बीएफ देखने वाली पिक्चर

छवि स्रोत,फुल मारवाड़ी सेक्सी फिल्म

तस्वीर का शीर्षक ,

श्रीदेवी की सेक्सी फोटो: बीएफ देखने वाली पिक्चर, मैं भी देख कर हैरान था कि मेरी बहन सच में इतनी चुदक्कड़ और चुसक्कड़ हो चुकी है कि वो पूरे लंड आराम से मुंह में लेकर चूस लेती है.

गे कैसे पैदा होते हैं

मैडम गांड उठाते हुए मादक सिसकारियां भरने लगीं- आआह … ऐसे ही मजा आ रहा है. फिल्म सेक्सी एचडी वीडियोपर सुरेश धक्कों के साथ साथ बातें बहुत कर रहा था, जिससे संभोग में उतना मजा नहीं आ रहा था.

’इसके साथ ही एक मादक आवाज़ दस्तूर की भी आ रही थी, जो बहुत तेज थी ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह … फक मी … फक मी … फक मी … और ज़ोर से हर्ष और ज़ोर से … अन्दर तक ठोको … आआहह आआहह. जानवरों के सेक्सी पिक्चरमैं- अरे मास्टर साहब कोई अहसान नहीं … मैंने अपनी ड्यूटी में आपकी सेवा की … आप कहां फंसा रहे … और आज तो रहने ही दें … बिल्कुल दम नहीं बचा है.

रजनी दिखने में बहुत सेक्सी थी, इसलिए शादी से पहले ही सभी पड़ोस के लौंडे उसे लाइन मारने लगे थे.बीएफ देखने वाली पिक्चर: उसके फोन को देखते हुए मुझे उसमें अनिरूद्ध के नम्बर से नोटिफिकेशन मिली.

राजशेखर को जरूर दर्द हो रहा होगा मगर एक मर्द के लिए सबसे बड़ी उपलब्धि तो यही होगी कि उसके मर्दाना ताकत के आगे औरत झुक जाए.तभी कोई ने बाहर से दरवाजा खटखटाया, तो मैं तुरन्त अपना लंड पैंट के अन्दर डाल लिया और मॉम ने भी अपनी साड़ी नीचे कर ली.

सेक्सी वीडियो हीरोइन की सेक्सी वीडियो - बीएफ देखने वाली पिक्चर

विद्या ने मुझे यूं एकटक अपने मम्मों को निहारते हुए देखा, तो उसे अपने हाथों से मेरे सिर को पकड़ कर अपने मम्मों पर लगा दिया.हम दोनों भाई बहन की चुदाई करने लगे और साथ में एक दूसरे को किस भी कर रहे थे.

मैंने खाने को टेबल पर एक तरफ रख दिया क्योंकि अभी खाने की नहीं बल्कि हवस की भूख लगी हुई थी. बीएफ देखने वाली पिक्चर कल्लू मम्मी का बहुत मुँह लगा है, वो मम्मी से काफी मज़ाक कर लेता है, लेकिन मम्मी कभी उसकी बात का बुरा नहीं मानती हैं.

उसकी जेठानी ने तुरंत ही सारे फोटो कजरी के हाथों से ले लिए और देखने लगी.

बीएफ देखने वाली पिक्चर?

हम लोग दुकान से वापस निकल कर कार की तरफ आये तो मैडम को एक आइसक्रीम वाला दिख गया. उसने हल्के से हाथों से मुझे जोर दिया और मैं उसके ऊपर से उतर कर बगल में घोड़ी की तरह झुक गयी. ”उसने अपना लंड थोड़ा बाहर निकालकर फिर से मेरी चूत के अन्दर डाल दिया.

मैंने ध्यान से देखा कि मम्मी की चूत बिल्कुल साफ़ थी … वहां एक भी बाल नहीं था. ऐसे करते करते एक दिन मैंने चैटिंग करते वक़्त सेक्स का विषय उठाया, तो वो ऑफ़लाइन चली गयी. वाह … क्या चूत थी … गुलाबी चुत पर छोटे छोटे घुंघराले बालों के बीच एक सेक्सी सा छेद खुल बंद हो रहा था.

चाचा भतीजी की चुदाई कहानी में पढ़ें कि मैंने अपनी भतीजी की चुदाई कैसे की? मेरी भतीजी पूरी जवान और दिखने में बड़ी मस्त माल है. फिर वो खड़ी हुई और बोली- तुम बहुत सेक्सी हो … तुम्हारे पैक्स मुझे गीला कर रहे हैं … तुम प्लीज़ जल्दी से नहा लो. मेरा मन कर रहा था कि जाकर उसको आइ लव यू बोल दूं लेकिन मेरी हिम्मत नहीं हुई.

फिर वो चादर सही करने के लिए झुकी, तो मैं उसके सामने वाली तरफ खड़ा देख रहा था. फिर मामी को पलटा कर उनके बालों को पीठ से हटाते हुए उनकी पीठ को चूमते हुए उनकी ब्रा के हुक खोलने लगा.

मैंने अपनी जीभ को दस्तूर की चूत में डाल दिया और एक हाथ से दस्तूर की गांड का छेद फैलाने लगा था.

यहां तक कि मेरी सगी बुआ ने मेरी चढ़ती जवानी में खुद आकर मेरा लौड़ा पकड़ लिया था.

मैं बोला- अगर मैं जबरदस्ती करने लगा तो?वो बोली- अच्छा जी, सीनाजोरी करोगे अपनी मामी के साथ?मैंने कहा- जी बिल्कुल, आपने पूरा हक दिया हुआ है मुझे. उसके बाद उसने लंड को मेरी गांड पर पटका और पीछे से मेरे चूचों को दबाते हुए उनको खींचने लगा. फिर मैंने कहा- रुको … अगर मैं झड़ गया तो मुझे तुम्हारी चुत चूसने में उतना मज़ा नहीं आएगा.

गाल फूले फूले से … बड़े बड़े चूतड़, मोटी मोटी जांघें, हल्के सांवले/गेंहुए रंग के!अपने शहर होशंगाबाद से बिजनस का सामान लेने आए थे।चूँकि हमारे पास एक ही बिस्तर व पलंग था, अतः गद्दा आड़ा करके बिछाया पैरों के नीचे दरी बिछाई. वो मेरे चूतड़ों पर थपड़ मारने और स्तनों को मसलते हुए धक्का मार रहा था. उसने मुझे टाइट पकड़ रखा था, तो मैंने भी उसके चूतड़ों को दबा कर मजे लिए.

मैंने मौसी से पूछा- पंद्रह दिन बाद क्यों … अभी क्यों नहीं?तो वो बोली- तेरी बीवी को अच्छे से लंड लेना तो सीख लेने दे, उसके बाद बाहर भेजूंगी.

उसके झड़ने के बाद भी मैंने उसकी बुर को चूसना नहीं छोड़ा और उसकी कोरी देसी बुर का सारा नमकीन रस पी गया. मैं बेड के किनारे पर खड़ा होकर चाची के सिर में बाम की मालिश कर रहा था. जैसे ही वो चरमसुख पर पहुंची, उसने मुझे ज़ोर से भींच लिया और काँपने लगी.

मैंने कहा- तुम अकेले सो सकती हो नीचे?वो बोली- नहीं, मुझे तो बहुत डर लगता है. ये सोचते हुए मैं अपने मन को पक्का करने लगा था कि बहन की चुत जरूर मिल जाएगी. उसने जी भर कर मेरे स्तनों को चूसा, दूध पिया, जहां जहां मर्ज़ी हुई मुझे चूमा और धीरे धीरे मुझे जमीन पर गिराते हुए लिटा दिया.

उन्होंने फिर कहा- बोला ना कि शॉर्ट्स पहन कर आ!उनका इशारा मेरी तरफ था क्यूंकि मैंने जींस पहन रखी थी.

हम दोनों के बीच में कई बार बॉयफ्रेंड और गर्लफ्रेंड जैसे टॉपिक को लेकर भी बातें हो चुकी थीं. आप मुझे मेल कर सकते हैं … पर प्लीज़ संयमित भाषा में! मुझे उम्मीद है मेरी सेक्स कहानी पर आपके विचार मुझे जरूर मिलेंगे.

बीएफ देखने वाली पिक्चर आराम आराम से किया तेल लगा लगा के … इस वजह से उसे उतना तकलीफ नहीं हुई थी और न ज्यादा खून आया था. वहीं दूसरी तरफ से मेरा ब्लाउज फट कर एक स्तन का हिस्सा उसी के हाथ में रह गया.

बीएफ देखने वाली पिक्चर ये कहानी जिसके बारे में है, वो मेरे पड़ोस में रहने वाली क्यूट सी लड़की और मेरी जुगाड़ है. मैं उसी टाइम नहाने जा ही रहा था कि आंटी ने मुझे टोका- क्यों इतनी जल्दी नहाने क्यों जा रहे हो?मैंने कहा- गर्मी लग रही है.

मामी के हाथ मेरे लंड को सहलाते हुए उनके होंठ मेरे होंठों से लार को खींच रहे थे.

गे सेक्स ब्वॉय बिग कुक जींस पैंट देसी

मेरे छोटे साले की लड़की इंशा सामने एक दीवार के साथ पीठ टिका कर बैठी थी, साथ में उसकी सहेली थी. स्स्स … उसके हाथ के इस तरह से मेरे लंड की बगल में रखे जाने से मेरे अंदर हवस जागने लगी. मामी ने पलट कर मुझे देखा लेकिन फिर मुझे केवल तौलिया में देख कर दोबारा से नजर घुमा ली.

मैंने उसकी पजामी को निकाल फेंका और उसकी पैंटी को उतार कर उसकी चूत को नंगी कर दिया. एक दिन जब मैं दुकान पर अकेला था, तब उसका कॉल आया और इधर उधर की बात करने के बाद उसने मुझे गुस्से में बोला कि समीर आप मुझसे प्यार नहीं करते हो. हम दोनों भी सामने वाले सोफे पर बैठ गये और आंटी अंदर किचन की तरफ चली गई.

माँ ने बिना कुछ कहे ही अपना बदन मुझसे खुल कर रगड़वाना चालू कर दिया था.

अब उसे मेरे लंड की सख़्त ज़रूरत थी, मैंने उसकी चूत पर अपना लंड लगाया और धीरे धीरे उसकी चूत की दीवारों को चीरता हुआ अंदर पेल दिया. आपको मेरी ये हॉट सेक्स कहानी कैसी लग रही है, प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बताएं. देखने वाले लड़के ये सब देख कर हंस रहे थे और बोल रहे थे कि आह क्या चूचियां है … एक बार सोमेश भैया को ढंग से चखा दो नेहा … हम तो तुम दोनों के गुलाम हो जाएंगे.

शायद उसने कुछ टाइम से सेक्स नहीं किया था जिस वजह से उसे दर्द हो रहा था. मैं बोला- सोच लो भाभी, मैं अपनी दोस्तों के साथ बहुत मस्करी करता हूं. दस मिनट तक घनघोर चुदाई के बाद मैंने दस्तूर को कुतिया स्टाइल में आने को बोला, जो कि मेरा सबसे ज्यादा पसंदीदा आसन है.

और फिर मैंने क्या देखा कि भाभी अपनी चूत में …आपने अब तक मेरी इस देसी हिंदी सेक्स स्टोरी के पहले भागपड़ोसन भाभी को मदमस्त चोदा-1में पढ़ा कि मेरी पड़ोसन रेनू भाभी को मैं अपनी गोद में उठा कर उनके बेड तक ले गया था. मैं तुरन्त ही मॉम के कान में बोला- चल मेरी प्यारी रंडी मेरा लंड चूस ले.

आशिमा पूरी की पूरी नंगी होकर मेरे सामने लेटी हुई थी और मैं उसकी चूत को चाट रहा था. मैंने सोचा कि चलो मम्मी के विद्यालय चलूं, मम्मी से भी मिल लूंगा और हो सकता है कि पूजा को चोदने का मौका भी मिल जाए. वो हंसा और उसने कहा- लो मेरी जान!और उसने अपने लंड से पेशाब मेरे मुँह पर करना शुरू किया.

दोस्तो, आपको मेरी चूत की चुदाई स्टोरी में मजा आया हो तो मुझे मैसेज करना और स्टोरी पर कमेंट करके बताना कि स्टोरी में कहीं कोई गलती न हो गई हो.

इरफान- साले गांडू … माँ के लौड़े तुझे लंड चाहिये था ना … रोता क्यों है भैन के लौड़े … ले साले लंड ले … चिल्लाता रह … जितना चिल्लाना है … चिल्ला ले … मगर अब लंड अपना काम करके ही बाहर निकलेगा. ये शहर की एक आभिजात्य कॉलोनी का पता था, जिधर मुझे पहली बार जाने का मौक़ा मिल रहा था. संध्या को क्या समझ आया था, उसने मेरे साथ चुदाई का सपना कैसे पूरा किया.

अब दीदी तड़पते हुए उसको चूत में लंड डालने के लिए जैसे भीख सी मांग रही थी. वो खुश हो गई और उसने कहा- आप मुझे मेरे साइज के कपड़े ले आओ, तब तक मैं थोड़ा धंधा कर लेती हूँ.

मैंने भाभी से पूछा- बहन किससे चुदवाती हैं?वो बताने लगीं- मैं और मम्मी एक दिन शाम को 4 बजे के बाद मार्केट गए हुए थे, तो मैंने देखा कि प्रीति दो लड़के से बातें कर रही थी. उसके बाद मैंने दोबारा से उसको अपनी तरफ खींचा और उसके होंठों का रस पीने लगा. मेरे अन्दर चुदाई करने का बहुत जोश है, लेकिन आज तुमने मुझे पूरी तरह से संतुष्ट कर दिया.

करीना की सेक्सी फोटो

उसने लिखा था- काश कोई मर्द उसके साथ दर्द और प्यारी सी तकलीफ देते हुए सेक्स करे … उसके जिस्म को कुचल डाले, मसल डाले बिना कोई दया दिखाए हुए! रौंद डाले उसके जिस्म को!सब दंग रह गई उसकी सेक्स फेंटेसी सुन कर!किरण ने लिखा- मेरा पति कभी मुझे मुखमैथुन का सुख नहीं देता.

मैंने वर्षा के सारे प्रॉब्लम्स को हल करने का तरीका बताने में लग गया. तुम जिस तरह से मेरी तरफ देखती थी मुझे पता लग गया था तुम्हारी चूत मेरा लंड लेने के लिए तड़प रही है. फिर रास्ते में स्पीड ब्रेकर पर बाइक उछली तो उसकी बहन ने मेरी जांघ पर हाथ रख लिया.

और उसे शर्म आ रही है नंगी होने में!सब बोली- तो क्या हुआ, जंगल तो सबके ही होता है. कुछ पल तक उस चेहरे को याद करने की कोशिश की कि मैंने इस चेहरे को कहां पर देखा है. इंग्लिश सेक्स वीडियो फिल्ममैंने उससे ऐसा इसलिए कहा, क्योंकि वो छोटी थी और मुझे लग रहा था कि वो मेरा लंड नहीं ले पाएगी.

चूमते हुए वो मेरी योनि तक पहुंचा और फिर मेरी योनि को चाटना शुरू कर दिया. कम्प्यूटर और मोबाइल मेरी जान है … प्रत्येक सॉफ्टवेयर की ऐसी-तैसी करना मेरी आदत बन गयी है.

पूजा के संग इन पाँच दिनों में भरपूर सेक्स हुआ … और भी बहुत कुछ हुआ. इसलिए आप कहानी को पढ़ते समय इस बात का ध्यान रखें कि यह गंदी कहानी मेरी नहीं है बल्कि मेरे दोस्त की है और उसी की जुबानी मैं इस घटना को बयां कर रहा हूं. उसने उर्वशी की जांघों को फैला कर अपने गर्म होंठ मेरी पत्नी की योनि पर रखे तो उर्वशी के मुंह से सीत्कार फूट पड़े.

एक बात बता दूँ कि अगर एक मजदूर औरत चोदने को मिल जाती है, तो उस ग्रुप की सारी औरतें और लड़कियों की चुत भी कम मेहनत में ही मिल जाती हैं. इसी बीच मेरे होंठ उसकी गर्दन और कान के आस पास चलने लगे, पर थोड़ी ही देर में मैंने उसे छोड़ दिया और कहा- पहले खाना के खा लेते हैं … फिर बाजार चलेंगे. काफी देर मेहनत करने के बाद भी उसका लिंग मेरी योनि में नहीं घुसा और दर्द की वजह से मैं अपनी जांघें सिकोड़ लेटी रही, जिससे वो और परेशान होता रहा.

फिर आंखों में इशारे हुए और हम दोनों सेक्स करते करते अपनी चरम सीमा पर पहुँच गए.

इसके बाद धीरे धीरे मैं उनके गले को चूमते हुए मम्मों को गाउन के ऊपर से ही चूसने लगा. मैंने कहा- तो फिर क्या चाहते हो?वो बोला- चलो एक दोस्त के फ्लैट में चलते हैं.

कुछ कपड़ों से तो साइड से उनके चूचे तक दिख जाते, पता नहीं क्यों … ये देख कर मेरा लंड खड़ा हो जाता था. अभी तो मुश्किल से 4 से 5 मिनट ही हुए थे कि मैं फिर से पानी छोड़ने को लालायित होने लगी. उर्वशी को मिहिर का लंड देखने में इतना रसीला लगा कि उसने पल भर की देरी किये बिना ही मिहिर के लंड को अपने लबों में अंदर तक समा लिया.

मेरा लंड उसकी जांघ को रगड़ रहा था और मेरा एक हाथ उसके एक चूचे को दबा रहा था. बहुत दिनों के बाद मेरे चूचों को एक मर्द के होंठों का स्पर्श मिला था. मैंने पूछा- कैसे?उसने मेरा हाथ पकड़ा और अपनी फुद्दी पर रखा और मुझे बताया कि कैसे.

बीएफ देखने वाली पिक्चर मेरी चूचियां और गांड बड़ी बड़ी होने के कारण ऑफिस के सभी लोग मुझे बात करने के लिए मरते हैं. अब मेरे दिल की धड़कन बहुत तेज रफ्तार से चल रही थी कि अब क्या होगा। तब तक मैडम जी ने दरवाजा खोला तो मैंने ऑफिस का मेन दरवाजा बन्द किया तो उन्होंने अपने कमरे में आकर पहले जिस तरफ से आई थीं उसका भी गेट बन्द कर दिया और वापस आकर ऑफिस का गेट भी चेक किया और मुझे अपने शयनकक्ष में ले जाकर बेड पर बैठने को कहा.

वाई टू मेट

थोड़ी देर में वह स्पर्श मेरी चूत पर पैंटी के ऊपर से ही महसूस होने लगा. आप इतनी हॉट और सेक्सी हो कि रोज आपके नाम की मुठ मार कर सोना पड़ता था. मैं कभी कभी उसके लाल होंठ भी चूम लिया करता था और कभी कभी उसकी छातियां भी मसल दिया करता था.

सच में किसी भी लड़की या औरत के साथ शॉवर सेक्स करो, तो अलग ही मजा आता है. रूम में सिर्फ मैं और माँ ही थे, तो मैंने अपना लंड अपने लोअर से निकाल लिया और माँ की साड़ी को ऊपर करने लगा. माधुरी मटका माधुरी मटकाअंधेरे में जंगल में बेटे का लंड लेते हुए अलग ही रोमांच पैदा हो रहा था मेरे अंदर.

उसकी इस बात से मेरी थोड़ी हिम्मत खुली और मैंने उसे दिल का हाल कह दिया.

मैं मान गया और मैंने अपना लंड कजरी के हाथों में देकर उससे लंड चूसने को कहा. मिहिर ने एक अच्छे मेहमान की तरह आगे बढ़ कर उर्वशी की जीभ को लपक लिया, मानो दोनों ही एक दूसरे के अंदर समा जाना चाहते हों.

उसकी तंग देसी बुर में पानी आ जाने के कारण लंड को अन्दर बाहर करने में मुझे बड़ा मजा आ रहा था. तो शिवानी ने खुद पाने हाथ से मेरे लण्ड को पकड़ कर अपनी गर्म चुत के मुँह पर रखा। अब मैंने धक्का लगाया तो मेरा आधा लण्ड उसकी चुत में घुस गया. चाची को बाम थमाते हुए मैंने चाची के ब्लाउज की तरफ देखा तो मुझे चाची के क्लिवेज दिख गये.

करीब पांच मिनट के बाद वो संयत हुई और मेरी तरफ देखते हुए मेरे लंड की गति को अपनी कमर हिलाते हुए मिलाने लगी.

मुझे उनकी चुदास देख कर लग रहा था जैसे उन पर जैसे चुदाई का नशा सा चढ़ गया था. मेरे परिवार की सारी मुश्किलें खत्म होने लगीं और मैं भी खुश रहने लगी क्योंकि मेरे पास खर्च करने के लिए काफी पैसा हो गया था. मेरे मुँह से निकल गया- भाभी, आपको अकेले में डर नहीं लगता?वो मेरी तरफ एकटक लगातार देखे जा रही थी.

सेक्सी पिक्चर हिंदी में सेक्सी सेक्सीमेरे घर वाले जब भी गाँव जाते हैं तो हम लोग सेक्स करते हैं या विभोर का तो घर दिन में हमेशा खाली रहता है. आप ये बताओ कि आप मेरे यहां पर क्यों नहीं आते हैं? कभी मुझसे बात भी नहीं करते हैं.

सेक्स व्हिडीओ कमिंग

पंजाबी दुल्हन का चूड़ा, पायल, नाक की नथ, बिंदी, मंगल सूत्र, सिंदूर सब कुछ था. करीब 3 से 4 मिनट के भीतर ही वो मेरी टांग को अपने कंधे से उतार मेरे ऊपर गिर गया. रागिनी- मेरे हसबैंड मुझे बहुत प्यार करते हैं … पर आज तुम मुझे वो चीज़ दे दो, जो मुझे शादी के बाद भी नहीं मिल सकी है.

मैंने कहा- मैंने भी इन महीनों में कई रात तुम्हारे चुदाई के ख्वाब देखे, ये भी देखा कि तुम मेरा लंड चूस रही हो … और जब आंख खुलती, तो लंड गीला होता. वो जब क्लास में पढ़ाती थीं, तो मैं बड़े ध्यान से पढ़ता था, लेकिन हिंदी माध्यम की वजह से मुझे कुछ ज्यादा समझ में नहीं आता था. अरमान दीदी को एक साल से चोद रहा रहा था, लेकिन मैंने कभी दोनों को ऐसे नहीं देखा था.

वापस आकर लाला माँ से बोला- भाभीजी, आपकी आपकी भैंस तो बहुत ही प्यासी लगती थी, एकदम से चुपचाप खड़ी रही, बड़े आराम से भैंसा आया और अपना काम कर गया. इसी हंसी मजाक के चलते मैं उनको कभी कभी टच भी कर लेता था, जिसका वो कभी बुरा नहीं मानती थीं. इस ग्रुप में ज़बरदस्त नंगाई और उत्तेजना का भूचाल तब आया जब इसमें एक छठी औरत शामिल हुयी.

इधर मामा ने कुछ देर तक चूचों को चूसा और फिर उसके निप्पलों को जीभ से चूसने लगे. मैंने चाची के दूध दबाते हुए कहा कि मेरा लंड का साइज़ तो देख ही लिया है … आपकी चूत फट जाएगी … बहुत दर्द होगा देख लो.

मैंने आंटी से पूछा भी कि आंटी ऐसी बात क्या हो गई कि मुझे आप अभी के अभी बुला रही हैं … सब ठीक तो है?आंटी ने बस इतना कहा- बेटा, तुम जल्दी से मेरे घर आ जाओ.

और शायद स्वरा दीदी सेक्स के नशे में अपनी गांड को ऐसे मटका कर चलती थी कि उसको देख कर मेरा लंड भी खड़ा हो जाता था. मोटी औरत सेक्सीमेरी मादक सिसकी और कामुक पुकार उसके कानों में पड़ते ही, वो किसी मशीन की भांति कमर चलाते हुए लिंग मेरी योनि में रगड़ने लगा. सेक्स डॉट कॉममैम कहने लगीं- मैं तुझे झांटू मेंटल से काबिल मर्द बनाना चाहती हूँ … और तू भाग रहा है साले गांडू … चल चुपचाप मेरी चूत की तड़प मिटा भोसड़ी के. रास्ते में मैंने भाभी के कंधे पर हाथ रख लिया और फिर उनकी कमर पर हाथ रख लिया.

सुनील को भी मेरी स्थिति के बारे में पता चल रहा था और वह भी गहरे धक्के लगाकर मुझे अपने चरम पर पहुंचाने मैं मदद करने लगा.

फिर उन्होंने मुझे बुला कर कहा- तुम क्लास के अपने सभी जूनियर साथियों की शंकाओं का निवारण करो, जिस सवाल में तुम मदद नहीं कर सकोगे, उनको मैं बाद में समझा दूंगा. मेरा हाथ ठीक से उसके कुर्ते की वजह से उसके मम्मों तक नहीं पहुंच रहा था. उसकी मादक सिसकारियां निकल रही थीं और उसने चादर को कस कर पकड़ लिया था.

उसने ऐसे ही लेटे लेटे मुझे ऊपर धकेलना शुरू किया और हम सरकते हुए बिस्तर पर पूरी तरह आ गए. मैंने पूछा- घर में बाकी लोग भी होंगे ही ना?तो वो बोली- आप आ तो जाओ … बाकी सब समझ जाओगे. साहब ने मेरे ऊपर चोरी का इल्जाम लगाया तो मैं वहीं खड़ी-खड़ी कांपने लगी.

गूगल कैमरा ऑन करो

मैंने बिना किसी रहम के एक ज़ोरदार झटका दिया और पूरे अंडकोष ठोक दिए उसकी चूत के दरवाज़े पर …रण्डी बहना ने चादर छोड़ मुझे जकड़ लिया तो मैं भी कुछ समय के लिए रुक गया. मेरे शरीर में इतनी ताकत आ गयी थी कि मैं बिना कोई समय गंवाए उसके सामने जाकर खड़ा हो गया. उसने शुरू किया था, पर जब मेरी नींद टूटी, तो मुझे उसे रोकना चाहिए था.

वो मेरी बात मान कर मेरे ऊपर आकर लण्ड पे बैठ गयी। लेकिन उसे लंड पर बैठ कर उछल कूद करके चुदना नहीं आता था। उसका पति सिर्फ लेटा के चोदता था औऱ सो जाता था।मैंने उसे लण्ड पे बैठा कर नीचे से धक्के लगाने शुरू किया, उसे इसमें मजा आया.

वो जब चलती थी तो अच्छे अच्छे मुरझाए हुए लोगों के लौड़े भी एक बार ठुमका मार देते थे। बिल्कुल एक साधारण जीवन जीने वाले एक प्रतिष्ठित परिवार की बहू थीं वो।मेरा यहाँ पहला साक्षात्कार भी उन्होंने ही लिया था जो लगभग आधे घंटे तक चला था.

मैंने आंटी का मन समझ लिया था कि आंटी को अब दूसरे लंड की जरूरत होने लगी है. कुछ समय बाद चाची हम दोनों के लिए चाय बना लाईं और हम तीनों लोग चाय पीने लगे. आदिवासी लड़की का सेक्सी वीडियोवो ऐेसे कहते हुए मस्ती में मेरे लंड से स्लैब पर झुकी हुई चुदती रही.

कोई दस मिनट तक भाभी के होंठ चूसने के बाद मैंने तुरन्त ही एक हाथ भाभी की पेंटी में डाल दिया. कुछ देर बाद वह स्पर्श मेरे पेट पर से नीचे सरक कर मेरी नाभि को सहलाने लगा था, फिर वहां से सरक कर मेरी कमर पर आ गया. जैसे जैसे मैं उसके दूधों को मसल रहा था, वैसे वैसे उसकी मादक सिसकारियाँ निकल रही थी.

अब रात हो चुकी थी, तो मैंने उससे खाने के लिए भी पूछ लिया और रात 9 बजे तक मैंने खाना बना लिया. उसके बाद हम उसने मेरे ब्लाउज को उतार दिया और मेरे चूचों को दबाने लगा.

जब कुछ भी समझ में नहीं आता, तो हार्ड डिस्क को फोरमेट करना ही अन्तिम उपाय लगने लगता है.

अब मैं उसको गले पर, चूचियों पर, पेट पर और नाभि पर चूमते हुए उसकी चूत पर पहुंच गया और उसकी चिकनी चूत पर अपना मुँह रख दिया. यहां पर मेरा मतलब मामी के फोन नम्बर से नहीं बल्कि मामी की चूत से था. आंटी ने अपने पति को टिफ़िन बनाकर ऑफिस भेजा और बच्चे को स्कूल चले जाने दिया.

जिलेबी कैसे बनता है कुछ देर बाद रीता मेरे ऊपर चढ़ गई … और मेरे होंठों को जोर जोर से चूसने में लग गई. मैं बहू के पीछे ही खड़ा हुआ था लेकिन जब मेरा ध्यान भीड़ से हट कर मेरे शरीर पर गया तो मैंने पाया कि मेरा लंड बहू की गांड पर नीचे सट गया था.

वह मुझे देख कर जैसे ही वापस रूम में गयी … उसने मुझे कॉल किया और फिर हमारी इधर उधर की बातें होने लगीं. मैंने कुछ भी नहीं किया, लेकिन उनके स्पर्श से मेरे लंड ने हिचकोले लेना शुरू कर दिया. मौसी बोली- ऐसे ही नहीं साइज बढ़ा … तीन चार हजार लोगों से चुदी होगी तेरी बीवी.

दिसावर की खबर आज की सट्टे की

मैं उसी कमरे में आइना के सामने तैयार होने का नाटक करता और पीछे से आइने में उसे सलवार पहनते हुए देखता. मैंने उनसे कहा- मास्टर साहब यह बीमारी किसी ऐसी ही बीमारी वाले से सम्पर्क करने से होती है. आखिर में मैंने फिर से भाभी की चूत को पैंटी के ऊपर से चाटना और काटना शुरू कर दिया.

अंदर आने के बाद आंटी हम दोनों को ऊपर वाले फ्लोर पर रूम दिखाने के लिए ले जाने लगी. उसके बाद उसने मेरी चूत को हथेली रगड़ते हुए अपना लंड मेरी गांड में लगा दिया.

मेरी योनि से लगातार तरल रिसने लगा और मुझे चिपचिपा झाग सा बनना महसूस होने लगा.

हम दोनों की चुदाई को 15 मिनट हो गये थे, मैं एक ही पोजिशन में चोदे जा रहा था. मैंने लंड उसके मुँह से निकाल लिया और आकर उसकी बुर पर मुँह रखकर उसे चाटने लगा. फिर मैं अपने घर को चलने के लिए तैयार हुआ, तो भाभी ने कहा- शाम को पार्टी में आना ना भूलना.

मेरा मूसल मैडम ने जैसे तैसे करके अपने मुंह में तो ले लिया लेकिन वो उसके मुंह में जाकर जैसे अटक गया था. जब मैंने मामी की चूत से लंड को निकाला तो दोनों के ही वीर्य का मिश्रण चूत से बाहर आ रहा था. मेरे घर में मेरे मम्मी पापा, बड़ा भाई और एक बुआ रहती थीं जो तब तक कुंवारी थीं.

मैंने अब भी कुछ नहीं किया, तो चाची ने नीचे से गांड हिलाई और कहा- अब चोद बे … ऐसे ही डाले पड़ा रहेगा क्या?मैं धीरे धीरे से चूत में धक्के देने लगा.

बीएफ देखने वाली पिक्चर: मेरी दीदी ने उसके लंड को कच्छे के ऊपर से ही पकड़ लिया और उसको तेजी के साथ सहलाने लगी. मेरी उत्तेजना इतनी बढ़ चुकी थी कि कुछ ही पलों में पूरे लय में धक्के लगाने लगी.

वो मेरे साथ बिस्तर में आ गया और मुझे अपनी बांहों में भर कर मुझे किस करने लगा. मेरी जीभ पूरी की पूरी भाभी की चूत में अंदर जाकर उसको मजा दे रही थी. उसने पूछा- तुमने दुकान से क्या लिया है?मैंने उससे कहा- कंडोम लिए हैं … आज अपन खुल कर चुदाई करेंगे.

सरस्वती- ही … ही … ही … हम दोनों को एक साथ … तेरी हालत पतली हो जाएगी राजा.

वासना की कहानी में पढ़ें कि कैसे मैंने भाभी की वासना शांत की? भाई की शादी हुई तो भाभी से मेरी दोस्ती हो गयी. अगले दिन मैंने सोमेश भैया से उन 6 लड़कों की शिकायत की कि भैया इन लड़कों ने आपकी और नेहा दीदी की वीडियो बना ली है, ये आप दोनों को बदनाम कर देंगे. फिर भाई को उनके रूम में सुला कर भाभी को उनका ध्यान रखने का बोल कर मैं बाहर आ गया.