगे आपसे शेयर करने को और भी बहुत सारे बातें हैं। आपको यह सच्ची घटना कैसी लगी। मुझे मेल कीजिए।[emailprotected].

उसकी पैंटी इतनी गीली थी जैसे अभी पानी में डूब कर निकली हो और उसके रसों की मादक खुशबू मुझे बहुत बेचैन कर रही थी.

ब्लू वीडियो बताओ

भाभी- ओ जान… मुझे किस करो ना!मैं- मैं आपको किस कर रहा हूँ, मेरे होंठ अपने होंठों पे महसूस करो. जिससे मुझे बहुत अच्छा लग रहा था।मैंने उससे कहा- तू मुझे रोज ऐसे प्यार किया कर. उसके बदन में एकदम से हलचल सी मच गई- हाय… राजे… हाय… अब और न तड़पाओ…उसने मुंह भींच के बड़ी मुश्किल से आवाज़ निकाली और फिर एक गहरी सीत्कार भरी.

उसके बाद नीचे वाले लिप को किस किया।किस क्या कर रहा था मैं तो लगभग काट ही रहा था। भाभी को किस करते हुए कब मेरे हाथ उनके मम्मों पर आ गया, मुझे पता ही नहीं चला।मेरे होंठ उनके होंठों पर थे. बहुत देर चुदाई चली और रीना रानी उसके मुंह पर चढ़ बैठी और चूत चुसवा के अपनी लंडखोर माँ को अपना चूत रस पिलाती रही. मैंने कहा- हाँ तो!वो बोली- तुम मेरे साथ वो सब करोगे?मैंने थोड़ा नाटक किया- नहीं, मैं तुम्हारे साथ ऐसा कुछ नही करूँगा।वो बोली- मैं तुम्हरी मम्मी को बता दूँगी।मैं मन ही मन खुश हुआ, सोचा ‘चलो काम खुद ही बन गया।’मैंने उसे उठाया और रूम में ले गया और उसके ब्लाऊज को खोल डाला.

राजा तू बहुत सितम करता है।मेरी हंसी निकल गई।फिर उसने कहा- देख ना राजा.

जब तक हम इस होटल में हैं, तुम लोग मुझे तैरना सिखा दो।रोहन मेरे पीछे आ गया और वह मुझसे चिपक कर खड़ा हो गया. मेरे बॉस दुकान के मालिक मुझे छोटू बुलाते थे, उनकी उम्र करीब 36 या 37 साल थी. बड़े बड़े गोल मम्मों पर छोटे छोटे सॉफ्ट से निप्पल!मैं उसकी फुद्दी भी मार रहा था और साथ में ही उसके मम्में चूसने लगा… मज़ा आ रहा था.

उसकी चूत की प्यास काफी सालों से अधूरी ही थी क्योंकि उसके पति विदेश में रहने की वजह से वो बस अपने मन में ही सेक्स की भावनाओं को लिए बैठी रहती थी. उसकी शादी के 3 साल पहले तक मैंने उससे घर के हर कोने में हर तरह से चुदाई की हुई थी. कुछ देर बाद हम सब 69 की पोजीशन में थे, हम दोनों लंड भी चूस रहीं थीं और दोनों की चूत को भी चटवा रही थीं.

जब मैंने उसका कुर्ता उतारा तो उसने मामूली सा विरोध किया जैसे मुझे अपना विरोध जता दिया हो. शादी से पहले कितनों से चूत मरवाई है?’मेरी बात पर वह मुदस्सर का लंड मुँह से निकालकर सिसक सिसक कर रोने लगी.

मुझे कुछ काम है।यह कह कर उसकी मम्मी साथ वाले मकान में चली गईं।मुझे कुछ शक हुआ. पांच सात मिनट तक बेड की हर स्प्रिंग को दहला कर उनका तूफान रुका और बिना किसी से कुछ कहे दोनों जोड़े अपने अपने पार्टनर के साथ चिपट कर सो गए. तो मैंने भी प्यासा भेड़िया बनकर उनको नीचे किया और मैं उनके ऊपर चढ़ गया। फिर जोर से उनके मम्मों के बीच में अपना मुँह घुसेड़ दिया और जोर से अपने दांतों से उनके होंठों को दबाने लगा।आंटी एकदम से जोश में आ गईं और अपना हाथ मेरे पीठ पर रगड़ने लगीं। उनके नाखून मुझे लग रहे थे.

नई चूत देखने और चोदने के ख्याल से ही मैं उत्तेजित हो रहा था और दिल में धुकधुकी भी मची थी.

तभी कुछ खारा टेस्ट वाला रस भी जोर से बाहर निकला, वो मूत रही थी और मैं पी रहा था, मेरा पूरा शरीर उसके मूत से भर गया और मैं हग रहा था और वो निढाल होकर मेरे शरीर पे आ गई. दो मिनट की ही होती हैं वो बेतहाशा उत्तेजना और फिर एक या दूसरा बंदा ढेर होता ही है. चिंता न कर मोना, शाम को दो घंटे चूसियो मेरी चूत का मधु!मेरे दिमाग में आखिरकार एक विचार आया कि क्यों न मैं जूसी को भावनात्मक ब्लैकमेल करूँ… शायद बात बन जाए.

!यह हिंदी सेक्सी स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!सच में आकाश मेरी चुत को बहुत मस्ती अच्छे से चोद रहा था. अजय ने अपने और साराह के कपड़े खींच कर उतार दिए और दोनों नंगे चिपट गए शावर के नीचे…अजय ने साराह के पूरे शरीर पर शावर जेल लगा दिया और अपने ऊपर भी लुढ़का लिया.

आप ही साथ नहीं दोगे तो मज़ा नहीं आएगा।मैंने कहा- बहुत कड़वी लगती है।तो उनमें से अजय बोला- बियर ला देता हूँ. जा रसोई से ले ले, मुझे सफ़ाई करनी है।सुमन- नहीं माँ आप ही लाकर दो ना प्लीज़ प्लीज़ प्लीज़. वहां मैंने फ्रीज में कैडबरी देखी तो मुझे शरारत करने का मन हुआ। मैं वो लेकर बाहर आ गया और आधी कैडबरी मैंने उसकी चूचों पर लगा कर चाटने लगा.

हिंदी में चूत लंड

अवी मेरे स्तन अभी भी चूस रहा था।मैंने उससे कहा- आज जितना मज़ा आया, कल भी उतना ही मज़ा आएगा.

और तुमने ही तो कहा था कि एक पड़ोसी ही दूसरे पड़ोसी के काम आता है।उनकी यह बात सुनकर मेरे दिमाग में कुछ हलचल हुई।मैंने कहा- क्या मतलब?तब भाभी ने बताया- मेरे पति शराबी हैं जिसके कारण मैं माँ नहीं बन पा रही हूँ। मेरे ससुराल वाले मुझे ताना मारते हैं। इसमें तुम मेरी मदद कर सकते हो।मैंने कहा- ये ग़लत है. जिस दिन चिंटू का बर्थडे था वो दिन भी सन्डे का था, हमने चिंटू को फोन किया और उससे पूछा कि हम दोनों उन्हें बर्थडे विश करना चाहती हैं हमें कहाँ मिलोगे?तो चिंटू ने कहा- आप दोनों कहीं मत जाइये, हम दोनों ही आपके घर आते हैं. ’इतना बताने के बाद वो चुप हुई और अपनी चूत के मुहाने को खोल दिया और बोली- देखो इसी के अन्दर लंड जाता है.

अब हमने विदेश में ही रहने का फैसला कर लिया है, सब जमीन जायदाद बेच कर… अगर तुम मेरी भलाई चाहते हो तो अब तुम मुझसे कभी संपर्क करने की कोशिश ना करना!उन्हें खुश देख कर मुझे बहुत अच्छा लगा और मिठाई खा कर उन्हें ना मिलने का वादा देकर निकल गया. शायद मेरे सोने के बाद उनमें से किसी के टॉयलेट जाने के कारण उनकी जगह आपस में बदल गई थी. आदिवासी सेक्सी पिक्चर दोऔर एक शादीशुदा स्त्री थी जो घूंघट में थी। वो पता नहीं बेटी थी या उनकी बहू थी। क्योंकि हम अन्जान थे उस गांव में तो हमने उनसे उनके परिवार के बारे में ज्यादा सवाल भी नहीं किए।खैर.

तेरी चुत का लावा बाहर आने को बेताब है और तू है कि उसको रोके हुए है। चल आज तुझे ठंडा कर देती हूँ।सुमन- दीदी आपसे एक बात पूछनी थी?टीना- हाँ पूछ एक क्यों. तो चलो आज सारी कमी दूर कर देता हूँ।इतना कहकर गोपाल ने मोना को गोद में उठा लिया और सामने के कमरे में ले जाकर बिस्तर पर लेटा दिया।गोपाल ने अंडरवियर को छोड़कर सारे कपड़े निकाल कर फेंक दिए और खुद बिस्तर पर मोना के ऊपर चढ़ गया।मोना तो जैसे कामवासना में जल रही थी.

मैंने जल्दी से उधर अपनी दो उंगलियां डाल दीं।तो आंटी सेक्स की मस्ती में कराह का थोड़ी सी हिलने लगीं और मेरे हाथ को धकेलने लगीं, तो मैंने और जोर से उंगली को अन्दर कर दिया।फिर थोड़ी देर बाद आंटी अपनी गांड हिलाने लगीं. जैसे-तैसे शाम हो गई और मौसा-मौसी दोनों आ गए।अब रात के 8 बज चुके थे और हम सब खाना खा रहे थे।तभी मौसा जी बोले- अभी… कल ज़रा बैंक आ जाना, मुझे एक कला्इंट के पैसे भेजने है, मैं तुम्हें एडरस बता दूंगा, तुम उसको पहुंचा देना।इधर शानवी की फट रही थी कि कहीं मैं कुछ बता ना दूं, पर मेरे मन में तो कुछ और ही था।पर वो सब भी इतना आसान नहीं था. कोई एक घंटा बाद काका जब वापस आए तो मोना करवट लिए नंगी ही सोई पड़ी थी।काका- हाय मोना रानी कितनी प्यारी है रे.

यह तो सब करते हैं।वो सॉरी बोलने लगा।मैंने कहा- ब्रा में तुझे मुठ मारने में इतना मज़ा आया, अगर रियल में मेरे स्तन देखेगा तो क्या होगा तेरा?ये कहते हुए मैंने उसका लंड पकड़ लिया. मुझे बहुत मजा आने लगा, मैंने राज से कहा- राज और तेज़ और तेज़ मेरी चूत का रस निकलने वाला है. लेकिन जल्दी जल्दी करना, मैं बस झड़ने के करीब ही हूँ!’मैंने उसे छोड़ दिया और बिस्तर पर ही औंधा लिटा के उसके दोनों पैर बेड के किनारे लम्बाई दायें बाएं फैला दिये इस तरह वो उल्टी T के आकार में हो गई, उसके पेट के आगे का हिस्सा बिस्तर पर था और दोनों पैर पलंग की पाटी पर दायें बाएं फैले थे, उसकी गांड अच्छे से उभर आई थी और चूत का छेद भी एक रुपये के सिक्के के बराबर खुला हुआ दिख रहा था.

आते टाइम उस ने मुझे गिफ्ट दिया एक घड़ी और बोली- अगले महीने एक बार और आ जाना यार! ऐसी चुदाई के बाद किसी से नहीं चुदवाना चाहती.

कामुकता की आग पर प्यार की बारिश-1बारिश के कारण मुझे स्कूल के सिक्योरिटी गार्ड के घर में रुकना पड़ा. बदन टटोलते टटोलते कब मैंने उसका वन पीस उतार कर फेंक दिया, मुझे भी नहीं पता और वो मेरी टी शर्ट उतार चुकी थी।मैंने उसे अब पीछे से पकड़ा और गर्दन पर खूब चूमने लगा कभी गर्दन कभी कान कभी पीठ और दोनों हाथों से उसके वो खूबसूरत बूब्स दबा रहा था.

भैया-भाभी और उनका 9 साल का बेटा मुंबई में रहते हैं। सोना एक गोरी 5. मैं कुछ नहीं करूँगा बस उंगली तक ही रहेगा।लेकिन मैं कहां हार मानने वाला था तो मैंने अपने दोनों हाथों की स्पीड तेज कर दी और वो बहुत ज्यादा गर्म हो गई। मैंने उसको किस करके इतना गर्म कर दिया था कि अब वो मेरा लंड खाकर ही मानने वाली थी।तभी मेरे दोस्त का कॉल आया और बोला- किसी सेफ चीज की जरूरत हो तो अलमारी में है।तो मैंने जाकर देखा. फिर मैंने रानी की चोटी अपने हाथ में लपेट के खींच ली जिससे उसका मुंह ऊपर उठ गया और पूरी बेरहमी से चोदने लगा.

रयान ने मुस्कुरा कर उसके दोनों हाथ पकड़ कर थैंक्स कहा तो ऋषिका बोली- फटाफट नहा आओ, फिर खाना खायेंगे, बड़ी जोर से भूख लगी है. और मेरी तरफ पीठ करके मेरे लंड पर झुक गई…समझे आप? 69 की दशा में थे हम…मेरे हाथ उसकी पीठ को सहलाने लगे बीच बीच में चुची को भी मसल देता. तो इसकी नसें अब ढीली पड़ गईं। अब ये जल्दी पानी फेंक देता है और खड़ा भी देर से होता है।राजू की बात सुनकर मोना को बड़ा गुस्सा आया वो तो कामवासना की आग में जल रही थी और ये ऐसी बातें कर रहा था। उसने राजू को जोर से धक्का दिया और चिल्ला कर बोली- कमीने नामर्द कहीं के.

बीएफ हिंदी बुर की चुदाई जूसी ने राजे को बेंच पर लेटने को बोला और खुद उसके लंड पर चूत टिका के बैठ गई तो पूरा का पूरा लंड चूत में समा गया. बस एक दो दिन की तकलीफ़ है, फिर तो ज़्यादातर मेहमान चले ही जाएंगे।मोना- वो चाचा जी.

देसी भाभी सेक्सी मूवी

अब मेरा एक हाथ भाभी की गोरी और मादक गांड को मसलते हुए मजा ले रहा था. ये सब सोचते हुए मैं मन ही मन खुश हो रहा था और अब इंतज़ार कर रहा था कि कब ये सफर खत्म हो और मैं जाकर रवि को अपने दिल की बात बता दूँ. आज मौका है सोचो 5 लंड एक साथ तुम चूस रही हो सोचो कितना मज़ा आएगा।फ्लॉरा की वासना इतनी बढ़ गई थी कि उसे होश भी नहीं रहा और सबसे बड़ी बात लंड चूसने की.

राधा का बाँध टूट गया था मगर काका का स्टेमिना तो घोड़े जैसा था, वो कहाँ अभी हारने वाले थे। वो तो बस दे दनादन उसको चोदे जा रहे थे। राधा की चुत का पानी निकल जाने के बाद वो निढाल हो गई और उसने शरीर को ढीला छोड़ दिया। ये देख कर काका उसके चूचे चूसने लगे. साराह समझ गई कि अब अगर अंदर से रूबी और विवेक बाहर नहीं आये तो इधर तो अजय उसके कपड़े उतार देगा और अंदर विवेक रूबी को चोदेगा. सविता भाभी कार्टून सेक्सी व्हिडिओजूसी ने चाट लिया और होंठ पर जीभ फिराई, बोली- रेखा हरामज़ादी, कैसा रस है तेरी चूत का.

थोड़ा काम बचा था, वो पूरा करने चली गई। वापस जाते वक़्त मैंने उसे 500 रूपए दिए और दरवाजा लगाते वक़्त उसकी साड़ी उठाकर उसके टाँगों के बीच मुँह डाल कर चूत भी चख ली।तब वो बोली- इतनी भी ठरक ठीक नहीं है.

तेरे भाई ने घर सर पर उठा लिया और बेटी तू इतनी रात तक क्यों बाहर रहती है, मुझे तेरी फ़िक्र रहती है।टीना- आप बिना वजह मेरी फ़िक्र करती हैं। मैंने कहा ना मैं आपकी बेटी नहीं बेटा हूँ. अंकल का लंड आधा अन्दर चला गया था। इधर अंकल ने आंटी की दोनों चूचियां दबा रखी थीं, साथ ही मुँह बंद कर रखा था। उसके बाद करीब 5-7 धक्कों में ही आंटी की चुत में पूरा लंड अन्दर कर दिया था।अब तो आंटी मस्त होकर चुत चुदाई करवा रही थीं.

मैंने कहा- क्यों न कल हम एक गेम खेलें और उसकी मदद से सबको मिल कर चुदाई के प्लान में शामिल करें?दीपा- कैसा खेल?मैंने कहा- तुम बस रेशमा और नीलिमा को मेरे हाँ में हाँ मिलाने को कहो कल सुबह खाना खाते वक़्त!दीपा- ठीक है मेरे चोदू राजा, तेरा तो सभी औरतों को चोदने का इरादा दिख रहा है. मेरी यह सेक्सी कहानी है मेरी ऑनलाइन दोस्त सुनीता की! सुनीता मेरी अन्तर्वासना सेक्सी कहानी की फैन है, और अक्सर मुझसे फ़ोन पे और चैट पे सेक्स करती है, मेरी हर कहानी पढ़ने के बाद मुझे फ़ोन करके उसकी तारीफ़ जरूर करती है. मुझसे लिपटी जा रही थी और मैं भीउसे अपनी बांहों में समा लेना चाहता था.

यह हिंदी सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!मैंने उसकी चूत में एक उंगली डाली और हिलाने लगा.

तो वो बोली- आराम से डालो!मैंने फिर से धक्के मारना शुरू किया और एक हाथ से उसकी चुची दबाने लगा, एक चुची मुँह में ले ली. मैंने अपनी गांड को हाथ लगाया तो लगा जैसे किसी ने बाँस डाल कर फैला दिया है. तुम निराश मत होना। मेरा दावा है कि 4-5 दिन में तुम्हें कुछ ना कुछ ज़रूर मिलेगा। अगर ब्लैक ब्रा और पेंटी है तो तुम जल्दी जान सकती हो कि यूज्ड ब्रा-पेंटी में वीर्य लगा है कि नहीं। जिस दिन तुम्हें पता चले कि आज कुछ वीर्य जैसा ब्रा और पेंटी में लगा है तो समझ जाना कि तुम्हारा भाई भी तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहता है। उसके अगले दिन तुम वाइट कलर का रूमाल लेकर स्कूल में आओगी.

मारवाड़ी बाथरूम सेक्सी वीडियोदीपा के बाल एक हाथ में लिए उसे इस तरह चोद रहा था कि वो एक घोड़ागाड़ी है और उसकी डोर मेरे हाथ में है. और वो दोबारा कभी मुझे चोदने नहीं देगी।तो मैंने उसके पैर अपने कंधे पर लिए और किस करते-करते जोर का झटका दे मारा तो मेरा आधे से ज़्यादा लंड चुत में घुस गया और चुत की झिल्ली फट गई.

भाई बहन की चुदाई हिंदी बीएफ

मैं समझ गया था कि इसकी गर्मी शांत करना मेरे लिए सबसे ज्यादा जरूरी है वरना ये कुछ भी कर सकती थी. फिर ऋतु ने पूछा- तो क्या तुम अभी मेरे सामने हस्तमैथुन करोगे?मैंने ‘हाँ’ कह दिया तो ऋतु ने मुस्कुराते हुए कहा- तो ठीक है… फिर शुरू हो जाओ।आगे की कहानी अगले भाग में। अपने सुझाव मुझे मेल अवश्य कीजिये।[emailprotected]Instagram/ass_sin_cestभाई बहन की चुदाई के सफर की शुरुआत-2. और कर भी क्या सकते हैं।हमारे आजू-बाजू की सीटों तक ही हमारी इस नोंकझोंक का पता चला। सब दो मिनट खामोश रहे फिर अपने-अपने में मस्त हो गये।रोहन की आंखों में क्रोध की ज्वाला स्पष्ट नजर आई। पर मैंने जैसे ही उसे प्यार से ह्ह्हहैल्ल्लो कहा.

देती भी क्यूँ ना मुझे अपनी जान से ज्यदा जो प्यार करती थी और धीरे-धीरे हम चूमते हुए होंठों पर आ गए. जब दोनों पैर ज़मीन पर पुख्ता जमे हों तो धक्के ऐसे तगड़े लगते हैं जिसका कुछ हिसाब नहीं. मैंने फिर पूछा तो वो बोलीं- सॉरी मैंने तुमको इस बारे में नहीं बताया.

वो भी जोर-जोर से और वो बीच में आंटी को चपत भी मारता जा रहा था। साथ ही आंटी को संदीप गाली भी दे देता था।यह देखकर मुझे भी मजा आ रहा था।दस मिनट बाद संदीप ने आंटी के पेट पर अपना सारा माल निकाला और आंटी के बाजू में गिर पड़ा. ’‘इस बार मैं तुम्हें डॉगी स्टाइल में चोदूँगा।’वो बोली- कैसे?मैंने कहा- अरे पागल. उसके गले में पहनी हुई पतली सी सोने की चेन उसके मम्मों के बीच जाकर छुप गई थी.

काफी देर तक इसी प्रकार चुदाई चलती रही, फिर नताशा को सांस देने के लिए हम रुके, और मैंने मौके का फायदा उठाते हुए राजू के लंड द्वारा भक्काड़ा हो चुकी गांड को कब्जाते हुए उसमें लंड घुसेड़ दिया. बहुत मस्त तरीके से लंड चूस रही थी, वो अपनी मम्मी से भी मस्त लंड चूस रही थी।फिर वो बोली- अंकल, अब आ जाओ, चोद दो, अब रुका नहीं जाता!मैंने कहा- लेट जाओ… जैसे तुम्हारी मम्मी को चोदा था, वैसे ही चोदूँगा!मैं उसको लिटा के उसके ऊपर चढ़ गया, पहले सेट करके झटका मार लंड आधा गया, उसको दर्द हो रहा था, उसने बोला- लंड बड़ा ज्यादा है आपका… इतना बड़ा नहीं लिया मैंने कभी!दूसरे झटके में पूरा लंड अन्दर था.

जो अपने पति से संतुष्ट नहीं थी। उसका पति हमेशा अपने काम में व्यस्त रहता था। दुशाली ने कुछ घूमा भी नहीं था.

काफी देर तक ऐसा ही चलता रहा, अब उसकी सिसकी तेज आवाज में बदलने लगी- रवीश मेरा निकलने वाला है!मुझे भी लगा मेरा कुछ फंसा सा बाहर निकलना चाहता है. फुल इंजॉय सेक्सी वीडियोमैंने अपने हिसाब से धक्कों की गति जब चाहा कम की और जब चाहा तेज़ कर दी. वीडियो सेक्सी चुदाई वाली पिक्चरअब धीरे धीरे मैं लंड आगे-पीछे करने लगा, कुछ देर में काजल भी गांड उठा-उठा कर साथ देने लगी. पर मेरा ध्यान उसकी चूत चाटने में ही था, तभी वो हटने लगी और बोलने लगी- प्लीज अब डाल भी दो!मैंने उससे थोड़ी देर और उसकी चूत चाटने के लिये कहा पर उसने मना कर दिया लेकिन थोड़ी देर उसे मनाने के बाद उसने हाँ कह दिया और मैं फिर से उसकी चूत को चाटने लगा, वो भी मेरे लंड को फिर से चूसने लगी.

तो उस वक्त थोड़ा अँधेरा होने लगा था।अंजलि भी थोड़ी देर बाद मुझे चिपक कर बैठ गई तो मैं थोड़ा अजीब सा फील कर रहा था। आंटी ने जो ड्रेस अंजलि के लिए लिया था उसने वही ड्रेस पहना हुआ था। अंजलि क्या माल लग रही थी उस ड्रेस में.

आओ मेरे पास आओ और आराम से बताओ मेरा और क्या पसंद है तुम्हें।राजू समझ गया कि आज कामदेव उससे बहुत खुश हैं जो ऐसी कामदेवी को उससे मिला दिया। अब उसके अन्दर की झिझक ख़त्म हो गई थी. मगर इस बार उसने मुझे हटाने की कोशिश नहीं की बल्कि खुद ही मेरे सिर को अपनी योनि पर दबा लिया।मैंने भी धीरे धीरे अपनी जुबान को योनिद्वार की संकरी सी गुफा में घिसना शुरु कर दिया. मैंने आदित्य से पूछा- क्या तुम शादीशुदा हो?आदित्य ने कहा- हाँ… मेरी शादी अभी एक साल पहले ही हुई है।टैबलेट खाने के बाद मेरा सर और भारी होने लगा… मैंने आपना गाउन उठाया और बाथरूम जाते हुए आदित्य से कहा- दो मिनट रुको… मैं अभी चेंज करके आती हूँ.

मैं बोला- आप शादीशुदा हो?वो बोली- हाँ… पर अब हम साथ नहीं रहते, शादी के कुछ दिन के बाद ही हमारा तलाक़ हो गया था!मैंने इस बारे में ज़्यादा ना पूछते हुए सीधा बोला- आप लगटी नहीं हो शादीशुदा… मैंने भी आपको सिंगल ही समझा था. मेरे जिस्म में सनसनाहट सी दौड़ने लगी, मेरी जांघे आपस में सिमट चुकी थी, इतना वो बता पाई थी कि उसका हाथ जो अभी तक मेरे लंड के सुपारे पर चल रहा था, अब मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में लेकर अपनी चूत पर चलाने लगी. राजे ने अब पूरी ताक़त से धक्के मारने शुरू कर दिए, कालचक्र थम गया, मेरी सुध बुध गुम हो गई, मुझे सिर्फ कुछ आवाज़ें सुनाई दे रही थीं, यह भी नहीं मालूम कि वो आवाज़ें मैं कानों में सुन रही थी या दिल में या शायद दोनों में… राजे के मुंह से निकलती हुई हैं हैं हैं और गालियाँ, मेरे मुंह की सीत्कारें, सिसकियाँ और आहें, जूसी की किलकारियाँ.

बफ पिक्चर देखना है

मौसी ने कहा- हिमांशु तू इतनी रात में बाहर से कहाँ से आ रहा है…अब मौसी को क्या जवाब देता… मैंने कहा- कुछ नहीं मौसी, मैं ऐसे ही पड़ोस के लड़के के साथ खेतों की तरफ टहलने निकल गया था. मैंने उसके गाल पर हाथ फेर दिया तो वो शर्मा कर भाग गई।इसके बाद जब मैं बेड पर टीवी देख रहा होता था तो वो भी मेरे पीछे बेड पर आकर लेट जाती. अब तक की इस सेक्सी स्टोरी में आपने पढ़ा कि मोना ने पूरी रात सुधीर से अपनी चुदाई करवाई और दूसरी तरफ सुमन के पापा और मम्मी में उसके रवैये को लेकर बात चल रही थी।अब आगे.

चूत के इतने दीवाने हो गये कि कविता को ही भूल गये?तब रोहन ने मेरे चेहरे को थाम लिया- हाँ जान, मैं चूत मिलने से खुश जरूर हूँ पर इतना भी नहीं कि अपनी कविता को भूल जाऊं, दुनिया की कोई भी खुशी तुमसे बढ़ कर नहीं हो सकती।मैंने रोहन की आँखों में आँखें डाली और कहा- इतना प्यार करते हो मुझसे?तो उसने कहा- शायद इससे भी ज्यादा.

ऐसा तेज़ी से करने के कारण मेरा लंड पानी छोड़ने को तैयार होने लगा।मैं स्पीड बढ़ाता गया और वो गांड उचकाते हुए ‘अयाया अया.

उम्र 45 की अच्छी कद-काठी, मगर साधारण से आदमी हैं बड़ी सादगी में रहते हैं। इनके कुछ उसूल हैं, जिसकी वजह से घर के बाकी लोग भी ऐसे ही रहते हैं। इनकी खुद की कपड़ों की एक बड़ी सी दुकान है।हेमा- ये लो जी आपकी चाय, 2 मिनट क्या देर हुई. बोले- हाँ भाभी, हमने सुना है कि आप डांस बहुत अच्छा करती हो, एक बार आज हमें भी दिखाओ ना।मेरे पति खड़े हो गए और मुझे किस करने लगे और कहा- डांस नहीं तो रोमांस और चुदाई होगी. सेक्सी प्रणाममैंने कहा- मुझे कोई ऐतराज नहीं… पर मैं सिर्फ रेशमा को नहीं, नीलिमा को भी चोदना चाहता हूँ.

उसका रूप और जिस्म इतना कामुक था क्या बताऊँ और यौवन तो एकदम चरम पे था. अब आगे:अम्मा ने वापिस आते ही माला के साथ अलग रहने के लिए घर का प्रबंध किया और उसको लेकर चली गई तथा उसके बाद अगले आठ माह तक माला कभी भी मेरे घर नहीं आई. और उसने कहा- कौन है वहां खिड़की के पास?इतने में मेरा पानी निकल गया था। मैंने वैसे ही अपने अंडरवियर ऊपर किया और फिर पजामा ऊपर करके दूसरी तरफ से भाग कर उसके रूम पर नॉक किया।मैंने तेज आवाज में पूछा- क्या हुआ.

मैंने कभी सोचा भी नहीं था कि किसी सुनसान रास्ते पर मेरी चुदाई होगी. यह हिंदी चुदाई की सेक्सी कहानी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!तभी मॉम ने फोन कर दिया.

ये आप क्या कर रहे हो कोई देख लेगा तो आफ़त आ जाएगी।काका- मेरी रानी तूने रात को मुझे अपना दीवाना बना लिया है। देख अभी भी लंड कैसे अकड़ा हुआ है, अब तो रात को तेरी गांड में जाकर ही इसको चैन मिलेगा।मोना- आप बड़े बेसब्र हो.

चल उठ जा मॉम की तबीयत ठीक नहीं है। मैं जल्दी से तेरे लिए नाश्ता बना देती हूँ।मॉंटी को उठा कर टीना किचन में गई, तो उसकी माँ वहीं नाश्ता बना रही थी।गायत्री शर्मा उमर करीब 45 पढ़ी लिखी औरत हैं। मगर पति की मौत के बाद उनका बिजनेस संभालना. तो वो मुझसे बार-बार पूछतीं कि फोटो में क्या पसंद आया।मगर मैं खुल कर कहने से डरता था। बस ‘बढ़िया है. वैसे तो हम दोनों को फोरप्ले और सेक्स करते अब तक बहुर देर हो चुकी थी, मानसी का शरीर अब अकड़ने लगा था और उसके धक्के भी तेज़ हो गए थे.

सेक्सी लंड वाली वीडियो थोड़ी देर बाद अजय भी मेरी चुत में ही झड़ गया!मुझे तो चुदाई में खूब मजा आया और मेरे पति को भी मेरे पति ने भी मुझे उसी सुनसान सड़क पर चोदा और फिर अजय और उसका दोस्त गाड़ी में आगे चल दिये और हम दोनों पीछे…जब दिल्ली पहुँच गये तो हम अजय से बिना मिले पीछे से ही अपने घर की तरफ चल दिये. अब मैंने अपनी कमीज़, पेंट और बनियान उतार दिए और मेरे शरीर पे सिर्फ अंडरवीयर ही बाकी था.

वो उठकर खुद अपनी ब्रा और पेन्टी उतार दी और मेरे मुँह में बुर चिपका दी. शाम को जब निष्ठा घर वापिस आई तो कुशल ने पूछ लिया- कोई काम हो तो बता दीजियेगा. अजीब सी खुशी थी उसकी आँखों में… उसने मेरी आँखों में देखा और मुझे आँख मारी.

हिंदी सेक्सी व्हिडीओ ब्लू फिल्म

फिर उसने मुझसे कहा- कुत्ते की तरह खड़ा हो जा!मैं कुत्ता बन गया, उसने अपना लंड मेरी गांड के छेद पर लगाया और एक ज़ोर का झटका दे दिया, जिससे उसका आधा लंड मेरी गांड में घुस गया।मेरी बहुत ज़ोर से चीख निकली. अब मैं आंटी के बारे और भी कॉन्फिडेंट हो गया और उनके बारे मैं सोचकर अपना लंड हिलाने लगा. मैं 20 साल का गबरू जवान लौंडा हूँ। हमारे घर में एक 32 साल की हाउसमेड नाजिमा है, जो बहुत ही ज़्यादा सेक्सी है। हालांकि वो कामवाली बिल्कुल नहीं लगती, पर हालातों से मजबूर है इसलिए काम करती है।मैंने उसके साथ पहली बार की चुदाई की कहानी सुना रहा हूँ।मैं अपने स्टडीरूम में स्टडी कर रहा था, और नाजिमा मेरे कमरे में आई। उसका आज पहला दिन था.

वासना की देवी ने उत्साह के साथ गधे जैसे लंड को अपनी गद्देदार जीभ से चूसना-चाटना शुरू कर दिया. एक दिन उसने मुझे बताया कि छुट्टियों में वो हमारे घर आ रही है, मैं खुश हो गया.

मैंने मौका देख कर आंटी के पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और आंटी को पूरा नंगी कर दिया.

हम बैठे क्योंकि मैं पहली बार डेट कर रहा था, मैं उसके बगल में बैठा था. मेरे शौहर ने कहा- एक बार में इतनी बड़ी रंडी बन गई हो?मैंने कहा- अब देखना मेरा रंडीपना…फिर हम घर चले आये. अजय ने रूबी की दोनों टाँगें ऊपर उठा कर चुदाई शुरू की, तभी विला की घंटी बज गई.

मोना ने राजू से लेकर काका तक की पूरी कहानी मीना को बता दी, जिसे सुनकर मीना की चुत गीली हो गई. जिससे उनके स्तन दिखाई दिए।ये देखते ही मैंने दोस्त को बोला- तू फोन रख. जब मैं वहाँ पहुंचा तो देखा, 15 मंज़िली इमारत थी, पूरी बिल्डिंग में फ्लैट ही फ्लैट थे.

जो जो उसके जवाब हो सकते थे उन सबकी काट के भी डायलॉग सोच लिए!शुक्रवार को जब मैं राजे के घर रीना के साथ गई तो समय मिलते ही मैंने अपना इरादा राजे को बता दिया.

बीएफ हिंदी बुर की चुदाई: मैंने उसे गोद में उठा कर बिस्तर पर पटका और उसकी टाँगों के बीच में आ गया. तभी आलोक बोला- चाची, मुझे थोड़ा दूध चाहिए!तो मैं उठ कर किचन की तरफ जाने लगी।आलोक भी मेरे पीछे-पीछे किचन में आ गया.

और जोर से चिल्ला कर कहा- पेलो दीदी, पूरा का पूरा अंदर डाल दो, सभी मर्दों के कर्मों की सजा आज इसी को देते हैं।मैं डर के मारे कांप गया, तब उन्होंने कहा. मैं मन ही मन सोचने लगा कि रेशमा मेरे लौडे पे बैठी है और कह रही है चोद मुझे… फाड़ मेरी चूत को!दीपा- अह्ह्ह ह्ह्ह्ह वासु, क्या हुआ, आज तेरा लंड काफी कड़क है? बड़ा मजा आ रहा है अह्ह्ह्ह!और वो कमर ऊपर नीचे करने लगी. ’ मैं सिसकारियां भर रही थी और दिनेश सर अपने लंड का सारा पानी मेरी चुत के अन्दर छोड़ कर मेरे ही ऊपर निढाल हो गए।दिनेश सर मेरे ऊपर पड़े-पड़े मुझे किस करने लगे। 2 घंटे में उन्होंने मुझे 3 बार चोदा।इसके बाद हम दोनों ने कपड़े पहन लिए थे। तभी बेल बजी और उनका सेक्रेटरी आकर बोला- मैडम सैट पर पहुँच गई हैं.

रयान ने ऋषिका को रुआंसी देख के अपने पास कर लिया तो ऋषिका भी उसकी छाती पर सर रख कर सुबुकने लगी.

हरियाणा में रहता हूँ। मुझे मेरी गर्लफ्रेंड फेसबुक पर मिली थी। कुछ दिन बातें करने के बाद मैंने उसे प्रपोज कर दिया और उसने थोड़ा सोचकर हाँ कर दी।इससे मैं बहुत खुश हुआ।मेरी गर्लफ्रेंड का फिगर 34-30-34 का है। मुझे हमेशा से अपनी गर्लफ्रेंड को चोदने का मन करता था। मेरी गर्लफ्रेंड को बारिश बहुत पसंद है। हम अभी तक एक बार भी नहीं मिले थे. इसीलिए मैं भी अपनी हवस के लिए तुमसे दोस्ती बनाना चला था, पर तुम्हारे बारे में जानकर मेरी हवस चली गई और तुमसे बात करने के बाद तो मुझे भी ये सब अच्छा नहीं लग रहा था।फिर सुनयना भाभी मेरे पास आकर मुझे गले लगा के और रोने लगीं। मैंने उन्हें चुप करवाया और मजाक में कहा- कोई देखेगा तो सोचेगा कि मैंने ही तुझको रुलाया है और इसी वजह से मुझे पब्लिक मारेगी।इस बात पर भाभी हंसने लगीं और उन्होंने कहा- तुम भी ना. देखते ही मैंने अपना मुँह उसकी मरमरी गुलाबी चुत पर लगा दिया।अपनी चुत पर मेरे होंठों का अहसास पाते ही वो तो मानो पागल हो गई और अपनी चिकनी चुत पे मेरा सिर दबाने लगी ‘आह उफ़ आह आह आह विक्की खा जाओ इसे.