छोटी छोटी लड़कियों की हिंदी बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ फिल्म दिखाओ ब्लू फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

राजस्थानी सेक्सी जंगल की: छोटी छोटी लड़कियों की हिंदी बीएफ, मगर मोनी‌ की‌ नींद शायद अब फिर से खुल‌ गयी थी क्योंकि जैसे ही मैने अपना लंड उसके नितम्बों की दरार में घिसा उसने हल्की झुरझुरी सी ली और उसके‌ बदन‌ का‌ तापमान अचानक से बढ़ सा गया। मगर चर्म पर आकर अब मैं भी अपने आपको रोक नहीं पाया और न चाहते हुए भी कपड़ों में ही मेरा स्खलन होना शुरू हो गया.

चूत चाहिए

मेरा हाथ उसकी चूत को मसलते हुए उसको गर्म करने लगा और मैं उसको चूसता रहा. सेक्सी बीएफ चुदाई वाली चुदाईएक ही सिगरेट को हम दोनों ने बारी बारी से खींचते हुए पूरी वाइन पी ली.

उसके बाद आई होली, होली का दिन मेरी लाइफ का सबसे अच्छा दिन रहा या ये कहूँ कि उसकी लाइफ का सबसे बुरा दिन रहा. बीएफ सेक्स हिंदी आवाज मेंचूंकि मेरे अन्दर एक कमी कहिये या अच्छाई कहिये, वो ये कि मैं स्लिम फिट हूँ, ज्यादा मोटा नहीं हूँ.

तेरी चूत को तो भोला भाई चोद रहे हैं और मैं तेरी गांड को अच्छी तरह से चौड़ी कर दूंगा.छोटी छोटी लड़कियों की हिंदी बीएफ: अजय ने मेरी चुचियों पे बैठ कर मेरे मुँह में अपना लौड़ा दे दिया और नीचे से वरुण मेरी चूत चूसने लगा.

अब मैंने पीछे से उसके दोनों मम्मों को अपने हाथों से पकड़ लिया और जोर जोर से दबाने लगा.जैसे ही मैंने चूत चाटना शुरू किया, वो मेरे सर को जोर जोर से अपनी चुत पे दबाने लगी.

बीएफ सेक्सी मोटा लंड - छोटी छोटी लड़कियों की हिंदी बीएफ

स्वीटी ने अपनी कैपरी के अन्दर पेंटी नहीं पहनी थी, तो मैंने उसकी गीली चूत में बड़ी वाली उंगली घुसा दी.भाभी ने कुछ नहीं कहा तो मैंने बड़े रोमांटिक मूड में आगे बोल दिया- मुझे तो कोई और पसंद है.

मैं- हां तुम्हें तो मजा आ रहा था लेकिन मेरी हालत खराब हो रही थी, एक अजीब सी गुदगुदी सी पेट में हो रही थी. छोटी छोटी लड़कियों की हिंदी बीएफ लंड घुसते ही वो दर्द से चीख रही थी, पर उसकी चीख मेरे होंठ उसके होंठ पे होने से मुँह में ही दबी रह गई.

वसुन्धरा के दोनों होंठ मेरे होंठों की गिरफ़्त में थे और जैसे ही मैं उसके ऊपर या नीचे वाले होंठ पर अपनी जीभ फेरता, वसुन्धरा का पूरा शरीर तन जाता और सिहरन की लहरें वसुन्धरा के शरीर में उठनी शुरू हो जाती.

छोटी छोटी लड़कियों की हिंदी बीएफ?

दिल ही दिल में मैं चाह तो रहा था कि उसके साथ कुछ टांका फिट हो जाये. मैंने लंड पर कुछ गर्म गर्म सा महसूस किया, मुझे समझते देर न लगी कि मौसी की चूत ने पानी छोड़ दिया है. उसने फिर बोला- अब घूरता रहूँ या कुछ और करने का मौका दोगी?इस बात पर मैंने गुस्सा होने का नाटक कर दिया तो वो बहुत डर गया।फिर मैं हंस दी.

मेरी चूचियां बड़ी होने के कारण ब्रा सिर्फ एक चौथाई चूचियों को ढक पा रही थी. तेरे पापा मेरी चुदाई तो करते हैं मगर ऐसे नहीं करते कि मेरी चूत ढीली पड़ जाये. एक तरफ तो उनका चुदाई करने का मूड बना हुआ था और कहाँ बीच में ये पड़ोसन आकर टपक पड़ी.

नसीब की बात कहें या मजबूरी कहूँ कि एक बार मुझे एक ही जगह पर दो साल हो गए थे. आहहह आहह और तेज … आह उईई … मर गई … और तेज करो …ये कहते हुए मामी ने चूत का पानी छोड़ दिया और वे ढीली पड़ गईं. ”आंटी ने मेरा लोअर उतार दिया और मेरा लण्ड मुंह में लेकर चूसने लगी, थोड़ी देर बाद बोलीं- कैसा लग रहा है?गुदगुदी होती है.

स्वीटी ने अपनी कैपरी के अन्दर पेंटी नहीं पहनी थी, तो मैंने उसकी गीली चूत में बड़ी वाली उंगली घुसा दी. पापा बोले- तुम लोग कहीं जा रहे हो क्या?मैंने कहा- हां, सोच तो रहे थे कि चले जायें.

वो तो पहले समझ नहीं पाईं, बाद में मैंने अपने लंड को उनके मुँह पे घिसना चालू कर दिया.

आगे क्या होता है उसकी रसभरी सेक्स कहानी का मजा अगले भाग में लिखूंगा.

”उपिंदर ने अंशु की ब्रा खोल दी और चुचियाँ चूसने लगा।जोश आ गया है तुम्हें, मतलब शाम को कामिनी की माँ पहले चुदेगी उसके बाद जाएगी डॉक्टर के पास!”उपिंदर बस मुस्कुरा दिया।अरे हाँ, मेरे भाई राजेश की डॉक्टर शोभा से अच्छी जान पहचान है। मैं उसे बोल देती हूँ कि डॉक्टर से बात कर के रखे. उसके बाद मैंने देखा कि उसकी चुत से खून निकल कर मेरे लंड औऱ उसकी चुत व जांघों पर लग गया था. जब मेरे दोस्त से बर्दाश्त नहीं हुआ, तो मुझसे बोला- अबे तू हट … मुझे इसकी चुदाई शुरू करने दे.

जीजा ने कहा- आप यहां क्या कर रहे हो?वो दोनों बोले- हमने सब सुन लिया है. मैंने चोद चोद कर उसकी चूत को भोसड़ा बना दिया था और गांड का छेद भी बड़ा कर दिया था. महेश ने मुझसे क़हा कि उसकी फैमिली मुझको थैंक्स कहना चाहती है, इसके लिए मैं अपनी बीवी को लेकर आज रात उसके घर डिनर पर आऊं.

आधे घंटे में मुझे बॉक्सिंग प्रैक्टिस के लिए वापिस स्कूल जाना है … प्रैक्टिस के बाद ही कुछ खाता हूँ … कुछ चाय नाश्ता कर लिया तो बॉक्सिंग नहीं की जायगी.

मैंने उसके मुंह से चुन्नी निकाली और पूछा- कैसा लग रहा है?वो बोली- बस अब मुझे चोद दो, मुझे तड़पा कर तुम्हें क्या मिलेगा. तभी पीछे से किसी ने बोला- ये सब क्या हो रहा है?यह सुन कर मैं पीछे पलटा और पूजा उठ कर देखा, तो देखा कि रश्मि खड़ी थी और उसकी आंखें और फ़ेस एकदम लाल हुआ पड़ा था और वो कांप रही थी. फिर मैं उठा और उनकी सलवार को नीचे खींचकर उतार दिया और साथ में उनकी पेंटी को भी! मैंने देखा कि उनकी चूत गीली थी.

मैंने बहन को मैसेज किया- तैयार रहना!मैं घर पंहुचा तो उसने दरवाजा खोला. सेलिना के होंठों को चूसते हुए मैंने उसकी नंगी चूत को हाथ से रगड़ा तो उसने मेरे लौड़े को अपने हाथ में भर लिया. मैं भी बीच-बीच में भाभी की गर्दन पर, कभी उनके ब्लाउज में फंसे चूचों पर किस कर देता था.

मैं उनके मम्मों को दबाते हुए नीचे से अपनी गांड उठा उठा कर धक्के देकर आंटी की चुदाई करने लगा.

उसके बाद उसने अपने अंडरवियर को भी निकाल दिया और उसका लंड मुझे अपने सिर के ठीक ऊपर तना हुआ दिख रहा था. दोस्तो, क्या आपने सोचा है कि एक बार चुदाई करने और करवाने के बाद चुदाई का मौका न मिले, तो कैसा महसूस होता है? लंड चुत का संगम भी क्या संगम होता है, जब भी होता है, तो दरिया बन कर बहता है.

छोटी छोटी लड़कियों की हिंदी बीएफ वो बार बार अपना लंड मेरी चूत से बाहर निकाल रहा था और उसके बाद अपना पूरा लंड मेरी चूत में डाल कर मेरी चूत को चोद रहा था. जल्द ही वो अपना शरीर मेरे शरीर से रगड़ने लगी थीं, जिससे मैं कंट्रोल से बाहर हो गया.

छोटी छोटी लड़कियों की हिंदी बीएफ प्रिया के पापा के ये फर्स्ट कज़न साहब अपनी पत्नी और बेटी वसुन्धरा समेत प्रिया की शादी से तीन दिन पहले से ही मेरे ही घर में अड्डा जमाये हुए थे. मुझे इस तरह देखते देख कर वह बोली- देखते ही रहोगे या चखने का मूड है?मैंने कहा- नेकी और पूछ पूछ? जरूर चखूँगा.

मेरी कुंवारी चूत और पहली बार में ही चार लंड … सोच कर ही गांड फटने लगी थी.

सेक्सी नंगी सीन फिल्म

मुझे भी इतना मजा मिल रहा था कि मैं अपनी गांड उठा के उसका साथ दे रही थी. वो शायद यह सब इसलिए करना चाहते थे क्योंकि उनको लग रहा था कि दीदी के साथ लाइव सेक्स दिखाकर वो मुझे भी फिर से सेक्स के लिए तैयार कर लेंगे. अम्मी को अब्बू के लंड की कमी महसूस होती होगी, ये बात मैं समझ सकता था.

‘आआहह … आअहह … आआअहह … उउइई माँआअ … मैं मर गई … आअहह…’थोड़ी देर बाद उसने मेरे होंठ पर होंठ जमा दिए. घोड़ी की स्थिति में झुकाने के बाद जीजा ने अपना लंड एक ही झटके में दीदी की चूत में घुसा दिया. कहानी पर अपने विचार रखने के लिए कमेंट करें और मेल करके बतायें कि कहानी में आपको कितना मजा आ रहा है.

मगर फिर भी मुझे उसका काफी नशा हो गया था।रोजाना‌‌ की तरह ही शायद कुछ देर बाद मोनी को तो नींद आ गयी मगर उसको अपने बगल में सोता देख कर मुझे‌ बैचनी सी होनी शुरू हो गयी। एक तो मैं पहले से मोनी की तरफ आकर्षित था और ऊपर से मेरे दिमाग में शराब का नशा भी चढ़ा हुआ था.

वो जोर जोर से रोने लगी, कुछ बोलना चाहती थी, लेकिन बोल ही नहीं पा रही थी. तो अब भाबी अपनी टांगें फैलाए हुए अपना खुला भोसड़ा मेरे लंड पर रखते हुए पूरा वजन मेरे लौड़े पर रख दिया. प्रिया की शादी वाले दिन, 19 नवंबर वाली शाम को करीब 5 बजे सब घर-परिवार वाले होटल जाने को तैयार थे.

सुमेर बोला- इसे तुम जब मर्जी चोद लेना पर ये राज किसी पर जाहिर मत करना, बेचारी लड़की बदनाम हो जाएगी. पिछले तीन दिन में वसुन्धरा की मेरे साथ की सारी बद्तमीज़ियां और उनके कारण अब मुझे आईने की तरह साफ़ थे. उन्होंने मुझे नीचे लेटने को कहा और मौसी की चुत मेरे मुँह पर रखवा कर मौसी को लिटा दिया.

उसकी चूचियों को पीते हुए मैं उसके होंठों को भी चूसना चाहता था मगर अगले ही पल मेरा ध्यान उसकी चूत की तरफ चला गया और मैंने एक हाथ नीचे ले जाकर उसकी चूत पर रख दिया. भाभी किचन में जाने लगी, तो पीछे से उसकी ठुमकती गांड बहुत सेक्सी लग रही थी.

उसने मुझे ऐसे बांध रखा था कि मैं अपनी एड़ियों पे उचक कर असहाय सी खड़ी थी. वो मेरे होंठों को चूमते हुए जल्दी जल्दी मेरे शर्ट का बटन खोलने लगी थी. उसके बाद वो उठे और चुपके से मेरे कमरे के दरवाजे से बाहर निकलते हुए दरवाजे को ढाल कर चले गए.

मैं बड़े प्यार से उनको निवाला खिलाता रहा और वो मेरे होंठों से निवाला ले कर खाती रहीं.

रानी आनंद में ऐसी मस्त थी जैसे पूरी बोतल तेज़ दारू पीकर नशे में धुत्त हो. ऐसे ही दिन निकलते गए और भाभी के फोन न आने के कारण मैं मुठ मारता रहा. जाने से पहले कहना चाहूंगा कि आपको भी किसी प्रकार की समस्या हो या किसी प्रकार का सवाल पूछना हो तो आप बेझिझक मुझे मेल कीजिये। आप सबको मेरे द्वारा दिये गये ये जवाब कैसे लगे जरूर बतायें। आप सबकी मेल के इंतज़ार में आप सबका मित्रयश गर्गआप सब मुझे यहाँ मेल करें[emailprotected].

मेरे वहां से जाने के कुछ देर के बाद वो भी उठ कर अपने कपड़े पहन कर बाथरूम में चली गई. वैसे हम लोगों के रूम के आगे काफी बड़ा ग्राऊन्ड है, जो खाली पड़ा रहता है.

मैंने दीदी से पूछा- आपने बाल कब साफ किये?दीदी बोली- आज सुबह ही।फिर मैं दीदी की चूत को अपने हाथ से सहलाने लगा. उससे रहा नहीं गया, वो मुँह पीछे करके मुझे किस करने की कोशिश करने लगी। मैंने पीछे से उसके बाल कस कर पकड़ कर उसके उसकी गर्दन सीधी की और आइस को उसके कंधों पर रगड़ने लगा। वो तिलमिलाने लगी. इसको इसके सेन्टर पर ड्राप कर दूंगा और अपना काम निपटा कर वापसी में से इसको ले लूंगा.

ऑडियो में सेक्सी फिल्म

अन्दर जाते ही मैं आयशा पर भूखे शेर की तरह टूट पड़ा।वो बोली- क्या कर रहे हो? कोई आ जाएगा।मैंने कहा- कोई नहीं आएगा, बस थोड़ी देर … केवल 5 मिनट।वो मना करने लगी.

करीब बीस मिनट की चुदाई के बाद भाई के लंड से उसके माल की पिचकारी मेरी चूत में छूट पड़ी और भाई मेरे ऊपर ही लेट गया. अगर मैं तुमसे लग जाती हूँ, तो मेरी भी इच्छा पूरी हो जाएगी और किसी को कुछ पता भी नहीं चलेगा. जब से तुम्हारे बारे में पारो से सुना है, तब से मैं तुम से बहुत प्यार करने लगा हूँ और तुमको पाना चाहता था.

लेकिन मेरा लंड मुट्ठी मारते मारते टेड़ा हो गया और एक मिनट में पानी भी निकल आता है. मैंने आकर अपने दोस्तों को बताया, तो उन्होंने बोला कि चल बातें तो शुरू कर, फिर कोई अच्छा समय देख कर अपने दिल की बात बोल देना. सेक्सी ब्लू पिक्चर देहाती वीडियोवो चुपके से धीमी आवाज में कह गई- पेपर के बाद मुझे एग्जाम रूम के बाहर मिलना.

उसका लंड 8 इंच लम्बा और काफी मोटा था, उसके मोटाई बाकी से दोगुना ज्यादा थी।उसने मेरा सर पकड़ा और धक्का दे दिया उसका लंड पूरा मेरे मुंह में चला गया. फिर भी मौसी ने 2-3 बार अपनी कमर आगे पीछे करके मुझे आगे बढ़ने का संकेत दे दिया.

रूम में आकर बॉस ने रूम का दरवाजा लॉक किया और रूम का ए सी फुल कर दिया. जिन पाठकों को मेरे बारे में नहीं पता है, पहले उनको मैं अपने बारे में बता देती हूँ. वो भी मेरी निगाहों को अपने मम्मों पर पाकर खुद झुक झुक कर अपनी फिल्म दिखा रही थी.

इस झटके से मुझे भी एक झटका सा लगा और मैं सोते हुए ही उसके ऊपर को चली गयी. उसने हमेशा की तरह एक वादा किया कि चाहे दुख हो सुख हो, वो मेरा हमेशा इस भरी दुनिया में मुझे हारने नहीं देगी, टूटने नहीं देगी. पहले मैं खुद चुदने को मरी जा रही थी अब जबकि सब कुछ सेट हो चुका था तो मेरी हिम्मत जवाब देने लगी थी.

उन्होंने मना कर दिया क्यूँकि वो भगवान को नहीं मानती थी और मैं भी नहीं मानता हूँ।इसी तरह हमारी थोड़ी देर बहस हुई लेकिन आखिर मैं उनकी बात को मान गया और हम होटल में रूम लेने गए लेकिन वहाँ पर कोई भी ढंग का होटल मुझे समझ नहीं आया.

राधिका ने मेरी पीठ पकड़ ली थी और वो गांड उठा कर अपनी चूत में लंड लेने लगी थी. लेकिन काम भी जरूरी था, इसलिए हम लोगों ने लाईट की व्यवस्था की और फिर से काम चालू हो गया.

मैंने उसके ऐसा बोलते ही उसके होंठों में अपने होंठों को रख दिया और चूसने लगी. फिर पूजा उस लड़की की तरफ देखा, तो वो भी अपना गाल पकड़ कर हां में अपना सर हिलाते हुए बोली कि तू ऐसे ही खड़ी रहेगी या कुछ कपड़े भी पहनेगी?ये बोल कर उसने आंख मार दी. फिर वरूण का हाथ भी आंटी की गांड के नीचे से आगे की तरफ आकर उसकी चूत पर फिरने लगा.

मैंने रजाई एक तरफ हटाई और भाभी की टांगों को एक हाथ में उठा कर उनकी चूत पर लंड को सेट करके उनकी चूत में लंड को धकेल दिया. चूसओ मेरी चुत …मैं नीचे झुक कर उसकी चुत चाटने लगा उसकी चुत बहुत पानी छोड़ रही थी. दीदी बोली- तुमने मेरे सारे कपड़े उतार दिये लेकिन अपने कपड़े नहीं उतारे.

छोटी छोटी लड़कियों की हिंदी बीएफ नीचे से उसकी चूत की फाँकों को मसलते हुए ऊपर से मैं उसकी चूची को चूस रहा था जिससे अब कुछ ही देर में मोनी की चूत ने कामरस उगलना शुरू कर दिया. कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या सही है और क्या गलत?मन में तूफान सा उठा हुआ था और मैं उसमें फंसता ही जा रहा था.

सेक्सी ब्

आज मैं फिर से अपनी एक नई देवर भाभी सेक्स स्टोरी लेकर हाजिर हुआ हूँ. फिर मैं भाई के ऊपर आ गयी और होंठों को बुरी तरह से चूसने लगी और अपने हाथ से उसका लंड हिलाने लगी. और वसुन्धरा जी! आप भी ध्यान रखना प्लीज़! हम घर नहीं गए, कोई कारण ही नहीं था घर जाने का.

अपनी अपनी जीभ निकाल के एक दूसरे की जीभ चूमते रहो और चुदाई का मज़ा लेते हुए अपने पार्टनर के चेहरे पर आते हुए मधुर आनंद के भाव देखते देखते प्यार की बातें फुसफुसाते रहो. फिर हम दोनों अलग हुए … पीठ के बल लेट कर हम दोनों कमरे की छत की तरफ़ देखकर बुरी तरह से हांफ़ रहे थे. xxx देसी वीडियोसतो रात को लगभग आठ बजे खाना खाने के बाद सब सोने चले गए तो सुमेर मुझे चुपचाप छिपा कर उसी जगह ले गया.

जब कुछ पल तक जीजा जी ने कोई जवाब न दिया तो पड़ोसन ने खांसते हुए फिर से पूछा- मिक्सी कहाँ पर रखी हुई है.

उसके बाद भाभी नीचे रजाई में घुस गई और मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी. जब वो सज-धज कर किसी शादी या फंक्शन आदि में जाती हैं तो सभी लोगों की निगाहें उन पर गड़ जाती हैं.

पर जब मेरा लंड उत्तेज़ित होता है तो पेट से चिपक कर पूरा ऊपर की तरफ हो जाता है. तो मेरा सोचना है कि शायद कोई अपवाद लड़की ही होगी जो सेक्स के बारे में जानने की इच्छा न रखती होगी. हम लोग पहले साथ में काम कर चुके थे, लेकिन मैं बाद में वहां से काम छोड़कर चला गया था.

उसने रास्ते में अपनी बाइक रोकी तो मैंने पूछ लिया कि आपने बाइक क्यों रोक ली?वो बोला- मुझे यहां पर कुछ काम है.

मेरी एक खास बात है, मैं जल्दी नहीं झड़ता … कम से कम आधे घंटे तक लगा रहता हूँ और ज्यादा से ज्यादा डेढ़ से दो घंटे तक बिना थके चूत पेल सकता हूँ. उन्होंने छोड़ने की जगह एक झटका और दे दिया, तो अंकल का आधा लंड मेरी बुर में अन्दर घुस गया. उनके कहने पर मैंने भी ऊपर से टोपे को मुँह में लिया और जीभ घुमाने लगी.

बंगाली औरत का बीएफलेकिन तभी अजय ने बगल की टेबल से अपनी व्हिस्की का नीट दारू से भरा हुआ गिलास मेरे मुँह से लगा दिया. मैं बोला- दीदी जब तक तुम खुद नहीं कहोगी, मैं कुछ भी जबरदस्ती नहीं करूंगा.

राजस्थानी देसी मारवाड़ी सेक्सी फिल्म

तीनों बाहर की तरफ चले ही थे कि मां ने पूछ लिया- कहां जा रहे हो?सुमिना बोली- माँ, मैं काजल के साथ मार्केट जा रही हूं. फिर हम दोनों ने लेस्बियन सेक्स के साथ एक दूसरे की सेक्स की चाहतों को शेयर किया तो मालूम हुआ कि वो भी बड़ी चुदक्कड़ थी. शुरूआती समय में कुछ दिन तक तो मेरा ध्यान सिर्फ अपनी एक्सरसाईज पर होता था और एक्सरसाइज पूरी होते ही मैं रूम पे आ जाता था.

उनके कहने पर मैंने भी ऊपर से टोपे को मुँह में लिया और जीभ घुमाने लगी. मैंने उससे खुल के पूछ लिया- तुम अपनी बीवी को यहाँ क्यों नहीं रखते?तो वो बोला- क्या करूँ मेमसाब, आप तो जानती हैं कि यहाँ क्या क्या होता है. नसीब की बात कहें या मजबूरी कहूँ कि एक बार मुझे एक ही जगह पर दो साल हो गए थे.

सुमन अपनी चूत को मेरे होंठों पर धकेलते हुए आह-आह करते हुए अपनी चूत चुसाई का मजा लेने लगी थी. क्या इस प्रकार का सेक्स उचित है? क्या एक मर्द एक साथ दो औरतों को सन्तुष्ट कर सकता है? या फिर ये सब वीडियो में दिखाया जाने वाला झूठ है? जब से मैंने ये वीडियो देखा है तब से मैं और मेरी सहेली इस तरह का सेक्स करने की चाहत मन में पाल कर बैठी हैं. फिर क्या था मैंने स्वीटी को लिफ्ट दी और उसे जल्दी से न पहुंचाने की जगह बात करने के लिए ज्यादा समय मिल जाए, इसलिए थोड़ा घुमा फिरा के स्वीटी को घर के पास छोड़ दिया.

मैं नीचे लेट गया, भाभी अपनी चूत फंसा कर मेरे ऊपर मेरे लंड पर बैठ गयी. मैं दिन में जाकर दो कप आइसक्रीम और ले आया और साथ में वियाग्रा की गोली भी ले आया.

तो उसने मेरी इस बात पर मुझे हग कर लिया और कहा- क्या तुम मेरी एक जरूरत पूरी कर सकते हो?मेरा तो लंड खड़ा ही हो गया था और मुझे आंटी को चोदने की पड़ रही थी.

मैं उसकी चूत में लंड डाल ही रहा था कि वो जाग गई और फिर मुझसे नाराज हो गई. सेक्सी हिंदी मूवी ब्लूमैंने अपना पूरा लंड भाभी के मुँह में घुसाने की कोशिश की, पर पूरा लंड भाभी के मुँह में नहीं जा पा रहा था. ब्लू पिक्चर चोदा चोदी कीमैं- तो आपने कभी उनसे इस बारे में बात नहीं की?भाभी- नहीं, मैं बात नहीं करना चाहती उनसे इस बारे में. मैं चुपचाप आगे बढ़ा और छिप कर देखने लगा तो देखा वहां एक लड़की बिल्कुल नंगी थी और सुमेर अपना लण्ड उसकी चुत में डाल कर आगे पीछे कर रहा था, अपने हाथों से उसके बूब्स दबा रहा था.

मैं उनके बारे में सोचता हुआ, फ्रेश होने चला गया और जल्द ही खाना खाने नीचे पहुंच गया.

मैं धीरे धीरे अपना हाथ उनकी कमर पर फिराने लगा … और अपने हाथ को बुआ की चूची तक ले गया. पांचवे नम्बर का लड़का मेरी गांड को चोदने लगा और उससे दूसरे वाला मेरे मुंह को चोदने लगा. मैं कोई दवाई लेकर चुदाई की बात नहीं कह रहा हूँ, बल्कि ये मेरी कुदरती स्टेमिना है.

वो बोला- सॉरी डार्लिंग, इट्स जस्ट फॉर ए मिनट देन यू विल इन्जॉए अ लॉट. भाभी ने जैसे ही मेरा लंड देखा, तो उन्होंने अपना हाथ मुँह पर रख लिया और बोलीं- बाप रे, तेरा औजार सचमुच बहुत ही बड़ा है. अब जब अदिति फिर से मेरे शहर आने वाली थी तो मैंने सोचा कि उसको इस बार अपने मन की बात बता दूंगा.

पेशाब करते समय सेक्सी वीडियो

हमें देख कर पारो बोली- आप थोड़ी देर रुको, मैं गुलाबो को लेकर आती हूँ. उसने मुझे बेड पर फेंक दिया और खुद मेरे ऊपर चढ़ गया और फिर से अपना लोड़ा मेरे मुंह में घुसेड़ दिया, कुछ धक्के मारने के बाद उसका छूट गया और पूरा मैंने रस पी लिया. विकी खामोश बैठा रहा, मेरे हाथ का नींबू पानी था, इसलिए वो बड़े प्यार से पी रहा था.

उसको मैं इससे पहले कितनी ही बार चोद चुका हूँ मगर जब भी उसको ऐसे नंगी देखता हूँ तो लगता है कि मैं पहली बार उसको नंगी देख रहा हूं.

माँ सिसिया कर बोलीं- आह क्या कर रहे हो … उम्म्ह… अहह… हय… याह… आऊ आआअ … आपने ये सब कहां से सीखा? उम्म्मह … आज तो आपका लंड और जीभ दोनों कमाल कर रहे हैं.

मानसी ने पूछ लिया- लेकिन दीदी तुमने राज के साथ शुरूआत कैसे की, बताओ तो, मैं तो सुनने के लिए बहुत उत्साहित हो रही हूं. फिर सबने मुझे बीच में लिटा दिया और एक साथ ही सबने मेरे चेहरे और मुँह के अन्दर अपना सारा मुठ निकाला. गांव देहात वाला बीएफवो दरवाजे छेद पर आंख लगाकर झुकी हुई थी और मैं उसकी गांड के छेद पर अपने लंड को लगाकर रगड़ने लगा.

मैंने घर पे फोन कर के बोल दिया कि मैं आज मेरी फ्रेंड के घर रुक रही हूँ. पता ही नहीं चल रहा था कि कल रात को ही इस चूत को मैंने बुरी तरह से पेला है. मां ने पूछा कि मजा आ रहा है तो मैंने कहा कि हाँ बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा है.

इस अहसास से मेरी चूत ने पानी छोड़ना शुरू कर दिया था कि कोई लड़का पहली बार मेरे मम्मों को दबा रहा है. मैं- तो आपने कभी उनसे इस बारे में बात नहीं की?भाभी- नहीं, मैं बात नहीं करना चाहती उनसे इस बारे में.

हॉल तक पहुंचते-पहुंचते हेतल के अंदर इतनी चुदास भर गई कि उसने मुझे सोफे पर लेटा लिया और खुद ही अपनी गांड में लंड को लेते हुए ऊपर-नीचे उछलने लगी.

क्यूंकि आज बुधवार था और दोपहर का शो था तो सिनेमा हॉल लगभग पूरा खाली ही था आगे की सीटों पर कुछ ही लोग बैठे थे. रितेश जीजू ने अपना लंड पैंट से निकाल कर मेरे मुंह में दे दिया और मैंने भी बहते पानी में चूत धो डाली. अभी तक काजल को लेकर मैं इतना कामुक नहीं हुआ था मगर होता कब तक नहीं!बार-बार उसके बदन का स्पर्श मेरे अंदर के पौरूष को नारी काया के प्रति जन्मजात समाहित वासना को भीतर ही भीतर आंच देने लगा था.

न्यू हिंदी ब्लू पिक्चर जब भाई का लंड मेरी चूत की जड़ तक गया, तो मेरे मुँह से एक जोर की आआअह्ह निकल गयी. जब उसे लगा कि शायद मैंने उसे अपने दोस्तों से चुदने के बारे में जान लिया था, तो आतिशा बोली- हां मैंने एक बार किया है.

काफी देर गाने सुनने के बाद जब मैं बोर होने लगी, तो मैं आस पास देखने लगी. मेरी तो जान निकली जा रही थी कि कहीं मैं चुत में पहुंचने से पहले झड़ ना जाऊं. जैसे ही ताऊ जी ने बुआ की चूत पर तेल मलना शुरू किया तो बुआ ने अपनी आंखें बंद कर ली.

मोटे लंड वाली वीडियो सेक्सी

मैंने अपनी दो उंगलियां उनकी बुर में डालीं और उनको अपनी गोद में लिटा लिया. मैं हल्का हल्का चिल्लाने लगी, तो सौरव ने मेरी चूत से लंड निकाल कर मेरी गांड पर अपना लंड रखकर धक्का मार दिया. वो मचल उठी, उसकी चूत पानी छोड़ रही थी। मेरे ऐसा करने मात्र से ही वो स्खलित हो गयी। उसका रस स्टिक पे लगा हुआ था.

खाने के दौरान मैंने उसको बताया कि मेरा काम नहीं हो पाया है, शाम तक हो गया तो ठीक है वरना रात को रुकना पड़ेगा. मैं भी स्टाफ रूम से लंच करके बाहर पानी की टंकी के पास हाथ धोने के लिए जा रहा था.

जब तक मैंने शर्ट उतारी तब तक अंजलि ने मेरी पैंट का हुक खोल दिया और मेरा कच्छा भी नीचे कर दिया.

अब मैं फिटनेस सेंटर में एक्सरसाइज के लिए रोज़ भाभी की हेल्प करने लगा और धीरे धीरे हम फ्रेंड्स बन गए. सवाल समझाते हुए मैंने देखा कि उसने किताब में एक पर्ची मेरे पास छोड़ दी थी. काजल की आंखें अभी भी बंद थीं और वो बोल रही थी- रुक क्यों गए … प्लीज चोदो ना मुझे!मैं- तुम मेरी आंखों में आंखें डाल कर मेरा साथ दोगी, तो ही मैं चोदूँगा.

जीजा जी मुझसे बोले कि आप जब मेरे यहाँ आओगी तो आपके साथ सुहागरात मनाऊँगा. ओह्ह्ह ओह्ह्ह्ह आह आह मजा आ रहा है … और चूस मादरचोद! और चूस!” रवि बड़बड़ाते हुए कहने लगा. जैसे-जैसे दोनों का माल बाहर आ रहा था, दोनों की ही एक-दूसरे पर पकड़ ढीली पड़ती जा रही थी और जैसे ही नम्रता की बांहों का बन्धन खुला, मैं लुढ़कते हुए उसके बगल में लेट गया.

उसने मुझे बीच में ही रोकते हुये बताया- मेरा पहले से ही ब्वॉयफ्रेंड है.

छोटी छोटी लड़कियों की हिंदी बीएफ: मुझे इतना पास पाकर उसने मुझे चूमना चाहा लेकिन मैंने उसके माथे पर चुम्बन करते हुए जल्दी से पीछे हट गया।मैंने दूसरी आइस क्यूब ली और घूम के पीछे उसके पैरों के पास आ गया। मैंने उसे आइस से उसे स्मूच देना चालू किया. खैर डॉली को सहलाते सहलाते, बातों में बहलाते बहलाते मैं अपना लण्ड धीरे धीरे अन्दर धकेलता जा रहा था.

सभी मदमस्त चूत़ों को मेरे सांवले लंड का गुलाबी सलाम और सभी पाठकों को मेरा नमस्कार. दूसरे भाग की कहानी का मजा यहीं से शुरू होता है कि कैसे मैंने अनामिका की गांड भी उसके मना करने के बावजूद भी चोदी और अनामिका के यहां सोनिया भी कैसे मिल गयी और उसकी चूत व गांड कैसे मारी. कुछ समय बाद मेरे मम्में इतने विकसित हो गए कि मुझे ब्रा पहननी पड़ी और मैं आस पड़ोस के मर्दों की आँख का तारा बन गयी.

तो … ‘जो मिला, वही ग़नीमत’ पर अमल कर उस ईर्ष्या की भावना को दिल ही में दफ़न कर देता था.

मैं वंश से बोली- वंश क्या हम रियल कपल नहीं बन सकते?वंश मेरी तरफ देखता हुआ बोला- मम्मी आप ये क्या बोल रही हो?मैं बोली- हां … मैं ठीक बोल रही हूँ … जो तूने सुना है मैं वही कहना चाहती हूँ. वो मना कर रहे थे तो मैंने उन्हें वापस जल्दी बुलाने का वादा कर उन्हें भेज दिया और सो गई।[emailprotected]. इसके बारे में तुम्हें पता नहीं था। तुमने सोचा घर पर केवल रीना और तुम ही हो। तुमने अपने स्तनों पर टॉवल लपेटकर अपने कूल्हे व स्तन ढक रखे थे। उस वक्त मैं ऊपर वाले कमरे में ही था.