बीएफ हिंदी मां बेटे की

छवि स्रोत,मराठी सेक्सी वीडियो फुल एचडी

तस्वीर का शीर्षक ,

वीडियो फिल्म बीएफ: बीएफ हिंदी मां बेटे की, यह सुन कर मम्मी गिड़गिड़ाईं और बोलीं- प्लीज अन्दर मत डालना, कल ही मेरा पीरियड खत्म हुआ है.

हिंदी पिक्चर फिल्म गोपी किशन

उधर मेरे चाचा मेरी चूत को ऐसे चाट और चूस रहे थे जैसे कभी छोड़ेंगे ही नहीं, और उधर दो अंकल मेरे एक एक बूब को मुंह में भर कर चूसने में मस्त थे, पर अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था बस लग रहा था कि जल्दी से जल्दी मेरे चूत में अपना लंड सब घुसा दे, पर वो लोग डाल ही नहीं रहे थे. पंजाबी हॉट सेक्स वीडियोअच्छा आपको गांड ही मारनी है तो मेरी फ्रेंड की मार लेना, आपको मज़ा भी आएगा उसकी गांड भी बहुत बड़ी है.

उसने एक रोज मुझे सोसाइटी के एक फंक्शन में अपने पति से मिलवाया और मेरी इंट्रोडक्शन करवाते हुए अपने पति को बताया- ये मिस्टर राज शर्मा हैं, मेरे कॉलेज में क्लास फैलो थे. बांग्लादेश सेक्सी मूवीकुछ कपल तो लाइव वीडियो के समय मुझ से पूछते हैं कि अरुण बताइये आज मैं क्या क्या दिखाऊँ और कैसे कैसे दिखाऊँ.

दिन भर के गहरी थकान की वजह से उसने बिना कोई हरकत किये अपनी आँखें हल्की सी खोलीं और सामने का नज़ारा देखा तो सन्न रह गया.बीएफ हिंदी मां बेटे की: उन धक्कों के बीच किसी ने मुझे शराब का ग्लास पकड़ाया तो अपने मैंने एक सांस में वो गिलास खाली कर दिया और जोर से चिल्ला पड़ी- कम ऑन.

मेरा लंड खड़ा हो गया था और शीतल को भी मेरे कड़क लंड का अहसास हो गया था.! बहनचोद तुम गुज्जू औरतों के पति पैसे कमाने के चक्कर में रहते हैं और तुम घर में सती सावित्री बनी फिरती हो, पर हमारे सामने एकदम राँड बन जाती हो तुम.

पंजाबी सेक्स पंजाबी सेक्स - बीएफ हिंदी मां बेटे की

मैं समझ रहा था कि हो सकता है कि ये मुझसे अपनी बीवी की चुदाई करवाने की तमन्ना रखता हो … या फिर ये भी हो सकता था कि ये कोई गे हो.हम लोग ऐसे ही एक दूसरे के अंगों का आनन्द महसूस करते चिपटे हुए लेटे रहे.

सिर्फ़ दो कपड़ों में वो खुद को आईने में देख कर शर्माते हुए फिर बाहर आई. बीएफ हिंदी मां बेटे की अर्चना को देखने के बाद मेरे मन में कसक उठने लगी थी, इसलिए उसको ढूँढते हुए मैं भाईयों के कमरे में गया परंतु मेरी चुदक्कड़ बहन वहां नहीं थी.

मैं खाना बनाने लगी, खाना बनाने के बाद मैंने किचन में ही खड़ी खड़ी स्लॅब पे प्लेट रख कर खाना खा लिया, खाना खाने के बाद मुझे आलस आने लगा, मैं बहुत थक भी गयी थी, सोचा कि किसी तरह बेड पर लेट लूँ?मैं बहुत कोशिश करके किसी तरह से करवट ले कर लेट गई.

बीएफ हिंदी मां बेटे की?

वो दोनों मेरी स्टूडेंट थीं, जिन्हें मैं चौक स्थित कंप्यूटर सेंटर में पढ़ाता था. उसने कहा- पागल लाइफ भी कुछ एंजाय कर ले या ऐसी ही एक खूंटे से बंधी रहेगी, इतनी जबरदस्त माल है तू. उसकी ज़िद देखकर रवि बोला- ठीक है, तुम लोग चलो, मैं आता हूँ थोड़ी देर में…वापस आकर रवि ने कहा- तू मुझे लंगोट में देखना चाहता था ना… ले तेरी ये ख्वाहिश भी आज पूरी कर ही देता हूँ… चल उठ हम अखाड़़े में जा रहे हैं।मुझे पता था वो तीन बार चुदाई के बाद थका हुआ है लेकिन फिर भी केवल मेरी खातिर अखाड़े में जा रहा है.

वो थी आखिर लड़कियों के टांगों के बीच में क्या होता है और कैसा दिखता है. लंड को चुत की फांकों ने जकड़ लिया था और मोटे लंड के कारण घर्षण कुछ ज्यादा ही होने लगा था. रूपा ने जब 1-2 बार मुड़ के ज़रा नाराज़गी से उसे देखा तो उसने सोचा कि मैं जानबूझ के कुछ नहीं कर रहा तो भी ये औरत मुझ पे क्यों बिगड़ रही है? वो उस औरत को पीछे से देखने लगा.

हम बहुत सारी बातें करेंगे और तुम मुझे कम्प्यूटर के बारे में थोड़ी जानकारी दे देना. मोनिका को अन्दर ऑपरेशन थिएटर में बिठा कर वो लड़का बोल गया कि मैडम आएगी तब तक इंतजार करो. फिर मैंने तकिया उठाया और चाची की चूत के नीचे लगा दिया, जिससे चाची की गांड थोड़ा ऊपर उठ गई.

मैंने अपनी इस चाहत के चलते अपने कौमार्य को जब तक के बचा कर रखा है, जब तक मेरी शादी नहीं हो जाती. मैंने उसे 69 की पोजीशन में लिया और थोड़ी देर बाद सीधा करके, उस की टांगों को कंधे पर रख कर चोदने लगा.

अगले दस दिन मुझे दिखे नहीं।इसी बीच मुझे दो बार मेरे सपनों में चाचा ने बहुत चोदा.

अतुल- मैंने कब मना किया, पहले चुत का मज़ा लूँगा और फिर बारी-बारी से तीनों की गांड भी मारूँगा.

फिर मैं उसे किस करने लगा और धीरे से दूसरा झटका मारा, मेरा पूरा लंड अब उसकी चूत में था. वो तड़फ़ने लगी और चूत को लंड की तरफ उठा रही थी, पर मैं रगड़ते हुए लंड को फिर पीछे कर लेता. अंजना बकती जा रही थी- अब भगनासा चूस… अहह… हाँ… हाँ ऐसे ही… आह… बड़ा मस्त चूस्ता है कुत्ते… ऐसे चूस… आह… आह… तू मेरा घोड़े के लन्ड वाला कुत्ता है… उम्म… और मैं तेरी कुतिया… ज…जाने वाली हूँ.

सुमन- आह… सस्स पापा इससे तो बहुत मजा आ रहा है… अब दर्द कम है… आह… करो और अन्दर तक घुसा दो ओफ्फ… आह…सुमन की उत्तेजना देख कर अब गुलशन जी ने दो उंगलियां एक साथ चुत में घुसा दीं और उसका अंजाम वही हुआ… सुमन के मुँह से दर्द भरी आवाज़ निकली, मगर वो सहन कर गई और वैसे ही पड़ी रही. मैं काफी देर तक छुपा रहा तभी मैंने देखा कि कोई अन्दर एक परछाई सी दिखाई पड़ी तो मैंने सोचा कि शायद कोई लड़का मुझे ढूँढने आया है, तो मैं और भी ज्यादा अपने को छुपाने के लिए दुबक गया. फिर लगभग़ 5 मिनट के बाद वो औरत वापस आई और मेरा हाथ पकड़ कर बोली- मिस्टर संदेश, आप आराम से मेरे साथ आइए.

फिर वो नीचे सरकी और मेरा लंड पकड़ कर बोली- अब ये मेरी गरम चूत में जाएगा…वो धीरे धीरे मेरे लंड पर बैठने लगी.

फ्लॉरा- यार मैं घर नहीं गई, वहां मॉम डैड परेशान होंगे, मैं उनको फ़ोन करके बता देती हूँ. यह कहते हुए ससुर जी ने मम्मी के होंठों पर अपने होंठ रख दिए और तेजी से चूसने लगे. आपकी कामकुंठा कम होगी और आपका मन हल्का हो जाएगा।यह कहानी आपको कैसी लगी इसके बारे में आप अपनी राय, कमेंट और सुझाव देने के लिए मेल करें मुझे।आप hangouts पे भी अपने विचार बता सकते हैं। मेरी ई मेल आई डी है[emailprotected].

मैंने मम्मों की आजादी देखी तो भाभी की ब्रा को उनके शरीर से निकाल दिया और साथ ही साथ मैंने उनके पेटीकोट का नाड़ा भी खींच कर उसकी गांठ खोल दी, जिससे उनका पेटीकोट भी ढीला होते ही जमीन पे गिर गया. अब मामी तेज रफ्तार के कारण उन दोनों की पकड़ से छूटने के लिए छटपटा रही थीं, पर दोनों किसी मंजे हुए खिलाड़ी की तरह हर बार पहले से ज्यादा मजबूत वार कर रहे थे. जब फिल्म 10-15 मिनट की निकल गई, तो उसने इधर उधर की बातों में ही अपना हाथ नीचे करके पूरी तरह से मेरे बूब के ऊपर रख लिया। मैं भी उसके हाथ से निकालने वाली गर्मी को अपने बूब पर महसूस कर रही थी मगर मैं तो खुद चाहती थी कि वो पकड़ कर दबाये.

समा जाओ अपनी अदिति की प्यासी चूत में!” बहूरानी अपनी बांहों से मुझे कसते हुए बोली.

कभी उनके करीब आने के लिए मैं उनसे जानबूझ कर कोई ना कोई सवाल पूछता रहता. वह आज तक मुझे ही अपना पति मानती है, अब भले ही एक अच्छे आदमी से उसकी शादी हो गई है, जो उसे दिलों जान से भी ज्यादा प्यार करता है और उसके दो बच्चे भी हैं.

बीएफ हिंदी मां बेटे की उसने कहा- दीदी तुम अपनी पेन्ट में हाथ डालकर हिला क्यों रही थीं?मैं बोली- अभी आई भैया. मगर मैं कैसे उसको बोलती कि मेरी चूत में डालो और मेरी ये इच्छा दीपक ने पूरी कर दी.

बीएफ हिंदी मां बेटे की फिर करीब पांच मिनट बाद अपनी सास के कमरे की तरफ गई और खिड़की को हल्का सा खोल लिया।अंदर देखा तो मेरी सास अकेली थी, उस रात को भी मेरी सास ने xxx मूवी लगा रखी थी और देख रही थी. विक्की ने उसकी नाईटी को निकाल दिया, अब वो सिर्फ़ ब्रा पेंटी में रह गई थी.

इसी बहाने में सुमन भाभी को निहारने लगा और जाने-अनजाने बनते हुए उनको इधर-उधर हल्का-फुल्का छूने का मजा भी लेने लगा.

चाची जी की चुदाई

उसने घर पहुँच कर चेंज किया और फिर एक गाउन में आ गई जिसमें गौर से देखने पर उसके ब्रा और पैंटी के दर्शन हो जाते. मैंने उसे 69 की पोजीशन में लिया और थोड़ी देर बाद सीधा करके, उस की टांगों को कंधे पर रख कर चोदने लगा. वह पीछे आकर मेरे सामने वाली सीट पर बैठ गए, जिससे मेरे पैर चाचाजी के पैर से टच हो रहे थे, शायद वो जानबूझ कर मेरे पैर को अपने पैर से सहला रहे थे.

उस पर ढेर सारा मक्खन, एक बड़ा कटोरा सब्जी का और साथ में मट्ठे के दो बड़े-बड़े ग्लास. तो आप मुझे कितनी बार चोदोगे?पापा- जब तक मेरे लंड में जान है तब तक चोदूँगा. जब एक घंटे के बाद नींद खुली तो मैंने फिर भाभी को किस करते हुए उन्हें और कई तरह के आसनों में चोदा और देखा तो सुबह का टाइम हो गया था, सो मुझे अपने रूम पर आना पड़ा.

मैंने कहा- तुम्हारे भैया को पता चलेगा तो वो क्या कहेंगे?वो बोला- कुछ नहीं कहेंगे क्योंकि वो जानते हैं कि उनका लंड छोटा है और वो किसी औरत को पूरा मजा नहीं दे सकते हैं.

मैं और अलका जल्दी से अपने कपड़े उतार कर कुतिया की तरह घुटनों पर बैठ गईं. तो उसने बोला- नेक्स्ट शनिवार को दे दूँगी।और शनिवार आ गया तो मैंने पहले नम्बर ही माँगा… उसने उसका एड्रेस लिखा चैट में और बोला- नम्बर क्या जान. वो कहती है कि औरतें जिसको अपना पहला शरीर देती हैं, ताउम्र उसे ही अपना पति मानती हैं.

मैंने अपने आप को उनकी बाहों से छुटवा कर कहा- क्या पागल हो गए हो जीजू आप? इस तरह खुले में चुदाई करोगे मेरी? कोई देख लेगा तो? मुझे डर लग रहा है. मेरी पत्नी इस स्थिति में थी कि उसके बूब्स वो लड़का बहुत साफ़ देख पा रहा होगा. जैसा कि आप सभी को पता है कि मैं एक नये साथी की तलाश में हूँ इसलिए मैं अपने खुद का अनुभव तो शेयर कर नहीं पाऊँगा.

गुलशन जी ने पक्का सोच लिया था कि वो सुमन को चोदेंगे और अब आत्मा भी गायब हो गई थी. तो वो जाग गई और कहने लगी- क्या कर रहा है?तो मैं उसे बताने लगा- तुम्हारी शर्ट ऊपर हो गई थी और तुम्हारी छाती दिख रही थी।पहले तो वो शरमाई.

मुझे चुदाई में सबसे अच्छा चुत चटवाना लगता है और मैं अपने जीजू से खूब चुत चटवाती हूँ. करीब बीस मिनट की मस्त चुदाई में भाभी जी ने दो बार अपनी चुत का पानी निकाला था, जो उन्होंने मुझे बाद में बताया था. अब मुझमें मौसी को चोदने की बात घर कर गई थी, पर रिश्ता ऐसा था कि कुछ कर नहीं सकता था.

मैंने कहा- कमीनी आज तू मेरी पर्सनल रंडी है, बहुत चुदासी हो रही है, बहुत फड़क रही है तेरी फुद्दी, दो लंड की बात कर रही है.

भैया के साथ में सुबह थोड़ी देर बैंक के काम से निकलता था और 11 बजे तक वापिस आ जाता था। फिर सारा दिन भाभी के साथ ही रहता था।भाभी ने एक दिन कहा- राज! तुम चन्दा को बिल्कुल कुछ नहीं कहोगे, यदि तुम चाहोगे तो मैं कभी बढ़िया चीज तुम्हें दिलवा दूँगी।मैंने कहा- आपसे बढ़िया मुझे और कहाँ मिलेगी?भाभी शरमा गई और बोली- मैं तुम्हारी भाभी हूँ, इतने गंदे ख्याल रखते हो।मैं फिर डर गया. सुमन- आप तो कितनी बार बाहर रहती हो, फिर क्या प्राब्लम है… आप उनको बता दो. रात एक बजे बेबी के रोने से मेरी नींद खुल गई, बेबी रो रही थी और आंटी सो रही थीं.

मैंने देखा कि इस दौरान साली का एक हाथ पैंटी के अन्दर चला जाया करता था. गार्ड कुछ आवाज सुनकर हमारी दिशा में बढ़ने लगा और उसने जल्दी से पैंट ऊपर की और मुझसे भी उठने को कहा.

गोल गोल और अंगूर जैसे पूरे निप्पल को मुँह में लेकर ऐसे चूसने लगा जैसे दूध पी रहा होऊं. उनके मुँह से हल्की सी आह… निकली और उन्होंने लंड का मजा लेना शुरू कर दिया. मैंने फिर उसकी पेंटी को नीचे किया और उसके पैर थोड़े फैला कर देखे, एक उभरी हुई चूत जिस पर बीच में चीरा लगा हुआ… चुत के होंठ आपस में चिपके हुए, चूत में उंगली भी ना जाए, चूत पे छोटे छोटे बाल आधा सेंटीमीटर जितने लम्बे!मैंने कविता की चूत की दरार में जीभ लगाई तो वो ऊपर को फुदक पड़ी.

कॉलेज की लड़की की नंगी चुदाई

मैं कपड़े हटाने के लिए आगे बढ़ा तो देखा वहाँ एक बेंच पड़ा था जिस पर दो बोरियाँ रखी थी.

वैसे मुझे भी बड़ा मन कर रहा है सब एक साथ मेरे साथ ग्रुप सेक्स, चूमाचाटी करें. इधर मनोज और नेहा पूरी स्पीड में चुदाई में मगन थे और अब मनोज नेहा की दोनों टांगें उठा कर चोद रहा था. मजा तो दूर की बात है, मेरी चुत में जो खुजली मची हुई है, वो भी गायब हो जाएगी इसलिए पहले आप मेरी चुत चोद कर शांत करो… उसके बाद गांड मार लेना.

रहमत बोला- कोई बात नहीं, उससे भी उसकी चुदक्कड़ रांड माँ को चुदवा दूंगा।मेरा तो सुनते ही खड़ा हो गया, मैं अपना लंड निकाल कर हिलाने लगा. चूत की गहराई में लंड के उतरते ही कुछ देर के बाद रंजु झड़ गई और कुछ मिनट झटके लगाने के बाद मेरा माल भी निकल आया, मैंने सारा माल चूत के अन्दर ही छोड़ दिया. धमाकेदार सेक्सी फिल्मकितना दम है मेरे लौड़े में!” कहते हुए अमित ने अपना लंड बाहर निकाल लिया और उस्मान को कुछ इशारा किया, जो माया नहीं देख पाई.

मुझे भी अब कुंवारी कन्या की बुर चोदने के असीम आनन्द की प्राप्ति होने लगी और मैं किसी मंजे हुए खिलाड़ी की तरह ताबड़तोड़ चोदते हुए बुर की धज्जियां उड़ाने लगा. नीता के सीने पे नज़र गड़ा कर वो बोला- बोल बेटी, मैं कैसे मदद करूँ तेरी? वार्डरोब तोड़ डालूँ क्या तेरे लिए बेटी?नीता को पप्पू की बात और नज़र से ख्याल आया कि वो टावल में पप्पू के सामने खड़ी है, पर अब वो बिना झिझक उसी हाल में रूम में घूमते हुए सोचने लगी.

जोशना ने मुझे खींच के अपने सामने खड़ा कर लिया और खुद सोफा पे बैठ गई. फिर मैं आकाश को खेलने के बहाने उनके घर जाने लगा और भाभी से धीरे-धीरे बातें करने लगा. अब मेरी चूत ने भी जवाब दे दिया था और मेरा पानी निकल चुका था, पर जीजू अभी भी मुझे चोदे जा रहे थे.

तुम औरतें ये ऊंची ऐड़ी की सैंडल पहन कर खूब अच्छा करती हो… इससे तुम्हारी गांड और उभर जाती है. मम्मी ने मेरा हाथ पकड़ा और वापस मुड़ने को कहा तो वो तीनों हमारे पास आ गए और हमसे पूछा कि हमें कहां जाना है. दोस्तो, मेरी इस देसी हॉट सेक्स स्टोरी पर आप अपने विचार भेज सकते हैं.

वो किचन में डिनर तैयार करने लगी और मैं भी किचन में ही बैठ कर उससे बातें करने लगा और उसकी मस्त गांड देख कर अपने लंड पर हाथ फेरता रहा.

मैं उनकी तरफ़ ही देख रहा था और सोच रहा था कि मौसी मेरा ही फार्मूला मुझ पर आजमा रही हैं. जब संजय ने चादर हटाई तो पूजा एकदम नंगी लेटी हुई थी और उसकी उंगली चुत पे टिकी थी, जो एकदम क्लीन थी.

30 बजे उस के हस्बैंड और उस का दोस्त ड्यूटी पर चले जाएंगे, क्योंकि उनकी 8 बजे रात को शिफ्ट शुरू होती है. फिर मैंने कहा- मुझे नैना ने तुम्हारे बारे में कुछ बातें बताई हैं, क्या वो सच हैं?आरती आँसू पोंछते हुए बोली- नैना ने तुमको क्या बताया है?मैंने कहा- ज़्यादा चालाक बनने की ज़रूरत नहीं है. भाभी को फिर दर्द हुआ और उन की आँखों में से आँसू आने लगे, लेकिन मैं नहीं रुका और तीसरे झटके में अपना पूरा का पूरा लंड भाभी की गीली चिकनी चूत में पेल दिया.

कुछ देर बहूरानी ने सुपारा चूसने के बाद लंड छोड़ दिया और सुपारा भी मुंह से बाहर निकाल दिया और एक जोरदार चटखारा लिया जैसे कोई पसंदीदा चाट खा कर स्वाद लेते हुए चटखारे लेते हैं या कोई बच्चा अपने मन पसन्द खिलौने से खेल कर हर्षित होता है. भाभी की तड़फ देख कर मैं अपने मोटे लंड को भाभी की चुत पर रगड़ने लगा भाभी गांड उठा उठा कर पूरा एंजाय करने लगी. शिशिर अपने लंड को मेरे मुँह में अन्दर बाहर करते हुए मेरे मुँह को ही चोदने लगा.

बीएफ हिंदी मां बेटे की मगर तुम शदी के बाद बरखा से इस रात के बारे में लड़ाई तो नहीं करोगे ना कि वो कैसे मज़ा लेकर चुद रही थी. ऐसे तीन चार बार करने से मेरी कोशिश रंग लायी और मेरा सुपाड़ा बहू की चूत में घुसने में कामयाब हो गया.

सेक्सी हिंदी मूवी बीएफ

धीरे धीरे फेसबुक पर ही मैं उसे पसंद करने लगी और मैंने सभी से बात करना बंद कर दिया लेकिन उस लड़के से मैं बात करने लगी, उसे बातों से तो उसे पसंद करती थी लेकिन मैंने उसे अभी तक देखा नहीं था इसलिये मेरे मन में उसे देखने की बहुत इच्छा हुई. दोस्तो ये मेरी पहली कहानी है, हो सकता है मन की बात शब्दों में लिखने में कुछ गलतियां हो जाएं तो स्वीकार कर लीजिएगा और मुझे अवगत भी कराना ताकि गलतियों को सुधार सकूं. मैं देख ही रही थी कि तभी अचानक से मेरी सास बाथरूम से निकल आई और मुझे वह प्लास्टिक का लंड पकड़े देख लिया और बोली- निशा तुम यहाँ क्या कर रही हो? और यह क्या है तुम्हारे हाथ में? मेरी अलमारी क्यों खोली तुमने?और कई सारे सवाल करने लगीं.

अचानक वह पीछे हटी और अपना प्लाजो निकालने लगी, उस ने साथ ही अपनी पैन्टी भी निकाल दी. फिर वो मेरे लंड को भी प्यार से अपने कंठ में अन्दर तक भर कर रखे हुए थी. घड़ी वाले गेमतभी चाचा मुझसे बोले कि प्लीज आरती किसी से मत बताना!और रूम से भाग गये.

सामने से आती हुई गाड़ी की रोशनी में चाचाजी अपनी हवसी नजरों से मुझे घूर रहे थे.

अब रंजु को दीपक भैया का लंड चुसते देखकर रीना ने प्रतिरोध कम कर दिया. वो अन्दर गईं और जब बाहर आईं तो उन्हें देख कर मेरी तो हालत खराब हो गई.

क्या गर्म माल थी?तभी मैं एकदम से साइड में हुआ और मोबाइल को ऑन करके उसमे रोमांटिक गाने लगा दिए. मैं भी 5 मिनट में उनके मुँह में झड़ गया और उन्होंने मेरा सारा माल पी लिया. थोड़ी देर बाद चाचा और उनके दोस्त चुटकुले सुनाने लगे और सब हंसने लगे इधर चाचा अपना हाथ मेरी जाघों में चलाने लगे, मैं ब्लैक कलर का सूट पहने थी, सलवार के उपर से ही चाचा मेरी जांघों के बीच में मेरी चूत में कपड़े के ऊपर से ही उंगली करने लगे.

मैं चुदाई के लिए बेचैन थी लेकिन छत पर चुदाई की कोई संभावना ही नहीं थी फिर भी मैं चली गई ऊपर छत पर… मैं जैसे ही छत पर गई और छत का दरवाजा खोला तो जीजू मेरे सामने मेरी घर की छत पर ही खड़े थे और हल्की हल्की बारिश के छीटे पड़ रहे थे.

उधर पहुँच कर मैंने बाइक को खड़ा किया और आरती को देखा तो उसको देखते ही रह गया. मुझे मस्ती सूझी और मैंने उसे उसी का सेक्सी वीडियो दिखाना शुरू किया। वो अपनी चुचियों की वीडियो देख कर गुस्सा हो गई. मैं मौसी को देखता ही रह गया, वो सिर्फ ब्रा और पेंटी में ही थीं और मेरी तरफ़ किसी छिनाल की तरह देख रही थीं.

राजस्थानी सेक्सी वीडियो भेजोजो कुछ सोच रखा था वो सब उड़ गया दिमाग से… मैं वासना की अगन में जलने लगी, मेरा रोम रोम आपको पुकारने लगा और आपका प्यार पाने को, आपके लंड से चुदने को मेरा बदन रह रह कर मचलने लगा. मुझे लगा ये रोक रही है, पर ये क्या वो खुद ही अपने हाथों से मेरे हाथ पकड़ कर अपनी समीज़ निकाल रही थी.

एक्स वीडियो इन

मैंने देखा मीना ने थोड़ा सा दरवाजा खोला हुआ था और वो अन्दर हमको चुदाई करते हुए देख रही थी. पापा- अरे ऐसी ग़लती मत करना अगर वहाँ काटेगी ना… तो वो उसका बदला तेरी चुत से ले लेगा, फिर मत कहना कि दर्द होता है. मैं अपने अनुभव से उसके चेहरे पर सन्तुष्टि के भाव आसानी से पढ़ रहा था लेकिन इसके साथ ही उसके चेहरे पर झेंप के भी भाव थे.

तो मैंने अपने लंड को उनकी गांड के छेद पर रख कर जोर का धक्का दे दिया. मामी धीरे से बोलीं- सभी एक दूसरे का यौवन रस पी जाना, जिसे पीने के लिए देवता को भी मनुष्य अवतार लेना पड़ता है. अभी तो मैंने केवल अपना पूरा लंड ही इनकी चुत में घुसाया था कि तुम आ गईं.

फिर रागिनी जी बोलीं- सर वो जमीन पर मैं बिस्तर डाली हूं, चलिए वहीं बैठ कर बातें करते हैं. हालांकि उसने मेरा लंड मुँह में तो नहीं लिया, मैंने भी उस पर ज़ोर नहीं डाला, लेकिन वो हाथ से ही तेज़ी से लंड को ऊपर-नीचे करने लगी. वो शांत होकर अब मेरे ऊपर आ गई और हम दोनों उसी तरह थोड़ी देर पड़े रहे.

जैसे ही बरखा संजय के विशाल लंड पे बैठी, संजय का पूरा लंड उसकी चुत को चीरता हुआ अन्दर घुस गया. मेरा नाम मोनू है, मैं एक सीधा साधा लड़का हूँ और अन्तर्वासना में यह मेरी पहली एडल्ट कहानी है जो कि एक सच्ची घटना है.

कितना दम है मेरे लौड़े में!” कहते हुए अमित ने अपना लंड बाहर निकाल लिया और उस्मान को कुछ इशारा किया, जो माया नहीं देख पाई.

उसके सी-कप चूचे बिल्कुल खड़े, सख़्त और चूसने के लिए एकदम तैयार दिख रहे थे. गली दिसावर डॉट कॉममेरा सब्र टूट रहा था कि तभी पीछ से मुझे सुनाई दिया- अनुराधा, जाकर लड़की वालों को लंच के लिए बुला ला. सर्दी की बारिश शायरीतब चाचा बोले- फिर तुम बचे हुए दोनों भी देख लो!और गाड़ी के अंदर की लाइट जला दी, मेरा कुर्ता हटा दिया. अपनी कमर आगे पीछे करके रूपा पप्पू से चूत में उंगली करवाती हुई उसका लंड मसलते हुए बोली- देख पप्पू, तू गालियाँ दे या जो कुछ भी करे… मुझे कोई प्राब्लम नहीं, पर मार नहीं खाऊँगी.

ये गलत है और आप भी मुझसे प्रोमिस कीजिए कि आज के बाद आप आज जो कुछ भी हुआ, उसे भूल जाएंगे और कभी भी इस तरह की हरकत नहीं करेंगे.

रेखा पहले तो थोड़ी झिझकी और मेरी गॉड से उठाने लगी, लेकिन पिंकी ने उसे उठाने नहीं दिया, बोली- कल तो तू अपने पापा से सेक्स की बातें कर रही थी, अब मैं मौक़ा ड़े रही हूँ तो तू ये नौटंकी कर रही है?इतनी देर में मैं अपनी बेटी की स्कर्ट में हाथ देकर उसकी जांघें सहलाने लगा. परफ्यूम, शैम्पू, नाईट गाउन, डिज़ाइनर ब्रा और पैन्टीज के सेट इत्यादि और मेरे लिए एक शर्ट और टाई भी बहूरानी ने पसन्द की; सामान के चार पांच बैग्स मैं ही ले के चल रहा था. मैंने उसके होंठ पर अपने होंठ रखे और अपना 6 इंच का पूरा लंड उसकी चुत की सील तोड़ते हुए अन्दर पेल दिया.

दस मिनट ऐसे ही करने के बाद मैंने अचानक उसका मुँह बंद किया और एक जोरदार धक्का दे मारा. उसने शादी के बाद मुझसे बात करने का वादा किया था, उससे जैसे ही बात होगी. जीजू मुझसे बोले- पिंकी, तुम्हारी गांड बहुत अच्छी है, तुम्हारी गांड तो तुम्हारी दीदी से भी बड़ी है.

ब्लू सेक्सी फिल्म सेक्स सेक्स

मेरा लंड किसी डंडे की तरह अकड़ रहा था और मौसी लंड को हाथ में लेकर बहुत गौर से देख रही थीं. सुमन को यकीन नहीं हुआ कि इतना बड़ा लंड पूरा चला गया मगर गुलशन के समझाने पर वो मान गई. जैसे ही मैंने लंड उसके चुत में घुसाया तो शायद वो इस मोटे लंड के हमले के लिए तैयार नहीं थी, वो चिल्लाने वाली थी कि मैंने उसका मुँह एक हाथ से बंद कर दिया.

मैंने उसे अपनी बाँहों में भर लिया और उसके होठों के पास अपना होंठ ले जाकर बोला- बोलो मेरी जान अच्छा लगा न?उसने सिर्फ ‘हूँ.

उसने अपने लंड का सुपारा फिर से मेरी चुत के मुँह पर रख दिया और अपने सारे बदन का जोर देते हुए एक धक्का मारा.

भाभी की तड़फ देख कर मैं अपने मोटे लंड को भाभी की चुत पर रगड़ने लगा भाभी गांड उठा उठा कर पूरा एंजाय करने लगी. मैं समझो मर सी गई- और डालो… आह्ह… आह्ह…अचानक मुझे लगा कि मेरी पेशाब अल्का के मुँह पर बरसने लगी. मारवाड़ी राजस्थानी वीडियो सेक्सीएक दिन दीदी और माँ मेरी मालिश कर रही थीं कि अचानक मेरे लंड से कुछ निकला और मेरा शरीर अकड़ गया.

अगली बार मैंने अर्चना को उसके घर में कैसे चोदा, ये जानने के लिए मेरी अगली रियल सेक्स स्टोरी का आनन्द जरूर लें और अभी कमेंट्स करें. मैंने बहूरानी की बात को अनसुना करते हुए लंड को थोड़ा सा आगे पीछे किया और फिर अपने दांत भींच कर लंड को बाहर तक निकाल के जोरदार धक्का मार दिया. हम अक्सर ऐसी जगह ही छुपते थे लेकिन एक दिन मैं अपने भूसे के छप्पर में जाकर छुप गया.

फिर उसके कुछ मान-मनव्वल के बाद मैं लेस्बो के लिए मान गई और हम दोनों मेरे बेडरूम में आ गए. वो मुझे उकसा रही थी, तो मैंने कहा- बहुत हरामी हो रही है, क्यों मेरी जान… रंडी बनना चाहती है आज?उसने जोर से हंस कर, मुझे एक हल्का झापड़ मार कर कहा- अब समझा मेरा चुड़दक़्कड़, आज मुझे रंडी ही बना दे.

हम दोनों ऐसे ही पड़े रहे और उस रात एक-दूसरे की बाँहों में लेटे रहे.

मैंने कहा- मेरे पास इसका कोई तरीका नहीं है कि मैं आपको ये सिद्ध करके बता सकूँ. जब भी उनके घर जाता तो उनके बड़े मम्मों को घूरता रहता और उनकी मोटी गांड के नजारे भी देखता था. उसने मुझे मेरी मेहनत का इनाम दिया और बोला कि मेरे दो दोस्त हैं जिन्हें गांड मारनी और मरवानी है, उनसे मैं तुम्हें जरूर मिलाऊँगा.

ट्रिपल सेक्सी वीडियो ट्रिपल सेक्सी मेरे तीन बॉयफ्रेंडस रह चुके हैं और तीनों से मैंने चुदाई करवाई हुई है तो मेरा बदन एक दम भरा भरा है. अब बैग में से क्रीम निकाल कर बहुत सारी कोल्ड क्रीम को उस की गांड के छेद पर लगा दिया और ब्रश से गांड के छेद पर क्रीम को अन्दर बाहर करने लगा.

थोड़ा दबाव देने पर लिंग का ऊपरी हिस्सा उसकी योनि में प्रवेश कर गया और उसके नाखून मेरी पीठ में गड़ गए. मैंने उसको बांहों में भर लिया, उसके होंठों पर एक चुम्मा लिया, फिर हम बस की ओर चल पड़े. मैं तो एकटक उसे ही देख रहा था कि कुछ ही देर में दूसरी परछाई भी आई और उसने कुछ खुसुर फुसर की सी आवाज में कहा- भाभी कहाँ हो?तो मुझे लगा कि यह तो मेरे चाचा की आवाज है.

ब्लू फिल्म सेक्सी वीडियो चलने वाली

उन्होंने कपड़े नहीं उतारे थे, ऊपर से ही उन्होंने मेरे दोनों हाथों को अपनी चूचियों को दबवाया. सुमन ने नाइटी पहनी हुई थी और खाना तैयार कर रही थी और पापा जी तो वही अपनी लुंगी में मस्त थे. मेरे भाई ने जब मुझे और मम्मी को चोदा तो उसने यही कहा- दीदी, मुझे ज्यादा मजा मम्मी को चोदने में आया है.

थोड़ी ही देर में जय का पूरा का पूरा निशा भाभी की गांड में लंड समा गया. मैंने उसे सामान रखने में मदद की, लेकिन उसी समय बस चलना शुरू हो गई ओर उसके स्तन मेरे हाथ को लगे.

आज पहली बार मुझे किसी लड़की के शरीर के इतने नजदीक जाने का मौका मिला था.

मैं उसे मॉल लेकर गया उस वक्त वो मांग में सिंदूर और गले में मंगलसूत्र पहने थी. वैसे तूने बताया नहीं कि कितने लड़कों ने तेरा यह जिस्म सहलाया है और तुझे उन लड़कों को अपनी ब्रा का साइज़ बताने में क्यों शरम आती है?नीता को पहली बार मर्द के सामने अपना नंगा सीना दिखाने और निप्पल को मर्द से मसलवाने में मज़ा आने लगा था. मैंने कुछ आइसक्रीम अपने लंड पर भी लगा दी और अपनी बेटी को चूसने का इशारा किया.

फ्लॉरा- क्या हुआ… बता ना अपनी कहानी और तुझे तो बड़े आदमी के साथ करने का एक्सपीरियेन्स है, तो तू खुद क्यों नहीं सुमन के पापा के साथ चुदाई करवा लेती?टीना- नहीं यार. लेकिन एक दिन मैं और वेरषा घर के बाहर बैठ कर बातें कर रहे थे और बात करते-करते हमारे बीच कुछ सेक्सी मज़ाक भी होने लगा. वैसे तो सर्दी का महीना था, फिर भी मैंने दोनों से प्रकाश कुल्फी खाने के लिए कहा, क्योंकि सर्दी में कुल्फी या आइसक्रीम खाने का मजा ही कुछ और है.

घर पर आया तो मम्मी खाना बना कर फ्री हो गई थीं और वो बोलीं- बेटा आज स्कूल नहीं जाना क्या?मैंने उनकी बात को अनसुनी करते हुए कहा कि मम्मी मुझे एक चीज मिली है.

बीएफ हिंदी मां बेटे की: बातों बातों में मैं ये जान चुका था कि अंजलि भी चुदने को जल्दी ही मान जाएगी. अब मैं लंड को पूरा अन्दर ले गया और फिर लंड को अन्दर बाहर करता रहा, जिससे समीर को बहुत मजा आ रहा था.

मैं भी बुआ को उठा कर खाने के टेबल तक लाया, वो कुछ बेमन से खाना खा रही थीं. मैंने भी अपनी स्पीड और बढ़ा दी, दीदी की झूलती चूचियों को अपनी दोनों मुठ्ठियों में भींच कर मैं जोर जोर से शॉट्स मारने लगा. वो चीख पड़ी और उठ कर बोली- दीदी तुम भी ना मुझे सोने क्यों नहीं दे रही.

शीतल को लंड के सख्त होने का अहसास हुआ तो वो मेरे ऊपर आ गई और उसने अपनी चूत में मेरे सख्त लंड को गटक लिया.

मैंने उत्साहित हो कर उसे कहा- ओह मेरी जान, मैं तुम्हें अब कहीं नहीं जाने दूंगा, मैं चाहता हूँ कि हम सारी ज़िन्दगी ऐसे ही एक दूसरे के साथ अकेले इस ज़न्नत में हमेशा के लिए पड़े रहें. खैर वो दोनों उठ कर नीचे चली गईं और मैं भी अपने घर के अन्दर चला आया. रीना किसी कटे पेड़ की तरह मुझे लेकर बेड पर ढह गई, जिससे उसके चुचे मेरे मुँह के सामने और उसका मुँह ठीक दीपक के खड़े लंड के सामने आ गया.