से बीएफ सेक्सी

छवि स्रोत,चोदा चोदी वीडियो देखना है

तस्वीर का शीर्षक ,

साल की लड़की की बीएफ: से बीएफ सेक्सी, नीचे उसने टाइट पजामी पहनी हुई थी, जिसमें उसकी पैंटी साफ दिख रही थी.

सेक्सी कैसे होता है

शेखर को लगा मानो उसके लंड का पूरा लावा उछाल मार के बाहर निकल जाएगा. सोनाक्षी क्सक्सक्सकरीब ग्यारह बजे मैंने जब मोबाइल चैक किया तो दोनों ही कमरे में नहीं थे.

मैंने साउंड सिस्टम में अच्छा सा गाना शुरू किया और रूपा को नंगी नाचने के लिए कहा. बियप विडियोसाबिरा के फूले हुए 36 इंच के चूचे देख कर मेरा लौड़ा भी बग़ावत करने लगा था.

उसने मेरी तरफ अपनी चूत हिलाई और बोली- कैसी लगी?मैंने कहा- तू तो एकदम हॉट माल है.से बीएफ सेक्सी: दोस्तो, ये मेरी सच्ची सेक्स कहानी है, हॉट साली चुदाई में उसकी गांड में लंड कैसे पेला, इसे विस्तार से लिखूंगा.

मैंने उसको मेरा लंड चूसने क लिए बोला पर उसने मना कर दिया और हाथ से ही मेरे लंड की मुठ मारने लगी.आज बारिश की वजह से यहां काफी सन्नाटा भी था जिससे हमको किसी ने भी नहीं देखा.

सोनाक्षी सिन्हा पोर्न - से बीएफ सेक्सी

उसकी ब्रा का साइज लगभग 40 होगा क्योंकि उसके दूध तो एकदम ब्रा फाड़ने को तैयार थे.दोस्तो, उम्मीद करता हूँ कि मेरी ये न्यू गांड की चुदाई आपको पसंद आएगी और आप लोग भी कहानी का मजा लेते हुए अपने आप को संतुष्ट करेंगे.

फिर उसने कहा- तुम तो बोल रहे थे कि कभी सेक्स नहीं किया, पर माहिर खिलाड़ी लग रहे हो. से बीएफ सेक्सी रात को मैं अंडरवियर पहन कर नहीं सोता हूँ तो मेरा लंड खुली हवा में फनफनाने लगा.

हम दोनों सीधे होकर बिस्तर पर लेट गए और धीरे धीरे एक-दूसरे को चूमने लगे.

से बीएफ सेक्सी?

नीता चिहुंकने लगी और बोली- ओह हर्षद अब और मत तड़पाओ मुझे … जल्दी से चोद दो मुझे और मेरी चूत की प्यास बुझा दो. और मैं यह सोचकर आगबबूला हो उठा था।मेरे पास चैट्स थी लेकिन उसको दिमाग से निकालने के लिए मैंने न जाने कितनी पोर्न साइट्स देख डालीं।पोर्न देखने से कोई फायदा नहीं हुआ। ऐसे ही करते-करते मैं अन्तर्वासना3. थोड़ी देर बात करने के बाद मैंने उससे उसका व्हाट्सएप नंबर मांग लिया और उसने झट से दे भी दिया.

करीब पांच मिनट बाद उसकी बुर पानी से लबालब भर गई और मेरा लंड आराम से अन्दर बाहर होने लगा. भाभी हंस दीं और मुझे चूम कर मेरे मुँह के ऊपर भैंस की तरह खड़ी हो गईं और पेशाब करने लगीं. मैंने सरिता को चूमते हुए उसकी गांड को सहलाकर कहा- अगर तुम्हारी यही तमन्ना है, तो तुम जरूर प्रेग्नेंट हो जाओगी सरिता!सरिता ने मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में दबाया और जोर से मसलती हुई बोली- अब छोड़ दो मुझे हर्षद!वो मेरी बांहों से अलग हो गयी और उसने अपनी पैंटी पहन ली, साड़ी ठीक करके वो नीचे चली गयी.

उन दोनों ने अपने एक एक हाथ से मेरी दोनों जांघें सहलाना शुरू कर दिया. फिर मैंने अपने कुछ लफ़ंडर दोस्तों से लॉज और होटलों के बारे में पूछताछ की, जो अपनी अपनी माशूकाओं को लेकर लॉज या होटल में जाया करते थे. ’फिर मैंने अपने लंड का टोपा उसकी चूत में डाल दिया और उसके ऊपर लेट गया.

उस समय बाल्टी में पानी भर रहा था और मैं नहाने के लिए अपने कपड़ों को खोल रही थी. एक तरफ से पाटिल जी के लौड़े की मार और दूसरी तरफ किरण का यूँ उसकी चूत के दाने को चूसना, रेशमा सहन नहीं कर पा रही थी.

इधर मैंने भी उसका मुँह दबा कर रखा था, मगर तब भी वो ऐसे चीखी कि पूरे होटल वालों ने उसकी चीख सुन ही ली होगी- या अम्मी जीईई मालिक!तेज पुकार लगाते हुए रेशमा का बदन अकड़ने लगा.

फिर अपनी ज़ुबान को एकदम से सीधा और कड़ा करते हुए उसने धारा के चूत के असली छेद में अंदर बाहर करना शुरू कर दिया जैसे लंड को अंदर बाहर कर रहा हो!शेखर की इस हरकत ने धारा के सब्र का बांध तोड़ दिया.

वो निरंतर अपनी जुबान को अन्दर बाहर करने लगी और मेरी चूत को जोर जोर से चाटने लगी. या जब मुझे घर पर मौका मिलता है तो मैं उसे बुला लेती हूँ और वो मेरी फुद्दी लेने मेरे घर चला आता है. मैंने तुरंत अपना लंड भाभी की गांड से निकाला और दोनों के मुँह की तरफ कर दिया.

मेरे घर पर मैं और मेरा नौकर गोपू ही है, मेरी बेटी कभी कभी ही घर आती है. नमस्कार दोस्तो, मैं कोमल मिश्रा अपनी सेक्स कहानी में आप सभी का स्वागत करती हूं. हम दोनों ने एक दूसरे को अपनी बांहों में कस लिया और थककर निढाल होकर एक दूसरे की बांहों में समा गए.

इसके साथ ही रीना ने फिर से मेरा लंड मसलना शुरू कर दिया और चूसना शुरू कर दिया.

’मैं उसकी हचक कर चुदाई कर रहा था और उसके मम्मों को दबा दबा कर चूस रहा था. रेशमा की नंगी चूत देख कर मुझसे अपने आपको रोका नहीं गया, मैंने बाथरूम में ही लगे टब पर रेशमा को नंगी बिठाया और उसकी चिकनी चूत किसी कुत्ते की तरह चूसने लगा. जब कभी भी मेरे पति मेरे निप्पल चूसते थे तो मैं बेकाबू हो जाती थी।आज भी वैसा ही कुछ हुआ.

उसे नहीं पता था कि धारा कितनी देर उसके पैरों पर यूँ ही सिहरन देती रहेगी. अब मेघना के मुँह की तरफ बॉस का लंड था और बॉस के मुँह की तरफ मेघना की चूत थी. हम सब काफी उत्साहित थे और हमने भिवानी रोहतक हाइवे पर एक रिसॉर्ट बुक कराया था.

उसने मेरे सिक्स पैक एब्स को अपने हाथों से छूकर अपने लिए एक मस्त मर्द को महसूस किया और गु गु करने लगी.

उसी सेक्स कहानी को मैं आगे लिख रहा हूँ, लुत्फ़ लीजिए नंगी सेक्सी लड़की की कहानी का. कुछ देर बाद मैंने ललिता भाभी को घोड़ी बनाया और पीछे से लौड़ा पेल कर उन्हें चोदने लगा.

से बीएफ सेक्सी जल्दी ही उन दोनों ने मुझे नंगी कर दिया था और मेरे एक एक स्तन को पकड़ कर बड़ी तेज़ी से चूसने और मसलने लगे. भाभी की भी मादक आहें निकलने लगीं- अह अह आहह!मैंने भाभी की चूची पर हाथ लगाया तो मुझे लगा कि भाभी जी ने अपनी ब्रा में कुछ रखा है.

से बीएफ सेक्सी उसकी चूत पर हल्के हल्के बाल थे पर मुझे उससे घंटा फर्क नहीं पड़ने वाला था. साबिरा भी अपने आपको सच में मेरी बीवी मानते हए खुद की गांड पीछे करते हुए मेरे लौड़े से चुदने लगी.

मैं अपने दोनों हाथों में देविका के दोनों स्तन पकड़ कर लंड अन्दर बाहर करने लगा.

हिंदी ब्लू सेक्सी वीडियो दिखाओ

मगर सुमैत्री की चीख निकल गई और वो अपनी पोजीशन से हट कर बेड पर गिर गई. मैंने आगे बढ़ना शुरू किया और उसकी गर्दन पर किस करते हुए उसकी चूचियों को मसलता रहा. पर आप सभी तो जानते ही हैं कि जिस्म की भूख इस तरह नहीं मिटती।मैं दफ्तर के वाशरूम में जाकर दिन में तीन चार बार उंगली करने लगी।मुझे उंगली करने की ऐसी लत लगी कि लंड को अपने दिल और दिमाग से बाहर निकाल फेंका।पर अब उंगली करते करते हाथ थक चले थे.

ये बात 2 साल पुरानी उस समय की है, जब मैं कानपुर में नया-नया आया था. मैंने उसके हाव भाव से भाम्प लिया कि लड़की मेरे साथ वक्त बिताने में नहीं हिचकेगी. नई सेक्स कहानी के साथ उपस्थिति होकर बताऊंगा कि कैसे सोनम भाभी की चूत के रनवे पर लंड एयरलाइन्स का प्लेन लैंड हुआ.

मैं देख ही रहा था कि उसने मुझे टोका- क्या देख रहे हो … कभी लड़की नहीं देखी क्या?मैं शर्मा गया और नीचे देखता हुए धीरे से बोला- हां आपके जैसी तो अब तक नहीं!वो सुन कर बोली- क्या बोले?मैंने आश्चर्य से कहा- कुछ नहीं.

मैंने देविका को अपने और नजदीक खींचकर उसकी चुचियां ब्लाउज के ऊपर से ही रगड़ने लगा. मेरा नौकर गोपू हमारे लिए खाना बना कर अपने घर चला गया था और अब मैं और रूपा फिर से अकेले थे. उनका बेटा अतुल मेरे साथ ही खेलता रहता था और भाभी से भी मेरी अच्छी दोस्ती हो चुकी थी.

कहानी के पिछले भागतुझे देखा तो ऐसा लगामें अभी तक आपने पढ़ा था कि मेरे घर पर अकेला होने की बात जानकर सोनी मुझसे मिलने मेरे घर आ गयी. यह सब देखकर तो मुझे यह लग रहा था कि मैं इसकी चूत में अपना लंड डाल दूं. Xxx विडो चुत गांड कहानी में पढ़ें कि भरी जवानी में विधवा होने पर मुझे सेक्स की जरूरत महसूस होने लगी थी.

मैंने उसे अपनी दोनों बांहों भर लिया और उसे बेतहाशा गर्दन पर चूमने लगा. सामने चाची को देख कर मैंने पूछा- क्या हुआ चाची?उन्होंने कहा- मेरे पैरों में दर्द हो रहा है, थोड़ा तेल लगा कर दबा दोगे?मैंने हां कर दिया.

दोस्तो, ये मेरी पहली कहानी है, तो प्लीज़ मेल करके बताएं कि आपको कैसी लगी मेरी ब्यूटीफुल गर्ल फक़ स्टोरी?[emailprotected]. मुझे समझ नहीं आ रहा कि ये कैसे करना है?मैं उनके पास गया और उनकी कमर से उनको पकड़ कर कसरत समझाने लगा. मैंने काफी देर तक अपनी बहन की चूत चोदी और लंड का माल बाहर गिरा दिया.

मेरी अच्छी खासी छाती और मेरे भरे हुए चूचों के बीच की घाटी और मेरा पूरा नंगा गोरा हाथ और पतली कमर और नाभि और पेट, पीठ का भाग भी खुला था क्योंकि मैंने साड़ी नाभि के बहुत नीचे बांधी थी.

वो ‘आहह आहह और चोद साले फाड़ दो आ आहह आहह फक मी राज आआ हहह …’ करके चिल्ला रही थी और मैं अपनी पूरी रफ्तार से चोदने में लगा हुआ था. उसने मेरे लौड़े को चूत में जल्दी से घुसाया और जोर जोर से अपनी कमर आगे पीछे करते हुए खुद को मेरे लौड़े से चुदवाने लगी. मैं बोला- ये क्या कर रही हो?तो लुच्ची बोली- रात को तुमने सोनी के साथ खेला था ना … वो ही खेल खेलना है.

दोस्तो आज की कहानी ऐसे ही मेरे एक मित्र ने मुझे भेजी है, जिसे मैं आपके समक्ष प्रस्तुत कर रही हूं. मेरा लंड चुदाई के टाइम बहुत सख्त हो जाता है और उसकी नसें उभर कर साफ़ नजर आती हैं.

यही सब सोचते हुए मैं ससुर जी के लंड की तरफ देख रही थी जो कि सिकुड़ गया था और उसका सुपारा बाहर निकला हुआ मेरी तरफ ही था. हग करते ही हम दोनों के जिस्म आपस में जुड़ गए और मेरे लंड ने उसकी गांड पर एक हल्की सी चपत लगा दी. मैं पूरी ताकत से धक्के लगाने लगा और उसे गालियां देने लगा- हां मेरी रंडी, तुझे तो मैं बीच चौक पे चोदूंगा मां की लौड़ी साली कुतिया.

सेक्सी लंबी

ललिता भाभी पूरे जोश में आ गई थी और आहह आहह करके अपनी गांड को तेजी से चला रही थी.

वो एक हाथ से अपने गाल से प्री-कम साफ करती हुई हंसने लगीं और दूसरे हाथ से मेरा लंड सहलाने लगीं. फिर मम्मी ने उसे लेकर ढेर सारी चुम्मियां लीं और पिताजी ने भी उसे नहीं छोड़ा. ऐसा करने से मेघना बुरी तरह से छटपटाने लगी और अपनी कमर को आगे पीछे मटकाने लगी.

चूत के अन्दर लंड को सही से सैट करते हुए उसने मेरी छाती पर अपनी दोनों हथेलियों को रखा और लंडसवारी करते हुए अपनी कमर चलाने लगी. ऊपर से लॅपटॉप की गर्मी … मेरा खुद पे कंट्रोल करना मुश्किल हो रहा था. मोटर कैसे बनती हैएक मिनट बाद ही वो आंखें मसलती हुई जब बाथरूम के पास आई तो मैं अपने लंड को हिला रहा था.

मैं भी तो देखूं कि क्या चीज है तेरे पास!मैंने नंदा को हटाया और रुचिका पर से उठ कर हॉट सेक्सी बेब वन्दना को खींच कर पलंग पर लिटा दिया. दोस्तो, मैं हर्षद मोटे आपको सरिता भाभी की मौसी सास देविका की चूत चुदाई की कहानी सुना रहा था.

बस तुम्हारा यदि मन हो, तो क्या हम दोनों दो दो पैग का मजा ले सकते हैं?वो हंस दी. अञ्जलि के धक्कों से मुझे उसकी चूत के अंतिम छोर तक लंड डालने के लिए ज्यादा बल मिल रहा था. वो बोली- हां, वैसे भी आम चूसने के बाद गुठली को कौन सहेज कर रखता है.

मैं अपने एक हाथ से उसके सर को थपथपाने लगा और दूसरे हाथ से उसकी पीठ सहलाने लगा. मैंने पूनम से पूछा कि तुम तो शादीशुदा हो … ये तुमने कभी बताया क्यों नहीं?पूनम ने कहा- मुझे लगा कि अगर मैं ये बात तुमको पहले बता देती, तो शायद तुम मुझसे बात नहीं करते. अब हमेशा ही जब मैं घर से बाहर रहता हूं या नाइट ड्यूटी पर जाता हूं, तो बॉस और मेघना चुदाई करते हैं और मैं फोन पर उन्हें देखता हूं.

फिर भैया ने पीछे से अपना लंड मेरी बुर में डाल दिया और मुझे ज़ोर-ज़ोर से धक्का देकर चोदने लगे.

मैं अपने दोनों हाथों की बड़ी वाली उंगलियों में थूक लगा कर अपने निप्पल्स पर रगड़ने लगी. उस दिन के बाद हम जब भी मिलते या जब भी हमें मौका मिलता, तब किस के साथ साथ मैं उसके चूचों से भी खेलने लगता.

थोड़ी देर बाथरूम में मुझे चोदने के बाद उसने मुझे कमरे में लाकर बेड पर पटक दिया और ताबड़तोड़ चोदने लगा. फिर जैसे ही मैं उसके ऊपर चढ़ने लगा, तो उसने मुझे रोका और मेरे शॉर्ट्स के ऊपर से मेरे लंड को पकड़ लिया. ये कह कर भाभी ने मेरा हाथ अपने हाथ में ले लिया और बोलीं- मैं वादा करती हूँ कि आज से मैं तुम्हारी जीएफ हूँ.

ताकि जब तुम ना हो तो मैं उसको चूस के उसका रस पी सकूं!मैंने प्रिया को बोला कि वह खुद ही नए बॉयफ्रेंड बना ले ताकि उनका लन्ड चूस सके. मैंने उसे छेड़ते हुई कहा- तू दिखती भी तो ऐसी ही है, मेरी बीवी भी तेरे जैसी ही होगी. सच में भाभी की गर्म जीभ से चाटने पे मेरे लंड में लोहे के रॉड जैसे सख्ती आ गई।भाभी पूरा लंड अपने हलक तक उतार लेना चाहती थी.

से बीएफ सेक्सी फिर मोहन बाबू ने मुझे बेड पर लिटाया और 69 की पोजीशन में आकर चूत चाटने लगे. अब मॉम ने धीरे से कहा- ये सब तो घर पर भी हो सकता था, यहां क्यों लाए हो.

बिहार का सेक्सी ब्लू वीडियो

उसने होंठ खोलकर मेरा लंड सीधा मुख में ले लिया!लगातार पांच सात मिनट चूसने के बाद उसने मेरे लंड से निकली गर्म गर्म वीर्य की धार अपने मुँह में ले ली।मेरा पानी निकालने के बाद वो उठकर बैठ गयी. दोस्तो, आज भी लच्छो मेरे साथ ही पूर्ण समर्पण के साथ रह रही है और हम दोनों किसी पति पत्नी की तरह ही रहते हैं वो मेरा हर तरह से ख्याल रखती है, चाहे घर हो या बिस्तर. उनकी छाती के घने काले बाल और पूरे शरीर के मर्दाना बाल देखकर मैं जैसे एक मूर्ति की तरह खड़ा ही रह गया.

जैसे औरतों की गांड शादी के बाद चौड़ी हो जाती है, मेरी मौसी की भी गांड काफी चौड़ी हो गई थी. लंड के चारों ओर फिराए जा रहे हंटर की नोक ने अपना कमाल दिखाना शुरू किया और शेखर के मुँह से दबी-दबी गुर्राने की आवाज़ निकलने लगी. हिंदी में नंगी फिल्मेंहम बारात लेकर वेन्यू पर आए और बारात का स्वागत बड़ी गर्मजोशी से किया गया.

इतना बोलने के साथ ही उसने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए और चूसने लगा.

हमारी ऐसी कामुक बातों से रेशमा को भी लगने लगा कि सच में उसे अपने नामर्द शौहर के सामने चुदवाना चाहिए ताकि उसे भी पता चले कि उसकी बीवी को उसकी छोटी सी लुल्ली से संतुष्टि नहीं मिलती. मैंने कहा- मेरे मम्मे कितना गजब माल हैं, जरा बताना तो?इस पर वो बोला- अगर ये मुझे मिल जाएं तो बस …इतना बोल कर वो शांत हो गया.

मैं यही सोचता था कि कब मुझे मौका मिले और मैं अपनी बहन को चोद डालूँ. उसने थोड़ा सा पानी पीकर गिलास मुझे पकड़ा दिया और बाकी बचा पानी मैं पी गया. ऐसे करते हुए मैंने कई बार उसकी बुर में अपनी उंगली का थोड़ा सा भाग डाला और निकाला.

रेशमा का दिमाग इस वक़्त भी बड़े शातिर तरीके से दौड़ रहा था, मानो उसको ही अपनी कुंवारी गांड को फड़वाने की जल्दी थी.

मुरथल पहुंच कर हम दोनों ने सुखदेव ढाबे में खाना खाया और पार्किंग में लगी अपनी गाड़ी में बैठ कर बातें करने लगे. कोई 5 मिनट की किसिंग के बाद मैंने चाची के ब्लाउज के बटन खोल दिए और उनके ब्रा रहित मम्मे मेरे सामने जलवा बिखेरने लगे. भाभी सिस्कारने लगी- आहह … उईईई … कमीने धीरे डाल … चूत फाड़ेगा क्या!मैं बोला- अपने पति से नहीं चुदवाती हो क्या … जो इतना चिल्ला रही है?भाभी बोली- उसका इतना अन्दर तक नहीं जाता.

किन्नर के साथ सेक्सबाक़ी बातें ख़त पढ़ने के बाद!” धारा ने एक साँस में शेखर से कहा और धीरे से उसे बाहर जाने का इशारा किया. मैं दोनों हाथों से उसके बड़े बड़े चूतड़ों को थाम कर उसे अपने लंड पर उछालने लगा.

मारवाड़ी औरत की सेक्सी वीडियो

मैं पीछे से धक्के दे रहा था तो साबिरा का मुँह अपने आप उसके भाईजान की लुल्ली पर दब रहा था. मैं और जोश में आकर जल्दी जल्दी झटके लगाने लगा और भाभी की दोनों चूचियों को बारी बारी से चूसने मसलने लगा. चूत के पानी की मदद से मेरा लंड लौड़ा अब साबिरा की फुद्दी की तंग दीवारों से रगड़ने लगा और पहली बार चुदाई का मजा लेती साबिरा की चूत ने भी अब खुलना चालू कर दिया.

वो भी उसी क्लास में अपनी कुर्सी पर कान में लीड लगा कर बैठ गए और मैं उन्हीं के सामने वाली सिलाई मशीन में कपड़ा सिलने बैठ गयी. एक कॉन्डम का रैपर को अपने दांतों से फाड़ा ही था कि तभी अञ्जलि ने मेरे हाथ से कंडोम ले लिया और लंड चूसने लगी. मैं बोली- यहां कहां जाकर अपने कपड़े बदलूँ?भैया ने बताया- तुम सुजय सर के केबिन में जाकर बदल लो.

अब आंटी को भी Xxx फ्री सेक्स का मज़ा आने लगा और वो मेरी पीठ को सहलाने लगीं. भाभी- क्या हुआ, क्या आपका बाबू कुछ कह रहा है?मैंने अपने लंड पर हाथ फेरा और भाभी की तरफ वासना से देख कर कहा- आप खुद पूछ लीजिए न भाभी जी!भाभी जी मेरे हाथ को लंड पर फिरते देखा और बोलीं- अच्छा जी, मैं देख तो लूं, पर यहां खुले में कैसे?मैं- अरे इसमें क्या दिक्कत है आपका मन हो तो एकांत भी मिल जाएगा. अब जो लड़का फ्री था, उसने प्रिया के बोबे मसल ने शुरू कर दिए और प्रिया की चूत में अपना लन्ड डालने लगा.

इस तरह से मैंने भी मिहिरा की हाँ में हाँ मिलाई तो वो भी खुश हो गयी. कितनी लड़कियों, भाभियों ने, अञ्जलि और मेरी कहानी में अञ्जलि की जगह खुद को आमोद के साथ महसूस करके चुदाई युद्ध करते हुए कितनी बार चूत को उंगली से चोदा?कितने लड़कों ने अञ्जलि के साथ खुद को फील करके अञ्जलि को चोदते हुए कितनी बार मुठ मारी.

ये बात मैंने भी बहुत बार पढ़ ली थी, पर मेरे पास तेल तो नहीं था तो मैंने रेशमा से ही पूछ लिया.

वहां मेरे भाई ने रुक कर मुझसे पूछा- तुम ससुराल क्यों जा रही हो?मैंने कहा- भाई रात की चुदाई से मैं गर्भवती हो सकती हूँ, तो मुझे ससुराल जा कर आपके जीजा जी से चुद कर ये पक्का करना है कि मैं उनसे ही गर्भवती हुई हूँ. महिला के साथ सेक्सउन सभी ने किस तरह से मुझे चोदा, उसका विवरण मैं अपनी देसी चूत सेक्स कहानी के अगले कुछ भागों में लिखूंगी. दिल्ली सेक्सी दिल्ली सेक्सीसबसे पहले उन्होंने मेरी साड़ी निकालनी शुरू की और जल्द ही मेरी साड़ी निकल गई।इसके बाद जैसे ही उन्होंने मेरे ब्लाउज का बटन खोलना शुरू किया. अब ससुर जी ने अपने नीचे लगाए हुए हाथ की एक उंगली मेरी चूत में डाल दिया.

गॉक-गॉक की आवाजें निकालती हुई किसी मंजी हुई रंडी की तरह शिराज की बहन मेरे लौड़े से अपना मुँह चुदवाती रही.

मैं समझ गया और मैंने उसे चूमते हुए कहा- मेरी डॉल तुझे मेरे साथ मजा आया या बुरा लगा?वो मेरे सीने से चिपकती हुई बोली- आप बहुत मस्त मर्द हैं. दीदी ने उसको देखा और पूछा- तू इससे कब मिली?मैंने बोल दिया- पिछली बार छुट्टियों में जब गांव आई थी, तब मिली थी. अगर आप लोगों का प्यार मिलेगा तो मैं इसके और भी भाग लिखने चाहूंगा जिसमें इस सेक्स कल्चर की कल्पना को आपकी सोच की सीमाओं के पार ले जाऊंगा क्योंकि मैं चाहता हूँ कि इसमें मेरी शादीशुदा बहन को भी शामिल किया जाए.

उस दिन के बाद उन्होंने कल्लू के घर जाना भी बंद कर दिया और सपना और कल्लू भी हमारे घर नहीं आते थे. आसिफ बोला- जा चोद लियो, पर जब भी मेरा मन होगा तुझे चोदने का, तो तुझे लड़की बन कर मुझसे चुदवाना पड़ेगा. मैं आहिस्ता आहिस्ता लंड अन्दर डाल रहा था, हर धक्के के साथ और थोड़ा लंड अन्दर डालता जा रहा था.

सास दामाद की सेक्सी कहानियां

तो गीता अपने दोनों हाथों से मेरा सर अपने स्तन पर दबाने लगी थी- ओह हर्षद और जोर से चूसो … आंह आज पहली बार कोई मर्द मेरे स्तन चूस रहा है … आंह मैं बहुत खुश हूँ. वो भैया को देखने लगीं … शायद उन्हें बहुत दुख हो रहा था क्योंकि भैया ने अपना माल निकालने के बाद भाभी कीखून वाली बुरभी साफ नहीं की. शिराज का सर पकड़ कर मैंने मेरे गोटों पर दबाया तो उसने भी अपनी जुबान बाहर निकाल दी और मेरे दोनों टट्टे चाटने लगा.

तब तक सासु मां किसी रिश्तेदार के घर शाम तक वापस लौटने की कह कर चली गईं.

भाभी ने कहा- अरे यार शर्माओ मत, कोई बात नहीं, इस उम्र में ऐसा होता है.

हिन्दी सेक्स कहानी साईट अन्तर्वासना पर आप सभी पाठकों का मैं राज शर्मा दोनों हाथ जोड़कर नमस्कार करता हूं. मैंने कहा- तुझे अब और क्या चाहिए?कुछ नहीं भैया, बस आपका लंड मेरी चूत में ही रहे दिन रात, आप जब कहोगे, तब आपके लिए मेरी चूत तैयार रहेगी. तेरी मम्मी कीमेरे पति ने मोहन बाबू का नम्बर डायरी में लिख रखा था, जो मुझे मिल गया था.

इस बार भाभी का गोरा बदन और गोरी गोरी चूचियां देख कर रहा नहीं गया और मैंने ताऊ जी के यहां पर ऊपर जाकर भाभी को देखते हुए मुठ मार दी. वो लंड को हल्का हल्का काटने भी लगीं और अपने मुँह के थूक से उसको रसीला करने लगीं. जब हमने एक दूसरे को देखा तो मैं तो हैरान हो गया क्योंकि पूनम साड़ी पहनी हुई थी.

मैं अक्सर वहीं आकर बैठ जाती हूँ और आते जाते लोगों को व चहल-पहल को देखती रहती हूं. वो नीचे की तरफ सीढ़ियों पर खड़ी होकर एक से दस तक गिनने लगी और हम सब छुपने लगे.

मैंने उससे कहा- हम दोनों बचपन के दोस्त हैं और दोस्तों में सीक्रेट आउट नहीं होते.

अन्दर दोनों (रोहन और मेरा भाई) पूरे नंगे होकर मेरे आने का इंतजार कर रहे थे. बारी बारी से दोनों गोटों पर जीभ से चाट कर उन्हें सनसनी का अहसास दिलाती. रेशमा इस वार को बर्दाश्त नहीं कर सकी और उसने भी गालियां निकालना शुरू कर दीं.

इंडियनसेकस पर साला था तो गांडू नामर्द, कब तक टिक पाता साबिरा जैसे खूबसूरत लड़की के मुँह में?मुश्किल से दस बीस झटके दिए होंगे और मादरचोद अपनी बहन के मुँह में झड़ गया. ये शार्ट टीशर्ट थी, जिससे मेरा पूरा पेट खुला था और मेरे स्तन के बीच की काफी गहरी घाटी भी साफ नजर आ रही थी.

’‘क्यों क्या हुआ?’‘ऐसे में तो बहुत अन्दर तक घुस रहा है आआह …’‘कुछ नहीं … बस तू मजे ले. वो भी अपने दांतों से बचाते हुए मेरे लंड को दबाने की कोशिश करने लगी. अभी तक की सेक्स कहानीकुंवारी लड़की की बुर की सील खोलीमें आपने पढ़ा था कि किस तरह से मैंने एक कमसिन जवान लड़की रूपा को अपने घर पर बुलाया और अपनी कुंवारी लड़की को चोदने की इच्छा को पूरा किया.

अथवा सेक्सी

मैं खाली बर्तन लेकर नीचे गया और उसके लड़के को आवाज देकर बर्तन दे दिए. यह फार्म हाउस विलेज़ सेक्स वाली बात उस समय की है, जब मैं बीस साल का था. मनप्रीत जी ने लिफ्ट का भी कहा, पर मैं लड़कियों की तरह घूमने वाली फीलिंग को और जीना ज्यादा चाहती थी, इसलिए सीढ़ियों से गई.

सुमैत्री आहें भरने लगी और बोली- प्लीज़ थोड़ा रुक जाओ … लंड को अन्दर ही रहने दो, झटके मत मारो. मैंने भी अपना लंड उसकी गांड के सुराख पर लगाया और जोर देते हुए अन्दर डालने लगा.

मेरी जान तू बस मुझे करने दे … तेरा पीछे वाला छेद भी तुझे मजा देने लगेगा.

धीरे धीरे उसको चूमते हुए मैंने उसका ड्रेस नीचे की तरफ खींचना चालू कर दिया. फिर उसकी आंखों में जोरदार प्यास देख कर उसकी गर्दन पकड़ी और उसके होंठों को अपने होंठों में दबोच कर चूसने लगा. इसके बाद मैंने भाभी की दोनों टांगों को फैला दिया और उनके दोनों चूतड़ों की खाई को सहलाने लगा.

आज मेरी लाइफ का ये फर्स्ट टाइम था जब मैं किसी की जुबान को चूस रही थी. आंटी की चूत चोदते हुए मुझे ऐसा लग रहा था, जैसे मैं किसी 18 साल की लड़की को चोद रहा हूं. अचानक से अंडरवियर को नीचे खींचने से लंड झटके से बाहर निकल कर फुंफकार मारने लगा.

दोस्तो, आज की कहानी भी उसी की एक कड़ी और रिश्तों में चुदाई की एक सच्ची और रोमांचक सेक्स कहानी है.

से बीएफ सेक्सी: यह कहानी मेरे सच्चे प्यार की है जिसे पाने के लिए मुझे वो सब करना पड़ा जो शायद कोई भी लड़का नहीं कर सकता. फिर मेकअप भी उतार दिया और बालों की विग और नकली नाखून और नेलपॉलिश भी उतार दी.

मेरा लंड खुली चूत में आराम से अन्दर चला गया और वो आहह आहह करके उछलने लगी. मेरे कमरे में सिर्फ़ तेल और वैसलीन थी तो मैंने वसलीन ली और उसको घोड़ी बनने बोला. वो पूरी तरह तड़प रही थी और बोल रही थी- प्रेम जल्दी से अपना अंदर डाल दो, अब नहीं रहा जा रहा!मैंने उसको बेड पे अड्जस्ट किया और धीरे धीरे अपना लंड उसकी चूत में डालने लगा.

अम्मी और अब्बू नौकरी करते हैं और घर पर हम दोनों भाई बहन ही रहते हैं.

मैंने फातिमा के बारे में सोचा और बिना कुछ बोले उसके साथ बाइक पर बैठ गया. मैंने आंटी को बिस्तर पर लिटा दिया और चूचियों को बारी बारी से चूसने लगा. वो हंसने लगीं और बोलीं- सोच ले?मैंने कहा- हां सोच लिया, आप जो बोलोगी करूंगा.