राजस्थानी चुदाई बीएफ

छवि स्रोत,सेक्सी भोजपुरी हिंदी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स वीडियो गांव की: राजस्थानी चुदाई बीएफ, एक दृश्य में लड़का ठरक से पिज़्ज़ा में बने छेद को देख कर उत्तेजित हो कर उसी छेद में लंड डाल कर पिज़्ज़ा को चोदता है.

बांग्लादेश का बीएफ

मैंने लण्ड पर क्रीम लगाई और उसकी चूत के लब खोलकर लण्ड का सुपारा रखकर दबाया तो सुपारा टप्प से आन्दर हो गया. वीडियो सेक्सी ब्लू पिक्चर हिंदीमैं निहारिका से बात करने के बहाने बैठी, तो जानबूझ कर विक्की के लंड पर हाथ रख दिया … और लंड को थोड़ा दबा भी दिया.

सही में … मोनी की चूत बिल्कुल सपाट थी।उसकी चूत ऊपर से तो सपाट थी ही, चूत की फाँकें भी इतनी ज्यादा बड़ी और फैली हुई नहीं थी. बीएफ एचडी बीएफ हिंदी मेंअगले सुबह प्लान के मुताबिक जब विकी पानी लेने आया, तब बातों बातों में उसने मेरी सास से कहा कि वो एक काम से बाहर जा रहा है.

मामी बोलीं- बड़े नाजुक हो यार!मैं मामी के मुँह से यार शब्द सुनकर ज़रा चौंक गया.राजस्थानी चुदाई बीएफ: फिर दिमाग की बत्ती जली और मैंने पूछ लिया- आपको शॉपिंग करने का शौक नहीं है क्या?यह सवाल एक नारी से वार्तालाप शुरू करने के लिए एकदम सटीक था.

इतना कहते कहते अपने दोनों हाथों से उसकी पतली सी नाजुक सी कमर पकड़ी और लण्ड को अन्दर दबाया.उसके बाद उसने कहा- तुम बार की लोकेशन ही सर्च कर रहे थे न? तुम्हें भी बीयर बार जाना है क्या?मैंने कहा- हां इधर बैठ कर क्या करूंगा.

সেক্স সেক্স বিএফ - राजस्थानी चुदाई बीएफ

जैसे तैसे स्कूल की छुट्टी की घंटी बजी, मैं तेज़ तेज़ साइकिल दौड़ाता हुआ घर गया और कपड़े बदल के तुरंत रानी के बंगले की तरफ चल पड़ा.इसके अलावा फिर सुमिना भी तो अपनी मर्जी से ही कुणाल के साथ सेक्स कर रही थी.

काजल की कुछ दिनों की गैरमौजूदगी के अकाल में मेरे प्यार के नए-नए पौधे की पत्तियां सूखने लगी थी. राजस्थानी चुदाई बीएफ आगे निप्पल के पास से दोनों कोने पकड़ कर एक झटके में उसकी ब्रा फाड़ दी.

पर मेरे हाव भाव से वो भी समझ गया था कि अन्दर ही अन्दर मुझे भी चुदवाने की चुल्ल है.

राजस्थानी चुदाई बीएफ?

अब आगे:मैंने अनुषी से कहा कि मुझे पूरी रात तुम्हारे साथ बितानी है, वो भी तुम्हारे घर में … या तुमको समय निकल सकता है, तो किसी होटल में. उसके बाद मैं उससे फिर नहीं मिल पाया क्योंकि मैं पढ़ाई के लिए इंदौर आ गया था. मोनी के पैरों को सहलाने में मुझे मजा सा आ रहा था इसलिये उसके पैरों को सहलाते-सहलाते मैंने अब अपने पैर से धीरे-धीरे उसकी साड़ी व पेटीकोट को ऊपर की तरफ खिसकाना भी शुरू कर दिया.

मेरे इस सवाल का जवाब उसे भी नहीं सूझा। सुमिना तो उसकी सहेली थी ही जिससे वो इन्कार नहीं कर सकती थी. करन ने खुश होकर मेरी साड़ी खींचनी शुरू कर दी और मैं घूमने लगी और मेरी साड़ी पूरी अलग हो गयी।मैंने कहा- काफी अनुभव लगता है साड़ी उतारने का?तो वो हंसने लगा।मैंने कहा- एक जादू देखोगे?और अपने पेटीकोट का नाड़ा खोल के उसे भी नीचे गिरा दिया। अब मैं सिर्फ अपनी सेक्सी लाल ब्रा और पैंटी में खड़ी थी और मेरे आधे चेहरे पर गिरे खुले बाल हल्के हल्के उड़ रहे थे और वो पूरे कपड़ों में था. साथ ही वो बड़बड़ा भी रही थी- उम्म्म … ओह … यस मास्टर … आई लाईक दैट … उम्म्मम … हम्मम … आहह … यस प्लीज मास्टर … वन्स मोर मास्टर ( एक और मेरे मालिक)ऐसा करते हुए वो अपने चूतड़ बड़े कामुक अंदाज में हिलाते हुए दांतों से होंठों काटने लगी.

जून 2014 को मैं और मौसी जिनका नाम पुष्पा है, अपनी नानी के घर ट्रेन से जा रहे थे. मैंने भाभी को बताया, तो वो अपने बेड के गद्दे के नीचे से एक कंडोम निकाल कर मेरे लंड पर लगाने लगी. ताऊ जी भी बुआ की जांघों के बीच में अपनी गांड चला कर उसकी चूत में अच्छी तरह से लंड पेल रहे थे.

मैं फरुखाबाद में कोचिंग ले रहा हूँ और मैंने फरुखाबाद में ही एक कमरा किराये पर लिया हुआ है. राजेन्द्र ने मेरी तरफ देखा तो मैंने बताया कि वनिता का फोन था और वो इधर ही आ रही है.

मैंने उसके चूचों को सीधा मुंह में भर लिया और उसकी गांड को दबाते हुए मैं उसके चूचों को चूसने लगा.

अब जब भी मैं लंच टाइम में बाहर जाता तो वो खूबसूरत लड़की भी एक बार नज़र भर कर मेरी तरफ देख कर नज़र फेर लेती थी.

इस छोटी सी मुलाकात में ही मैंने अपने यार का दीदार कर लिया और मैं खुश हो गई लेकिन मुझे नहीं पता था कि उससे मिलने के रास्ते में मुझे इस तरह से तीन मर्दों के लंड भी मिल जायेंगे. इसलिए पूछ रही थी कि तुम्हारी बीवी को … कि आकर मालिश कर देती।किशोर बोला- मेमसाब अगर आप को बुरा न लगे तो मैं कर सकता हूँ. बाहर मुन्ना भी अकेला है और मैंने अब कपड़े भी पहन लिए हैं।मैंने भी मन में सोचा कि उसकी भी बात ठीक है.

इस बार राधिका को दो पॉइंट्स, दिशा के तीन और सोनल के पास भी तीन पॉइंट्स थे. इसका मतलब वह जागृति थी जो मुझे बाथरूम में लेकर गई थी? अंधेरे का फायदा उठा कर उसने अपनी चूत चुदवा ली मेरे लंड से? मैं उसकी चालाकी पर हैरान था. इसके बाद उन सभी ने मेरे से एक एक करके अपनी चुत चुसवाई और चुत का पानी और अपनी पेशाब भी पिलाई.

उसकी नंगी चिकनी टांगों की तरफ निगाह गई … तो उसने नीचे मिनी स्कर्ट पहन रखी थी.

उनसे मुझे ज्यादा कोई मतलब नहीं था, पर मैं उनके घर उनके छोटे बेटे अवि को खिलाने और हमारा घर का टीवी ख़राब हो जाने के कारण टीवी देखने जाती थी. इंतजार के पलों को खत्म करने के इरादे से मैंने पूछा- तुम्हारी बेटी सो गई क्या?वो बोली- क्यूं, तुम्हें उसके साथ कुछ खेलना है क्या?उसने मेरा मजाक बनाते हुए कहा. एक बात तो ये भी सच है कि आजकल का युवा सेक्स के लिए या सेक्स करते समय इतना उत्तेजित होता है कि वो ये सब सोचने की चेष्टा भी नहीं करता।अब आपका दूसरा प्रश्न हस्तमैथुन से जुड़ा हुआ- जहां तक बात हस्तमैथुन करने की है तो इस क्रिया का आनंद लेने में कतई बुराई नहीं है.

सोनल के चिल्लाने से राधिका उसके पास आ गई और वो दिशा को साइड में करके सोनल को किस करने लगी. धीरे धीरे मेरा पूरा लंड उसके मुँह में समा गया जिस वो अंदर बाहर करके चूसती रही. फिर उसने मेरे कंधों से मुझे पकड़ कर ऊपर उठाते मुझे अपने ऊपर गिरा लिया.

मैं हैरान था कि ताऊ जी इस उम्र में भी एक जवान प्यासी चूत की प्यास इतने अच्छे तरीके से बुझा रहे हैं.

मैंने अपना लोअर नीचे खिसका दिया, उसकी पैन्टी भी खिसका दी और अपने लण्ड का सुपारा उसकी चूत पर रगड़ने लगा. इससे पहले कि रानी के नंगे, इत्र की सुगंध बिखेरते हुए शरीर से लगे बिजली के करंट से मैं होशोहवास में वापिस आता, रानी ने मेरा अंडरवियर और बनियान भी निकाल के फेंक दिए थे.

राजस्थानी चुदाई बीएफ उनकी आँखों में देखा तो वे मुझे अजीब तरीक़े से देख रही थी और मेरी पीठ पर हाथ फेर रही थी. इस तरह से मैंने धीरे-धीरे करके उसकी चूत को आराम से अच्छी तरह फैला दिया.

राजस्थानी चुदाई बीएफ उसको पता था कि मैं कितनी चालाक हूँ, बाहर ध्यान दे सकती हूँ, इसलिए वो मेरे जिस्म के उभार के मजे ले रहा था. नीचे से वह भी अपनी गांड को उकसा कर मेरा साथ देने की पूरी कोशिश कर रही थी.

वसुन्धरा ने जल्दी-जल्दी अपने शरीर से ब्लाउज़ और अंगिया को मुक्त किया और मेरा दायां हाथ उठा कर अपने बाएं उरोज़ पर रख कर मेरे हाथ के ऊपर से ही अपने हाथ द्धारा अपने उरोज़ को दबाने लगी और मेरे धड़ का नीचे का हिस्सा नीचे से साड़ी समेत अपनी दोनों टांगों की कैंची में बाँध लिया.

செக்ஸ் டான்ஸ்

महेश अक्सर ड्रिंक भी करता था और उसने बताया था कि उसकी बीवी भी साथ में ड्रिंक करती है. मगर अभी मुझे 12 बजे का इंतजार करना था ताकि माँ गहरी नींद में सोती रहे. मैं तो देखते ही पागल हो गया था, पर कुछ नहीं कर सकता था, वो प्रेग्नेंट थी.

मामी ने मुझसे लिपटते हुए कहा- मैं तुम्हारे साथ काफी पहले से ये सब करना चाहती थी, पर मैं बदनामी से डरती थी. मैंने ऐसी माल, ऐेसी चुदक्कड़ लड़की अपनी जिंदगी में कभी नहीं देखी थी. जब मैं भी सरिता और नीना की तरह उनसे मज़ा लेने लगूंगी, तो उन दोनों का बाप मेरी चूत भी किसी से चुदवा देंगे.

मैंने मौके का फायदा उठाया और फ़ौरन अपनी जीभ वसुन्धरा के मुंह में डाल दी.

सोनल- आह ओह भाई धीमे चोदो, प्लीज धीमे चोदिए … अह आह आ ओ ओह …राधिका अपनी बहन दिशा के मम्मे मसलते हुए मुझे जोश दिला रही थी- राज फाड़ दे अपनी बहन की चुत … साली की चूत बहत लंड लंड कर रही थी. फिर मैंने रिप्लाई किया कि आज भी मेरे जैसे बहुत हैं, जो बिना गर्लफ्रेंड के रहते हैं. हम दोनों एक-दूसरे के सामने खड़े होकर मूतने लगे और उसके बाद आकर बिस्तर पर लेट गए.

चूंकि मैं सबसे बड़ी थी इसलिए घर की देखभाल की जिम्मेदारी मेरे ऊपर थी. अपनी अपनी जीभ निकाल के एक दूसरे की जीभ चूमते रहो और चुदाई का मज़ा लेते हुए अपने पार्टनर के चेहरे पर आते हुए मधुर आनंद के भाव देखते देखते प्यार की बातें फुसफुसाते रहो. झड़ने के बाद वह मुझे दोबारा से किस करने लगा और मैं भी बदले में उसको किस करने लगी.

मैं पूरी तरह से संतुष्ट हो गया था उसकी चूत में वीर्य निकालने के बाद. मेरे बैंक स्टाफ और कस्टमर कई ऐसे पुरुष थे जो मुझे भूखी नज़रों से देखते थे और मुझे चोदने की तमन्ना रखते थे.

इस कहानी को पढ़ कर आपको खुद के कुछ किस्से याद आए या नहीं, ये भी लिखना. एक गिलास मोसम्बी का रस और कुछ काजू, बादाम, पिस्ते और अखरोट एक तश्तरी में रखे थे. मैं अब ये समझ चुका था कि भाभी पूरी तरह गरमा गयी है और अपनी गर्म चुत में मेरा लंड डलवाने को मचल रही है.

पांच मिनट के बाद उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया और उसका बदन ढीला पड़ गया.

?नम्रता ने बड़े इत्मीनान से पूछा- टाईम क्या हुआ?जब पति देव ने टाईम बताया तो बोली- देर रात तक नींद नहीं आने के कारण नींद नहीं खुली. राधिका- इसका क्रेडिट मुझे जाता है, मेरी वजह से आज तुम दो हॉट अप्सराएं चोदने को मिली हैं. पहले तो मैं थोड़ा घबरा रहा था क्योंकि मैं इससे पहले कभी किसी शादीशुदा औरत से नहीं मिला था.

उन्होंने जोर से एक धक्का लगाया मगर लंड छिटक के मेरे पेट की तरफ आ गया. मैंने कहा- देता हूं भाई लेकिन!क्या लेकिन?”वही …”क्या वही?”बस एक बार …”नहीं यार, क्यों मेरे पीछे पड़ा है?”तेरा पिछवाड़ा है ही ऐसा.

चूंकि वही तो सारी योजना के कर्णधार थे और उन्हें सब पता था इसलिए उन्होंने इसरार किया कि रात मैं होटल में न रुक कर उनके घर में ही रुकूँ. धीरे-धीरे पैंट में उसके जिप के ऊपर से ही वह उसका लन्ड बहुत सख्त होता जा रहा था, इधर मेरे होंठों को जब वह चूसने लगा तो मुझे कुछ-कुछ होने लगा, सच में … जो मेरी घबराहट थी,जो मेरा डर था, वह अब कम हो गया।करीब 2 मिनट तक वह मेरे होंठों को चूसता रहा. तभी मेरे दोस्त ने उससे पूछा- पीछे से करें?वो मना करने लगी तो मेरे दोस्त ने बोला- यार प्लीज एक बार करने दे.

बर्फ कैसे पड़ती है

अगले दिन जब मनीषा बाथरूम में नहाने गयी हुई थी और घर मे कोई नहीं था तो मैंने जागृति से पूछा- तुम्हें डर नहीं लगा रात को ऐसे बाथरूम में चुदाई करवाते हुए?वो बोली- जब मेरी बहन को अपनी चूत में तुम्हारा लंड चोरी से लेते हुए डर नहीं लगा तो मैं कैसे पीछे रहती.

मौसी ने मुझे पास के एक कमरे में बुलाया और जल्दी जल्दी चुदाई का काम ख़त्म करने को बोलने लगीं. वो हंसा और उसने खुल कर कहा- आशना, क्या तुमने कभी हकीकत में मर्द का लंड देखा है कि बस सिर्फ़ मूवी में ही देखा है?मैं उसकी इस खुल्लम खुल्ला बात से बहुत शर्मा गई और बोली- तुम ये क्या कह रहे हो?उसने कहा- बोलो ना यार … मुझसे शर्मा क्यों रही हो?मैंने कहा- नहीं मैंने कभी नहीं देखा. जब मैंने नीचे झांक कर देखा तो मेरे लंड ने मेरी पैंट पर पानी का निशान बना दिया था.

मैंने उनकी तरफ डिब्बी बढ़ाई, तो उन्होंने कहा- एक ही जला लो, उसी से ले लूंगी. उसके बाद मैंने थोड़ा सा जोर लगाया, तो इस बार वो ज्यादा जोर से नहीं चीखी. सुंदर आंटी की चुदाईअनामिका से मैंने कहा- क्या तुम मुझे अब भी याद करती हो?उसने कहा- जब तक तुमको देखा नहीं था, तब तक तो मुझे तुम्हारी कुछ भी याद नहीं आती थी.

वे बोलीं- पति देव, आज तो कमाल कर दिया … अब तो तुझे रोज ऐसे ही चटाऊंगी. लोअर के अन्दर लण्ड और पैन्टी के अन्दर चूत लेकिन बेबी उनको मिला कर मजा ले रही थी.

उन्होंने छोड़ने की जगह एक झटका और दे दिया, तो अंकल का आधा लंड मेरी बुर में अन्दर घुस गया. यह सुनकर मेरी खुशी का ठिकाना न रहा। मैं सोच रहा था मेरी गैरमोजूदगी में मेरी गीतू ने अपनी चूत का रस महेश को ही पिलाया होगा. वसुन्धरा की दोनों कलाईयों पर ढ़ेरों बाल नुमाया थे तो यक़ीनन टांगों का भी यही हाल होगा.

फिर हमने रात को एक बार चुदाई की और सो गए।सुबह नाश्ते की टेबल पर मैं मम्मी-पापा से मिला. वो मेरे होंठों को चूमते हुए जल्दी जल्दी मेरे शर्ट का बटन खोलने लगी थी. मैं ड्राइवर भैया से बोला- आप ये बात मेरे घर पर किसी को नहीं बताना, तभी मैं ये नया गेम खेलूँगा.

)मैं सोचने लगी कि मूसल सा लंड मेरी गांड में घुसेड़ने के बाद मादरचोद कह रहे हैं कि खेल अभी शुरू नहीं किया है … तो क्या मेरी गांड के आर पार लंड निकल जाएगा, तब गेम शुरू हुआ कहलाएगा.

उसने मुझसे कहा- अब और मत तड़पाओ, जल्दी से चोद दो … वरना मैं मर जाऊँगी. एक हल्की सी रुकावट और फिर फचक की आवाज़ से लंड पूरा जड़ तक मेरी कुंवारी दुल्हन की बुर में समा गया.

तू मुझे बिना कपड़ों के देखना चाहता है न?उसने मेरे गर्दन में अपने बांहें पिरोते हुए मुझे अपनी बांहों में कसा. दिशा- ओह आह प्लीज जीजाजी … रहने दो यार … बहुत दर्द हो रहा है … अपना लंड बाहर निकालो … जल्दी. भाभी भी पूरी तरह वासना के इस खेल के आनन्द में डूब गयी और ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह… आउच.

मैंने मना किया तो वो बोला- विक्रम की यह पहली चुदाई है, उसे सुहागरात वाला फील आना चाहिए।मैंने हाँ कर दी और तैयार हो गई. मेरी पिछली सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कि मेरे बॉयफ्रेंड ने कैसे मेरी चूत मारी और उसने मुझसे कहा कि वो मेरी गांड का दीवाना है. मैंने उसकी जुल्फों को हटाते हुए कहा- कहां चल दीं जानेमन?मेरी नाक को दबाते हुए नम्रता बोली- फ्रेश होने जा रही हूं, उसके बाद तुम्हारे घर चलना है.

राजस्थानी चुदाई बीएफ फिर भी बताइये अगर कुछ काम है तो?मैं उठी और बोली- रहने दो, सब ठीक है. महेश ने मुझसे मदद मांगी कि मैं उसके घर का सामान शिफ्ट करवाने में अनामिका की हेल्प कर दूँ.

२०२० के सेक्सी वीडियो

सुमेर बोला- पहली बार कुंवारी लड़की की झिल्ली फट जाती है और थोड़ा बहुत खून निकलता है. हॉल तक पहुंचते-पहुंचते हेतल के अंदर इतनी चुदास भर गई कि उसने मुझे सोफे पर लेटा लिया और खुद ही अपनी गांड में लंड को लेते हुए ऊपर-नीचे उछलने लगी. मुझे चूसने के बारे में नहीं पता और मेरा मन भी नहीं कर रहा था उनके लिंग को अपने मुंह में लेने का मगर वो चाहते थे कि मैं उनके लिंग को मुंह में ले कर चूस लूँ.

मौसी भले ही कुंवारी नहीं थीं और वो खुद ही अपने हाथ से उंगली किया करती थीं, पर लंड और उंगली में फर्क होता है और उन्होंने लंड लिया भी अपनी चूत में तो 12 साल बाद … दर्द तो होना ही था. पारो ने गुलाबो का श्रृंगार गुलाबों से किया था उसकी उम्र 18-19 साल की होगी. गांड मारने वाली बीएफ वीडियोमैं उसकी पुत्तियों को भी होंठों के बीच दबाकर आईसक्रीम की तरह चूसने लगा.

बाकी बच्चों से नजर बचाकर मैंने पर्ची खोलकर पढ़ी जिसमें लिखा हुआ था- मनमीता आपका इंतजार ऊपर वाली मंजिल में कर रही है.

वो बोली- वाओ मस्त … अब मैं तेरी और बाबू जी की चुदाई देखना चाहती हूँ. फोन रखने के बाद मेरे फोन में सेलिना के नम्बर से एक मैसेज रिसीव हुआ जिसमें कि उसने अपने घर का पता लिखा हुआ था.

उन्होंने पूछा- उसके साथ कभी सेक्स किया था?मैंने बोला- हां 1-2 बार, लेकिन वो बहुत डर डर के सेक्स करती थी. दीदी बोली- क्या कर रहे हो?मैंने कहा- दीदी, अब तो घर में भी कोई नहीं है. जब कई बार उसकी चूत का पानी निकल चुका तो सुमन का मन भी अब लंड लेने को करने लगा.

वो बोली- ओके फिर आज क्या हुआ?मैंने उसे सब बता दिया कि अंकल ने किस किया, मम्मों को दबाया … वगैरह वगैरह.

जब तक मैं उसका लंड मुँह से निकाल पाती कि उसके पहले ही मेरा मुँह उसके वीर्य से पूरा भर गया. वो पूरी तरह से अब पागल हुए जा रही थी लेकिन फिर भी कुछ मुँह से बोल नहीं रही थी. मेरे मुहँ से अह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आअह … और करो … मजा आ रहा है … आह!उसने चाट चाट कर मेरी पूरी चुत साफ़ कर दी.

सेक्स सेक्सी व्हिडिओ मराठीमेरी पिछली सेक्स कहानी में आपने पढ़ा था कि मेरे बॉयफ्रेंड ने कैसे मेरी चूत मारी और उसने मुझसे कहा कि वो मेरी गांड का दीवाना है. हां शादी के बाद मैंने कभी किसी परपुरुष से सम्बन्ध नहीं बनाए (इस सत्य कथा के लेखक सुकांत जी को छोड़कर)मुझे अपने पति से सिर्फ एक शिकायत थी कि वो मेरी चूत कभी नहीं चाटते थे और न ही कभी अपना लण्ड चूसने के लिए मुझसे कहते थे जबकि चूत चटवाने की मेरी बहुत इच्छा होती पर मैं लाज के मारे उनसे कभी कह न सकी.

తెలుగు వీడియోస్ ఎక్స్ బిఎఫ్

सरला ने पूछा- मंजू, क्या राजेश जी ने तुम्हें तुम्हारी गांड वाले होल में कभी फ़क किया है?मैंने कहा- हां, राजेश ने कई बार मेरी गांड मारी है. फिर जीजू ने पीछे से ही अपने खड़े हुए लंड को मानसी की उबल चुकी चूत में सट से घुसा दिया तो मानसी खुद ही अपनी गांड को जीजू के लंड पर ऊपर नीचे पटकती हुई उनके गोरे लम्बे लंड से चुदने लगी. इसके बाद जब तक निहारिका इधर रही, मैं हर रात को निहारिका से मुठ मरवा लेता था.

काफी देर बाद अपनी कुंवारी चूत चुदाई का मज़ा लेते लेते मुझे मेरी चूत के अन्दर कुछ अहसास हुआ. यह जानकर‌ जिससे मुझे अब कुछ राहत मिल गयी।पेशाब करने के बाद मोनी ने वापस बिस्तर के पास आकर अब एक बार तो मेरी तरफ देखा फिर चुपचाप वो बिस्तर के दूसरी तरफ सो गयी। पहले मोनी अन्दर दीवार की तरफ सो रही थी और मैं बाहर किनारे की तरफ. क्या इस प्रकार का सेक्स उचित है? क्या एक मर्द एक साथ दो औरतों को सन्तुष्ट कर सकता है? या फिर ये सब वीडियो में दिखाया जाने वाला झूठ है? जब से मैंने ये वीडियो देखा है तब से मैं और मेरी सहेली इस तरह का सेक्स करने की चाहत मन में पाल कर बैठी हैं.

मैंने उसके लंड को अपने मुँह में ले लिया, शुरू शुरू में तो थोड़ा अजीब लगा, पर फिर मुझे मज़ा आने लगा. नजर उसकी छाती पर गई तो आसमानी रंग के नीले सूट में उसकी चूचिचों के उभार भी काफी सुडौल व गोल लग रहे थे. वहां पहुंच कर डॉली ने मेरे फोन से ही गुप्ताइन को पहुंचने की सूचना दी.

मेरी हालत देख वो बोला- मेमसाब, कोई परेशानी है तो बताइये, शायद मैं आपकी कोई मदद कर सकूँ!तो मैं बोली- मेरी कमर में बहुत दर्द है. आह … क्या बताऊं दोस्तो, उस वक्त मुझे अपने आप पर काबू करना मुश्किल हो जाता था.

कहने लगी- नहीं यार, वो मेरी बेटी है, क्या सोचेगी?मैंने कहा- कुछ नहीं सोचेगी, आप उससे यह थोड़े ही कहोगे कि जाओ चुदवा आओ.

राधिका ने कहा- सबसे पहले दिशा थी, फिर मैं आई थी और आखिर में सोनल थी. हिंदी बीएफ सेक्सी हिंदी वालीमैं उससे रोज नहीं मिलती थी और वो रोज मेरे घर भी नहीं आता था भैया से मिलने के लिए, क्योंकि अगर वो रोज मेरे घर भैया से मिलने के लिए आता तो भैया को हमारे ऊपर शक हो जाता. जंगली सेक्सी बीएफ हिंदीमैं समझ गया कि लौंडिया खेली खाई नहीं है … जबकि लंड चुसाई के समय मैं सोच रहा था कि ये पका हुआ आम है. मैं- साली छिनाल, कुतिया, तुझे मैं अपनी पर्सनल रांड बनाऊंगा, बोल बनेगी न मेरी कुतिया.

उसी वक्त भाभी ने दिमाग से काम लिया और अपनी बहन का ध्यान अपनी तरफ बंटाने की कोशिश करने लगी.

मगर जैसे ही पायलों की आवाज मेरे कानों तक पहुंची मैं तपाक से उठ कर बैठ गया।दिन में तो मैंने मन बना लिया था कि रात को अगर आवाज आई तो गौशाला में देखने जरूर जाऊंगा लेकिन जब रात 12 बजे वही आवाज आई तो मेरी सिट्टी-पिट्टी गुम होने लगी. तो उन्होंने कहा- हाँ तुम वाक़ई बहुत अच्छे हो तो वैसे अच्छे से बात करते हो. हाई स्कूल मैंने अच्छे अंकों से उत्तीर्ण कर लिया और इंटरमीडिएट की ग्यारहवीं क्लास में प्रवेश ले लिया.

मैंने मुस्कराहट के साथ हैलो कहा और उन्होंने भी मुस्कराहट दे कर रिप्लाई दिया. कैसे भी करके मिलो न!रीना- आप पागल हो गए हो? शादी के पहले तक तो बिल्कुल नहीं. मैं बाथरूम में पहुंचकर देखना चाहा कि कहीं वो पानी का लोटा लाकर मेरे ऊपर डालने वाली तो नहीं है.

मिर्जा सेक्सी फिल्म

नहीं रानी सोया नहीं बस थोड़ा सुस्ता रहा था … हो सकता है हल्की सी झपकी लग भी गयी हो. मेरे भाई को इस बात का पता नहीं था कि मैं उसके एक दोस्त से मैसेज पर बात करती हूँ. उसकी चूत को कुछ देर तक जीभ से चोदा और फिर उसको डॉगी की पोजीशन में झुका लिया.

मैंने कहा- अगर तुम भी मेरे बारे में कुछ ऐसा सोचती हो तो मैं खुद को बहुत लकी मानूंगा.

मैं हैरान था कि ताऊ जी इस उम्र में भी एक जवान प्यासी चूत की प्यास इतने अच्छे तरीके से बुझा रहे हैं.

जब बाथरूम से मैं सिर्फ एक टॉवल में बाहर आई, तो देखा कि दोनों सिर्फ अंडरवियर में हैं और टॉवल से अपना बदन पौंछ रहे थे. मैंने मन ही मन कहा ‘इन दोनों (मां-पापा) को भी अभी टांग अड़ानी थी बीच में।’पांचों के पांचों घर का ताला लगाकर बरामदे में खड़ी कार की तरफ बढ़ चले. बीएफ फिल्म दिखाओ हिंदी मेंमेरे स्कूल की ड्रेस में सफ़ेद सलवार और लाल सफ़ेद रंग की चेक का कुरता हुआ करता था, कुर्ते के ऊपर सफ़ेद दुपट्टा सीने के उभार ढकने के लिए होता था.

उसके बाद फिर से एक जोरदार झटके के साथ उसकी चूत में धकेलते हुए धक्का दिया और पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में समा गया. उसने मेरे मुँह को अपनी चूत पर दबा दिया और झड़ने लगी, जिसको मैंने पूरा चाट लिया. कुछ दिन बाद ही भाभी के हज़्बेंड का ट्रांसफर जयपुर हो गया, तो भाभी वहां चली गई.

मेरे बॉस बुर फैला के जीभ से छेद को चाटने लगे, कुछ ही देर में मैं फिर से गर्म हो गई. उसके बाद मुझे कुतिया पोज में मेरे पीछे से लंड फिट किया और मेरे मम्मों को दबाते हुए मेरी चुत में लंड ज़ोर से अन्दर तक पेल दिया.

उनके पूरे सीने में घने बाल थे और उनके पूरे शरीर पर भी बाल ही बाल थे.

ये झंझावत मानो जैसे हमारी लाइफ में कोई बुरा वक्त आया था, फिर वो भी चला गया. बस फिर क्या था, पहले दिन से ही स्वीटी को पटाने की कोशिशें शुरू हो गईं. रितेश का लंड भी बहुत मोटा है लेकिन मुझे अलग-अलग मर्दों के लंड लेने का मन करता रहता है इसलिए मैंने राज को फंसा लिया.

বিএফ হট সেক্স वैसे वहां पर हमारा कुछ काम ख़ास नहीं था, बस सिर्फ मैकेनिक के साथ रुके थे. ”उसके बाद उसने अपनी जवान लड़की की चूत में अपना अंगूठा कचाक से घुसेड़ दिया.

मैंने आने के बाद अपने कपड़े पहने और जीजा ने भी अपने कपड़े पहन लिये. मुझे सॉफ्ट ड्रिंक्स या शरबत पसंद नहीं … सेहत के लिए बुरे होते हैं … और तुमको तो मुक्केबाज़ी भी करनी है इसलिए ताक़त वाली चीज़ें हैं सब … और हाँ अगर आँखें पूरी तरह से हरी न हुई हों तो मैगज़ीन गिर गयी है, उठा लो और मज़े से देखो अपनी फेवरिट हीरोइन को!” मैडम की मीठी आवाज़ सुन के यूँ लगता था जैसे दूर कहीं हल्के हल्के से घंटियां बज रही हों. एक 20-22 साल का बेटा था जो ग्रेजुएशन करके नौकरी की तलाश में था और एक बेटी थी, करीब 18 साल की, इन्टर में पढ़ती थी.

हिंदी हॉट सेक्सी चुदाई वीडियो

उस दिन उसने मुझसे वादा किया था कि आज मैं आपको एक पति के रूप में देखना चाहती हूँ. ऐसा चोदू मर्द मुझे मिल गया था जिसकी चुदाई पाकर कोई बांझ भी बच्चा जन दे. उसके‌ कारण एक तो मुझे उससे शर्म महसूस होती थी और दूसरा मुझे थोड़ा-बहुत इस बात का भी डर था कि‌ कहीं मोनी मेरे बारे में घर पर फोन‌ करके न बता दे.

मुझे देख कर बोला- कहां थे?मैंने कहा- जन्नत में … कल दोनों जन जाएंगे. उसने इधर उधर देखा और धीरे से कहा- जी मुझे सब पता है, आप अन्दर आइये.

मैंने आंटी के चूचों को दबा-दबा कर और वरूण ने आंटी की गांड पर लंड को रगड़ कर उसे पूरी तरह से गर्म कर दिया.

मुझे तो बस केवल मज़ा चाहिए था, जवान या बूढ़ा कोई भी हो … बस मेरी जवानी की आग को बुझा दे. मैनेजर बोले- तेरे चूचे तो बहुत बड़े हैं … कितनों से दबवाये हैं?मैंने कहा- सर मैं वर्जिन हूँ लेकिन छोटे से ही रोज तेल से चूचियों की मालिश करती हूँ, तभी इतने बड़े हो गए हैं. 10 मिनट मेरी गांड चोदने के बाद उसने अपना माल मेरी चुत में भर दिया और उठ कर अंदर चला गया.

खैर जी! मैं नियत दिन, नियत समय पर शिमला जा पहुंचा, टेंडर हमारे हक़ में ही खुला. उन्हें पता था कि स्कूल से छुट्टी होने के बाद यहाँ से लड़कियों का झुण्ड साइकिल पर निकलेगा और स्पीड ब्रेकर पर उनके मम्में उछलेंगे और वे बेहद बेशर्मी से आँख गड़ा कर हमारी उछलती गेंदें देखेंगे. नम्रता- मेरे राजा जल्दी आ जाओ, मेरी चूत तुम्हारे लंड के इंतजार में मरी जा रही है.

उसकी आंखें बंद हो गई थीं और मेरा मुंह खुल कर स्स्स … स्सस … करने लगा था.

राजस्थानी चुदाई बीएफ: तब तक मैंने भी अपने आपको पूरी तरह से इस लेस्बियन सेक्स के लिए रेडी कर लिया था. मेरी पैंटी में खुजली बढ़ने लगी थी और मेरी बुर बार बार गीली होने लगी साथ ही मम्मों में एक अजीब सी कसक, अजीब सी सनसनी मचने लगी, मीठा मीठा दर्द रहने लगा; दिल करता कोई इन्हें अच्छे से मसल डाले और आटे की तरह गूंथ दे एक बार.

साथ ही मैं उतने ही नज़ारे में खुद को रोक ना सका और बाथरूम की ओर चल दिया. पैंट उतारने के बाद मेरे अंडरवियर में तना हुआ लंड देख कर उसने चैन की सांस लेते हुए कहा- आ जाओ मेरे पास …मैं सोफे पर उसके मुंह के पास जाकर खड़ा हो गया. किसी को उंगली पकड़ने का मौका दो, तो वो हाथ जरूर पकड़ने की कोशिश करता है.

उसको किस करने के साथ मैं उसे सहलाए जा रहा था और उसके मम्मे मसल रहा था.

मुझे उम्मीद है कि पिछली जीजा साली सेक्स की कहानीजीजा के साथ मेरा सुहागदिनकी तरह इस कहानी को भी आप लोग पसंद करेंगे. मेरे को क्या मालूम … मैडम बड़े बिगड़े हुए मूड में हैं … तुमने कोई न कोई शैतानी की होगी … तुम हो ही एक नंबर के शैतान लड़के. मैं बस खुद को किसी तरह रोके हुए था नहीं तो मेरे मन में उसके चिकने बदन के प्रति इतना आवेग उठा हुआ था कि मैं उसको जानवरों की तरह पकड़ कर चोद दूं.