बीएफ सेक्सी देहाती जंगली

छवि स्रोत,नंगी बीएफ देखने वाली

तस्वीर का शीर्षक ,

हिजड़ों की बीएफ सेक्सी: बीएफ सेक्सी देहाती जंगली, उन्होंने बताया कि मेरा पति मुझ पर बहुत शक करता था और रात में शराब पीकर मुझे मारता पीटता भी था.

न्यू सेक्सी वीडियो बीएफ

थोड़ी देर बाद रेखा ने अपने एक हाथ से लंड पकड़ा और अपनी गांड ऊपर उठाकर अपनी चूत पर लंड का सुपारा रगड़ना शुरू कर दिया. साड़ी वाली भाभी की सेक्सी बीएफउसने मेरे साइड में लेट कर पहले अपनी एक उंगली केक में डाल कर और वही उंगली मेरे मुँह में रख दी.

फिर उन्होंने माँ के पेटिकोट का नाड़ा खोला जिससे उनका पेटीकोट नीचे गिर गया. बीएफ सेक्सी फिल्म नई नईचूंकि मेरी चूत एकदम गीली हो चुकी थी जिसके कारण उसका लंड एक बार में अन्दर तो चला गया लेकिन मुझे दर्द और जलन बड़ी तेजी से होने लगी.

पहले तो वो नखरे कर रही थी पर …साथियो, मैं चन्दन सिंह!मेरी पिछली कहानीबहन की चुदक्कड़ जेठानी को खूब पेलामें आपने मेरी बहन की विधवा जेठानी नंदा की चुदाई की घटनाएँ पढ़ी.बीएफ सेक्सी देहाती जंगली: बड़ी सहजता से मैंने कहा- मामी की बहन मामी ही हुई न!तभी अमरचंद ने अपने कमरे से आवाज़ लगाई- भांजे साब इधर आओ.

उसे घोड़ी बनकर चुदवाने में बहुत मजा आ रहा था, मुझे भी बहुत मजा आ रहा था.जितनी गर्मी हम दोनों के शरीर से निकल रही थी, उतनी मैंने इस मौसम में कभी महसूस नहीं की थी.

सेक्सी बीएफ एसएस - बीएफ सेक्सी देहाती जंगली

लेकिन एक बात है कि सिर्फ हम दोनों जा रहे हैं, साथ में और कोई नहीं है.वो मेरा मूसल लंड देख कर डर गई और बोली- हाय … इतना बड़ा … मैं नहीं ले पाऊंगी … मेरी तो चूत फट ही जाएगी.

उसने मेरी चूत में लंड पेल कर किसी इंजन के पिस्टन की तरह चुदाई चालू कर दी. बीएफ सेक्सी देहाती जंगली रेशमा का नंगा बदन मेरे नंगे बदन पर रगड़ रगड़ कर फिर से मेरे लौड़े में जान फूंक रहा था.

वो अपने अंडर गारमेंट्स उठाने के लिए, बड़ी कामुक मुस्कुराहट के साथ आगे बढ़ी.

बीएफ सेक्सी देहाती जंगली?

जब आंटी ने मुझसे कुछ नहीं कहा, तो मैंने भी उनको हिम्मत करके देखना जारी रखा. तब तक दूसरा वाला बाबा मेरी छाती पर चढ़ गया और एक ही बार में उसने अपने पूरे लंबे और मोटे लौड़े को मेरे मुँह में पेल दिया. जाते जाते मैंने शैली मामी को चुदाई के लिए एक मूक निमंत्रण दे दिया, जिसका उन्होंने जवाब तो नहीं दिया मगर ना भी नहीं कहा.

मैंने उसे पीले रंग वाली ब्रा पैंटी दी और कहा- लो इसे पहन कर रूम में आ जाओ. सेक्स कहानी के पहले भागपार्टनर की जवान बीवी पर दिल आयामें अभी तक आपने पढ़ा था कि किस तरह से सविता और अमित के तलाक के बाद मुझे एक बहुत बढ़िया मौका मिला कि सविता मुझसे दोस्ती के लिए तैयार हो गई थी और आज की रात मैं उसे चोदने वाला था. फिर हम दोनों अलग हुए और मैंने दीदी की साड़ी को खींच कर नीचे डाल दिया.

इसके बाद फकीर ने मेरी बीवी के हाथों को छूना चालू कर दिया और बोला कि तुम्हारे हाथ तो बहुत खूबसूरत हैं. नीचे से महंत का दो इंच मोटा और आठ इंच लंबा हब्शी लंड अर्चना दीदी की छोटी सी मुलायम चुत में अभी भी घुसा घुआ हुआ था. जैसे ही मेरी जीभ उसकी नाभि में घुसी, फ़लक की आअह्ह निकल गई और वो अपनी कमर ऊपर की तरफ झटकने लगी.

तब मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसे उठा कर दीवार के सहारे लगा दिया, उसकी चूत पर लंड सैट कर दिया और उसको धक्के मारने शुरू कर दिए. अब मैंने अपने दोनों पैर दोनों तरफ फैला दिए और सोनाली के दोनों पैर अपने कंधों पर रखकर लंड को अन्दर बाहर करने लगा.

हमारा इश्क़ कई महीनों से चल रहा था, आंखों में देखना, एक दूसरे को छूना, वो पहली बार खुल कर प्यार की बातें, वो उसका मेरे प्यार का इक़रार हम दोनों को कम उम्र के प्यार के जोड़े जैसी फीलिंग देते थे.

मैं- हां साली रंडी … चोद तो रहा हूं लेकिन अब तू मुझे पूरी जिन्दगी चूत देगी.

वो कोरोना और लॉकडान के चलते भारत वापिस आ चुका था और कोचीन में अपना फोटो स्टूडियो स्टार्ट करना चाहता था. मैंने कार्ड पलट कर देखा तो कार्ड पीछे पेन से नंबर और उसका नाम लिखा था- उपासना. ’फ़लक ने मुझे लिटा दिया और पहले मेरे माथे गालों और होंठों पर केक लगाया और चाटने लगी.

उनकी गांड पर मेरे अंडकोष लगने से थप थप की आवाज़ तेज हो गई थी और कमरे में चुदाई की आवाज गूंजने लगी थीं. वो छह महीने में एक बार ही आते थे और मुश्किल से एक हफ्ते रुकने के बाद चले जाते थे. नमस्कार दोस्तो, उम्मीद है आप सभी ठीक होंगे और अपने अपने तरीक़े से इस सर्दी का मज़ा ले रहे होंगे.

उन्होंने अपने अंगूठे से चूत को मसलना शुरू कर दिया और चूत से निकल रहा पानी उनके अंगूठे पर लग रहा था जिससे अंगूठा चिपचिपा हो गया और उन्होंने अंगूठा चूत में डाल दिया.

झुककर मैंने उसे अपने मम्मे दिखाए तो वो मेरे मम्मों की तारीफ़ करने लगा. अब मैं पीछे से उसके पूरे जिस्म को चाटने लगा और अपना लंड उसके गद्देदार गांड के बीच में फंसा कर चूतड़ मसलने लगा. भाभी शर्मा कर बोली- ऐसी बात नहीं … वो क्या है कि कि …वो बोलते बोलते चुप हो गयी.

कुछ देर तो उन्होंने जमकर एक दूसरे की जीभ चूसी।एक दूसरे का थूक चाट चाटकर अपने जिस्म की आग और भड़काते रहे।मगर अब वीरू ने अगला पड़ाव पार करने के लिए शब्बो को अपने आप से दूर किया और आनन-फानन में उसके कपड़े उतारने लगा. फिर ये बात उस समय की है, जब मेरे और मेरी गर्लफ़्रेंड शनाया के रिलेशन को पांच साल पूरे होने वाले थे और मेरी गर्लफ़्रेंड ने मुझे सरप्राइज़ देने का प्लान किया था. उन्होंने अपने पैरों को पूरा खोल दिया और मुझसे बोलीं- अच्छे से मालिश कर दो.

कुतिया … छोटी सी चूत वाली रंडी ये ले … चुद मां की लौड़ी लौड़ा खा … आह … तेरी मां की चूत … साली रांड आज तुझे चोद चोद कर नंगी नचवाऊंगा … साली चुदक्कड़ कुतिया.

मैंने कहा- फिर कैसे गांड में लंड पेलूँगा?वो बोला- मेरी सलवार नीचे करके मार लेना. मैंने उसके पैरों को थोड़ा और फैलाया, तो मुझे उसकी गांड का प्यारा सा छेद नजर आया.

बीएफ सेक्सी देहाती जंगली मेरी इस बात पर देविका ने मुझे अपने बांहों में कसकर चूमते हुए कहा- मैं सब सह लूंगी हर्षद. मुझे काले मर्द से पूरी नंगी, सिर्फ सेंडल पहनकर जंगलियों की तरह चुदना था.

बीएफ सेक्सी देहाती जंगली मैंने कहा- जानते तो सब हो, चूतिया होने का दिखावा करके मुझे चूतिया बना रहे थे, कभी किसी का हथियार ऐसे पकड़ा है?उसके दांत निकल आए. एक बार वो नंगी होकर अपनी चूत में खीरा डाल रही थी तो …यह कहानी पढ़ें.

सर ने मेरी एक लात कंधे पर रखी और दूसरी चौड़ी करके चूत में लंड पेल दिया; फिर मेरे ऊपर चढ़ कर बूब्स व होंठ चूसने लगे.

भूत की डीपी

रेखा- आह … आहह!वो कंपकंपाती हुई आह भर रही थी और कह रही थी- अंकल, आपका पानी बहुत गर्म है. अब मैं अपना दूसरा हाथ भी उसकी चूचों पर ले गया और उसकी चूचियों की मदद से उसके शरीर को अपनी गिरफ्त में ले लिया. मैं मेडिकल स्टोर पर गया और देर तक चुदाई करने वाली एक गोली लेकर आ गया.

वो बोली- क्या तुमने कभी उसके साथ रात बिताई है?मैं जानकर अनजान बन रहा था. सुनीता लंड को खड़ा होते देख कर गर्व से लंड हिलाने लगी और लंड से बात करने लगी. बात तो उसने बहुत ही सही बोली थी मगर ज़िन्दगी में पहली बार इतना मोटा और बड़ा लंड मेरी चूत में जा रहा था.

दोस्तो, मैं आपका साथी आजाद गांडू अपने जीवन की गे सेक्स कहानी का एक और मनोरंजक वाकिया सुनाने के लिए हाजिर हूँ.

इसके बाद वो मेरे पेट को चाटने लगी, मुझे गुदगुदी होने लगी और मज़ा भी आ रहा था. कुछ दिनों तक मैं ऐसी कोई भी हरकत नहीं की क्योंकि मेरे अन्दर काफी डर समा गया था. जब उन दोनों की चूचियां मेरी छाती में टच हो रही थीं, तब मेरा लंबा लंड खड़ा होने लगा था.

हालांकि ये बात भाभी के दिमाग़ में छप गयी थी कि मैं उन्हें अपनी जीएफ बनाना चाहता हूँ. चाची लौड़े से उठीं और अपनी चूत को मेरे लंड के ऊपर लगा कर ऊपर नीचे होने लगीं. अब मैंने एक लाल रंग की ब्रा एकदम खुली हुए पहनी, नीचे कसा सा पेटीकोट पहना जो मेरे घुटने तक था.

थरथराता बदन शांत होने का नाम नहीं ले रहा था, पर मेरे सर पर जैसे खून सवार था. वो बोली- साच्ची कहे है के!मैं बोला- झूठ क्यों बोलूंगा!वो बोली- के बात है … मन ना लग रहा के … जो तावला (जल्दी) जाव है.

आपको बता दूँ कि सोनम बहुत लौड़ों का स्वाद ले चुकी है, पर सती सावित्री बनना तो लड़कियों का स्वभाव होता है. उसकी खूबसूरती के बारे में मैं शब्दों में ज्यादा कुछ नहीं कह सकता थामैं बस उसे देखे ही जा रहा था. मैं चुदाई के दौरान उसके मम्मे भी मसल रहा था और उसकी पीठ पर चूमते हुए एक्सप्रेस ट्रेन की रफ्तार से धक्के मार रहा था.

पर तभी उसने थोड़े गुस्से वाली लुक दिखाई तो मैंने भी झैंप कर नजर झुका ली.

मैंने उसके बाल और ज्यादा खींच कर उसका सर पीछे की तरफ करके अपना लौड़ा उसके मुँह से बाहर निकाल लिया. मास्टर ने कहा- अभी इतनी जल्दी क्या है … अभी तो मुझे तुम्हारी चूत का रस चाटना है. उनसे पूछने पर मेरे पति ने मुझे बताया कि ब्लडप्रेशर के मरीजों को इस तरह की दवाएं हार्ट फेल का सबब बन सकती हैं.

उसकी उभरी हुई गांड मुझे मदमस्त कर रही थी जिसे मैं ट्रेन के कूपे में चोद नहीं पाया था. दीदी बोली- मेरे भाई, मैं प्रेग्नेंट तो नहीं हो जाऊंगी ना?मैंने कहा- नहीं!फिर वो कपड़े पहन कर दूसरे रूम में जाकर मम्मी के बगल में जाकर सो गयी.

पीछे से लगा दूसरा बाबा मेरी गांड में लंड लगाए फायर करने को तैयार था. तभी मैंने उसके होंठों पर अपने होंठों को जमा दिए और उसे किस करने लगा. चाची बोलीं- कौन है और ये क्या कर रहे हो … छोड़ो मुझे और जाओ यहां से.

मियां खलीफा सेक्सी वीडियो डॉट कॉम

क्योंकि मेरे शौहर की अम्मी मुझे हर दिन बेऔलाद होने के ताने देती थी.

[emailprotected]फ्रेंड वाइफ सेक्स कहानी का अगला भाग:पार्टनर की जवान बीवी तलाक के बाद चोदी- 2. मेरे सामने वो पूरी तरह से नंगी हो गई थी और उसकी आंखें अपने आप शर्म से बंद हो गई थीं. मैं बोला- भरोसा करो … अगर भरोसा ना कर सकती, तो मैं अब कुछ नहीं बोलूंगा.

उसके सर को मैं अपनी दोनों टांगों के बीच जोर जोर से दबाने लगी और वह मेरी चूत और गांड का रसपान करने लगा. वो लड़का फिर से छटपटाने लगा- आह … आह … लग रई भैया … आपका बहुत मोटा है … आई मेरी परपरा रही है भैया … उई … बस बस … ओह. सेक्सी बीएफ वीडियो नंगी चुदाईथोड़ी देर बाद दूसरा राउंड चालू हुआदूसरे राउंड में आरजू जीजू के ऊपर आ गई और लंड चूत पर सैट करके धीरे धीरे लंड चुत के अन्दर लेने लगी.

मैंने घर आकर सब कुछ याद करके उंगली करके अपनी चूत की आग शांत कर सकी थी, पर जो आग लंड से बुझती है, उंगलियों में वो दम कहां. मेरी बोर कर देने वाली हॉट देसी भाभी पोर्न कहानी को पढ़ने के लिए मैं आपसे माफी चाहता हूं क्योंकि मुझे कहानी में मिर्च मसाला लगाना नहीं आया.

आपका राज हुड्डा[emailprotected]देसी माल सेक्स कहानी का अगला भाग:मामी की रसीली पड़ोसन की चूत चुदाई- 2. जैसे ही भाभी ने मेरा कच्छा उतारा, मेरा लंड भाभी के सामने खड़ा होकर सलामी देने लगा. तभी देविका मेरे ऊपर चढ़ गयी और अपनी दोनों मुलायम जांघों में मेरा लंड जकड़ लिया, साथ में अपने पैर लंबे करके मेरे पैरों को सटा लिया.

फ़लक मस्ती में जितनी तेज मेरा लंड चूस रही थी, उतनी ही तेजी से मैं उसकी चूत चाटने लगा था. मेरे बड़े बड़े दूध पर वो जगह जगह काटे जा रहे थे और मैं मचलती जा रही थी- आआह हहआ आहह पापा जी आआ हह कैसे कर रहे हैं … आआ हह दर्द हो रहा है पापा जी … आऊऊच आआ आहह. जैसे ही गाड़ी से उतरने का नंबर आया तो मैंने श्रेया की दोनों चूचियों को अपने हाथों से पकड़ा और चूम लिया.

चाची समझ गईं, उन्होंने अपनी सलवार का नाड़ा ढीला कर दिया और टांगों से निकालते हुए मेरी मम्मी से कहा- दीदी आप भी अपनी सलवार उतारो न … अपना विक्की शर्मा रहा है.

उसे भयंकर वाला दर्द हो रहा था और वो जोर जोर ने गालियां बकने लगी- आंह मादरचोद … लंड निकाल हरामी … साले मेरी गांड का छेद फाड़ दिया … आंह बहुत दर्द हो रहा है कुत्ते … आंह निकाल भोसड़ी के!मगर मैंने उसकी गांड में से लंड नहीं निकाला. कुछ ही देर बाद भाभी बोलीं- लाला, एक बार अपने लंड का गाढ़ा माल मेरी चूत में टपका दो ताकि मैं तुम्हारे बीज से मां बन जाऊं.

मैं सोचने लगा कि ऐसी क्या बात हुई कि आयशा के घर की बिजली नहीं जल रही है जबकि मेरे घर की बिजली आ रही थी. अब मैं रुक गया और उसका चुम्बन लेते हुए उसके लटके लंड को सहलाने लगा. वो बोली- मेरे मुँह कर कपड़ा बांध दो और तुम मेरे दर्द की परवाह मत करना.

अगर आपको ये हॉट बहन पोर्न स्टोरी पसंद आयी हो तो मुझे मेल से जरूर बताएं. उन्होंने अपना चमकता हुआ लंड चूत पर रखा और जोर से धक्का देकर अन्दर कर दिया. इस तरह से मेरी और सीमा की चुदाई का पता उसके पति को चला और यह हमारे लिए बड़ी अच्छी बात हो गई.

बीएफ सेक्सी देहाती जंगली मेरा पति एक बड़ी कंपनी में काम करता है, उसे टाइम बहुत कम मिलता है, उसका बाहर का टूर भी बहुत लगता है. जब कुछ लड़कियां मेरी दुकान में अक्सर आने लगीं तो मैंने उनके साथ थोड़ी हंसी मजाक करना शुरू कर दिया.

कुत्ते की और लड़की की सेक्सी

अब दीवाली भी आ गयी थी, मैंने सोचा कि आज भी मैं जुआ खेलता हूँ और जो भी पैसे मैंने अभी तक जीते हैं वो सब मैं माँ को दीवाली के तोहफे के रूप में दे दूँगा. अपनी पूरी गांड ऊपर उठाते हुए रेशमा ने मेरा मुँह कसकर अपनी फुद्दी पर दबा दिया और जोर से चिल्लाती हुई झड़ने लगी. एक हाथ से लंड और दूसरे हाथ से मेरे टट्टे सहलाते हुए रेशमा की जीभ मेरे सुपारे की जबरदस्त तरीके से मालिश करने लगी.

मैंने ऑफिस का सामान रखा और लड़के से कहा- मैं जरा घूमने जा रहा हूं … आज सब्जी रखी है न! वरना ले आना. मैंने सारा पानी उसके मुँह में निकाल दिया, वो भी किसी रांड की तरह मेरे लंड का सारा रस पी गयी. बीएफ बीएफ हिंदी में बीएफ हिंदी मेंउसने भी हल्के से आंखें खोल कर मुझे देखा और अपना थका हुआ शरीर उठाते हुए उसने मुझे बिस्तर पर धकेल दिया.

अपनी मेरी एक सेक्स कहानीमौसेरे, फुफेरे भाई बहनों की खुली चुदाईमें आपने पढ़ा था कि एक कमरे में दो फुफेरे भाइयों ने अपनी तीन मौसेरी और सगी बहनों के साथ मिल कर सेक्स का धमाल किया था.

मैं- दवा वाली बात या फिर कुछ और …भाभी शर्मा कर बोली- और क्या बात?मैं- यही कि दवा से झाग बहुत बना और दवा लगाने से घाव वाली जगह ने पानी भी फैंका. एक लौंडा, जो उसका खास दोस्त था, उसके मुँह के पास जाकर पूछने लगा- क्यों बे कभी इतना बड़ा लिया है? ज्यादा तो नहीं लग रही?कालू दांत निकाल कर बोला- तू लेकर देख ले न भोसड़ी के … पहले थोड़ी लगी थी, पर अब नहीं लग रही.

सोनाली कार के दरवाजे के पास आयी और अपना सर अन्दर डालकर मेरे होंठों पर अपने होंठ रखकर मुझे चूम लिया. आज तक मैंने अपने पति के अलावा किसी और मर्द के साथ कुछ नहीं किया है. वो मेरी जीभ चूसने लगा जैसे कोई लन्ड चूसता है।मैं लेफ्ट हाथ उसके लोअर के अंदर डाल कर गांड दबाने लगा और राइट से उसके बाल पकड़ कर उसके मुंह को अपने मुँह की तरफ दबाने लगा, कभी वो मेरी जीभ से खेलता कभी मैं उसकी.

वो मुझसे लिपट गया और उसने गीला लंड निकाल कर मेरे मुँह में ठूंस दिया.

अभी कुछ होने की स्थिति बनती कि तभी मालूम हुआ कि मुंबई स्टेशन आने वाला है. मैंने जेब में देखा, नहीं मिली तो सूटकेस के अन्दर से निकाल कर टेबल पर रखी और एक सिगरेट सुलगाई. मुझे तो उस कोमल हाथ को छोड़ने का जरा भी मन नहीं कर रहा था पर तभी उसकी अम्मी ने उसको आवाज देते हुए पूछा- अकेले अकेले किससे बात कर रही है सब्बू?अपनी अम्मी की आवाज से चौंकते हुए उसने अपना हाथ मेरे हाथ से छुड़ाया और बोली- जी, भाईजान के दोस्त आए हैं अम्मी.

वीडियो सेक्सी वीडियो एचडी बीएफआप अपनी प्रतिक्रिया देने के लिए मेरी नई जीमेल आईडी पर सम्पर्क कर सकते हैं. मैंने जोश में आकर अपने हाथों से सोनाली की चूत की दोनों पंखुरियों को दोनों तरफ खींचकर अपनी जुबान उसकी चूत के अन्दर घुसेड़ दी और अन्दर बाहर करते हुए हिलाने लगा.

एचडी मूवी एरिया

इसलिए मैं चूत का आशिक बन गया था और घर बाहर हर जगह मैं चूत की सम्भावना तलाशता रहता था. राज ने उसका लंड पकड़ कर मेरे मुँह में डाल दिया और बोला- साली रंडी चूस, तेरे दोनों यार मस्त पेलते हैं तुझे!अब फिर से मेरी गांड मजबूत शॉट झेलने लगी. उन्होंने दूसरे लोटे में पानी भर कर दिया परन्तु मैं लोटा पकड़ नहीं रहा था तो वो बोलीं- क्यों मेरी रात काली कर रहे हो, पानी पकड़ो और जाकर सो जाओ.

वो बोली- हर्षद कैसा लग रहा है?मैंने उसके होंठों को चूसते हुए कहा- एकदम मस्त … जैसे कि मैं स्वर्ग में किसी अप्सरा के साथ नहा रहा हूँ. इसके बाद उस रात हमने 3 बार चुदाई की और कई तरह के पोज़ बनाकर चुदाई के मजे लिए. कुछ मिनट बाद सुमैत्री ने कहा- मैं डिस्चार्ज हो रही हूँ … अब और नहीं रुक सकती.

उसके बाद 31 दिसम्बर 2019 सेलेब्रेट करने चले गए।फिर दूसरे दिन हमने मोहक की ब्लू फिल्म वाली फंतासी को पूरा किया. मैंने अदिति से कहा- अदिति, मैंने सुना है कि औरत चूत से निकले कामरस से लंड की मसाज करे तो इससे लंड और बड़ा हो जाता है. मेरा देवर कहां गया और ससुर जी वहां कब आ गए?मैंने अपना माथा ठोकते हुए खुद से कहा कि मुझसे ये क्या हो गया.

ये मजा मैंने दोबारा कैसे लिया।पिछले हफ्ते मेरे दोस्त ने मुझे अपने घर पर बुलाया। उसने एक लड़की को भी बुलाया था।दोस्त के फोन में उस लड़की की कुछ तस्वीरें थीं। उसने मुझे वो तस्वीरें दिखायी, मैं उनको देखने लगा. मास्टर ने एक पल के लिए लंड की रफ्तार को रोका और अपनी सांसें संतुलित करने लगा.

अचानक से सविता ने मेरे सुपारे को गप से अपने मुँह में भर लिया और किसी कुल्फी की तरह मेरे सुपारे को चाटने लगी.

अबकी बार जब वो मेरे पीछे चिपके तो उन्होंने अपना लंड पैंट से निकाल लिया था. हॉस्टल सेक्स बीएफमाँ को बहुत दर्द होने लगा, वो चिल्लाने को कोशिश करने लगी पर उनके मुँह में उनकी चड्डी होने के कारण उनकी आवाज नहीं निकल रही थी. रिश्ते बीएफकुछ देर तक बहन की चूत रगड़ने के बाद मैं उसकी चूत के अन्दर ही झड़ गया. उसके बाद हम दोनों के बीच रोजाना बातें होने लगीं और रात में घंटों तक व्हाट्सएप पर चैटिंग होने लगी.

मैंने पूछा- क्या हुआ?वो बोलीं- कुछ नहीं राज, ये तो खुशी के आंसू हैं.

जब लंड आराम से अन्दर बाहर आने जाने लगा तो मैंने भी अपनी स्पीड बढ़ा दी. पर दिन में मुखिया जी का नौकर घर गया और बोला– चंदा, तेरे बेटे को मुखिया जी ने बुलाया है।माँ ने पूछा– मुखिया को मेरे बेटे से क्या काम है?तो वो नौकर बोला- अब ये तो मुखिया जी ही जाने!माँ ने मुझसे पूछा- बेटा, तुझे पता है क्या कि मुखिया जी ने तुझे क्यों बुलाया है?मुझे पता तो था पर मैंने माँ को नहीं बताया कि क्या बात है. अब घर की चुत घर में चुदेगी क्योंकि पकड़े जाने का कोई डर नहीं था और न ही देरी का काम था.

हम सब पहले भी विलास की शादी में आए थे, तो विलास के सभी रिश्तेदार पहचानते थे. वो और जोर से मादक सिसकारियां लेने लगी- ओह आह स्ह ऊंई हर्षद … काश मेरी शादी तुम जैसे रोमांटिक, गठीले बदन वाले हैंडसम और मोटे लंड वाले मर्द से हुई होती. अब आगे गाँव की चूत चुदाई की स्टोरी:अब सोनाली ने कहा- हर्षद अब बस करो ना … मुझसे अब नहीं सहा जाता.

सेक्सी कॉल गर्ल नंबर

पर मेरी फूटी किस्मत कि हड़बड़ी में मेरा पैर फिसल गया और मैं वहीं बैठक के सामने गिर पड़ी. उसके धक्के इतनी तेज थे कि कमरे में टेबल की पटर पटर और मेरी गांड में से फछ फछ की आवाज आने लगी. ससुर जी मेरे मम्मों को बिल्कुल निचोड़ रहे थे और मुझे काफी तकलीफ हो रही थी लेकिन मैं भी उस समय पूरे जोश से भरी हुई थी और अपनी शर्म को दूर करते हुए अपने आप को उनको सौंप चुकी थी.

ऑफ़िस और कॉलेज में भी ख़ाली समय में तुम मुझसे सेक्स करने की कल्पना करती हो।5.

मैंने कहा- मेरी बात का भी जवाब दे देती?उर्वशी बोली- मुझे कोई प्रॉब्लम नहीं, भले तुम और अञ्जलि एक साथ नहा लो.

मैडम की चूत एकदम चिकनी थी जिस पर उनकी कामाग्नि के रस की कुछ नमी की वजह से वो गीली होकर चमक रही थी. मम्मी कह रही थीं- आंह मजा आ गया यार … ये सब कहां से सीखते हो … अब उतारो मुझे. बीएफ एक्स एक्स एक्स एक्स एक्स एक्सउसने भी जवानी की आग में मेरे लौड़े से चुदवाने के लिए मेरी सारी बातें मान लीं.

सविता के ऊपर तो मेरा दिल तभी से आ गया था, जब वो अमित के साथ रहती थी. अब मैं शादी के बाद हर दूसरे दिन किसी पराए मर्द से बिंदास चुदवाती हूँ. मेरे बार बार पूछने पर शर्मा कर बोली- भैया क्या करूं मैं … बहुत दिन हो गए थे और मेरे पति भी यहां नहीं है, तो बहुत दिनों के बाद मैंने किया.

उसकी मुस्कान देख कर मैंने उसके एक हाथ को मेरे हाथ में लिया और धीरे से सहलाने लगा. इस बार मैं उसे झड़ने नहीं देना चाहता था इसलिए उसकी चूत से अपनी जीभ हटा ली.

वो मेरे लंड को अपनी पेंटी में से बाहर निकाल कर अपना स्कर्ट नीचे करके वहाँ से चली गयी.

आखिर वो दिन भी जल्दी ही आ गया जब हम दोनों ने मिलकर एक दूजे की सेक्स की प्यास को बुझाया. इसके बाद अब लौड़ा चुसाने वाले बाबा ने मुझे सीधा कर दिया और मेरी दोनों टांगों को फैला कर वो खुद मेरे सामने आ गया. हम दोनों को यह तक भी अहसास नहीं हो रहा था कि आसपास में कौन है और हम दोनों कहां हैं.

हिंदी बीएफ वीडियो में भेजिए मैंने कहा- कैसे चोदूं यार … आपके पति तो सारा दिन घर पर ही रहते हैं?भाभी बोलीं- मुझे नहीं पता, कैसे भी करो, मुझे बस आपका लंड चाहिए. अगले दिन से मिहिका मुझसे खुल कर बात करने लगी थी और ‘बेटा … या आरे …’ कहकर नहीं बोल रही थी.

राज मेरी चूचियां मसलता हुआ बोला- मेरी जान, बहुत मस्त चूत है तेरी मजा आ गया. मैंने हंस कर कहा- मुझमें ऐसा क्या था?वो बोला- कभी मिलने बुलाओ तब बताऊं तुम्हें. एक दो मिनट बाद मास्टर ने लंड चूत से बाहर खींचा और भाभी का एक पैर अपने कंधे पर उठा कर फिर से लंड पेल कर चोदने लगा.

baby को ऊपर का दूध कैसे पिलाना चाहिए

उसकी उम्र करीब 45 के लगभग होगी, लेकिन वो 30 से 32 साल की मस्त माल लग रही थी. फिर भी मैंने अपने आपको काबू में करके एक बार आखिरी कोशिश करने की सोची और अपनी पूरी ताकत से मनीष को अपने ऊपर से हटाना चाहा. मम्मी तड़प गईं- आंह साले भड़वे मारेगा क्या!पापा- साली छिनाल, रुक आज तेरी चूत का भोसड़ा बनाता हूँ.

अब भी मेरे दोस्त मेरा चुम्मा ले लेते हैं, मेरे चूतड़ मसक देते हैं, होंठ चूस लेते हैं. मैंने अपने दांतों से क्लाइटोरिस को पकड़ा और बार बार छोड़ कर जीभ से दाने पर लगा केक खाने लगा.

रेखा के माँ बाप मेरे घर में किरायेदार थे लम्बे समय से! रेखा उन दोनों की इकलौती संतान थी.

उसने मेरे शरीर से अटके हुए सारे कपड़े कुछ ऐसे हटा दिए कि उसे मुझे चोदने में दिक्कत न हो. ललिता भाभी चिल्लाने लगीं- ऊईई मर गई … उईई आंह साले धीरे पेल न … आंह मर गई मम्मी बचाओ. अब मैंने नेहा भाभी को बिस्तर पर लेटा कर उनकी दोनों टांगों को कंधों पर रख कर अपना लंड चूत में पेल कर चुदाई शुरू कर दी.

मैंने उसे बताया कि मैं कुछ दिनों के बाद हॉलिडे के लिए दुबई जा रहा हूँ. कहानी के पिछले भागबारिश में सड़क पर मिली लड़की के घर मेंमें आपने पढ़ा था कि मैं एक लड़की के घर में था. मैं समझ गया था कि सीमा का पानी छूटने वाला है तो मैंने और जोरों से उसकी चूत चाटना चालू कर दिया.

मैंने साथियों को, जो चारों ओर से घेरे थे और उत्सुकता से गांड मराने का खेल देख रहे थे, कहा- देखो इसके चूतड़ कस्ते ढीले हो रहे हैं.

बीएफ सेक्सी देहाती जंगली: उनके 36 के भरे हुए उरोज, बलखाती और मटकती हुई 30 की कमर … और 38 इंच की भरी हुई गांड देखकर इधर मेरे लंड महाराज ने पैंट के अन्दर से ही सलामी देनी शुरू कर दी. इससे भाभी मुझे बड़ा स्नेह देने लगीं और मेरा रोज ललिता भाभी के घर में आना जाना हो गया.

मैंने उसके मुँह से लंड हटाने की कोशिश की, मगर वो नहीं मानी और उसने मेरे लंड का सारा पानी पी लिया. काफी देर ऐसे ही लंड चुसवाने के बाद पापा सोफे पर बैठ गए और मम्मी से कहा- आओ लंड की सवारी करो. पोर्न आंटी लंड चूसती हुई बोलने लगीं- अब इसे अन्दर डाल भी दो … मेरी प्यास बुझा दो.

दोनों नंगे ही बाहर आए तो मैंने अदिति से कहा- आज हम दोनों दिन भर ऐसे ही बिना कपड़ों के ही रहेंगे.

उधर सब कुछ साफ नजर नहीं आ रहा था लेकिन उनके जिस्म की चमक बता रही थी कि उन्होंने कुछ नहीं पहना है. com/chachi-ki-chudai/dost-ki-bua-sex-story/चलिए, कहानी पर आते हैं।मैं आपको बता दूँ कि यह घटना मेरे साथ दो साल पहले ही घटी है और पायल मेरे एक घनिष्ठ मित्र तरुण की चचेरी बहन है।आशा है कि सभी दोस्तों ने अपने अपने लण्ड को तैयार होने का इशारा कर दिया होगा. मैं- हां साली रंडी … ले चूत चुसा ले अपनी … आंह!मैंने उसकी चूत को ऊपर से नीचे तक चाटता रहा और उसके दाने को अपने होंठों में दबा कर खींच देता, जिससे रेखा अपनी गांड उठ कर मेरे मुँह पर अपनी चूत लगा देती.