हिंदी बीएफ नई बीएफ

छवि स्रोत,सनी लियोन की चूत की फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन चुदाई व्हिडिओ: हिंदी बीएफ नई बीएफ, आंटी कहने लगी- अब मेरी कोई उम्र है मालिश करने की, मेरे हाथों में जोर नहीं है, तुम ऐसे करो जो भी करवाना है, राज से करवा लो.

एक्स एक्स बीपी बीपी

थॉमस मुझसे बोला- अंजलि, तुम वहां रोहन के पास क्या कर रही हो, अब तुम कुछ दिनों के लिए मेरी पार्टनर हो. भाई बहन की सेक्सी वीडियो फिल्मक्या आप मुझे माउंट आबू तक लिफ्ट दे सकते हैं?मैं सोच में पड़ गया कि अनजान लड़की है … क्या इसे लिफ्ट देनी चाहिए या नहीं?मैंने कुछ देर सोचा और कहा- वैसे तो आप मेरे लिए अनजान हैं और मैं आपके लिए अनजान हूं.

तरबूज के आकार की चूचियों वाली वो भारी भरकम औरत पीछे खड़ी हुई मेरी मां के साथ कुछ बात कर रही थी. બ્લુ ફિલ્મसाली जी, देखो हम यूं प्यार करते करते अब इतनी दूर आ चुके हैं कि अब वापिस लौटना असंभव है.

उसने मुझे जो कहानी लिख कर भेजी है, उसे आप उसी के शब्दों में पढ़ें और आनन्द लें.हिंदी बीएफ नई बीएफ: नेहा की गांड में संजय का पूरा लंड घुस चुका था और नेहा आँखें कभी बंद करती और कभी खोल ले रही थी.

मेरी आंटी, अंकल के जाने के बाद छत पर ठंडी हवा में बैठने आ जाती थीं और वहीं पर मुझसे बातें भी करती थीं.जैसे ही वो बेड की ओर जाने लगी तो मैंने एक बार फिर से उसे पकड़ कर खींच लिया.

मां बेटे में एक्स एक्स एक्स वीडियो - हिंदी बीएफ नई बीएफ

ऐसी ही बात निकली, तो मैंने पूछ लिया कि तुम ऐसे ही अकेली बोर नहीं होती हैं.वो भी साला कुत्ता मादरचोद मेरे मुँह को अपने लंड से चोदने का मजा ले रहा था.

आज एक बात बड़ी चकित करने वाली थी कि जो औरत कुछ दिनों पहले मुझे लाइट में नहीं चुदती थी, जो बस टांगें उठा कर अपनी चूत को शांत करवाती थी. हिंदी बीएफ नई बीएफ उसके उरोजों के शिखर पर भूरी चोटी तनी हुई थी जो उसकी उत्तेजना का परिचय दे रही थी.

उसने मेरे जिस्म के किसी कोने को छोड़ा ही नहीं और न ही एक जगह ज्यादा देर रूकी.

हिंदी बीएफ नई बीएफ?

फ़िर छोटी चाची उठीं और मेरे बराबर बैठ कर वो भी बड़ी चाची की चुत साथ में चाटने लगीं. फिर वो मेरे साथ सोने कि जिद करने लगी, मुझे थक हार उसे अपने साथ सोने देना पड़ा. वो चूत को पूरा ऊपर ले लेती जिससे लंड की सुपारी का थोड़ा सा भाग चूत में रह जाता.

मैं अब उसकी मोटी-मोटी रानों को चूमने लगी और योनि के किनारे वाले हिस्से को जुबान से चाटने लगी. लेकिन मैंने अपना काम जारी रखा और कुछ धक्कों के बाद आंटी की चूत अपने वीर्य की गर्म पिचकारियों से भर दी. नीरा कुछ नहीं बोली, चुपचाप तड़पती रही और मेरी कमर को पकड़ कर अपनी तरफ खींचने की कोशिश करती रही.

लम्बे अरसे से शायद लौड़ा नसीब नहीं हुआ थामेमरानी ने अब तीव्र चुदास से भरकर हौले हौले धक्के देने शुरू किये. दोस्तो, जब किसी से प्यार करो … ख़ासकर शादीशुदा से तो उसकी इज़्ज़त का हमेशा ध्यान रखो … कभी भी उसको परेशान ना करो. मैंने आँटी से कहा- आँटी, अँधेरे में मुझे आपका सेक्सी शरीर दिखाई नहीं दे रहा है, लाइट जला लें?आँटी कहने लगी- जलाओ, मैंने भी तुम्हारे लण्ड को देखना है.

अब मामी जब भी नहाने जातीं तो फोन पर अपना मदमस्त जिस्म मुझे ज़रूर दिखाती थीं. मैंने एक बार कूपे में घूम कर देखा, तो इस बार हम दोनों के सिवाय डिब्बे में कोई नहीं था.

धीरे धीरे जब उसका काला नाग मेरी ज्वालामुखी के सुरंग में पूरा घुस गया, तो वो रुक गया और मेरी तरफ देखने लगा.

बाकी दिनों तो मैं उसे देखते ही छुप जाता था या फिर किसी दूसरे रास्ते वहां से निकल‌ जाता था … मगर आज मैं छुपा नहीं, बल्कि उसके सामने ही रोजाना की तरह घर के लिए पैदल चल पड़ा.

मेरी बात सुनकर उन्होंने कॉफी ऑर्डर कर दी और हमने साथ में बैठकर कॉफी पी।फिर वे मेरे पास आकर बैठ गए। उन्होंने मेरा हाथ अपने दोनों हाथों के बीच में ले लिया और उसे जोर से दबाने लगे।वो मेरी आंखों में देखने लगे. अगर आपरेशन नहीं कराया तो भविष्य में समस्या बढ़ सकती है, स्तन कैंसर हो सकता है।मम्मी के भी बात समझ में आ गई और आपरेशन कराने के लिए तैयार हो गयी।लेकिन मेरा मन आपरेशन के लिए बिल्कुल भी नहीं था. तभी लेडी बोली- हाँ हमने देखा है और हमने पुलिस को बुलाया है।मैंने कहा- ठीक है, आप भी थाने चलो और अपने नाम से रिपोर्ट लिखवाओ और फिर कोर्ट में भी गवाही देना.

बस ऐसी ही!तभी वो मेरे पास आई और बोली- कल के लिए आपके कौन कौन से कपड़े पैक करने है?मैंने उसे बांहों में कसते हुए उसके गाल पर किस किया और बोला- वो कल देखेंगे कि कौन कौन से पैक करने हैं. मैंने बियर का कैप खोला और चियर्स बोल कर हम दोनों बियर की चुसकियाँ लेते हुए खाना खाने लगे. रजत भैया कम्पनी में सीईओ हो गए हैं और शशि भाभी एक मैनेजमेंट कॉलेज में लेक्चरर हो गई हैं.

रानी ने आते ही अपनी चूत को लौड़े के सुपारी पर टिकाया और थोड़ा सा नीचे को चूत सरकायी जिससे लंड का टोपा चूत में चला गया.

इतने में जीजू बेशर्मी से बोले- अरे मेरी रानी … अगर तू बोल तो तेरी दीदी के सामने तुझे पटक कर चोद दूं. एक बात बताओ, ये इतना अनुभव कहां से आया? अभी तक कितनी लड़कियों के साथ सेक्स कर चुके हो?मैं- भाभी ये सब मेरे अन्दर की फीलिंग्स हैं, जो अन्तर्वासना पर पढ़ी सेक्स कहानियों और अलग अलग साइट्स पर सेक्स वीडियोज को देख देख कर विकसित हुए हैं. हम चारों के मुंह से सिसकारियां निकल रही थीं और चारों ही चुदाई में पूरी तरह से लीन हो गये थे.

फिर मैंने पूछा- तुम्हारे बच्चे कहां हैं?वो बोली कि वो आज उनके नानाजी के यहां गांव गए हैं. तुझे मेरी सारी गंदी गंदी फेंटेसी पूरी करनी पड़ेंगी। मैं फ्री में तुझे 10 लाख नहीं दे रहा. लेकिन शादी के बाद भी ये सब होना है और अब भी सब हो रहा है, सो मैंने सोचा कि जो होगा देखा जाएगा.

मैं भाभी के पंजों पर थोड़ा सा तेल डाला और हाथ से थोड़ा दवाब बना कर उनके पंजे से टख़नों तक की मालिश करने लगा.

उसी दौरान मेरा हाथ ग़लती से भाभी के हाथ पर रख गया और भाभी ये देख कर मुस्कुराने लगीं. वो बेड से उतरी और जैसे ही बाथरूम की तरफ जाने लगी उसे एकदम चक्कर आया और उसने दुबारा मुड़कर बेड पकड़ लिया.

हिंदी बीएफ नई बीएफ तभी नेहा की गांड में संजय ने एक झटका लगाया जिससे नेहा की चीख निकल गयी और वो बोली- उफ्फ्फ … आह्ह्ह … मर जाऊँगी मैं सालों, गीत साली रहने दे तू!मैंने संजय को झटका लगाने से मना किया और नेहा को बोला- साली पहले भी तो तूने बहुत बार गांड और चूत एक साथ चुदवाई है, आज क्या हो गया?नेहा बोली- आ जाओ, लंड डाल दो, मना नहीं करुँगी … अह्ह्ह … उफ्फ्फ … ये डिल्डो की बात और है. शायरा ने पहले तो अपने बदन को कड़ा करके मेरे किस से बचने का प्रयास किया, मगर जब मैं उसके घुटनों को चूमते हुए ऊपर उसकी जांघों की तरफ बढ़ने‌ लगा, तो उसने अपने आप ही पैरों को सीधा कर लिया.

हिंदी बीएफ नई बीएफ इतने में वो मुझसे दूर होकर बोलीं- ये तुम क्या कर रहे थे?मैंने बोला- आप मुझे बहुत अच्छी लगती हो. जितनी देर मैं भाभी की चूत को चूसता रहा, उनकी सांसें तेज़ आवाज में निकलती रहीं- आह आहहा … आहहाअह.

मैं- अब क्या हुआ?वो- तुम चलोगे या फिर इनके साथ ही जाना है?मैं- चल तो रहा हूँ.

मारवाड़ी देसी सेक्स वीडियो

फिर थोड़ी देर बाद रोहन बोले- मैं ऐसा करना नहीं चाहता, पर अब हमें ऐसा करना पड़ेगा. पर उसके बाद ये अंतर बढ़ जाता है … और बच्चे पैदा होने के 1-2 साल बाद तो पति-पत्नी में सेक्स की चाह घटती चली जाती है. मैसेज पढ़ते ही बूढ़े का फोन आ गया और बोलने लगा- मैं तो कब से बेकरार हूँ तुम्हारी फुद्दी देखने के लिए! तुम मिलो तो सही!फिर मैंने बूढ़े को भी अपने रूम में आने के लिए कहा तो बूढ़ा पहले तो कुछ घबराने लगा.

मैंने उसकी पीठ पर लदते हुए उसकी चूचियों को पकड़ लिया और चूचियों को मसलते हुए उसकी चुत का भोसड़ा बनाना शुरू कर दिया. डाक्टर बोला- कि उस दर्द को बाद में देख लेंगे।फिर डाक्टर ने मेरे स्तन छोड़ दिये और मुझे स्ट्रेचर पर लेटने के लिए कहा. मेरे मुंह से जोर जोर से सिसकारियां निकलने लगीं- आह्ह … स्स् … ओह्ह … भाईजान … उफ्फ … ऐसे न करो … आअहह … आईई … अम्म … आह्ह … भाईजान … आई लव यू भाईजान … आह्ह … मैं झड़ने वाली हूं.

वो मेरे साथ बैठ गईं और बोलीं- तुम्हें मुझमें क्या पसंद आ गया है, जो तुम मेरी और अपनी उम्र का ख्याल भूल गए हो.

मेरे पास कन्डोम नहीं था, तो भाभी बोलीं- तुम ऐसे ही चोद दो … मैं दवा ले लूंगी. उसने मज़ाक़िया लहज़े में पूछा- तो तुम किसकी यादों में खोए हुए हो?मैं- उसका चेहरा अभी मेरे मन में साफ तो नहीं है, पर कोई है जो मेरी तन्हाई को दूर कर सकती है, बस उसी की यादों में खोया हूँ. मैंने मामी को बेड पर लेटा दिया और दो तकिया उठा कर मामी की गांड के नीचे रख दिए.

तब थॉमस ने मुझसे बोला- अंजलि, मुझे तुम्हारी बहुत याद आ रही है, कुछ करो. अब जैसे ही मेरा स्खलन पूरा हुआ तो मैंने देखा इधर मेरे पास ही संजय ने भी अपने लौड़े की धार नेहा के होंठों और मम्मों पर गिरा दी थी और नेहा संजय के लंड को पकड़ कर उसकी मुठ मारे जा रही थी. खुद को गालियां देते हुए वो अपनी गांड को कामुक अंदाज में पीट रही थी.

वो- अरे अरे … ये क्या कर रहे हो? मैं और बना देती हूँ ना … ये झूठे है मेरे. आह आह आह आह करते हुए मैं भी नीचे से चूतड़ कुदा कुदा के धक्के का जवाब धक्के से दे रहा था.

मेरी कामुक ज्वालामुखी जैसी चुत पर अपना मुँह रख कर चाटे और ज्वालामुखी से निकलते लावा को पी कर मेरी जवानी के इक इक कतरे को गड़प कर जाए. पहला ये कि मैं सूरज से ब्रेकअप कर लेती, क्योंकि वो मुझसे प्यार नहीं करता और उसका मतलब सिर्फ सेक्स से है. दोस्तो मैं उनके पास बैठा, तो उनके शरीर से बहुत अच्छी खुशबू आ रही थी.

अब तो बस कविता भाभी को चोदना ही बाकी रह गया था, मगर मैं भाभी की मर्जी से ही उनकी चुदाई का मजा लेना चाहता था.

मैं रोज दिन में रोहन के जाने के बाद थॉमस के घर चुदाई करवाने जाती थी या कभी कभी वो मुझे चोदने के लिए मेरे घर आ जाता था. वो निप्पल को चाटने के साथ-साथ काटने भी लगी और साथ ही मेरे लंड को अपनी मुट्ठी में भरकर अपनी चूत से लड़ाने लगी. आप मुझे मेल करके बताइए कि आपको ये हॉस्पिटल सेक्स कहानी कैसी लग रही है.

हालात को फिर से काबू में होता देख मैं काफी रिलेक्स हुआ और वापस सोफे पर बैठ गया. मैंने सिर उठा कर पैंटी जैसे पहनने वाला डिल्डो उठाया और गीत को पहनने को बोला.

बहुत मुश्किल से जैसे तैसे मैंने खाना बनाया और खाकर सोने की तैयारी करने लगी. मेरे मुंह में दर्द होने लगा था तो मैंने उनके लंड को मेरे मुंह से बाहर निकाल दिया. मैंने पूछा- इसका क्या करेंगी?भाभी बोली- देखती रहो, यह लण्ड का काम करेगा.

देसी एक्स

इससे पहले कि मैं कुछ समझ पाती, उसके लंड ने वीर्य छोड़ दिया और इसके बाद ढीला पड़ कर छोटा हो गया.

मैंने उससे पैग बनाने का इशारा करते हुए कहा- क्या बता दूं?फिर वो एक लार्ज पैग मेरे हाथ में देते हुए बोला- फूफाजी अनु मुझसे खुश नहीं रहती. आदमी तो बिल्कुल साधारण था लेकिन उसके साथ जो लेडी थी वह बला की सुन्दर, दूध जैसी गौरी, हसीन और गजब की सेक्सी लेडी थी. लेकिन मैं आपकी कहानियों को पढ़कर आप से करीब दो-तीन महीने पहले से बात करने की कोशिश कर रही हूं.

ये देख कर मैंने देर ना करते हुए लंड एक ही ज़ोर के झटके में चुत की जड़ तक अन्दर पेल दिया. [emailprotected]भाभी का सेक्स कहानी का अगला भाग:भाभी का सेक्स करने का मन था-2. ब्लू फिल्म ब्लू फिल्म ब्लूउसके बाद वो किस करते हुए अपनी जीभ से मेरे पेट और नाभि पर चूमने लगे.

ममता जी को अब कॉलेज तो जाना नहीं था … इसलिए मैंने उनके घर के लिए उन्हें वहीं से एक ऑटो रिक्शा में बिठा दिया. जैसे इन दो दिनों में तुमने मेरा जो पानी छुड़वाया है, ऐसा तो मेरा कभी हुआ ही नहीं.

वप बोली- राज चोदो मुझे … और चोदो आह हहह आहहह हह ओहह हहहह … और तेज़ करो। एक महीने से मुझे लंड नहीं मिला. तभी रोहन मेरी टांगों और लंड के आसपास के बाल देखकर मुझे वीट क्रीम देते हुए बोला- जाओ बाल साफ़ करके आओ. जैसा कि आप सभी पता है कि मैं हमेशा छोटी साइज की ही ब्रा पैंटी पहनती हूँ.

मैं उस छोटी ड्रेस को एक हाथ से नीचे खींच के अपने घुटनों तक सरकाने की कोशिश कर रही थी. देसी वर्जिन सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि भाभी ने मेरी कुंवारी बुर की गरमी को पहचान कर मुझे सेक्स का मजा देने के लिए नंगी कर लिया. अनीता ने कमल को इशारा किया- साली कमीनी … ये आज ही क्यों आ गई!कमल ने अपनी विवशता जताई.

थोड़ी ही देर में मेरा लण्ड कड़क हो गया तो दादी ने मेरा लोअर नीचे खिसकाया और मेरा लण्ड चूसने लगी.

फिर यूं उसके उठे हुए चूतड़ों के पीछे रोहित आ गया और उसने हिना के पीछे खाली पड़े गुदा द्वार में अपना लिंग घुसा दिया। दो-दो मोटे लिंग से उसके छेद भर गये।वे दोनों अब अलग-अलग रिदम में कमर चलाते उसे चोदने लगे।मेरे लिये उसका मुंह बचा था तो मैं उसके मुंह की तरफ आ गया और उसने बड़ी सहजता से मेरे लिंग को मुंह में ले लिया. मैंने लेट कर पहले अपनी टांगें खोलीं और मेरी अगल बगल में खड़े दो लोगों के लंड अपने हाथों में पकड़ लिए.

बाभी Xxx हिंदी कहानी में पढ़ें कि मेरे नये किरायेदार कपल ने मुझे डिनर पर बुलाया. झांटें छोटी छोटी होने से चूत की गुलाबी त्वचा नुमाया होकर अलग ही मस्त नजारा पेश कर रही थी. जीजू बोले- यार तुम्हें तो पता ही है कि शादी से पहले से ही मैं तुम्हारा कितना बड़ा दीवाना हूँ.

शमा बोली- अरे पागल हो क्या … क्या कह रहे हो दीदी जी से!मैंने कहा- अरे नहीं, कोई बात नहीं, तुम छू सकते हो. लेकिन धीरे धीरे जब मैंने फेसबुक की दुनिया में कपल फ्रेंड से बात की तो पता चला ये सब सच है. एक दिन छोड़ कर पट्टी बदली जायेंगी।अब हर दूसरे दिन भैया के साथ बाइक पर मैं पट्टी कराने जाती थी.

हिंदी बीएफ नई बीएफ उनके गुलाबी होंठों को स्ट्रॉबेरी लिपस्टिक का फ्लेवर मिलने से लिपलॉक किसिंग का मज़ा और भी ज्यादा आने लगा था. तो उसने टावेल के ऊपर से ही मेरे लिंग को कस के दबा दिया और कहा- हड़बड़ी में गड़बड़ी मेरी आदत नहीं! अभी आप तैयार हो जाइये और लंच कर लीजिए, आपसे रात को मुलाकात होगी।उसके बाद उसने मुझे छोड़ा और कहा- अब मैं कुछ जरूरी बातें बता रही हूँ, उनका ध्यान रखना.

मौसी सेक्स वीडियो

मैंने पूछा- भाभी आपकी सेक्स लाइफ?भाभी थोड़ी उदास हो गई और बोली- मेरी सेक्स लाइफ बिल्कुल बेकार थी. मैं आशा करती हूं कि Bhai Bahan Xxx कहानी आप चाव से पढ़ेंगे, यदि कुछ कमी रह जाये तो मुझे बाद में बता सकते हैं. आंटी ने मुझसे कोई कपड़ा मांगा तो मैंने पैंट में से अपना हैंकी निकाल कर दे दिया.

मैंने उन दोनों से कहा- तुम दोनों पहले नहा लो, मुझे बाल हटाने में टाइम लगेगा. मैंने भाभी से कहा- मेरी जान, मैं भी दिल से तुम्हें अपनी बीवी का दर्जा दे चुका हूं. अंडर बुब्स सेल्फीमुझे एक ही ख्याल आ रहा था कि अगर मैं आज चूका तो फिर शायद कभी भी सलोनी भाभी के प्यार को ना पा सकूंगा.

अगर मेरी बात करें तो मैं भी काफी सुंदर हूँ, रंग गोरा है और चेहरा भी बिल्कुल साफ है.

भाभी लाल साड़ी में पूरे मेकअप के साथ एकदम स्वर्ग की अप्सरा लग रही थी. गीत ने उस डिल्डो के एक साइड के लंड को अपनी चूत में लिया और उसकी बैल्ट को पैंटी जैसे अपने चूतड़ों पर पहन लिया.

मुझे देख कर रोती हुई सूरत में रंजू ने कहा- मैं महंत का बड़ा लंड नहीं ले सकती. मैं निशु को कुर्सी पर बैठने को बोला और मैं और रोहन उसका मेकअप करने लगे. मैं एक भूखे हब्शी की तरह उनके दोनों चूचों को बारी बारी से चूस रहा था.

फिर उसने मेरे लंड को देखा और अपनी ड्रेस ऊपर करके अपने चूचे मुझे दिखा दिये ताकि मेरा लंड फिर से खड़ा हो जाये.

मैंने उसे उठा कर पलंग पर लिटा दिया जहां दीपक बेसुध पड़ा था।मैंने भाभीजान की दोनों टांगों को फैला कर चूत के दर्शन किए. फिर जैसे ही उन्हें होश आया कि मेरा हाथ उनकी चुत को छू रहा है, वो आह भरती हुई मुझसे छूटने की कोशिश करने लगीं. जब डाक्टर साहब कह रहे हैं तो उतारने में क्या परेशानी है?और इतना कहते ही मम्मी ने पीछे से मेरी ब्रा का हुक खोल दिया और मैं ऊपर से नंगी हो गई.

तमन्ना xxxसच में शायरा की चूचियां इतनी टाईट और कसी हुई थीं कि उसके पति ने तो क्या … शायद खुद शायरा ने भी कभी उनको हाथ नहीं लगाया था. जिस दिन तू यह सोच लेगा और मेरी प्यास बुझाने की व्यवस्था कर लेगा, उस दिन से तुम जितना मन में आए, उतना मेरे साथ सेक्स कर लेना.

नेपाली सेक्सी चुदाई

मगर पहले आप मेरी इंडियन हॉट गर्ल सेक्स स्टोरी पर आप कमेंट जरूर करें, मुझे मेल करें … मुझे इन्तजार रहेगा. सूरज बोला- अरे सुहानी इनसे शर्माने की कोई जरूरत नहीं है, ये भले ही मेरे चाचा हैं … पर हमारा रिश्ता बहुत अच्छे दोस्त का है. मैं आश्चर्यचकित रह गई कि ये साली इतनी बड़ी चुदक्कड़ है कि अपने ही भाई का लंड खा गई.

मैंने भी कल्पना में उसको पीछे से पक़ड लिया और अपने लंड को उसकी पैंटी में घुसाकर उसकी गांड की दरार में रगड़ने लगा. अंकल जी का प्रॉपर्टी का काम था, जिसमें उनका बेटा रिलेश उनकी मदद करता था. आप ही चाहे दो के बजाय चार मार लो!उसकी बात सुनकर मेरी हंसी छूट गई और ज़ारा भी खिलखिला पड़ी!मैं- देखा कितना डरा हुआ है तुमसे!ज़ारा- क्यों बे ज्यादा डर लग रहा है मुझसे?लड़का- हां दीदी!ज़ारा- जान! आप मारो!जिस तरह से उसने ये कहा मेरी फिर हंसी छूट गयी और मैंने हंसते-हंसते ही खींच के दो डंडे मारे उस लड़के के पिछवाड़े पर!लड़का बिलबिला गया.

उसका मेरे लंड को चूसना मुझे ऐसा अहसास दे रहा था कि मानो मैं जन्नत की सैर कर रहा हूं. नैना दूध चुसवाते हुए बोली- आह … बहुत मज़ा आ रहा है … रमित …उसने अपनी कमर की स्पीड बढ़ा दी. मैंने कहा- तुम दोनों इकठ्ठे बाहर जाओगे तो किसी को शक हो जाएगा इसलिए एक एक करके बाहर जाओ.

मैं मर जाऊँगी अगर आपने मुझे बिना कपड़ों के देखा तो!” साली जी फिर से घबराते हुए बोली. अब मैं रोज ही सुबह से भैया के घर चला जाता था और भाभी की मस्त जवानी को अपनी आंखों से चोद कर मजा लेने लगा था.

अन्तर्वासना में एक सेक्स कहानी ऐसी थी, जिसमें मेरे जैसी ही लंड से वंचित लड़की, अपनी सहेली के आशिक के लंड से चुद जाती है.

मेरे गांड का छेद ही जैसे धीरू अंकल के लंड को न्योता दे रहा था कि मेरी आ लंड और मेरी गांड फाड़ दे. बड़े लंड की सेक्सथोड़ी देर यूं ही चुम्बन और आलिंगन करने के बाद मेरा भी मन होने लगा कि कविता के बदन से खेलूं. जंगली एक्स एक्स” रानी ने धीमे धीमे तड़पते तड़पते, तड़पाते तड़पाते चूत में लंड को लीलना शुरू किया. उसने झट से दोनों हाथों से सलवार पकड़ ली और बोली- देखो जीजू, आप ऊपर ऊपर से जो चाहो सो कर लो! पर मेरे साथ अभी वो काम मत करो प्लीज! जीजू मैं सच में बिल्कुल कोरी कुंवारी हूं.

भाभी ने जैसे ही ड्राइंगरूम के दरवाजे की कुंडी लगाई, मैंने उन्हें पीछे से बांहों में भर लिया.

मगर मैं जानता था कि उसके लिए ये सब आसान नहीं होने वाला।मैं सोच रहा था कि किस तरह से उसकी चूत की सील तोड़ू क्योंकि चूत का छेद बहुत छोटा था और मेरा लंड काफी मोटा।अगर मैं जल्दबाजी दिखाता हूँ और जोश में आकर लंड उसकी पुद्दी में पेल देता हूँ तो पुद्दी बुरी तरह फट सकती थी।मुझे काफी सावधानी बरतने की जरूरत थी।तब मैं बिस्तर से उठा और सरसों का तेल लेकर आया. फिर भाभी ने धीरे से लंड को अपने मुँह में ले लिया और प्यार से चूसने लगीं. अब मेरी भी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी थी और मैं वापस अपने मायके आ गई थी.

बड़ी मुश्किल से उठ कर मैंने पहले कपड़े पहने, फिर शमा के साथ घर समेटा. वहां पर ना तो कोई दुकान थी और ना ही कोई घर था, बस एक दो बड़े बड़े पेड़ ही थे … जिनके नीचे अब कुछ दो पहिया वाहन वाले जा जाकर खड़े होने लग गए. दोनों साथियों को चाहिए कि वो अपने आनन्द के साथ साथ अपने साथी के आनन्द और खुशी का ख्याल रखें.

चुत में लंड

नैना अपने फ्लैट पर चली गयी तो उसने देखा उसकी बहन सुरभि पहले से आ चुकी थी. रश्मि उसी नशीले अंदाज में बोली- तुमने अभी तक अपना लौड़ा नहीं दिखाया. उसने मुझसे नजरें मिलाकर बात नहीं की, बस इधर उधर ही देखती रही ताकि मैं शर्म से उसके चेहरे पर आई मुस्कान को ना देख सकूं.

आंटी ने मुझसे कोई कपड़ा मांगा तो मैंने पैंट में से अपना हैंकी निकाल कर दे दिया.

वो- क्या हर बात में भाभी भाभी करते रहते हो, लगता बहुत प्यार करते हो अपनी भाभी से!मैं- हां, वो तो है.

मैं बोला- भाभी आपकी अनुमति हो, तो आगे की कार्यवाही शुरू की जाए!वो हंसते हुए बोलीं- जी जहांपनाह … दासी आपके खड़े लंड की सेवा में अपनी खुली चूत लेकर हाजिर है. यारों जहां पर दिल मिले हों, वहां पर शब्दों का क्या काम … शाम को वो सामान लेकर मेरे रूम में ही आ गईं. भाभी देवर की नंगी पिक्चरमामी मुझे देख बोलीं- राहुल इतने उतावले क्यों हो रहे हो … क्या मैं कहीं भागी जा रही हूँ!मैंने कुछ नहीं सुना और उन्हें उठा कर अपने कमरे में ले आया.

तभी मैंने उनसे पूछा- कहां झाड़ना चाहते हो?तो उन्होंने कहा- मैं तो तेरी गांड में ही झड़ना चाहता हूं. मगर वो बहुत ज़िद करने लगा और बोला- चाहे थोड़ी देर के लिए ही मिल लो!मन तो मेरा भी कर रहा था मिलने के लिए! और चुत में खुजली भी बहुत हो रही थी. संजना ने बहुत ही छोटा सा स्लीवलेस बिना बाजू का ब्लॉउज पहन रखा था और नीचे उसका आधा सुन्दर, नर्म, गुदाज पेट और सुन्दर गोल अंदर धंसी हुई नाभि दिखाई दे रही थी.

बहुत मुश्किल से जैसे तैसे मैंने खाना बनाया और खाकर सोने की तैयारी करने लगी. मैं यकीनन ये कह सकती हूँ कि जिन लोगों ने नाग नागिन को लिपटते हुए देखा होगा, वो बड़ी सरलता से हमारी स्थिति को अपने मन में चित्रित कर सकते हैं.

फिर बूढ़ा खुद बैंच पर बैठ गया और उसने मुझे अपनी गोद में बैठने के लिए कहा.

तभी भाभी ने मुस्कुरा कर कहा- देवर जी इतनी भी क्या जल्दी है, अब तो मैं तुम्हारी ही हूं. खैर … उस दिन तो मैंने मौसी की पैंटी सूंघ कर मुठ मारी और सारा माल उनकी स्पोर्ट्स ब्रा पर गिरा दिया. कुछ देर तो मैं शांत रहा और जब मैं मूड में आया, तो मैंने उसे उठा कर अपने नीचे खींच दिया और उसके ऊपर आकर जबरदस्त धक्के लगाने लगा.

ஆபீஸ் செக்ஸ் வீடியோ मैं पाठकों का भी धन्यवाद करता हूं जिन्होंने मेरी कहानी को पसंद किया और मुझे अपने संदेश भेजे. मैं भी पिछले बहुत समय से कहीं घूमने नहीं गया था इसलिए मैंने भी तुरंत चाचा जी को हां कह दिया.

शादी के बाद मुझे पता लगा कि लंड का स्वाद क्या होता है?लेकिन मेरा पति एक सीधा सा इंसान था और उसको सेक्स का कोई बहुत ज्यादा चाव नहीं था. ये कहते हुए उसने अपनी पैंट कच्छे सहित उतार दी और उसका लंड उछल कर बाहर आ गया. फिर मैंने धीरू अंकल को बुलाया और उनके लंड से कंडोम निकाल कर उनका लंड चूसना शुरू कर दिया.

ब्लू फिल्म दे दो

अब आगे होमोसेक्सुअल स्टोरी:कविता लगातार एक ही लय में प्रीति की चूत में धक्के मारे जा रही थी और प्रीति भी उसी लय में कराहती हुई धक्कों का मजा ले रही थी. लगभग दस दिन बाद उसने मुझसे पूछा- मुस्कान और तेरे बीच क्या क्या हुआ था?मैंने उससे बोला- सिर्फ़ किस. मैं उसके मुँह से गाली सुनकर हंस दिया और उसकी गांड में लंड को धीरे धीरे पेलने लगा.

मेरी बात सुनकर उन्होंने कॉफी ऑर्डर कर दी और हमने साथ में बैठकर कॉफी पी।फिर वे मेरे पास आकर बैठ गए। उन्होंने मेरा हाथ अपने दोनों हाथों के बीच में ले लिया और उसे जोर से दबाने लगे।वो मेरी आंखों में देखने लगे. उसकी पैंटी ठीक मेरी छाती के ऊपर थी जिसमें उसकी फूली हुई चूत की शेप मुझे साफ साफ दिख रही थी.

वो जिक्र कभी फिर किसी और कहानी में करूंगा क्योंकि कहानी पहले ही काफी लंबी हो चुकी है.

मैंने चौंक के पूछा- ये रुस्तम कौन हैं मेमरानी?तू ही तो है और कौन कमीने … तेरा लिए रुस्तम अच्छा नाम लगा तो रख दिया … अब चुप करके चुदाई में ज़ोर लगा … माँ चोद दे. तभी रोहन मेरी टांगों और लंड के आसपास के बाल देखकर मुझे वीट क्रीम देते हुए बोला- जाओ बाल साफ़ करके आओ. फिर मुझे लगा कि पहले चैक कर लेता हूँ कि इसके साथ कोई और आदमी तो नहीं आया है.

अब रमेश खड़ा हो गया और अपना लंड रेहाना की गांड के छेद पर लगा कर पूरा उसकी गांड में उतार दिया. मैंने उसे एक दिन पूरा यही समझाया कि हम दोनों नाम का रिश्ता था, वो मेरी गर्लफ्रेंड सिर्फ नाम भर के लिए थी. भाभी ने अपनी चुत मुझसे कोई दस मिनट तक चुसवाई और फिर पीछे खिसकने लगीं.

मैंने उनसे कहा- मादरचोद ज्यादा ही अकड़ आ रही है क्या? निकल जाओ यहां से … वरना तुम सब की मां चोद दूंगी एक मिनट में! यह सब रंडीपना मुझसे नहीं होगा.

हिंदी बीएफ नई बीएफ: रॉनी भी मादक सिसकारियां लेने लगा- आहह अह ओह मज़ा आ गया जान आअहह … बस मेरा होने वाला है. बड़ी ने भी वीर्य चखा और मेरे लंड को मुँह में लेकर उसका बचा हुआ रस भी खा लिया.

मैंने भी उनके बदन से उनकी टीशर्ट और लोअर को उतारकर उन्हें नंगा कर दिया. फ्लैट का मालिक विदेश में रहता था और उसने मुझे ही फ्लैट की देख रेख करने और बाकी के दो कमरों और ड्राइंगरूम को किराए पर देने हेतु पावर ऑफ आटोरनी देकर इंचार्ज बना रखा था. कुछ देर बाद मौसी चुदासी सी बोलीं- अब देर न कर पहले जल्दी से मेरी चूत में अपना लंड डाल मेरी चूत फाड़ दे.

वो मेरी कहानी सुनकर काफी प्रभावित हुई और उसने मेरा उत्साहवर्धन भी किया.

इतने में ही गुड़िया आंटी आईं, जो कि मेरे बगल वाली बिल्डिंग में रहती हैं. और नीचे मेरे हाथ में लण्ड को आगे पीछे करते हुए उसने मेरे हाथ में ही वीर्य निकाल दिया. दूसरी तरफ मुझे बहुत डर लग रहा था कि कहीं मेरी किसी गलत हरकत से भाभी बुरा ना मान जाएं क्योंकि उनका बुरा मानना मेरी ज़िंदगी बर्बाद कर सकता था.