सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी बीएफ

छवि स्रोत,मोटी लड़कियों का बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

मसाला बीएफ: सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी बीएफ, दोस्तो, मैं आशा करता हूँ कि आपको आंटी की बेंगाली सेक्स कहानी अच्छी लगी होगी.

भाभी सेक्सी बीएफ हिंदी

अब मैंने चूत में उंगली करने की स्पीड बढ़ा दी और उसकी प्रतिक्रिया में उसने भी मेरा लंड हिलाना शुरू कर दिया. बीएफ बीएफ सेक्सी बीएफ बीएफ बीएफमैं उनके इतने करीब थी कि अपनी निजी जिंदगी से जुड़ी हुई बातें मैं बस उन्हीं से शेयर करती थी और वो भी मुझे हमेशा अच्छी सलाह ही देते थे.

मैंने कहा- भाभी क्या हुआ?वो कहने लगीं- अचानक पेलने से दर्द सा होता है, इसलिए डर से आगे हो जाती हूँ. इंडियन लड़की की चुदाई बीएफइतने में सुशी जी अपनी चुत को टाइट करने लगी थीं तो मैं समझ गया कि इनका तो काम तमाम होने वाला है.

उन्होंने फिर से बोला- मैंने तुमसे कुछ पूछा योगी … तू कब आया और कैसे आना हुआ?मैंने उनके मम्मों को देखते हुए कहा- आया तो 15 मिनट पहले ही था.सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी बीएफ: पूरा हफ्ता इंट्रो और कंपनी पॉलिसी की ट्रेनिंग थी तो हम दोनों एक दूसरे के काफी करीब आ गए थे.

इससे मुझे लग रहा था कि शायद आज दीदी आशीष ने मिलने वाली हैं, इसी लिए घर खाली कराने में लगी हैं.सरिता भाभी ने देखा कि विजय तो नहा रहा है, तो उसको विजय को नंगा देखने की लालसा जाग गई.

बीएफ वीडियो बीएफ वीडियो फिल्म - सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी बीएफ

दो साल पहले ही शरद ने मुझे मेरे जन्मदिन पर एक अच्छी कार भी गिफ्ट की है और उसे चलाने के लिए मैंने एक ड्राइवर भी रखा है.मैंने कमर से अर्शिया की चड्डी को पकड़ा और धीरे से नीचे को खींच दिया.

अब सरोज की रफ्तार कम होने लगी, तो मैंने उसे उठाकर बिस्तर पर लिटा दिया और उसके पैरों को मोड़कर चोदने लगा. सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी बीएफ मैं बोल देता कि मौसी क्या करूं, सारा दिन ऑफिस में काम करके थक जाता हूँ और इतवार को बीवी और बच्चों के काम निपटाने में ही बीत जाता है.

मैंने कहा- ठीक है लेकिन वो कब आएगी?सरोज बोली- रात को भाई और अम्मा के सोने के बाद मैं खुद मालती को रूम में छोड़ने आऊंगी.

सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी बीएफ?

मैंने उंगलियों में उसके रस को लिया और सूंघ कर उसको अपनी जीभ पर लगाया।लंड के रस को मुंह में लेना मेरे लिये आम बात थी क्योंकि कर्ण भी चोदने के बाद अपना रस पिलाता था और मेरी चूत के रस को चाट जाता था।अब मेरे दिमाग में एक खुरापात आयी, मैंने कैमरा निकाला और उसको सेट करके चालू कर दिया।मैं उसकी हरकत देखना चाह रही थी।कैमरा सेट करने के बाद मैं वापिस लेट गयी. रोज तो वो मेरे होंठों को चूसते थे … परंतु आज उन्होंने ऐसा नहीं किया. मेरी मौसी के दोनों बेटे बाहर नौकरी करते हैं और मौसी अकेली ही रहती हैं.

सब ठीक हो जाएगा, ये दिन ऐसे चले जायेंगे कि तुम्हें पता भी नहीं चलेगा. बड़ी मौसी का घाघरा कमर तक उठा हुआ था, अब्बू का पायजामा जमीन पर पड़ा हुआ था और अब्बू बड़ी मौसी को चोद रहे थे. तो राजू ने गौरी को अपनी गोद में बिठाया और अपना लंड उसकी चूत में कर दिया और फिर गौरी से बोला- चल ऐसे ही चाय पिएंगे।अब ऐसे चाय क्या खाक पी जाती।एक दो घूंट में ही चाय गुड़क कर राजू ने गौरी की बढ़िया वाली चूद चुदाई करी.

मैं कोई बॉडीबिल्डर नहीं हूँ, न ही हीरो हूँ … बस एक सादा सा जवान लड़का हूँ. ये जानकर मैं बहुत निराश हुआ क्योंकि मैं अभी भी उससे बहुत प्यार करता था. मेरी सांसें तेज तेज चल रही थीं क्योंकि मैंने पहली बार किसी मर्द का लंड देखा था.

अब्बू ने अपना कुर्ता निकाल दिया और पूरी तरह से नंगे होकर मुझसे लिपट गये. उस दिन से मैंने पूरी फिल्म देखी थी और मैं तुम्हारे दमदार शॉट्स की दीवानी हो गई थी.

तो मैंने पूछ लिया- शीना, क्या तुम मेरी गर्ल फ्रेंड बनोगी?उसने झट से हां में रिप्लाई कर दिया.

उसने- तुम साड़ी ही पहनती हो या कभी जींस टॉप या मिडी स्कर्ट भी पहना है!मैं- जी, सिर्फ साड़ी ही पहनती हूँ.

लेकिन उसने मुझे कभी ये नहीं बताया था कि उसके और गमन के बीच क्या हुआ है. ये सब निशा ने मुझे सरल शब्दों में ही बताया था लेकिन कहानी को रोचक बनाने के उद्देश्य से मैं अपने शब्दों का प्रयोग कर रहा हूँ. वहां पहले हम दोनों ने सिगरेट पी और साली साहिबा मेरे लंड के आगे अपनी गांड लगा कर खड़ी हो गई.

भाभी मेरे सीने पर नंगी पड़ी अपनी धौंकनी सी चलती साँसों को स्थिर करने की कोशिश कर रही थीं. मैंने अपनी उंगली निकाल कर उसे कमोड पर बिठाया और उसकी टांगों को फैला कर अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया. ये जानकर मैं बहुत निराश हुआ क्योंकि मैं अभी भी उससे बहुत प्यार करता था.

एक ही झटके में उनके शरीर पर लटकी हुई ब्रा और ब्लाउज को अलग कर दिया.

मैं लेट गया, वो मेरा लंड पकड़ कर मेरे ऊपर आई और अपनी गांड के छेद पर लंड का टोपा घिस कर सैट कर दिया. मेरी चुत की दीवारों ने रस छोड़ना शुरू कर दिया था, जिससे उसकी उंगली चुत के अन्दर तक सटासट आने जाने लगी थी. अपनी मां को आजकल सभी पेलना चाहते हैं … लेकिन कुछ ही लोग चोद पाते हैं.

मैंने उससे कहा- जल्दी जल्दी चूस … तेज तेज चूस … रबड़ी खाने को मिलेगी. इस बार मैंने उसे थोड़ा जोर से उसे अपनी बांहों में उठाया और अपने सीने से लगा लिया. मेरे हाथ कभी भाभी के बड़े बड़े मम्मों को जोर जोर से मसलते तो कभी मैं अपनी दाढ़ी से और जीभ से गांड चूत को चूसते चाटने लग जाता.

वो बोले- देखूंगी का क्या मतलब है जान!मैंने कहा- अच्छा ठीक है, मैं अपने मन के मुताबिक़ सब करूंगी.

फिर उसके बाद फिर से यह देखने के लिए करेंगे कि चौकी में ज्यादा मजा आया या मेरे रूम में. मैंने पूछा- क्यों?उन्होंने व्हाट्सएप पर दारू का इमोजी बनाकर भेजा और मैं समझ गई.

सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी बीएफ इससे नील की ‘आह्ह इइइ … अहह मम्मम मीईई …’ की मीठी सिसकारियां मुझे बहुत उत्तेजित कर रही थीं. निशा चुप थी, शायद उसको समझ में नहीं आ रहा था कि वो क्या कहे और क्या न कहे.

सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी बीएफ उसकी चुत के गर्म पानी ने मुझे भी पिघलने पर मजबूर कर दिया और एक दो मिनट के बाद मैं भी झड़ने वाला हो गया था. उसकी मखमली गांड का टच मिलते ही तुरन्त मेरा दिमाग़ घूम गया क्योंकि मुझे गांड मारने का बड़ा शौक है.

मैंने तुरंत उस दूसरे लड़के की प्रोफाइल को देखा तो पता चला कि उसका नाम राज था.

ब्लू पिक्चर सेक्सी हिंदी में ओपन

आज से मेरा आप लोगों से रिश्ता खत्म!वो पांव पटकते हुए उधर से चली गई. फिर अचानक स्पीड तेज हुई और अंकल ने सारा माल (वीर्य) मां की चूत में छोड़ दिया. तो मैंने उन्हें टहोका- हां फिर!भाभी- फिर वो सब होने लगा जो आज तक चल रहा था.

इससे मुझे लग रहा था कि शायद आज दीदी आशीष ने मिलने वाली हैं, इसी लिए घर खाली कराने में लगी हैं. दोस्तो, मैं जयपुर से राज सिंह आपको अपनी पड़ोसन भाभी की लौंडिया निशा की चुदाई की कहानी में स्वागत करता हूँ. ”मैं थोड़ा सा और करीब होते हुए बोला- पिछले तीस सालों में मैंने हर मौके पर आपके परिवार की मदद की है और इज्ज़त पर आँच नहीं आने दी.

रास्ते में मुझे शरारत सूझी तो मैंने लंबा और सुनसान रास्ता ले लिया और जानबूझ कर ब्रेक ले-लेकर बाइक चलाने लगा.

मैं सोच रहा था कि इसकी इस छोटी सी चूत में मेरा साढ़े छः इंच का लौड़ा कैसे घुसेगा. खैर, मैंने भाभी से कहा- जी भाभी जी, ठीक है, मैं इसे पढ़ा दिया करूंगा. उसके साथ मस्ती करते करते मेरी नजरें कई बार उसके बोबों पर चली जाती हैं और उसी वक्त मेरा लंड खड़ा हो जाता है.

थोड़ी देर लंड चूसने के बाद मौसी फिर से खड़ी हो गईं और मुझे मेरे होंठों पर किस कर दिया. औसत से थोड़ा बड़ा ललाट, उस पर एकदम बारीकी से कटी हुईं आईब्रो, बड़ी बड़ी आंखें, ऊंची नाक … और इन सब पर भारी उसके लरजते होंठ. डायरेक्टर खिड़की की तरफ़ आया और दरवाजे खोल कर देखने लगा कि क्या हुआ था.

अब तो मैं कई बार छत पर जाकर भी उसके बाथरूम में उसके साथ ही घुस जाता था और उसकी चूचियां पीकर औरचूत चाटकर मजाकरके आ जाता था. उस टाइम मैंने उसको कैसे चोदा और कैसे उसकी गांड में लंड पेल कर बहुत भयंकर वाली चुदाई की.

हॉट लड़की की चुदाई कहानी में पढ़ें कि एक दिन मैं नंगी बाथरूम में अपनी चूत मोमबत्ती से चोद रही थी. वो बोली- अरे उधर कहां जा रहे हो, मेरे ही बाथरूम में नहा लो न!मैंने कहा- ओके. इस बीच सक्सेना की मृत्यु हो गयी है, मैं अब राजीव से और नवीन से सेक्स करती हूँ.

अब उसकी बातें मुझे अन्दर से गर्म करने लगी थीं … वो बहुत ही खुली खुली बात करने लगा था.

कुछ देर बातों का सिलसिला चला और अब हमारी ट्रेन मंजिल पर पहुंचने वाली थी. मैंने उसकी तरह ही जवाब दे दिया- देरी के लिए खेद है तो अब ये भी बताओ डियर कि ट्रेन कितनी देर से आएगी?वो समझ गया और हंस पड़ा. फिर उसने लंड बाहर निकाला और मैंने उसका चिकना लंड चुस कर साफ कर दिया.

जब तक हम दोनों के लंड चुत से पानी नहीं निकल गया, तब तक हम एक दूसरे को ओरल मजा देते रहे. चुत से लंड को जैसे ही बाहर निकाला, तो वो चूत के खून से और पानी से सना हुआ था.

मैंने भाभी को उकसाया कि आप जैसी सुंदर लेडी ने अमित जैसे मादरचोद को लिफ्ट कैसे दे दी!भाभी बहक गईं और बताने लगीं. शब्बो की चूत का रस गटकने के बाद मैं 69 की पोजीशन में आ गया और कुत्ते की तरह उसकी चूत चाटने लगा. मेरे मन में आ रहा था कि आंटी उंगली से क्या होगा … आप मेरा लंड इस्तेमाल कर लो … पर मैं ऐसा नहीं कर सकता था.

ज्योति की सेक्सी पिक्चर

मैं पलटा, तो आंटी पूरी तरह नंगी थीं और वो मेरे हाथ को पकड़कर मुझे अपनी तरफ खींच रही थीं.

मैंने वहीं पर अपना लंड निकाल लिया और उसकी जांघों और बूब्स के उभार को देखते हुए मुठ मारने लगा. पीहू ने भी लंड का काफी ज्यादा हिस्सा मुँह में लेकर चूसना चालू कर दिया. ये जून का महीना था और ट्रेन में काफ़ी गर्मी थी, जिस वजह से मुझे कुछ असहज लगने लगा था.

उस दिन के बाद से मैडम की चुत गांड मेरे लिए हर वक्त खुली रहने लगी थी. मैंने पूछा- मैडम, क्या आप नहीं जानती हैं कि मैं भी यहीं हूं … फिर भी आप ऐसा कर रही हैं. हिंदी बीएफ गंदीउनकी पैंटी की कुछ हिस्सा उनकी चूत की फांकों में धंसा हुआ था, मैं दीदी की चूत में जानबूझ कर उंगली डालकर उसे निकालने लगा.

मैं जीभ से ही उसकी चूत को चोदने लगा और वो कुछ ज्यादा तेजी से ‘आहह आहहह. मैंने उसे काफ़ी देर लंड पर टांगे रखा और उसे उछाल उछाल कर उसकी गांड मारने लगा.

मेरी कंपनी का हेड ऑफिस बैंगलोर में है … और मेरे ज्वाइन करने के दस दिन बाद ही कंपनी की एनुअल कॉन्फ्रेंस मीटिंग बैंगलोर में ही थी. वो मान गई हैं। क्या तुम उनसे मिलना चाहते हो?मैं बहुत खुश था और बोला- हां बिल्कुल!उसने मुझे पता दिया और बोली- हमारी बुआ का घर खाली है, तुम शाम को आ जाओ।मैं बहुत खुश था और शाम 7:30 में उसके बताए पते पर पहुंच गया।आसपास बिल्कुल सुनसान था. तभी उसका फिर से एक मैसेज आया- जीजू एक बात बोलूं, आप किसी को बोलेंगे तो नहीं?मैंने कहा- हां बोलो.

उसने तेज़ी से अपना लंड रंगोली की चूत से निकालकर अपना वीर्य उसकी नाभि के पास गिरा दिया औऱ बगल में लेट गया. मैंने शीना भाभी की आंखों में देखा तो वो चूत की गहराई में मेरे लंड के आगमन का आमन्त्रण दे रही थी. कुछ पल के दर्द के बाद अब उसे भी मजा आने लगा और वो अपनी गांड उठा उठा कर मेरे लंड को अपनी बुर में लेने लगी.

रूम तो बन्द था तो मैंने खिड़की से देखा तो मां और पापा एक नंगे होकर एक दूसरे के ऊपर हो रहे थे.

धीरे धीरे हमारी बातें सेक्स तक पहुंची और मैं फोन पर ही रानी को खूब मजा देने लगा. वो कराहती हुई बोलीं- आह मर गई … थोड़ा बाहर निकालो … मुझे दर्द हो रहा है.

अगले दिन जब मैं सुबह उठा तो वो तैयार होकर किचन में नाश्ता बनाने में लगी थी. वो मेरी पीठ को धीरे धीरे दबाने लगा और एक हाथ से वो मेरी गांड सहलाने लगा. पहले भागपड़ोसी की दुल्हन की मस्त मांसल जवानीमें आपने अब तक पढ़ा था कि रानी के फिसल जाने से मैं उसकी मालिश कर रहा था.

पहले एक फिर दो फिर तीन उंगलियों से मैंने मैडम की गांड को ढीला किया. दोस्तो, आप मेल करके मुझे जरूर बताएं कि जबरदस्त चुदाई की कहानी कैसी लगी. मैंने सीधे लेट कर भाभी की टांगें फैलाते हुए ऊपर उठा दीं और उनकी चिकनी चुत पर लंड टिका दिया.

सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी बीएफ अमित के कहने पर उस दिन मैं अपनी शादी का जोड़ा पहन कर तैयार हो गई थी. हफ्ते में दो तीन बार सामान ले जाती थी और हर महीने हिसाब चुकता कर देती थी.

हॉट हिंदी सेक्सी कहानी

कज़िन सिस्टर चुदाई कहानी में पढ़ें कि कैसे मैं अपनी बुआ के बेटे की ओर आकर्षित हुई. कुछ देर में हम दोनों फिर से मूड में आ गए और मैं आंटी की चुत में उंगली करने लगा. इसके बाद वहां हम लोग दो दिन रहे, मैं बार बार कोशिश करती रही कि अब्बू पहल करें लेकिन ऐसा हुआ नहीं और कुछ दिन बाद जुम्मन से मेरी शादी हो गई.

उसने एक स्माइली भेज कर लिखा- क्या अलग सा लग रहा है?मैंने लिखा- शायद जो बेचैनी तुम्हें हो रही है … उसी तरह से मुझे भी कुछ हो रही है. मैं जानती हूँ कि तुम्हारी उम्र के आदमी भी बाहर सेक्स करने के सपने देखते हैं. बीएफ सेक्सी फिल्म इंडियाचूंकि अभी तक संजना की सील पैक थी इसलिए शायद चुत चुदाई का कार्यक्रम कहीं और होना तय था.

अब अगली किसी सेक्स कहानी में मैं आपको बताऊंगी कि मैंने आशीष के लंड से अपनी बहनों के सामने कैसे चुदवाया और उनको भी अपने साथ ग्रुप सेक्स में लेकर चुदाई का मजा लिया.

मुझे इस बात की खुशी है कि ये मेरा पहला और आखिरी अनुभव रहा है जिसको मैं आप सभी के सामने शेयर करने जा रहा हूं. हमने 4 दिन के लिए वहां कमरा किराए पर लिया था और पूरे 4 दिन तक उसे भरपूर रूप से इस्तेमाल करने का सोच रखा था.

चूंकि आज हम दोनों दिन भर बहुत घूमे थे और नहाने के समय काफी मस्ती की थी, तो काफी थक गए थे. अगले दिन शाम को अंकल का मेरे पास मैसेज आया कि क्या हाल-चाल है बेटा?मैंने भी बोल दिया- सब ठीक है अंकल. ”बहुत दुख हैं विजय!”आंटी बताने लगी:सलमा और उससे छोटी आसमां, दो बहनें है.

बाहर पहुंच कर मैंने मैम को कॉल की तो एक मिनट बाद मैम आ गयीं और बाइक पर बैठ गयीं.

वह तो चाहती थी कि अभी ही विजय का लंड हाथ में लेकर अपनी चूत में घुसवा ले … पर वह ऐसा नहीं कर सकती थी. पड़ोसन Xxx कहानी में पढ़ें कि कैसे चुदाई की भूखी एक भाभी ने अपने जवान किरायेदार को अपने जाल में फंसाकर अपनी चूत में लंड लेने का जुगाड़ किया. छह साल पहले उन्होंने ही मुझे ये नौकरी दिलाई थी, तब से लेकर अब तक वो मेरे जीवन में मेरे मेंटोर या यूं कहें, मेरे शिक्षक के तरह रहे हैं.

वीडियो में सेक्सी बीएफ सेक्सीइस तरह मेरी चुदाई का सिलसिला रेखा आंटी के साथ चालू हो गया … और ये सिलसिला आज भी चल रहा है. फिर वो सक्सेना साहब से बोला- साहब यह अंजलि है … आपके लिए नयी सेक्रेटरी.

बंगाली सेक्सी पिक्चर मूवी

मेरी बीवी अचानक मेरा हाथ छोड़ कर भीड़ की तरफ़ गयी, मैं उसके पीछे पीछे चला गया. बुर में लंड घुसा तो वो छटपटा उठी और चिल्लाने के लिए मेरे मुंह से अपना मुँह हटाने की कोशिश करने लगी. दोनों के मुँह से लार निकल रही थी, जिसको हम दोनों अपने मुँह में ले रहे थे.

कुछ देर बाद मैंने उसकी बहन को भी घोड़ी बनाया और पीछे से उसकी चुत चोदने लगा. एक सीट मुझे मिली थी और एक सीट एक महिला की थी जो दिल्ली से इंदौर जा रही थीं. उसकी चूत पर बहुत सारा साबुन लगा कर एक उंगली सटाक से आधी उसकी चूत में सरका दी.

उसकी चुत का रस उसकी गांड के छेद को भिगोता हुआ नीचे चादर तक आ रहा था. उसने जाते हुए कहा- आओगे ना!मेरे पास हां कहने के अतिरिक्त कोई जवाब ही नहीं था. मैं उनके इस स्वागत से बहुत खुश हो गयी थी और ड्रिंक्स बनाकर बातें करते हुए हम अन्दर सोफे पर बैठ गए.

लंड का रस कंडोम में ही था तो हम दोनों एक दूसरे से यूं ही चिपके पड़े रहे. इसके लिए आप लोगों ने जितनी भी तारीफ की, उसके लिए बहुत-बहुत धन्यवाद.

फिर कुछ पल बाद उसने मेरे होंठों को आजादी दे दी और मुझे हाथ का सहारा देकर बिठा लिया.

खैर, मैंने भाभी से कहा- जी भाभी जी, ठीक है, मैं इसे पढ़ा दिया करूंगा. बीएफ इंग्लिश बीएफ हिंदी बीएफहम दोनों ने एक दूसरे से अपने अपने गिले-शिकवे दूर किए और इस सबमें एक घंटा गुजर गया. बीएफ बढ़िया वाली सेक्सीउधर बना कृत्रिम छिद्र को मेरी योनि छिद्र मानकर वो उसमें हर धक्के से और गहरी चोट करते जा रहा था. सोती हुई मालती की टांगों को खोल कर मैंने एक झटके में उसकी चूत में लंड घुसा दिया और तेज़ तेज़ चोदने लगा.

सेक्सी हॉट भाभी अपने मुँह में पूरा कामरस निगल गईं और मेरा लंड अपने मुँह से चाट कर साफ कर दिया.

फिर मैंने हौले से साड़ी को किनारे कर अपनी गहरी सुरंगी नाभि में उंगली घुसा कर इशारों में पूछा- तुम ही थे, जिसकी उंगलियां मेरी नाभि में खेल रही थीं और मैं उन्हें कीड़ा समझ बैठी थी?सर हिलाकर उसने इशारे से हां में जवाब दिया. मैंने अपने कमरे की लाइट जला रखी थी, जिससे बाहर वालों को अन्दर का नज़ारा साफ साफ दिख सके. दोस्तो, चुदाई का मजा आ रहा होगा … और ऐसे में मुझे सेक्स कहानी को रोकना खुद भी अच्छा नहीं लग रहा है पर आप लंड हिलाओ चुत में उंगली करो … बस मैं अगला भाग लिखता हूँ.

उसने अपनी दोनों टांगें हवा में उठा दी थीं और गांड उठा कर वो मेरे मुँह से अपनी चुत चटवाने का मजा लेती हुई मादक आहें और कराहें निकाल रही थी. उसकी स्माइल देख कर मेरा तो मन करने लगा कि इसको यहीं अपनी गोद में बिठा कर चोद दूं, पर ये पोर्न मूवी थोड़ी थी … जो ऐसा हो जाता. मेरा एक दोस्त था, हमारी बहुत अच्छी दोस्ती थी इसलिए मैं उसके घर आता जाता रहता था.

एचडी सेक्सी फिल्में डाउनलोड

मुझे समझने में थोड़ा सा भी वक्त नहीं लगा और बिना रुके मैं उनसे सटने की कोशिश करने लगा. मेरी इस सेक्स कहानी के लिए आपके कोई सुझाव हों, तो मेरी मेल आईडी पर मेल कर सकते हैं. शायद यही वो वजह थी, जिस वजह से आज तक मेरी किसी भी लड़के से दोस्ती तो दूर, कोई बात भी नहीं हो पाई थी.

फिर मैंने उसकी हिम्मत देकर चलाया और उसकी गांड में फिर से तेल लगाया.

रानी- पता है मुझे … कई महीनों से देख रही हूँ कि छत पर बैठे बैठे मुझे घूरते रहते हो.

फिर मुझे एक दिन पता चला कि उसका बेस्ट फ्रेंड जो दिल्ली में रहता है वो भी उससे मिलता है. वो मेरी कमर को सहला रहे थे और फिर वो मेरे लहंगे के ऊपर से मेरे से मेरे पैर की ओर आने लगे थे. बीएफ बेडियोइस बीच उनके ‘धन्यवाद …’ कहने और मेरे ‘अरे ये तो मेरा फर्ज था …’ के अलावा और कुछ बात नहीं हुई.

अर्शिया के टॉप की का गला काफी गहरा होने के कारण उसके बोबों के बीच की लाइन साफ़ दिख रही थी. ‘नाम?’मैंने पर्स से अपना फोन निकाला और इसी क्रिया में मैंने अपना थैला उसके बैग से चिपका दिया. अब उसकी आवाज लड़खड़ाने लगीं और मेरा लौड़ा उसकी चूत के मैदान में सरपट दौड़ने लगा.

हाय दोस्तो, मैं आपकी अंजलि, कैसे हो आप सब … उम्मीद है कि सब ठीक होगे. वो ड्रिंक बनाने बाहर आया और मुझसे बोला- तू ड्रिंक करेगा?मैंने हां कहा.

मैंने उसको कहा- कल तुम विवेक के साथ सेक्स कर लेना तो उसको शक नहीं होगा.

इसके साथ ही मेरी आदत है कि मैं सोने से पहले मोबाइल में अन्तर्वासना की सेक्स कहानी जरूर पढ़ता हूँ, जिससे मेरे दिमाग में सेक्स भरा रहता है और सेक्स कहानी पढ़ कर मेरे लंड भी खड़ा हो जाता है. उसने मेरे पैंट पर बने तम्बू को देखा और सोच में पड़ गयी कि ये क्या है?मैंने मुस्कुराकर कहा- क्या तुम्हें वाकयी नहीं पता कि ये क्या है?उसने शर्मा कर न में सर हिला दिया. मैं भी उसकी मादक आवाजों को सुनकर उत्तेजित हो गया और उसे पूरी ताकत से चोदने लगा.

मोना के बीएफ उसकी सीट पर रखे मेरे बाएं हाथ की कांख में उगे घने बालों में अब पसीना चू रहा था. इसके बाद मैंने उसकी ब्रा उतार दी और उसके दोनों बूब्स पर आकर उन्हें बारी बारी से चूसने लगा.

अन्वेषी ने आगे बताया- मेरी ख्वाहिश एक बार ऐसे चुदने की है, जब वो मेरे बाजू में सो रहा हो … और कोई दूसरा मर्द मेरी चुदाई करे. अब मैंने मेरी कैपरी थोड़ी नीचे कर ली और चड्डी समेत अर्शिया की गांड से चिपक गया. मैंने मॉम को गोद में उठाकर बेड पर लिटा दिया और खुद मैं उनके ऊपर चढ़ गया.

व्हिडिओ दिखाइए सेक्सी व्हिडिओ

मेरे दोनों चूतड़ों को अपनी ओर खींचकर अब्बू अपने लण्ड पर जोर आजमा रहे थे. तभी उसका हाथ मेरे लंड और उसकी गांड के बीच में आया और उसने लंड को पकड़ लिया. जब तक मैंने डॉक्टर का लंड चूसा और अपनी चुत चुसवाई, तब तक उसने भी दो बार अपना माल गिरा लिया था.

शाम को जब वह वापस जाने लगा तो मेरे मम्मी पापा ने कहा- तुम कुछ दिन यहीं रुक ज़ाओ. थोड़ी देर में इसी तरह की आवाजें फिर सुनाई देने लगीं, तो मुझे लगा कि दाल में कुछ काला है.

मैंने उसके साथ बातचीत जारी करते हुए उसकी चाहत के बारे में पूछा- आप मेरे साथ क्या क्या करना चाहती हैं!वो बोली- बस आप यूं समझिए कि उस लड़की की जगह मैं अपने आपको देखना चाहती हूँ.

मैंने पीछे से मुंतजिर की गांड की तरफ से लंड टिकाया और झटका दे मारा. जब रात को मैं टॉयलेट के लिए उठा तो देखा कि मॉम के कमरे का बल्ब जल रहा था. न्यू भाभी सेक्स कहानी में पढ़ें कि मेरे भैया की शादी बेहद खूबसूरत और सेक्सी लड़की से हुई। मेरा दिल भाभी पर अटक गया। मैंने कैसे उसकी चूत का मजा लिया?दोस्तो, मेरा नाम जय है। मैं एम.

मैम आइसक्रीम की भांति मेरी बांहों में पिघलने लगीं और उनके मुंह से मीठी सिसकारी आने लगी. बेड के नीचे खड़े होकर लंड को भाभी के मुँह में डाल कर उनका मुँह चोदने लगा. अब मैंने बुआ की चुत में अपनी दो उंगलियां डाल दीं और चूत में उंगली अन्दर बाहर करते हुए चुत को मजा देने लगा था.

हम दोनों ने श्रेया को बधाई दी और उस शाम हम तीनों ने फिर दारू पार्टी की … श्रेया ने उस दिन खुल कर हम दोनों से चुदवाया.

सेक्सी फिल्म भेजो सेक्सी बीएफ: अब भाभी छटपटा रही थीं और मुझसे छूटने की कोशिश कर भी रही थीं और मुझे पकड़े हुए भी थीं. उसी समय मैं बाथरूम में गया और रंगोली के नाम की मुठ मारकर बाहर आ गया.

अब तक हमारी चाय खत्म हो चुकी थी और हम दोनों काफ़ी बातें कर चुके थे. ”बहुत गर्मी लग रही थी? मादरचोद, मेरा काम बिगाड़ दिया, ला तेरी गर्मी दूर कर दूँ. बहन की चुदाई खत्म होते देख कर मैंने उसके सिस्टम में बना दूसरा फोल्डर खोला.

मैं- वो कैसे?रानी- उस दिन शायद आपकी जगह कोई और होता तो पता नहीं क्या करता मेरे साथ.

चूंकि जब दोनों फ्री होते हैं, तो अंकल अक्सर पापा के साथ कमरे में ही बैठ कर बातें करते रहते हैं. मेरी सभी सहेलियां भी जब ये पढ़ेंगी, तो वे पक्का इस सलाह को अपने बॉयफ्रेंड या पति के साथ जरूर करेंगी. क्योंकि फ्लैट का आधा किराया दस हजार मेरा बच सकता था … अगर मैं ये सब अनदेखा कर दूं.