बीएफ फिल्म सॉन्ग

छवि स्रोत,ब्लू सेक्सी फिल्म मद्रासी

तस्वीर का शीर्षक ,

ब्लू फिल्म बढ़िया-बढ़िया: बीएफ फिल्म सॉन्ग, इस तरीके से अगले दो दिन में तीनों भाई बहिन के बीच चुदाई का सिलसिला चलता रहा.

ಹಿಂದಿ ಸೆಕ್ಸ್ ವಿಡಿಯೋ ಕಮ್

उसने चूत को सहलाते हुए खुद से कहा- लो बापू से भी बात करके भीग रही हूँ. नेपाली बीएफ वीडियोकिसी कैदी को जैसे जेल से बाहर आने पर होता है, शायद वैसा ही हाल मेरा लंड को हुआ होगा.

उस समय महसूस किया कि जब वो नीचे थी तो मेरी ढेर सारी लार उसकी चूत में समा रही थी और बहुत ही थोड़ा कामरस निकल रहा था. चुत की नंगी फोटोअब पिंकी और दीपक में मेल्स का आवागमन शुरू हो चुका था, जिसे मैं आराम से पढ़ लेती थी.

कब नींद लग गई, हम दोनों को पता नहीं चला और हम दोनों लोग नंगे ही एक दूसरे की बांहों में सो गए.बीएफ फिल्म सॉन्ग: ”अच्छा समझी, चलिए आइये तो, फिर आज आपकी हर ख्वाहिश पूरी करने की कोशिश करूँगी.

मैंने आपको अपनी पिछली कहानी में मेरी गर्लफ्रेंड सपना (नाम बदला हुआ) का जिक्र किया था.ये हॉल कॉंप्लेक्स के सब लोगों के वेस्ट सामान को रखने के लिए बना है.

सेक्सी चोदा चोदी बीएफ - बीएफ फिल्म सॉन्ग

जैसे ही मेरा लंड अन्दर गया, स्वाति ने इतनी जोर से आवाज की कि मुझे अपना हाथ उसके मुँह पर रखना पड़ा.मैंने उससे पूछा- जानेमन, बताओ भी क्या करने का इरादा है?बोली- बस देखते जाओ.

फिर एक दिन अरुण ने उसे मैसेज किया- आप मुझे शाम को रोज गार्डन में मिल सकती हैं?जवाब आया- हाँ. बीएफ फिल्म सॉन्ग पूरे बीस मिनट तक मुझे कुतिया सा समझ कर चोदा और अचानक सुरेश जी की गति बढ़ गई.

तभी उसका बदन अकड़ने लगा और जोर जोर से चिल्लाने लगी- उह आह मम्ह ओह्ह …दो चार झटके के बाद वो झड़ गयी.

बीएफ फिल्म सॉन्ग?

वो मुस्कुराईं और बोलीं कि इतनी कम उम्र के होकर भी बड़ी प्रोफेशनल फील देते हो. फिर मैंने उन्हें पूछा- आपका रांची में घर है?तो उन्होंने कहा- हां!फिर मैंने पूछा- आप फिर कहां जा रही हो?तो उन्होंने कहा- पटना में मेरे कुछ रिलेटिव हैं, इमरजेंसी कुछ काम आ गया तो उसी सिलसिले में मैं वहां जा रही हूं इसीलिए टिकट भी कंफर्म नहीं ले पाई. जब मेरा लंड लोहे की रॉड की तरह खड़ा हो गया, तो सोनम ने मेरी पेंट और निक्क़र निकाल दी और मेरे लंड को मुँह में लेकर चूसने लगी.

सुधा भाभी- इट्स ओके, वैसे भी बहुत दिनों बाद कोई बात करने के लिए मिला है. मैं अब अपना मुँह मामी की पैंटी के पास ले गया और मामी की चूत को ऊपर से ही चूसने लगा. इतने में मुझे छेड़खानी करने का आइडिया आया और मैं उनकी बुर में उंगली करने लगा.

उसी समय मुझे न जाने कैसा महसूस होने लगा और मैंने भी मनोहर को जोर से पकड़ के अपनी बांहों में पूरी ताकत से चिपका कर कस लिया. उसने एकदम अपनी टांगों को जोर से भींचा और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया. जैसे ही मुँह में लंड पूरा घुसा कि एकदम गरम गरम लंड रस की पिचकारी मेरे अन्दर तक घुस गई और उसे मैं ना चाहते हुए भी पी गई.

जब उसके नंगे मम्मे मेरी पीठ पर लगे तो मालूम हुआ कि ये मेरे पीछे है. फिर मैंने देर न करते हुए उसकी एक चूची को मुँह में ले लिया और दूसरी को हाथ से दबा रहा था.

मैंने हल्के हल्के धक्के शुरु किए, वह भी धीरे धीरे चूतड़ हिलाने लगा, बंदा एक्सपर्ट खिलाड़ी था, वह बहुत कलाकारी के साथ कमर हिला रहा था.

उसकी कातिल जवानी की ये स्थिति थी कि वो जैसे ही बस में चढ़ी, सारे मर्द उसे हवस भरी नज़रों से देखने लगे.

उसके बाद जब मुझे लगा कि मैं झड़ जाऊंगा तो मैंने अपना लंड उसके मुँह से निकाल लिया. मैंने उससे पूछा तो उसने कराहते हुए कहा कि प्यार में दर्द नहीं देखा जाता. अतः मैंने अपनी हरकतें तेज कर दी, उसकी गर्दन पे काटते हुए मैं कान में फुसफसाया- सोचो, राज तुम्हारी चुत में उंगली डाल रहा है ऐसे!और अगले ही पल मेरा हाथ मंजू की चुत की तरफ बढ़ चला.

मेरा सर पकड़ उसने अपनी ओर खींचा और मुझे चूमने लगी, बोली- लव मी लायक यू युज्ड टू डू!(जैसे तुम पहले करते थे, वैसे ही मुझे प्यार करो!)मैं किसी तरह उससे अलग हुआ और उसके कंधे पकड़ ज़ोर से हिलाया. हमने पानी पिया, फिर उसने मोबाईल पर लाईट म्यूजिक लगा दिया और हम बातें करने लगे. मैंने पूछा- क्या हुआ अंकल? आपने काल क्यों किया?तो उन्होंने कहा- विकी मैंने एक्टिवा बुक की है, आज उसकी डिलीवरी मिलने वाली है, और मुझे आने में थोड़ा लेट हो जाता है.

मैंने कहा- कंडोम लगा कर चुदाई करूं या बिना कंडोम के?उसने कहा- कंडोम पहन लो!मैंने कंडोम का पैकेट उसके हाथ में दिया.

करीब एक घंटे बाद विवेक ने मुझे उठाया, फिर वह हम दोनों के कपड़े लाने हॉल में चला गया. चाचा बोले- इसको भी उतार वन्द्या इसी के अन्दर तो तेरे काम का औजार है. मैं चरम तक आधा भी नहीं पहुंचा था कि उनकी चूत ने अपना रस एक जोरदार सिसकारी के साथ छोड़ दिया और कांपने लगी.

उसकी चूत से अजीब सी आवाज आने लगीं और आशिना मस्त होकर चुदवाने लगी थी. मैंने कहा- हां, बता क्या बात है?तो वो कहने लगी- क्या कर रहे हो?मैंने कहा- कुछ नहीं सोनम, ऐसे ही बाहर खड़ा हूँ. उसने मेरे शॉर्ट्स को भी नीचे उतार दिया और मेरे लंड को अपने हाथों से सहलाने लगी.

वरुण- तुमने कितना बड़ा लण्ड ट्राई किया हुआ है?स्मिता- 9″… एक मेरा बॉयफ्रेंड था उसका बहुत लम्बा एंड मोटा था.

उसने मयूरी से आग्रह करते हुए पूछा- मयूरी, क्या मैं तुम्हारी चुत देख सकता हूँ… प्लीज?मयूरी- हाँ मेरी जान… अब ये पूरी तरह से तुम्हारी है… क्यूँ ना इसका दीदार करने के लिए मेरे कपड़े तुम खुद निकालो?मयूरी अब खड़ी हो गयी थी ताकि उसका अपना बड़ा भाई उसको नंगा कर सके. उनके जाने के बाद मैं अपने मोबाइल में ब्लू फिल्म देखने लगा और करीब आधे घंटे के बाद मैं अपने सेक्स टॉय के साथ बाथरूम में घुस गया.

बीएफ फिल्म सॉन्ग कहानी का पिछला भाग:आपा के हलाला से पहले खाला को चोदा-1नूरी खाला ने कहा- आमिर, मेरे दूल्हे, धीरे करो, बहुत दर्द होता है. मुझे बड़ा गुस्सा आया इसकी इतनी हिम्मत? मैंने थोड़ी देर उसे नज़रअंदाज किया, पर वो नहीं माना.

बीएफ फिल्म सॉन्ग जो एकदम से ऐसा सोच रही हो?मैंने उससे कहा- देखो हमें सच्चाई के धरातल पर रहना चाहिए. मैं धीरे धीरे उसकी बुर पे हाथ रख कर मसलने लगा, जिससे वो और ज्यादा उत्तेजित हो गयी और मेरे हाथ को हटा खुद ही अपने हाथ की उंगली डालने लगी.

अब वो भी जल्दी जल्दी मुझे चोदने लगा और उसने सारा पानी बुर में ही छोड़ दिया, पर कंडोम में ही पानी रह गया.

पंजाबी सेक्सी वीडियो फिल्म दिखाओ

अब उसका मुंह मेरी तरफ था और मेरी गांड उसके मुंह की तरफ मुझे नींद नहीं आ रही थी और ना ही प्रीति सो रही थी. इसके बाद हम एक दो बार और मिले, पर कभी समय नहीं मिल पाया कि उसके संग और चुदाई की जा सके. फिर समय बीतने के साथ विदेशी पत्रिकाएं आने लगीं जिनमें चिकने कागज़ पर चुदाई की रंगीन तस्वीरें हुआ करती थीं.

मेरे अचानक इस हमले से वो एकदम से घबरा गई और अपने आपको मुझसे छुड़वाने की कशमकश करने लगी थी. उसने कहा- जीतू, अब कंट्रोल नहीं हो रहा मुझसे!तो मैंने कहा- यह तो हॉल है, यहां कुछ नहीं हो सकता, हम किसी होटल में चलते हैं!पहले तो वो मना करने लगी, फिर मेरे जोर देने पर वो मान गयी और हम मूवी बीच में ही छोड़कर पास की ही एक होटल में चले गए और एक रूम बुक करवाया और उसमें चले गए. उससे कोई ज़बरदस्ती ना करो, उसे इस रंग में डाल दो कि वो खुद ही लंड की चाहत करे.

तब तक भाई वहीं बैठ के बाकी बातें बता रहे थे कि कैसे उन्होंने बड़ी बूब वाली के मजे भी मुझे दिलवाये.

उसने मुझ से पूछा- किससे बात करनी है?तो मैंने कहा- जिसका यह फ़ोन है, उससे बात करनी है. आज के टाइम में मेरी हाइट की बात करें तो मैं 6’2″ की लंबाई वाला हूँ, मेरा लंड काफी बड़ा और मोटा है. मैंने कहा- सारिका बर्थ-डे पार्टी है और यहां कोई नहीं है?सारिका ने कहा- यहां मेरा और कोई दोस्त नहीं है तुम्हारे सिवा.

तुम लोग भी आओ, तो मैं बोलता भाई को!हम लोग बोले- नेकी और पूछ पूछ… सारे भाई एक दिन ही वर्जिनिटी तोड़ते हैं. बाद में मैंने पोजीशन बदलने को चाहा और खुद एक कुर्सी पर बैठ कर उन्हें अपने लंड पर बिठा कर झटके मारने को बोला. उसी को याद करके मैंने आप को मस्त माल कह दिया, जिसके लिए मैं समझता हूँ कि मुझसे ग़लती हो गई है.

सबसे पहले तो उसने अपना पैंटी और ब्रा उतारी और एक ढीला सा टॉप और स्कर्ट पहन लिया जिसमें उसका जिस्म बहुत ही ज्यादा कामुक दिख रहा था. मैंने फिर से कोमल को अपनी गोद में लिटा लिया और मम्मों को दबाने लगा.

अब मैंने झटके थोड़ा जोर से किए तो वह मुस्कराया, मैं समझ गया कि इसे अब मजा आ रहा है।मैंने धक्कों की स्पीड बढ़ाई तो वह गांड ढीली करके लेटा रह गया. मैं जानू जानू कह रहा था और वो बार बार कह रही थीं- बेटा क्या हुआ, अरे बेटा, मैं हूँ. यूं ही बातचीत करते रहने से पता भी नहीं चला कि हम कब उत्तरप्रदेश के नगर खतौली पहुंच गए.

उस दिन रात को मैंने भाभी के यौवन का भोग, अपने दिमाग में उनकी चूचियों को रख कर और हाथों के सहारे लंड को हिला कर किया.

फ़िर मैंने उसे 69 पोजीशन में आने को कहा, वो मेरे नीचे थी, मेरा लंड उसके मुँह में था और मैं उसकी बुर चाट रहा था. तब मैंने अपनी मकान मालिक से बात की और उन्हें बात बताई कि वो अकेली हॉस्टल में रह गई है, जिस वजह से वो डर रही है और बुरा फील कर रही है. तो मैं बोला- बोलिए ना अंकल, क्या काम है?वे बोले- देख विकी, मैं घर पर पूरा दिन रहता नहीं हूँ, और मेरे पास कार है.

डॉक्टर का लंड पूरा 8 इंच लंबा था, वो लंड दिखाते हुए बोला- इससे अब तुम्हारा इलाज़ होगा. कुछ देर बाद बस फ़िर चलने को तैयार हो गयी लेकिन वो चाय पी रही थी, जिस वजह से कंडक्टर ने हमें जल्दी आने के लिए आवाज दी और हमने भागते भागते बस पकड़ी.

जिसको देख कर अंकिता ने कहा कि वाह क्या बात है, ये तो सोने का नाम ही नहीं ले रहा. सतीश, तुम मेरे बारे में कल क्या कह रहे थे झूठ मूट ही सब कहते रहते हो. पम्मी की चुत से लंड निकाल कर मैं निक्की के ऊपर मिशनरी पोज़िशन में आकर उसे ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा.

मौनी रॉयxxx

कोमल उठी और अपने कपड़े ठीक किए और ठीक से बैठ गए, क्योंकि कोमल को विकास नगर उतरना था.

फिर उसने उन मैडम से उनका टिकट पूछा तो उसने कहा कि मेरा टिकट विकास नगर का है. होटल वालों ने हमें सोने के लिए जो कंबल दिया था वह काफी हल्का था, उसमें काफी ठंड लग रही थी. मैंने सोनू से कहा- सोनू जो बीत गया उसे पीछे छोड़ दो। जाने वाले को कोई रोक नहीं सकता।जावे सो मेरा नहीं, मेरा सो जावे नहीं.

वो मुझे कुछ देर चोदने के बाद अलग हो गया अब उसने मुझे घोड़ी बना कर चोदना शुरू कर दिया. उस रात को मैं जब आंटी के यहाँ गया तो सभी मेरा ही इंतज़ार कर रहे थे. बीएफ चाहिए फुल एचडी वीडियोदोस्तो, हिंदी में सेक्स स्टोरीज की साईट अन्तर्वासना पर आपका स्वागत है। मेरा नाम अभिषेक है। पहले मैं अपने बारे में बताना चाहता हूँ। मैं 5 फुट 7 इंच का कूल और हैंडसम ब्वॉय हूँ।मैं बिहार का हूँ.

जहाँ भी जाता था, वहाँ पर वो मुझे अपनी गोद में बिठा कर मेरे मम्मों को दबा दबा कर मजा लेता रहता था. उम्र की छोटी थी, लेकिन उसको देख कर मेरा 8 इंच लंबा लंड और 3 इंच मोटा लंड मेरी पैंट फाड़ने को हो गया था.

फिर एक दिन अरुण ने उसे मैसेज किया- आप मुझे शाम को रोज गार्डन में मिल सकती हैं?जवाब आया- हाँ. मैंने अब उनकी पूरी साड़ी निकाल दी और ब्लाउज भी निकाल कर उनको अधनंगा कर दिया. धीरे धीरे मेरी कोशिशें जारी रहीं और किसी तरह हमारी फ़्रेंडशिप हो गई.

अभी मेरा लंड बस 2 इंच ही अन्दर गया था कि तभी सीमा चीख पड़ी और रोने लगी. मम्मी चिल्ला उठी इस बार, बोली- निकालो निकालो … दोनों एक ही छेद में … दर्द हो रहा है!इस पर मामा ने कहा- दीदी, थोड़ी देर होगा, फिर मज़ा आने लगेगा. उसका मज़ा देखकर मैं और जोश में आ गया और मैंने धकापेल चुदाई करनी शुरू कर दी.

बारिश की वजह से घर भी नहीं जा सकती थी और स्कूल का टॉयलेट मैं इस्तेमाल नहीं करती थी.

रात को एहतियात के तौर पर उस कमरे में मयूरी और विक्रम के बीच कुछ नहीं हुआ क्यूँकि रजत वहीं पर सो रहा था. दरअसल सारिका के पार्लर पर बहुत सी चुदासी चूत आती थीं उनकी प्यास शांत करने के लिए सारिका ने मुझे एक तरह से बुक कर लिया था.

उस फ्लोर के बाकी के 3 फ्लैट बंद हैं, सो मेरे फ्लोर पे सिर्फ़ मैं हूँ. खाला नेअपनी चूत से बाल साफ़ किये हुए थे, चूत थोड़े गुलाबी रंग की थी और गीलेपन की कुछ बूंदे साफ़ दिख रही थी. अब हम दोनों ही रितु को चोद रहे थे, मैं मुँह को चोद रहा था और जेम्स चूत को!कुछ देर बाद मैं बोला- जेम्स, अब मुझे इसे चोदने दो और तुम आगे आ जाओ!अब रितु को हमने बेड पर ले लिया, वह घोड़ी बन गयी और जेम्स के लंड को चूसने लगी और मैंने पीछे से उसकी चूत पर लंड लगाया और चोदने लगा.

अब तक दस बारह चोटें लग चुकी थीं जिससे सुजाता को भी दर्द कम हो गया और वो भी आगे पीछे करने लगी थी. कुछ देर तो वे नहीं माने, फिर जब उन पर नींद सवार होने लगी तो उन्होंने मेरा ऑफर एक्सेप्ट कर लिया फिर वह लेट गई एक तरफ और मैं दूसरी तरफ लेट गया. इतना होते होते लड़की की उम्र सत्ताईस अट्ठाईस हो जाना मामूली से बात है और उतनी उम्र तक बिना चुदे रहना किसी तपस्या से कम नहीं.

बीएफ फिल्म सॉन्ग फिर 10 मिनट उसके बूब्स चूसने के बाद मैं उसके पेट की तरफ गता, उसका पेट बहुत चिकना था, मैं उसके पेट को अपनी जीभ से चाटने लगा, वो और गर्म हो गयी, मुझसे कहने लगी- सरताज, अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है … जल्दी कुछ करो … बर्दाश्त नहीं हो रहा है. दोस्तो इतने दिनों से मैंने अपनी कोई स्टोरी नहीं लिखी, थोड़ा बिजी था और काफी ज्यादा टाइम भी हो गया है.

अमेरिकन सेक्सी चुदाई वीडियो

आपको मेरी मसाज सेक्स कहानी कैसी लगी उसके लिए आप मुझे मेल करके अपना सुझाव दें. मेरी बीवी की चूत गीली हो चुकी थी और हम दोनों उसकी चूत में उंगली कर रहे थे. ! ओके बोलो क्या शर्त है?मैंने कहा- हम दोनों ही बाथरूम में अन्दर जाएंगे ओके?थोड़ा सोचने के बाद मुस्कान बोली- ओके ठीक है.

वो अब कुछ ज्यादा ही ज़ोर से अपनी कमर को उठा कर अपनी बुर को मेरे मुँह से रगड़वा रही थी. वो बस चलने से 2 मिनट पहले ही दौड़ते भागते पहुँची थी, जिस वजह से वो काफ़ी हांफ गयी थी. बीएफ फिल्म वीडियो में सेक्सीइसलिए डरती थी, वरना मैं तो चाहती थी कि मुझे पूरी नंगी कर के मेरी चूत को चाट चाट कर चाटा जाए.

वरुण- माँ, कुछ और ड्रेसेस हैं, ट्राई कर लो, आज सारी शॉपिंग मेरी पसंद से करेंगे!सविता- ओके!मैंने ट्राई रूम से हाथ बहार निकाल कर वरुण से ब्रा पेंटी पकड़ ली!ब्रा पेंटी ट्रायल रूम में लेने के बाद माँ ने यानि मैंने मैसेज किया- ये मैं अपने आप ले लूंगी.

कोमल भाभी की नज़र मेरी पैंट पर बने टेंट पर गई और वे दोनों हंस पड़ीं. वरुण- माँ आपने कहा था शॉपिंग मेरी पसंद से होगी, आप अपना साइज दो, मैं लेकर आता हूँ!सविता- ठीक है, 36डी 32 38फिर हमने इस साइज की 3 ब्रा पेंटी का सेट लिया और फिर हम घर के लिए निकल गए।जब हम कार में थे तो मेरे बेटे ने मुझसे पूछा- माँ शॉपिंग करके कैसा लगा?सविता- अच्छा लग रहा है!फिर हमने थोड़ी जनरल बातें की और घर पे आ गए.

मुस्कान ने इस वक्त एक फुल फिटिंग की जीन्स, जो काले रंग की थी और सफेद रंग का टॉप पहना हुआ था. मगर तभी शाज़िया ने मुझे इशारा किया तो मैंने उसके पीछे जाकर ब्रा का हुक खोल दिया. अंकल कहने लगे- अरे बेटा, घर में शादी का माहौल है और अभी कुछ भी सामान नहीं आया है.

तभी कोमल भाभी जोर से चीख पड़ीं और सोनी अपने कामरस से मुझे भिगोने लगी.

दस मिनट की चुसाई के बाद मैं झड़ने वाला था, मैंने कहा- रस निकालूँ?तो उसने कहा- हां मेरे होंठों पर निकाल दो. हम एक हॉलीवुड मूवी देख रहे थे और थोड़ी देर बाद उसमें एक बहुत ही सेक्सी किसिंग सीन आया. अब उसने धीरे से अपने लंड को मेरी बुर से थोड़ा निकाला और फिर घुसा दिया.

देहाती ब्लू फिल्मैंने अपने कपड़े एक ही झटके में उतार दिए, अंजलि अभी भी जीन्स में थी. मैंने उनसे पूछा- आंटी क्या हरीश घर पर है?उन्होंने कहा- हरीश तो अपने मामा जी के यहां गया हुआ है, दो दिन बाद ही लौटेगा.

ई-मेल को सेक्सी

जैसे ही वो आशिना की चूत पर पहुंचा तो झट से पैंटी को खींचकर अलग कर दिया. फिर उसने अपने हाथ से मेरे लन्ड को अपनी बुर के छेद पर सेट किया और इशारा किया कि धक्का लगाओ!मैंने अचानक जोर का धक्का लगाया जिससे मेरा आधा लन्ड उसकी बुर में चला गया और वो जोर से चिल्लाई- उई माँ … मर गयी।मैंने तुरंत अपने होंठों से उसके होंठ बन्द कर दिए और उसके बूब्स दबाने लगे ताकि वो जल्दी नॉर्मल हो जाये. मैंने भी उसको हंसी मज़ाक में इशारा कर दिया था कि मैं तुम्हारा उधार चुकाने के लिए तैयार हूँ.

मनोहर ने अपने लंड को मेरी चूत में अन्दर बाहर करना शुरू किया, उधर चाचा भी मेरी गांड में अपना लंड जड़ तक घुसा दे रहे थे. अब बाबा ने अपना लंड वल्लिका के मुँह में डाल दिया और उसे वल्लिका को चूसने को कहा. करीब पौने ग्यारह बजे मैं होटल जा पहुंचा और लॉबी में बैठ कर रेखा का इंतज़ार करने लगा.

और बस उन्होंने मुझे अपनी गोद में उठा लिया, बिस्तर पर ले जाकर पटक दिया. जैसा कि रणविजय ने बाद में बताया:रीना और रणविजय ने दूसरे कमरे में जाते ही एक दूसरे को गले लगाया जैसे कि बिछड़े प्रेमी हों. मैं- क्या लगता है निक्की, पम्मी मानेगी?निक्की- क्या पता यार, मान जाए तो मज़ा बढ़ जाएगा और एक नया अनुभव मिल जाएगा.

कमीने ने आभार में मुझे ही किस कर लिया कि मैं कैसा नेकदिल दोस्त था कि उसके सूखे सामान के लिये रसीली बारिश का इंतज़ाम कर देता था।उस छोटे से घर में नीचे ऊपर दो कमरे थे और नीचे ही एक स्टोर जैसा कमरा भी था। नीचे कमरे में टीवी लगा हुआ था जिसपे कुछ प्रोग्राम देखते हम आपस में बतियाने लगे। बच्चा अपने खेलने में मस्त हो गया. हमें बातें करते करते बहुत दिन हो गए, फिर एक दिन हमने मिलने का प्लान बनाया, उसका कोई एग्जाम था तो उसको जयपुर आना था.

कुछ देर बाद सैमी ने एक ज़ोर से झटका मारा और लंड मेरी चूत की झिल्ली को फाड़ता हुआ थोड़ा सा अन्दर चला गया.

अब तो मेरा लंड बाहर आने को उतावला हो गया था और मैंने उसे बाहर निकाल कर सुजाता के हाथ में थमा दिया. बीएफ पिक्चरमैं बोली- यह ठीक नहीं है चाचा, आप मुझसे बहुत बड़े हैं, मुझे छोड़ दीजिए, भगवान के लिए मेरे साथ ऐसा मत करिए. सरदारों की बीएफमैंने जरा सा हाथ नीचे किया तो पता चला कि कुछ गीला और चिपचिपा सा द्रव्य उसकी पेंटी से लगा है. मैंने बोला कि आपको तो जिम ज्वाइन किए काफ़ी टाइम हो गया ना!वो बोलीं- हां.

नीचे कुछ हो रहा है क्या?भाभी बोलीं- हां यार, मेरी पेंटी भी गीली हो रही है.

अचानक उसे बाबा की कही बात याद आ गई, जिसे तुम फूल समझ रही हो, वो मैं ही हूँ. और कुछ देर बाद मैं भी जोश में आ गया और मेरे लंड से पानी निकलने वाला था. बाद में हम किस को तोड़ते हुए एक दूसरे की आंखों में डालकर हंसने लगे क्योंकि हम दोनों ने लास्ट नाइट को ही छत पे सब प्लानिंग कर रखी थी.

उस दिन सुरेश जी के ऑफिस जाते ही बाहर जाकर थोड़ा खाना खा लिया और पूरे दिन सोता रहा. बस घर में दो दिन का कॉलेज टूर बना लो और मेरे साथ चलो, मैं आपका पेट साफ़ करवा दूँगा, सब ठीक हो जाएगा. लेकिन अब हम दोनों को जब भी चुदाई का मन करता है तो हम खूब चुदाई का मजा लेते हैं.

इंडियन सेक्सी फिल्म चुदाई

आते समय मेरे पूछने पे बताया कि उन्हें कमर में दर्द है सो वो दवा लेने आई थीं. जहाँ हम ठहरे हुए थे, वहां से रिक्शा से पांच मिनट से भी कम के फासले पर था. फिर मैंने उसका सूट उतार दिया और अब वो मेरे सामने ब्रा और पैंटी में जलवा बिखेर रही थी.

उनके अंडरवियर बनियान के साथ ही मैंने अपनी ब्रा पेंटी बगल में ही लटका कर सूखने टांग दी.

मैंने अपना हाथ आगे ले जाकर उसकी चुत में अपनी उंगली डाल दी और चूत को अपने उंगली से चोदने लगा.

जिससे मेरी आवाज़ न निकले और फिर दूसरे झटके में पूरा लौड़ा अन्दर चला गया. आपने मेरा पहला सच तो पढ़ा होगा अगर नहीं, तो मेरी अन्तर्वासना हिंदी कहानीदिल्ली की चूत चंडीगढ़ का लंडपढ़ लीजियेगा. राजस्थानी आंटी बीएफमैंने अपने पति के अलावा किसी को नहीं चाहा और ना ही सोचा कि किसी और को चाहूँगी.

मैंने उससे पूछा तो उसने कराहते हुए कहा कि प्यार में दर्द नहीं देखा जाता. मैंने उसकी बात का कोई उत्तर नहीं दिया, जिसे उसने मेरी मौन स्वीकृति मान ली. अब मुझसे और सहा नहीं जा रहा था और मैं पागलों की तरह बहने लगी, मेरी चूत झड़ने लगी थी.

अब आओ और अपनी लंबी टांगों का कमाल दिखाओ मेरी जानेमन।मैं लेटने वाले सोफे पर लेट गया, सीमा भी बेड से उठ कर आई और अपनी चौड़ी सेक्सी गांड मेरे लंड की तरफ करके आगे की तरफ मुंह करके मेरी गोद में बैठ गई और उसकी चूत में मेरा लिंग अपने आप प्रविष्ट हो गया. तभी पता नहीं क्या हुआ, उनके शरीर में एक उफान सा आया और वे सिस्कारती हुई निढाल सी हो गयी.

फिर मैंने लंड बाहर खींचा, तब उसकी आँखों से ऐसा लगा जैसे मैंने उसकी पसंद का खिलौना छीन लिया हो.

इस वजह से उनके चूचे मेरे पेट पर दबने से मुझे और एक अलग नशा आ रहा था. मैंने एक हाथ उसके हाथों में रखा और दूसरे हाथ से बहन के बूब्स पर सहलाने लगा क्योंकि आग दोनों ही तरफ लगी थी इसलिए उसने मेरी हरकत का कोई विरोध ना किया. हमें पता ही नहीं लगा कि उनकी बेटी जो मेरे से थोड़ी छोटी थी, आकर गेट पे खड़ी हो गयी और चिल्लायी ‘मम्मी, ये क्या कर रहे हो?’ हमने फटाफट कपड़े पहने और उससे बात करने लगे.

मां बेटा की चुदाई बीएफ क्या मेरे बराबर की हो गई है तू?उसने पद्मिनी को अपने तरफ मोड़ते हुए उसको अपने सीने से लगाकर उसका कद देखना चाहा, तो उस वक़्त पद्मिनी की चूचियां बिल्कुल बाप के पेट से रगड़ खा रही थीं. जूसी रानी ने हुक्म दे दिया थाकिहमें शादी में जाना है, हर फंक्शन में अटेंड करना है और वापिस लौटने की कोई जल्दी नहीं मचानी है.

लालजी ने मुझसे पूछा- वन्द्या अंकित के एक अंकल हैं, वही हम लोगों को सब देते हैं. घर आते ही मैंने सामान कमरे में रखा और मैं रिमूवर लेकर बाथरूम में घुस गई. उसने बोला- मुझसे कितना प्यार करते हो?मैंने कहा- तुम सोच भी नहीं सकती!मुस्कान ने पूछा- कितना?मैंने कहा- इस जिस्म में जान तुम्हारी ही है!फिर उसकी आंखों में आँसू आ गए तो मेरे कंधे पर सर रख के बैठ गई और मुझे नशीली निगाहों से देखने लगी.

40 साल की लड़की

सारिका का घर शॉप से 20 मिनट की दूरी पर था, तो हम बातें करते हुए जा रहे थे. डॉक्टर ने कहा- आपके खून में एचआईवी पाया गया है।मैं वहीं सन्न रह गया। कानों में घीं-घीं घंटी सी बजने लगी, वक्त जैसे रुक सा गया हो। दुनिया ठहर गई हो!थोड़ा संभाला और हिम्मत करते हुए डॉक्टर से पूछा- कौन सी स्टेज पर है?उन्होंने कहा- ये तो और आगे टेस्ट करने पर ही पता चल पाएगा।मैं रिपोर्ट लेकर वहां से चला तो एक-एक कदम हज़ार किलो का महसूस हो रहा था। जिंदगी खत्म हो गई. मैंने उसके मम्मों को तेज़ी से दबाने शुरू कर दिए तो उसके मुँह से सिसकारियां निकलने लगीं.

लेकिन मेरे दिमाग में ये भी सवाल आया कि इस आदमी के पैर दुखने लगेंगे तो ये इसके बाद मेरी गोद में आसानी से बैठ जाएगी. मैं भी उसको देख देख उत्तेजना में बह गया और दीवाल की आड़ ले सुस्ताने लगा, राज भी अंतिम पड़ाव में था, उसने मंजू की टांगें खींच कर बेड से बाहर की और उसकी दोनों टांगों के बीच खड़ा हो गया.

उसके बाद मैंने फिर से उसका जवाब माँगा तो उसने मुस्कुरा कर ‘आई लव यू टू.

वैसे तो मुझे चुदाई का कोई अनुभव नहीं था, ना ही उसको… लेकिन मुझे सब पता है क्योंकि मैं लगभग हर दिन अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ता हूँ और सेक्स की वीडियो देखता हूं।फिर मैंने अपनी बहन की पैंटी पकड़ कर नीचे सरकाई और निकाल कर उसकी चूत को सूंघने लगा. वो काफ़ी समय के बाद सेक्स कर रही थी, इसलिए बाबा की जीभ की हरकत उसे काफ़ी मस्त लग रही थी. मैंने कहा- उसको चाट लो, बहुत अच्छा लगेगा!वो बोली- दीदी, मैंने कभी चाटा नहीं है, क्या आप चाटती हो?मैंने कहा- हाँ, बहुत अच्छा लगता है।फिर मैं उठी और अनुप्रिया की चूत को खूब चाटने लगी.

डैड और उनके दोस्त थोड़ी देर बाद ड्रिंक्स और अपनी बातों में बिज़ी हो गये. मैंने हां कर दी तो भाभी मेरे ऊपर आ गईं और अपने आप ही अपनी चुदाई करवाने लगीं. मैंने जूली से पूछा- तुमने तो 6:00 बजे आना था?जूली ने बताया- मेरी मम्मी को कुछ दवाइयों की जरूरत थी, अतः मार्केट से दवाइयां खरीद कर मम्मी को दे कर आई हूँ और उनको बोल कर आई हूँ कि मुझे दोबारा नाइट शिफ्ट में होटल जाना है.

उसका इतना बोलना था कि मैं परमानन्द को प्राप्त हुई, अपने शिखर पर पहुँच कर मेरा माल गिर गया और ओर्गास्म के साथ ही मैं मछली जैसे छटपटाने लगी.

बीएफ फिल्म सॉन्ग: मैंने उसको बताया कि लड़की की चूत में बहुत लचीलापन होता है और वह बड़े से बड़ा लंड अपने अंदर ले सकती है. भाई का साला दो दिनों बाद ही आ गया और उसका बहुत अच्छी तरह से स्वागत किया गया.

विक्रम आश्चर्य से- सच्ची?फिर उसको अपनी गलती का एहसास हुआ और बोला- म… मेरा मतलब है… नहीं…मयूरी- अरे कोई बात नहीं… सच्ची…और ऐसा बोलते हुए मयूरी ने खुद ही विक्रम का हाथ पकड़ कर अपने चूचियों पर रखवा लिया. मामी की हवस भरी नज़रों ने यह बात नोटिस कर ली थी और वो थोड़ा सा मुस्कुराई भी!उस दिन मैं यह बात समझ गया कि आग दोनों ही तरफ लगी है, मेरी कामुक मामी पहले से ही मेरा शिकार करना चाहती हैं पर उनको यह नहीं पता था कि मैं भी बहुत बड़ा शिकारी हूँ, मुझे तो तलाश ही रहती थी चूतों की… जो कि अब मुझे मिल चुकी थी, वो भी ऐसी कि जहाँ मैं जब चाहूं तब शिकार कर सकता हूँ. लंबे टाइम तक मैं उन्हें किस करता रहा, किस करते करते उनकी चूची को भी दबाता रहा.

वो बोलीं- कर दो… आज तो तुम मेरे साथ जो करना चाहो, कर दो… ह्म्म्म्म म.

इसलिए मैंने उसको अपनी मेल आईडी के साथ ही पिंकी की मेल आईडी भी दे दी. आआआ आअहह उई उम्म्म्म…”फिर मैंने धीरे से उनकी चूत की फांकों को खोला और अन्दर से उनका चना सा दाना दिखने लगा, तो मैंने अपनी जीभ से उसे छेड़ दिया. मैं एकदम से पीछे हट गया तो उन्होंने मेरा सिर पकड़ कर फिर से चूत पर मुँह लगा दिया.