जिम करने वाली लड़कियों की बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी हिंदी देहाती बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

sexy love हिंदी: जिम करने वाली लड़कियों की बीएफ, मेघा ने चिहुंक कर अपना हाथ हटा लिया।मेरा लण्ड पूरी तरह खड़ा हो चुका था.

बीएफ चोरी चोरा

जिसमें मैं बहुत एक्सपर्ट हूँ।ब्रा खुलते ही उसके भारी मम्मे जो 36 भी साइज़ के हैं. बीएफ फुल एचडी में बीएफ बीएफपर जा नहीं रहा था क्यूंकि उसकी चूत काफी कसी हुई थी।मैंने काफी सारा थूक अपने लौड़े और उसकी चूत पर लगाया.

मेरा आधा लण्ड उनकी चूत में चला गया।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !वो झटके के साथ बैठ गईं. प्रियंका पंडित की बीएफउधर पायल की चूत फट गई शायद देखो कैसे तड़प रही है।रॉनी- तड़पने दे कुतिया को.

इसलिए बिना पूरा भरोसा हुए किसी को प्रपोज करना बड़ी समस्या थी।मेरे घर से लगा हुआ ही एक परिवार और रहता था.जिम करने वाली लड़कियों की बीएफ: एक लड़की की तलाशी ये हवलदार कैसे ले सकता है कोई लेडी कांस्टेबल होती तो कोई बात नहीं होती।बदल सिंग- रै बावले.

तो भाभी ने फोटो अपने ब्लाउज के अन्दर डाल लीं और बोलीं- निकालने की हिम्मत है तो निकाल लो.फिर बैठ कर लंड को प्यार से चूसने लगी।दोस्तो, उसके होंठों की गर्मी से मेरा लंड फिर कड़क हो गया। इस बार मैंने उसको घोड़ी बनने को बोला और मैंने पीछे से उसकी चुदाई करनी शुरू की।जैसे मैं आगे को धक्का देता.

बीएफ फिल्म सेक्सी ब्लू फिल्म बीएफ - जिम करने वाली लड़कियों की बीएफ

’ भरने लगी।मैं चाटता गया और वो ज़ोर से अपनी गांड को मेरे मुँह में पुश करने लगी।तभी उसका शरीर ज़ोर से हिला और वो दूसरी बार झड़ गई।उसने कहा- अरे तुमने तो जादू कर दिया.क्योंकि उस वक़्त तो सारा जहाँ हमारे कदमों में था।मैंने फिर सोनिका को घुटनों के बल कर दिया और उसके पीछे से अपना लौड़ा उसकी चूत में घुसा दिया.

’यह सुनते ही असलम अंकल ने अम्मी को अपनी बाँहों में भरते हुए चूम लिया।मुझे उनके कमरे से अब अकरम अंकल की भी आवाज सुनाई दे रही थी. जिम करने वाली लड़कियों की बीएफ दो की तो बहन है और सन्नी आपका बेस्ट फ्रेण्ड है?पुनीत- तू ज़्यादा होशियार मत बन.

और एक-दूसरे को मुख मैथुन का सुख देने लगे।इस स्थिति में उसके साथ मैं भी एक बार झड़ चुका था, वो भी झड़ चुकी थी, उसकी चूत का पानी बहुत अच्छा था।अब वो बोली- बाबू.

जिम करने वाली लड़कियों की बीएफ?

और 5 मिनट बाद मेरे लंड ने अपना रस उसकी गर्म चूत में छोड़ दिया और हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर निढाल हो गए. इस सेक्स कहानी का पिछला भाग :ऑफ़िस गर्ल की चुदाई ऑफिस में -1मैंने आपको बताया था. मैं तुम्हारे भइया के अलावा किसी और से प्यार करती हूँ।मैंने भी सोनाली को झट से कह दिया- मैं भी तुमसे बहुत प्यार करता हूँ सोनाली।सोनाली ने आश्चर्य से मुझे देखा और बोला- राहुल.

तो मैंने उससे पूछा- ये सब देखने का तुम्हारा मन नहीं करता क्या?तो शरमाने लगी. बस रात का सन्नाटा और भट भट करती बुलेट बाइक सड़क पर चली जा रही थी।सड़कों पर स्पीड ब्रेकर से गुजरते हुए जो झटके लग रहे थे उनके चलते पीछे वाले (प्रवीण) का भारी सा हाथ मेरी आधी जांघ को कवर कर चुका था. जब भी मैं उसे देखता था मेरा 6″ लम्बा लन्ड खड़ा हो जाता है। उसकी चूचियाँ 34.

और साथ में लौंडिया भी और हमें उल्लू बना के जाना चावे है।रतन सिंग- साब जी मन्ने तो झोल लगे सै. मुझको अब जाना होगा।पर मैंने उसकी बात सुन कर अनसुना कर दिया और उसे बिस्तर पर लिटा कर उस पर चढ़ कर उसको चूमने लगा, ममता ने अपने बदन को ढीला छोड़ दिया और मुझे कस कर बाँहों में जकड़ लिया।अब हम फिर एक-दूसरे को चूमने और सहलाने लगे। उसकी 36 साइज की चूचियों को मुँह में लेकर बच्चों की तरह चूसने लगा।ममता के मुँह से फिर से आवाजें निकलने लगीं- आआह राजी. मेरा नाम पप्पू है, मैं महाराष्ट्र से हूँ।मेरी कहानी अबसे एक साल पुरानी है, ये कहानी मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड की है.

80% से पास किया है।मैंने उससे हाथ मिलाया फिर नाश्ता करने लगा।पर दोस्तो, क्या बताऊँ. हमारे बीच से हवा भी नहीं निकल सकती थी।अब हम दोनों ही एक दूसरे को चुम्बन कर रहे थे। ये सब करते हुए एक घंटे से ज्यादा हो गया था।फिर 15 मिनट आराम करके उठे.

सो मैंने फुल स्पीड से उसकी चुदाई की, इससे पहले मैं झड़ने के डर से फुल स्पीड नहीं रख पाया था.

संतुष्टि के भाव देख कर मैं निहाल हो गया।ममता ने प्यार से मेरा सर सहलाया और एक हलकी सी होंठ पर चुम्बन देकर अपनी ख़ुशी जाहिर की।ममता- राज़ी खुश हो न.

लेकिन यह धक्का हम दोनों को जोर से महसूस हुआ।उसकी चूत में से खून निकलने लगा, मेरे लंड में भी दर्द हुआ। ऐसा लग रहा था कि मेरे लंड में से भी खून निकलने लगा हो लेकिन मैंने दर्द को नजर अंदाज किया और उसके होंठों को चूमता रहा।फिर मैंने एक धक्का और मारा. मेरी कोमल जांघों पर उसकी सख्त उंगलियाँ मुझे अलग से महसूस हो रहीं थीं। वो मेरी पीठ से सट चुका था और उसकी छाती मेरी पीठ को गर्म कर रही थी जिसका अहसास मुझे वासना की ओर धेकल रहा था. फिर भी मैंने गाण्ड मारने के लिए हामी भर दी।अब मैंने उसकी सलवार निकाल दी.

लखनऊ शहर का निवासी हूँ और सामजिक रूप से मैं एक मार्शल-आर्ट्स कोच हूँ।यह मेरी पहली और सच्ची कहानी है. और मेरा हाथ अलग करके ठीक से करवट लेकर सो गई।मैंने भी सोचा अब मैं भी मुठ्ठ मार कर सो जाता हूँ। फिर सोचा इससे अच्छा मौका फिर कहाँ मिलेगा. जो कूलर के बगल से खुली दरार से हमको देखने की कोशिश कर रही थी।जरा सोचिए.

शत-प्रतिशत सच्चाई है। आपको मेरी कहानी कैसी लगी, मेल करें[emailprotected].

तो कोई कोने में बैठ कर बियर और सिगरेट का मज़ा ले रहा था।ये तीनों जब अन्दर गए. और मैंने उसके निप्पलों को जोर-जोर से हिलाना शुरू कर दिया।उसकी चूची पानी से भरे गुब्बारे की तरह मचल रही थी और मेरी सेक्सी बीवी और ज्यादा मस्त हो रही थी।मैंने उसको उसकी सीट पर थोड़ा ऊपर करके उसकी फ्रॉक उसकी कमर से नीचे खिसकानी शुरू कर दी और उसने इसमें मेरी सहायता की। इस बीच मुझे बेल्ट के खुलने की आवाज़ आई. वो लगभग बेहोश सा हो गया।मैं भी काफ़ी थक गई थी। मैं लंड को उसकी गाण्ड में घुसाकर उसके चूतड़ों पर बैठ गई और थोड़ी देर आराम करने लगी।वो लगातार रोए जा रहे थे.

अभी तक अपने मेरी कहानी के भाग पढ़े। इन तीन भागों को पढ़कर अब तक काफी महिलाओं के ईमेल आए। कुछ तो बहुत गर्म हो उठी थीं. उसके बाल खींचने लगा। वो भी मेरे साथ मस्ती करने लगी। इसी मस्ती के दौरान बीच में एक बार मेरा हाथ उसकी चूची में लग गया. पर जब एक दिन वो ऑनलाइन थी तो मैंने सोचा चैक करूँ।मैंने उसे ‘हाय’ लिख कर भेजा.

अगर मैं लड़का होती तो तुझे जबरदस्ती पटक कर तुझे चोद देती।’‘ओह दीदी.

(उसने यह बात बाद में फोन पर बताई थी)फिर आयशा थोड़ा शरमाई और ढीठपन के स्वर में बोली- चल. मैंने उसके पैरों को छोड़ा और उसकी ब्रा और पैंटी को उतार दिया। अब मैंने उसकी मदभरी चूचियों को चूसना शुरू किया और अपना लण्ड निकाल कर उसके हाथों में पकड़ा दिया.

जिम करने वाली लड़कियों की बीएफ और उसने मुझे गाल पर एक चुम्मा कर दिया।मैंने भी उसको गाल पर एक चुम्बन दे दिया।बस फिर क्या था. पर वो लेट होने के कारण अगले दिन सुबह आने वाली थी।बस दोस्तों अब हमें चुदाई का एक मौका और मिल गया वो भी रात को.

जिम करने वाली लड़कियों की बीएफ और दूसरा मेरी फ्रेंड की शादी का था।घर में पापा ने बताया कि पापा-मम्मी और बड़े भाई और भाभी सभी लोग शादी में चलेंगे. मुझे तो पता भी नहीं था कि इतना बड़ा भी होता है। राकेश का तो बिल्कुल छोटा सा है.

पता चला कि उसने अन्दर कुछ भी नहीं पहना था।मैंने उनकी चूत में उंगली को डाला.

कुत्ता और लौंडिया की बीएफ

पर उसने मुझे अपनी ब्रा पूरी तरह से खोलने नहीं दी।मैंने भी जबरदस्ती करना छोड़ दिया क्योंकि मैं जानता था कि मेरा आधा काम हो गया है।सो मैंने फिर से उससे बातें करनी शुरू कर दीं और बीच-बीच में स्मूच और किस का सिलसिला चलता रहा और मम्मों भी बाहर से प्रेस करता रहा। इसी बीच मैंने मैंने फिर से अपना हाथ अन्दर डाला और मुँह से ऊपर की तरफ से मम्मों का जो हिस्सा मेरे मुँह को मिला. ?उसके कमेंट्स सुन कर मैं शांत हो गया और मन ही मन कुछ खुश भी हो गया।साली प्रियंका मुझसे रोज ही मेरे लण्ड की फोटो मांगती थी. जो हर प्यार करने वाला करता है।मैं उसको चिपका कर उसके सारे बदन पर अपने हाथ से सहला रहा था.

भाई हम भी एक राउंड लेंगे… नहीं तो सबको मूवी दिखाएगा और रात को दारु पिलाएगा. अब तो देखूँ तो कितना माल छुपा रखा सै तन्ने।पायल- मेरे पास कुछ नहीं है. मैं गाय का दूध निकालने के बहाने आई हूँ। तुम्हारे भैया आज सुबह ही शहर गए थे.

उसके बच्चों की लिए भी टी-शर्ट्स लीं और उसको उसके ऑफिस में छोड़ कर वापिस होटल आ गया।यह मेरी सच्ची दास्तान थी.

दोस्तो, मुझे इस चुदाई में जो आनन्द आ रहा था वो मैं आपको हूबहू बताने का पूरा प्रयास कर रहा हूँ। इस घटना का पूरा मजा लेने के लिए आप सभी मेरे साथ बने रहिये और मुझे अपने विचारों से जरूर अवगत कराएँ।कहानी जारी है।[emailprotected][emailprotected]. मैंने धीरे-धीरे उसकी नाइटी उतारना और हाथों और कन्धे पर चुम्मी करना शुरू कर दिया।मैंने उसकी पीठ. माँ के सोने के बाद अब मन्नू मेरे रूम में आई और कहने लगी- अरुण आज की पूरी रात में तेरे पास ही हूँ.

मेरा डिप्लोमा कंप्लीट होने के बाद मुझे आमेडबॅड में एक कंपनी में जॉब मिली. मैं यूं ही उसके बालों में हाथ फेरता रहूँ और वो मेरी गोद में लेटा रहे. मैं अन्तर्वासना का नियमित 5 साल से पाठक हूँ। मैंने यहाँ पर बहुत सी कहानियाँ पढ़ीं हैं.

हम दोनों ने बात करनी शुरू की और जल्दी वो मेरी रोमांटिक बातों से प्रभावित हो गई और अपने पर्सनल बात शेयर करने लगी।धीरे-धीरे हमारी बातें सेक्स की ओर बढ़ने लगी। उसने बताया कि उसकी शादी काफी कम उम्र में उसकी मर्ज़ी की खिलाफ हो गई थी. तो मेरा हौसला बढ़ गया।उसकी बात सुनकर मुझे जिगोलो बनने का ख़याल आने लगा। सोचा कि जब लण्ड शानदार है.

पता नहीं उस लड़की ने मेरे पास वाली सीट पर आने से इन्कार भी नहीं किया और उसके चेहरे पर एक प्यारी सी मुस्कान भी आ गई।मुझे समझ में नहीं आया कि वो क्या चाहती थी. सबसे बड़ी बात उसको अपना समझो, जो उसे पसंद हो, वो करो ![emailprotected]. तो इस बार मेरा सुपाड़ा चूत को भेदता हुआ अन्दर चला गया और साथ ही उसके मुँह से चीख निकल गई। मैंने उसके मुँह पर हाथ रख कर उसकी चीख को दबाया।जब हाथ उठाया तो बोली- ओह्ह.

तो मैंने किसी तरह जोर लगा कर उसे ऊपर किया और उनकी ब्रा के ऊपर से उनके मम्मे दबाने लगा।हाय.

उसके हल्के से खुलने की आवाज़ आई।भाई ने मुझे एक आवाज़ दी- वंशिका सो गई क्या?मैं जाग रही थी. तो उसको मैंने दीवार के सहारे बांध दिया। उसी वक़्त कुछ ऐसा हुआ कि मैंने अपने बदन का भार उस पर डाल कर दीवार से चिपका दिया और उसकी चूचियाँ मेरे सीने से लग गईं।तभी हमारी आँखें मिलीं और मैंने हल्के से अपनी पकड़ उस पर से छोड़ दी, वह वहीं खड़ी रही और उसने अपनी आँखें झुका दीं।फिर बिना सोचे-समझे जब मैं उससे अलग हुआ. मुझको दिया और धीरे से मेरे लण्ड मेरी जीन्स के बटन को और ज़िप को खोलकर बाहर निकाल लिया।मेरी आदत है.

अब दूसरी बार मैं आप मुझे पैन्टी निकालने को कहोगे यही ना?यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !पायल ने यह बात जल्दी से बोली. मैं उनके साथ सेक्स के मजे लूँगा और सेक्स मैं सिर्फ अपने घर पर करूँगा।मम्मी ने बोला- ये मैं रेखा से बात करके बताऊँगी।मम्मी ने रेखा से बात की… थोड़ी नानुकुर के बाद रेखा तैयार हो गई।फिर एक दिन रेखा दीदी घर आईं.

ताकि वो आपके पार्ट्नर को आकर्षित कर सके और कमरे में सेक्स करने की जगह शांत होनी चाहिए. आप बस कहीं जाना नहीं, मैं कल फिर आपकी सेवा में हाजिर होता हूँ।आप अपने ईमेल जरूर भेजिएगा।[emailprotected]. एक्सपीरियंस तो उसे भी बड़े लंड का लेना ही होगा ना?’ मेरे पति ने दोषी से कहा।अब आगे.

बीएफ सेक्स वीडियो वाली

किसी कुंवारी लड़की के साथ करते समय सिर्फ एक उंगली ही डालना। नहीं तो.

ताकि कोई हमें देख ना सके, केबिन में एक सोफा लगा था।पिक्चर शुरू हो गई और कुछ देर बाद सेक्सी सीन आने लगे। हीरो अपनी महबूबा को चूमता. नहीं… तुम तो रवि हो… होली नहीं खेलोगे?और उठ कर नवीन को रंग लगा दिया।दोनों को पक्का यकीन हो गया कि मुझे भांग का नशा चढ़ गया है।नवीन ने मुझे अपनी बाहों में लिया और बोला-. लड़की ने टांगें थोड़ी फैला दी जिससे रवि बिल्कुल उसकी छाती पर लेट गया.

मैं चूसता हुआ उनके निप्पल से पेट और पेट से चूत तक आ गया।जैसे ही मैंने उनकी चूत को नंगा करके उस पर अपनी जीभ को लगाया. मोनू बोला- क्या हुआ रीमा दीदी?मैंने कहा- तू तो सचमुच अब बच्चा नहीं रहा. बीएफ भेजो एचडी में??मैं समझ गया था कि वो अपने मम्मों को दबवाने का इशारा था। मैं उस पर भूखे शेर की तरह कूदा और उसके मम्मों को अपने दोनों हाथों में लेने लगा।उउउफ़फ्फ़.

उसकी फ़िगर बहुत ही मस्त है। उसकी हाइट 5’4″ होगी और साइज़ 32-28-32 होगी। वो दिखने में बहुत ही कमसिन दिखती है। लगभग पूरी क्लास उसकी दीवानी थी।वो मेरी लैब पार्टनर थी और हमारी बहुत गहरी दोस्ती हो गई थी और कब ये दोस्ती प्यार में बदल गई. उसे देखने के लिए आंखें तरस गईं थीं।12 बज गए और मुझे जोरों की नींद आने लगी क्योंकि पहली रात भी नहीं सो पाया था मैं और सबसे बड़ी मुश्किल यह थी कि मुझे ये पता नहीं लग पा रहा था कि आज रवि कहाँ सोने वाला है क्योंकि घर में दो कमरे खाली थे, एक पीछे वाला और एक छत पर.

या नहीं?तो मैंने शर्मा कर बोला- पहले कपड़े चेंज कर लेते हैं, उसके बाद बात करते हैं।पर उसने मुझे नहीं छोड़ा. उसने भी हँस कर कहा- और तुम्हारे प्रवीण ‘की’ मार देता। वैसे प्रवीण के कूल्हे हम औरतों से भी ज्यादा खूबसूरत हैं। उसकी तो हर बात मुझे प्यारी लगती है। तुम प्लीज़ मेरी बात का बुरा मत मानना।मैंने पूछा- तो तुमने क्या कहा?मोना बोली- मैंने उससे कहा शीला. जिससे निप्पल भी एकदम मस्त होकर तन गए।उसकी चूचियाँ भी जैसे और भर गईं.

उसके ख़त्म होते ही हम एक-दूसरे के होंठों पर लगे हुए केक को अपने होंठों से साफ़ करने लगे। फिर हमने उसे एक तरफ रखा और दूसरी पारी की तैयारी करने लगे।मैंने दोनों सिंगल बेड को मिलकर एक बड़ा बिस्तर बना दिया था। सोनिका ने थोड़ी देर के लिए मुझे बाहर भेजा। जब मैं अन्दर गया तो मेरी तो बांछें खिल गईं क्योंकि बिस्तर पर सोनिका नहीं. शायद ये पल मेरी ज़िंदगी के सबसे हसीन पल थे जिन्हें मैं खोना नहीं चाहती थी क्योंकि आज की इस रात मैंने वो सब कुछ किया था. पर उम्र में मुझसे छोटी है। उसने मुझ से कई बार मोनिका से दूर रहने को कहा.

वो बादाम की गिरी खाने में मशगूल था और मेरी नजर उसके बदन के हर कोने को निहार रही थी।23 साल का जवान जाट लड़का था.

तो मैंने सोचा क्यूँ ना मैं भी अपनी कोई चटपटी कहानी आपके समक्ष रखूँ।मैं आज पहली बार अपनी सच्ची कहानी लिख रहा हूँ।आपने अन्तर्वासना डॉट कॉम पर अब तक हजारों कहानियाँ पढ़ी हैं. और हल्के से खुद का हाथ डालकर उसने अपनी जीन्स को सही किया।मेरा काम अभी नहीं हुआ था सो मैंने उसका हाथ जबरदस्ती अपने लण्ड पर हाथ रख दिया.

उसमें भाषा की सौम्यता बनाए रखिएगा।घटनाक्रम जारी है।[emailprotected]. पाँव पर खड़े करके हाथों को आगे टिकाकर उकड़ू कर दिया। फिर मैंने पीछे से अपना मूसल लण्ड उसकी चूत में डालकर उसके बड़े-बड़े नितंबों को मसलते हुए ज़ोर-ज़ोर से चुदाई शुरू कर दी।वो बोली- वाह. पर राकेश उनकी चीख की परवाह किए बिना ही अपने लण्ड को अपनी बहन की सहेली की चूत में डाल कर धक्के पर धक्के दे रहा था। लगभग 10 मिनट तक धक्के लगाने के बाद राकेश जोर से चिल्ला कर बुआ के ऊपर गिर गया।बुआ- क्या राकेश.

मेरा लन्ड पकड़ कर मुठ मारती थी। उसने बुर भी चुदवाने का वादा किया था. यहाँ पर आज प्रदर्शित कुछ लेखकों की कुछ रचनायें कोई विशेष चुनाव करके नहीं दिखाई जा रही हैं. मैं उसके साथ एक लंबी ड्राइव पर निकल गई। दीपक मुझे कहीं निर्जन खेत पर ले गया और बोला- मेरी जान पूर्वा.

जिम करने वाली लड़कियों की बीएफ मेरी कहानी पढ़ते रहिये और मुझे अपने विचार जरूर भेजिएगा।कहानी जारी है।[emailprotected]. उस पर हल्की-हल्की सी झांटें उगी हुई थीं।मेरे पूरे बदन में सनसनी होने लगी और मेरा लंड तन कर खड़ा हो गया।मॉम अपने सारे बदन को साबुन से मसल-मसल कर नहा रही थीं, नहाते-नहाते मॉम अपने दोनों चूचियों को हाथों से दबाने लगीं।इसी तरह दबाते-दबाते मॉम पर जवानी की मदहोशी छाने लगी, वे अपने हाथों से बुर भी मसल रही थीं।पहले तो बुर को हाथों से हल्के-हल्के सहलाती रहीं.

बीएफ सी वीडियो पिक्चर

लेकिन वो कहीं और खोई रहती।फिर मैंने एक दिन उससे पूछा- आखिर क्या प्रॉब्लम है. मेरी नजर तो उसके चूतड़ों और उसके वक्ष उभारों पर ही घूम रही थीं।सच कह रहा हूँ कि उसकी छलकती जवानी को अपने इतने करीब देख कर मेरा तो लण्ड खड़ा हो गया था. अपनी गाण्ड को जोरों से हिलाने लगी… योनि को भींचते हुए झड़ने लगी और मेरे मुँह से निकलने लगा- प्लीज रुको मत.

आज तुझे जन्नत का मज़ा देती हूँ।उसने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे कमरे में ले गई।कमरे में जाते ही साथ उसने कहा- पहले कुछ पीते हैं. क्योंकि वो मेरी भाभी थीं और हमारे परिवार वाले सभी एक-दूसरे से बहुत प्यार करते हैं और विश्वास करते हैं।जिस कारण मेरे और मेरे भाभी को साथ खाने से बहुत रात तक साथ रहने से कोई नहीं रोकता था।मैंने पूरी तरह से यह बात दिमाग़ में डाल ली थी कि मैं भाभी को ग़लत नज़रिए से कभी नहीं देखूँगा।मगर एक दिन मैं अपनी फोटो लेकर कॉलेज में फर्स्ट इयर के एड्मिशन के लिए जा रहा था. भाभी देवर की सेक्सी बीएफचलो घूमते हुए बात करते हैं।बात करते हुए मैंने उनको डाइट चार्ट की बात छेड़ दी तो उन्होंने मुझसे कहा- मुझे भी बता दो न.

उसे रोकेगा कौन?वो मान गई और हम काफी रात तक एक-दूसरे के साथ बात करते रहे और ये सोचते रहे कि कब हम दोनों एक-दूसरे के करीब होंगे।क्योंकि आज की इस घटना के बाद न मैं ही अपने आप को रोक सकता था.

अपनी टी-शर्ट के नीचे से ब्रा निकाल कर फेंक दी, अब वो अपने गोल-मटोल भारी भरकम मम्मों को टी-शर्ट के अन्दर से ही मेरे सामने हिलाने लगी।मैंने देखा कि उसके निप्पल भी पूरी तरह खड़े हो चुके थे. भाग कर अंदर आया और मौसी से पूछा- मौसी रवि को देखा क्या? कहीं गया है क्या वो?‘बेटा, रवि तो चला गया!’‘कहाँ…’‘अपने घर हिसार!’‘क्या?’‘हाँ, लेकिन तू ये सब क्यों पूछ रहा है?’‘कुछ नहीं, बस ऐसे ही.

’ की आवाज़ से हम दोनों ही बहुत उत्तेजित हो रहे थे।रीता बहुत उत्तेजित हो गई थी, वो अपने चूतड़ उचका-उचका कर पूरा मज़ा ले रही थी ‘ओह्ह्ह्ह. ताकि रात को मैं अकेले में ये देख सकूँ।आज मैं पहली बार काजल की गाण्ड इतने करीब और अच्छे से देख रहा था. जिसकी कोई सीमा ही नहीं थी।इतनी देर में ही सोनिका ने मेरे जिस्म से उस आखिरी कपड़े को उतार कर अलग कर दिया। अब वो मेरे फौलादी आठ इंच के लौड़े से खेल रही थी.

वो सीधे रसोई में गई।मैं वहाँ पहुचा तो देखा वो चाय बनाने लगी थी।मैंने उससे पीछे से पकड़ लिया.

पर किसी का ख्याल रखना बड़ी बात है कि उसे दु:ख ना हो।मैं- मुझे माफ कर दीजिए भाभी!मैं उनसे सिर्फ इतना ही बोल पाया।कीर्ति- कोई बात नहीं और ना ही इस बात को किसी से कहूँगी. जिसकी वजह से उसकी चूत खुल गई। फिर मैंने धीरे से अपना लंड उसकी चूत में डाल दिया।लौड़े के घुसते ही उसकी सिसकारी निकल गई. इसलिए तुम्हें देखकर मुझे कुछ-कुछ हो रहा है।मैं- मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूँ भाभी.

बीएफ फुल एचडी में हिंदी मेंकोई लड़की मुझे घास ही नहीं डालती।तो भाभी मुझ पर हँसी और बोलीं- तुम पर तो कोई भी लड़की मर सकती है. पहले वो टॉयलेट से बाहर निकली और फिर मैं निकला।उसके बाद ट्रेन का सफ़र खत्म हो गया तब से मैंने उसको कभी नहीं देखा।[emailprotected].

बड़े लंड की बीएफ वीडियो

उससे पहले मैंने उसे आज़ाद कर लिया। जैसे ही उसने मेरा 7 इंच का हथियार देखा. अगली रात को उसे 69 वाला पोज समझ में नहीं आया। मैंने शर्त रखी कि तुझे भी अपनी कैपरी खोलनी पड़ेगी. पर तुझे भी अपने कपड़े उतारने पड़ेंगे।कुछ सोचने के बाद वो राजी हो गई।हम दोनों ने कपड़े उतारे और एक-दूसरे के जिस्म के दीदार किए।वो मेरा टाइट लौड़ा देख कर बोली- तेरा तो बहुत बड़ा है.

उसने अपना लण्ड और मेरी चूत पानी से साफ़ की और कूद पड़े।वो पैर चौड़े करके पेड़ से टिक कर खड़ा हो गया और मुझे नीचे बिठा कर अपना लण्ड मेरे मुँह के आगे कर दिया।मैंने लण्ड को सिर्फ चुम्मा किया था. यह बोलते हुए वो ठहाका मारकर हंसा और घर की तरफ चल दिया।उसकी मस्तानी चाल को देखते हुए मैंने मन ही मन कहा- और मेरी सुहागरात भैया?जल्दी ही लौटूंगा अगले भाग के साथ. लेकिन आयशा मेरी तरफ मुँह करके बैठी थी सो उसने नहीं देख पाया कि उसकी सहेली हम दोनों की हरकत देख रही है.

कुछ देर सहन कर लो फिर तुमको बहुत मजा आने वाला है।उसको चूमते हुए मैं धकाधक झटके लगा रहा था और कुछ ही धक्कों में वो झड़ चुकी थी।वो एकदम निढाल ही गई पर मैं धक्के लगाता रहा तो उसमें फिर से मानो जान आ गई और वो दुबारा गरम हो गई. तो मैंने देखा कि उसकी मांग तो भरी हुई है।मुझे थोड़ा सा दुख हुआ।कमैं कंप्यूटर ठीक करने में लग गया, वो मेरे पास ही थी. मैं भी उसके साथ सोने की प्लानिंग में लग गया।मैंने मौसी को बोला कि मौसी मुझे बहुत गर्मी लग रही है मेरा नीचे सोने का मन नहीं कर रहा है.

जिसकी वजह से मेरा लण्ड बार-बार फिसल रहा था।लेकिन फिर जूही ने अपने हाथ से मेरे लण्ड को अपनी चूत पर सैट किया और धक्का लगाने को कहा। मैंने भी एक जोरदार धक्का उसकी चूत पर लगा दिया. तुमने आज मुझको एक साथ इतना सुख दिया।मैं- जान हम दोनों ने एक-दूसरे को सुख दिया है।मैंने टाइम देखा, अभी 3 बज रहे थे मेरे पास अभी और वक़्त था कि मैं उसको एक बार और चोद सकता था। मैंने टिश्यू पेपर से उसकी चूत और लण्ड को साफ किया और उसके जिस्म को सहलाने लगा।ममता- हटो, मुझे टॉयलेट जाना है.

जो होना था वो तो होना ही था। मैंने काफी डरने के बाद उसके गाल पर एक चुम्बन किया।आह्ह.

और उसके होंठों को खाने लगा।मेरे दोनों हाथ उसके चूचों से खेल रहे थे, उसके अंगूरों को मसल रहे थे। मैं थोड़ा नीचे होकर उसके चूचों को पीने लगा उसके मम्मों के ऊपर पानी ऊपर से गिरता हुआ. योनि के बीएफमगर उसकी ज़ुबान लड़खड़ा रही थी। पायल का भी कुछ-कुछ यही हाल था।पायल- भाई अपने ये क्या कर दिया. हिंदी बीएफ पिक्चर देखनाइतना सुनते ही आयशा बोली- प्रियंका ये क्या बकवास कर रही है तू?प्रियंका उठी और आयशा के गले से स्टॉल निकाल कर बिस्तर में फेंकते हुए उसके बड़े मम्मों के निप्पलों पर. और वो खुद ऊपर के हिस्से में रहती थी।उसके फोन पर बात करते समय मैं उसके पैरों पर अधलेटा सा हो गया। वो फोन पर लगभग 30 मिनट तक बात करती रही। मैं धीरे-धीरे उसकी जाँघों को सहलाने लगा.

कहते हुए मैं उठने लगा तो मेरी नज़र उनके अंडरवियर के मूतने वाले कट पर पड़ी तो देखा कि मेरे होंठों के अहसास से उनके लंड में हल्का सा तनाव आ गया है और वो 6 इंच का लंड गीले अंडरवियर में लटका हुआ है।भैया बोले- ठीक है, तौलिया मुझे दे दे और बिस्तर पर मेरा अंडरवियर रखा होगा वो भी ला दे ज़रा.

जैसे लण्ड को अन्दर महसूस कर रही हों।कुछ पलों बाद बुआ मेरे ऊपर कूदने लगीं. तो वो जल्दी से घोड़ी बन गईं।मैंने देखा कि उनकी चूत बिल्कुल लाल हो गई है. पर तुझे भी अपने कपड़े उतारने पड़ेंगे।कुछ सोचने के बाद वो राजी हो गई।हम दोनों ने कपड़े उतारे और एक-दूसरे के जिस्म के दीदार किए।वो मेरा टाइट लौड़ा देख कर बोली- तेरा तो बहुत बड़ा है.

ताकि रात को मैं अकेले में ये देख सकूँ।आज मैं पहली बार काजल की गाण्ड इतने करीब और अच्छे से देख रहा था. जो 10 मिनट तक चला।उसके बाद मैंने जूही को गोद में उठाया और उसके इशारे के साथ-साथ चलने लगा. मैं कुछ समझी नहीं क्या करना है उसका?पुनीत- अरे मैंने तुम्हें बताया था ना.

सनी लियोन बीएफ वीडियो वीडियो

सो हम लोग ये सब सहन कर गए।इस तरह हम दोनों जेल जाने से बच गए और हम एग्जाम देकर खुशी-खुशी अपने कमरे पर लौट आए।आप सब अपने ईमेल जरूर लिख भेजिए।[emailprotected]. पाठको, आपने अभी तक पढ़ा कि मैं अपने पति के साथ उनकी विकृत मानसिक स्थिति का इलाज करने के लिए एक डॉक्टर की राय मान कर सेक्स का एक तरीका ‘ब्रूटल सेक्स’ का प्रयोग कर रही थी और उसी क्रम में मैं आज रात उनके साथ पेश आ रही थी।अब आगे. फिर भी मैं 20 मिनट तक मैडम को चोदता रहा।इसी बीच मैडम दो बार पानी निकाल चुकी थीं। हम दोनों हाँफने लगे। थोड़ी देर बाद हम नॉर्मल हो गए।मैडम बाथरूम में चली गईं, फिर थोड़ी देर बाद मैं भी बाथरूम हो कर आया।जब तक मैं बाथरूम में था मैडम ने हम दोनों के लिए कॉफी बनाई।मैडम- आज लाइफ में पहली बार सेक्स करते समय इतना मजा आया कि मेरे पास बताने के लिए शब्द नहीं है.

तो उन्होंने मौका देख रसोई में मुझे पकड़ लिया और अपना लौड़ा पजामे से निकाल मुझे पकड़ा दिया। मेरे हाथ का स्पर्श पाते ही उनका लौड़ा तन गया। इससे पहले कि मैं कुछ बोल पाती.

और फिर हम दोनों वो फिल्म एक साथ देखने लगे।फिल्म से उत्तेजना बढ़ने लगी और उसने अपना हाथ मेरे मम्मों पर रख दिया और दबाने लगा, मैंने भी उससे कुछ नहीं कहा।फिर उसने अपना हाथ मेरी टी-शर्ट के अन्दर डाल कर ब्रा के अन्दर डाल दिया और दबाने लगा।वो बोला- बाबू तुम्हारे मम्मे तो बहुत मुलायम हैं।मैंने उसका कुछ रिप्लाई नहीं किया.

वो मेरी आँखों में प्यार से देखते हुए बिना कुछ बोले पी गई।बोली- आज सिर्फ़ तुम्हारा पिया. क्या मेरी चूत से ज्यादा गाण्ड आपको अच्छी लगती है?मैंने कहा- नहीं भाभी. सेक्सी साउथ बीएफशादी के बाद में उससे कम ही मिल पाती हूँ। अब पहली बार वो मेरी ससुराल में आ रहा था।मैंने अपने सास-ससुर को बताया.

और अपने लण्ड के ऊपर जीन्स के ऊपर से ही रख दिया। वो भी अब उसको मस्ती से दबाने लगी।फिर मैंने उसकी चूत में दूसरी उंगली डाली. ’‘ठीक है पर ध्यान से टीवी बंद करके सो जाना… कभी पिछली बार की तरह टीवी खुला ही छोड़ कर सो जाओ!’‘आप चिंता ना करो. अपना वजन रोकने के लिए मैंने पेड़ को पीछे से पकड़ा जिससे मेरी बाहों ने उसको घेर लिया और उसकी बाहें मेरी कमर पर थीं.

तो बातों-बातों में पूजा ने मुझसे पूछा- और बताओ क्या ख्वाहिश है तुम्हारी?मैंने पूजा से कहा- जान मुझे एक बार एक भाभी या आंटी के साथ सेक्स करना है. तो मैंने सोनी को सीधा किया और उसको अपनी बाँहों में ले लिया।अब सोनी के चूचे मेरी छाती से लगे हुए थे और मेरा लण्ड उसकी चूत से लग रहा था, ऊपर से पानी की बूँदें गिर रही थीं.

शायद इसलिए ताकि विलास को उसकी चूचियों के साथ खेलने में दिक्कत न हो।मैंने उसकी तरफ देखा तो मेरी तरफ से उसका दुपट्टा थोड़ा खिसक गया था, उसकी भरी-भरी चूचियाँ और उस पर रेंगता तुम्हारा हाथ बहुत सेक्सी लग रहा था।मेरे ऊपर जैसे एक जूनून सा छा गया.

फिर लण्ड का सुपाड़ा अपने मुँह में ले लिया।मैंने उसके सर को हल्का सा दबाया. इतने से लौड़े लेकर मेरे पास आए हो, इससे बड़े-बड़े तो मैंने चूस कर फेंक दिए हैं. मैं उसकी भावनाओं को समझता हूँ लेकिन शरीर की मांग के सामने खुद को विवश पाता हूँ.

बीएफ अच्छी वाली बीएफ लेकिन थोड़ी देर में उसका आधे से ज्यादा लण्ड मेरी चूत को चीरता हुआ घुस चुका था।उसने मेरी टी-शर्ट ऊपर की और मेरी ब्रा उतार दी। मुझे लगा आज अगर किसी ने मुझे इस हालत में देख लिया तो गजब हो जाएगा। मैं डर रही थी. मैंने और ज़ोर लगाया तो आधा लण्ड उसकी चूत में घुस गया था।वो एकदम ज़ोर से चीखी- बाहर निकालो.

पर अभी मैं पुणे में इंजीनीयरिंग कर रहा हूँ। अभी मैं 21 साल का हूँ।मैं एक मराठी मानुस. पर तभी उसने रज़ाई से बस अपनी हथेली निकाली और फोल्डिंग पलंग के ऊपर हल्के से पटकी। मैंने ध्यान दिया तो ऐसा लगा मानो वो मेरा हाथ माँग रही हो।थोड़ी देर बाद मैंने सोचा कि रिया शायद भांग के नशे में ऐसा कर रही थी।मैंने मम्मी को फिर से देखा और लेट कर अपना हाथ उसकी हथेली में रख दिया। उसने मेरे हाथ को अन्दर रज़ाई में खींचा और सीधे अपने मम्मों पर ले गई।मैं जब इस बार उसके मम्मों को दबाने लगा. हम 69 करते हैं। मुझे भी अपना लौड़ा चुसवाने का मन हो रहा था।वो थोड़ा पीछे हो कर दीवान पर लेट गई और मैं उसके ऊपर अपने लण्ड को उसके मुँह में डालते हुए उसकी चूत की तरफ अपना मुँह ले जाता हुआ लेट गया।अब वो मेरा लण्ड तेज से चूसने लगी.

कुत्ता वाला बीएफ पिक्चर

पर अब उसके मम्मे फूल जाने के कारण हाथ नहीं डाल पा रहा था।तभी वो मेरे सामने रज़ाई से बाहर आकर अपना कुरता गले से ऊपर करके निकालने लगी. उसके आगे जाने की मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी।फिर सोचा कि क्यों ना मैं ऐसे ही सो जाऊँ. जो किसी बात का बुरा नहीं मानती थी।बातों-बातों में मैंने उसको बोला- तुम्हारा बॉयफ्रेंड तो तुमसे बहुत परेशान रहता होगा?नीलोफर ने थोड़ा सा गम्भीर होकर बोला- हाँ.

बस उसके बाद मैंने देखा तो दोनों एक-दूसरे के ऊपर पड़े हुए थे।इधर दीपक मेरी चूचियों पर लगा हुआ था. मैं भी बड़े मज़े से और पूरा मन लगा कर उसके मम्मों को दबाने लगा था।तभी अचानक मैंने उसके पेट को देखा तो वहाँ पेट के बीच में नाभि को देख कर छूने को मन ललचाने लगा था।तभी मुझे उसकी योनि को देखने की याद आई। मैंने एक हाथ से उसके पेट के ऊपर से हाथ फिराते हुए उसकी सलवार की डोर खोलने लगा.

तो मैंने उसे नीचे लेटाया और उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और जोर लगा कर उसके पैरों को पूरा फैला दिया।मैंने अपना लंड उसकी चूत पर रखकर जैसे ही झटका लगाया.

वहाँ निकाल दो।मैंने उसे नीचे लिटा दिया और उसके ऊपर आकर अपनी स्पीड बढ़ा दी और जब छूटने ही वाला था. मैं उन्हें धीरे-धीरे अपनी उंगलियों से सहला रहा था और दूसरे हाथ से उसकी जाँघों को सहला रहा था।थोड़ी ही देर में वो अपनी टाँगों को मेरी टाँगों से रगड़ने लगी और ‘इस्स्स्स. लेकिन ये ख़ुशी और संतोष के आंसू थे।अब मैं प्यार से धीरे-धीरे धक्के लगाने लगा, पूनम को अब मजा आ रहा था और वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी।मैं जोर-जोर से धक्के लगाता और पूनम अपनी गाण्ड उठा-उठा कर सहयोग देती।ठीक-ठीक टाइम तो नहीं पता लेकिन फिर भी काफ़ी देर तक तो मैं उसकी चूत में लंड से वार करता रहा, फिर हम दोनों थोड़े ढीले पड़ गए.

जिसका जिस्म देख कर कोई भी लण्ड बग़ावत किए बिना बाज़ नहीं आएगा।सोनाली की कमनीय काया क़रीब 38-30-36 की होगी. उनके अंडरवियर से गिरते पानी के नीचे मुंह लगाकर पीने को मन कर रहा था और बार बार मुंह में पानी आ रहा था।फिर मेरी नज़र पास ही फर्श पर रखे साबुन पर गई, हवस में डूबे दिमाग ने काम किया और मैं जान-बूझकर पैर साबुन पर रखते हुए फिसलकर घुटनों के बल उनके पैरों में जा गिरा और उनकी कमर को पकड़ते हुए मुंह सीधा उनके भीगे अंडरवियर में बने उभार पर जा लगा. सो मेरे बारे में ईमेल करके सीधे मुझसे पूछ सकते हैं।मैं इस साइट पर कम आ पाता हूँ.

सिनेमा हाल से बाहर आने पर पूनम ने यह सब भांप लिया ओर झट से मेरे और उन लड़कियों के बीच में आ गई ताकि किसी भी लड़की का कोई भी अंग मुझ से ना छुए.

जिम करने वाली लड़कियों की बीएफ: मैं चूत में उंगली भी करने लगा।इससे वो एकदम से गनगना उठीं और बोलीं- मुझे भी चॉकलेटी लंड का टेस्ट करना है।मैंने तुरंत ही अपने लंड पर खूब ज़्यादा चॉकलेट लगा दी और उनके मुँह की तरफ लौड़े को बढ़ा दिया।वो पहले जीभ से सुपारा चाटती रहीं. उसके लौड़े की ऊपरी चमड़ी कटी हुई थी और टोपा थोड़ा ही कवर कर पाती थी।मैंने झुक कर उसके लंड को चूमा.

मैं लेकर नहीं आऊंगा खाकर ही आता हूँ ओके।मैं नीचे मौसी के पास गया और बोला- मुझे जल्दी से खाना दे दीजिये।मैंने थोड़ा सा खाना खाया और फिर जल्दी से ऊपर प्रीत के पास आ गया।प्रीत और नेहा दोनों ही खाने का वेट कर रही थीं. क्योंकि उसको तो वहाँ पर मुनिया को लेकर जाना था ना।पायल के दिल में अब भी थोड़ा डर था कि अगर पुनीत हार गया तो क्या होगा? बस वो रास्ते में यही सब सोचती जा रही थी। उधर सन्नी और अर्जुन कुछ खाने-पीने का सामान लेकर मंज़िल की ओर चल पड़े थे।दोस्तों अब रास्ते का हाल आपको क्या बताऊँ. सो धीरे-धीरे रिचा ने उसको अपने ऊपर ले लिया और उसका ब्वॉय फ्रेंड भी उसके ऊपर चढ़कर उसके मम्मों को चूसने लगा। हमारी तो हालत खराब हो रही थी तो यहाँ हम भी स्टार्ट हो गए।मैंने अन्दर देखा कि रिचा की आवाज़ आई- उह्ह.

बस सोनी की चुदाई करने में लगा हुआ था। अब मैंने उसके दोनों हाथों से उसके चूतड़ों को पकड़ लिए और जोर-जोर से चुदाई करने लगा।हम दोनों की आवाजें कमरे में गूंज रही थीं। दसेक मिनट इस पोज़ में चुदाई की तो सोनी बोली- यश मेरा फिर से आने वाला है।।मैंने भी अपनी स्पीड फुल कर दी। सोनी की जो धकापेल चुदाई हो रही थी.

अब जल्दी अन्दर डालो।उसने अपना 6 इन्च का मोटा लंड मेरी कोमल सी गांड में डाल दिया, मुझ बहुत दर्द हुआ. और साथ में लौंडिया भी और हमें उल्लू बना के जाना चावे है।रतन सिंग- साब जी मन्ने तो झोल लगे सै. अच्छा करती हो।मैंने नाश्ता खत्म किया और तभी मामी का बेटा मुझसे बोला- भैया मुझे घुमाने ले चलो.