वीडियो सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो

छवि स्रोत,छोटी छोटी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

भोजपुरी सेक्सी पंजाबी: वीडियो सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो, वो बोलीं- क्या बताऊँ… मेरे पति काम से आने के बाद खाना खा कर तुरंत सो जाते हैं और मुझे प्यार भी नहीं करते हैं.

सेक्सी लडकीया

मुझे तो हर धक्के में ऐसा ही लगता था कि अब वो झड़ी… बस अब ये आखरी… पर वो उछल उछल कर लंड अंदर ले रही थी. इंडिया का एक्स एक्स एक्सआंटी ने मुझे 2000 रूपए दिए और बोला- मेरी सहेली को भी जवान लंड और डर्टी सेक्स पसंद है.

मैंने उसी हालत में संसर्ग शुरू किया और इस डर से की मेरा शीघ्रपतन न हो जाए मैं आठ-दस धक्के मारने के बाद रुक जाता. देसी गाओं की चुदाईमेरी आज की कहानी उस वक्त की है जब मेरे दिल और दिमाग़ में वासना पूरी तरह से छाई हुई थी, नीलू की चूत चोदने के बाद मैं हर एक लड़की को हवस भरी निगाहों से देखने लगा था और उसको अपनी वासना के चंगुल में लाने की ताक में रहने लगा था.

कुछ ही पलों के बाद वो पूरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी।काका- आह.वीडियो सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो: साथ में फुल बियर का भी इंतजाम हो तभी मज़ा आएगा।संजय ने ‘हाँ’ कह दी, तो सबके सब खुश हो गए।दोस्तो, टेंशन मत लो, ये टीना सच में रंडी टाइप की है, ये संजय की गर्लफ्रेंड जरूर है.

मोना का नाम सुनकर नीतू को याद आया कि उन्होंने कहा था कि जैसे जीजू कहे वैसे ही करना… नहीं वो नाराज़ हो जाएँगे.उस वक़्त शाम का समय था, मैंने अपने लिए कुछ खाने को बनाया और खाकर अपनी पढ़ाई करने बैठ गई।करीब 11 बजे अशोक का फ़ोन आया, उसने मुझे सीधे फ़ोन उठाते ही कहा- बोल कब आ जाऊं तेरी चूत फाड़ने?मैं यह सुन कर हैरान थी.

आंटी बीएफ मूवी - वीडियो सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो

उसके बाद उनकी शादी के होने तक मैंने हर रात उनकी चुदाई की और शादी से पहले ही दीदी को चोद कर उन्हें सुहागरात का सुख दे दिया.ज्यादातर लोगों को गोवा के बारे में पता होगा, जिनको पता नहीं उनको बता देना चाहता हूँ.

रुचिका और सुलेखा ने एक साथ हमारे लौड़े पकड़े और सामने बैठ कर एक दूसरी से बदल-बदल कर लंड चूसने लगीं, कभी एक साथ और कभी बदल बदल कर, ऐसे उन दोनों ने हमारे लंड चूस-चूस कर हम दोनों की सिसकारियाँ निकाल दीं, जिससे हमारे जिस्म तड़पने लगे. वीडियो सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो मेरा हाथ अब पिंकी की छोटी सी योनि‌ पर था जो अभी तक प्रेमरस से भीगी हुई ही थी‌, पिंकी ने मेरे हाथ को अपनी योनि पर से हटाने की एक बार कोशिश तो की, मगर कामयाब नहीं हो‌ सकी‌।मैं अब उसकी कच्ची कुंवारी योनि को हथेली से सहला रहा था, मसल रहा था… मेरी उंगलियाँ भी योनि की दोनों फांकों के बीच योनिद्वार पर गोल गोल घूम रही थी तो कभी योनि की फांकों को सहला रही थी.

मानसी- ऐसा भी कुछ नहीं है जस्सी, तू तो ऐसे बात कर रहा है जैसे मैंने तुझे कितने ताने मारे हों.

वीडियो सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो?

जब वो मेरी आरती उतार रही थी तो मैंने नोट किया कि उसके हाथ पहले जैसे बेढंगे और बिना केयर किये हुऐ नहीं हैं. कुछ ही क्षणों में मेरे लिंग से वीर्य रस का इतना विसर्जन हुआ कि उससे माला की योनि पूरी भर गई तथा वह उमसे से रस बाहर निकल कर बहने लगा. इस तल पर तो तुम्हारे मम्मी-पापा और बुआ के कमरे है, उनमें से कोई भी जाग गया तो हम परेशानी में पड़ सकते हैं.

लंड घुसा के कुचल दो इस चूत को आज!’‘ठीक है गुड़िया… फिर से सोच लो, बाद में मुझे दोष मत देना!’‘ओफ्फो, सोच लिया है सब. काका का भारी भरकम शरीर अब राधा को बोझ लगने लगा था। उसने काका को हटने के लिए कहा और काका जब उठा फच्च की आवाज़ के साथ लंड चुत से बाहर निकल आया और साथ में खून और दोनों का मिला-जुला रस भी बाहर आ गया। नीचे बिछी चादर पे खून का धब्बा बन गया. वह थोड़ा सा पीछे की तरफ झुका और अपने बाएं हाथ को मेरी गर्दन पर लपेटते हुए मेरी गर्दन को आगे खींचते हुए अपनी जिप के बीच में ले जाकर मेरे होठों में अपना लंड फंसा दिया.

मैंने रोका तो मान गए लेकिन फिर दोबारा कुछ चढ़ी तो मेरी गांड में ही पेल दिया. अरे तेरे ये मुहाँसे मिट जायेंगे देख लेना और मज़ा ही ऐसा आयेगा कि तुझे अभी तक नहीं आया होगा!’मेरी बात सुनके वो चुप रह गई. कुछ देर के बाद माला ने अपने पेटीकोट को स्तनों के ऊपर बाँध कर और नीचे के शरीर को उसी से ढक कर बाहर निकली तब मैं दरवाज़े में ही खड़ा था.

नमस्कार दोस्तो, मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ और यहाँ पर अपनी चुदाई कहानी प्रस्तुत करने वाला आपका नया दोस्त हूँ।वैसे तो कई कहानी पढ़ने में लगती हैं कि झूठी हैं, पर मजा तो आता ही है।मैं अब अपना परिचय दे दूँ. रफीक- ठीक है, पर सबीना को बुरा तो नहीं लगेगा?मैं- यार, तुम जब घुसना जब सबीना चुदाई में डूबी हो.

अब मैंने चुदाई की स्पीड और बढ़ाई और कुछ देर बाद मैं उसकी गांड में ही झड़ गया.

ऋतु का तो बुरा हाल था, उसने अपने दोनों हाथों से मेरे बाल पकड़ लिए और खुद ही मेरे मुंह को ऊपर नीचे करके उसे नियंत्रित करने लगी.

’सविता के चूचे चूसते-चूसते अगले धक्के में मैंने पूरा लंड अन्दर चुत की जड़ तक पेल दिया. मैं इतना अधिक उत्तेजित हो गया था कि अपनी हथेलियाँ नताशा की चूत के ऊपर टिका कर जोर-2 से उसकी गांड में धक्के लगाने लगा. बस अब लंड डाल दे।मैं भी झट से उठा और उन पर लेट गया और लंड अन्दर डालने के लिए धक्के देने लगा। दो बार में लंड नहीं घुसा तो निशा भाभी ने हाथ से लंड पकड़ कर चुत पर लगाया और पेलने का इशारा किया।मैं तो जोश में था ही.

मैंने पूछा- चाची कैसा लग रहा है? दर्द में आराम है या नहीं?चाची ने मेरे आँखों में देखा और बोली- बहुत आराम है… तुम इसी तरह दबाते रहो!मैं चूची को दबाने लगा, मुझे लगा कि चाची मुझसे चुदना चाहती हैं… मैं मन ही मन खुश हुआ कि आज पहली बार किसी को चोदने का मौका मिलेगा. अब उसने सुपारे को बुर पर सैट किया थोड़ा सा बुर में फँसा कर वो पूजा पर चढ़ गया और उसके होंठों को कस के अपने होंठों में दबा दिया. गुलशन- चुप साली आह… ले उहह उहह बदजात तू मेरी रखैल है… उहह उहह ले मुझे बाप बोलकर आह… ले उहह तू बचेगी नहीं ले उह.

अब अनिता का दर्द कम हो गया और फिर से वो उत्तेजित हो गई… उसकी चुत में खुजली होने लगी.

हम 69 अवस्था में आ गए, चाची लंड चूसने में उस्ताद थीं, वो लंड ऐसे चूस रही थीं जैसे लंड को पी रही हों और इधर मैं भी जहाँ तक मुझे पता था वो ही कर रहा था. मुझे खींचकर वो बेड के पास तक ले गई और वहाँ बैठी पूजा के पास बैठ गई. उन सबको विदा करके जब हम घर के अंदर आये तब मम्मी पापा और बुआ अपने अपने कमरे में चले गए और चाची मुस्कराते हुए मेरे पास आई और धीरे से कहा- हम रात को बारह बजे के बाद तुम्हारे भंडार में जितना भी माल है वह सब निकलवाने आयेंगे.

फिर अचानक उनकी टांगें एकदम से अकड़ उठीं और वो अपनी चुत से रस छोड़ने लगीं. मैं लेट तो नहीं हुई ना!सबने फ्लॉरा को हाय कहा और संजय ने कहा कि वो बिल्कुल टाइम पे आई है।फ्लॉरा- वैसे आप ही सब यहाँ हो. करीब दो तीन मिनट तक वो यूं ही मेरे सिर को अपनी चूत पर जांघों से दबोचे रही फिर धीरे से पैर खोल दिए और चित लेट के गहरी गहरी साँसें लेने लगी.

मगर बुर की दोनों फांकें ऐसे चिपकी हुई थीं जैसे इन्हें चाकू से काटकर खोलना पड़ेगा.

हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त बन गए थे, वो शायद मुझे पसंद करने लगी थी पर उसको यह नहीं पता था कि मैं भी उसको पसंद करता हूं. मीना- वाउ यार तू तो बहुत बड़ी रंडी निकली, पहले जितनी शरीफ़ थी, अब उतनी ही बदमाश हो गई.

वीडियो सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो और उसने मुझे और ज़ोर से पकड़ लिया, मेरे लंड की स्पीड बहुत तेज़ हो चुकी थी और उसकी टांगों को उसके चेहरे तक मोड़ चुका था मैं!चूत चोदने के चक्कर में मैं यह भूल गया था कि उसे दर्द भी हो सकता है और मैंने उसकी चूत में ही अपना माल छोड़ दिया और कुछ ही पल में हम दोनों शांत हो गए. उनके होंठों को देखा तो लगा कि जैसे उसने पूरी रात सिर्फ मेरी बहन के होंठों को ही चूसा है.

वीडियो सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो तो कभी मुँह में भर के चूसने लगती।इसी दौरान मैं एक बार मैं उसके मुँह में झड़ गया. बस्सस… बहुत हो गया… मुझे घर जाना है…’ हल्के से पिंकी बुदबुदाई।‘नहीं मेरा मन कर रहा है और कस के इन उभारों को कस कस के…’ मैं बोला.

कुल मिलाकर जैसे आमतौर पर लड़कियाँ घर में सिंपल तरीके से रहती हैं उसी तरह से लगी वो मुझे…मेरे कहने का मतलब मुझसे मिलने की चाह में उसने कोई किसी तरह का बनाव सिंगार या मेकअप वगैरह नहीं किया था.

antarvasña

शरीर की बनावट में काफी चौड़ा और भरे हुए शरीर का था जैसे अक्सर जाट होते हैं. जब पूरा जवान होगा तब तो इसका लंड घोड़े जैसा हो जाएगा। पता नहीं किस लड़की के नसीब में ऐसा तगड़ा लंड लिखा होगा।साथियो, आप मेरी इस सेक्स स्टोरी पर कमेंट्स मर्यादित भाषा में ही करें।[emailprotected]कहानी जारी है।. चूंकि मामा खड़े खड़े चुदाई कर रहे थे इसलिए मामा अपने दोनों हाथ से मेरी कमर लॉक करके ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगे.

आखिरकार मैंने अपने लंड से उसकी चूत में अपने वीर्य की पिचकारियाँ मारनी शुरू की और न जाने कितनी पिचकारियों के बाद मेरा लंड शांत हुआ और डॉक्टर ने चैन की साँस ली. मैं जब पार्किंग में आया तो वो अपनी एक्टिवा से मेरे पास आई और बोली- आपको नौकरी मिली या नहीं?मैंने कहा- नहीं जी शायद नौकरी इस जन्म में तो मिलेगी नहीं!वो बोली- नौकरी के पीछे क्यों भागते हो? कुछ हुनर सीखो तो काम आएगा. वो खाने के लिए पैसे माँग रही थी। वो एकदम 18 साल की खिलती जवान लड़की थी। गोपाल ने उसे ज़्यादा पैसों का लालच दिया और हम उसको अपने साथ हमारे रूम में ले आए।’‘फिर?’‘फिर गोपाल ने उसको वॉशरूम भेज दिया और कहा कि अच्छे से नहा कर आओ फिर कुछ खा लेना।’‘फिर.

कीकू ने खुद ही उसका हुक खोल दिया और उसके दोनों गुलाबी बोबे आज़ाद हो गए.

फिर जब वो झड़ने वाली थीं, तो मैंने एक आखिरी ज़ोर का झटका लगा दिया और वो झड़ गईं. ‘गुड़िया मैं चूत पर लंड रगडूंगा अब… चूत की गर्मी से जल्दी ही मेरा भी हो जाएगा!’‘नहीं अब वहाँ नहीं. बातों बातों में हम दोनों एक दूसरे के बारे में बहुत कुछ जान गए थे और इतने अच्छे दोस्त हो गए थे कि हम तकरीबन रोज़ बातें किया करते.

बाकी सब वहीं रह गए।वीरू- क्या बात है फ्लॉरा आज तो बड़ी अलग लग रही हो. मतलब दोस्ती टूट गई, वो अपने रास्ते गोपाल अपने रास्ते।मोना- ये सब आपको कैसे पता लगा?काका- सुधीर के बारे में यहाँ सब जानते हैं। वो कई बार यहाँ आ चुका है मगर शादी के वक़्त वो नहीं आया तो मैंने ही पूछ लिया था। तब गोपाल ने झगड़े के बारे में बताया था।मोना- झगड़े की वजह क्या थी काका?काका- वो तो मुझे ना पता. उसको शुरू में चूत का टेस्ट थोड़ा अजीब लगा, मगर बाद में पता नहीं उसको क्या हुआ.

जब वो मेरी आरती उतार रही थी तो मैंने नोट किया कि उसके हाथ पहले जैसे बेढंगे और बिना केयर किये हुऐ नहीं हैं. मैं उसके घर गया तो दरवाजा खुला था तथा अंदर वो जमीन पर बेहोश पड़ी थी, उसकी साड़ी उसकी जांघों से ऊपर उठी थी जिससे उसकी लाल रंग की पेंटी साफ़ दिख रही थी.

दोस्तो, इनकी तो चुदाई हो गई चलो थोड़ा सा ध्यान टीना पर भी डाल देते हैं. जिससे उसका पूरा लंड अन्दर घुस गया। दर्द के मारे मैं मछली की तरह तड़फ़ने लगी, तो वो रुक गया और मेरे मम्मों को चूसने लगा।फिर वो बोला- बेबी बस. वो मेरी साइड से गुजरता हुआ अपनी भारी सी गांड को अंदर की तरफ धकेलता हुआ अपनी सीट पर अंदर जाकर बैठ गया.

जब उसने अपने कपड़े निकाले और अपने जिस्म पर लाल निशान देखे जो रात को जॉन ने चूस कर बनाए थे, तो वो डर गई और जल्दी से कपड़े पहन कर बाहर आ गई.

बाकी सब चूतियापने की बातें कर रहे हो। अब तुमको स्कीम बताने का टाइम आ गया।अजय- जल्दी बता यार. फिर पूजा उठी और दूसरी तरफ मुंह करके अपना गाउन खोल कर नीचे गिरा दिया, ऋतु ने भी उसके साथ-साथ वही किया, दोनों की गांड मेरी तरफ थी. बड़े लंड से तब तक किसी चुत वाली को संतुष्ट नहीं किया जा सकता, जब तक आप चुदाई की कला में निपुण न हों क्योंकि चूत की चुदाई करनी है न कि खुदाई करनी है।बात सन 2007 की है.

’ कहा।विक्की की नज़रें बस उसके मम्मों पर थीं, जो टी-शर्ट फाड़ कर बाहर आने को बेताब थे।अजय- कॉलेज के नियम पता है ना. मैंने भी एक राह चलते अधेड़ उम्र के आदमी से पूछा- अंकल, मुझे रवि के घर जाना है.

पिंकी को ये भी गवांरा नहीं गुजरा और वो अब मेरे हाथ को अपनी जाँघों पर से भी हटाने की कोशिश करने लगी।तभी मैंने पिंकी के निप्पल को दांतों से हल्का सा काट लिया जिससे पिंकी ‘ओय्ययय… अआआ…ह्ह्हहहह… अ. उसकी आँखों में छाई हुई हलकी हलकी लाली दर्शा रही थी कि वो बहुत उत्तेजित थी. काका कुछ नहीं बोले और बसगांड को उंगली से चोदने लगेवो बार-बार उंगली पे घी लगाते, फिर गांड में घुसा देते। ऐसे उन्होंने मोना की गांड को घी से तर कर दिया। फिर अपने लंड पे अच्छे से घी मसला और सुपारे को गांड पर सैट करके हल्के से दबाया मगर सुपारा फिसल कर ऊपर निकल गया। फिर उन्होंने उंगली से गांड को खोला और सुपारे को अन्दर फँसा दिया।काका- हाथ मजबूत कर ले मेरी रानी.

आदिवासी वॉलपेपर

इतना कहकर संजय ने अपने कपड़े निकालने शुरू कर दिए, जिसे देख पूजा भी नंगी हो गई.

पर किसी भाभी को छेड़ने या चोदने के बारे में सोचने से इसलिए भी एक डर मन में होता था कि अगर पड़ोस में शोर मच गया तब तो सैम तू तो गया फिर तो जो तेरी गांड कुटाई होगी वो अलग और जो बेइज्जती होगी वो अलग!इसलिए यार, माल को दूर से देखो और अपने हाथ का इस्तेमाल करो, मैं इसी सिद्धान्त पर टिका रहा. फिर बोली- मुझे जरा काम से जाना है, तुम यहीं रुको, मैं बाजार से होकर आती हूँ. उनकी बात सुन कर मैं बोला- ठीक है चाची, आप जाकर अपने बाथरूम का पिछला दरवाज़ा खोल दो तब तक मैं इस कमरे को अन्दर से बंद करके मेरे बाथरूम के पीछे की सीढ़ियों से नीचे आता हूँ.

दोस्तो, ये मेरी लाइफ की रियल स्टोरी भाई बहन का सेक्स की है जो मैं किसी अपने से शेयर नहीं कर सकती थी और ना ही अपने मन में दबा कर रख सकती थी, तो मैंने डिसाइड किया कि मैं अपनी सेक्स स्टोरी अन्तर्वासना के साथ शेयर करूँगी ताकि मैं अपने मन को हल्का कर सकूं।मेरा नाम सपना है, मैं बी. रफीक बोला- यार क्यों झूठ बोलते हो? दूसरा कौन है लंड वाला?मोहन बोला- मैंने आपको बताया तो था राजेश भाई के बारे में… वो आये हैं आज और आज हम तीनों ही सुबह से घर में नँगे हैं और चुदाई का मजा ले रहे हैं. सेक्सी वीडियो ब्लू फिल्म पिक्चरमैंने आंटी की साड़ी ऊपर कर दी और नीचे उनकी पैंटी के ऊपर से चूत पर हाथ फिराने लगा.

उसकी बात सुन कर मैं उसके ऊपर से उठते हुए बोला- तुम्हें तो बिल्कुल नया और बहुत अच्छा अनुभव मिला होगा. यहाँ से download करें!क्या आप भी सेक्सी भारतीय लड़कियों से सेक्स की बातें करना चाहते हैं, उन्हें कैमरे पर नंगी देखना चाहते हैं, कैम सेक्स करना चाहते हैं तोDelhi Sex Chat आप भी जब चाहें यहाँ क्लिक करके फ़ोन सेक्स कर सकते हैं।.

मैं भाग कर बाथरूम में चली जाऊंगी।संजय- नहीं पूजा वो सूसू नहीं होता है वो मज़ा रस होता है. हाल का नजारा बहुत मनमोहक था, रूम फ्रेशनर से कमरा महका दिया गया था, एक कोने में ताजे गुलाब और गेंदे के फूलों का एक गुलदस्ता बना कर रखा हुआ था जिसमें से महक आ रही थी. फिर थोड़ी देर तक वहाँ रुक कर हम भी चलने के लिए निकलने लगे तो नेहा के पापा ने कहा कि अमन (नेहा का भाई) तुम दोनों को छोड़ देगा.

उन्होंने दोबारा मेरे लंड को लॉलीपॉप की तरह चूसा, फिर मैं उनकी चूत पर आया, पहले तो मैंने उसमें थूक भरा, फिर अपना लंड लेकिन लंड भरने में मुझे दिक्कत हुई. यह पूरी कहानी शीला की सेक्सी आवाज में सुनें!अन्तर्वासना ऑडियो सेक्स स्टोरीज सुनने के लिए सबसे अच्छाब्राउज़र क्रोम Chrome है. यह सोचते सोचते मैं चुप रहा, मैं चाहता था कि अब स्नेहा ही बात को आगे बढाए.

मैं बस में बैठा हुआ पेपर के बारे में सोच ही रहा था कि अचानक 33 साल की बहुत ही खूबसूरत महिला मेरे पास आई और बोली- क्या मैं आपके पास बैठ सकती हूँ।मैंने कहा- जी जरूर.

हालांकि उसका फोन नएम्बार मेरे पास था लेकिन मैंने उसे फोन करना ठीक नहीं समझा. पर ऋतु की वासना की आग इतनी भड़की हुई थी कि उसने उसका मुंह पकड़ कर सीधे अपनी बुर पर लगा दिया.

उसका लंड एकदम तन गया। अब उसको पूजा कच्ची कली नज़र आने लगी।संजय- ओफ क्या कर रही हो पूजा आह. मैंने आंटी की साड़ी ऊपर कर दी और नीचे उनकी पैंटी के ऊपर से चूत पर हाथ फिराने लगा. लेकिन मैं भी ढीठ था, उसकी पीठ मेरी ओर थी, मैं अनवरत उसके बदन को छूता रहा कभी उसकी पीठ को, तो कभी उसके चूतड़ों को… कभी उसके गाल पर हाथ छुआता… तो कभी उसके गले को सहलाता, कान को छूता.

अब वह मेरे लंड को मुख में लेकर चूसने लगी, उसके मुख में लेते ही मैं जोर से चीखा- ओहईई ईई जान क्या कर रही हो… अहह हह…वो मुख में लंड लेकर चूसने लगी, मैं आनन्द में विभोर होता जा रहा था. मेरा पानी बहने लगा था मगर फूफा जी अब भी वैसे ही मेरी टाँगों को ऊपर उठाए हुए ज़ोर ज़ोर के झटके लगा रहे थे. मौसी को मैंने धक्का दे कर अपने ऊपर से नीचे उतारा, और बाथरूम में जाकर मैंने अपने लुल्ले को पहले ठंडे पानी से कई बार धोया, और फिर उस पर दवाई लगाई और फिर रुई लगा कर बाहर आया.

वीडियो सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो मौका देखकर उसने कहा- ऑफिशियल कब करने वाले हो?उसकी बात मैंने समझ ली और बोला- यार, वो तो घर वालों पर ही है, जिस दिन होगा, तुझे भी बुलाऊंगा. वो बोला- पहली बात यहाँ पे कपल एंट्री है, सिर्फ एक लड़का और एक लड़की ही अंदर जा सकते हैं.

मस्त चुदाई की कहानी

नीचे से चूत उछाल उछाल कर मैं भी धक्के लगाने लगी… साथ में मेरे मुंह से आनन्द भरी आवाजे निकलने लगी… हाय. तभी हमारे कानों में आवाज आयी- डू यू नीड एनी हेल्प लेडीज?हम दोनों एकदम से सकते में आ गयी, देखा तो पीटर अपने पैंट के ऊपर से अपना मूसल दबाते हुए हमारी तरफ देखकर मुस्कुरा रहा था. मैंने सीमा को इशारे से माँ के प्रवचन सुनने जाने के बारे में पूछा, इशारा से ही सीमा ने भी नहीं जाने के बारे में बताई.

तभी भाभी ने एकदम फ्री माइंड से पूछ लिया- तुम्हारी कोई गर्ल फ्रेंड है क्या?मैंने बोला- नहीं, मेरी किसी लड़की से कोई स्टोरी नहीं है, उसी बात का तो रोना है. और जोर-जोर से उसकी चुत में लंड अन्दर-बाहर करने लगा। मेरा लंड ऐसे काम कर रहा था जैसे किसी गुफा को खोदते टाइम ड्रिल मशीन को अन्दर-बाहर करते हैं, बीच बीच में, मैं उसके मम्मों को भी दबा देता था. एक्स कॉम सेक्सीजैसे ही सुलेखा नंगी हुई तो रुचिका ने थोड़ा सा केक उठा कर उसकी गांड में लगा दिया और बोली- अब देख, तेरी तो गांड भी फाड़ दी मैंने!इधर अरमान नेहा की चूचियाँ चूसने में मग्न था, नेहा भी आँखें बंद करके सिसकार सिसकार के मज़े ले रही थी.

मगर मैं उसके सामने सिर्फ मुस्कुरा देती थी।देवर को मेरी यह बात पता थी कि मैं बहुत खुशमिजाज़ हूँ और मैं हर वक्त खुश रहती हूँ। लेकिन आजकल मैं बिल्कुल मुरझाए हुए फूल की तरह दिख रही हूँ। यह बात मेरा देवर जान चुका था।फिर थोड़ी बहुत बात करने के बाद वे लोग अपने घर चले गए।कुछ दिनों बाद अचानक मेरा देवर घर आया.

उस दिन ब्रा में कसी तेरी चुची देख कर भगवान से प्रार्थना की थी कि एक बार ये चुची नंगी देखने को मिल जाएं और आज देखो भगवान ने मेरी सुन ली।मोना- ये आप क्या कह रहे हो, आपने कब देखा मुझे ब्रा में?काका- अरे जब तू कपड़े बदल रही थी ना. मैंने पूछा- तो तुम्हारा जवाब क्या है?वो हँसते हुए बोली- हाँ बाबा हाँ, मैं तैयार हूँ.

टीवी ऑन करने के बाद वो मेरी बहन के ऊपर चढ़ गया और मेरी बहन की गांड में अपने लंड को पेल दिया. जो भी बात है खुल कर बताओ, चाहे कैसी भी बात हो?सुधीर- अब क्या बताऊं उसने तो सारे ही काम ग़लत किए हैं. मैंने उसे गोदी में उठा लिया और उसकी शर्ट को निकाल फैंका, फिर उसकी ब्रा निकाल कर उसकी चूचियों को आजाद किया और पागलों की तरह उन्हें चूसने लगा.

उसका लंड मुझे ऐसे महसूस होने लगा कि जैसे पायजामे से बाहर हो मुझे बहुत मजा आने लगा था.

पी ले मेरा पानी मेरी रांड, आज से तू मेरी कुतिया बन के रहेगी, पूरा पानी पी जा कुतिया, ले मेरा छूटा!और इसके साथ ही उसने मेरा मुँह उसके वीर्य से भर दिया, इतना कि मैं उसे पूरा भी निगल नहीं पाई. इतने में उस लड़के की नज़र फिर मुझ पर चली गई लेकिन मैंने भी इस बार नज़र नहीं हटाई और वो मेरी तरफ देखकर मुस्करा दिया और बदले में मैं भी…अब उसने लड़की का सिर पकड़कर ऊपर नीचे करना शुरु कर दिया और बड़े प्यार सेलड़की उसका लंड चूसने लगी. मैंने हम दोनों के पूरे कपड़े उतार दिए और सीमा को बिस्तर पे लिटा दिया.

देसी स्तनमैं भाग कर बाथरूम में चली जाऊंगी।संजय- नहीं पूजा वो सूसू नहीं होता है वो मज़ा रस होता है. और पूजा ने भी मौके की नजाकत को समझ कर हाँ कह दी।पूजा ने अपना होमवर्क करके संजय को एक-दो बार उठाने की कोशिश की, मगर वो गहरी नींद में था सो नहीं उठा, तो पूजा भी उसके पास ही सो गई।दोस्तो, शाम तक कुछ नहीं हुआ सब अपने अपने कामों में बिज़ी थे।रात को करीब 8 बजे गुलशन जी घर आए, तब सुमन और हेमा रूम में बैठी बातें कर रही थीं।हेमा- अरे आप आज जल्दी कैसे आ गए? सब ठीक तो है ना.

बंगाली सेक्सी साड़ी वाली

लगभग दस मिनट चाची के ऊपर लेटे रहने के बाद जब मैंने उठ कर अपना लिंग चाची की योनि में से निकाला तब उसमें से मिश्रित रस की धारा बाहर निकल पड़ी. एकदम चुदास भड़काने वाली अदा!बोली- अब ये काम भी मैं करूंगी राजे बाबू? तुम ही कर लो न, जो करना चाहते… मुझे तो जल्दी से अपना लिंग दिखाओ. तुझे किसने कहा तू नौकर है? अरे तू तो बस मेरी मदद करने आई है और मुझे मेम साब नहीं, दीदी बोल.

राहुल को और मजा आने लगा था, उसने आह भरी…बोला- आह… आह… मजा…आ रहा है…मैं उंगली अन्दर डाल कर गोल गोल घुमाने लगी और अन्दर बाहर करने लगी. फिर भी तुझे लगता है कि मेरे साथ तुम खुश नहीं रहोगी तो फिर मैं यहाँ कभी नहीं आऊंगा. मैंने दोनों तरफ गर्दन घुमाई तो कोठरी में कोई नहीं था, मैं अकेला वहाँ नंगा पड़ा हुआ था.

कुछ ही पलों के बाद वो पूरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी।काका- आह. वो भी हल्की नींद में थी, मैं भी उसके पास जाकर सो गया और उसके उठने का इंतजार करने लगा. अभी भी वहीं अटकी हुई है, अरे पागल, वीडियो में नहीं मैं लाइव सेक्स देखने की बात कर रही हूँ.

मैं अपना लंड उसकी चुत में डालने लगा, पर पहली बार में मुझसे यह नहीं हुआ. तभी मैंने उसकी योनि पर हल्के से चिकोटी भर दी जिससे वो उचक गई और उसकी जांघें जो कस के सिकुड़ी हुई थीं अब हल्के से खुलीं.

उनके दोनों हाथ मेरी कमर और मेरे काले घने रेशमी बालों में घूम रहे थे.

इसके लिए आप बेशक हमारी पगार में से जितना चाहे वह काट लीजिये लेकिन एक असहाय को आसरा जरूर दे दीजिये. ब्लूटूथ हिंदी बीएफउनकी बात सुन कर मैं बोला- ठीक है चाची, आप जाकर अपने बाथरूम का पिछला दरवाज़ा खोल दो तब तक मैं इस कमरे को अन्दर से बंद करके मेरे बाथरूम के पीछे की सीढ़ियों से नीचे आता हूँ. हिंदी में नंगी पिक्चर बताओये सब गलत है!तो मेरे भाई ने मेरे होंठों पर किस करते हुए कहा- तुम भी तो यही चाहती थी ना?मैं समझ नहीं पाई कि भाई को ये सब कैसे पता चल गया कि मैं भी यही चाहती थी।भाई मेरे होंठों को जोर-जोर से चूमने लगा. बाथरूम में कदम रखते ही अंदर का नज़ारा देख कर मेरे पाँव आगे नहीं बढ़ पाये और दो क्षण के लिए माला को देख कर उल्टे पाँव वापिस कमरे में आ गया.

सबीना मुझे कल रुकने का वादा लेकर चली गई, वो उसी सोसायटी में दूसरे ब्लॉक में रहती थी, उसका पति दुबई में काम करता था जो 6 महीने में एक बार आता था.

तो आकाश बोला- ठीक है, कल तुम वहीं मिलना जहाँ मिलते हैं!अगले दिन मेरे पति जाते ही मैं भी आकाश से मिलने चल दी, जब आकाश से मिली तो वो एकदम तैयार होकर आया था. फिर वो मेरी बहन के दोनों पैरों को फ़ैला कर उनके बीच में लेट गया और अपनी जीभ को मेरी बहन की चुत के ऊपर रगड़ने लगा. ?और तभी उसकी आहट मिली, शायद मेरी आत्मा की पुकार उस तक पहुंच गई थी, मैं दौड़ कर कमरे से बाहर निकली, तेज सांसों की वजह से मेरा सीना ज्वार भाटे की तरह उठ बैठ रहा था। मैंने अब भी हाथों में ब्रेसलेट पकड़ रखा था, मुक्ता छोटी के पास बरामदे में चले गई, और रोहन दरवाजे पर ही खड़ा रहा.

मैंने तेल कोमल की पीठ पर डाल के फैलाया, पीठ को तेल से तर कर दिया, फिर उसके कूल्हों पर बैठ के दोनों हाथों से उसके कंधों और बाजुओं की मालिश की, फिर थोड़ा सा पीछे खिसक के मैं घुटनों के बल बैठ गया जिससे मेरा योगिराज कोमल के चूतड़ों की दरार में सेट हो गया. मेरा होश जाने लगा, उसने मुझे सम्हाला और मेरी ब्रा और पेंटी भी उतार दी और मुझे वही पर उस स्लैब पर बैठा दिया जिस पर मैं खाना बना रही थी। और मेरे बूब्स को अपने मुँह में लेकर चूसने लगा. बैठे बैठे ही उसने मेरा बाथरोब खोला और मेरे निप्पलों के साथ वो छेड़खानी करने लगी.

बंगाली सेक्सी व्हिडीओ

मैंने देखा कि फूफा जी अब भी वैसे ही पड़े हैं जैसे मैं लिटा कर गई थी. दोस्तो, भाभी के मुख से वो जोश भरी बातें सुन कर मैं बहुत गर्म हो गई थी और तभी उन्होंने मुझसे बोला कि मैं एक बार उन्हें अपनी चूत दिखाऊँ. मैं माँ की ओर देख रहा था- माँ चाय नहीं बनाओगी?‘बनाती हूँ!’ और उठ कर माँ किचन में चली गई.

मैं उन सभी पाठकों का भी बहुत आभारी हूँ जिन्होंने मेरी उपरोक्त रचना को पढ़ने के बाद अपने मूल्यवान समय में से कुछ कपल निकाल कर उस पर अपने विचार लिख कर भेजे.

मेरा ध्यान अब उसके लंड पर नहीं लग रहा था…वो फिर गुस्से में बोला- साली रंडी, मन भर गया क्या तेरा मेरा लंड पकड़ते-पकड़ते? नखरे मत कर और चुपचाप मेरी पैंट की चेन खोल!मैंने कुछ ना बोलते हुए चलती बाइक पर उसकी पैंट की जिप खोल दी.

फिर हम पांचों ने खुद को साफ़ किया और वापस आकर एक दूसरे को किस किया, फिर वो तीनों चले गए और हम दोनों बहनें नंगी ही बिस्तर पर सो गई. कुछ तो हुआ होगा प्लीज़ बताओ ना मुझे, ऐसा क्या हुआ था?टीना- अब ज़्यादा सवाल मत कर, कुछ नहीं हुआ. चुदाई सेक्सी वीडियो दिखाएंतभी उसने एक जोर का झटका दे मारा, मेरी बहन की चुत में लंड लगभद एक चौथाई चला गया था.

पर उसके निप्पल्स इतने बड़े थे कि मेरे हाथ खुद बा खुद उनके ऊपर जा टिके और मैंने उन्हें मसल दिया. इधर मेरी स्पीड बढ़ रही थी क्योंकि मस्ताना जोश में आ रहा था और लौड़े में सरसराहट सी होने लगी जिसका इशारा था कि अब कभी भी मस्ताना रस की बौछार कर सकता था तो मैंने लण्ड रफीक की गांड से बाहर निकाला और कंडोम उतार कर रफीक की पीठ पर रख दिया और जमीला को लण्ड चुसवाया. फिर दोनों ने अपने लंड मेरी चूत से निकाल लिए पर मेरी चूत की हालत ख़राब हो चुकी थी.

कमरे की लाईट की रोशनी में मुझे उसके जघन-स्थल के काले घने बालों के बीच में छुपी ही योनि और उसके गुलाबी होंठ दिखाई दिया. दोनों के लंड अंदर जाना शुरू भी नहीं हुए थे कि मेरी गांड फटने लगी… मुझे इतना दर्द हुआ कि मेरे दांत जग्गी के लंड में गड़ गए और उसने मेरे बाल पकड़ कर अपना लंड बड़ी मुश्किल से बाहर खींचा.

फिर चंगेज़ ने अपने लंड को बाहर निकाला तो गर्ल फ्रेंड को थोड़ा सा विश्राम देते हुए रुस्लान ने भी अपना बाहर निकाल लिया और चंगेज़ नीचे की ओर झुक कर मेरी प्राणप्यारी पत्नि की चूत को चाटने लगा.

सुकांत सेकन्ड ईयर में था। मेरी उम्र तब यही कोई बाईस तेईस की रही होगी. अगला दृश्यजब शाम सात बजे सक्सेना जी भाबी अंगूरी के साथ गुलफाम कली के कोठे पे पहुंचे तो देखते हैं कि दरोगा हप्पू सिंह और विभूति जी का दोस्त प्रेम चोपड़ा गुलफाम कली के डांस पर मोहित होकर ‘छोड़ छाड़ के अपने सलीम की गली, अनारकली डिस्को चली. कुछ देर बाद लेटे हुए चंगेज़ ने नतालिया की गांड को अपने लंड के ऊपर पहनाते हुए चोदना चालू कर दिया जबकि सामने खड़े हुए रुस्लान ने आराम के साथ अपने सांवले लंड को उसकी खुली हुई चूत में घुसेड़ कर धक्के मारने शुरू कर दिए.

एक्स एक्स एक्स साउथ इंडियन मूवी शायद मेरे बोलने से आपको अच्छा ना लगे, मैं शॉर्ट में बताता हूँ।मोना- सबसे पहले तो आप मुझसे ये भाभी बोलना बंद करो. वैसे घर कब तक अपने अंडर में है?संजय- जब तक सारा काम नहीं निपट जाता तब तक तो है.

उधर राजे भी अब चिल्लाने कगा था, भारी से भारी गालियाँ देकर चुदाई कर रहा था. साधु बाबा ने उनकी कुंडली देख कर बताया था मगर उन्होंने बस इशारा दिया था, अब बाकी की बात आप मुझे बताओ ताकि मैं उसका इलाज ढूँढ सकूं और उनकी जान बचा सकूं. मैं चिहुंक उठी…क्या कर रहे हो…?उसने कुछ नहीं कहा और मेरे बूब्स धीरे धीरे सहलाने लगा.

आदिवासी लड़की का सेक्सी वीडियो

मैंने धीरे-धीरे उसके चुचे छूने शुरू कर दिए, जब उसने कोई हलचल नहीं कि तो मैं समझ गया कि वो जाग रही है. अब तू कल बस घर पर कोई बहाना बना कर कॉलेज आ जाना ताकि दोपहर को तू लाइव प्रोग्राम देख सके, समझी मेरी जान!सुमन- ओके दीदी समझ गई. चाची बोली- अरे अशोक, तुम कितना चोदते हो, मेरी चुत की हालत खराब हो जाती है… आह!मैं हल्का सा मुस्कुरा कर बोला- चाची, अब मुझे आपकी गांड मारनी है.

मैंने उनकी गांड को देखा तो मैंने उनको गांड मारने को कहा, वो मान गयी और मैंने लंड उनकी गांड पर रखा, धक्का मारा, पर अन्दर नहीं गया तो मैंने लंड पर तेल लगाया, उनकी गांड पर भी तेल लगाया और एक जोर का झटका मारा और आधा लंड आंटी की गांड में!वो चिल्लाई और रोने लगी. मैंने रुचिका की चूत की एक एक फांक को अच्छे से चूसा और अपनी जीभ से उसकी चूत के पूरे लाल भाग को मज़े दे देकर चाटा.

मैं- ऐसा क्या खास है आज?जमीला- राजेश डार्लिंग, आज तेरे लिए एक सरप्राइज है, घर चलो तभी पता चलेगा.

अब मैंने देखा कि चाची कुछ नहीं बोली तो मेरी हिम्मत और बढ़ गई, मेरा लंड टाईट हो गया था, मैं उसे चाची के हाथ के पास सटा कर चाची की चूची को दबाने लगा. मैंने कहा- तुम्हारी सहेली है ही इतनी पटाखा!यह सुनकर ऋतु जल उठी और मुझे नीचे धक्का देकर मेरे ऊपर आ गई और जोर जोर से मेरे लंड के ऊपर कूदने लगी. अब वो उठ कर पास के रूम से तेल की शीशी ले आया और मेरी बहन की चुत पर थोड़ा सा तेल डाल कर उंगली चलाई.

मैंने उसके अनुरोध पर अचंभित होते हुए कहा- अम्मा, आप यह क्या कह रही हो? एक अविवाहित पुरुष के घर में उसके साथ एक अकेली विवाहित स्त्री का रहना ठीक नहीं है. मेरा पूरा लंड दीदी की चुत के अन्दर था और उनकी आँख से आंसू आ रहे थे. मुझे लगा कि जैसे उसकी चूत से रस की बरसात हुई हो, मेरी झांटें तक नहा गईं.

यह सेक्स स्टोरी मेरे और मेरी गर्लफ्रेंड के साथ की हुई चुदाई की कहानी है.

वीडियो सेक्सी बीएफ एचडी वीडियो: मुरुगन ने मुझे अपने नीचे ले लिया और मेरे साथ ही मुरुगन भी मेरी चुत में झड़ गए. शायद मैं रात को बंद करना भूल गई होऊंगी और आपको पता है ना सोते टाइम मुझे ज़्यादा कपड़े पसंद नहीं।जॉय- अरे तो मत पहना कर.

10 मिनट तक चुदाई करने के बाद मामा ने रफ़्तार बढ़ा दी, मैं समझ गयी कि मामा का रस निकलने वाला है, इस चुदाई के दौरान मेरा तो दो बार रस निकल चुका था इसलिए मैं भी चाहती थी कि मामा जी जल्दी झड़ जायें क्योंकि मेरी चूत में दर्द सा होने लगा था. उसे क्या कहूँ कि तू 2-3 दिन बाद खड़ा होना। उसे तो अभी एक रसीला मुँह चाहिए जो उसे अपनी लार से भिगा-भिगा कर चूसे और एक मस्त चिकनी टाइट गांड चाहिए. वहीं साथ पढ़ाई करेगी।हेमा- मगर बेटी, तेरे अंकल भी नहीं हैं। तुम दोनों यहीं पढ़ाई कर लो ना?टीना- वो आंटी, मॉम बीमार हैं.

अब मैंने उसके मम्मों पर हल्का सा हाथ फेर दिया, वो उठने लगी और मैं जल्दी से जाकर बिस्तर पे लेट गया.

और हम सुबह निकलेंगे तो एक बार सुबह भी वीट लगा लुंगी तो बिल्कुल चिकनी हो जायेगी। तुम आबू रोड आकर फोन कर लेना।मैंने कहा- ठीक है!फिर फोन रख दिया. मगर मुझे तो ऐसी कोई बात नहीं नज़र आ रही।मॉंटी- नहीं दीदी ये कभी-कभी बड़ी होती है. अच्छे भले कपड़े तो हैं अब ओल्ड क्या और न्यू क्या?सुमन- पापा व्ववो मुझे ज्ज.