मराठी सेक्स बीएफ व्हिडिओ

छवि स्रोत,लड़की की सील तोड़ते

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स बीएफ गुजराती: मराठी सेक्स बीएफ व्हिडिओ, उसने बताया कि दोनों घरों के बीच एक दरवाजा है उसको दोनों तरफ से खोल लो तो भाभी को इधर लाया जा सकता है.

वीडियो नंगा

मेरी हरामी निगाहें इस बात को समझ लेती थीं कि उन्होंने नाइटी के नीचे ब्रा पेंटी भी नहीं पहनी होती थी. जैकलिन की नंगी फोटोमैंने कहा- अब ठीक है लेकिन चलने में दिक्कत है, वो तो बाइक है, इसलिए इधर उधर चला जाता हूँ.

हाय राम, जानू, आपने तो मेरे आने के पहले ही अपना हथियार तैयार कर के रखा है. अन्तर्वासना. कमतो उनके हिलते हुए चूचे मुझे बड़ा ही आकर्षित कर रहे थे।मैंने देखा कि उन फिरंगी लड़कियों के बीच कुछ इंडियन लड़की भाभी आंटी भी बिकनी पहने मस्ती कर रही थीं। उन भारतीय लड़कियों में एक देसी लड़की मुझे शर्माते हुए आती दिखी जो थोड़ी स्थूल थी.

हमारे पास अच्छा खासा पैसा है, इसलिए हमने सोचा ऐसे वहां बजाए एक कमरे के एक छोटा सा फ्लैट ही रेंट पे ले लिया जाए.मराठी सेक्स बीएफ व्हिडिओ: दीदी- देखो सन्नी, ये ग़लत कर रहे हो तुम, बात सिर्फ़ लंड चूसने की हुई थी और अब तुम…मैंने दीदी को बीच में ही चुप करवा दिया- दीदी मैं समझ सकता हूँ कि आप क्या बोल रही हो, लेकिन डरो नहीं, मैं कुछ नहीं करूँगा, मैं तो बस हल्की सी मस्ती कर रहा हूँ, बाकी का काम मैं आपकी मर्ज़ी के बिना नहीं करूँगा.

मैंने अपने दोस्तों से सुना था कि काम वाली बाई भी दे देती है, यदि उसको सही से पटा लिया जाए.अब मैंने एक हाथ उनके सीधी तरफ वाले चूचे पर रख दिया और दूसरा हाथ उनकी गांड पर रख दिया.

वीडियो चोदा चोदी चोदा - मराठी सेक्स बीएफ व्हिडिओ

जैसे ही 2 बजे में फटाफट बाइक ले कर भागा और सोनी के कॉलेज के गेट के आगे जाकर खड़ा हो गया.मैंने- किधर डाल दूँ?वो मेरी छाती पर मुक्का मारते हुए बोली- सताओ मत.

ससुराल छोड़ कर आने के बाद माधुरी ने पढ़ाई की और किसी स्कूल में नौकरी करने लगी. मराठी सेक्स बीएफ व्हिडिओ घर का थोड़ा बहुत काम किया और फिर सासू माँ के पास बैठकर यश का इन्तजार करने लगी। इन्तजार करते-करते रात 10 बज गए तो माँ बोलीं कि बेटी तुम खाना खाकर सो जाओ.

इस बार मैंने ताकत से झटका दिया और मेरा 4 इंच उसकी गांड में रगड़ता हुआ घुस गया.

मराठी सेक्स बीएफ व्हिडिओ?

माया ने अपनी गाड़ी पार्किंग में लगाई और तेज़ कदमों से अपने केबिन की तरफ बढ़ चली. अब वो आराम से बैठ गई… क्योंकि अब गाड़ी के अन्दर का सब बाहर की रोशनी में दिखाई देने लगा था. मैं उसकी जांघों के बीच के बरमूडा ट्रायंगल को चूमता हुआ उसकी नाभि तक पहुँचा और उसके नाभि के छेद में अपनी जीभ डालकर उसको सहलाता हुआ.

वह भी मेरा साथ दे रही थी और मेरी जीभ मुँह में जाने पर उसको चूसने लगी. इसके बाद मैंने रुबीना से कल मिलने के लिए वादा ले लिया और कॉफी के बाद उसको उसके घर छोड़ दिया. वो ऑफिस आज जल्दी आ गई थी और उस्मान, अमित या सुमित से पहले अपने केबिन पहुँच कर अपनी ब्रा और पेंटी उतार देना चाहती थी.

सो मैंने अपने लंड को पूरा बाहर निकाला और निशाना लगाते हुए पूरे जोर से उसकी चूत में घुसा दिया. इस बार एक ओर मैं अपने लंड को भौजी के चूत पे रगड़ते हुए और दूसरी ओर उनके निप्पलों को दांतों से काटते हुए अपनी बहादुरी दिखाने का मौका ढूंढ रहा था. उसने मुझे बाहर निकलने के लिए कहा पर मैं उसे समझाने लगा कि अभी दर्द खत्म हो जाएगा.

कुछ देर बाद वो भी मेरा साथ देने लगी तो मैंने उसका हाथ छोड़ दिया और अपनी उंगली को ममता के बालों में फंसा कर उसके बालों को सहलाने लगा. अब ममता भी धीरे धीरे उत्तेजित होने लगी और मेरे बालों को सहलाने लगी.

मोहन लाल के इस राज का किसी को यहाँ पता नहीं था, क्योंकि उसकी पत्नी और ससुर पहले ही गुजर चुके थे.

मैं- सर मेरी चूत आपकी है, आप कभी भी चोद दीजिए, पर ये ऑफ़िस है कोई आ गया तो बहुत बेइज्जती होगी.

प्रिया बोली- हां बोलो?मैंने उससे बोल दिया कि मैं तुमको पसन्द करता हूँ. राहुल इतना अधिक उत्तेजित हो गया था कि थोड़ी ही देर में उसने अपना पानी जोया के मुँह में छोड़ दिया. अब मैं भाभी की जाँघों पर बैठकर उनकी गांड को दोनों हाथों से चौड़ी करने लगा.

उसने भी अच्छी तरह से उंगली में उंगली फंसा कर मुझे पकड़ लिया और साथ में चलने लगा. अब किशोर धक्के मारने लगा, वर्षा आँखें बंद किए किशोर की पीठ पर प्यार से हाथ फेर रही थी, जैसे कि वो उसे धन्यवाद दे रही हो. चाची तो पागल हो कर तड़प उठीं और मादक सिसकारियां भरते हुए मेरे लंड को हिलाने लगीं.

अरे बेटा, तू टेंशन मत ले… बस एन्जॉय कर मेरे साथ!” मैंने उनके पांवों के दोनों तलुए चूम डाले और अपना लंड उनके तलुओं के बीच फंसा लिया.

तो वो बोली- तुझे मुझमें सबसे ज्यादा क्या पसंद है?मैं कुछ नहीं बोला, वो अपने चूचे उठा कर कहने लगीं- देख शर्मा मत. मैंने पूछा कि चूत में मूली क्यों नहीं की?तो बोलीं- मैं चूत की सील लंड से ही खुलवाना चाहती थी. ” डायरेक्टर के इशारा करते हुए कहने पर, फिर ब्रायन ने राधिका को रोका और मम्मी को बेड पर गिराकर उनकी साड़ी खोलने लगा.

मैंने चाची को अपनी बांहों में भरते हुए पूछा कि क्या हुआ?तो मुझसे चिपकते हुए बोलीं- छिपकली है. मैं भी देख लूंगा, आपको ये लौंडा मैंने दिलाया है, जिसकी गांड का आपने मजा लिया. इसे सोनी ने कुछ माइंड नहीं किया… पर मुझसे कंट्रोल करना अब मुश्किल हो गया था.

मैंने हथेली का एक कप सा बनाया जिस में मेरी उंगलियाँ नीचे की ओर थी और उससे प्रिया की योनि को पूरा ढाँप लिया.

ऋतिक मेरे पास मेरे बिस्तर पर आकर बैठ गया और बोला- तू जो भी बोल रहा था. मेरे पहले हम बिस्तर मेरे शौहर शहजाद ही थे, हम एक दूसरे से बहुत प्यार भी करते हैं और वो मुझ पर भरोसा भी करते हैं.

मराठी सेक्स बीएफ व्हिडिओ उसको लेकर मैं चाह कर भी कुछ नहीं कर सकता था क्योंकि मैंने जैसा पहले ही आपको बताया कि मेरी मम्मी बहुत सख्त थीं और मम्मी और भाई हमेशा हम दोनों के आजू बाजू होते थे. क्या तूने कभी सेक्स किया है?मैंने झूठ बोलते हुए कहा- नहीं भाभी!भाभी ने हंसते हुए कहा- क्या तेरा मन करता है या सिर्फ़ हाथ से हिला कर सो जाता है?मैं भाभी के मुँह से ये शब्द सुन कर हैरान हो गया, पर अन्दर ही अन्दर खुश भी बहुत हो रहा था कि चलो बात तो बन रही है.

मराठी सेक्स बीएफ व्हिडिओ मुझे पता चला कि वो किसी केशधारी लड़के से प्यार करती हैं और शादी करना चाहती हैं. मैं तो खुशी के मारे पागल सा हो गया और जोश में आकर उनके मम्मों को छोड़ कर, उनको दोनों हाथों से पकड़ कर घुमा के अपने सीने से लगा दिया.

अभी इन सब चीज़ों में बहुत टाइम पड़ा है।मैंने उसे समझाते हुए कहा।वो- लेकिन चाची जी आज मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा है।फिर उसने अपनी पैन्ट भी उतार दी.

गांव वाली सेक्सी वीडियो

अब तक स्वाति से मेरी कोई बात नहीं हुई थी, मैंने स्वाति की तरफ देखा, वो काफी शर्मा रही थी. फिर दीदी ने मुझे लेटने को कहा और खुद अपनी गांड के छेद को मेरे लंड पर रख कर अपनी गांड मरवाई. तुझे बेड पर कुतिया बना कर चोदने में जो मजा है, वह कहीं नहीं!उफ़ कुतिया क्यों ब्रायन? चुदवा तो रही हूँ चुपचाप.

फिर मयूरी खुद ही दरवाज़े की तरफ बढ़ी और ऐसे झुकी जैसे पीछे से मोहन लाल को अपनी गांड के दर्शन करवाना चाहती हो और दरवाज़े को अन्दर से बंद करने की कोशिश करने लगी. सिराज ने अपने लंड से एक दो बार मेरे गांड के छेद को सहलाया और धीरे धीरे अपना लंड मेरी गांड में पेल दिया।मैंने खुद को फिर से एक बार ढीला छोड़ दिया। आनन्द से मेरी आँखें बंद होने लगी और शायद कुछ सेकण्ड के लिए मैं नींद के आगोश में भी चली गयी, मगर तभी सिराज ने कस के मेरे चूतड़ पे तमाचा मारा तो मैं हड़बड़ा कर जग गयी. कुछ देर बाद मुझे चरचराहट की आवाज़ सुनाई दी, आगे बढ़ कर देखा तो कोई अपने ही गांव की औरत थी, जो फसल काट रही थी.

मैंने पूछा कि तुम्हारा कितना बाकी है?उसने बोला कि मैं तो दोबारा भी झड़ चुकी हूँ, तुम इतने दमदार तरीके से चोद रहे थे कि मैंने तुम्हें बीच में नहीं रोका.

इसी तरह हम मेले में पहुँचे, वहां काफ़ी भीड़ थी और तरह तरह के झूले लगे हुए थे. ”विक्की ने अपने दोनों हाथों से रोशनी के मोटे मोटे चुचों का दबोच लिया और बोला- दीदी, ज्यादा हिली डुलीं तो मैं तेरे काले अंगूर जैसे निप्पल को मसल के लाल रसभरी बना दूंगा. वो कुछ बोले, उससे पहले मेरे भाई ने कहा- हां हां चलो, मुझे तो झूला झूलना है.

उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह…कुछ ही देर में भाभी ने फिर से पानी छोड़ दिया और अपने शरीर एकदम ढीला कर दिया. मैंने चाय दी और कहा- और कहिए संजय भाई कौन सा कमरा सिलेक्ट किया आपने?संजय- भाभीजी ये बाल्कनी वाला कमरा ही ठीक रहेगा. दूसरा दोस्त अभी भी उसके मम्मों के साथ खेल रहा था, फिर पदमा का नजदीकी फ्रेंड आगे आया और उसने अपना लौड़ा पदमा के मुंह में जबरन घुसेड़ दिया.

मैं भाभी की गांड में सटासट धक्के दिए जा रहा था और वो छटपटा रही थीं. मैं झट से उठ गया और पूछा कि तुम यह क्या कर रही हो?उसने मुझसे कहा- आज मुझे तेरा लंड चूसना है.

उसके बाद मैंने देर न करते हुए सीधा उसके होंठों पर होंठ रख दिए औऱ उसके होंठ चूसने लगा. यह कहते हुए उन्होंने खुद ही मेरे हाथों को पकड़ कर अपनी जाँघों में रख लिये।हाथ चाहे खुद से रखा जाये या कोई आपके हाथों को पकड़ कर वहाँ पर रखे, मजा तो आता ही है, और मैं भी इसी मजे में सुमित्रा देवी (आंटी) को दुबारा डुबाने का प्रयास करने लगा. अब मैं बेड पर लेट गया और भाभी मेरे ऊपर आ कर लंड पर चूत फंसा कर बैठ गई.

तभी भाभी के पापा बोले- यार, बहुत गजब माल हो तुम आरती, जब तुम्हारे घर अपनी बेटी का रिश्ता लेकर गया था, तभी तुम पसंद आ रही थी और सोच लिया था कि अगर बेटी की शादी हो गई तो एक बार तुम्हें चोदूंगा जरूर!और मुंह को लंड से चोदने लगे और बोले- आरती, शर्ट उतारो, तुम्हारे बूब्स चूसने हैं.

भाभी उस दिन ब्लैक कलर की साड़ी में क्या मस्त माल लग रही थीं, ऊपर से उनका खुला पेट और नाभि साफ़ दिख रही थी, जिससे मेरा तो बुरा हाल हो गया था. मम्मी ने ब्रायन के लंड को चाट चाट कर साफ़ किया, फिर दोनों वैसी ही हालत में हमारे पास आकर सोफे पर बैठ गए. हम बहुत खुश थे। रोहण उसके डैड बन गए थे और मैं उसकी माँ!हम अभी भी ऐसे ही चुदाई का मजा लेते हैं।दोस्तो, आपको मेरी स्टोरी कैसी लगी, कमेंट में जरूर बताएं, प्लीज मुझे ईमेल करें.

अगले दिन मैं अपने आपको भाभी की चुचियां देखने और छूने के लालच से रोक नहीं पाया और कोचिंग क्लास से बंक मार कर भाभी के घर चला गया. जब चाहे मेरी मार लेना, जहां तक उन लौडों की बात है, वे सब शकूर से मरवा चुके हैं.

बात आज से 6 महीने पहले की है, एक दिन रात को खाना खाते वक़्त शहजाद ने मुझसे कहा कि नसीम क्यों ना हम अपना ऊपर वाला कमरा किराये पर दे दें?मैं- क्यों. शाम को वापिसी में और घर आ कर भी मैं कुछ अजीब सा खालीपन महसूस कर रहा था. खास फ्रेंड ने अपना लौड़ा पदमा की पहले से अन्दर तक गोल लाल दिखती गांड के खुले हुए छेद में घुसेड़ डाला और उसके दूसरे दोस्त ने चूत में पेल दिया.

गार्डन का सेक्सी वीडियो

अगले दिन मैंने ठान लिया था कि आज चाहे जो भी हो, मैं उससे माफी लेकर ही रहूँगा.

मैं- तो करें शुरू?वह नाटक करते हुए- क्या शुरू करना है?मैं- कुछ नहीं… लेट जा इधर ही!वह- सोने के लिए लाए हो या कुछ करने के लिए?तभी मैंने उसके कंधों पर हाथ रखा और उसने अपनी आँखें बंद कर ली और तभी मैंने उसके होंठों पर होंठ रख दिए. अंत में मेरा लंड वीरगति को प्राप्त होता हुआ चूत से बाहर निकल आया और उसकी चूत से मेरे वीर्य और उसके रज का मिश्रण बह बह कर टपकने लगा. मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी और मैंने भी दो मिनट बाद उनकी चूत में ही अपना सारा माल भर दिया.

मैं एक वीक बुआ के यहाँ रुका और रोज़ हमने ओरल सेक्स किया, चुदाई नहीं हो पा रही थी, शायद इसकी वजह हमारा भाई बहन का रिश्ता था. तब उसका प्यारा सा लंड अन्दर तक मेरे पेट में मेरी आंतों को छू लेता, तब दीदी सच में ऐसा लगता था कि मैं जन्नत में हूँ. गाना वाला सेक्सीक्योंकि बाल गीले होने के कारण उनकी नाईटी हल्की भीग सी गई थी और शरीर से चिपक गई थी.

मोना के घर वाले भी उस लड़की के साथ मोना को भेजने के लिए तैयार हो गए. भाबी की चुत किसी ने कभी चाटी नहीं थी, जो भाबी के हाव भाव से पता चल रहा था.

उनको चूमने के बाद मैंने अपनी पैंट उतारी और अपना 7 इंच का लंड निकाला तो दीदी के होश उड़ गए. मैं गांव जा रही थी इसलिए बिल्कुल सिंपल जीन्स टॉप पहना था, जिसमें मेरे शरीर का कोई भी अंग नहीं दिख रहा था. मम्मी अपनी टांगों को फैलाए लेटी थीं, उनकी चूत से फूफा का रस टपक रहा था.

हमारी फ्रेंडशिप सी हो गई थी, इसलिए उसे भी मेरा आना जाना अच्छा लगने लगा. अब मैं चाची से भी ज्यादा बात नहीं करता था, उनका फोन आता तो मैं उठाता भी नहीं था और न ही उनके घर जाता था. अब कमल ने एक बार फिर मुझे डॉगी बनाया और पीछे से मेरी चूत में लंड डालकर चोदने लगा.

मैंने अपना लंड फिर से उसके पांवों के तलुओं में दबा लिया और अपने पैर का अंगूठा उसकी चूत में घुसेड़ दिया.

मैंने कहा- पहले पूरा लंड निकालो, बाद चूत पे फिर से सैट करो, फिर जोर से धक्का मारो. उसके बाद बहुत प्यार से उसको फँसाना, तब आएगी दिव्या रानी हमारे लंड के नीचे.

अब तक मैंने उनकी पीठ की भी मालिश शुरू कर दी थी, इसलिए मैंने मेरे पैर हटा लिए थे. इसके साथ ही अपना एक हाथ उसकी पैंटी के अन्दर डाल कर उसकी चूत को सहलाते हुए उसकी चूत की फाँकों के बीच से अपनी एक उंगली को उसकी चूत में घुसा दिया. वो बोला- इतनी रात को क्यों फोन किया बेबी?मैंने उसे समझा दिया तो वो बोला- मैं बाइक से अभी 5 मिनट में आता हूँ.

यहाँ सब मिलनी कर रहे थे और मैं उस लेडी को देखता हुआ सोच रहा था कि यार क्या मस्त माल है… साला लंड के नीचे आ जाए तो मजा आ जाए. कोई भी स्त्री अंधेरे में भी किसी से चुदवा ले तो वो अपने पति और पर पुरुष में फर्क तो महसूस कर ही सकती है. हम स्टेशन पहुँचने वाले थे तो अवी ने मेरा हाथ पकड़ा और किस करके कहा कि कितने दिन के लिए जा रही हो, फिर कब मिलोगी?मैंने बताया कि 20 दिन बाद कॉलेज खुलेगा, तब आ जाऊँगी.

मराठी सेक्स बीएफ व्हिडिओ बहुत मन कर रहा है।यह कहते ही उसने मेरी टांगों को ऊपर तक उठा दिया।फिर मैंने उससे कहा- रूको यार. अह्ह्ह… ह्ह्ह्ह… उह्ह्ह्ह… ओह…’ उसके मुँह से मादक आवाजें निकलने लगीं.

हिंदी मराठी सेक्सी विडिओ

उसने भी वैसे किया वो मेरा लंड चूसने लगी और ढेर सारा थूक मेरे लंड पर लगा दिया. पर मेरी फट रही थी तो मैंने फिर से उसे अपने से दूर किया और जाने लगा. ममता बोली- अब क्या हुआ उस समय तो बड़े गुस्से में बोले थे कि दूसरी खोज लेंगे तो अब जाइए, मुझे अब आपके साथ उतना भी नहीं करना.

घर का ऐसा कौन सी दीवार बची थी, जिसके सहारे खड़ा कर मुझे चोदा न गया हो. मैं कमल के धक्के बर्दाश्त नहीं कर पा रही थी, मेरे मुँह लगातार मादक सिसकारियां और आवाजें आ रही थीं ‘आआअहह. सुपरहिट सेक्सी गानेअसल में ये वही सुकुमारी भौजी हैं, जो पिछली 3-4 होली से मेरा पेंट खोल कर रंग डालतीं और गरियाती भी खूब थीं.

फिर अपने बैग से एक क्रीम निकाल कर मोना की गांड के छेद पर लगाई, फिर अपने लिंग पर.

!तनु इतनी बड़ी बात अचानक कैसे कह देती, उसने अपनी बात अधूरी कर दी।पर प्रेरणा ने जवाब दिया- हाँ कविता हाँ वो अब इस दुनिया में नहीं है… और ये सब उस कमीने भोगानंद बाबा का किया धरा है।तनु भी पहले से ही सिसक रही थी और वो अब प्रेरणा को समझाने के बजाय खुद जोरों से रोने लगी, अब मुझे माजरा कुछ कुछ समझ आ रहा था, पर पहले दोनों को समझाना और सम्हालना जरुरी था।मैंने चारों ओर नजर दौड़ाई कि रसोई कहां है. क्या मेरा लंड तुम्हारी चूत की गहराई में छिपी ज़न्नत का मजा पा पाएगा या नहीं.

इसलिए मेरी बहन सोनी सुबह सीधे कॉलेज जाती थी और कॉलेज से सीधा घर आती थी. उनको बेहद दर्द हो रहा था, वे मेरे मोटे और लम्बे लंड को झेल ही नहीं पा रही थीं. तो मैंने बेल नहीं बजाई बल्कि बाजू में जाकर खिड़की के एक छोटे से छिद्र से देखा तो घबरा सा गया.

फिर कभी नीचे, उसने जीन्स पहनी हुई थी, तो उसकी जीन्स पर हाथ लगा कर वापस पेट पर चला जाता.

सर कैसे लगे मेरी बेटी के मम्मे? मेरी मासूम बेटी को आज सब लोग जमकर चोदो. उसके लगभग एक घन्टे बाद मैं उनके घर पहुँचा तो देखा वो अपने बाल सुखा रही थीं, शायद थोड़ी देर पहले ही वो नहाकर आई थीं. वैसे मैंने ब्लू फिल्म में नंगी चूचियों को न जाने कितनी बार देखा है, पर पहली बार रीयल में देखे तो मेरा लंड अकड़ गया.

सेक्स पानीवो अपनी आंखें मूंद कर दोनों टांगें फैला कर जैसे जन्नत का मजा देने का कह रही थीं कि जान जल्दी से आ जाओ. खाली पैकेट गैस स्टोव पर जला दिया और उनके लिए दाल भात, रोटी और दही ले आई.

सेकसीहिदी

असल में मैं नहीं चाहती थी कि वो मुझसे ज्यादा दूर रहे और मैंने इस तरह नागपुर जाना चालू किया. वो हम लड़कियाँ असानी से समझ जाती हैं।”चल अब तो सुना?”नहीं दीदी, अब तुम एक्सपर्ट हो गयी हो तो अब रात में घूंस देना पड़ेगा!”अब रात में क्या घूंस चाहिए?”सोचो दीदी सोचो…”चलो मैंने हार मानी!”दीदी जिस तरह जीजा ने तुम्हें चोदा, ठीक उसी तरह तुम आज रात मेरी ठुकायी करोगी. ये महीना नवम्बर का था, उस सर्द रात में मेरे पप्पू महाराज ने अंगड़ाई ली तो मैंने मन ही मन अपने पप्पू को कहा महाराज जी थोड़ा रुक जाओ, बस आपके लिए छेद का इंतज़ाम होने वाला है.

” करते हुए दीदी ऊपर नीचे गांड हिला रही थीं, उनकी चूत से पानी आने लगा. जो मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था, आज सपना ने मेरे हाथों को वहाँ तक पहुँचा दिया. मैंने कहा- बेटा, मैं तेरी माँ हूँ यह ठीक नहीं है।फिर रोहण बोला- माँ, आप भी तो कब से प्यासी हो! और हम शादी कर लेंगे।मैंने भी रोहण को ‘आई लव यू…’ बोल दिया और मैंने कहा- पहले तुम मुझसे प्रॉमिस करो कि हम शादी कर लेंगे?रोहण ने ‘हाँ’ बोल दी.

प्लीज़ चाची।मैं मचलने लगी कि यह तो सैट ही हो गया। हालांकि मुझे पता था कि गाण्ड की कसावट चूत से भी ज्यादा टाइट होती है। अब उसे खुश करने के लिए. उसको सम्हलने का मौका नहीं देते हुए मैंने उसकी दोनों चुचियों को पकड़ कर, जोर से खींचकर एक और शाट दे मारा. यह मौका पाकर मैं और वो खुद का रोक न सके और हमारे होंठ एक दूसरे से मिल गए.

मैंने उन्हें किस करना भी स्टार्ट किया और साथ में मम्मों को भी दबाने लगा, जिससे उनकी आवाज़ में काफी कमी आ गई. उधर मैं सुकुमारी भौजी की चूचियों को दबाते हुए उनकी साड़ी को धीरे-धीरे खींचने लगा, इधर सुकुमारी भौजी मेरे पैंट की चैन खोल कर मेरे 8 इंच के तने लंड को मेरे कसे हुए पेंट से निकालने लगीं.

वो बाथरूम में अन्दर नहाने चली गई औऱ आधे घंटे बाद पूरी तैयार होकर आई.

मैंने सोचा कि फोन कर लूँ मगर रुबीना को फोन रखने की मना थी, इसलिए वो फोन नहीं रखती थी. लड़की की नंगी फोटोवो वर्षा से बोला- मैं किशोर हूं तुम्हारे मकान का काम मैं ही करता हूं. एक्स वीडियो इंग्लिश फिल्ममैंने भी उनका दिल रखने के लिए हाँ बोल दी और हम दोनों खाना खाने लगे. अंकित भावुक होते हुए बोला- आज तुमने मुझे वो आनन्द दिया है जान, जो मैं तुम्हें बता भी नहीं सकता.

मैंने कहा- मेरी जान, ज़रा सा और अन्दर लो, फिर देखना तुम ही पूरा लंड अन्दर डालने को कहोगी.

एक हाथ से उसके दूध जैसे धवल उरोजों को सहलाता हुआ, दूसरे हाथ से उसकी क्लिट को मसलने लगा, जबकि किड इस समय आराम से मीठी गोरी लड़की की गांड को पेलने में लगा हुआ था. जब अगले दिन मैंने अपनी मेल खोली तो आरती की 2 मेल और आई हुई थीं, जिसमें उसने लिखा था कि हैलो आलोक क्या आप अपनी ‘पड़ोसन भाबी सेक्स के लिए तैयार थी’ की तरह मेरी भी मदद कर सकते हो. फिर अचानक मेरे लंड ने जैसे विद्रोह कर दिया और मेरे बदन ने रिफ्लेक्स एक्शन किया और अनचाहे ही मेरे जिस्म में हरकत हुई और मैंने बहूरानी के जिस्म को अपने आगोश में भर लिया.

उससे मेरी काफी देर तक बात हुई और इस दिन के बाद से मैं उसके साथ ज्यादा टाइम बिताने लगा. इससे पहले के मंजरी इसके लिए तैयार हो पाती, पुलकित ने ज़ोर लगा कर अपना लंड मंजरी की चूत में ठेल दिया. दोनों लडको के लंड लोहा लाट हो, तोप की तरह सलामी देते हुए खड़े थे, जब ओमार ने अपना लंड बाहर निकाल नताशा के चूतड़ों को ऊपर उठाते हुए उसकी भक्काड़ा चूत और गांड का प्रदर्शन किया.

नौ देवियों के नाम और स्थान

खाना होने के बाद वो बर्तन साफ करने किचन में चली गईं, मैं भी उनका हाथ बंटाने किचन में आ गया और उनकी हेल्प करने लगा. पूरा दिन यूं ही निकल गया और शाम के 7 बजे और हम सब ने लुकाछिपी खेलना शुरू कर दिया. अब बॉस ने खड़े होकर मेरी गांड में दो उंगलियां डाल कर उंगली से मेरी गांड को फैलाने लगे और मुझे वो लिफाफा खोल कर देखने को बोल दिया.

कुछ वर्ष तो ठीक ठाक चला, पर जब मैं 35-36 वर्ष की हुई तो वो 50-51 साल के हो गए थे.

ये तो जैसे मुझे क्रिकेट की फ्री हिट मिल गई हो, फिर मेरे हाथ पूरी तरह से चाची के चूचे पर थे.

आने वाले आधा-पौना घण्टा कार में मैं और प्रिया बिलकुल अकेले होंगे, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था. उसने कुछ कहा तो नहीं लेकिन अपना एक हाथ मेरे गालों पर रख कर सहलाने लगी. कूल फोटो डाउनलोडनीचे उसका लंड मेरी गांड की दरार में घुसता हुआ महसूस हुआ, जो बड़ा हो रहा था.

कुछ दिनों बाद ये सिलसिला बंद हो गया क्योंकि भैया का तबादला दूसरे शहर में हो गया और वो लोग वहां शिफ्ट हो गए. तो उसने अपना खुद का नंबर टाइप किया और अपने खुद के मोबाइल मिस कॉल कर दिया. वे मोटर साईकिल पर थे, बोले- उधर कितनी देर रूकोगे?वह बोला- बस घूम कर आते हैं.

तभी अचानक मुझे लगा कि ये ग़लत हो रहा है और मैं उठकर अपने कमरे में आ गया. कुछ इसलिए कि मैं काफी दिन बाद आई थी और लड़के शायद मेरा जिस्म देख रहे थे.

मेल और फीमेल दोनो प्रजातियों को मिस्टर इलाहाबादी कानमस्कार!दोस्तो, मेरी एडल्ट स्टोरी इस उम्मीद से पेश कर रहा हूँ कि आपको पसंद आयेगी.

मैंने हाथ पर थोड़ा सा तेल लिया और चाची की टांग के निचले हिस्से घुटने पर लगाने लगा. ओय… तू कपड़े क्यों उतार रहा है?ममता जी घबराते हुए कहने लगी।मैंने बस टी-शर्ट व नीचे एक निक्कर ही पहना हुआ था जिन्हें मैं जल्दी से उतार कर उतार कर बिल्कुल नंग हो गया और ममता जी की रजाई में घुसने लगा. अब मेरी दोनों बहनों की शादी हो चुकी थी और मेरे बड़े भैया की भी छह महीने पहले शादी हो गई थी.

बॉलीवुड के सेक्सी गाने मेरी चुदाई बाकी थी, लेकिन इन लोगों ने मुझे बुरी तरह गर्म कर दिया था. मामी के पैर में मोच आने की वजह से वो नहीं जा रही थीं, तो मामा ने मुझको उनके पास रुकने को बोल दिया और वो सुबह के 5 बजे ही बाइक लेकर चले गए.

इतने प्यासे हो?मैंने कुछ नहीं कहा, सिर्फ ‘हुम्म’ कहके फिर से अपने हाथ मीना जी की पीठ पर लगा दिए, तो वो बोलीं- रुको, एक और ड्रिंक चाहिये?मैंने जवाब में फिर ‘हम्म’ किया. यह बात तो आज से डेढ़ साल पहले की है, लेकिन इसकी शुरूआत के लिए हमें कुछ साल पीछे जाना पड़ेगा. मेरी चुत इतनी देर में दो बार झड़ चुकी थी, पर संजय रुकने का नाम नहीं ले रहा था.

राजस्थान ओपन सेक्सी वीडियो

मैं इंजीनियरिंग के फाइनल ईयर में था पर कभी भी किसी लड़की से खुल कर बातें नहीं कर पाता था. इस दौरान मुझे मालूम हो गया था कि मेरी बुआ की बेटी, मेरी बहन अंजलि बहुत बड़ी चुदक्कड़ थी, वो मेरे लंड पर बैठ कर ऐसे कूदती थी जैसे घुड़सवारी कर रही हो!इतनी बड़ी चुदक्कड़ होने के बावजूद कुतिया ने मेरा लंड नहीं चूसा मेरे बार बार जोर देने के बावजूद भी लेकिन साली अपनी चूत बड़ा मजा ले ले के चटवाती थी. हम दोनों ने शॉपिंग की, मूवी देखी, खाना खाया और देर रात करीब सवा बारह पर घर वापस आए.

फिंगरिंग करते हुए ही निर्मला का सारा माल निकल गया और वो ठंडी पड़ गई और उन्होंने मेरा लंड चूसना बंद कर दिया. अभी थोड़ा लंड ही गया था कि भाभी चिल्लाने लगीं- देवर जी धीरे करो, बहुत दर्द हो रहा है.

फिर मैंने उसे कहा- चलें मूवी या रूम में?वह- मूवी में मजा नहीं आएगा, रूम में ही चलते हैं.

पापा बोले- सच?अंकल बोले- वादा आपसे!मेरे पापा बोले- मैं आज तक नहीं बोला, तो बोल नहीं सकता आरती से, अगर आप बुला दो तो आज जो मांगोगे दे दूंगा. भैया जैसे ही पूजा के ऊपर चढ़े, उसने अपने नागिन जैसे हाथों से भैया की पीठ को जकड़ कर अपनी बाँहों में भर लिया. जब मैंने उसकी बुर की फांकों को खोला तो अन्दर एकदम गुलाबी गुलाबी रंगत देखकर मैं खुद को रोक ही नहीं पाया और अपनी पूरी जीभ उसकी बुर में घुसा दी.

अंकित ने अपना सारा माल माया के मुँह में ही निकाल दिया और माया ने एक बूंद भी बाहर नहीं निकलने दी. अंकित के बैठने से उसके पेट का सबसे निचला हिस्सा माया के दाने को रगड़ने लगा और माया अपनी गांड और जोर से हिलाने लगी. छोटी के लिए दो साल बाद एक अच्छा रिश्ता मिला, तब तक मैंने सभी की मौके मौके पर अलग अलग से चुदाई की। मैं आज भी आँटी और प्रेरणा की नियमित चुदाई करता हूं।तनु और छोटी की भी चुदाई का मौका कभी कभी मिल ही जाता है।इस तरह सभी की लाईफ चल रही है.

बेड साफ सुथरा था, बेड के नीचे संदूक था जिसमें ताला लगा था जब मैंने संदूक को खोला तो उसमें कुछ सीडी और मेमोरी कार्ड मिला.

मराठी सेक्स बीएफ व्हिडिओ: मैं जब उसके ऊपर से हटा तो देखा कि उसकी बुर से खून के साथ साथ कामरस भी निकल रहा था. मैंने भी दीदी को बाँहों में ले लिया और उनके रसीले होंठों को चूमने लगा.

वो मेरे लंड को लगातार छेड़ रही थी और अब मैं दोबारा फुल जोश में था, मुझसे रहा नहीं जा रहा था. मैंने दीदी से पूछा- दीदी क्या हुआ? कोई काम था क्या?मेनका दीदी- नहीं, बस ऐसे ही, मैं सोच रही थी कि तू कॉलेज चला जाता है, मैं पूरे दिन घर मैं बोर हो जाती हूँ. यह बात कुछ समय पहले की ही है, जब अन्तर्वासना पर मेरी न्यू स्टोरी आई थी.

मैं बहुत उत्तेजित होने लगी और मैं उसका सर अपने हाथों से पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगी.

इससे उनको हल्की सी गुदगुदी हो रही थी, लेकिन लगता था कि उन्हें मजा आ रहा है. ऋतिक मेरे पास मेरे बिस्तर पर आकर बैठ गया और बोला- तू जो भी बोल रहा था. अगले दस मिनट में चाची की चूत का रस पीने के बाद मैंने उनको बिस्तर पर चलने को कहा.