बीएफ चुटकुले

छवि स्रोत,चाची कि चुत

तस्वीर का शीर्षक ,

व्वेक्सएक्सएक्सएक्स: बीएफ चुटकुले, गीत ने एक मिनट बाद गेट खोला और हम दोनों ने पहली बार एक दूसरे को देखा.

देसी सेक्सी एचडी

मेरी उसी हालत में भाभी ने मेरे पूरे बदन की बर्फ से सिकाई की जिससे मुझे थोड़ी ठंडक मिली. सील तोड़ सेक्सी वीडियोदिनांक 3 फरवरी 2021 को प्रकाशित मेरी कहानीकिस्सा-ए-दफ्तरी चुदाई-3के अंत में मैंने आपसे वायदा किया था कि इस कहानी से जुड़े दो पात्रों की चुदाई का क़िस्सा भी मैं आपसे शेयर करूँगा.

लंड अन्दर लेते ही मां ने अपनी टांगें चौड़ा दीं और मेरे नाम की सिसकारियां लेने लगीं- आंह विशुऊऊऊ अह आह!मैं मां के ऊपर पूरा लेट गया और पूछा- क्या दर्द हो रहा है जान?मेरी मां रज्जी- नहीं हम्म्म्म …मैं- मजा आया!मेरी मां रज्जी कुछ नहीं बोलीं और उन्होंने आंख बंद करके मेरी पीठ पर हाथ रख दिया. సెక్స్ వీడియో హిందీలోएक चूची पर हाथ फेरते हुए मैंने दूसरी चूची मुंह में ली तो वो सिसकियाँ भरने लगी.

धीरे धीरे मैंने अपना एक हाथ उसकी मस्त चिकनी गांड पर रख दिया और बारी बारी से उसके दोनों चूतड़ों को सहलाने दबाने और मसलने लगा.बीएफ चुटकुले: वो उस पल कहना तो बहुत कुछ चाहती थीं पर शायद उनको अभी अपनी सांसें काबू में करनी थी.

घर वालों के लाख जोर देने के बावजूद भाभी ने दूसरी शादी करने से मना कर दिया था.लेकिन उस खूबसूरत मासूम चेहरे के पीछे एक जंगली औरत थी, जो 3 घंटे से मुझे अपनी वासना के लिए दर्द पर दर्द दिए जा रही थी.

व्हिडीओ एक्स एक्स - बीएफ चुटकुले

मेरी उत्तेजना बढ़ने लगी थी और अब मैं बुआ के हर अंग को भलीभांति महसूस कर सकता था.बहू ने भी धक्के लगाना बंद करके मुझे अपने दूध पिलाने लगी, नीचे उनकी चूत से रिसता दूध भी मेरे लंड को नहलाता हुआ झांटों को भी नहला रहा था.

चाची ने हंसते हुए मेरी मम्मी की एक चूचि उनके ब्लाउज के ऊपर से पकड़ ली और जोर से दबाने लगीं. बीएफ चुटकुले पर शीना मेरा सारा माल उंगलियों से साफ करके अपनी मां की तरह चाट गयी.

हैलो फ्रेंड्स, मैं आपको सेक्सी लड़की की चुदाई की कहानी के पहले भागमेरे दोस्त ने मेरी दीदी के कपड़े उतरवा दिएमें बता रहा था कि मेरी दीदी ने अपनी पैंटी उतार दी थी और वो मेरे दोस्त से अपनी चुत ढकने के लिए कह रही थीं.

बीएफ चुटकुले?

इससे पहले वो गिरती, मैंने उसे सहारा दे कर पकड़ लिया।नीतू ने मुझसे उसे बाथरूम ले चलने को कहा तो मैंने उसे अपनी गोद में उठा लिया। नीतू ने बाथरूम का दरवाजा खोला और मैंने उसकी दोनों टांगें कमोड के इधर उधर करके उसे कमोड पर बैठा दिया।जैसे ही नीतू मूतने को हुई लेकिन मूत न सकी. अब मैं बड़ा हो चुका था, देश के श्रेष्ठ योद्धाओं में मेरी गणना होती थी. जब कोई लड़का मेरे चूचे दबाता था तो मैं बहुत ज्यादा अच्छा फील करता था.

पहले आप प्रॉमिस करो कि आप अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकाल कर मुझे सताओगे तो नहीं?” अदिति ने झिझकते हुए कहा. थोड़ी देर बाद मैं बेड से नीचे उतर आया और उसको बेड के किनारे लिटा दिया; उसकी गांड के नीचे तकिया रख दिया जिससे उसकी चुत ऊपर को हो जाए. इसके बाद उन्होंने मुझसे बोला- आओ बहुत देर से खड़ी थक गई होगी, बैठ जाओ.

‘मेरे ऊपर चढ़ कर आप क्या करोगे?’अंकल- वो ही करूंगा, जो एक मर्द औरत के ऊपर चढ़ कर करता है. मैंने होंठ छोड़ दिए तो वो लम्बी सांस लेती हुई बोली- आह मार ही दिया यार तुमने … अब आगे करो या ऐसे ही घुसेड़े रहोगे?मैं मन में सोचने लगा कि साली की चुत में अभी एक चौथाई लंड ही घुसा है और समझ रही है कि इसने पूरा लंड लंड खा लिया. फिर सिसकारते हुए सुरजन बोला- उफ् … संतरे की फाड़ जैसी दिखती है तेरी मस्त चूत भाभी!मैं- तो इस फाड़ी का रस चूस लो मेरे राजा! आह्ह … निचोड़ लो इसके रस को!उसने मेरी चूत पर जीभ से कुरेदा तो मैं तड़प उठी- उफ … सुरजन … खा जाओ मेरी चूत को!सुन्दर बराबर मेरे दूधों को मसल रहा था, दबा रहा था.

शन्नो मेरे लंड को चूसने में लगी हुई थी, तो मैंने उसकी पैंटी में हाथ डालकर चूत को सहलाना चालू कर दिया और चूत में उंगली डालने लगा. मैंने उसे उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और उसके ऊपर लेट गया, उसकी चूत में जोर से धक्का लगाया.

उसके बाद वो अपने घुटनों पर बैठ गई और मेरी चड्डी दोनों हाथों से पकड़ कर उतार दी.

वो बोले- सहलाओ इसको जान!मैं धीरे धीरे सहलाने लगी उनके लंड को!वो मेरे दूध को दबाने लगे.

मां पहली बार शहर आयी थीं और उन्हें यहां के रहन-सहन को देख कुछ समझ नहीं आया. मैं फ़लक का नाम सुनते ही रोमाँचित हो उठा और पूछा- क्या तुमने उससे बात की थी?यामिना- जी, उसको मैंने जाते ही बता दिया था, फ़लक बहुत खुश थी. मैं उनके गले से लटक कर झूल गई और हम दोनों एक दूसरे को प्यार करने लगे.

उसके घर वाले भी जानते हैं।मैं सोच में पड़ गयी- इतना बड़ा धोखा?इतने में ही सुन्दर ने मेरी साड़ी खींची और मैं घूमती गई. हम जूनियर्स कॉलेज में कहीं भी आते जाते थे तो सीनियर दोस्तों की वजह से हमारी हॉस्टल में कोई रैगिंग नहीं करता था. चूत की दीवारों से घिस घिसकर लंड फिसल रहा था।तभी मैं सिसकारी- उफ सुरजन … मुँह में दे दो अपना मोटा लंड!उसने मेरे मुंह में लंड दे दिया और सिसकारते हुए चुसवाने लगा।अब नीचे से सुन्दर चूतड़ उठा उठाकर पेलने लगा.

लंड के अन्दर जाते ही मां भी एकदम से मदमस्त हो गईं और कामुक सिसकारियां भरने लगीं.

अब मैं और ज़्यादा तड़पने लगी।मैंने अपना हाथ लुंगी के ऊपर से ही उनके लंड पर रखा और लंड को पकड़कर दबाने लगी।इधर उन्होंने अपनी एक उंगली मेरी चूत में डाल कर मुझे और ज़्यादा बेचैन कर दिया।उनका दूसरा हाथ मेरे बूब्स पर था. भाभी ने मुझसे पूछा- गर्मी ठीक से शांत हुई थी कि नहीं?मैंने कहा- भाभी मेरी तो आत्मा तृप्त हो गई थी. मां की चुत से पानी निकलने की वजह से मेरी और मां की चुत का इलाका पूरा भीग गया था.

हम दोनों रोज सुबह अंधेरे में किसी कोने में कभी चूमाचाटी करते … तो कभी मैं उसके बूब्स दबाता, चुत को सहला देता या कभी वह मेरा लंड चूस देती. बुआ के मुँह से चोदना शब्द सुनकर मुझे बिल्कुल अच्छा नहीं लगा … पर मैं होता कौन था पति पत्नी के बीच बोलने वाला. थोड़ी देर में मेरी मां रज्जी ने अपने होंठ हटा लिए और हमारा किस रुक गया.

मैं कार में से में निकला, घर खोला और आस पास देखा कि कोई देख नहीं रहा है, तो मैंने सादिका को बुला लिया.

मैंने झट से आंखें खोलीं और पूछा- ये क्या कर रहे हो?एक ने अपने लंड की तरफ इशारा करके कहा- भाभी, यहां से मलाई निकालनी है, इसके लिए आपकी मदद चाहिए. मैंने ध्यान से देखा कि मेरी दीदी रमेश की अंडरवियर में उसके फूले हुए लंड को को देख रही थीं.

बीएफ चुटकुले कुछ दिनों बाद किसी बात के कारण मेरी और उसकी सगाई टूट गई लेकिन उसकी और अपनी जिंदगी की पहली लड़का लड़की चोदा चोदी आज तक नहीं भूली है. उन्होंने मेरे होंठों को चूमना शुरू कर दिया और ताबड़तोड़ चुदाई करने लगे.

बीएफ चुटकुले मेरे रसीले मम्मों को देखकर उसने सीधे अपने होंठ मेरे बूब्स की गली के बीच में लगा दिए और अपनी जीभ और होंठों से मेरे उभारों को चूमने और चाटने लगा. चाची हंसती हुई बोलीं- कमाल है, आज तक मैं मालिश न करने के बहाने बनाती थी और आज तू मना कर रहा है … क्या बात है?मैं- अरे चाची क्यों मज़े ले रही हो … पहले ही मेरी हालत बहुत पतली हो गयी है.

फिर 9:00 बजे से पहले ही मेरी पड़ोसन भाभी भी तैयार होकर मेरे घर पर आ गईं.

कुंवारी लड़की की बीएफ

तभी पापा ने मम्मी की बदन से चादर खींचकर हटा दी और अपनी चड्डी उतार दी. भाई बहन की सेक्सी स्टोरी का अगला भाग:छोटा भाई मेरी चुत का चोदू बना- 3. मैं अपने हाथ में जीजा जी का लंड पकड़ने की कोशिश कर रही थी, पर पूरा लौड़ा नहीं पकड़ पा रही थी.

उसने मेरा हाथ हटाते हुए कहा- यह आप क्या कर रहे हो?मैंने कहा- प्यार कर रहा हूं. अभी तो आप अपनी ड्रिंक एन्जॉय करो!” बहूरानी कोल्डड्रिंक का घूंट गटक कर बोली. उसकी सुहागरात नहीं हुई थी और मेरी पत्नी की डेलिवरी के लिए वो मेरे घर आ गयी.

पहले आप प्रॉमिस करो कि आप अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकाल कर मुझे सताओगे तो नहीं?” अदिति ने झिझकते हुए कहा.

अभय तो ममता को देखता रह गया, जो थोड़ी देर पहले तक लंड को लंड बोलने में शर्मा रही थी, वही अब उसका लंड खुद निकाल कर बेशर्मों की तरह चूस रही है. हाय … मोना दीदी … आह्ह … बहुत मजा आ रहा है … प्लीज … करती रहो … आह्ह … ऐसे ही … आह्ह।मैं बोली- अब तू मेरे ऊपर आ जा और ऐसे ही कर जैसे मैंने किया. रमण ने ऊपर से झाँका।अनीता का गोरा बदन, पैरों और हाथ में रेड नेल पेंट, खुले शॉर्ट घुंगराले बाल… कुल मिलाकर एक अल्हड़ मस्त सी लड़की लग रही थी वो!रमण ने प्यार से उसे गुडमॉर्निंग बोला। रमण ने उसे जूस पीने के लिए ऊपर आमंत्रित किया।प्रकाश को आने में अभी आधा घंटा था तो अनीता बोली- चेंज करके आती हूँ.

घुटनों का मूवमेंट कराने के दौरान कई बार उसकी गोरी गोरी जांघें दिख जातीं, एकाध बार तो उसकी पैन्टी भी दिख गई. आग दोनों तरफ लगी थी और हम दोनों ही चुदाई का मजा लेना चाहते थे लेकिन कभी एक दूसरे को बता नहीं पा रहे थे. मैंने चाची को खींचा और उनके मम्मों को निचोड़ते हुए जोर जोर से गांड मारने लगा.

अब न उसे सब्र था न मुझे; सो चुदाई का वो द्वन्द्व युद्ध सात आठ मिनट से ज्यादा न चल पाया और मेरे लंड से रह रह कर वीर्य की पिचकारियां से छूटने लगीं. शुरू में तो मुझे उल्टी सी होने को हुई पर फिर धीरे धीरे मैंने उसे चूसना ही शुरू कर दिया और फिर अजय का साथ देते हुए अंदर बाहर चूसने लगी।अजय भी उम्महह … उम्म … उमह्ह … करके सिसकारियाँ लेता रहा और मैं उसका लंड 2-3 मिनट तक चूसती रही।तभी अजय ज़ोर ज़ोर से आह … आहह … नेहा … आहह … करने लगा.

मैं उन दिनों की बात कर रहा हूं, जब मेरे दोस्तों का मेरे पास बहुत आना जाना था. कहानी के पिछले भागमौसी की जेठानी की मालिश करके चोदामें आपने पढ़ा कि मैंने मौसी की जेठानी की मालिश करके ओरल सेक्स किया फिर उसकी चूत चोदी. फिर मैंने अपने लंड का सुपारा गांड में डालने की कोशिश की पर लंड अन्दर नहीं जा रहा था.

उस लड़के में भी जितना दम था, उसने अपनी पूरी ताकत से धक्के लगाने शुरू कर दिए थे.

मैं भी नहाया धोया और जब मैं काम पर जाने के लिए निकला तो मैंने मां के पास जाकर कहा- मां, मैं जा रहा हूँ. ज मैंने पूरा मन बना लिया था कि आज शहज़ाद के लंड से रुबिका की नथ उतरवानी ही है, चाहे जैसे भी हो. मेरी बड़ी दीदी गर्भ से थीं, बाद में उन्होंने को एक बेटी ने जन्म दिया था.

कमर में शायद मोच आ गई है।मेरे बदन से चुन्नी ऊपर वाले हिस्से से सरक कर नीचे हो गई थी. आज एक अनजाने डर के कारण मैं जल्दी झड़ गया था, उसको भी ज्यादा मजा नहीं आया था.

मैंने वीर्य निकलने के बाद भी अंकल के लंड को चाटा और उनका लंड चाट चाटकर साफ कर दिया. मेरी चूत में खुजली तो होती थी पर मैंने अपनी कुंवारी बुर में कोई लंड लेने की सोची नहीं थी. फिर मैंने भी ना चाहते हुए भी अमित से हां कर दी, जिससे अमित बहुत खुश हुआ.

बफ ब्लू फिल्म बफ

और अपना हाथ बहूरानी की जांघ पर रख दिया और वहीँ रखे रहने दिया, फिर सहलाने लगा.

वह शर्मा गया लेकिन थोड़ी सी देर के बाद ही उसके लंड में जान भर गयी और लंड तनकर क़रीब 6 इंच का लंबा और खासा मोटा हो गया. दोस्तो, इस तरह मैंने एक आंटी शन्नो को रात भर चोदा और उसके साथ सुहागरात मनाई. ये चैट होते होते सेक्स चैट पर आ गई।नियाशा ने बताया कि उसका शौहर बिज़नेस के चक्कर में उसे ठीक से चोद नहीं पाता और उसमें चूत चुदवाने की बहुत आग भरी है।तब मैंने उसे अपने लंड की फ़ोटो भेजी.

मैंने चाची के पेटीकोट के अन्दर सर घुसा दिया और सीधा चुत को चाटने लगा. कुछ दिन बाद जब दीदी की बच्ची पैदा हुई थी, तब से मुझे उनको चोदने का और मन करने लगा था. सुहागरात की सेक्सी फिल्मथोड़ी देर बाद वो मुझसे बोले- बस खेलते ही रहोगे या इसको प्यार भी करोगे?मैंने कहा- हाँ करूँगा ना प्यार … बहुत प्यार करना है इसको आज!ये बोलकर मैंने उनके लंड का टोपा अपने मुंह में ले लिया और चूसने लगा.

मैं भी गांड हिलाने लगी तो उसने दोनों हाथों से गांड को फैलाया और मेरी चूत कुतिया की तरह पीछे उभर आई. अब वो भी लंड की लय में अपनी गांड हिला हिला कर मेरा साथ देने लगी थी.

चाची भी खूब हंस हंस कर उनका जवाब देती।अब इतनी बच्ची तो मैं भी नहीं थी, मुझे लगने लगा के तोमर साब और चाची में कुछ न कुछ चल रहा है।पर अभी तक ये ज़ाहिर नहीं हुआ था मगर कब तक छुपता।एक दिन मैं ड्राइंग रूम में पोंछा लगा रही थी और चाची किचन में बर्तन धो रही थी कि अचानक ज़ोर से बर्तन गिरने की आवाज़ आई. इतने में रीमा ने अपने होश सम्भालते हुए निखिल के चूतड़ों को पकड़ा और उन्हें सहलाने लगी. मैंने अफ़रोज़ से कहा- मैं लड़की वाला डायलॉग बोलूंगी और तुम लड़के वाला.

आज भाभी को देखकर मेरी भी नीयत खराब होने लगी थी, पर मैंने अपने आप पर काबू रखा. साढ़े दस बज चुके थे, वहां से निकलते समय मैंने पायल को व्हाट्सएप किया- हमने खाना खा लिया है और यहां से निकल रहे हैं, अगर मैं इसे रात को अपने पास रोक लूँ तो कैसा रहेगा?जैसे तुम चाहो, ऑल द बेस्ट दोस्त. मैंने हिना के करीब जाकर उसके होंठों पर किस किया और बाहर आ कर बैठ गया.

वो दर्द के मारे चिल्ला उठीं और बोलीं- आह … मर गई मम्मी रे … आह बहन के लौड़े मार देगा क्या … बता तो देता हरामी.

मैंने कॉल किया, तो गीत बातों बातों में फिर से रोने लगी और उसी ने फोन काट दिया. प्रिय पाठको, आपको यह औरत की चुदाई कहानी कैसी लगी?[emailprotected]औरत की चुदाई कहानी का अगला भाग:पेट्रोल पम्प पर झगड़े का हसीन फल- 2.

यह बात तब की है, जब अमित ने बोला था कि चलो डॉक्टर से सलाह ले लेते हैं कि तुम अभी मां बनने के लिए तैयार हो या नहीं. वो मादक सिसकारियां लेने लगी और चिल्लाने लगी- आह और ज़ोर से चोद मेरे राजा. मेरी बीवी ने सादिका से फोन करके कहा- आर्यन मुझे लेने आने वाले हैं … मैं उसी के साथ में ही वापस आऊंगी.

इससे थोड़ी ही देर में भाभी की चूत ने पानी छोड़ दिया और चूत गीली हो गई. और बहुत धीरे धीरे लंड को अंदर सरकाने लगा।उसका मोटा लंड मेरी चूत के छोटे से छेद को जबर्दस्ती खोलता हुआ अंदर घुसने लगा।मेरे मुंह से दर्द की हल्की हल्की स्सस्सी … स्सस्सी … स्सस्सी … स्सस्सी … निकल रही थी।जैसे ही अजय ने लंड थोड़ा और अंदर डाला मुझे और तेज़ दर्द होने लगा और मेरी आँखों से आँसू भी आने लगे. मेरी उसी हालत में भाभी ने मेरे पूरे बदन की बर्फ से सिकाई की जिससे मुझे थोड़ी ठंडक मिली.

बीएफ चुटकुले लगभग 15 मिनट बाद मैं उर्वशी के ऊपर से उठा और उसकी चूत से अपना लंड बाहर निकाला. कुछ देर बाद शन्नो की सिसकारियां कम हुईं तो वो बोली- हां राज, अब मजा आने लगा है … अब और तेज़ तेज़ चोदो आह अपनी इस शन्नो को चोद दो … आह क्या मस्त लंड है.

سنی لیون سیکس

मैं वो स्लोगन सोच कर मन ही मन मुस्कुराने लगा कि दाग अच्छे होते हैं. वर्जिन गर्ल की सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी बीवी की कुंवारी सहेली जिद करके मुझसे चुदी. मैंने अपनी गर्दन ‘न’ में हिलाते हुए यामिना को बताया कि फ़लक पढ़ाई-लिखाई में तो बिल्कुल जीरो है बाकी मैं उसे कुछ प्रैक्टिकल ट्रेनिंग देकर तैयार करने की कोशिश करूंगा, शायद बात बन जाये.

मुझे भौं भौं करते देखकर वो बोली- आ गया अपनी औकात पर!मैंने कहा- मालकिन, गुलाम ऐसे ही होते हैं. जीजा जी ने मेरे टॉप को ऊपर कर दिया और मेरे मम्मों को अपने अपने होंठों से चूसना शुरू कर दिया. सनी लियोन एक्स एक्स एचडी वीडियोमैंने उसके मुँह से उसके होंठों में एक जोरदार चुंबन करके अपना मुँह हटा दिया.

ले जाकर बोली- देख लड़की, छुपाना मत। सच बता कितनी बार लेट चुकी हो नीचे?मैं एकदम से हैरान रह गयी.

हम दोनों कार में बैठे तो मैंने उससे पूछा- उसी जगह चलें या कोई नई जगह?कुछ नया ट्राई करते हैं. थोड़ी देर बाद उन्‍होंने अपना हाथ मेरे कंधे के ऊपर रख दिया और साइड से मेरी बांह को सहलाने लगे.

जब मैं हल्की सी झुकी, तो उन्होंने मुझे मेरे दोनों हाथ मेज़ पर टिकाने को बोला. दोस्तो, मेरा नाम मोना है। मैं अन्तर्वासना की नियमित पाठिका हूँ। सबकी कहानी पढ़ने के बाद मेरा भी मन हुआ कि मैं भी नंगी बहन की चूत कहानी बताऊं. आज तक उसने अपने यहां काम करने वाली मजदूर औरतों की हर तरह की चूतें चोदी थीं … पर ज्यादातर सभी ढीले और फटे भोसड़े थे.

उन्होंने मुझसे खड़े होने को बोला और मेरे खड़े होते ही मेरे नीचे से स्टूल हटा दिया.

आप लोगों को मेरी यह सच्ची मौसी Xxx चुदाई कहानी कैसी लगी, कृपया मुझे मेल करके बताएं. उसने मुझे घुमा फिरा कर ये बता समझा दी थी कि अगर मैं उससे चुदवाने में नाटक करूंगी … तो वो रोहित से हुई मेरी चुदाई की बात को पापा से बता देगा. मामी जी- ओह्ह्ह … और जोर से चोदीईईए राहुल ओह्ह्ह ओह्ह्ह उंह मेरीए चूत पानी छोड़ने वाली है … ओह्ह्ह्ह राहोहुल ओह अह ओह उईईई म्ह्ह्ह सीईई ईईईई ओह.

चूत वीडियो चूत वीडियोमीरा ये सब खेल बगल में लेटे हुए देख रही थी और रीमा के बूब्स दबा रही थी. मैं टहलते हुए सोच रहा था कि भाभी बड़ी दिलकश माल दिख रही हैं, इनसे बात कैसे करूं.

बीएफ बिहारी चुदाई

वो बोली- मैं किसी भी तरह की कसम खाने को तैयार हूँ कि मैं कल रात तक एकदम कुंवारी थी. मां बोलीं- बेटा, मेरे ब्लाउज का तो हुक बंद ही नहीं हो रहा है, तू छोटी साइज का ब्लाउज ले आया है. फिर घूंघट उठा मेरे होंठों को धीरे से चूमते हुए बोले- वाह … क्या खूबसूरती की मूरत हो।धीरे धीरे कपड़े बदन से हटते गए और मुकेश ने मुझे बांहों में कस लिया।उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया और अपने अकड़े लंड पर रख दिया.

वो जल्दी गहरी नींद में सो गई।गुलाब नीचे ही आ चुका था, सब देख रहा था, मुझे इशारा कर रहा था कि दूसरे कमरे में आ जा।सास की हालत उठने लायक नहीं थी. उसने कहा- मैं आपकी गर्लफ्रेंड बनना चाहती हूँ … क्या आप बनाएंगे?मैंने कहा- नहीं. हुआ यूं था कि जब शादी के बाद मैं अपनी ससुराल आई तो मुझे मेरे हस्बैंड से बहुत प्यार मिला.

तभी मीरा ने सोने का बहाना करते हुए कहा कि मैं सोने जा रही हूँ, रीमा तुम भी टीवी देखने के बाद मेरे कमरे में आकर सो जाना. थोड़ी देर तक चूमने के बाद वो उठे और बोले- शबनम, मैं अहमद को बाहर ले जाता हूँ. मैं- पर भाभी दूध कहां से लाओगी आप! मुझे तो स्तनों को चूस कर ताजा दूध पीना पसंद है.

मैं उसको सहलाते हुए, प्यार करते-करते उसको सुख देने की कोशिश कर रहा था. भाभी- देख मैं इसे तेरा दूध पिलाने तैयार करूंगी … लेकिन तुझे मेरे सामने ही इसे दूध पिलाना होगा … मंजूर हो तो बोलो?बंगालिन भाभी- ठीक है जैसे भी हो मेरा दूध बस निकल जाए, बड़ा दर्द रहता है.

लड़कियों की चूतों ने कभी इतना पानी नहीं छोड़ा होगा, जितना इस सेक्स कहानी पढ़ने के बाद आपकी चूत में से निकलने वाला है.

मैं मां से चिपक गया और मां के कान में बोला- आज मैं जल्दी नहीं थकूंगा. நியூ செக்ஸ் வீடியோஸ்मेरी हॉट गर्लफ्रेंड सेक्स के लिए मचल रही थी तो मैंने भी मीतू की बात मान कर लंड चूत में पेल दिया. तिरपल एक्स व्हिडीओइस तरह से मैं हंसते हुए गोविन्द से छूट कर उन दोनों को बाय बाय करते हुए कमरे से निकल गई. वो बोली- तो तुम करवा दो न मुझे एक्सपीरियंस?मैं बनावटी गुस्से में बोला- ये बोलने से पहले थोड़ी शर्म भी कर लेतीं.

थोड़ी देर बाद मेरे लौड़े ने गर्म वीर्य की धार छोड़ दी और शन्नो की गांड भर दी.

वो शर्मा गई और बोली- अब तारीफ़ हो गई हो … तो मैं बैठ जाऊं!मैंने अचकचा कर कहा- अरे हां हां क्यों नहीं बैठो न … सॉरी मैं तुम्हारी खूबसूरती में इतना ज्यादा खो गया था कि मुझे कुछ ख्याल ही न रहा. नवीन के लंड को हुर्रेम ने फटाक से अपने मुँह में गले तक घुसा लिया, जिससे नवीन की कामुक सीत्कार निकल गई. तभी जैसे चाची को होश आया, वो खुद को मुझसे छुड़ा कर बोली- चलो अब चलते हैं.

मेरी मौसी का काफी बड़ा सिलाई सेंटर है, जिससे उनकी काफी अच्छी कमाई हो जाती है. मैंने उसकी चूचियों को मसलना और तेज़ तेज़ कर दिया और गपागप गपागप चोदने लगा. फिर जब रितेश ने उससे कहा कि उसको रात को मीरा के घर सोने जाना होगा, तो वो दोगुनी खुश हो गयी.

एक्स एक्स एक्स बीपी न्यू

फिर मैं रात होने का इंतज़ार करने लगा क्योंकि रात में हम दोनों फोन पर बात करते थे. जिसमें एक राजकुमार ने तीन कुंवारी राजकुमारियों की चुदाई के लिए क्या क्या पापड़ बेले और अंततः उन तीनों की चुदाई भी की. अब हरीश मस्ती से सुम्मी के मम्मों को मसल रहा था और उसे धकाधक चोद रहा था.

फिर मैंने कृति को पलंग से उठाया और खुद लेट कर कृति को ऊपर आने का इशारा किया.

मैं चुपके से एक उत्तेजना बढ़ने वाली गोली ले आई और शाम को रुबिका को जूस में मिला कर दे दी.

मैं सोच रहा था कि मुझे उर्वशी से ज्यादा प्रज्ञा पसंद थी और ये बात उर्वशी को भी पता थी. फिर उसने बताया था कि तुम मस्त चोदते हो। मैंने चूत चुदाई का प्लान बनाया और आज तेरा लौड़ा मेरी चूत में है।अब मैं सब समझ गया और लन्ड को निकाल कर जोर का धक्का लगाया. मराठी एक्स एक्स एक्स सेक्सी वीडियोफिर बहूरानी मेरे लंड पर अपनी चूत रख कर बैठती गई और पूर लंड लील गई फिर वो मुझे देख कर मुस्कुराई और फिर अपनी एड़ियों के सहारे बेड पर उल्टा घूम गयी जिससे उसकी पीठ मेरी तरफ हो गयी, लंड अभी भी उसकी चूत में धंसा हुआ था.

नेहा- यार ममता, एक बात तो बता कि अभय भैया ने जो ग्रुप चुदाई का बताया था … वो क्या था. मैं बहुत देर से चेयर पर बैठा लौड़े को बाहर किये अपने हाथ से ऊपर नीचे कर रहा था. मेरी बात सुनकर वो मुस्कुरा दी, उसे मेरे मुँह से मालकिन शब्द अच्छा लगा.

पांच मिनट बाद वो लंड से हट गई और पलट कर मेरी तरफ मुँह करके मेरी गोद में बैठ गई. उसे अपने लंड पर और उसकी चूत में भर दिया और उसे झुकाकर दीवार के सहारे घोड़ी बना दिया.

चाची से सब कुछ बता देने के बाद से मैंने भी उनके मम्मों को देखना बंद कर दिया था.

मैंने पास में रखी डेरी मिल्क उठाई और शन्नो को खिला कर कहा- मेरी रंडी, तुझे सुहागरात मुबारक हो. मगर हरीश किसी कसाई की तरह सुम्मी की चुत को फाड़ता रहा और पूरा लौड़ा चुत में पेवस्त कर देने के बाद वो जोर जोर से झटके मारने लगा था. उनके सीने से लगे रहने से मेरे दोनों मम्मे अंकल के सीने में गड़ गए थे और वो मेरी पीठ पर हाथ फेर कर मुझे चिपकाए रहे थे.

एक्स एन एक्स कॉम मैंने अपना लंड हाथ में लिया और लौड़े का सुपारा गांड के छेद में सैट कर दिया. मुझे फीडबैक दें। आपके मैसेज का मैं इंतजार करूंगा।मेरा ईमेल आईडी मैंने नीचे दिया हुआ है। कहानी पर कमेंट करना न भूलें।[emailprotected].

मैं पीछे ही खड़ा था, तो मैंने कसके उन्हें पीछे से पकड़ लिया और उनके खूबसूरत मम्मों को दबाने लगा. सेक्सी गर्ल Xxx कहानी मुझे अनायास ही मिली एक लड़की के साथ सेक्स की है. इस तरह से मैं तो हमेशा शहज़ाद से चुदती रही लेकिन उसने मेरी तीनों बेटियों की झोली में भी उसने अपने लंड से ही खुशी भर रखी थी.

बीएफ हिंदी नंगा

जैसे ही मैं मुठ मारने लगा तो चाची बोली- अरे केदार, तू फिर से चालू हो गया?मैं खुद को संभालते हुए बोला- अरे चाची आप गयी नहीं?तब मैं पैंट की जिप बंद करते हुए बोला- हां चलो चाची. जीजा जी ने मेरे टॉप को ऊपर कर दिया और मेरे मम्मों को अपने अपने होंठों से चूसना शुरू कर दिया. मैं क्या कहूंगी उनसे कि मैं किससे चुदवा कर आई हूँ, अपने ही सगे भाई से? अब मेरा क्या होगा भैया? गलती मेरी ही थी, मेरी बुर में बहुत आग लगी थी … ले भुगत साली.

एक बार रात को जसविंदर को सोता हुआ छोड़कर हनीप्रीत छत फांदकर मेरी छत पर आ गई. हालांकि मुझे भी ऐसे कई मौके पड़े थे, मैंने रुक रुक कर आठ से दस पैग दारू पीकर अपने क्लाइंट्स को भरपूर चुदाई का सुख दिया था.

वो मेरे सर पर हाथ रख कर कह रहा था- आह आह शालू … यू आर अमेजिंग डार्लिंग … आह सक माय टूल!मैंने हाथ में उसका लंड पकड़ा और उसे ऊपर करके उसकी गांड के छेद को चाटने लगी.

मंजू- क्या सोचने लगी, क्या सच में अभय ने ही पसंद की थी?ममता- यस माय डियर मम्मी. जैसे ही वे दोनों मेरे रूम में दाखिल हुई, रूम फ़लक के पर्फ्यूम और हुश्न से महक उठा. फिर मैंने मिहिका के होंठों को अपने होंठों के साथ जोड़ लिया और तगड़ा झटका दे मारा.

यह बोलकर मैं शीना की पांव की तरफ आया और पहले मैंने उसकी नाभि में अपनी जीभ चलानी शुरू कर दी. मैं- अरे वो क्या करने को दिल करता है ये तो बता?मैंने इठलाकर पूछा, तो वो बोला- आपा इनको सहलाने का और इनका रस पीने का. तो सर तेजी से चाची की गांड मारने लगे और चाची सिसयाने लगीं- आहह आह ओह सर प्लीज धीरे धीरे आह प्लीज छोड़ दो.

मैंने ब्रा को सरका कर एक निप्पल अपने होंठों में दबा लिया और चूसने लगा.

बीएफ चुटकुले: वहां मैं, मेरी मां, बड़ी मां, उनका बेटा और उनकी छोटी बेटी भी रहती थी. मुँह पर मैंने स्कार्फ बांध लिया था ताकि कोई पहचान न सके।गली में घुसकर मैंने एक बजुर्ग से पूछा कि यहां कश्मीर के कारीगर रहते हैं, लकड़ी का काम है।वो बोले- हाँ बेटी, वो सामने जो लाल गेट है उसी में रहते हैं।मैं- जी शुक्रिया.

धीरे धीरे मैंने अपना एक हाथ उसकी मस्त चिकनी गांड पर रख दिया और बारी बारी से उसके दोनों चूतड़ों को सहलाने दबाने और मसलने लगा. हैलो फ्रेंड्स, मेरा नाम नीरज है और अन्तर्वासना पर ये मेरी पहली सेक्स कहानी है. कोई दिक्कत है क्या?मैंने कहा- हां शायद ये आगे से सही से सैट नहीं हुई है.

मैंने कहा- साली छिनाल आज इतना क्यों चिल्ला रही है … साहिल आ गया तो तेरी बदनामी हो जाएगी.

करीब रात दो बजे मेरी आंख खुली तो मौसी सीधी होकर पीठ कर बल लेटी थीं. आज वेदांत सारा दूध पी गया और बाकी दूध की मैंने खीर बनायी, जो अभी तुमने खायी है. मैं उन दिनों की बात कर रहा हूं, जब मेरे दोस्तों का मेरे पास बहुत आना जाना था.