बीएफ चूत बीएफ चूत

छवि स्रोत,बालों को काला करने वाला तेल

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी व्हिडिओ मे सेक्सी: बीएफ चूत बीएफ चूत, और उसके बाद मैंने अंकल को पहली बार पकड़ लिया और कस कर अपनी बांहों में भर लिया.

हिंदी आवाज़ में सेक्सी वीडियो

तब उसने बोला- आज तुमने मुझे बहुत खुश किया है, मैं अपनी खुशी से दे रही हूँ. मारवाड़ी गांव का सेक्स वीडियोउसका अपने ब्वॉयफ्रेंड से झगड़ा हो गया है और वो किसी लंड से चुदने के लिए मुझसे कह रही थी.

मैंने होंठों पर रेड कलर की लिपस्टिक लगाई थी, पूरी लिपस्टिक पीयूष के होंठों में लग गई. वाइ2मेट 2020मैं बाइक पर दोनों पैर एक तरफ करके बैठ गई तो जीजा बोले- टांगों को इधर उधर करके बैठो!तब मैं बोली- अभी यहां से चलो, फ्रांक पहनी हुई है!जीजा चल दिए, थोड़ी देर में सतना पहुंचे तो जीजा बोले- अभी साढ़े नौ बजे हैं, इतनी सुबह दुकान नहीं खुलती, ग्यारह बजे तक दुकान खुलेगी.

तो मैंने पूछा- क्या देख रहे हो?तो वो दोनों बोले- आपकी चुदाई की क्सक्सक्स वीडियो देख रहे हैं.बीएफ चूत बीएफ चूत: मैंने अपना लंड छोटी चाची की चुत से निकाल के दोनों के सामने कर दिया और झुक कर बड़ी चाची की चुत के रस को चाटने लगा.

आप कितनी गन्दी गालियां लिखते हैं कहानी में… सिर्फ लिखने के लिए या असल ज़िन्दगी में भी गालियां देते हैं आप… कई गालियां तो मेरी समझ में भी नहीं आईं… और भी कुछ बातें समझ नहीं आईं.जैसे ही मैंने अगला धक्का लगाया और मेरा लंड सबा की चूत में गया, आपा कमरे के अन्दर आ गईं.

हिंदी में साड़ी वाली - बीएफ चूत बीएफ चूत

अगले दिन मैं टॉयलेट कर रहा था, तभी दीदी वहां आ गई और उसने मेरा खड़ा लंड देख लिया.ये सुनकर मेरी वाइफ बोली- नहीं उनका नहीं, कोई तुम्हारा फ्रेंड हो जिसका लंड भी तुम्हारे जैसा लंबा मोटा हो तो उसको बुला लो.

पहली बार पीयूष और लालजी ने मेरे खुले नंगे मम्मों को देखा, दोनों ने लगभग एक साथ कहा- आह. बीएफ चूत बीएफ चूत मैंने उसकी इस बात पर हंस दिया और कहा कि देखा मैंने कहा था न कि तुम मेरे दिल की बात समझ गई हो कि मैं क्यों ये जानना चाहता था कि तुम कुल्फी चूसना किधर से सीखीं.

फिर दर्द बढ़ा और रत्नेश भैया ने अबकी बार काजल के होंटों को ही अपने होंटों में भर लिया।अब क्या बाकी था… इतने सेक्सी जवान मर्द से यदि इतना प्यार मिले तब तो चूत ही क्या चाहे पूरा जिस्म फट जाए तो भी मंज़ूर होगा किसी लड़की को। काजल ने एक और झटका दिया और लगभग 50% लन्ड काजल की चूत में चला गया।अब दोनों ही मानो मूर्ति बन गए, कोई हलचल नहीं थी.

बीएफ चूत बीएफ चूत?

रास्ते में उन्होंने उस दिन अंकल के मदद के लिए धन्यवाद दिया और वे उस चांटे के लिए सॉरी बोलीं. मैंने भी देर करना ठीक नहीं समझा और भाभी के ऊपर चुदाई की पोजीशन में आ गया. मैं दर्द से निजात पा चुकी थी और मज़े से भर कर भाईजान से बोली- हाय भाई.

मेरी अनमोल पत्नी ने बिना देर किए एरिक के लंड को भी चूसना शुरू कर दिया. आज उसने मुझे अपनी चूत का मजा दिया था और वो मुझे लंड के लिए भी थैंक्स बोल रही थी. मैंने कुछ नहीं कहा और पलट कर 69 में आकर दीदी की चुत पर अपना मुँह फिर से लगा दिया.

मैंने कहा- नहीं, अब अन्दर का ही रास्ता है और हमारे घर से बाहर का नहीं मिलेगा. मेरी इस सेक्स स्टोरी के पहले भागमौसी की चुदासी लड़की संग चुदाई की कहानी-1में मैंने बताया कि कैसे मेरी मौसी की बेटी हमारे घर रह रही थी और मैं उसे चोदना चाह रहा था. मैंने कहा- मैं मतलब नहीं समझी?उसने कहा- तुमने देखा नहीं था सुबह मेरे होंठों का क्या हुआ था.

भाभी लण्ड को पकड़ कर आगे पीछे करने लगी और जमींन पर बैठ कर लौड़े को मुंह में भर कर चूसने लगी. चाहे कोई मरे या जिये आपकी बला से!”ऐसे नहीं न कहते मेरी जान … अच्छा चलो मेरी सॉरी; आगे से बड़े प्यार से एंटर करूंगा.

तभी एक दिन मेरा भाई किसी काम से एक दिन के लिए शहर से बाहर गया तो मेरे को कुछ करने का एक मौका मिल गया.

फिर मसाज के लिए मैंने उसका टॉवेल निकाल दिया, मुझे लगा कि इसने ब्रा, पेंटी तो पहनी ही होगी.

इस तरह मैं उसकी चूत में जड़ तक अपने लंड को डालता और फिर से निकाल लेता।थोड़ी देर बाद जब उसका निकलने वाला हुआ तो आरुषि ने मुझे जोर से पकड़ पकड़ लिया और अपने नाखून मेरी कमर में गड़ाने लगी. चूत पर हाथ लगाया तो पूरी गीली हो रही थी, जिससे उसकी पैंटी भी गीली हो रही थी. मुझे नीचे उनकी चुत में गर्म लावा फूटने का अहसास हुआ, मैं समझ गया कि बड़ी चाची का काम हो गया.

उस अंडरवीयर को देख कर मैं विचलित होने लगी कि इतना बड़ा लड़का नंगा नहा रहा है…मैं उत्सुकतावश उसकी ओर मुंह करके राज का दरवाजे से निकलने का इंतजार करने लगी. मेरे सामने तरफ पीयूष बैठ गया और पीछे लाल जी दोनों मेरे बदन से चिपक गए. दो दिन पहले उसका फोन आया कि वो वापिस आ गई है और मुझे मेरी माँगी चुत को ले कर आएगी.

अब एक दिन मैंने और मम्मी ने हमारे घर पर सेक्स किया, तब मैंने मम्मी को चोदते हुए कहा- मम्मी मैंने आपके अलावा किसी दूसरे को चोद लिया है मतलब चाची को भी चोदा है.

हर झटके पे उनकी हिचकी सी निकलती, लेकिन फिर भी वो मुझे देखे जातीं और मैं उन्हें. ये ऐसा समय हुआ करता था जिस समय मर्द घर पर नहीं होते थे, सब अपने अपने काम पर चले जाते थे. मेरा दिमाग बोला कि गुरू मिल गई चूत… सच में मेरा लंड बहुत जोर से उछल गया.

एक दिन मेरे एक दोस्त का जन्मदिन था तो उसकी पार्टी में मैंने भी शराब पी ली. दो तीन बार मैंने टांगें कुछ इस तरह से कर लीं कि उसकी नज़र मेरी चुत पर पूरी तरह से चली जाए. पारिवारिक पार्टी, साथ में बाजार एवं मूवी देखने जाना आदि सब होने लगा था.

भाभी ने पूछा- आप क्या करते हो और घर में कौन कौन है?मैंने उन्हें सारे जवाब दिए.

फिर 15 मिनट के बाद हमने एक दूसरे को प्यार से देखा और बस अब हम दोनों में प्यासे मर्द और औरत की वासना दिख रही थी. फिर मैं उन दोनों के बड़े बड़े चूचों को नीचे झुक कर मुँह में लेने लगा.

बीएफ चूत बीएफ चूत उनकी कमर से नीचे का हिस्सा बेड पे था और पीठ बेड से ऊपर की तरफ निकले वाले हिस्से पे टिका हुआ था. मैं ठीक से चल भी नहीं पा रही थी।घर गयी तो बेटी ने पूछा- क्या हुआ?मैंने कहा- टाँग में दर्द है।अगली स्टोरी में बताऊँगी कि फिर क्या हुआ.

बीएफ चूत बीएफ चूत शॉट इतना तगड़ा था कि लौड़े के सुपारे ने रेखा रानी की यूटरस के दरवाज़े पर ज़ोरदार दस्तक दी. लड़का अपनी मुनिया लड़की की मुनिया में घुसा कर रगड़ता है, और फिर दोनों का सफेदा निकल पाता है, तब कहीं जा कर राहत मिलती है।”भक्क.

मैं जल्दी से गुडग़ांव पहुंचा, कार पार्क की और ओला कैब से साइबर हब आ गया.

बीपी हिंदी फिल्म

असल में मेरी गांड फट रही थी कि मैं उसके घर पकड़ा जाता तो सब इज्जत का कचरा हो जाता इसलिए मैंने मना किया था. उस की मांसल देह किसी भी आदमी को सेक्स के लिए पागल बना देने के लिए काफी थी. उसने मेरा अंडरवियर भी निकाल दिया और लंड को हाथ में लेकर मरोड़ने लगी.

मैंने रूम अंदर से बंद कर लिया और दोनों साथ में सो गये चादर डाल के!सुबह किसी ने दरवाज़ा नॉक किया. मैंने कहा- आपका कमरा मैंने नहीं देखा, कैसे आऊं?उसने मुझे एड्रेस दिया और कहा कि इस एड्रेस पे आओ, मैं तुम्हें घर के बाहर दिख जाउंगी. राज ने दरवाजा खोला, वो बाहर निकला, बोला- यार तुम? मधु कहाँ है?मैं हैरानी से बोली- मधु यहाँ नहीं आयी? मैं उसे ही ढूँढती हुई यहाँ आयी हूँ.

अंकल बोले- मस्त लन्ड है रे तेरा!फिर मैंने एक और जोर का धक्का लगाया, इस बार लन्ड पूरा अंदर चला गया.

फूफा जी भी मेरे साथ लेट गये और बोले- कोमल, सच में बताओ रात में क्या हुआ था? और तुमने मुझे रोका क्यों नहीं ऐसा सब करने से?मैंने झूठी कहानी सुनाते हुए कहा- फूफा जी, जब मैं आपको सुलाने के लिए अंदर लेकर आई तो आप मेरे बूब्स को दबाने लगे, उस टाइम सास ससुर जी अपने कमरे में चले गये थे, इसलिए उनको आपकी इस हरकत का पता नहीं चला. मैंने देखा बुआ कुछ बोल नहीं रही थीं तो मैंने लगातार दो शॉट मारे और पूरा लंड बुआ की चूत में डाल दिया. तो आप जानते ही हैं कि सामने तब कोई भी हो, काली गोरी, बूढ़ी या जवान.

मैंने उनकी चूत में जैसे ही एक उंगली घुसाई, आंटी बोल पड़ी- प्रशांत… आह…मैंने आंटी का हाथ ले जाकर अपने लंड पर रख दिया. आऽऽह… आ…धीरे… आऽऽह… हां… आऽऽह… जोर से…मेरे मुँह से भी आह उम्म्ह की आवाजें निकल रही थी। मेरे धक्के बढ़ते जा रहे थे, चाची भी अपनी गांड हिला हिला कर मेरा साथ दे रही थी।थोड़ी देर बाद चाची ने मुझे कस के पकड़ा और बोली- मेरा हो गया!पर मैं लगा रहा. इस सेक्स कहानी में अभी तक आपने पढ़ा कि रात को मुझे सड़क किनारे एक लड़की मिली, वो खुद से मेरी गाड़ी में बैठ गयी और मुझे धमका कर उसने मेरे साथ सेक्स किया.

या लंड की मालिश करता है?मेरी यह सेक्स भरी चुदाई की कहानी आपको कैसी लग रही है, आप अपने मेल मुझे भेज सकते हैं. उसने कहा- मेरा हो गया, तुम्हारा कब होगा?मैंने कहा- चुत में डालूँ तो जल्दी से हो जाएगा.

भाबी जी ने आज अपनी साड़ी का पल्लू हटा कर मेरे सामने अपना सीना कर दिया था और कहने लगी थीं कि आज मैं नाप का ब्लाउज इसलिए नहीं लाई हूँ ताकि आप सही फिटिंग का ब्लाउज बना सको. उन्होंने मुझे बांहों में जब उठाया तो मुझे अलग सा महसूस हुआ, मेरे दूध को चूम कर अंकल बोले- बड़ी मस्त है लग रही है तू मेरी गोद में, मेरी बाहों में तू वन्द्या!और ले जाकर बगल से जो बिस्तर था, उसमें मुझे पटक दिया. इतनी पास था राज मेरे… मैं उसे देखने लगी… अचानक मेरा हाथ उसके तौलिये पर पड़ गया और उसके लंड से छू गया.

उसने मुझे देख लिया था हाथ हिला कर उसने इशारा किया, मैं उसके पास गया और हाथ मिलाया.

जब वो वापस कमरे में आयी तो काफी खूबसूरत लग रही थी, उसने गुलाबी कलर की टॉप और गुलाबी कलर की ही कैपरी पहनी हुई थी. तीसरा विकल्प है आत्महत्या… ऐसा करना कायरता है। आखिर मज़बूरी में मैं किसी भी तारीके से खुद को बहला रही हूँ, परन्तु ऐसा मैं कब तब करूंगी? क्या विवाह का सुख इतना ही होता है? पापाजी, अब आप ही बताइये कि मैं क्या करूँ?पूजा की बातें सुनकर मुझे अपने बेटे अंकुश पर बड़ा गुस्सा आ रहा था. नाइजीरियन के सामने तो दिल में गुस्सा था लेकिन जैसे-जैसे घर से दूर गली में कदम आगे बढ़ रहे थे मेरा गला भरने लगा था, कलेजा फटने लगा.

उनके इतना कहते ही मैंने भाभी को बाँहों में भर लिया और स्मूच करने लगा. पहले बापू के कहने पर अपनी जीभ को लंड के ऊपर वाले हिस्से पर फेरा, फिर और एक बार फिर से.

पहली बार के कारण दस मिनट बाद ही मेरा पूरा माल उसके मुँह में ही छूट गया. मेरी पड़ोसन की चूत चुदाई कहानी के प्रथम भागपड़ोसन भाभी की ठरक-1में अब तक आपने पढ़ा कि कोमल भाभी और मैंने एक दूसरे के लंड चूत का रस चुसाई करके निकाल दिया था. मैं बोला- इतनी दूर क्यों सोई हो?वो शर्मा कर बोली- नहीं यहीं ठीक हूँ.

मोटी बीवी की चुदाई

मैंने पूछा- आप राहुल सर के पास क्यूँ जाती हो?उसने मुझको बोला- मैथ की क्लास लेने जाती हूँ.

मैं समझ गया था ये लड़की पहले से ही खेली खाई है, खूब चुदी चुदाई है, चालू माल है इसलिए मैं बिस्तर पर आया, अपनी बहन के नंगे बदन पर लेट कर उसे पूरा ढक लिया और उसके होंठों पर होंठ रखा कर प्रगाढ़ चुम्बन करने लगा. मेरा डर थोड़ा कम हुआ और मैंने हंसते हुए कहा- आंटी, देख कर क्या करूंगा, बस हाथ का काम कर लेता हूं. बापू ने पद्मिनी को उसकी पीठ के बल औंधा लिटा दिया… और खुद ने पद्मिनी की गांड पर अपना लंड रगड़ना शुरू कर दिया.

मैं सीधे उनके घर में चला गया और देखा आंटी नहा कर सेक्सी नाइटी में बाथरूम से बाहर निकल रही हैं. उन्होंने कसमसाते हुए मुझसे छूटने का ड्रामा किया और अंततः मेरा साथ देने लगीं. सेक्सी व्हिडिओ मराठी नवीनजो भी उसके मन में आ रहा था, वो सब मनोहर बोलते हुए मेरी चूत को ताकत के साथ चोदने लगा.

मैंने तभी लाल जी को आवाज दी कि लालजी अन्दर आना, मेरे को थोड़ी तेरी हेल्प चाहिए. मैंने पूछा- आप ही प्रेरणा जी हैं?उसने कहा- नहीं मालकिन अन्दर हैं, आप आइये.

तो उसने कहा कि दूर बैठने से भी खूबसूरती महसूस होती है क्या?उसके मुँह से ये सुनते ही मैं उसके पास चला गया और उसको बांहों में भर लिया. जब उन्हें लगा कि गांड ढीली हो गई तो उन्होंने अपना लंड जो बड़ी देर से मचल रहा था, मैंने देखा कि उनका सुपारा तो छोटा था पर उसके पीछे लंड बहुत मोटा था, अब लंड मेरी गांड पर टिकाया और धक्का दिया. ताकि कहीं कोई प्राब्लम हो तो भी रेकॉर्ड बोलेगा कि हाँ ये वहाँ पर रह रही थीं.

कुछ ही देर में राज ने मधु को नीचे लिटा लिया, मधु की सलवार खोल कर उतार दी, मधु ने पैंटी नहीं पहन रखी थी तो मधु की चूत मोबाइल की रोशनी में चमक रही थी , उसकी चूत एकदम चिकनी क्लीन शेव थी. मेरी कहानी के पहले भाग में अब तक आपने पढ़ा कि मेरी सहेली तबस्सुम मुझे खुल कर जीने के लिए अपनी चूत का इस्तेमाल करने के बारे में बता रही थी. मैंने उसके होंठों और मम्मों को चूसना शुरू कर दिया और साथ ही उसकी जांघों और पटों पर हाथ फिराने लगा.

जबकि वो अपने कॉलेज के कई कपल देखती रहती देखती थी कि हर किसी का अफेयर चल रहा है और सब ख़ुश भी हैं, बस वो ही नहीं है.

फिर मैंने अपना लंड उनके हाथ में दिया और उनको कहा- इसे चूसो!लेकिन उन्होंने मना कर दिया. अब मेरी नींद खुल गई थी, गांड में लंड पिला था, मैं समझ रहा था कि बलवीर मेरी मार रहा है.

अब दीदी भी मुझे गाली बकते हुए चुदाई का मजा लेने लगी-भैन के लंडसाले चोदने में दिमाग लगा. अब फूफा जी ने अपना लंड मेरी चूत में फिर से घुसेड़ दिया और मेरी कमर को दोनों हाथों से पकड़ लिया और फिर अपने पैरों पर खड़े होकर अपना लंड मेरी चूत के अंदर बाहर करने लगे. मैं अपना हाथ जब आगे ले जाकर उसकी मालिश करता, तो मेरा लंड उसकी गांड में टच हो जाता.

इस बीच रात में हम दोनों बहनों का खेल भी जारी रहा।फिर एक दिन अम्मी ने कहा कि वह आज दुबग्गे जा रही हैं तो मुझे अहसास हुआ कि शायद समर का अप्पी पर दबाव काम कर गया है।दुबग्गे में ननिहाल था हमारा और जब भी अम्मी जातीं तो सुबह की गयी शाम को ही वापस लौटती थीं।उस दिन भी यही हुआ. हम घंटों सेक्स की बातें करते रहते थे कि कैसे अपने प्राइवेट पार्ट को छूने से मज़ा आता है. उसने मुझे अपनी बांहों में भर लिया और बोला- चल आज मुझे अपना सुख दे दे.

बीएफ चूत बीएफ चूत इतना बोल के वह भी जूसी रानी की तरह इधर उधर सरक ली किसी से गप्पें चोदने. मैंने उसे लंड पर लगा खून दिखाया, तब वो शर्मा कर मेरे सीने से लिपट गई.

क्सनक्सक्स दासी

उसकी चुची के नंगा होते ही मैंने उसके होंठों को छोड़ दिया और थोड़ा सा उठ कर एक हाथ से उसकी एक नंगी चुची को दबोच लिया. मैं चुपचाप नींद से उठने का बहाना कर उनके रूम से निकल कर मेरे रूम में आ गया और उनके नाम की मुठ मार के सो गया. मैं बोली कि लालजी तुम्हारी यह पैंट के जिप के अन्दर क्या है? इतना अलग बहुत फूला सा क्या है?उसने झट से वहां हाथ रख लिया.

मैं पलंग पे बैठ कर सोचने लगा कि आज मैं ख़ुशी दीदी को अपने दिल की बात कह दूंगा. अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज पढ़ने वाले मेरे प्यारे दोस्तो, मैंने 18 साल की उम्र में अपनी दो चचेरी बहनों मामा की बेटी वैशाली और मेरी बुआ की बेटी कामिनी को मैंने कैसे चोदा ये आप मेरी सेक्स कहानी में पढ़कर जानिए!हमारे यहां शादी में मेरे मामा की बेटी वैशाली और उसकी बुआ की बेटी कामिनी आई हुई थी. रोमांटिक सेक्स वीडियो हिंदीवो बोली- पहेली तो समझो हो गई… तुम मेरे घर पर रहो क्योंकि मैं अकेली ही रहती हूँ… और दूसरी के बारे में रात तो घर पर बात करते हैं.

जिनको कहानी पसंद नहीं आई, उनमें से किसी ने कहा कि उन्होंने इसको जैसे ही पढ़ा… बस उसी समय ये सोचा कि इस कहानी की एक दो लाइन ही पढ़ कर छोड़ देनी चाहिए थी.

एक घंटे बाद लौटा, लड़का आकर लेटा, मैंने पूछा- बड़ी देर लगी?तो बोला- भाई साहब दूसरा काम करने लगे।मैंने पूछा तो बोला- उन्होंने वहीं रेत पर लिटा कर पेल दिया।मैंने बलवीर से पूछा- क्यों बे?तो वह हँसने लगा. इतने में लालजी ने भी अपने पैन्ट का बेल्ट और बटन खोल कर पैन्ट को नीचे उतार दिया और टीशर्ट भी उतार दी.

साथ ही वो एक साथ पूरे लंड को चूसते वक़्त अपने कोमल हाथों से खड़े लंड को रगड़ने लगी. मैंने उसके होठों पर किस करने के लिए उसका चेहरा अपनी ओर घुमाया ही था कि उसने कहा- सुनिए जी, आज थोड़ा आराम से किस किजियेगा, पिछली बार आपने इतनी तेज किस किया था कि मेरे होंठ सूज गये थे मुझे बहुत अफसोस हुआ. एरिक संग हम उत्तेजित हो अभी तक इस शानदार मुख मैथुन को देखने में तल्लीन थे जबकि एरिक अब अपने हाथ से पैन्ट के ऊपर से ही अपने लंड को मसलने लग पड़ा था.

अब मेरी नींद खुल गई थी, गांड में लंड पिला था, मैं समझ रहा था कि बलवीर मेरी मार रहा है.

उस दिन छत पर जब वो कुतिया बना कर मुझे पेल रहा था, तो उसने अपना सारा माल मेरे अन्दर ही डाल दिया था. तो मीठे से जैसे उन्हें कुछ याद आया और कहा कि परसों ईद है, तो तुम्हारा परसों का खाना हमारे घर पे ही होगा. इधर मेरा लंड भी खड़ा हो गया था, पर मैंने अपने आप पर कंट्रोल किया हुआ था.

सेक्सी पिक्चर हिंदी वाली सेक्सीवो पीछे की सीट पर बैठ गई, मैंने ट्रिप स्टार्ट की और उसकी बताई जगह पर चल दिया. फिर उन्होंने अपनी जीन्स उतारी, उन दोनों ने अपनी अपनी ब्रा के रंग की पैंटी भी पहनी हुई थी.

ब्लू सेक्सी चोदने वाली

उसकी पेंटी आगे से गीली हो चुकी थी मेरे पेंटी के अंदर हाथ डालते ही वो इतनी सिहर उठी और आह… की आवाज के साथ मुझे और ताकत के साथ मुझे गले लगाए रखा और मेरा टी शर्ट उतारने लगी. उसके साथ मॉल में जाकर उसको नए कपड़े दिलवा दिए, जो उस पर पूरे फिट होते थे. गांड पहले से ही चिकनी थी, वह भी बड़ी धीरे धीरे डाल रहा था जैसे मैं कोई कम उम्र का नया लौंडा होऊं जिसकी पहली बार मारी जा रही हो… कहीं गांड फट न जाए, कोई तकलीफ न हो!जबकि मैं पुराना गांडू कम उमर से गांड मरवाने लगा था, तभी से बड़े बड़े लंडों की टक्कर गांड पर झेली.

मैंने कहा- आंटी, क्या कभी आपने अपने पति का लंड चूसा है?आंटी बोली- हां, उन्हें चुसवाना बहुत पसंद है, लगभग हर रात को मैं उनका लौड़ा चूसती ही हूं. मैंने भी 15-20 जोर दार शॉट के बाद अपने वीर्य की धार से उसकी चूत को लबालब भर दिया. मैंने न जाने किस सोच में उनके पीछे से जाकर उनकी चुचियों को पकड़ लिया और मसलने लगा.

वकील से एफिडेविट बनवाया, चालान बनवाया और जनसुविधा केंद्र में उसे पास कराने में आधे दिन से ज्यादा निकल गया। खाना वहीं बाहर फुटपाथ पे खाया. अब तो मुझे भी खुद पर नियंत्रण रख पाना मुश्किल हो गया था और मैं जैसे उस पर टूट पड़ा और पागलों की तरह उसे चूमने चाटने लगा. मामी बोलीं- अरे मेरे राजा, तनिक आराम से, धीरे धीरे… तुम तो यार किसी एक्सप्रेस की तरह भागे जा रहे हो! जरा छोटे स्टेशन्स का व्यू भी लेते जाओ!तो मैंने थोड़ी शांति पकड़ी और अपना एक हाथ उनकी योनि पर ले गया.

आप भी इंतजार कीजिए अगली कड़ी का, मैं जल्द ही हाजिर होऊंगा लेकर आगे की कहानी, रोहण की जुबानी!नीचे दिए ई-मेल पे आप मुझे अपना संदेश भेज सकते हैं. उसे मज़ा आ रहा था, उसकी दिल की धड़कन से पता चल रहा था कि वो डरी और उत्सुक भी है.

तभी भाईजान ने भी अपने लंड को बाहर निकाला और फिर एक तेज़ शॉट के साथ लंड की मलाई को मेरी चूचियों पर गिराने लगे.

मम्मों को पकड़ कर इतना दबाओ की लड़की के मम्मों पर दबाने वाले का हाथ छाप जाए. हिंदी पिक्चर सेक्सी हिंदी पिक्चरअब मैंने रोज़ भाभी के घर जाना शुरू कर दिया और भाभी भी मुझसे खूब हंस हंसकर बातें करने लगी थीं. बिल्ली कार्टूनभाभी की मटकती गांड को देख कर हर कोई उनकी चुत चोदने को तैयार हो जाए. मैंने उससे कहा कि मैं अभी तो दिल्ली जा रहा हूँ, आपको लौटकर अपनी सर्विस दे पाऊँगा या फिर आप किसी और की सर्विस ले लीजिए.

मैं कई दिनों से सोच रहा था कि अपनी एक सेक्स स्टोरी आप सभी दोस्तो को सुनाऊं.

मेरा नाम सुलेखा है, मैं ग्वालियर की रहने वाली हूँ। मेरी उम्र 35 साल है. मैंने मॉम की चुत चाटी और 5 मिनट बाद फ्रिज से आइसक्रीम निकाल कर लाया और मॉम की चुत पर मल कर चूत चाटने लगा. कुछ देर यह सब होने के बाद पापा ने अपना लंड मम्मी के मुँह में डाल दिया.

मेरी चूत में से मेरा लावा फूटने लगा था और फूफा जी के लंड के साथ वो बाहर की तरफ़ बहने लगा था, अब मुझसे फूफा जी का लंड और सहन नहीं हो रहा था इसलिए मैंने फूफा जी को रुकने के लिए कहा. पूजा की भी सेक्सी सेक्सी सिसकारी सुनाई दे रही थी, वो धीरे धीरे बोल रही थी- जीजू, जोर से चोदो… और जब भी मौका मिले घर आ जाना, आपकी सेवा में ये चूत हमेशा हाज़िर है. मैंने वैसलीन की शीशी उठा कर लंड पर लगा ली और कुछ उनकी चूत पर भी मल दी कुछबुआ की चूत में उंगलीडाल कर भी चूत की गर्मी का मजा लिया.

सेक्सी व्हिडिओ चोदने वाली

तुम्हें और क्या अच्छा लगता है?मैंने कहा- तुम सारी की सारी मुझे अच्छी लगती हो. यही जानने का बहाना करते हुए मैंने उसके लंड को पैंट की ज़िप खोल कर बाहर निकाल लिया और उसके मूसल लंड को लंड को जोर से दबा दिया. मैं नीचे उसकी फैली हुई चूत के सामने घुटनों के बल बैठ गया और अपने लण्ड पर थूक लगाया और चूत को भी थोड़ा सा सहलाया.

थोड़ी देर तक यूं ही लेटे रहने के बाद हम दोनों ने अपने आपको साफ़ किया.

बिंदु उसको उकसा रही थी- चोद साली को, कोई रहम नहीं करना जगत इस चुत पर.

जब आपा कॉलेज चली जातीं, तो उसकी ब्रा निकाल कर उसपे मुठ मारा करता था और उसके आने से पहले ब्रा धोकर सुखा दिया करता था. थोड़ी देर होंठ चूसकर मैंने कहा- जान… तेरी चूत है या अँधा कुआं… बहनचोद इतनी ढेर सारी मलाई और ऊपर से ढेर सारा लावा… सब का सब लील गई. తమన్నా సెక్స్ ఫొటోస్ కంतो दोस्तो, यह थी मेरी पहली चुदाई की कहानी!बाद में मैंने उसकी गांड भी मारी और उसे मेरा लन्ड भी चुसाया, और उसकी सहेलियों को भी चोदा.

फिर मैंने अपने आपको उससे छुड़ाते हुए कहा- अगर किसी ने देख लिया तो गड़बड़ हो जाएगी. मेरे दूध मसल और पी।” अहाना ने ऐंठते हुए कहा।मैं पास आ गयी और एक हाथ से उसका एक दूध सहलाने मसलने लगी जबकि दूसरे की घुंडी मुंह में लेके चुभलाने लगी और वह कमान की तरह तन कर सिसकारने लगी।डालो अब।” फिर वह बोल पड़ी।और राशिद उठ कर खड़ा हो गया। अपना समूचा बैंगन उसने गचाक से अहाना की मुनिया में पेल दिया और धडाधड़ धक्के लगाने लगा।ऐसे ही. जाने उस टीचर से कितना चुदवाती होगी साली, बहुत मज़ा आता होगा उस साले टीचर को, क्या किस्मत पाई है साले ने…’तभी एक दूसरे जवान मर्द ने कहना शुरू कर दिया, जो उन लोगों के साथ बैठा था.

खूब नखरे करूंगी, रोऊंगी, गिदागिदाऊँगी, पूरा विरोध करूंगी फिर आखिर में मैं अपनी बुर चोदने दूंगी. मैं तो चुदाई करता ही रहता था लेकिन आज चुदासी जवानी का नज़ारा ही कुछ और था.

थोड़ी देर ऐसा करने के बाद मैंने उसको नीचे लेटा लिया, उसकी टांगों को अपनी कंधों पर रखकर मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखा तो उसके मेरा लंड पकड़ के अपने चूतड़ों के होल पर यानि गांड पर रखा.

उसे मज़ा आ रहा था, उसकी दिल की धड़कन से पता चल रहा था कि वो डरी और उत्सुक भी है. हालांकि ये मेरा पहली बार नहीं था, मैं सैलून में बहुत सी औरतों की मसाज कर चुका हूँ. मतलब मैं उनकी जांघों के बीच में फंसा हुआ था और वो अपनी कमर ऊपर की ओर मेरे मुँह में घुसेड़ रही थीं.

सेक्सी व्हिडिओ चाहिये सेक्सी व्हिडिओ https://thumb-v0.xhcdn.com/a/3ARd1igKwpi13gtimt3Ruw/022/531/330/526x298.t.webm. और पूजा मेरे ऊपर चढ़ गई, मेरे लंड क़ो उसने चूस कर गीला किया और मेरे लण्ड के ऊपर अपनी चूत क़ो सेट किया.

वो चित लेट गईं, मैंने उनके होंठों पर स्तनों पर, लगभग सारे शरीर पर शहद लगा दिया और चाटने लगा. अब हम लोगों का जब भी मन करता है, हम लोग उसी होटल में जा कर चुदाई कर लेते हैं. वो अपने नाम बताने के साथ थोड़ा आगे बढ़ी और मेरे बालों में हाथ फेरते हुए बोलने लगी- अरेरे.

ब्लू फिल्म सेक्सी देखने वाली

तभी मेरी छोटी मामी और बुआ मेरे पास आईं और बोलीं- अबे यहाँ क्यों बैठा है? भाई की शादी है, थोड़ा डांस-वान्स कर!तो मैं बोला- मुझे डांस नहीं आता!वो बोलीं- तो फिर सबको चाय पानी पिला… कुछ मदद कर!तो मैंने एक बड़ी ट्रे में पानी के गिलास रखे और सबको पिलाने लगा. मैंने उससे कहा कि आज कल पापा बहुत टेन्शन में रहते हैं, क्या कोई ऑफिस की प्राब्लम है या कुछ और बात है?पहले तो झिझक कर कुछ भी बोलने से ना करने लगा. रतन को नहीं पता था कि बिंदु क्या करने वाली है, उसने उसी तरह से किया, जैसे बिंदु ने कहा था और मैंने (नेहा) भी वो ही किया जैसे उसको बताया था.

पर आप लोग अभी देखना बहू कैसे हंस हंस कर मजे मजे ले ले कर चुदतीहै इसी लंड से. तभी उसकी माँ ने मुझसे कहा- अगर आपको प्राब्लम ना हो, तो क्या आप मेरी बेटी को विंडो सीट दे देंगे.

उधर वो भी अपने एक हाथ मेरे लंड को सहलाती और दूसरे हाथ से छाती के बालों पर से हाथ फ़िरा रही थी.

चूचियों को दबवाते हुए चुत को चटवाने का मज़ा मुझे जन्नत की सैर करा रहा था. हाल में तकरीबन सभी हम दोनों को नव विवाहित युगल समझ रहे थे और सभी कमीने आरुषि को ललचाई नज़रों से देख रहे थे. जब वह घुटनों के बल बिस्तर पर पद्मिनी के पैरों के पास गया, तो उस का लंड पद्मिनी की कमर से छुआ, जिससे उसको एक अजीब सी कशिश हुई और उसकी हलक से ‘इश…’ निकला.

फिर उसने थोड़ा सा धक्का मारा लेकिन लंड अंदर नहीं जा रहा था क्योंकि लंड काफी मोटा था. और जोर से…”बस कुछ ही मिनट में भाभी शांत हो गईं और बोलीं- पहली बार मेरा पानी निकला… चुदते समय…मैं समझ गया कि भाभी का आदमी इनकी चूत के पानी निकलने से पहले ही झड़ जाता होगा. फिर दो मिनट बाद मॉम ने कहा- बेटा अब तो तू खुश है?मैंने कहा- नहीं मॉम अभी मन नहीं भरा.

मैं अंदर चला गया और उनका एक पैर को बाथरूम में बनी सेल्फ़ के ऊपर रख दिया और नीचे बैठ कर उनकी साबुन वाली चूत को धो कर चाटने लगा और अपनी पूरी जीभ उसमें डाल दी.

बीएफ चूत बीएफ चूत: अगर तुम बुरा न मानो तो तुम मुझे पीछे से जकड़ कर मेरी चनक निकाल दो जिससे मेरी कमर एक बार चटक जाए तो शायद दर्द ख़त्म हो जाए. उन्होंने मुझे बांहों में जब उठाया तो मुझे अलग सा महसूस हुआ, मेरे दूध को चूम कर अंकल बोले- बड़ी मस्त है लग रही है तू मेरी गोद में, मेरी बाहों में तू वन्द्या!और ले जाकर बगल से जो बिस्तर था, उसमें मुझे पटक दिया.

मेरी नताशा अपने घुटनों के बल चलती हुई आर्थर के नजदीक पहुंची और उसे धक्का देकर सोफे पर गिरा दिया. मैंने पूछा- आपकी बॉडी इसी लिए निखरी हुई है?वो हंस पड़ी और बोली- मैंने तो हर वैरायटी का माल लगाया है. मैंने उनको देख कर अगले 5 मिनट में लंड को चुदाई के लिए तैयार किया और उसकी बेटी की चुत पर रख कर डाल दिया.

इसके बाद भैया ने भाभी के पेटीकोट का नाड़ा खींच कर खोल दिया और फिर भाभी की चिकनी जांघों को उघाड़ते हुए उसे पूरा निकाल दिया.

अभी यहां तो दोस्त भी तुम हो, साले भी तुम, रिश्तेदार भी तुम! इसलिए दोस्ती वाली बातें कर रहा हूं. उसने आँखों को बंद किया और अपने बापू के लंड को अपनी चूत पर नीचे की तरफ रगड़ते हुए महसूस करने लगी. सामने हॉल में अंकल-आंटी बैठे चाय पी रहे थे तो मुझे देखते ही अंकल बोले- अरे रोहण बेटा, बाहर क्यों खड़े हो, अन्दर आओ.