बीएफ सेक्

छवि स्रोत,खुला बीपी

तस्वीर का शीर्षक ,

क्ष्क्ष्क्ष्व्व्व्: बीएफ सेक्, सीमा के जाते ही मैंने करवट ली और हनी को बाहों में लेकर ‘सीमा मेरी जान’ कहते हुए उसकी नाइटी ऊपर खिसकाकर हनी की चूत पर हाथ रख दिया.

सोया चाप कैसे बनाते हैं

आप लोगों को मेरी साली के साथ सेक्स कहानी कैसी लगी, मुझे कमेंट्स पर जरूर बताइएगा. पोती की चुदाई‘हां मैं तेरी रंडी हूँ कुतिया हूँ … जब चाहे तब लंड डाल कर चोद लेना मुझे … आह … चोद.

मैंने छूटते ही बोला- वैसे एक बात कहूं?स्नेहा भाभी बोलीं- हां जी बोलो?मैंने कहा- वो पेप्सी तो गिरनी ही थी. सगी भाभी को चोदासमय न मिलने के कारण मैं लम्बे समय तक कोई सेक्स कहानी नहीं लिख पाया.

जैसी कहानियां मैंने उनकी पढी थीं उनसे कहीं ज्यादा मजा चुदाई का मुझे वो दे रहे थे.बीएफ सेक्: वो 6 फीट की हाइट वाला एकदम लम्बा और दिखने में बहुत ही स्मार्ट लड़का था.

मैंने उसकी लोअर की इलास्टिक में हाथ डाल कर उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को छूकर देखा तो उसकी चूत का स्पर्श पाते ही मैंने चूचियों का मोह छोड़ दिया.कहानी के पहले भागमकान मालकिन की रण्डी बनने की चाहत-1में मैंने आपको बताया था कि मेरे मकान मालिक की दूसरी बीवी अपने पति की बेरुखी से खुश नहीं थी.

पांडे सेक्सी - बीएफ सेक्

तब रमेश ने उसके बालों का गुच्छा बनाकर कसकर पकड़ लिया जिससे उसके बाल हल्के खिंच रहे थे।तब उसने लण्ड को बाहर निकाल लिया.आपकी प्यारी कविता का, सभी लंड धारी और चूत धारिणी बहनों, भाइयों बेटों बेटियों को मेरी चूत का नमस्कार.

मैं दस दिन से उसे मना रहा था लेकिन अब जाकर कोमल ने मुझे दिल्ली बुलावा दे दिया था. बीएफ सेक् फिर मैंने उसके चूचों से हाथों को हटाया और उसकी गांड को हाथों से कस कर भींच दिया.

हम दोनों किसी जन्मों के प्यासे की तरह अपनी आंखों में वासना के लाल डोरों से एक दूसरे को निहार रहे थे.

बीएफ सेक्?

जिस भी अंग पर मेरे गर्म होंठ लगते तभी दीपिका के मुंह से गर्म आह्ह निकल जाती थी. सासु व देवरानी तो शाम तक आएंगी, बच्चे को स्कूल से आने में अभी चार घण्टे और लगेंगे. मैं झांट भरी चूत में उंगली डाल कर, थोड़ी देर चाट कर उन्हें 5 मिनट में झड़वा करके घर वापस आ गया.

रिया ने अपने बाप को अपनी बांहों में भर लिया।रमेश बोला- बिना लण्ड लिए ही झड़ गयी साली रंडी?रिया ने अपने डैड के सर को पकड़ लिया और चूमने लगी। अब रमेश रिया के ऊपर लेटा था।एक हाथ से रिया ने रमेश के लण्ड को पकड़ लिया और सहलाने लगी। रमेश ने रिया की आंखों में देखा. मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को अपनी बांहों में ले लिया और किस करने लगा। उसने भी मेरा साथ दिया और 5 मिनट तक किस किया. फिर इसी तरह की सेक्स की बातें करने के बाद और मेरे बहुत बार बोलने पर भाभी मुझसे मिलने के लिए तैयार हो गईं.

जिस दिन उन दोनों को मिलना होता था तो वो मेरे बेडरूम में एक दूसरे के साथ चिपक कर पड़े रहते थे और बातें करते रहते थे. तुम्हें शादी की सारी रस्मों में शामिल रहना है।मैंने मुस्कुरा के हाँ कहा. फिर मैंने उसको इशारे से घोड़ी बनने को कहा और वो मेरी बात सुनकर बेड पर टिक कर घोड़ी बन गई.

वो- कब से फोन कर रही हूँ … उठा क्यों नहीं रहे हो?मैं- पागल हो क्या. ये देखना चाहती थी कि तू ग़ुलाम बनने में खुश हो रहा था या सिर्फ मेरी चूत के लालच में ड्रामा कर रहा था … यू पास्ड विद डिस्टिंक्शन रुस्तम.

एक बार तो मन किया कि दरवाजे को वापस बंद कर लूं लेकिन ज्ञान की जीन्स में कसी उसकी सुडौल मांसल जांघों पर नजर गयी तो मन बहक गया.

मेरा गर्म गर्म लावा बड़े बड़े थक्कों के रूप में निकला और काफी देर तक निकलता रहा.

उसको किसी दूसरे गैर मर्द के साथ सम्बन्ध बनाने की बातें करने में मजा सा आने लगा था. क्योंकि सुबह मजे आते है और आने के बाद भी फ्रेश फ्रेश सा फील होता है. नजमा काफी गर्म हो गई थी और कामुक सिसकारियां ले रही थी- ईश सआ स … स … खा जाओ मेरे बूब्स को … आंह निचोड़ कर चूस लो … अह … आआह … चूसो और जोर से चूसो आई लव यू राज.

और रही बात तेरे घर वालों की, तो उनसे मैं तुझे तीन दिन की छुट्टी दिलवाकर लाया हूँ, तो तू बस मजे कर. उसको देख कर तो किसी भी मर्द का दिल उस पर आ जाये और उसको चोदने के लिए तैयार हो जाये. थोड़ी देर बाद उसने अपना लंड मेरी चुत से निकाला और मुझे अपनी गोद में बैठाने के लिए कहा.

मैंने उसके होंठों को सोनम के निप्पलों पर सटा दिया और वो उसकी चूचियों को पीने लगा.

जब राज आलिया को धनाधन चोद रहा था और वो चिल्ला रही थी, तब मुझे अन्दर से थोड़ा डर लग रहा था कि इससे चुदकर मेरा क्या हाल होगा. हर धक्के के साथ उसके नाखून मेरी पीठ पर गड़ते चले गए, जो मुझे दर्द नहीं … उसके प्यार की निशानी दे रहे थे. वो मेरे सामने ही अपने कपड़े खोल कर अमनप्रीत से फोन पर बात करते हुए अपनी चूत में उंगली करने लगी.

उसने रूम को भी अच्छे से बंद नहीं किया और मुझे किस करना चालू कर दिया. मैं बोली- बेटा, एक राज की बात बताऊं?वो मेरी तरफ हैरान होकर देखने लगा- हां बताओ न मॉम. आह्ह … उम्मआह्ह … जल्दी से कुछ करो अब यार। मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा है.

खुशी पागलों की तरह मेरा लंड चूसते हुए बोल रही थी- राज ऐसे ही करते रहो.

ऐसा पहली बार हुआ था, जब बिना उंगली या लंड के मेरी चूत रस छोड़ने लगी थी. अपना लण्ड तेजी से अन्दर बाहर करते हुए मैंने अब्बू से कहा- अब्बू, आप अपने लण्ड पर तेल लगाकर तैयार रहिये.

बीएफ सेक् उसने मुझे समझाया कि तेरे घर पर कोई नहीं है, ज्यादा लोगों के आने से पड़ोसी को शक हो सकता है. आप से अनुरोध है कि मुझे मेल करके बताएं!आप मुझे हैंगआउट पर भी जुड़ सकते हैं.

बीएफ सेक् उसके मम्मों को चूसते हुए और जीभ से उसके जिस्म को चाटता हुआ नीचे की तरफ़ आने लगा. अगर तुम मेरी जान की हर एक चीज भी टेस्ट करोगी, तो वह सब भी टेस्टी है.

संजू कुछ ही देर में आहें भरने लगी और रोहित के बालों को पकड़ कर उसका मुँह को अपने बुर में और चिपका दिया.

क्सक्सक्स मोवीस

और छुट्टी के बाद जब सर जाने लगे तो मैंने उनसे रिक्वेस्ट की कि मुझे घर छोड़ दें. मेरी बीवी की पूरी पेशाब रोहित की छाती से लेकर उसके पेट को भिगो गया था. इस बार मैंने सुधा को एक खम्बे के सहारे खड़ा किया और मुँह से मुँह लगाते हुए खड़े खड़े चुदाई करना शुरू कर दी.

आह … बिल्कुल मोटा तगड़ा भूरे रंग का लंड … एकदम मक्खन मलाई खाया पिया लंड देख कर मेरी तो मानो बांछें खिल गईं. तुम्हारे बाबू मुझे आज तक माफ नहीं कर पाए, वो जुल्म अपने ऊपर ढाते हैं … वो दारू अपने जिंदगी बर्बाद करने के लिए पीते हैं, ये मैं जानती हूँ. इसमें शर्मिंदा होने अथवा किसी और को शर्मिंदा करने जैसी कोई बात नहीं.

उस बांके जवान मर्द के लंड का सुपाड़ा मेरी चिकनी चूत में चला गया था.

जब वो लंड चूस कर थक सी गयी तो फिर से सोफे पर चूत फैला कर लेट गयी और मुझे भी अपने ऊपर आने के लिए कहा. अगले ही पल मैं चाची की चुत में ताबड़तोड़ धक्के लगाने लगा, जिस कारण थोड़ी देर में चाची का कामरस मेरे लंड पर आ गया और चाची का काम उठ गया. मैं लंड सहलाता हुआ बाहर चला गया और एक सिगरेट सुलगा कर अपनी विधवा बहन की चुदाई चुत के लिए सोचने लगा.

आंटी मुझसे चिपक कर बात करने लगीं, जिससे उनकी गर्म सांसें मुझे कामुक करने लगीं. मैंने अपना लण्ड बहन की चूत के अन्दर बाहर करते हुए रुकैय्या से पूछा- मेरे साथ ऐसे ताल्लुकात कायम करने का ख्याल तेरे मन में कैसे आया?अपने चूतड़ उचका कर चुदाई का मजा लेते हुए रुकैय्या बोली- सोते समय अक्सर तुम्हारे पायजामे पर नजर पड़ती थी और तुम्हारा तम्बू तना होता था. फिर जीजा ने नज़मा को नीचे पटक लिया और उसकी चूचियों के बीच में लंड को रख दिया और नज़मा को अपनी चूचियां दबाने के लिए कहा.

मेरे पिताजी का एक छोटा सा बिजनेस था और मैं अपने परिवार का एकलौता बेटा हूँ. उसने मेरी ब्रा को एक झटके में मेरे बूब्स से अलग कर दिया और अपने दोनों हाथों से मेरे बूब्स को पकड़कर दबाने और चूसने लगा।उसने हलके से मेरे बूब्स पर दांत भी गड़ा दिए जिससे मैंने उसे कहा- नहीं बेबी, ऐसा मत करो, दर्द हो रहा है।तो फिर वह हल्के से अपनी जीभ को मेरे बूब्स के निप्पल पर फिराने लगा.

मैंने बेड पर लेटकर पहले टिश्यू पेपर से अपना लंड साफ किया और बस चुदाई के बारे में सोचने लगा. आपको मेरी स्कूल फ्रेंड की हिंदी में सेक्सी कहानी कैसी लगी मुझे इसके बारे में अपने मेल जरूर भेजें. मैं पूरी तेजी से कोमल की चुदाई कर रहा था और वो भी चुदाई का पूरा मजा ले रही थी.

मैंने पहले वाले अंकल से पूछा कि मम्मी कहां गई?तो उन्होंने बोला- तुम्हारी मम्मी को कुछ काम था तो वह दूसरे अंकल के साथ गयी हैं.

रोहित संजू को चोदते हुए बोला- भाभी मैं आपसे छुपाऊंगा नहीं … दरअसल बात ये है कि मैं आज आपको अंतिम बार चोद रहा हूँ. मैंने कई बार कोशिश की लेकिन तुम्हारी गांड इतनी टाइट थी जिसे मेरा लण्ड भेद नहीं पाया. हम दोनों का पूरा ध्यान उस में छपी कहानी पढ़ने में ही था कि तभी मुझे किसी लड़की की हल्की सी आवाज आयी। पहले तो मुझे लगा कि मेरा वहम है.

इसलिए मुझे उनको अपने प्लान में कुछ इस तरह से शामिल किया था कि वो मेरी बात से मना कर दें. और ना ही मेरी इतनी हैसियत है, पर इस मुलाकात को मैं अपनी जिंदगी में नहीं भूल पाऊंगी। मैं आपसे उपहार में सिर्फ इतना मांगती हूँ कि आगे जिंदगी में कभी भी आप अपने जीवन का एक दिन एक रात मेरे नाम करोगे।मैं हीना की इस मांग से हतप्रभ था.

अगली सेक्स कहानी में मैं आपको बताऊंगा कि मैंने मनीषा भाभी की गांड कैसे मारी थी. स्नेहा भाभी बोलीं- मेरे पास एक प्लान है, पर रूम तुमको ही देखना होगा और वो सेफ होना चाहिए ओके. अब रीतेश सर मुझे घर छोड़ने आते तो एक दिन बोले- फ़ोन पर रोज किस करता हूँ … कभी सच में कर दो.

ब्लू सेक्स भेजो सेक्स

मेरा लंड तो पूरा टाइट हो गया था मगर उनका लंड अभी भी वैसे ही सोया हुआ था.

मैं जोर जोर से आवाजें निकाल रही थी- आह सुहास आह आह चोद दो मुझे … सुहास आह पूरी दम से चोदो सुहास सुहास … आह आह … कितना मस्त चोदते हो यार … साले मेरी चुत का भोसड़ा नहीं बना, तो आज मैं तेरी माँ चोद दूंगी … पेल हरामी अन्दर तक पेल कमीने. मैं वेलेंटाइन-डे का इन्तजार कर रहा था, लेकिन उसने अचानक मुझसे ब्रेकअप कर लिया. मैं बोला- फिर लंड डाले हुए नीचे कैसे जाएंगे पगली!तभी सुधा बोली- मैं कुछ नहीं जानती … बस तुमको जैसे ले जाना हो, ले चलो … मगर चूत में से लंड नहीं निकालना.

अपनी दोस्त की चूत चोदने के खयाल से ही मेरे मन में रोमांच सा पैदा हो रहा था. फिर अपना लन्ड मेरी दोनों जाँघों के बीच रगड़ते हुए मेरे होंठ चूसने लगे. गंदा गंदा वीडियो दिखाइएबहुत दिन से मैंने कोई चुदाई नहीं की थी तो मैं चुत के लिए बावला हुआ जा रहा था.

धीरे धीरे दोनों के पेग ख़त्म हुए तो सुनील खड़ा हुआ रिंकी को लेकर और सबसे पहले उसने रिंकी को चूमा और फिर डांस शुरू किया. उसने मुझसे अपनी इस सेक्स कहानी का जिक्र किया और अन्तर्वासना के माध्यम आप सभी तक पहुंचाने के लिए कहा.

मैं एक एक करके दोनों चूचियों को अपने मुँह में भर कर चूसने लगा और एक हाथ से उसके पेट और जांघों को मसलता रहा. आंटी- तूने मुझे आज खुश किया है, इसलिए तुझे और दूसरी चुत भी चोदने को मिलेगी. मैं इस नए अदाज में परफार्म करवाऊंगी, सच में समधी जी, आपकी हर बात निराली है, क्या खूब गाना चुना है आपने! आई लाइक इट!मैंने उसे छेड़ना चाहा- गाना या मैं?पायल ने भी कहा- दोनों में से एक चुनना जरूरी है क्या? अगर मैं कहूं दोनों.

मैंने कहा- आप एक काम करो, पिछली रात की तरह तुम लोग आज भी चुदाई करना. मैंने चाची को बैठा कर उनके मुँह में अपना लंड देना चाहा, पर वो मना कर रही थीं. शीशी से क्रीम निकाल कर अपने लण्ड पर मली और क्रीम से सनी उंगली रीना की चूत में फेर दी.

मेरी गर्लफ्रेंड के साथ सेक्स की सेक्स कहानी के पहले भागअनाड़ी का चोदना चूत का सत्यानाश-1में आपने पढ़ा था कि मेरी गर्लफ्रेंड ने मुझे अपने फ्लैट पर बुलाया था.

ये सब सुबह नहीं था, पर आज से शादी शुरू हो रही थी, तो तैयारियां भी अंतिम रूप में होने लगी थीं. चूंकि मुझे उन दोनों को तकलीफ देकर उनकी ठुकाई करनी थी, इसलिए मैंने संजना को गले से पकड़ा और उसका गला दबाते हुए उसको ऊपर उठाया.

आप यू समझें कि उसके ब्लाउज से केवल उसके स्तनों के निप्पल ही ढके हुए थे. हम तीनों दरवाजा खटखटाने लगे, लेकिन उन तीनों में से कोई ने जवाब नहीं दिया. एक हाथ से कविता भाभी मेरी पीठ को सहला रही थी और दूसरे हाथ से मेरे सिर को। मैं उनके ऊपर पड़ा रहा और मैं उन्हीं के ऊपर सो गया.

साथ ही ससुर जी भी उसका मुँह अपने मुँह में दबाए हुए पूरी ताकत से उसकी चूत में लंड ठोक रहे थे. मैंने उसे लन्ड गीला करने को कहा जिसे सुन कर वो उठ गया और लन्ड साफ करते हुए चूसने लगा. फिर मैंने अपने जूतों को उतारा और उस लड़की से पूछा- तो क्या करती हो तुम?वो बोली कि मैं बारहवीं में हूं.

बीएफ सेक् मैंने सीमा की चूत की फांकों को पकड़ कर उसकी चूत को पास से देखा और अपने जीभ को उसकी चूत की दरार में रख दिया, जैसे ही मैंने अपनी जीभ को सीमा की चूत से टच किया तो उसकी चूत कि गर्माहट मुझे भी महसूस हुई. गिन्नी के बालों पर हाथ फेरते हुए मैंने कहा- गिन्नी तुम्हारे बाल बहुत सुंदर हैं, बाल ही क्या तुम्हारा चेहरा, तुम्हारा जिस्म सब कुछ बहुत सुंदर है.

एक्स एक्स एक्स सेक्स वीडियो भेजो

भाभी ने लाइट बंद कर दी और उसी बिस्तर पर बाबूजी मेरे साथ कामक्रीड़ा करते रहे. करीब एक महीने बाद मेरी सास ने सीमा को फोन करके बताया- बधाई हो, तुम मौसी बनने वाली हो. फिर ग्यारह बजे के आसपास सब लोग अपने अपने रूम में सोने चले गए।मैं रूम में थोड़ा देर से पहुँची ताकि रवि सो जाए और मैं रोहन को वीडियो कॉल कर सकूं और हुआ भी ऐसा ही।मैं बैडरूम के अंदर कुर्सी पर बैठी हुई थी.

खैर मैंने बेडरूम की तरफ खिड़की के पास जाकर अन्दर झांका तो पाया कि अभी भी संजू रोहित की गोदी में ही थी. वैसे नताशा तुम्हें मजा तो आया न … सच बताना!नताशा- मजा तो आया … लेकिन दर्द अभी भी हो रहा है. अंग्रेजों की चुदाईथोड़ी देर में उसका मैसेज आया- क्या कर रहे हो?मैं- तुम्हारे बारे में सोच रहा हूं.

एक साथ सेक्स करने में मज़ा आएगा, अगर आपको ठीक लगे तो बताओ?प्रियंका बोली- दिल तो करता है ऐसा करने को, बस कोई प्रॉब्लम न हो कल को कोई?मैंने कहा- इस बात की मेरी गारंटी रही.

एक बार फिर से रोहिताश हम दोनों के पास आया और फिर मेरे अंडकोषों को सहलाते हुए मेरा उत्साह बढ़ाने लगा. मैं वापिस आया, तो उसने अपना अंडरवियर दुबारा पहन लिया था जो मुझे अच्छा नहीं लगा.

मैंने कहा- ये जिनकी पार्टी हो रही है क्या आप उनकी रिश्तेदार हैं क्या?स्नेहा भाभी बोलीं- नहीं, मैं अपने पति के दोस्त की पार्टी में आई हूँ. मेरा सारा परिवार वहां चला गया और मैं पढ़ाई का बहाना बना कर घर पर ही रुक गया। मैंने सपना को भी पहले ही बता दिया था तो मेरे घर वालों के जाते ही वो भी मेरे घर आ गयी। मैंने अच्छी तरह से घर के खिड़की दरवाजे बंद किये और उसे लेकर अपने कमरे में आ गया। कमरे में आते ही मैंने उसे बांहों में भर लिया औऱ बेतहाशा चूमने लगा. साले की बेटी गिन्नी की चूत के गुलाबी लबों को खोलकर अपने लण्ड का सुपारा रखा तो गिन्नी कसमसाने लगी.

फिर धीरे धीरे करके मौसी ने अपना दूसरा पैर भी मेरे दूसरे कंधे पर रख दिया.

मेरी बच्चेदानी का जम कर चुदान हो रहा था, बाबूजी पूरी ताकत लगा रहे थे और अब मुझे मुश्किल हो रही थी. गर्म गर्म वीर्य चूत में लगते ही, चूत एक बार फिर से झड़ी और इस दफा रस की बौछार बहुत तेज़ थी. मेमरानी ने भी अपनी गांड आगे पीछे करते हुए मेरे धक्कों से धक्के मिलाये.

जापान रेपदस मिनट तक मेरी गांड को बुरी तरह से रगड़ने के बाद उस्ताद मेरी गांड में ही झड़ गये. … उम्म्ह… अहह… हय… याह… भाई पहले मेरी गांड क्यों नहीं मारी … आंह भाई रोज़ मारा करो.

एक्स एक्स कॉम सेक्स

इसी रोमांच के साथ मैंने एक हाथ अपनी चूत पर ले जाकर वहां रोंए तलाशने की कोशिश की, जो कि बहुत छोटे-छोटे और भूरी रंगत लिए कोमल अहसास देने के लिए वहां मौजूद थे. पूरे दिन मेरी उससे कोई बात नहीं हुई और हम दोनों ने ऐसा व्यवहार किया कि जैसे कुछ हुआ ही नहीं. अब विशाल और सुनील दोनों ने ही प्रिया और रिंकी को नीचे लिटाया और उनकी टांगें ऊपर करके चुदाई शुरू की.

कि तभी मुझे दरवाजा बंद करने की आवाज आयी और फिर कोई मेरे पीछे आकर लेट गया. उसने अन्दर हाथ डालकर मेरी पैंटी को छुआ … और पैंटी के भी अन्दर हाथ डाल दिया. मैं- वैसे चुदाई के लिए तैयार हो न!कोमल- तुम्हें सेक्स के अलावा कुछ सूझता नहीं है.

मैं तुरंत अपनी सीट से खड़ा हो गया और हाथ जोड़ कर कहा- माफ कीजिए … मुझसे ये नहीं होगा!पर अब तो मैं पायल के कब्जे में था. कुछ देर बाद जीजा जी ने एक वाइन शॉप से चार बोटल स्कॉच व्हिस्की की ले लीं. मैंने अपने होंठ आनंद के कारण उसके मुंह में दे दिए।फिर हम कुछ देर के लिए फिर से एक दूसरे से चिपके रहे।उसने कुछ देर बाद मुझसे कहा- भाभी जी, मुझे आपकी गांड मारनी है, प्लीज मना मत करना!मैंने उससे कहा- देखो, मैंने आज तक ऐसा नहीं करवाया है.

उसने मेरी ब्रा को एक झटके में मेरे बूब्स से अलग कर दिया और अपने दोनों हाथों से मेरे बूब्स को पकड़कर दबाने और चूसने लगा।उसने हलके से मेरे बूब्स पर दांत भी गड़ा दिए जिससे मैंने उसे कहा- नहीं बेबी, ऐसा मत करो, दर्द हो रहा है।तो फिर वह हल्के से अपनी जीभ को मेरे बूब्स के निप्पल पर फिराने लगा. ऐसा करती हूं कि मैं दूसरा बच्चा तुमसे ही पैदा करवा लेती हूं, हम दोनों दोस्त भी हैं और ये बच्चा किसका है इसके बारे में किसी को पता भी नहीं चलेगा.

मैंने भाभी का सर अपने लंड की तरफ किया, तो भाभी ने भी देर न लगाते हुए मेरे लंड को अपने मुँह में भर लिया.

लंड को देख कर मुझसे भी रुका न गया और मैंने उसके लंड को हाथ में पकड़ लिया. सेक्सी वीडियो कैटरीना सेक्सी वीडियोबकौल चचा ग़ालिब‘उसी को देख कर जीते हैं,जिस काफ़िर पे दम निकले!’लेकिन इधर मेरी अपनी मज़बूरियां थी. होली की नंगी फोटोउसने मुझसे धीरे से पूछा- घर कैसे आई हो दीदी?मैंने लेटे लेटे ही कहा- बस से. फिर मैंने अपनी डांस पार्टनर प्रतिभा के साथ अभ्यास को अंतिम रूप दिया.

अगली और एक रोमांचक कहानी के साथ फिर मिलूंगा, तब तक लिए नमस्कार मेरी चुदाई की कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद दोस्तो.

उधर रोहिताश सामने कुर्सी पर बैठ कर अपना लंड हिलाते हुए सीमांशी को देखने लगा. हम दोनों बहनें काफी देर तक बातें करती रही और अपने अनुभव एक दूसरी को बताती रही. हम तीनों ने अपनी आंखें बंद कर लीं और वो तीनों कमरे से बाहर चली गईं.

प्रिया रिंकी के पास ही लेट गयी और उसने रिंकी के मम्मों को चूम लिया. थोड़ी देर बाद उसने अपना लंड मेरी चुत से निकाला और मुझे अपनी गोद में बैठाने के लिए कहा. जाग के उसने मुझे घसीट के अपने से लिपटा लिया और मेरी छाती से मुंह लगाकर गहरी गहरी साँसें भरने लगी.

देसी एक्स एक्स वीडियो एचडी

मैं- थोड़ी देर रुक जाओ, दर्द कम हो जाएगा।मैं वापस उसकी चिकनी चूत चाटने लगा तो मेरी गर्लफ्रेंड गर्म होने लगी. उन्होंने घुटने से मेरी जांघें चौड़ी की और अपना निहायत ही मोटा लण्ड मेरी फुद्दी पर रख दिया. चूचियों को अपने हाथों से गोलाकार दिशा में मालिश देते हुए उसके हाथ मेरी वासना की आग में घी डालने लगे.

अम्मी नाइटी पहन कर चली गईं और दूध लेकर वापस दरवाजा बंद करके अन्दर आ गईं.

काफी देर चूत चुदाई देखने के बाद मेरी भी वासना जाग उठी, लेकिन फिर भी मैंने अपने आपको संभाला.

अंकल ने मम्मी को बांहों में पकड़ा तो मम्मी ने कहा- अब मत करो, बहुत दर्द हो रहा है. वो नीचे बैठ कर मेरे लौड़े को पकड़ कर जोर जोर से हिलाने लगी और अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. देवर भाभी की फोटोवसुंधरा ने चार-पांच किलो वजन और कम कर लिया था जिस के कारण चेहरे के नैन-नक्श और भी ज़्यादा तीख़े हो गए प्रतीत हो रहे थे लेकिन दोनों आँखों के नीचे … बहुत गौर से देखने पर दिखने वाले हल्के काले घेरे कुछ और भी ऐसा कह रहे थे जिस को समझने के लिए … कम से कम मुझे … जीनियस होने की जरूरत नहीं थी.

उधर उसका पति कंपनी के काम के सिलसिले में बाहर गया था और उसके साथ रहने वाली ननद भी घर पर नहीं थी. कुछ पल बाद उसका रिप्लाई भी आ गया- हैलो … जी आप कौन?मैं बोली- मैं कविता आंटी. सुनीता आंटी कसे हुए पेटीकोट और ब्लाउज में क्या मस्त माल लग रही थीं.

कई बार उन्होंने अपने होटल वाले लड़के के साथ मुझको हंसते बात करते देखा था. इससे बहू समझ गयी कि वो चली तो थी शेर बनने, अब गीदड़ बनना ही ठीक रहेगा.

वो बोली- ठीक है, लेकिन ये बात केवल तुम्हारे और मेरे बीच में ही रहनी चाहिए.

मैंने धीरे से खिड़की के दरवाजे खोले और उनके कमरे में अन्दर चला गया. फिर मैंने उसकी चूत को एक दो बार किस किया और फिर उसकी टांगों को फैला कर अपना लंड उसकी चूत पर लगा दिया. उफ साहब भी क्या चाशनी में लपेट कर बातें कर रहे थे, बड़े ही जबरदस्त लवमैन निकले साहब.

सोन चिड़ी नीरा- अमन, बाहर क्यों निकाल दिया? ये लन्ड अंदर डालो न प्लीज़! आओ फ़क मी यार!मैंने उसकी चूत पर लगा पानी साफ किया और झटके से लन्ड अंदर डाल दिया. लेखक की पिछली अन्तर्वासना हिंदी स्टोरी:मेरी माँ की कामवासनामेरा नाम आयुष है और मैं ठाणे में काम करता हूं.

कमरे में जल रहे नाइट लैम्प की रोशनी में जब रुकैय्या ने देखा कि मेरा लण्ड टनटना गया है तो उसने मेरे पायजामे का नाड़ा खोलकर पायजामा नीचे खिसका दिया और मेरे लण्ड को चूम लिया. उसके लंड से जो रस निकल रहा था ऐसा स्वाद मैंने इससे पहले कभी नहीं लिया था. अविनाश- उसकी छोड़ो, तुम बताओ … क्या तुम हमारे लिए इतना नहीं कर सकते हो.

सेक्सी चुड़ै वीडियो

अर्जुन- सुनो चाहत! तुम ऊपर वो जिम देख रही हो?उसने ऊपर जिम की बालकनी की तरफ इशारा किया जैसे कि मुझे कुछ पता ही ना हो. उसका फीगर 36-32-38 का था जिसका सटीक नाप उसी ने मुझे बाद में बताया था. जो कोई भी इसके अन्दर जाता है, फिर बाहर निकलने का रास्ता जल्दी नहीं मिलता है.

मैंने बिना देर किये अपना पायजामा उतार दिया और अम्मी के बिस्तर पर आ गया. मेरी वर्जिन गर्लफ्रेंड की चुदाई की कहानी आपको कैसी लगी? आप अपने सुझाव[emailprotected]पर मेल करें, गोपनीयता रखी जायेगी।.

सभी दोस्तों को मेरा नमस्कार। मैं सुधीर हूं और यह मेरी पहली कहानी है.

वो भी पिछले 10 साल से अनछुई थी। मेरे लिए तो वो कुंवारी लड़की से कम नहीं थी। मैं उसको हर तरह से भोगना चाहता था।वैसे भी वो मस्त गोरी माल थी और गोरी औरत मुझे काफी पसंद है।हम दोनों होटल के कमरे में गए. कुछ समय बाद सबसे पहले दीदी उठीं और कपड़े लेकर अपने कमरे में चली गईं. आप लोगों ने पिछली सेक्स कहानी में पढ़ा था कि हम तीनों चुदाई का घमासान खेल खेलने के बाद वैसे ही नंगे बिस्तर पर पड़े थे.

मेघा का कॉलेज सही से चल रहा था और मेरी जॉब भी! मेघा को देख देख कर लड़कों की पैन्ट तम्बू बन जाती थी. अब हम दोनों एक दूसरे को किस करने लगेऔर समीर मेरे बूब्स चूसने लगा, वो मेरे निप्पल पे जीभ फेर रहा था. खैर अच्छा ये हुआ कि रानी ने मुझे पास कर दिया और वो भी डिस्टिकंशन के साथ.

मैं धीरे-धीरे उनकी साड़ी को खींच रहा था और वे खड़े खड़े घूमती जा रही थी। उनकी पूरी साड़ी निकलने के बाद वह सिर्फ पेटीकोट और ब्लाउज में रह गई।मेरे हाथों में अब उनकी साड़ी थी जो मैंने एक साइड रख दी।उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींचा.

बीएफ सेक्: मैं उसके उछलते मम्मों को दबोच कर नीचे से गांड उठा कर उसकी चुत को अन्दर तक पेला. मैंने गिफ्ट में उससे एंड्रायड फोन ला कर दिया, जिसे पाकर वो बहुत खुश हुई और … ‘थैंक्स भाईजान …’ बोल कर मेरे गले से लग गयी.

इतना कहकर अम्मी ने अपना लहंगा कमर तक उठा दिया और टांगें चौड़ी कर दीं. वो लंड के झटके को बर्दाश्त नहीं कर पाईं- आहाहह मर गई बेटे … तेरा लंड बहुत बड़ा है … आहह मैं बहुत दिनों बाद चुदवा रही हूँ … जरा धीरे चोद बेटा. रामसिंह कभी कभी उस पर चढ़ाई करता पर जल्दी ही निढाल हो जाता और शीला के नसीब में सिर्फ गाजर, मूली या अपनी उंगली आतीं.

मनमाफिक लंड मिलने की खुशी में मैं खुद अपना चेहरा आगे बढ़ा कर जेठजी के होंठ चूमने लगी.

कुछ ही देर में मेरा रस निकलने वाला था … लेकिन मैंने भाभी को बताया नहीं … क्योंकि अब तो मैं उनके मुँह में ही अपना वीर्य छोड़ना चाहता था. उसने मेरे अंडरवियर में तने हुए लंड पर एक किस कर दी और मेरे लंड ने एक जोरदार झटका दे दिया. मैंने दोनों हाथों से भाभी का सर पकड़ लिया और अपने हाथों से उनके सर को आगे पीछे करने लगा.