डॉक्टर नर्स के बीएफ

छवि स्रोत,करते दिखाओ

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ वीडियो मोटी गांड: डॉक्टर नर्स के बीएफ, मैंने उसके गाल पर एक प्यार भरा चुम्बन दिया और उठ कर उसके लिए कॉफ़ी बना लाया.

गधे की सेक्सी

फिर मैं आकृति आंटी के पैरों की तरफ चला गया और कुछ बची हुई आइसक्रीम को आकृति आंटी की चूत में भर दी. रसमलाई बनानाफिर जेठानी ने एकदम से मुझे मेरे हाथ से पकड़ा और मुझे अपने कमरे में ले गईं.

आपा बोली- हां, जैसे अभी तुमने भाभी की चूत का भोसड़ा बना ही दिया होगा. बाबुल का यह घर गोरीवो मुझे मुझ पर गुस्सा करते हुए बोली- भैया, आप ये क्या रोज रोज चाची की ब्रा लेकर बाथरूम जाते हो, आपको कुछ अक्ल नहीं है क्या? चार दिन पहले ही चाची ने मुझसे पूछा था कि पूजा क्या तुम मेरी ब्रा को लेती हो.

वो बोली- ब्रा को खोल दे। फिर आराम से मालिश कर देना।मैंने दीदी की ब्रा के हुक को खोल दिया.डॉक्टर नर्स के बीएफ: मैं उनके पीछे पीछे उनकी गांड को देखते देखते अन्दर गया और पानी लेकर आ गया.

वैसे तो अजमेर मेरा आना-जाना बना रहता है, लेकिन उस दिन की बात ही कुछ और थी.उसके साथ मैंने कैसे अपनी सुहागरात की शुरुआत की?दोस्तो, आज मैं आपको अपनी एक नई कहानी बताने जा रहा हूँ।वैसे तो आप कहानी के नाम से ही समझ गए होंगे कि कहानी किसी दूसरी शादी के बाद होने वाली सुहागरात की है.

लड़की की मारी - डॉक्टर नर्स के बीएफ

एक महीने के बाद दूध वाले ने भाबी को चोदते हुए कहा- सरिता, मुझे गांव जाना है.मैंने पूछा- कब?वो बोली- एक बार बाथरूम में ले जाकर किया था … दो बार छत पर और एक बार तो बहुत लम्बा किस किया था, उस समय लाइट चली गयी, तो सीढ़ी में दो मिनट तक वो मुझे किस करता रहा था.

एकता- क्या मारने की बात कर रहे हो?मैंने उसका हाथ पकड़ा और कहा- गोटी. डॉक्टर नर्स के बीएफ मैं आपको प्रिया की चुत चुदाई की कहानी अगली बार लिखूंगा, अभी तो आप मेरी बहन की चुदाई की कहानी का मजा लो.

अब मुझे उसी पोज़ में लिटाए हुए सत्यम खड़ा हुआ और मेरी चूत के मुँह पर अपना लंड का टोपा घुसाने लगा.

डॉक्टर नर्स के बीएफ?

मेरी वाइफ के फ़ोन से बिना बताए मैंने माधवी भाभी का नम्बर निकाल लिया. वो दर्द से पगल हो रही थी और बोल रही थी- राज़, प्लीज इसे बाहर निकाल लो … नहीं करना मुझे कुछ भी. मेरी हॉट गर्ल Xxx कहानी पर अपनी राय जरूर दें, जिससे मुझे आगे सेक्स कहानी लिखने की प्रेरणा मिल सके.

तभी कमरे में इकबाल अन्दर आया और मुझे गाली देते हुए बोला- मादरचोद अंजलि तुझे मैंने शॉर्ट कपड़े पहन कर आने के लिए बोला था और तू यह क्या साड़ी पहन कर आयी है. उसने जैसे ही अपनी मॉम के कमरे का दरवाजा खोला, तो रूम में पूरा अंधेरा था. जब मैंने पूछा कि क्यों काटा, तो वो बोली कि मुझे भूख लग रही है, इसलिए तुमको खाने का मन कर रहा है.

कुछ देर तक हम एक दूसरे को चूसते चाटते रहे मगर फिर उसने चूत हटा ली और टांगें फैलाकर मेरे सामने चूत खोलकर लेट गयी. उसके झड़ने के बाद मैंने उसका लन्ड एकदम चूस चूस कर साफ कर दिया।इस दिन बाद से हमारा रोज का ही काम हो गया था. वो मस्ती में मेरे बूब्स के निप्पलों को चूस रहा था और निप्पल पर अपने दांत भी गड़ा रहा था.

अभी मैं दिसम्बर 2019 में मौसी के यहां पर गया था। उस वक्त मेरे एग्जाम खत्म हुए थे और मुझे एक प्रोजेक्ट के लिए एक फैक्ट्री में जाना था. मैंने कहा- मैं आज तुम्हारी चुत का भोसड़ा बना कर ही छोडूंगा, ताकि किसी से फिर न चुदवा पाओ.

उसने अपने रसभरे होंठों पर लाल लिपस्टिक लगाई हुई थी और हाथों में लाल चूड़ियां पहनी थीं.

मैं अब खुल कर बोला- जब जीजाजी आएंगे, तब तक तो मैं आपकी चूत का भोसड़ा बना दूंगा.

इस समय मेरे दोनों मम्मे उसकी छाती से चिपक गए थे और वह मेरी गर्दन पर किस करता ही जा रहा था. अब भाभी मचल गईं- मेरी चुत में लंड डालो जान … कब से तड़पा रहे हो अब लंड पेल भी दो यार. उन्होंने मुझे अपने सीने पर झुका लिया था; अपने एक हाथ से मेरे बालों कस कर पकड़ लिया था और दूसरा हाथ अपने मुँह पे रख कर एकदम मद्धिम आवाज में ‘अअह एईई.

उसी पल मैंने अपनी टांगों को फैला दिया और दाहिने हाथ को नीचे ले जाकर जेठजी के बड़े मोटे लंड को अपनी चूत के ऊपर रख दिया. पर मैंने जोर से उनका सिर दबाए रखा और कहा- देखा … कुछ नहीं हुआ मुँह में लेने से. एक बार अगर सोने का मौका मिल जाएगा तो आगे फिर कुछ बात बन सकती है।मैंने पहले ही बोल दिया था कि मैं स्लीपर में सोऊंगा एक लड़की तुम तीनों में से जो भी चाहे वह स्लीपर में आकर सो सकती है या बैठ सकती है।यह सुनकर पहले तो तीनों ने मना कर दिया कि हम तीनों ही नहीं आएंगी हम 2 सीट पर 3 लोग एडजस्ट करके बैठ जाएंगी।और उन लोगों ने ऐसा ही किया.

जिस दिन रोहन घर आने वाला था, उस दिन शेखर और कुसुम दोनों ने मिलकर रोहन के लिए सरप्राईज प्लान किया था.

रोहन ने अन्दर का नजारा देखा कि उसकी मॉम अन्दर नंगी बेड पर लेटी हुई थी और उसकी आंखें बंद थीं. तुम यही सब अपनी कॉमर्स की क्लास में सीखती हो!नेहा हंस पड़ी और मेरे सीने से लग गई. लेकिन मैंने अपनी सांस पर संयम बरतते हुए उसका लन्ड हलक में बनाए रखा और धीरे धीरे उसको अंदर-बाहर करने लगी।अब मैं खुद से ही उसके लन्ड को हलक तक के लेकर चूसने लगी।कुछ देर लन्ड चुसवाने के बाद सागर ने मेरी पैंटी उतार के सूंघा और मुझे टेबल पर टांग फैला कर बिठा दिया, खुद कुर्सी पर बैठकर मेरी चूत को चूमने लगा।थोड़ी देर चूमने के बाद वह मेरी चूत को चाटने लगा.

अब मैं जेठजी के लंड को अपने हाथों में आगे पीछे करने लगी और मुँह से सुपारे को चूसने लगी. ये हॉट वाइफ फंतासी स्टोरी एक साल पुरानी है … जो एक हकीकत पर आधारित है. जब घर पर कोई नहीं होता था तो मैं अपनी बहन को किसी ना किसी बहाने से लंड दिखा दिया करता था.

मुँह बंद होने से उसकी आवाज बंद हो गई मगर जैसे ही मैं जरा सा हिलता, तो उसको दर्द होने लगता.

अमित ने झुक कर अपना मुँह मेरी चूत पर लगा दिया और अपनी जीभ से मेरी चूत को अन्दर तक चाटने लगा. उसने दोनों हाथों की मुट्ठी भींच ली और तभी उसकी चूत से गर्म गर्म लावा बह निकला जो मुझे मेरे लंड पर महसूस हुआ।मैंने अचानक से अपना लण्ड उसकी चूत से निकाला और अपना मुख उसके गर्म-गर्म लावे पर लगा दिया.

डॉक्टर नर्स के बीएफ उसने एक गिलास में जूस निकाला और खुद मेरी चूत के नीचे अपनी जीभ निकाल कर बैठ गया. निप्पल उसकी उंगलियों से मिंज रहे थे और होंठों पर उसके होंठ जमे हुए थे.

डॉक्टर नर्स के बीएफ ये अनुभव मुझे अपनी ज़िंदगी में पहली बार मिल रहा था कि कोई मेरी बुर चाट रहा था. मैं घर से निकला और मैंने रिट्ज को अपने मोबाइल से काल किया, तो रिट्ज ने मेरा फ़ोन उठा लिया.

असल में सारा ने उससे ऐसा करने को कहा था क्योंकि कमल के मुख से पिछली रात ये निकला था कि जब लकी की बीवी आएगी तो वो चारों मस्ती करेंगे.

सारी वाली बीएफ सारी वाली बीएफ

कार्तिक ने भी मेरे ब्लाउज के बटन कब खोले और कब मेरी नंगी छाती कार्तिक के सामने आ गई, मुझे पता भी नहीं चला. फिर उसकी गांड के छेद में उंगली डाल कर साबुन का झाग घुसाया और गांड ढीली कर दी. अभी मैं दिसम्बर 2019 में मौसी के यहां पर गया था। उस वक्त मेरे एग्जाम खत्म हुए थे और मुझे एक प्रोजेक्ट के लिए एक फैक्ट्री में जाना था.

होटल Xxx स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मेरे एक पाठक ने मेरी कहानी की तारीफ़ की तो मैं खुश हो गयी. उसको जमीन से उठा कर बेड पर लिटाया और उसकी टांगों को फैला कर उसकी चूत पर अपना मुँह रख दिया. शाम को सात बजे जब मैं उठी, तो जेठानी ने खाना बना लिया था और मांजी को भी खाना खिला कर सुला दिया था.

उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और गीला लौड़ा फच्च फच्च फच्च करके अंदर बाहर करने लगा।अब मैंने उसे सीट पर लिटा दिया और ऊपर आकर चोदने लगा।मैंने अपने लौड़े को फुल स्पीड से अंदर बाहर करना शुरु कर दिया और तेज़ तेज़ झटकों से मेरे लौड़े ने वीर्य छोड़ दिया.

कुछ ही देर बाद जेठजी ने एक ज़ोर से धक्का लगाया और उनका शरीर अकड़ गया. हालांकि शाम को इशारों में ही अगले दिन पक्का मिलने का करार भी करवा लिया था. वो कभी कभी लंड की खाल को पीछे खिसका कर सुपारे को खोल देती और नंगे सुपारे को अपनी जीभ से चाटने लगती।ऐसा उसने करीब 10 मिनट तक किया।हम दोनों उसके बाद 69 की पोजीशन में हो गये।हालांकि हम दोनों ही सैक्स में नये थे लेकिन उसे मुझसे कुछ ज्यादा ही ज्ञान था क्योंकि वो अक्सर अपनी भाभियों से बात करने से थोड़ा बहुत सीख गई थी.

मौसी का फिगर 34-28-32 का था। मैं उसके रूप के साथ उसकी सेक्सी बॉडी का भी दीवाना था।उसके शरीर में सबसे ज्यादा उत्तेजित करने वाला भाग उसका सीना था. मैंने कहा- मजाक ही तो कर रहा हूं मौसी!वो बोली- ऐसे मजाक बीवी के साथ अच्छे लगते हैं मौसी के साथ नहीं।फिर मैंने सोचा कि कहीं मौसी गुस्सा न हो जाये इसलिए मैंने ज्यादा कुछ नहीं किया. उसी वक्त मेरे मन में मौसी की चुदाई का विचार चल रहा था।उस दिन फिर मैं सुबह में 10 बजे मौसी के यहां पहुंच गया.

आंटी मेरे होंठों को एकदम भूखे के सामने खाने की थाली आ गई हो, ऐसे चाटने और चूसने लगीं. तभी एकदम से दोनों ने एक साथ जोर लगाया, जिससे लंड मेरी चुत और गांड में दोनों के लंड अन्दर तक घुस गए.

इससे हुआ ये कि गेट के पीछे से मुँह निकाल कर देख रही रिया के मुँह में वीर्य की पिचकारी जा घुसी. उसके चड्डी के सामने जो तंबू बना हुआ था, उसे देखकर उसके लंड की लंबाई का अनुमान लगा रही थी. मेरी सेक्सी नंगी चुदाई कहानी के पिछले भागमेरी चूत की प्यास नहीं बुझतीमें अब तक आपने पढ़ा था कि मेरे भाई का दोस्त मेरी जवानी से खेल रहा था.

इससे निशा भाभी का भी जोश बढ़ने लगा और हमारे बीच वाइल्ड स्मूच होने लगी.

होश में आने के बाद शीना ने बोला- भैया मेरी जांघें दुख रही हैं … प्लीज़ अब अपना लंड बाहर निकाल लो. मैंने रिट्ज से पूछा- किसने लिया है?वो अपना मुँह बना कर बड़बड़ाते हुए बोली- आप तो ऐसे पूछ रहे हैं, जैसे दिला ही देंगे. रोहन एक बार फिर से उठा और अपनी मॉम को किस करते हुए उसकी ब्रा को भी खोल दिया.

मैं उसकी मख़मली गांड को सहलाने लगा और उसके रसीले होंठों को अपने होंठों में भरके चूसने लगा. अभय और समीक्षा की जब लड़ाई होती थी तो वो दोनों मुझे ही फोन करते थे.

लेकिन मैं मामी जी की चूत चोदने से पहले एक बार मामी जी के मुंह को भी चोदना चाहता था. इसी के साथ उनके लंड का सुपारा फूल गया और फुंफकार मारते हुए मेरी चूत में अपना बच्चे पैदा करना वाला रस उड़ेलने लगा. मैं पीछे से उसके कंधों को चूमने लगा और अपना हाथ आगे लाकर उसके मम्मे दबाने लगा.

बीएफ सेक्स बीएफ सेक्सी हिंदी में

खैर मुझे प्रिया पसंद थी इसलिए उसकी चुदी हुई चूत से मुझे ज्यादा कुछ लेना नहीं था.

मैंने रिट्ज से पूछा- किसने लिया है?वो अपना मुँह बना कर बड़बड़ाते हुए बोली- आप तो ऐसे पूछ रहे हैं, जैसे दिला ही देंगे. कम से कम वो मेरे दोस्त के सामने तो एक ऐसी रूपवती लड़की थी जिसके सामने मेरा दोस्त एक भोसड़ से ज्यादा कुछ नहीं था. कुसुम की वासना से भरी हुई गर्म सिसिकारियां तेज़ होती चली गईं और उसे बहुत मज़ा आने लगा था.

दीदी छत पर आ गई और मुझे सोते हुए देख कर जीजू की बांहों में समा गईं. वो मस्ती में आकर सिसकारने लगी- आह्ह … राजा … आह्ह … कितने दिनों के बाद ये सुख मिला है … चोद राजा … आह्ह … चोद मुझे … ओह्ह … घुसा दे पूरा … फाड़ दे छेद … चोद दे मुझे।मैं भी वासना में सिसकार रहा था- हां मामी … तुम्हारी गर्म चूत में मेरा लंड … ये चोद देगा तुम्हें … ओह्ह … कितना मजा है चूत चोदने में … मेरी रखैल बन जाओ मामी … मैं आपको खुश रखूंगा. सैक्स क्या हैटॉयलेट सेक्स के बाद हम लोगों ने कपड़े पहने और अपने अपने घर को चले आए.

नीचे उतरते ही उसने मेरी बीवी से कहा- अच्छा तुम रुको, मैं ज़रा टॉयलेट से आती हूँ. मेरी चुत हल्की चिपचिपी होने लगी थी और उसमें से निकलने वाली मादक गंध बसंत को मदहोश कर रही थी.

मैंने महसूस किया कि नैना की कातिल अदाएं अभी भी मुझे ही निहार रही थीं. पहले वाले अक्ल ने दूसरे से कहा- तुम दारू की बोतल ले आओ … आज अपनी डार्लिंग को भी दारू पिला कर चोदेंगे. कोई दस मिनट बाद मेरा काम होने वाला था तो मैंने और तेज़ धक्के देना शुरू कर दिया.

तब भी मैंने अपनी बीवी को हमेशा की तरह एक साधारण सा जबाव दे दिया ‘हम्म. मैंने पायल पहनी मम्मी की; लाल लिपस्टिक लगाई, नेल पेंट लगाया और बढ़िया से किसी दुल्हन की तरह सज संवर कर तैयार हो गई. मैंने उसे बेड पर लेटा दिया और उसके ऊपर चढ़कर उसकी ब्रा को खोलकर उसके गोल गोल रूई से भी अधिक नर्म चुचों को पीना शुरू कर दिया.

तो उसने क्या खेल खेला?दोस्तो, मैं अन्तर्वासना का पुराना पाठक हूं और आपको एक सेक्सी गर्ल हॉट स्टोरी कहानी बताना चाहता हूं.

मुझे पीछे से उसकी नंगी पीठ ने बेचैन कर रखा था, शायद मेरी कुंवारी दुल्हन को अंदाजा नहीं था कि मैं अब उसकी पीठ पर हमला बोलूंगा. उसमें भी वो ज्यादातर सेक्स कहानी भाई बहन की चुदाई की कहानी पढ़ना पसंद करती थी.

उसकी चूत देखकर मैं पागल हो गया और मैंने सीधा उसकी चूत में मुंह लगाकर चाटना शुरू कर दिया. मैंने उसके टॉप के अन्दर से ही उसके एक चुचे को पकड़ लिया और मसलने लगा. अब राज़ की नज़र मेरी गांड पर थी क्योंकि मेरी गांड बहुत सेक्सी है एकदम गोल फुटबॉल की तरह.

मेरा रंग गोरा था और लड़कों के लौड़ों की धड़कन थी मैं!इस कहानी को सुनकर मजा लीजिये. सरिता भाभी ने उसको देखते हुए कहा- ठीक है … मैं भी चुदवाऊंगी, पर एक शर्त है. उन लोगों ने मेरे मोबाइल पर उसकी फोटो देखी और सबने अपने अपने नंबर पर उसकी डिटेल ले ली.

डॉक्टर नर्स के बीएफ गर्लफ्रेंड सेक्स का मजा लिया मैंने जब मेरी पुरानी दोस्त मेरे पास आयी. अभी के लिए इतना ही दोस्तो, जल्दी ही आपको इसके आगे की सेक्स कहानी पढ़ने को मिलेगी.

हिंदी सेक्सी बीएफ चुदाई का

देखते ही देखते हम दोनों के होंठ फेविकोल के जोड़ के जैसे जुड़ गए और दोनों धीरे धीरे कर एक दूसरे के होंठों को चूसने लगे. लेकिन जैसा कि आप सभी जानते है कि हिंदी और इंग्लिश कॉमन सब्जेक्ट्स होते हैं. मैंने लंड को फुद्दी के छेद पर रखा और धक्का दे दिया, पर लंड चुत के अन्दर नहीं गया और स्लिप कर गया.

इस मस्त और रसीली पोर्न भाबी सेक्स कहानी का अगला भाग आपको तरोताजा कर देगा. मैंने उसकी एक चूची को मुँह में भर लिया तो वो एक हाथ से अपनी चूची दबा दबा कर पिला रही थी. नंगी ब्लू पिक्चर हिंदी मेंइस गहरे गले वाले ब्लाउज से मेरे मम्मों की क्लीवेज बड़ी ही दिलकश दिखती है.

एक बार पूरा लंड चुत में चला गया तो वो मेरे ऊपर झुक कर मेरी चूचियों को चूसने लगा.

पहले तो कार्तिक ने अपनी आंखों को बंद करके मेरी को लंबी सांस भरके सूंघा. भाभी काफ़ी एक्सपीरियेन्स वाली थीं, उन्होंने छोटी सी उम्र में ही घाट घाट का पानी पिया हुआ था.

अब हम दोनों वाशरूम में जा कर फ्रेश हुए और कपड़े पहन कर जाने को रेडी हो गए. मेरे मुँह से मस्त मादक आवाजें निकलने लगीं- आआह … ऊऊह … साले सांड की तरह चुत चोद रहा है … आआह … ऊऊऊईई … उउउह … मजे लेने लगी. वो दो उंगलियों को गोल करके एक उंगली चलाते हुए चुदाई का इशारा कर दिया तो मैं पागलों की तरह हंस दी और मैंने अपनी चुत को हथेली से थपथपा दिया.

नमस्कार दोस्तो, मेरा नाम राजेश सोनी है और मैं मध्य प्रदेश का रहने वाला हूं।मैं अपनी पहली कहानी आप लोगों को सुना रहा हूं.

दूसरे दिन संडे को मैं अपने साइकिल लेकर उसके घर के बाहर पहुंचा और उसे कॉल कर दिया- कॉपी ले जाओ, मैं बाहर खड़ा हूं. उस गार्डन का दरवाजा बंद था, जिसको सत्यम ने खोला और मुझे अन्दर करके उसमें कुंडी लगा दी. मगर अब मुझे उनसे कोई परेशानी नहीं क्योंकि दिन में अब मैं अपने कमरे में अपनी कामवाली की आवाज़ें निकलवाता हूँ अपनी ही बेटी के ब्रा पेंटी पहना कर।[emailprotected].

लड़की का फोटो भेजेंमेरी जांघें अपने आप कांपने लगीं, मेरा सीना अपने आप हवा में उठ गया था. अब प्रिया ने धीरे से मेरी जीन्स के ऊपर से ही मेरे लण्ड पर हाथ रखा और सहलाने लगी.

हिंदी बीएफ भोजपुरी में बीएफ

बहुत से मर्दों ने मेरे ऊपर ट्राय किया, लेकिन मैंने किसी को घास नहीं डाली. आसिफा चली गई उसके बाद मेरा और ज़रीना का सेक्स बाद में कंटिन्यू हो गया. फिर मैंने उससे पूछा- क्या लोगी?उसने कहा- मुझे प्यास लगी है पानी दे दो.

जब मैं उससे कॉफ़ी पीने के लिए मिली, तब नवीन मुझे पहचान गया और बोला- तू तो वो अंजलि है ना … जो इकबाल के अड्डे पर डांस करती थी. वैसे तो अपनी बीवी के जाने के बाद मैंने बहुत सी औरतों से संबंध बनाए थे, कुछ दोस्त थी, कुछ बाजारू!मगर किसी के साथ इस तरह की फीलिंग नहीं आई थी क्योंकि सब की सब टाइम पास थी. पांच मिनट बाद मैंने भाभी के सामने लंड लहराया और उनको लंड चूसने के लिए इशारा किया.

ध्यान आते ही वो बिना रोहन को जगाए बाहर आ गई और अपनी सांसों पर काबू पाने की कोशिश करने लगी. मैं तो अब मजे में था मगर धीरे धीरे चुदाई करते हुए टाइम का पता नहीं चला और मेरे एग्जाम पास आ गये. जब से वो इस फ्लैट में आये हैं, आज पहली बार कोई दारु पार्टनर मिला है.

फिर मैंने उससे पूछा- तुझे मालूम है कि लंड जब चुत में जाता है, तो कैसा लगता है!वो बोली- मुझे कैसे मालूम होगा … मैंने अभी तक लंड लिया ही नहीं है. मैंने भी अपने कपड़े पहने और दोनों चिपक कर सो गए।सुबह जब भोपाल आ गया तो एक सवारी बोली- उठ जाओ, भोपाल आ गया।फिर जल्दी से प्रिया बाथरूम से साड़ी पहन कर आ गई मैंने दोनों के बैग उतार लिए।मैंने उससे पूछा- कहाँ जाओगी?वो बोली- कहां ले चलोगे?मैंने पूछा- होटल चलें?तभी उसकी मां का फोन आ गया.

मेरा लंड का साइज़ 6 इंच से थोड़ा सा कम है, लेकिन चुत को संतुष्ट करने के लिए बहुत है.

मुझे ऊपर से उनकी बड़ी बड़ी चुचियों की घाटी नज़र आ रही थी, जिससे मेरी नियत खराब होती जा रही थी. चूत चुदाई फोटोबारिश में भीगने के कारण हम दोनों जितने ठंडे हुए थे, इतना सेक्स करने के बाद हम उससे भी ज्यादा गर्म हो गए थे. एक नंगी पिक्चरये अनीषा मैडम ऐसा क्या काम करती हैं?वो आदमी बोला- यार तुम इस बिल्डिंग के सिक्योरिटी गार्ड हो, तुम्हें पता नहीं है कि क्या काम होता है?मैं बोला- अरे यार मुझे नहीं पता है, अगर पता होता तो मैं तुमसे क्यों पूछता. वो मेरी चूत को चाटते हुए मेरे बूब्स भी दबा रहे थे और मुझे अब बहुत मजा आ रहा था.

उसने अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी वो उसके निप्पल से साफ साफ दिखाई दे रहा था.

मैं नासिर से कहा- मैंने तुझे भाई माना और तुमने मेरे साथ यह किया?नासिर की एकदम से भाषा बदल गई और वो बोला- साली क्यों चिढ़ रही है, तुझे भी तो रमेश से चुदने में मजा आया न?मैं कुछ नहीं बोली, बस चुप रही. हम दोनों घर से दूर थे, मैंने सोचा बरसात में घर पहुंचना मुश्किल रहेगा और रात भी हो गई है. आधा घंटे बाद मेरे मोबाइल पर मेल आने का नोटिफिकेशन आया और मैंने देखा तो ये उसी का मेल आया था.

मैंने उसकी चिकनी चूत देखी तो समझ गया कि बंदी आज आने से पहले ही मेरे लंड से चुदने का मूड बना कर आई थी. लेकिन तभी कार्तिक ने खुद से मेरा हाथ पकड़ा और अपने तनतनाते हुए लंड पर रख दिया. अब मैं उसका और उत्तेजना से लन्ड चूसने लगी; पूरा थूक से गीला करके उसके लन्ड को अंदर बाहर अपने मुंह पर करने लगी.

गर्भवती औरत के बीएफ सेक्सी

मैंने उसकी कमर पकड़ कर लंड की तेज ठोकर मारी, तो वो गनगना उठी और मस्ती में बोल उठी- आह … आज असली मर्द का लौड़ा मिला है. पता नहीं मुझे क्या नशा हुआ कि मैंने अपने बदन को ढीला छोड़ दिया और अंकल की हरकतों का मजा लेने लगी. फिर अपने लंड को झटक कर हिलाया और लोअर में अन्दर करके जीजू वापस जाने लगे थे.

ऑटो आगे बढ़ी, तो मैंने हल्का सा पीछे मुड़ कर देखा … तो वो मुझे बुला रहा था.

दीदी मुझे देख कर सकपका गई और उसके मुँह से कुछ आवाज ही नहीं निकल रही कि क्या बोले.

आह क्या बताऊं … उस वक़्त वो इतनी सेक्सी लग रही थी कि अगर उसकी मम्मी न होतीं … तो उसको वहीं पटक कर चोद देता. कई बार तो आकाश को मैंने अपने घर के पास टहलते हुए भी देखा था।मैं समझ चुकी थी कि वो मुझे पसंद करता है इसलिए वो मुझे देखता रहता है।वो मुझे कुछ बोलता नहीं था या कुछ इशारा भी नहीं करता था।धीरे धीरे मेरा आकर्षण उसके लिए बढ़ने लगा. लड़कियों की वॉलपेपरफिर कुछ देर बाद हमारा मूड बना, तो हम दोनों ने एक दूसरे के होंठों को चूमने से शुरूआत की.

दो पल बाद कुसुम झड़ने लगी और उसके मुँह से ‘ओह रोहन आह रोहन …’ निकल गया. उसने मुझसे दोस्ती इसलिए नहीं की थी कि वो मुझसे प्यार करता था, बल्कि उसने मुझसे दोस्ती केवल अपनी चुदाई की भूख मिटाने के लिए की थी और मुझे भी यही तो चाहिए था. पर मैं हर किसी को नहीं दिखा सकती।अब आगे देसी सुहागरात Xxx कहानी:मैंने खुश होकर उसके क्लीवेज को ही चूम लिया और उसके ब्लाउज़ के हुक खोलने लगा।उसने बिल्कुल भी मना नहीं किया.

उसके बाद उसने एक एक करके मेरी बेहन के सारे कपड़े उतार दिए और मेरी बेहन ने नंगी होने के बाद नीचे घास में अपना दुपट्टा बिछा दिया. पीयूष उसे अपनी बांहों में भरता हुआ बोला- मुझे सुनाई नहीं दिया, थोड़ा ऊंचा बोलो.

मैंने रात को नींद में ज्यादा ध्यान नहीं दिया लेकिन जब हम सुबह उठे तो बिल्कुल पास पास में ही थे।तब मामी तुरंत उठ कर चली गई.

मैंने अपनी मॉम को उन्हीं के बिस्तर में कैसे चोदा, इस सेक्स कहानी में आपको पढ़ने मिलेगा. किसी सेक्स कहानी में मैं खुद ही एक पात्र बन जाती हूँ, ताकि जिसकी वो कहानी हो … उसकी जानकारी गोपनीय बनी रहे. उसकी चूत से निकला गर्म खून और क्रीम की चिकनाई से अब मैंने लौड़े को जोर जोर से अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया.

ऑडियो एंड वीडियो डाउनलोड मेरी पिछली कहानी थी:भाई के दोस्त को पटाकर चूत चुदवा लीइस सेक्स कहानी के पात्र बहन भाई हैं. उससे ये दर्द सहन नहीं हुआ तो उसकी चीख निकल गई- आह मर गई पकंज आह बहुत दर्द हो रहा है … आह उई मां मर गई.

करीब 5 मिनट बाद मैंने उसकी ब्रा पर अपना वीर्य झाड़ा और ब्रा को फिर से हुक पर टांग दिया. आरिफा तो कुछ नहीं दिखाती थी लेकिन जाकिरा मुझे सेक्सी इशारे किया करती थी. एक दिन फिर वो कहने लगी कि जैसे सिर की मसाज की थी वैसे ही मेरी पीठ की मसाज भी कर दे।दीदी ने मुझे रूम में बुला लिया और बेड पर लेटकर अपना टॉप निकाल दिया.

ऊटी का बीएफ

हम दोनों ने ठीक वैसे ही किया और एक सांस में पैग खाली करके मैंने सुहैला से सिगरेट लेकर अपनी सांसों को खुशबू दे दी. मैंने भाभी को पलंग पर पटका और उनकी दोनों टांगें चौड़ी कर कर उनकी गुलाबी और गीली चूत में अपनी जीभ घुसा दी. फिर मेरे नाना ने मुझे भी वहीं रोक लिया क्योंकि रिया की देखभाल अच्छे से हो जाती.

वो मुझे किस करने लगीं और पांच मिनट तक लंड पर उछलती रहीं, फिर वो भी झड़ गईं. अब जेठजी तक़रीबन अपने पूरे लंड को मेरी चूत से बाहर निकालते और वापस पूरी रफ़्तार से अन्दर डाल देते.

शीना ने भी मुस्कुरा कर एक थोंग पैंटी उठाई और पूछा- अच्छा ठीक है, कलर बताओ कौन सी ले लूं?पीयूष ने उंगली रखते हुए एक लाल रंग कि पैंटी लेने के लिए कह दिया.

फिर जब मुझसे रहा नहीं गया तो मैंने उसकी पैंट की चैन खोलकर उसका लौड़ा बाहर निकाल लिया. मैं बोला- आज क्या … तुम दो दिन अब लंड नहीं मांगोगी, लेकिन मुझे तुमको कल भी चोदना है. एकदम से मेरी आंखें बंद होने लगी और लंड से निकलकर आग अंजुमन की चूत में भर गई.

इस तरह से भाभी मुझे अपनी चुदाई का साफ साफ निमंत्रण दे रही थीं, लेकिन वो खुलकर कह नहीं पा रही थीं. इस बार अंजलि ने अपने आप से ही रमेश के लंड को लेकर मुँह में ले लिया था और लंड चूसने लगी. कोमल की सांसें तेज हो चुकी थीं और मैं अपने प्यासे होंठों की प्यास उसकी पीठ से बुझाने में लगा हुआ था.

उसकी रंडी जैसे भाषा सुनकर मैं गर्मा गया और फ्री चुदाई करने उसके ऊपर चढ़ गया.

डॉक्टर नर्स के बीएफ: काफी देर तक जब वो नहीं आई और बच्चे भी नीचे चले गए, तो मैं इधर उधर देखता हुआ सोचने लगा कि अभी यहां पर कोई नहीं है, तो क्यों न एक बार इसकी पैंटी को सूंघ लूं. मामी मेरी तरफ जरा कौतूहल भाव से देखने लगीं, तो मैंने उन्हें आंखों से ही आश्वस्त किया और उन्हें चुप करा दिया.

शादी के एक साल तक तो सब कुछ बहुत अच्छा रहा मगर धीरे धीरे सब कुछ भोग लेने के बाद उसकी शादीशुदा जिन्दगी का नयापन कम होने लगा था।अब सारा का मन नहीं लगता था तो उसने भी एक जॉब को ज्वाइन कर लिया. मैंने उस दिन अपनी बहन को पूरे कॉलेज में ढूंढ लिया लेकिन वो नहीं मिली. इधर धीरे धीरे मेरे अरमान ठंडे हो रहे थे कि रानी मेरी तरफ सर उठाकर भी नहीं देखती.

मैं लंड चुत में पेल कर थोड़ा रूक गया और आराम आराम से अन्दर बाहर करने लगा.

मुझे पापा के साथ इस लिए आना पड़ा था क्योंकि मेरी फ्रेंड का घर दूर था. जैसे ही उसने मेरा लंड अपने हाथ में लिया, मुझे ऐसा लगा जैसे मैं किसी दूसरी दुनिया में चला गया. तो ये थी मेरी सेक्स कहानी!दोस्तो, पहली बार कोई सेक्स कहानी लिखी है, तो इतनी अच्छे से शायद नहीं लिख पाया होऊंगा … लेकिन आप मेरी हॉट भाभी Xxx कहानी की कमियां या आपको इस सेक्स कहानी में कौन सी बात आपको बढ़िया लगी, प्लीज़ मेल ज़रूर करें.