विदेशी बीएफ भेजो

छवि स्रोत,राजस्थानी मारवाड़ी सेक्सी चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी नंगी बीपी: विदेशी बीएफ भेजो, लेकिन अन्दर जगह ना होने की वजह से उसको लंड को बाहर निकालने की बेचैनी सी होने लगी.

ससुर ने बहू को छोड़ा

जॉली के मोटे लंबे और इस वक्त बेहद गर्म महसूस हो रहे लंड पर, उसका हाथ पड़ गया था. ससुर पतोह का सेक्स वीडियोतो वह मान गई और काफी देर इधर-उधर घूमने के बाद मैंने पार्क के काफी अन्दर जाकर एक जगह देखी.

मैंने दोनों के पेग में जूस बहुत कम डाला था।वन्दना- उम्म … बहुत कड़वा है, इसमें थोड़ा जूस डाल दो।मैं- नहीं मेरी जान, ऐसे ही पियो, तभी तुम्हारी शर्म दूर होगी. जंगल में मंगल करते हुए सेक्सी वीडियो” कह कर मैंने गौरी के गालों पर एक चुम्बन ले लिया।हट!”ए जान! आओ न एक बार फिर से कर लें?”अभी तो किया था? ऐसे जल्दी-जल्दी करने से आपको कमजोरी आ जायेगी? अब आप ऑफिस जाओ देर हो जायेगी.

अपने लंड को हाथ में लेकर हिलाते हुए जीजा बोले- देख बंध्या, तेरी चूत के लिए मेरा लंड कैसे खड़ा रहता है.विदेशी बीएफ भेजो: मैंने देर न करते हुए एक कड़क झटके में पूजा की चूत में लन्ड धकेल दिया.

उस वक्त वहां पर कोई नहीं था, तो मैंने मौका सही जानकर पास रखी दूसरी टोकरी से एक केला उठा लिया, जो थोड़ा कम पका हुआ था.इस पर मैंने पूछा- क्या हुआ?तब उसने नजर झुका कर कहा- मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है.

चूत चुदाई बताओ - विदेशी बीएफ भेजो

मुझे तुम इस बात के बारे में सच्चाई बताओ कि मुझसे मिलने के पहले और बाद में तुमने कितने लोगों के साथ सेक्स किया है.मासी बहुत जोर से चीख पड़ीं- आह … मर गई … निकालो बाहर …पर मैं वहीं रुक गया और उनके मम्मों को दबाता रहा.

मैंने दर्द से कराहते हुए कहा- चाची, मेरी जांघ में बहुत दर्द हो रहा है. विदेशी बीएफ भेजो शबनम पतली पर लम्बी थी … उसे अपनी लम्बी गोरी काया पर गुमान था और वो खुल कर जिस्म दिखाती पोशाक पहना करती थी.

किचन में आते ही सबसे पहले तो मैं मामी को अपनी बांहों में भर लूंगा और अपने दोनों हाथों से उनकी पीठ और गांड को रगड़ूंगा.

विदेशी बीएफ भेजो?

और कहा- जल्दी आना, यहां ज़रूरत पड़ सकती है।मम्मी गयी और थोड़ी देर में वापस आ गयी मुस्कुराती हुई!मैंने ध्यान से देखा, साड़ी में एक भी सिलवट नही। मैंने धीरे से मम्मी के होंठों पे उंगली फेरी और फिर उंगली को चाटा।मम्मी ने पूछा- कुछ पता चला?मैंने जवाब दिया- हाँ … आप दोनों को चूस के आयी हो. फिर विराम देने के बाद मैंने राखी की गांड में लंड को हिलाना शुरू किया. मेरी छाती पर छोटे छोटे बोबे भी उभरे हुए हैं जिनका आकार मीडियम साइज का हो चुका है.

परी मैम की चीख निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ क्योंकि उनके पति का लंड सिर्फ 5 इंच का था. मैं अन्तर्वासना की पिछले पांच साल से नियमित पाठिका हूँ मुझे अन्तर्वासना की कहानियां बहुत अच्छी लगती हैं तो मैंने सोचा कि क्यो ना में भी अपना अनुभव आप लोगो के साथ साझा करूँ. वो बोला- क्यों, विक्की का तो बहुत अच्छे से चूसती हो?इस पर मैं कुछ नहीं बोली और उसका लंड मुँह में लेकर चूसने लगी.

मैं साथ में बैठे जवान के होंठों को चूमने लगी, सामने वाले ने मेरे गोरे पांव चूम लिए और लोअर के अन्दर हाथ घुसा कर मेरी चिकनी टांगों को सहलाने लगा. मेरा वीर्य निकलने को हुआ तो मैंने भाभी की ब्रा में ही वीर्य छोड़ दिया. उसने भी अपनी टाँगें फैला कर मुझे लन्ड अंदर तक डालने और झटके तेज मारने में मदद की.

ऐसा करते करते मैंने अपनी उंगली से उनकी चूत की दरार को हल्का हल्का सहलाना शुरू कर दिया. तभी शान ने मुझे खींचा और मेरे सर को अपने हाथ से दबाते हुए मुझे घुटने पर बैठने को मजबूर कर दिया.

मैं सब जानता हूं, अब मुझे तुझ पर गर्व है और खुद पर भी, आज तुझे रगड़ कर मजे दूंगा.

कहानी के अगले और अंतिम भाग में जानें कि महेश, समीर, नीलम और ज्योति की किस्मत ने क्या फैसला किया.

पहले तुम्हारी मम्मी की बूबू तो मीठा करने दो।फिर मैं बेटे से बोली- तब तक आप हॉल में जाकर अपने टॉयज के साथ खेलो, तब तक मम्मा को अंकल सुई लगा रहे हैं।मैं उठी और अपने बेटे को हॉल में खिलौने के साथ बिठा कर वापस आकर डोर लॉक कर लिया. पापा ने अपनी गांड को ऊपर नीचे करते हुए मेरी चूत में लंड के धक्के देना शुरू कर दिया. हम दोनों भाई-बहन में काफी प्यार था इसलिए वो मेरी फिक्र किया करता था.

मैं अपने हस्बैंड से बहुत प्यार करती हूं लेकिन फिर भी मुझे किसी दूसरे आदमी के नाम पर चुदना बहुत अच्छा लगता है।हमारी इस सेक्स लाइफ में अब यह रोजाना का काम था।और कहते हैं ना कि आप जो जिंदगी रोज जीने लगते हैं वह एक दिन सच भी होने लगती है. थोड़ी देर बाद नीरू पूरी मस्ती में आ गयी, उसके मुंह से कामुक सिसकारियां निकलने लगी. रात को दो बजे के करीब हम दोनों को फिर से सेक्स चढ़ गया और मैंने उसकी चूत की चुदाई रात में ही चालू कर दी.

धीरे-धीरे भाभी मुझे इस तरह सैट कर रही थीं कि मेरा लंड उसके मुँह पर आ गया था.

उसको दर्द हुआ, उसके मख से निकला- उम्म्ह… अहह… हय… याह…वो मुझसे अलग होना चाहती थी. सोनिया- हाय तो मेरी चूत में उंगली डालकर रब करो ना … मेरा दाने और दूसरे हाथ से मेरी चूचियों को दबाओ जानू. बनियान निकलते ही मर्दाना चौड़ी छाती मेरी आंखों के सामने थी जिस पर हल्के बाल भरे हुए थे.

कहानी के इससे पहले वाले भाग में मैंने बताया था कि मेरे जीजा ने मेरी चूत को गर्म करके छोड़ दिया था. मैं टीवी देख रहा था कि तभी बुआ आई और बोली- पप्पू, एक बार हमें खेत में जाना पड़ेगा. मैं चाची के चूचों को पीने और काटने में लग गया, जिससे चाची गर्म होना शुरू हो गईं.

मैंने भी उसकी बात को सपोर्ट करते हुए अपनी बीवी से कहा- हां, सही तो कह रहे हैं ये, यहां पर भी क्या शर्म! बार-बार ऐसे मौके कब मिलते हैं और ऐसे खुले दिल के लोग भी नहीं मिलते हैं.

हम दोनों को भूख भी लग रही थी और अमृता से खड़ा भी नहीं हुआ जा रहा था तो मैंने उसे बाथरूम में ले जाकर बाथ टब में लेटा दिया और गर्म पानी भर दिया. प्रीति इतनी नासमझ तो नहीं थी … प्रीति को समझ आ गया था कि उषा दीदी को संजय ने चोद दिया है.

विदेशी बीएफ भेजो अब मैं और मनु उन्हीं के पास लेकिन थोड़े साईड में बैठे और हमारे अलावा बाकी सभी एक घेरा बनाकर बैठ गए. कोमल ने हमें भी साथ चलने को कहा, हमने भी बिना समय गंवाए साथ पकड़ लिया.

विदेशी बीएफ भेजो वो अपने एक बेटे और बेटी के साथ दिल्ली की अब अपर मिडल सोसाइटी में रहती थी. नीरू के चूसने से मेरा लन्ड बिल्कुल तन गया था जिसे देख कर वन्दना के मुंह में पानी आ गया.

राहुल रीमा के मम्मों को जानवरों की तरह मसल रहा था और चूस रहा था, जिससे रीमा पूरी तरह पागल होकर अपनी चूत में उसका लंड ले रही थी.

यूपी बिहार का बीएफ वीडियो

मुझे उसके कमेंट का बुरा नहीं लगा बल्कि मैं तो चाहती थी कि वो मेरी तारीफ करे. बॉस ने आंखों को बन्द कर लिया था और मेरे मुँह में अपना लंड घुसा कर मजे से चुसवा रहे थे. मगर अब मुझे अच्छा लगने लगा था क्योंकि मेरी चूचियों के निप्पल भी अब खड़े हो गये थे.

कुछ देर तक भाभी की चूत को चाटने के बाद उसने भाभी के पैरों को फैला दिया. चाची के दो छोटे छोटे बच्चे भी थे, पर चाची तो ऐसे लगती थीं कि अभी कॉलेज में पढ़ती हों और अभी उनकी शादी भी न हुई हो. प्रीति बोली- ये तो है दीदी!उषा बोली- मुझे मालूम है कि तेरा भी मन करता है चुदवाने का!प्रीति उषा का मुंह देखती रह गई कि उषा क्या बोल रही है.

मैंने आते ही माहौल को देखा और धीमे स्वर में कहा- कहिये आपने मुझे बुलाया क्यों है?साधना भाभी कहने लगीं कि तुम ये सब जो कर रहे हो न … ये ग़लत है.

दोस्तो, मेरी ये चुदाई स्टोरी आपको कैसे लगी, आप अपनी प्रतिक्रिया देने के लिए मुझे मेल जरूर करें. उसका खुद पर कोई नियंत्रण नहीं रह गया था और वो लगातार वहीं देख रही थी. रकुल ने अपनी टी शर्ट उतारी और जो दृश्य हमारी नजर के सामने आया वह वास्तव में बड़ा ही उत्तेजक दृश्य था.

सोनिया- रियली? तो ठीक है … नो प्रॉब्लम … डायरेक्टर आपको अपनी काबिलियत दिखाने का बहुत जल्दी मौका देंगे. मैं अपने ही शरीर को सहलाने लगी और आंखें कब बंद हो गईं … उंगलियां कब चूत में घुस गईं, कुछ पता ही नहीं चला. अभय ने मेरी चूत में लंड को पेल दिया और विवेक ने पीछे से मेरी गांड में लंड को डाल दिया था.

जैसे ही स्टेशन से बाहर आया, तो फोन आया- पहुंच गए राजा?मैंने कहा- हां पर तुम कहां हो डियर?तो उसने एक कार का नम्बर दिया और कहा कि बाहर आओ और इस नम्बर की कार में आओ. ज़ायरा ने मेरी शर्ट उतारी और अपने मम्मों को मेरी छाती पर रगड़ने का मजा करवा रही थी.

कहानी का पहला भाग:बीवी को गैर मर्द से चुदाई के लिए पटा लिया-1और मेरी फेंटसी पूरी हुईऔर फिर शनिवार का वो बहुप्रतीक्षित दिन आ गया. दोस्तो, इस सेक्स कहानी को लेकर आपको मुझसे क्या कहना है, प्लीज़ मुझे मेल करके जरूर बताएं. आपको मेरी हिंदी देसी सेक्स कहानी पर कुछ कहना हो तो प्लीज़ मेल जरूर कीजिएगा.

फिर वो बोली- तो बनाओ प्लान!मैंने तुरंत सर को फ़ोन लगाया और उनको बताया कि सोनम राजी है.

अब मैं कभी उसकी जीभ चूसता, कभी उसकी आंखों में देखता, कभी उसकी चूची को दबा देता. मन ही मन तो मैं चाह रही थी उसके लंड के भी दर्शन हो ही जाएं, लेकिन उसने अंत तक अपनी शराफत नहीं छोड़ी. वही बड़ी बड़ी पिछाड़ी और उनमें छिपी हुई दीदी की गांड ऐसी लग रही थी कि मानो उनके जांघिए को फाड़ कर बाहर निकल आएगी.

कई बार इस साइट के माध्यम से सेक्सी भाभी और चुदक्कड़ आंटी को खोजने में भी मुझे काफी सहायता मिली है. मैंने उससे कहा- आज तुम मुझे ना रोको … जो मेरा मन कर रहा है, करने दो.

दस पीस का इसलिए कि नए नए चोदू थे, भोसड़ी का कंडोम किस तरह लगता है, ये जानते ही न था. मैं रुआंसा हो गया, तो भाभी बोलीं- अरे पहली बार के लिए ये बहुत सही प्रयास है … पहली बार तो मेरे पति मेरे दूध पीते पीते ही खलास हो गए थे. जब चाची ने मेरे लंड पर अपना हाथ लगाया, तो मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था.

सेक्सी फिल्म हिंदी बीएफ सेक्सी

मैंने मेम को अपनी बांहों में भर लिया और मेम भी मेरे सीने से चिपक कर अपनी सांसों को संतुलित करने लगीं.

” महेश ने अपनी बहू की आँखों में निहारते हुए कहा।नीलम समझ गयी कि उसके ससुर क्या कहना चाहते हैं इसीलिए उसने शर्म से अपना कन्धा नीचे कर दिया।बेटी इसका मतलब अब तुम मुझसे कोई रिश्ता बाकी रखना नहीं चाहती?” महेश ने नाटक करके वहां से उठते हुए कहा।पिता जी आपके सिवा मेरा कौन है यहां?” नीलम ने अपने ससुर के हाथ को पकड़ते हुए उनको रोका।ओह्ह बेटी, मैं तो समझा था कि तुमने मुझसे दूर होने का फैसला कर लिया है. मैंने उनकी पैंटी की इलास्टिक में उंगलियां फंसाईं और उनके पैरों से नीचे लाते हुए उनकी पैंटी को हटा दिया. अमन- लगता तो तू अच्छा है … फिर भी?मैं- पता नहीं यार मेरी हिम्मत ही नहीं होती, तू बता तेरी कोई है?अमन- नहीं … अभी तो कोई नहीं है.

मेरी चीख निकल गई ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’कोई 6-7 मिनट की चुदाई के बाद उसने अपना पानी अन्दर ही छोड़ दिया. उसने एक दिन मुझे अपने पास बुलाया और सीधा बोल दिया कि अगर मैंने शादी से पहले कुछ गलत करने की कोशिश की तो मेरे मां और पापा को मेरे बारे में सब कुछ बता देगा. ब्लू फिल्म कातब मैं झट से उन्हें अपने बांहों में कस लूंगा और बोलूंगा- तब अभी कर लेते हैं.

तभी मैंने कौसर से पूछा- शहद है?वो शहद की बोतल ले आयी और कौसर मेम के मम्मों से लेकर उनकी चूत तक शहद लगा दिया. इधर भाबी भी अपने बुर पर मेरा सिर दबाए जा रही थीं और मस्त कामुक आवाजें निकाले रही थीं- आह … बहनचोद चल … अपनी दीदी की बुर को अच्छे से चाट … वरना तेरी माँ की बुर अपने पति के लौड़े से फड़वा दूंगी.

मेरी बीवी के नंगे चूचों को देख कर अब मेरे डॉक्टर दोस्त को भी यही शरारत सूझी और उसने भी अपनी बीवी की ब्रा को निकलवा दिया. उसी वक्त पता नहीं मोना को क्या हुआ, वह झट से खड़ी होकर मेरे पास आकर मेरे गले से लग गई. अब वो मेरी दायीं चूची के निप्पल को अपने होंठों में दबा कर चूसने लगा.

भाबी नशीली आंखों से भैया का लंड हिलाते हुए बोलीं- शर्मा क्या रहा है? अब देखता है, तो बोल न कि देखता हूं … इसमें बुराई क्या है. जॉली एक लम्बा, हट्टा-कट्टा, मजबूत बांहें और चौड़ी छाती वाला मर्द था. मैंने सिनेमा हॉल के पास बाइक पार्किंग में लगा दी और हम दोनों टिकट लेकर मूवी देखने सिनेमा हॉल के अन्दर आ गए.

लगभग 5 मिनट तक रीमा के मुँह को चोदने के बाद राहुल के लंड का पूरा वीर्य रीमा के मुँह में गिर गया.

डॉक्टर की पत्नी के लिए मैं गैर था और मेरी पत्नी के लिये डॉक्टर गैर था. मैं- अभी कैसे दिखा सकती हूं यार!विक्की- क्यों बस घर के पीछे गार्डन में आ जाओ, मैं वहां आ जाऊंगा.

मेरा तो सपना पूरा हो रहा था, मैंने भी बोल दिया- एंजाय कर लो; ऐसा मौका बहुत किस्मत से मिलता है. और उनके लंड ही क्या खुद दीपा की चूत रात से नाराज थी, गर्म चूत पर जैसे बर्फ का पानी पड़ गया था. तभी सुखविन्दर बोले- चुप मादरचोद साली … इतने में फट रही है? अभी तो खेल शुरू किया है हमने!और सुखविन्दर ने अपना लंड मेरे मुँह में डाल दिया और मुँह को चोदने लगे।अभिजीत मेरी फुद्दी को पेलने लगा और करीब 5 मिनट में सुखविन्दर ने पूरा पानी मेरे मुँह में भर दिया, न चाहते हुये भी मुझे पूरा पानी गटकना पड़ा।कुछ देर में अभिजीत भी झड़ गया.

उसने मेरे लंड को बहुत मस्त तरीके से चूसा, मुझे तो जन्नत का मजा मिल रहा था. संदीप तो बेचारा अभी तक अनुभव हीन है, पता नहीं दस मिनट भी टिक पाता या नहीं. दो दो पैग होने के बाद मैंने कहा- मेम चलो खाना खाने के बाद आप मेरे घर पर चलोगी?मेम बोलीं- नहीं … तुम आज मेरे घर चलो.

विदेशी बीएफ भेजो मैं नाश्ता तैयार कर लूं!मैंने आँखें झुकाते हुए कहा- जी शुक्रिया!पूजा- अब बड़ी शर्म आ रही है? रात को तो जनाब बड़ा जोश दिखा रहे थे?मैं समझ गया कि पूजा अब खुल चुकी है, उसे कोई दिक्कत नहीं है. अब लगभग शाम हो गई थी, तो मैंने सोचा कि अब तो भाभी के यहां से रात को ही जाऊंगा.

ट्रिपल ब्लू सेक्स

हम दोनों तुरंत वहां से निकल कर एक बार वाले होटल में खाना खाने पहुंच गए. चूंकि स्वभावत: मैं किसी से ज़्यादा मिलता नहीं था, इसी लिए मैंने कॉलेज के पहले दिन किसी से बात नहीं की. परमीत ने पहले कभी बीयर नहीं पी थी, हमें पता था कि वो ये सारी बातें हार की चिढ़ में बोले जा रही थी.

प्रीति का फिगर बहुत मस्त है 34-32-34 का … कभी कभी मैं उसे देखता ही रह जाता था और वो अपने घर में चली जाती. अब मैं और मनु उन्हीं के पास लेकिन थोड़े साईड में बैठे और हमारे अलावा बाकी सभी एक घेरा बनाकर बैठ गए. તેલુગુ સેક્સटीना मेरी सहकर्मी है, हम दोनों काफी जल्द ही बहुत अच्छे दोस्त बन गए थे.

सुबह उसकी बेटी ने हम तीनों को जगाया … तब हम सब हड़ाबड़ा कर जागे और अपने कपड़े पहने.

सामने से मेरा टीशर्ट भी गीला हो गया था क्योंकि पापा के कपड़ों का पानी मेरी टीशर्ट पर भी आ गया था. उसे तो तूने पटा लिया है, लेकिन तुमसे नहीं भी पट पाती और तुम मुझसे उसके लिए कहते, तो मैं खुद उसे पटा कर तुम्हें देती.

सभी पार्टी में मशगूल थे, तभी मामी मेरे पास आ गईं और मुस्कुराते हुए बोलीं- क्या हुआ जनाब ध्यान कहां है आपका?तभी मेरा ध्यान टूटा और पाया कि ये क्या … मामी तो कब की मेरे काफी पास आ गई हैं. फिर मैं उनके पास जाने का बार बार बहाना ढूँढता रहूंगा और उनके पास बार जाऊंगा भी. मैं बस इंतजार कर रही थी उनका लंड अपनी चूत में लेने का।बॉस ने मुझे ऐसे ही किस करते करते मेरी चूत में लंड डाल ही दिया.

वो मुझे जो भी काम कहती थीं, मैं उसको तुरंत पूरा करता था, चाहे वो कैसा भी काम हो और किसी भी समय हो.

वो कभी एक सुट्टा सुनील की सिगरेट से, कभी मनोज की सिगरेट से लगा लेती. अब आगे:थोड़ी देर हम ऐसे ही लेटे रहे, फिर ये मेरे बूब्स दबाते हुए बोले- आज तुम रंडी बनने वाली हो।मैं कुछ न बोली. तुम लोग कहाँ हो?पार्क में!”पार्क में? क्यों? क्या कर रहे हो?”तेरी दीदी मेरी चूत चाट रही है और तेरी मम्मी उपिन्दर का लौड़ा चूस रही है.

ট্রিপল এক্স বিপি ভিডিওअभी मैं ये सब सोच ही रहा था कि तभी चाची का फोन आया- हैलो जीशान, आई मिस यू बेटा … कैसा है तू?मैं- मेरी तो गांड फटी पड़ी है. उठ इशिता, कहां से आ रही है, तूने इतनी क्यों पी रखी है?”बूब्स … बिग बिग बूब्स.

सनी लियोन के बीएफ वीडियो हिंदी में

चाची भी थोड़ी सी साइड में होकर अपने चूचों को जोर जोर से रगड़ने लगी थीं. संजय का सुपारा भी ज्यादा मोटाई लिये हुए था, चमकता गहरे गुलाबी रंगत लिए सुपारा हम सबकी जान निकाल रहा था. दीपा पागलों की तरह मनोज का लंड चूस रही थी क्योंकि नीचे सुनील ने उसकी चूत में अपनी जीभ से आग लगा दी थी.

मेरी गोरी चिकनी जांघें देखकर वो बौखला गया और मेरी जांघें चाटने लगा. मैं बोला- मेम आपने पहले बताया होता … तो अब तक तो एकाध बच्चा भी पैदा कर देता. मेरे जिस्म की आग मेरे पति के बॉस ने मेरी जोरदार चुदाई करके ठंडी कर दी.

उसने लंड को थोड़ा सहलाया, टोपे पर एक किस किया और अचनाक से लंड मुँह में लेकर चूसने लगी. मैंने उसे सिगरेट उठाने का कहा, तो उसने खुद मुझे एक सिगरेट जला कर दी. मैं अपने लंड को पूरा बाहर निकाल कर उसकी चूत की गहराइयों में वापस डाल रहा था.

कोई दो मिनट लंड चुसाने के बाद मैंने परी मैम को खड़ा किया और उनकी एक टांग को अपने कधे पर रख कर उनको दीवार से लगा दिया. मैंने कहा- नीचे देख … तेरी चूत गर्म हो गई है या देर है?उसने अपनी चूत को हाथ लगाकर देखा तो उसकी चूत पूरी गीली हो गयी थी.

”हाँ दीदी, सुना तो मैंने भी है … मन तो मेरा भी करता है लेकिन …”तभी मैं भी अंदर आ गया और उन दोनों के साथ बैठ गया.

जब मैं चढ़ी, तो मेरी सीट वाले केबिन में पहले से दो गबरू जवान फौजी बैठे थे. सेक्स वीडियो दिखाएक बार फिर से आप सभी पाठकों का मेरा यानि तृप्ति पटेल का बहुत बहुत धन्यवाद. देवर भौजाई का सेक्सी वीडियोकुछ देर तक भाभी की चूत को चाटने के बाद उसने भाभी के पैरों को फैला दिया. इसलिए बहुत बहुत शुक्रिया।वो कहते हैं ना के कभी कभी खुद की भी नज़र लग जाती है, ऐसा ही हुआ।मेरी सेक्स कहानी पढ़ कर एक लड़के ने मुझे ईमेल किया था फोटो के साथ। मुझे वो अच्छा लगा था दिखने में।जब भी वक़्त मिलता, उससे मेल या हैंगआउट पर बात होने लगी.

मैं तो ये सोच कर हैरान था कि ये साली पूरे शहर में केवल ब्रा में घूम रही है! पेट के नीचे कसी हुई जीन्स और उसके नीचे जूते.

नमस्कार दोस्तो, मैं मधु आप सभी का अपनी आत्मकथा में एक बार फिर स्वागत करती हूं।आप लोगों ने मेरी सेक्स कहानी के पहले भागपुराने सेक्स पार्टनर से चुदाई करवा ली-1पढ़ा कि रोहित ने मुझे गर्म किया और जब मैं चुदने वाली ही थी किपहले तो मैं प्यासी थी लेकिन अब लन्ड चूत में लेने के लिए व्याकुल हो गयी थी। मेरी हालत तब ऐसी हो गयी थी जैसे किसी ने जल में से मछली को निकाल कर गर्म रेत पर रख दिया हो. हम दोनों कुछ देर तक तो एक दूसरे की आँखों में देखते रहे और पता नहीं क्या सोचते रहे।वो मेरा बचपन का दोस्त था और मैं उससे बिल्कुल भी नहीं शर्माती थी. कुछ देर तक मैं वैसे ही खड़ी रही और पिछले एक घंटे में जो कुछ हुआ वही सब दिमाग में चलने लगा.

पहले एक बार खेत में राउंड लगा कर आते हैं और उसके बाद दोनों साथ में ही सो जायेंगे. अब सभी की साँसे गर्म हो चुकी थीं और कमरा का माहोल पूरा वासनामय हो चुका था. अचानक उसको पता नहीं क्या हुआ कि उसने मेरा हाथ पकड़ा और अपनी लोअर के ऊपर से ही अपनी चूत पर मेरे हाथ को रगड़ने लगी.

करीना की सेकसी

अमन- लगता तो तू अच्छा है … फिर भी?मैं- पता नहीं यार मेरी हिम्मत ही नहीं होती, तू बता तेरी कोई है?अमन- नहीं … अभी तो कोई नहीं है. मैं भी एक हाथ से भाभी के मम्मों को दबाने लगा और दूसरे हाथ से भैया का लौड़ा सहलाने लगा. उन्होंने कहा- उई मर गई … साले दीपू अब ये तेरी ही चुत है … प्लीज धीरे धीरे चोद ना यार.

मैं अगली सेक्स स्टोरी भी बहुत जल्द भेजूंगा, जिसमें मेम की एक सहेली को मैं अपने लंड के लिए कैसे तैयार किया और उनकी चूत की चुदाई की.

मैंने अमन से पूछा- हम जा कहाँ रहे हैं?तो उसने बताया- हम मेरठ जा रहे हैं.

उसने तो एक बार हंस कर कह भी दिया- मैं तो रात भर तुम्हारा इंतज़ार करती रही. अब मनोज नीचे से दीपा के पैर अपने पैर से सहलाने लगा और सुनील की ओर करने लगा. नंगी सेक्सी भेजोलंड के घुसते ही माँ के कंठ से आह की आवाज आई और उन्होंने शान का लंड लील लिया.

मैंने उसके गालों को अपने हाथों में पकड़ा और उसके होंठों को जोर से चूसने लगा. आआआह … ईस्स … ये क्या कर रहे हैं पिताजी?”बेटी कभी किसी ने इस छेद को प्यार किया है?” महेश ने ज्योति की गांड में उंगली अंदर बाहर करते हुए पूछा।आआ … जी किसी ने कभी नहीं किया. उन्होंने मेरे हाथ को अपने बूब्स के ऊपर से झटका दिया। उनका पूरा पिछवाड़ा मेरे वीर्य से गीला हो गया था तो वो कुछ देर वैसे ही रही और फिर उठ करके कॉफी लेकर पीने लगी।भला हो इस कॉफी का … जिसकी महक ने हमारी महक को दबा दिया था।मैं कुछ देर अभी हुए सेक्सी अनुभव में डूबा हुआ लेटा रहा फिर उठ कर बाथरूम में चला गया.

अमृता- क्या हुआ मौसी?अमृता की मौसी अनिता बोली- कुछ नहीं, वो छिपकली मेरे पैर के पास गुजर गई तो मैं डर गई. मैंने ये सब दिमाग से निकाल कर ‘मुख्य’ काम पर ध्यान केन्द्रित किया। शायद यही इधर उधर की बातें जो दिमाग में आ रही थी, ये भी मुझे झड़ने से रोक पा रही थी.

उसने मुझे होंठों पर एक किस दिया और बोली- आज तुमने जो खुशी दी है, मैं जिन्दगी भर तुम्हारी आभारी रहूंगी.

मेरी बीवी की गीली ब्रा बार-बार उसके बूब्स पर से फिसल कर नीचे जा रही थी और कई बार उसके बूब्स अपने जोड़े को छोड़कर बाहर झांक चुके थे जिनको वो बार-बार ढकने का व्यर्थ प्रयास करती दिखाई दे रही थी. हल्की चांदनी की रोशनी में हमारे दोनों के नंगे बदन खूबसूरत लग रहे थे. नायरा, पिंकी, सीमा और शबनम हर सोमवार को साथ मॉल में घूमने और हर बृहस्पतिवार को कभी किसी कि कभी किसी के घर दोपहर से शाम तक इकठी होकर मस्ती करती हैं.

सेक्सी नंगी चूत की चुदाई कहानी के पिछले भाग में आपने पढ़ा कि मैंने अपनी साली राखी की चूत चुदाई कर डाली थी. जब उस दीवार पर लंड जाकर लगता तो लेडी डॉक्टर के चेहरे पर अलग ही आनंद छलक पड़ता.

एक दिन भाभी एक छुई-मुई सखी को लेकर आईं और मुझसे भाभी बोलीं- थोड़ा इसको संतुष्ट कर दो … बेचारी अभी भी अतृप्त है. सुनील ने 5-7 मिनट की रेलमपेल क बाद अपना माल दीपा की चूत में ही निकाल दिया और थक कर एक ओर लेट गया. उनका सिल्क वाला चूड़ीदार सूट का कुरता घुटनों तक किया और उनके नीचे से घुस गया.

बिहारी देहाती बीएफ

1 दिन उसने मुझे सुबह कॉल किया और बोला- आज कॉलेज मत जाना, कहीं बाहर चलेंगे. वहां चाची को छोड़कर आने का मेरा मन ही नहीं हो रहा था, फिर भी पढ़ाई के लिए आना पड़ा था. इससे भी आगे बढ़ कर हम अब हालत ऐसी होती जा रही थी कि पहले जहां बाकी कपल्स की नजरों से काफी दूर होकर भी हमारी बीवियों को कपड़े उतारने में संकोच हो रहा था, अब वही बीवियां हम दोनों मर्दों के आधे नंगे जिस्मों से नागिन की तरह लिपटने लगी थीं.

वो पूछने लगी कि मैं कहां पर हूं?मैंने कहा- रात में तुमने कुछ ज्यादा ही पी ली थी. कुछ ही देर बाद पूजा ने अमित के लन्ड को छोड़ मुझे दोनों हाथों से कस लिया.

निधि जोर जोर चीखने लगी।काफी देर चुदायी के बाद निधि झड़ गई।नित्या बोली- रात भर निधि की चूत चुदायी की, अभी भी इसी की की.

” महेश ने अपने बेटी को कमर से पकड़ते हुए बेड पर बिठाते हुए कहा और खुद भी अपनी धोती को उतारकर उसके साथ बैठ गया।नहीं पिता जी, मुझे शर्म आती है. साथ ही साथ समुद्र की लहरें चट्टानों तक आकर मजे को दोगुना कर देती हैं. कुंवारी लड़की की चुदाई की कहानी के पहले भागभाभी ने कुंवारी लड़की की चूत चुदवा दी-1में अपने पढ़ा कि मेरे पड़ोस की भाभी की चुदाई मैं करता था.

उनकी मैरून कलर की लिपिस्टिक के दाग मेरे लंड पर लग गए थे, जो और मुझे उकसा रहे थे. मैंने सारा पानी उसकी चूत में छोड़ दिया और वो मुझे फिर होंठों पर किस करने लगी. विनय मेरी गांड में जीभ डाल कर दो उंगलियों को मेरी गांड में घुसा रहा था … जिससे मेरी गांड मुलायम हो रही थी और लंड के लिए रेडी हो रही थी.

आपको सरेआम अंग प्रदर्शन करती सेक्सी लड़कियां या फिर चूमा-चाटी करते हुए कपल्स दिख जायें तो कोई हैरानी न होगी.

विदेशी बीएफ भेजो: मैं अपने दोनों हाथों से अपनी गांड को उठा रही थी और सुहास के लंड पर जोर जोर से उछल रही थी. संदीप का लंड कैसा था या कितना बड़ा था, ये बिना लंड देखे कहना मुश्किल था, लेकिन पैंट के ऊपर से ही उसके बड़े लंड का अहसास आसानी से हो रहा था.

इसमें क्या बुरा है?मैंने आशीष को बताते हुए कहा- रही बात मेरी बड़ी दीदी की तो मैंने उनके बारे में सिर्फ सुना है. कुछ देर बाद मैंने फिर से लंड को सुपारे तक बाहर निकाला कर और लंड पर तेल गिरा कर एकदम से ही पूरा अन्दर पेल दिया. उनके कान की लौ को अपने मुँह में लेकर उसके कानों को ज़ोर ज़ोर से चूसने लगा.

मैं एक बार वन्दना को अकेले में चोदना चाहता था तो मेरे दिमाग में एक आईडिया आया.

जैसे ही मैं कुतिया बनी तो उसने पूरा लंड मेरी गांड के अंदर बहुत जोर से पेल दिया. गैर मर्दों ने मेरी चूत की चुदाई की है लेकिन प्यार मैं तुमसे ही करती हूं. मैं समझ तो नहीं पाया कि वो तीनों आपस में क्या बातें कर रही थीं मगर कुछ तो बात थी जो वो आपस में एक दूसरे को बता रही थीं.