माधुरी दीक्षित की बीएफ पिक्चर

छवि स्रोत,भोजपुरी चुदाई की सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी वीडियो सरदार जी: माधुरी दीक्षित की बीएफ पिक्चर, दोनों एक दूसरे के पतियों के गले में बाहें डाल कर झूल गईं थी और चूम भी रहीं थी.

रिकॉर्डर ओपन सेक्सी फोटो

पीछे से आलोक आ गया, मैंने माँ के चूतड़ को फैलाया और आलोक अपना लंड माँ की गांड में पेल दिया. डब्लू डब्लू सेक्सी हिंदी पिक्चरउनको छूते ही मेरे बदन में बिजली सी दौड़ गई और शायद उसके शरीर में भी सिहरन हो गई थी.

फिर मेरे लिए एक चारपाई ले आए, जो बेड के पास ही थी, मैं उस पर सोती थी।टीना- अच्छा ये बता. ई-मेल सेक्सी चुदाईमाँ की आवाज जोर से निकली- आह्ह्ह ऊऊऊह्ह… आआह्ह्ह… बड़ा तेज है रे… ऊऊउउइइइ… तुमने मुझे जन्नत पहुंचा दिया.

बस एक बार मैं भी उनको मज़ा देना चाहता हूँ।काका- तू अपनी औकात भूल रहा है और तेरे जैसे नामर्द से वो खुश नहीं हो सकती.माधुरी दीक्षित की बीएफ पिक्चर: अजय ने रूबी की दोनों टाँगें ऊपर उठा कर चुदाई शुरू की, तभी विला की घंटी बज गई.

मैं भी सोफे पर चढ़ गया और उसकी उठी हुई गांड पर लंड डाल दिया और एक बार फिर साईकिल ने अपनी रफ्तार पकड़ ली, ‘बहुत अच्छे… आह… बहुत अच्छे मेरे राजा… तुम्हें मेरी गांड मार कर कैसा लग रहा है?मैंने भी एक गहरी सांस लेते हुए कहा- सलोनी माई डार्लिंग, बहुत मजा आ रहा है.फिर वो आगे कुछ कह पता इससे पहले ही रामू उसकी चैन खोल कर उसका लंड बाहर निकाल कर जल्दी से मुँह में लेकर चूसने लगा।‘अबे देख क्या रहा है.

सेक्सी अंग्रेजी नंगी वीडियो - माधुरी दीक्षित की बीएफ पिक्चर

खाना खा के फिर चले जाते हैं और रात को दूकान बंद करके नौ साढ़े नौ तक आते हैं.आंटी हंसते हुए- और क्या अच्छा लगता है?मैं- आप पहले बेड पर चलो!आंटी नीचे झुकी, मेरे गाल पर किस जड़ दी और मुझे हाथ पकड़ कर बेड पर ले गई और अपनी साड़ी उतार कर पेटीकोट, ब्लाउज में बेड पर लेट गई और अपने बाल खोल कर बोली- और क्या अच्छा लगता है तुझे’मैं भी अपनी टीशर्ट निकाल कर आंटी के लिप्स पर अपनी जीभ लगाकर बोला- मुझे आपके लाल लिप्स भी बहुत अच्छे लगते हैं.

मैंने उसकी पीठ को सहलाते हुए उसके चूतड़ों को दबाया और अपना एक हाथ भाभी की चूत पर लगाया तो पूरी गीली थी… मैंने उसको चूमना नहीं छोड़ा और अपने हाथ से भाभी की गुलाबी चूत को सहलाने लगा. माधुरी दीक्षित की बीएफ पिक्चर उसकी भी खबर ले लो।उधर कॉलेज से टीना और सुमन साथ ही आईं। टीना ने सुमन को कहा कि वो उसके घर चले तो सुमन ने मना कर दिया कि उसकी मॉम गुस्सा करेगी। तब टीना ने कहा कि अच्छा वो चेंज करके उसके पास आ जाएगी।टीना बेड पर उसके पास बैठ गई और उसके गालों को सहलाती हुई बोली- मेरी जान.

अभी ये फुल जोश में है, लौड़ा घुसा देना चाहिए। बस यही सोच कर उसने उंगली बाहर निकाल ली और लंड पर अच्छे से थूक लगा कर उसको चुत के छेद पर सैट कर दिया।पूजा- आह जल्दी करो ना.

माधुरी दीक्षित की बीएफ पिक्चर?

अब सुनीता गांड उठा उठा कर अपनी चूत चुसाई का मजा ले रही थी और ऊपर से हाथों से मेरे सर को जोर जोर से अपनी चूत पे दबा रही थी. उसके हाव भाव से लग रहा था जैसे एकदम कच्ची कली अनछुई रूप कुमारी जिसे हम अंग्रेजी भाषा में वर्जिन भी कहते हैं. प्लीज़ आप नाराज़ मत हो मगर मुझे कोई आसान सा टास्क दे दो। ये सब नहीं प्लीज़.

मैंने ऋषि को कहा- ऋषि जो हुआ, इसका किसी को कुछ पता मत चलने देना!यह कह कर मैं वहाँ से चली गई और हॉस्टल पहुंच गई. कहानी का अपने पूरे शबाब पर आना अभी बाकी है…[emailprotected][emailprotected]. रेशमा- कैसे?दीपा- मैं तुम्हें मेरे पति से चुदवाने में मदद करूंगी और तू मुझे रजत से चुदवाने में!रेशमा- हाँ पक्का… मेरी चुत में यह सोच कर ही पानी आ रहा है.

मैं बिस्तर के कोने से सो रही थी… अन्नू बीच में थी और रोहन दूसरे कोने पर!मुझे नींद नहीं आ रही थी… मैं तो बस यही सोच रही थी ‘जाने रोहित क्या सोच रहा होगा…उसे भी खुद पर ग्लानि हो रही होगी?’वैसे रोहन और रोहित हर बात आपस मे शेयर करते है तो मैंने सोचा कि कल में रोहन से इस घटना के बारे में बात करुँगी. मैंने कन्डोम लिया और उसे पहना दिया और कहा- मादरचोद, तुझे कन्डोम भी नहीं पहनना आता. कहानी के पहले भागगई थी चुदाई की कहानी सुनने, लंड लेकर आ गईमें आपने पढ़ा कि कैसे मुझे अपने एक पाठक से कॉलेज गर्ल की चुदाई की कहानी हिंदी में सुनने के लिए मिली।अब उनकी कहानी उन्हीं के शब्दों में:मेरा नाम गुरमीत सिंह है, मैं मूलरूप से हिसार (हरियाणा) के पास ही एक गाँव का रहने वाला हूँ। मैं अपनी चुदाई की कहानी हिंदी में आपको बताने जा रहा हूँ.

भाभी ने अंदर कुछ पहना तो था नहीं तो उसके नर्म मुलायम मम्मों को अपनी छाती पर पाकर मेरा जोश बढ़ गया और तभी भाभी ने मेरा चेहरा अपने हाथों में पकड़ा और मेरी आंखों में देखते हुए मेरे लबों पर अपने गुलाबी होंठ मिला कर चूमने लगी. मुझे अहसास होने लगा था कि मेरे हाथ चलाने से वो पानी छोड़ने लगी थी, उसने मुझे अपने से और चिपका लिया था ‘आह… हो और तेज… तेज!’ सिसकारी भर रही थी.

मैंने भी देर ना करते हुए उसकी चूत पर अपना 6 इंच लंबा लंड रखा और एक ही झटके में उसकी चूत में घुसा दिया.

फिर खाना खाते वक्त आंटी शरारत करने लगीं। वे अपने पैर से मेरे पैर को हिलाती थीं और मुस्कुरा देती थीं।थोड़ी देर बाद आंटी अपने चूचे हल्के से मेरे सामने हिलाने लगीं.

मैंने और आलोक चोदना शुरू किया, चूत में लंड आ जा रहा था कि कुछ झटके में ही मैंने और आलोक ने एक साथ माँ की चूत में वीर्य छोड़ दिया. बिस्तर गीला हो चुका था और स्वाति का बदन ढीला पड़ चुका था इसलिए वो अब नीचे से कुछ रिस्पांस नहीं कर रही थी लेकिन मैं उस वक़्त भी अपनी चरम सीमा में था और उसके रोकने पर भी मुझसे कंट्रोल नहीं हो पर था इसलिए मैं उसकी मर्ज़ी ना होते हुए भी उसे जम के अभी भी चोद रहा था. इसके बाद चची कई बार बेटी को डॉक्टर को दिखाने लाई, हर बार हमने ऐसे ही होटल में रात बिताई और जम कर चुदाई की.

करीबन 15 मिनट की मस्त चुदाई के दौरान वो 3 बार झड़ी और अंत में मैं भी उसकी चुत में ही झड़ गया। वो मेरे सीने से लिपट गई और मुझे किस करने लगी।दोस्तो, इस तरह मुझे वी-चैट से एककुंवारी चुत चोदने को मिलीजिसकी सेक्स कहानी मैंने आपको सुनाई।इसके बाद मैंने उसे कई बार चोदा और उसकी गांड भी मारी। आपको मेरी यह हिंदी सेक्स कहानी कैसी लगी, प्लीज़ मुझे अपने विचार जरूर भेजिएगा।[emailprotected]. उन्होंने मुझे देखते ही गले लगाया, गले लगते ही मेरे सीने से उनके बूब्स टच हुए, मेरा लण्ड तो झटका मार के खड़ा हुआ और वो शायद मौसी ने महसूस कर लिया, थोड़ी स्माइल दी और कहा- आ गया तू? अब टाइम मिला है मौसी से मिलने का?मैंने कहा- मौसी, सॉरी थोड़ा लेट हो गया!उन्होंने मुझसे चाय पानी पूछा और कहा- अब कहीं मत जाना, तुझसे बहुत सारी बातें करनी हैं. उसकी सलवार का नाड़ा मेरी नाक के ठीक ऊपर ही बंधा था सो मैंने उसे दांतों से पकड़ कर खींचना शुरू किया.

‘मैं ये रूम लॉक करता हूँ, तब तक तुम प्रिंसीपल के ऑफिस में जाकर अपने घर में फ़ोन करो, फिर हम आराम से मेरे घर जाकर रह सकते हैं।’‘ह्म्म.

मैं अपनी हॉट कहानी बता रही हूँ कि मेरे शौहर ने मुझे कैसे लंड की भूखी रंडी बनाया. वहाँ पहुँचकर मैंने ऑटो ली और सोचा कि एक सप्ताह किसी होटल में काट लूं. काटता रहा।मैंने खड़े-खड़े ही उसका दो बार पानी निकाल दिया।फिर शाम को हम बार में बैठे थे। वो लौंडे ताड़ कर कहती कि यार ऊटी की ठंड में कितने गर्म लंड घूम रहे हैं।मैंने कहा- और क्या.

पर तुम अपने भाई और बहनों को कैसे समझाओगी?वो बोली- वो मेरी परेशानी है।मैंने कहा- ठीक है।मैं आपको बता दूँ कि कोमल के बहन और भाई अभी छोटे ही थे इसलिए उनका कोई खास डर नहीं था।रात को 11 बजे उसकी कॉल आई कि आ जाओ। मैंने तुरंत अपना बैक डोर खोला और उसके घर पर जा पहुँचा। उसने गेट ओपन किया। मैंने देखा कि कोमल क्या कमाल का माल लग रही थी।उसने एक बस टी-शर्ट पहन रखी थी. तेरा लंड टेड़ा है पर अब मेरा है-1तेरा लंड टेड़ा है पर अब मेरा है-2अब तक आपने इस चुदाई की कहानी में पढ़ा कि मैं भाभी के साथ उनके घर में था तभी डोरबेल बजी और मेरी गांड फट गई।अब आगे. और जोर से चोदना।उसने कहा- आंटी, बिना कन्डोम के कैसे चोदूँ?मैंने कहा- मेरी अल्मारी में है कन्डोम.

तभी वो आदमी आया और उसके मुंह के पास अपने लंड को हिलाते हुए बोला- yhe baby, lick my dick, please me, I will fuck you hard.

मोना- हाँ बड़े आए मज़ा देने वाले, ऐसे करते हो जैसे मैं कहीं भागी जा रही हूँ. मगर तुम तो बहुत जल्दी आउट हो गए। अब जल्दी से इसे तैयार करो ताकि मैं भी इसे अपनी चुत में लेकर हवा में उड़ सकूँ।राजू- अरे इतनी जल्दी कैसे होगा.

माधुरी दीक्षित की बीएफ पिक्चर रामू काका बोले- देख बात सुन, अगर तो तू है लंगोट का पक्का फिर तो रहने दे. हम रात के दो बजे घर पहुँचे थे और जो अजय ने हमें पैसे दिये थे जब हमने घर पर उन्हें देखा तो वो तो पूरे दस हज़ार रुपये थे.

माधुरी दीक्षित की बीएफ पिक्चर थोड़ा सुकून मिलेगा।फिर मैंने भी चार-पांच जोरदार झटके मारे और अन्दर ही रस निकाल दिया।मैं अंकल के ऊपर ही लेट गया।अंकल बोले- मेरा भी पानी निकाल दे यार।फिर मैंने ऐसे लेटे हुए ही एक हाथ से अंकल का पानी निकाला और उनके पेट पर ही गिरा दिया।अंकल बोले- मजा आ गया यार. मॉम रोज किसी काम पर जाती हैं? वो रोज ये सब काम करती हैं तभी हमारे घर का गुजारा चल रहा है और जानती भी हो.

और वो दोबारा कभी मुझे चोदने नहीं देगी।तो मैंने उसके पैर अपने कंधे पर लिए और किस करते-करते जोर का झटका दे मारा तो मेरा आधे से ज़्यादा लंड चुत में घुस गया और चुत की झिल्ली फट गई.

सेक्सी चोदा चोदी की फिल्म

वो बोले- नहीं, तुम भी मेरे साथ पीओ!मैं मना कर दिया पर वो ज़िद किये जा रहे थे- तुम दारू मत पीना, बियर पी लेना, बियर पीने से कुछ नहीं होगा!मैं बोली- चाहे दारू हो या बियर… मैंने कुछ नहीं पीनी!पर वो ज़िद पर अड़े थे!मैं मन ही मन सोच रही थी कि आज कुछ तो गड़बड़ है नहीं तो ये इतनी ज़िद कभी नहीं करते और आज मुझे बियर पिला रहे हैं. मेरे हाथ उसकी जांघों पर फिसल जाते और मेरी पकड़ उसकी जांघों के बीच में बने लंड के एरिया के पास जाकर मजबूत हो जाती. उसने एक ही झटके में गोपाल का अंडरवियर उतार दिया।गोपाल का 6″ का लंड उसके सामने खड़ा होकर चुत को सलामी देने लगा।मोना ने झट से उसको अपने मुँह में भर लिया और मज़े से लंड चूसने लगी। इसी के साथ-साथ वो गापाल के लंड के चौकीदार उन दो आंडों को भी हाथ से हिला-हिला कर मज़ा लेने लगी।गोपाल- उफ़फ्फ़ जानेमन.

मैंने ट्रायल रूम में जाकर वो कपड़े पहने और राहुल को दिखाया तो वो बोला- मॉम, आप बहुत हॉट लग रही हो!पूरी कहानी अंजलि की आवाज में खुद सुन कर मजा लें. और तभी मेरी बीवी दुबारा तेज रफ़्तार से लंड को अपनी चूत से बाहर निकाल कर फचाक से दुबारा उसे अपनी चूत में लेते हुए नीचे बैठ गई!स्वान की नताशा भाभी अपना दाहिना हाथ अपने पेट पर रखे एंड्रयू के लंड को अपने पेट के अन्दर महसूस करते हुए, बाएँ हाथ से मेरा हाथ का सहारा लेकर तेजी से एंड्रयू के लंड के ऊपर कूदने लगी. तभी वो आदमी आया और उसके मुंह के पास अपने लंड को हिलाते हुए बोला- yhe baby, lick my dick, please me, I will fuck you hard.

मेरी सांस अटकी हुई थी दोस्तों क्यूंकि गलती से मैंने अपनीचचेरी बहनके बूब्स को दबा दिया था.

जब तक राजू गांड को फैलाए देख रहा था, मैंने गपाक से अपना लंड उसमें डाला, और राजू ने भी बिजली की फुर्ती से अपना भीषण लंड मेरे लंड के उर्ध्वाधर बेचारी लड़की की गांड में घुसेड़ दिया. मैं राज गर्ग एक बार फिर से हाज़िर हूँ नई कहानी लेकर जिसमें भाई ने बहन को चोदा!दोस्तो, माफी चाहूँगा स्टोरी देर से लिखने के लिए… आपको तो पता है आजकल टाइम निकलना कितनी बड़ी बात है. शेव ज़रूर कर लेना।मैं नहाने चला गया और शेव भी की, फिर नीचे जा कर भाभी और मैंने ब्रेकफास्ट किया।भाभी- तो कल तो तुम्हारा बर्थडे है.

लेकिन क्या करूँ जवान हूँ और चूत चाटने की ऐसी लत लग गई है कि बता नहीं सकता।मुझे भाभी और आंटियों में बहुत दिलचस्पी है. पिछले तेरह माह से मैं बिना विवाह किये भी एक शादी शुदा पुरुष की तरह जीवन जी रहा हूँ और माला विवाहित होने के बावजूद भी एक पर-पुरुष के साथ जीवन व्यतीत कर रही है. और घर में भी रात को रहना ज्यादा पसंद नहीं है।भाभी ने पूछा- ऐसा क्यों?मैंने कहा- मुझे घर पर नींद नहीं आती.

वो खिलखिला कर हंसी और बोली- भोसड़ी के, मेरी गांड पॉलिश मत कर!‘नहीं मैम ऐसी कोई बात नहीं है!’‘यार, तुम मुझे मैडम नहीं बोलो, सलोनी बोलो!’‘ओ. बीच में कुछ समझ ना आए तो पूछ लेना।सुमन ने ‘हाँ’ में गर्दन हिलाई और टीना ने अपने मोबाइल में एक हिंदी सेक्सी वीडियो चालू कर दिया, जिसे देख कर सुमन की आँखें फटी रह गईं और उसने जल्दी से मुँह घुमा लिया।टीना- अरे क्या हुआ देख ना!सुमन- छी छी.

मैंने अंजलि की बुर के दोनों होंठों को फैलाया और अंदर का भाग नजर आया, बिल्कुल गुलाबी हल्के गुलाबी रंग का, उफ्फ्फफ्फ्फ़ क्या नज़ारा था… और बुर को चाटने का मेरा मन किया।और फिर अपनी जीभ अंजलि की बुर पर छुआ दी हल्के से!अंजलि तड़प उठी, वो ना चाहते हुए भी नीचे से बुर को ऊपर को उठाने लगी आह्ह्हह्ह. इसके बाद मैंने उसको अपना लंड चूसने के लिए बोला तो उसने मना कर दिया. उसने अपने दोनों पैर फैला दिए और फिर वो मुझसे बोली- चल अब आ जा, जल्दी से मेरी प्यास बुझा दे.

अब उसने मेरे लंड को अहमियत देना बंद कर दिया था और थोड़ा इधर-उधर खिसकते हुए अपनी पोजीशन को एडजस्ट कर लिया जिससे अलग-2 दिशाओं से उसके अन्दर घुसे दो लंड आसानी से उसके छेदों की चुदाई कर सकें.

बद्ज़ात के चूतड़ जकड़ लिए और उसकी तेज़ी से रिसरिसाती हुई चूत से होंठ सटा दिए. कुछ क्षणों के बाद मुझे एहसास हुआ कि माला ने एक हाथ से वह स्तन पकड़ रखा था जिस में से मैं दूध पी रहा था लेकिन उसका दूसरा हाथ मेरे लोअर के ऊपर से मेरे लिंग को सहला रहा था. विश्वास करके देख, जल्दी लेट।वे मुझे खाट पर धकेलने लगे। मैंने नीचे फर्श पर बिछे चटाई कम्बल की ओर इशारा किया। वे मान गए.

’उसने अपनी बाइक पर मुझे मेरे घर के पास छोड़ दिया और मैं पैदल अपने घर चली गई. तो चलो इनको थोड़ा सुस्ता लेने दो, हम टीना के पास चलते हैं। वहाँ भी आज आपको गरमागर्म सीन देखने को मिलेगा।रात को 11 बजे टीना चुपके से घर से बाहर निकल जाती है। बाहर संजय बाइक पे खड़ा उसका वेट कर रहा था। वो सीधी जाकर बाइक पर बैठ जाती है और दोनों एक मकान में चले जाते हैं।टीना- ऐसी क्या जरूरत आ गई संजू जो तुमने मुझे ऐसे अर्जेंट में बुलाया?संजू- सब्र कर मेरी जान.

दो मिनट ऐसे ही चोदने के बस मैं उसके मम्मों को तेजी से मसलने लगा और अब मैं भी जब झड़ने के करीब पहुंचा तो मैं बोला- मैं भी झड़ने वाला हूँ. माला ने भी मेरा पूरा साथ दिया और खुद ही अपने पेटीकोट का नाड़ा खोल कर उसे नीचे गिरने दिया तथा पूर्ण नग्न हो गई. हम दोनों बाथरूम में नहाने चले गए और आज उसने अपने कपड़े खुद ही उतार दिए। मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए। अब हम दोनों बाथरूम में पूरे नंगे थे.

नवा सेक्सी पिक्चर

रीना रानी ने मेरे द्वारा अपनी चूत की सील तोड़े जाने का पूरा विवरण सुल्लू रानी को विस्तार से बताया.

किसी रोग या कष्ट का कारण समझ कर उस कारण का निदान करना और सहज प्राकृतिक जीवन जीना नेचुरोपेथी कहलाता है. ‘अब कुछ नहीं हाँ… चुपचाप अपना काम करो!’ मैंने उसे ना बोलने का प्रयास किया. मेरे मन में भी लड्डू फूटने लगे, मैं अब उसको चोदने का प्लान बनाने लगा.

उसकी वो भी मस्त है, कसी हुई है मेरे ही जैसी, वो कौन से ज्यादा चुदी है जिंदगी में. गोपाल भी स्पीड से लंड अन्दर-बाहर करने लगा। मोना गांड उठा-उठा कर उसका साथ देने लगी। यही कोई 10 मिनट ये चुदाई अपने पूरे उफान पर चलती रही। उसके बाद गोपाल के लंड की नसें फूलने लगीं. लड़कों की लड़की की सेक्सी वीडियोकहते हुए मैंने सुनीता को पीछे को लिटाया और उसकी सलवार का नाड़ा खोल कर उसे उतारने लगा.

मैं बीच बीच में मानसी के चूचों का मर्दन भी कर रहा था और उसको लव बाईट भी दे रहा था. उसकी चूत के दर्शन अब होने ही वाले थे, मेरे दिल की धड़कन तेज हो गई वो नज़ारा मेरे सामने अब आने ही वाला था जिसकी कल्पना कर कर के न जाने कितनी बार मैंने मुठ मारी थी, कितनी ही बार मैंने इसी चूत की सोच सोच के अपनी बीवी को चोदा था.

जब तक राजू गांड को फैलाए देख रहा था, मैंने गपाक से अपना लंड उसमें डाला, और राजू ने भी बिजली की फुर्ती से अपना भीषण लंड मेरे लंड के उर्ध्वाधर बेचारी लड़की की गांड में घुसेड़ दिया. मगर भाभी ये सब देख कर बस मुस्कुरा कर रह जाती थीं।अब मैंने ठान लिया था कि सोना भाभी को चोदना ही है। मैंने एक दिन मौका देख कर किचन में भाभी की गांड पर हाथ फेर दिया. ये चारों भी शॉर्ट्स में ही थे… अजय ने रूबी का टॉप और ब्रा निकाल फेंकी तो रूबी ने भी उसका शार्ट नीचे खींच दिया और नीचे बैठ कर उसका लंड अपने मुंह में ले लिया.

तो ख़ुशी से फूली ना समाई। वो वाकयी में एक तगड़ा लंड था।संजय- मेरी जान ऐसे पकड़ के ही खुश होगी. ‘नरेन्द्र… मेरे राजा… मैं सच कह रही हूँ, लाइफ में पहली बार मैं ऐसी तृप्त हुई हूं, वो भी मेरी चुत को छुए बिना!मैं थकान और तृप्ति से पीठ के बल लेट गई. थोड़ी देर बाद मेरी नज़र एक आदमी पर पड़ी, वो दिखने में तो पतला सा था पर स्मार्ट था.

उसके बाद उन्होंने मेरे शौहर को एक मेमोरी कार्ड दिया और मैं सबसे गले मिलने लगी.

30 बज गए मैंने फिर फोन किया तो वो बोले- हम आबू रोड बाई पास आ गए, वापस आ रहे हैं, तुम बस स्टैंड से माउंट आबू की तरफ वाले रोड पर आ जाओ हम लाल रंग की मर्सडीज गाड़ी से आ रहे हैं।मैं माउंट आबू वाले रोड पर 400 मीटर चला की लाल मर्सडीज दिखाई दी तो मैंने फोन किया तो बिमलेश बोली- बस पहुंच गए. मॉंटी ने झट से अपने कपड़े निकाल दिए अब वो पूरा नंगा सुमन के सामने खड़ा था.

एक दिन जब मैं मार्किट जाने के लिए घर से निकली तो घर के सामने ही मुझे पायल मिली, उन्होंने मुझ से कहा- सुनिये, हम यहाँ नए आये हैं रहने के लिए आप की बाजू वाली बिल्डिंग में ही सेंकेंड फ्लोर पर… क्या आप मुझे बता सकती है कि यहाँ मार्किट कहाँ है, मुझे घर के लिए कुछ समान खरीदना है. वो मेरे कहे मुताबिक काम कर रही थी और मैं उनके उठा-उठाकर सेक्स करने लगा. थोड़ी देर में मेरा माल निकलने लगा और निशा उसे अपने मुख में इकठ्ठा करने लगी पर माल इतना ज्यादा था कि पूरा मुंह में नहीं ले पाई और फर्श पर निकाल दिया.

चाची आगे बोली- देख अशोक, तेरे चाचा महीने में कभी कभी ही आते हैं जिससे मेरी वासना बहुत प्यासी ही रह जाती है, देख अशोक, तूने वो कमी पूरी कर दी है… तू शर्मिन्दा नहीं हो… अब तू रोज आकर अपनी चाची को चोदा कर!मैं चाची को और वासना की नजर से देखने लगा, चाची मुझे और सेक्सी दिखने लगी. राजू ने एक बार फिर से लंड को मुंह पर दबाया और धीरे-2 अन्दर की ओर घुसेड़ने लगा. उसके बाद के दो दिन और दो रातें वो मुझे हर तरह से यूज़ करता रहा, मैंने भी उसका पूरा साथ दिया.

माधुरी दीक्षित की बीएफ पिक्चर मैं यही सब सोच रही थी कि पीछे से किसी ने मेरी गांड को दबा दिया, मुझे बहुत डर लग रहा था. अब साराह के ऊपर अजय था और रूबी के ऊपर विवेक… दोनों की टांगें ऊपर उठी हुई थी और घोड़े की स्पीड से लंड चूत चुदाई कर रहे थे.

नंगी पिक्चर इंग्लिश पिक्चर

अब तक आपने इस हिंदी सेक्स स्टोरी में पढ़ा कि अंजलि ने मुझसे चुदने के लिए अपने सगे भाई को इस्तेमाल किया और अब उसी मामले को लेकर मेरी संदीप और आंटी के संग बातचीत चल रही थी। संदीप और आंटी बियर पीते हुए बात कर रहे थे, मैं दूर हो गया था।अब आगे. फिर क्या हुआ?संजय- फिर जीजू की बैंक ने उनका ट्रान्सफर बंगलोर कर दिया. मैंने उसको लंड चुसाने का मन बनाया, मैं लेट गया और उसके सर को नीचे धकेला, वो नए जमाने की लड़की थी, उसको अंदाज़ा हो गया कि मैं क्या चाहता हूँ, वो नीचे आई और मेरे पैरों पर बैठ कर मेरे लंड को सहलाने लगी, झुक कर मेरे लंड को चूमा और एक बारगी मेरे लंड को मुँह में ले लिया.

पर मैं नहीं माना और किस करते-करते टी-शर्ट के ऊपर से ही उसके चूचे दबाने लगा।उसे भी अब मजा आ रहा था. मैं काफ़ी ज़्यादा उत्तेज़ित हो गई थी।फिर थोड़ी देर बाद उस डिलीवरी बॉय का व्हाटसैप पर लव मैसेज आया। फिर उसके बाद एक मैसेज और आया कि जानू आप कब फ्री हो?मैंने कोई उत्तर नहीं दिया। फिर उसने मुझे कॉल किया तो मैंने कट कर दी। फिर उसका मैसेज आया कि बेबी मैसेज में बात करो. सुहारात सेक्सीतभी उसने तेज गति से धक्के लगाने का बोला, मैंने भी भी उसकी बात मान ली और तेज गति से धक्के लगाने लगा.

मेरी पहली सेक्स स्टोरी तब बनी जब मैंने अपनी चाची की भतीजी की चूत चुदाई अपने घर में की.

तभी जूसी की एक ऊँची आवाज़ में चीख की आवाज़ आई, एक नहीं तीन चार मस्ती वाली चीखें… संभवतः वो भी झड़ गई थी. अब उसका चेहरा भी सामान्य हो गया था और उसकी आवाज़ में कम्पन भी नहीं था.

तभी पूरे गांव की लाइट भी चली गई।‘अब मैं अपना काम खत्म नहीं कर सकती!’ मैंने नाराज होते हुए कहा. उठा-उठा कर चुत चुसाई के मज़े ले रही थी।इधर मेरा लंड भी फटा जा रहा था। मैंने उसका हाथ पकड़ कर लंड पर रखा और आगे-पीछे करने लगा। साथ ही मैं उसकी चुत भी मसले जा रहा था। उसकी गदराई चुचियों को भी बारी-बारी से चूस रहा था। अब वो बहुत गर्म हो चुकी थी। मुझे भी अब सही समय लगा और मैं उसके ऊपर आ गया।मैंने लंड को उसकी गुलाबी चुत के छेद पर फिट किया और जैसे ही जोर लगाया तो लंड फिसल गया। दो बार ऐसे ही हुआ. मेरा जयपुर शहर में कम्प्यूटर और मोबाइल का कारोबार है और शॉप है जो शहर से काफी दूर है.

पर गुप्ता जी उसी स्पीड में चुत चुसाई में लगे हुए थे। संजू को सहन नहीं हो पाया और उसके मूत्र के छेद से एक छुरछुराती हुई मूत्र की धारा निकलने लगी।गुप्ता जी अपना मुँह उसके मूत्र छिद्र पर रखकर सारा मूत पीने लगे, जैसे कि वो मूत नहीं लिम्का हो।संजना की पेशाब पूरे वेग से रह रह कर ‘छुर्ररर.

मैंने भी उसके लंड को अपने स्तनों के बीच दबा दिया, सुन्दर ने एक दो बार हिलाया और लंड से वीर्य छलक पड़ा. एक तो रिसोर्ट बहुत सेफ था ऊपर से अँधेरा और एकांत… रास्ते में अनेक जोड़े एक दूसरे को चूमते चाटते मिले. आआआ…ह्ह्हहहहह… अब…बस्सस…’ कहते हुए कभी मुझ पर झुक‌ जा रही थी तो कभी सीधा दीवार के साथ तनकर खड़ी हो रही थी.

सेक्सी स्टोरी व्हिडिओजूसी के हाथ में एक वाइन गिलास था और एक वाइन की बोतल साइड टेबल पर रखी थी. मैंने ट्रायल रूम में जाकर वो कपड़े पहने और राहुल को दिखाया तो वो बोला- मॉम, आप बहुत हॉट लग रही हो!पूरी कहानी अंजलि की आवाज में खुद सुन कर मजा लें.

जापानी सेक्सी मालिश

अब वो कसमसाने लगी और बोलने लगी- सोनू, क्या रहे हो, जल्दी से वो डाल दो!और मुझे भी जल्दी था तो मैंने देर ना करते हुये उनकी दोनों टांगें चीर कर ऊपर उठा दिया और उनकी हल्की से किस किया और उसके बूब्स दबाते हुये बोला- अब शुरू करता हूँ!वो बोली- ओके…अब मैंने अपना लंड उनकी छोटी सी चुत में डालने की कोशिश की और कामयाब हो गया. मेरे नहा कर आने के बाद मैंने अपने पहले वाले कपड़े पहन लिए और फिर सचिन ने मुझे नाश्ता करने को कहा. अब वो भी अपनी गांड उठा उठा के मेरा साथ दे रही थी, उसके मुँह से आआअह्ह ह्हह आआअह्ह ह्हह्ह ह्ह्ह ह्ह्ह्ह स्स्स स्स्स्स स्स्स जैसी आवाजें आ रही थी.

गीता रामू काका की गोद से उठी और मेरी तरफ बढ़ी, उसकी साड़ी का पल्लू नीचे फर्श पे लटक रहा था. ’ कर उठी।गुप्ता जी अचानक धीरे से अपना हाथ संजना की पेंटी के अन्दर डालते हुए उसकी चूत को सहलाने लगे और उन्होंने अपनी एक उंगली को संजना की चूत में घुसा दी। संजना के मुँह से जोर से ‘आह. बड़ी मुश्किल से शाम हुई और मैंने मां से कहा- चलो मां, अब किसका इंतजार है?मां ने कहा- ठीक है, तू अपना बैग तैयार कर ले.

वरना ऐसे ही पेल दूँगा।तो भाभी ने शरमाते हुए मेरे लंड पर कंडोम रख कर पहनाया। कंडोम खोलते ही चॉकलेट की खुशबू फ़ैल गई।कंडोम पहनाने के बाद सोनू भाभी ने कहा- मक़बूल आज सोनू को हमेशा के लिए अपना बना लो।भाभी के ये कहते ही मैंने उनकी जांघें ऊपर की ओर उठाईं और लंड का सुपारा चूत के छेद पर रख कर एक जोरदार धक्का मार दिया।भाभी के मुँह से ‘आअहह. हिम्मत लैपटॉप और पोर्न मूवी की सीडी रख कर चला गया।मैंने उसमें से एक सीडी लगाई तो उसमें एक स्कूल गर्ल अपने टीचर से चुदवाती है। क्लास रूम में टेबल पर लिटा कर टीचर अपनी स्टूडेंट की चूत चाट रहा होता है. आपका लंड मोटा है।फिर मैंने भाभी के होंठों पर किस किया और धीरे-धीरे धक्के लगा कर पूरा लंड चूत में डाल दिया। एक-दो पल रुकने के बाद मैं धक्के मारने लगा।सोनू भाभी के मुँह से तेज ‘आ आह.

मैं इतनी गर्म थी कि 5 मिनट में ही मेरा बदन अकड़ने लगा और मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया. काम वासना के आवेश मे भरी हुई रानी अब हुमक हुमक के धक्के लगा रही थी.

मामी सेक्स की पुरानी खिलाड़िन है तो वो पूरा आन्नद ले रही थी इस वक़्त सेक्स का, चूत चुदाई का!दस मिनट में हम दोनों थक गये और कब दोनों का कामरस आपस में मिला, पता ही नहीं चला दोस्तो…कुछ पल साथ लेटे रहने के बाद जब हम खड़े हुए तो दोबारा से उनको अपनी बांहों में जकड़ लिया.

और टीवी देखने लगती। मैं उसको पटाने के लिए अपने पैर से उसके पैर को टच करता और पैर फेरता. सेक्सी पिक्चर सेक्सी मारवाड़ी सेक्सीइतना भी भोले मत बनो।मैंने कहा- हाँ सब कुछ किया।फिर मैंने भाभी से उनके किसी ब्वॉयफ्रेंड के बारे में पूछा. मसूरी की सेक्सीचल अब कोई चादर ओढ़ और मेरे साथ छत पर चल।सुमन ने एक बड़ी सी चादर अपने जिस्म पर लपेट ली और डरते हुए कमरे से बाहर निकली तो उसकी माँ से उसका सामना हो गया।अब सुमन को संजय के मुताबिक़ करने का सिलसिला शुरू हो गया था।मेरी इस सेक्स स्टोरी में आपको मजा आ रहा होगा मुझे मेल करते रहिएगा।[emailprotected]कहानी जारी है।. मैंने उनको नमस्ते की और उन्हें प्याज़ देकर वापस जाने के लिए पूछने लगा.

लेकिन मैं भी उससे दोस्ती करना चाहती थी। वो मुझे बहुत अच्छा लगता था और वो अच्छे घराने का भी था और मुझसे सीनियर था।उसको लेकर मैंने सोचा कि ये मेरी पोस्ट को आगे भी बढ़वा सकता था.

लेकिन साहिल अभी भी रफ्तार पकड़े हुए थे, फिर उन्होंने एक बार मुझे फिर पहली वाली पोजिशन में किया, तभी मैंने महसूस किया कि उनके जिस्म में कुछ अकड़न सी आ रही है, उसके बाद मुझे लगा कि मेरे अन्दर एक गर्म सा लावा गिर रहा है. सुमन- अच्छा वैसे चाहिए तो ऐसा करो अपनी आँख बंद कर लो और देखो खोलना मत ओके. पर मेरा लंड उनकी चुत से फिसल गया।तब भाभी ने लंड को पकड़ कर अपनी चुत पर रखा और कहा- अब धक्का मारो।मैंने वैसा ही किया.

मैं ना चीखने की हालत में था ना कुछ और करने की… मैंने खुद को बचाने के लिए उसकी चूत में अपनी दो उंगलियाँ झटके से ठूँस दी जिससे वो तड़पी और उसने मेरे टट्टे को आज़ाद किया. हम दोनों एक-दूसरे का मजा रस चाट लेते तो अच्छा होता।संजय- कोई बात नहीं जान. उसकी बड़ी बड़ी चुची, बड़े मोटे चूतड़ गांड और खास कर उसकी बन पाव सी फूली हुई चूत जो मैं हमेशा चोदता रहता हूँ.

अनुष्का शेट्टी फोटो सेक्सी

और भी काफी बात हुई हमारे बीच में जैसे वो कहाँ से आये हैं, यहाँ क्या करते हैं वगैरा वगैरा!मार्किट से खरीदी करने के बाद जब हम घर लौटे तो पायल के पास बहुत सारा सामान हो गया था तो मैंने उनसे कहा- चलिये पायल जी, मैं आपको आपके घर तक छोड़ देती हूं. जवाब में वो कुछ नहीं बोली सिर्फ हाँ में गर्दन हिला कर सर झुका लिया. कुछ रस तो उसके गले में सीधा चला गया था, जो उसे निगलना पड़ा बाकी उसके मुँह में था वो भाग कर वॉशरूम गई.

चाची की चुदाई की यह हिंदी सेक्स स्टोरी मेरी ज़िंदगी की सच्ची घटना है.

अब मेरा एक हाथ भाभी की गोरी और मादक गांड को मसलते हुए मजा ले रहा था.

वो अब धीरे धीरे अपने हथियार को मेरे बदन के ऊपर रगड़ने लगे, मेरे पूरे बदन में बहुत ही गुदगुदी होने लगी और मुझ से अब जरा भी रहा नहीं जा रहा था. क्योंकि वो कोई मामूली नहीं बल्कि सरकारी ऑफिसर है।इसी तरह उल्टे सीधे ख्यालों में पता नहीं कब नींद आ गई।अगले ही दिन मैंने मैडम को कॉल किया और बताया कि एक तांत्रिक बाबा से मैंने बात की है, वो जादू-टोने को ठीक करने में महारत रखते हैं और उनका तरीका भी अलग है।मैडम ये सुनकर बहुत खुश हुई और कहा- जल्दी से उनका पता दो. सेक्सी व्हीडीओ ट्रिपल एक्स ओपनरूबी ने भी उसका लोअर और अपना लोअर उतार दिया अब दोनों नंगे होकर ही पूल में तैरते रहे.

दो मिनट की ही होती हैं वो बेतहाशा उत्तेजना और फिर एक या दूसरा बंदा ढेर होता ही है. उसकी चूत गीली थी तो बिना किसी परेशानी के उसकी चूत में लंड घुसता चला गया. ’ बोले जा रही थी। मैं भी देर ना करते हुए लंड पर कंडोम लगाने लगा, लेकिन उसने कंडोम लगाने से मना कर दिया। मैंने भी उसकी बात मान ली और शावर ऑन कर दिया। हम दोनों के गीले जिस्म एक-दूसरे से रगड़ रहे थे। मैंने उसकी टांगों को कंधों पर रखकर लंड चिकनी चुत पर रगड़ने लगा। वो पागल हुए जा रही थी और लंड पर दबाव डाल रही थी।‘आह आह जानू लंड डाल कर फाड़ दो ना चुत.

इधर मैंने भी अपने लंड को बाहर निकाल लिया था और उसे हाथ से सहला रहा था. और सुबह दादी माँ की निगाह बचा कर कहीं भी उसे चोद देता हूँ।मुझे अपनी इस बहन की बुर चुदाई की कहानी पर आपके मेल का इन्तजार रहेगा।[emailprotected].

तभी मैं उसके कपड़ों को निकालने लगा उसने फिर मुझे रोककर खुद ही उसके पूरे कपड़े निकाल दिए और फिर से मेरे लंड को चूसने लगी.

देख कितना खून निकल रहा है।उसने कहा- पहली बार जब सील टूटती है तो ऐसा होता है. अब मैंने उसकी टाँगें फैलाई और अपना लिंग उसकी चुत के मुहाने पे रख दिया ‘आहा हा! वो चिकनाहट मेरे लिंग को घुस जाने का न्योता दे रही थी. डैडी की जगह मम्मी को बैंक में नौकरी मिल गई थी तो मम्मी ने जैसे तैसे पाला पोसा हम दोनों भाई बहन को…मैं और मेरा भाई कॉलेज जाते हैं.

गांव की लड़की की हिंदी सेक्सी मोहल्ले का ही होने के नाते वो मुझे पहचान कर ‘नमस्ते अंकल जी’ कहती और उसके मोतियों से दांत और हंसती हुई आँखें खिल उठतीं. ना मैंने कहा।काका- ही ही मोना रानी तभी कहूँ ये गुलाबी छेद ऐसे बंद क्यों है.

उन्हें देख कर अजय को मस्ती आ गई, उसने रिसोर्ट की हेल्प डेस्क से चारों के लिए स्विमिंग कोस्ट्यूम इशू कराये और चारों कपड़े बदल कर स्विमिंग पूल में उतर गए. थोड़ी देर बाद मेरी नज़र एक आदमी पर पड़ी, वो दिखने में तो पतला सा था पर स्मार्ट था. ‘पर टीचर दीदी आपने आसमान की ओर देखा है क्या, बादल भर आये हैं, बहुत जोर से बारिश होने वाली है!’ वो इतना बोल पाता कि बारिश शुरू हो गई।थोड़ी देर के बाद तेज हवा भी भी बहने लगी और बारिश भी तेज हो गई।‘लगता है मैं यहाँ पर फंस गई!’ मैंने उसे मुस्कुराते हुए कहा.

बबीता भाभी सेक्सी

देख कितना खून निकल रहा है।उसने कहा- पहली बार जब सील टूटती है तो ऐसा होता है. फिर साथ में ही झड़ गए।उस रात मैंने, यानि नीलू के भाई ने उसको 2 बार ही चोदा क्योंकि उसकी चुत की हालत खराब हो गई थी।[emailprotected]. अब उन्हें दर्द होने लगा। मैं उनके मुँह पर झुककर उन्हें किस करने लगा। उन्हें वो अच्छा लगा और मैंने इसी किसिंग के दौरान एक और धक्का दे दिया। मेरा लंड कुछ अन्दर घुस गया.

अगर तुझे देखना हो तो एक वीडियो है मेरे फोन में, कहो तो ट्रान्सफर कर दूं तेरे फोन में?’‘ठीक है भेज दीजिये!’ वो जल्दी से बोली. ऐसे ही एक दिन वो आपस में बातें कर रही थीं तो रजनी मेरी पत्नी को बताने लगी कि उसके हबी इस साल भी नहीं आने वाले…तो हंसी मजाक में मेरी पत्नी बोली- अरे इतना ज्यादा तड़पती है तो मेरे वाले ले जा!वैसे तो यह बात यूँ ही मजाक में कही गई थी, परन्तु आगे से रजनी ने भी नहला पे दहला मारते हुए कहा- तो क्या हुआ जीजू को मैं ले जाती हूँ, लेकिन फिर तू तड़पती रह जायेगी.

वो काफ़ी खुल गई थी, मैंने कहा- कैसा लगा मेरा लंड?वो बोली- ये भी मज़ेदार है जतिन जितना ही!फिर वो आँख मार के हंसी.

कुछ देर ऐसे ही किस करते रहने के बाद उसके मम्मों को चूसने लगा, उसके मम्मों से हल्का हल्का सा रस भी निकल रहा था, जिसे चूसने में और भी मजा आ रहा था, मेरे एक हाथ की उंगली से उसकी चूत को चोद रहा था, उंगली से चोदने पर उसकी चूत भी गीली हो चुकी थी और वो साथ ही ‘आआह्ह ह्हह आअह्ह स्स्सीईए सीईईए आह्ह्ह्ह’ जैसी सिसकारी भी निकाल रही थी. तभी डोर बेल बजी… रूबी समझ गई कि साराह होगी…हाँ साराह और विवेक ही थे… दोनों ही शॉर्ट्स और टॉप में थे… रूबी को गाउन में देख साराह बोली- हो गए तुम दोनों सुबह ही सुबह शुरू… चलो कपड़े बदल लो, जेट स्की के लिए चलेंगे. और मैं दरवाजा बंद करके आता हूँ।बिमलेश अंदर गई और मैंने दरवाजा हल्का भिड़ाया, कुण्डी नहीं लगाई.

भाभी मेरे सिर को अपनी चुत पर दबा रही थीं। कुछ मिनट तक ऐसे ही चुत चटाई का सिलसिला चला।भाभी चिल्लाए जा रही थीं- अह. आंटी मेरा चेहरा अपनी गांड में दबा रही थी, मैं पीछे से ही उनकी चूत को भी चाट रहा था. आज बिन्दास होकर सुहागरात मना लो।इतना कहकर कमला अपने मुँह को मेरे मुँह के करीब लाई और अपने होंठों को मेरे होंठों से चिपका लिया। अब मैं भी सब कुछ सोचना छोड़ कर कि जो होगा सुबह देखा जाएगा, उसके अपने होंठों से उसके होंठों का रसपान करने लगा।क्या रसीले होंठ थे.

तो बताऊंगा।मैं गुजरात का रहने वाला हूँ। कई सालों से मैं अन्तर्वासना का पाठक रहा हूँ और इसकी कामुक कहानियां पढ़कर बहुत हस्तमैथुन भी किया है।मैं अभी 26 साल का हूँ। करीब एक साल पहले मुझे आंटी मिली, जिसके साथ की चुदाई की कहानी आप सभी को बताने जा रहा हूँ।वो कामिनी जी मेरे घर के पास रहती थीं.

माधुरी दीक्षित की बीएफ पिक्चर: वह आपसे इम्प्रेस है, वैसे यह एक आइडियल डिमोंन्स्ट्रेशन था, दोनों परेशान न हों, ऐसा ही सेक्स होना चाहिये। आपकी जोड़ी भी तो वन टू वन है. अभी तो दिल कर रहा है कि इसकी रसीली चूत को चाट चाट कर साफ़ करके चोदूँ।अगले दिन मुझे हिम्मत ने सुबह फोन किया और बताया कि रात तो बिमलेश बड़े जोश में मुझसे अलग अलग पोज़ में फोटो खिंचवा रही थी, कह रही थी कि दोस्त ने मांगे हैं, चाहे बिना चेहरे के ले लो… वो मेरी रसीली मुनिया का दीवाना हो गया है। आज तो तुमसे खुलकर बात करेगी.

वो थोड़ा सा हिली तो मेरी गांड फट गई और मैंने चादर ओढ़ कर दूसरी तरफ मुँह कर लिया।उसके एक मिनट बाद मैंने फिर उसकी तरफ मुँह किया और उसके चूचों पर हाथ फेरा. जैसे उनको कोई तकलीफ़ हो रही ही और वो दर्द से कराह रही हों। ओह गॉड यानि वो सेक्स की आवाजें थीं शिट अब समझ आया मुझे।टीना- क्या समझ आया. फिर मैंने अपना लंड पूरा उसकी चूत में डाल दिया और धीरे धीरे धक्के लगाने लगा.

मैंने कई बार उसकी चुत चुदाई की और शाम को वो अपने घर चली गई, उसने मुझे घर जाकर कॉल किया, वो बहुत खुश थी, उसका पति उसे कभी कभी चोदता था और वो भी एक बार… वो सन्तुष्ट नहीं होती थी.

चुत से पानी निकल रहा था।मेरा लंड भी इधर पेंट फाड़ने पर आमादा था।नीलू चुदास से भर चुकी थी और अब वो चोदने का इशारा कर रही थी। मैंने मौका अच्छा देखते हुए अपने लंड को नीलू की चुत पर रख कर धीरे-धीरे अन्दर डालने लगा। मेरा लंड उसकी कसी हुई चुत में घुस ही नहीं पा रहा था।फिर मैंने बहुत सारा थूक लंड पे लगाया और धक्का दे मारा। मेरे लंड की टोपी चुत में घुस गई. फिर इधर-उधर की बातें करके मीना चली गई और मोना भी सुधीर की तलाश में निकल गई. दूर-दूर तक कोई गांव या पंचर की दुकान नजदीक नहीं दिख रही थी।अब मैं और विकास पैदल बाईक को खींचते-खींचते करीब दो किलोमीटर चले होंगे कि रात हो चुकी थी.