हिंदी बीएफ बढ़िया

छवि स्रोत,इंडियन बीपी सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

कार्टून एक्सएक्सएक्स: हिंदी बीएफ बढ़िया, मैं उनकी मोटी गांड पर थप्पड़ भी मार रहा था, जिससे वह और भी गर्म हो रही थीं.

नेपाली ब्लू सेक्सी वीडियो

कविता शरमाती हुई उसके लंड को ऐसे चूसने लगी, जैसे कि वो ये सब जीवन में पहली बार कर रही हो. औरत की ब्लू फिल्मवो दोनों तो चली गईं लेकिन मैं इस अधूरी चुदाई से जैसे पागल सा हो उठा.

मैंने सोचा कि इससे पहले कि बात इमरान तक पहुंचे मुझे कुछ करना चाहिए. नेपाली लड़कियों की फोटोइतना सुनने के बाद वो अपने पजामे के ऊपर लिंग को हाथ से सहलाते हुए बोला- चल थोड़ा तैयार कर … बहुत दिन हो गए है मुझे.

मैंने कहा- जान निकलने वाला है, कहां गिराऊं?वो बोली- अंदर नहीं पागल, कुछ गड़बड़ हो जायेगी.हिंदी बीएफ बढ़िया: मेरा लंड खड़ा होते ही मां ने उसको मेरे पजामे के ऊपर से ही पकड़ लिया और मेरे लंड को अपने हाथ में भर कर मसलने लगी.

वो मुझे स्टाफ वाशरूम की तरफ ले जा रही थी लेकिन मैंने उससे कहा- किसी नज़दीक वाशरूम में ले चलो.वो कोई चीज परोसने के लिए झुकी, तो उसके गहरे गले से मुझे उसकी चूचियों के दीदार हो गए.

मराठी ट्रिपल सेक्स वीडियो - हिंदी बीएफ बढ़िया

फिर मैंने कामुक बहन की पजामी के ऊपर से ही उसकी चूत में उंगली करना शुरू कर दिया.मैं तो आपको यही कहूंगा कि अगर आपको मौका मिल रहा है मजे लेने का तो उसको हाथ से क्यों जाने दे रही हो.

सब की सब जवान हो रही थीं इसलिए चूतों को लंड की प्यास महसूस होने लगी थी. हिंदी बीएफ बढ़िया मैंने फिर से उनको पकड़ लिया और एक कोने में ले जाकर पीछे से अपना तन्नाया हुआ लंड उनकी चुत में घुसा दिया.

भाई और तुम्हारी बातों को सुन कर मुझे तुम पर भरोसा था इसलिए मैं तुम्हारे साथ ये सब करने के लिए तैयार हो गई.

हिंदी बीएफ बढ़िया?

मैं अक्सर सोचा करता था कि उनके पति शायद जॉब पर जाते होंगे इसलिए उनसे मुलाकात नहीं हो पाती है. मैंने कहा- तेरा तो हो गया, मेरा कैसे होगा?वो बोली- जैसे आप कहोगे, मैं वैसे कर दूंगी. दो मिनट के बाद ही उसकी चूत ने ढेर सारा पानी छोड़ दिया और वो झड़कर ढीली पड़ गयी.

चूंकि अस्पताल दूर था, तो उन्होंने मुझसे कहा कि उनको वापस घर आने में रात हो जाएगी. अभी भी हमारी इच्छा होती है, पर हर किसी जोड़े या गैर मर्द पर से यकीन कर पाना मुश्किल है. मैंने उसकी नाइटी में ऊपर से हाथ डाल दिया और उसकी चूचियों को भींचने लगा.

भाभी मादक सिसकारियां लेते हुए बोल रही थीं- उम्म्ह … अहह … हय … ओह … हां ऐसे ही चूसो … आह और तेज … हां खा जाओ इसको हां और तेज. कुछ पलों के धक्कों में मैं फिर से गर्म होने लगी और मेरी कमर अपने आप चलते हुए लिंग पर योनि धकेलनी लगी. आज नजमी मेरे काबू में कैसे आई थी इसका पूरा मजा मैं आपको विस्तार से अगली अन्तर्वासना डॉट कॉम स्टोरी में लिखूंगा.

भाभी भी हल्के हल्के अंदाज में अपनी गांड को मेरे लंड की तरफ धकेल रही थी. वो मुझसे लिपट गई और मेरे बदन को बांहों में भरते हुए यहां-वहां चूमने लगी.

तभी उस तेज़ रफ़्तार के धक्के में गर्म गर्म लावा सा मेरी बच्चेदानी पर लगा.

उसकी चुचियों के निप्पल को भी धीरे धीरे मसलने लगा और लंड को पूरा अंदर डाल दिया.

कुछ देर तक मेरी बूर चाटने के बाद डॉक्टर साहब ने चेयर नीचे कर दी और मेरे ऊपर लेट गये. भाई और तुम्हारी बातों को सुन कर मुझे तुम पर भरोसा था इसलिए मैं तुम्हारे साथ ये सब करने के लिए तैयार हो गई. मैं भी पलट कर बिस्तर पर बैठ गई।मेरा पसीने से भीगा हुआ बदन देख कर अंकल बोले- अरे आज तो तूने बहुत मेहनत कर ली।मैं पास रखे टॉवल से अपने बदन के पसीने को पोंछने लगी.

मुझे चाहे काम होता या न होता लेकिन मैं उसके साथ सफर पर निकल पड़ता था. कॉलेज की लड़की की पहली चुदाई कथा में पढ़ें कि मैंने पढ़ाई के लिए कमरा लिया तो कैसे मुझे एक गर्म लड़की मिली, उससे दोस्ती हुई और मैंने उसकी अनचुदी बुर को चोदा. एक पल के लिए मैं चिहुंक उठी, पर उसके बाद कमलनाथ ने एक लय में मुझे धक्का मारना शुरू कर दिया.

खाना खाने टाइम अचानक इत्तफाकन मुझे मेरी बहन के मम्मों के दर्शन हो गए.

मैंने कहा- हां पेट तो फूलता है … मगर वो चर्बी के कारण नहीं फूलता है. शायद दोनों के ही मन में ये डर था कि अगर चुम्बन की आवाजें बगल में सो रहे लोगों के कानों में पड़ गयीं तो लेने के देने न पड़ जायें इसलिए दोनों ही सावधानी के साथ एक दूसरे को भोगने की राह पर आगे बढ़ रहे थे. मैंने शेर पढ़ दिया- कोई अगर है चाँद सा खूबसूरत … तो वो, बस तुम्हीं हो, कोई और नहीं.

कुछ देर ताश खेलने के बाद उसने फिर से वैसे ही पैर पलंग के साइड में लगा दिए और आज मुझे उसकी गुलाबी पैंटी दिखने लगी. वैसे भी हम दोनों एक ही कॉलेज में पढ़ते थे तो मुझे इस बात के बारे में सोचने की ज्यादा जरूरत भी नहीं थी. उस कुंवारी लड़की के चूतड़ों को हल्के हाथों से दबाते हुए मैंने उसे अपनी ओर खींचा तो मेरा लण्ड उसकी बूर से सट गया.

मैंने अपना लोअर उतार कर अपना लण्ड नमिता के मुँह में डालते हुए उसे चूसने को कहा.

उसके कोमल हाथों में जाकर मेरा लंड फिर से तनतना गया और मुझे मजा आने लगा. मैं अपनी इस चुदाई की कहानी में आपको बताऊंगी कि कैसे मैं अपने किरायेदार से अपनी चूत और गांड की आग को शांत किया.

हिंदी बीएफ बढ़िया इस चुदाई से हम दोनों इतना थक गये कि वैसे ही बिना कपड़ों के एक दूसरे की बांहों में लिपट कर सो गये. मैंने कहा- स्पर्म वो तरल पदार्थ होता है जो पुरुष के गुप्तांग से सेक्स करने के बाद निकलता है.

हिंदी बीएफ बढ़िया वो मेरी चूत में उंगली करने के बाद मुझे अपना लंड चूसने के लिए बोलने लगा. अंदर जाते ही भूखे शेर की तरह मैं उस पर टूट पड़ा, उसको जगह जगह पर चूमने और काटने लगा.

मैं बोला- साले … तेरी बीवी रंडी नहीं है … ये तो अब मेरी जान बन गयी है.

हिंदी में सेक्सी वीडियो नंगी फिल्म

मैंने उसकी पीठ को सहलाया और उसके कान में कहा- सीधे केले से खाओगी?वो शायद आधा मतलब समझी थी- हां मुझे मंजूर है. उनके झड़ने के कुछ पल बाद मैंने भी अपने लंड का पूरा रस भाभी की चूत में ही भर दिया. आंटी की दूध से भी ज्यादा सफ़ेद चुचियों को चूस चूस कर मैंने लाल कर दिया था.

जैसे जैसे संभोग बढ़ता जा रहा था, वैसे वैसे हम दोनों में जोश भी बढ़ता जा रहा था. मैंने सोचा कि कितना अच्छा माल मिला और क्या गड़बड़ी कर दी यार तूने … माल तो तेरा ही था … थोड़ा सब्र रख लेता, तो सब काम हो जाता. कुछ समय बाद मेरी आंख खुली और मैं बाथरूम में गया तो मुझे कुछ आवाजें आईं.

यह मेरी सच्ची और पहली घटना है, जो मैं अपने पति की परमिशन से आपके साथ शेयर कर रही हूं.

मुझे तो अपने लंड से कोई शिकायत नहीं थी क्योंकि कोई भी भाभी या आंटी इस साइज के लंड से संतुष्ट हो सकती थी. अब उसकी मादक सिसकारियां चालू हो गईं, मैं समझ चुका था कि अब मेरी भांजी चुदाई का मजा ले रही है. मैं भी बदले में अपने लंड को उनकी गांड की दरार में पूरा का पूरा घुसाने की कोशिश करने लगा.

पहले तो उसने मना किया लेकिन मेरे काफी कहने पर फिर वो राहुल के साथ चैट करने के लिए तैयार हो गयी. फिर मैंने भाबी को दीवार के सहारे खड़ा कर दिया और पीछे से उनकी चूत नीचे बैठकर चाटने लगा. मेरे मन में बात चलने लगी थी कि राजशेखर और तेज़, शेखर करते रहो, आह शेखू रुकना मत.

मेरी जीभ के चूत में टच होते ही संगीता मचल उठीं और मेरे सिर को अपनी चूत की तरफ खींचने लगीं. फिल्म में सेक्स के सीन थे और मेरे दोस्त ने अपनी पैंट से लंड को निकाल कर मेरे सामने ही अपने लंड को हिलाना शुरू कर दिया.

मैंने उससे पूछा- मैं भी झड़ने वाला हूँ अपना माल कहाँ गिरा दूं?तो वो बोली- आज मेरी जिंदगी का सबसे खूबसूरत और यादगार दिन है आज तो आप अपना माल मेरी चूत में ही गिरा दो!यह सुनकर मैंने अपनी पिचकारी को उसकी चूत में ही छोड़ दिया और उसकी फुद्दी मेरे गर्म माल से भर गई. उसने मुझसे बोला- कहां खो गए? क्या रात भर यहीं रुके रहना है?काव्या ने हंसते हुए मुझे आंख मार दी, उसके साथ राकेश भी हंसने लगा. तभी अमन बोला- अभी कहां फाडूंगा … अभी तो हर रोज़ तुझे हम दोनों से चुदना है रंडी साली.

उनको क्या पता था ये बच्चा अब उनकी जवानी के क्या क्या करने की सोचने लगा है.

मैंने ठोके और जोर जोर से मारे और कहा- अम्मा मुझे देखना है कि तू हस्तमैथुन कैसे करती हो. मैंने उससे कहा- मैं अकेली इतनी दूर पहले कभी नहीं गई, मुझे डर लगता है और लंबा रास्ता भी है. तो वह मुस्कुरा कर बोली- क्या तुम्हारे जैसे मर्द को भी कभी दर्द होता है?मैं बोला- भाबी यह बहुत नाजुक जगह है … और काफी देर से मुझे बहुत दर्द हो रहा है.

हालांकि उसने अपने चेहरे से नकाब हटाया हुआ था, जिससे मैं उसका चेहरा देख सका. उस समय आंटी काली ब्रा पैंटी में बहुत ही खूबसूरत लग रही थी। फिर मैंने आंटी की ब्रा पैंटी को उतार दिया.

मैंने पूछा कि तू फ्री हो गयी कि नहीं!वो बोली कि हां अब घर पर कोई नहीं है. मैंने मेम से कह दिया कि मेम आपने सर को तो वो वाली बात नहीं बताई ना?मेम ने कहा- नहीं बताई है … लेकिन बताने वाली हूँ. इस पहले ही तगड़े धक्के से मेरा आधा लंड भाभी की चूत में अन्दर घुस गया.

मराठी सेक्सी बीपी ऑंटी

तब तक आप कमेंट करें और बतावें कि कैसे इस सेक्स कहानी को और रोमांचक बनाना है.

मुझे पता था कि अगले धक्के पर वो चीखेगी इसलिए मैंने उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया और धीरे धीरे लंड के टोपे को चूत में धीरे धीरे आगे पीछे सरकाने लगा. मैंने न केवल उन चीजों को देखा, जो असल जीवन में मैंने कभी नहीं देखा था. मैंने अपने भाई के लंड को अपने हाथ से टटोलते हुए उसके लंड को अपने हाथ में पकड़ लिया.

आंटी ने एक बार मेरे लंड की तरफ देखा और फिर बोली- मैं तुम्हारे लिए कुछ खाने के लिए लेकर आती हूं. इससे मेरा काम भी चलता रहता और घर की बात घर में ही रहती।ये सब सुनकर मैं बहुत खुश हुआ और उसको चूमने लगा. देहाती सेक्सी पोर्नमैंने झुक कर पहले तो सुपारे को थूक से गीला कर दिया और सुपाड़े पर जीभ फिरानी शुरू की.

वो भी समझ गयी और उसने मेरी तरफ देख कर हल्का सा स्माइल किया और मेरे कंधे पर अपना सिर रख दिया. मॉम फिर से आवाज निकालने लगीं- आआह अई अई आह मर गई मैं तो!कुछ देर तक गांड चाटने के बाद मैंने अपना लौड़ा उनकी गांड में दे दिया और उनकी गांड चोदने लगा.

फिर पता नहीं भाभी को क्या शरारत सूझी कि उसने अपने एक हाथ को पीछे लाकर मेरी गांड पर टटोलते हुए मेरी गांड के छेद को ढूंढ लिया और अपनी उंगली मेरी गांड में घुसाने की कोशिश करने लगी. ’फिर मैंने भी देर ना करते हुए उसकी नाइट ड्रेस खोल दी और काव्या मेरे सामने सिर्फ़ सफेद ब्रा और पेंटी में लेटी हुई थी. सोनी शांत रह कर चुपचाप मजे लेने में विश्वास रखती है। मेरी बीवी को बहुत ही जल्दी पटाया जा सकता है क्योंकि मुझे याद है कि जब हमारी नई नई शादी हुई थी तो मेरे एक दोस्त बंटी ने सिर्फ उससे इतना ही कहा था कि भाभी आप मस्त और सेक्सी हो.

मैंने भी झट से उसकी जांघों पर हाथ रख दिया और बोला कि अब बता के क्या फायदा? अब तो आपकी शादी हो गयी है. हम दोनों एक दूसरे से चिपक कर एक नए शादीशुदा जोड़े की तरह घूम रहे थे. वैसे तो उसने मुझे कई दिनों से परेशान कर रखा था लेकिन वो इस बात को नहीं जानती थी शायद कि चुदाई करवाने में दर्द भी झेलना पड़ता है.

जीत की खुशी में मैंने उसे किस करते हुए बोल दिया- डार्लिंग, थोड़ा और खेलने दो ना!मुझे डर इसलिए नहीं लग रहा था कि मैं सनी को हमेशा से प्यार करती थी और अभी मैं नशे में भी थी, जिससे कोई शक नहीं कर सकता था कि इनके बीच कुछ चल रहा है.

फिर उस दिन के बाद से मैं रोज जल्दी उठ कर टहलने के बहाने से आकर कई बार अपनी बहन को नंगी नहाती हुई देख चुका हूँ. इससे पहले उन 3 मर्दों से मुझे नहीं मिला था, शायद उसकी कमी का मुझे अफसोस था और कांतिलाल से मेरे मन में कोई उम्मीद थी.

फिर मैंने अपनी लोअर नीचे करके अपना लंड बाहर निकाल लिया और हाथ में हिलाकर उसको चूसने के लिए कहने लगा. आज ये वाकिया सगाई टूटने के करीब तीन महीने बाद का था, जब मुझे वो लड़की मिली थी. मैं देखती थी कि वो अपना रूम भी अच्छे से रखता था और मेरे पति भी उससे खुश रहते थे.

मामी जी से मेरी बहुत ही अच्छी दोस्ती है और मैं उनसे अपनी हर बात शेयर करता हूं लेकिन उनसे मैंने कभी भी सेक्स वगैरह के बारे में बात नहीं की थी। मैंने कभी भी मामी जी को गलत नजरों से नहीं देखा था।अब मैं असली कहानी पर आता हूं. फिर सोनाली मुझे कहने लगी कि अब जल्दी से अपना लंड मेरी चूत में डाल दो. मैंने एक जोर का धक्का लगाया और पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया तो वो चीख पड़ी ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’मैंने तुरंत उसके ऊपर लेटते हुए उसके होंठों पर होंठ रख दिये और उसके चूचों को हाथों से मसलने लगा.

हिंदी बीएफ बढ़िया बल्लू ने अपने तने हुए लंड को भाभी की गांड की दरार के बीच में घुसा दिया. जैसा कि मैं खुद ही गरम थी, तो मन में भी किसी तरह के विरोध की बात भी नहीं आई.

बफ सेक्सी जानवर

उनकी गांड को सहलाते हुए चुचे चूसते और काटते हुए चुदाई की गति को तेज से तेज करने लगा. आंटी ने मेरा हाथ हटा दिया और कहने लगी- मैं तुम्हारे दोस्त की मां हूँ. पर सुरेश ने हम लोगों को देखा और बोला- गाड़ी मिल जाएगी … आप रुको, मैं वॉशिंग करने के लिए बोल कर आता हूँ.

तभी मेरे मन में एक ख्याल आया कि क्यों ना मैं प्रिया को रोहण से चुदवा लूं और उससे वर्जिन चूत के बदले पैसे भी वसूल करूं. मैंने एक जोर का धक्का लगाया और पूरा लंड उसकी चूत में घुसा दिया तो वो चीख पड़ी ‘उम्म्ह … अहह … हय … ओह …’मैंने तुरंत उसके ऊपर लेटते हुए उसके होंठों पर होंठ रख दिये और उसके चूचों को हाथों से मसलने लगा. सनी लियोन का एचडी‘ओह्ह्ह निहाल … आअह्ह मेरी जान … उम्म्ह… अहह… हय… याह… … मेरा निकलने वाला है … आह्ह्ह्ह …’मैंने जीभ के साथ साथ अपनी एक उंगली भी उसकी चूत में डाल दी और दूसरी उंगली से उसकी चूत के दाने को मसलने लगा.

भाभी की गीली चिकनी चूत में बल्लू का लंड उतरने लगा और पूरा का पूरा लंड उतरते ही भाभी और बल्लू के मुंह से एक साथ आह्ह … निकल गई.

उस दिन मैंने विकास के लिए चाय बना दी और फिर कुछ देर तक बातें करने के बाद वो चले गये. जब उसकी जांघ के टच से मेरा लंड खड़ा हो गया तो वो उभर कर बाहर से दिखने लगा.

ऐसे ही एक दो दिन भाभी से बात करते हुए हो गया तो हम दोनों में काफी कुछ बातें होने लगीं. उसके गले पर चूमा लेने लगा और बोला- शराब क्या पीऊँगा अब … तेरी इस बीवी में तो इससे भी ज़्यादा नशा है. दीवार के इस तरफ यानि हमारी तरफ ऊपर की मंजिल पर जाने के लिए सीढ़ियाँ बनी हुई हैं।मेरा कमरा घर की पहली मंजिल पर है यानि मैं और मेरी बीवी दिन में कई बार उन सीढ़ियों का प्रयोग करके ऊपर नीचे आते जाते रहते हैं।अब असली मुद्दे की बात बताता हूँ.

मामी ने मुझसे पूछा- ऐसे क्यों देख रहा है?मैंने शर्म के मारे नजर नीचे कर ली.

लेकिन मेरा लंड उन चारों लौंडों से कम से कम दो इंच लम्बा था और मोटा भी बहुत ज्यादा था. मेरी योनि से निकलता हुआ पानी कांतिलाल के मुँह से होता हुआ छाती तक आ गया. तभी राजशेखर बोल पड़ा- क्या यही सारिका है तुम्हारी सहेली?रमा ने हंसते हुए जवाब दिया- जी हां चौंक गए न … मेरी इस तरकीब से सब … यही है वो सहेली, जिसका आप सब बेसब्री से इन्तजार कर रहे थे.

हिंदी एचडी चुदाईहल्के हाथ से मैं बालों को रेजर से हटाता गया और चूत से बाल साफ होते गये. मैं रमा के दिए हुए वस्त्र पहन तैयार हो गई, हालांकि ऐसे कपड़े मैंने पहले कभी पहने नहीं थे, पर ये मुझ पर जंच रहे थे.

भोजपुरी में सेक्सी सोंग

उधर कमलनाथ जमीन पे लेट गया था और रमा उसके ऊपर उल्टी दिशा में चढ़ी हुई थी. मैंने उठ कर अंदर झांक कर देखा तो मेरी दीदी अपनी कुछ सहेलियों के साथ अपने कमरे में किटी पार्टी कर रही थी. कांतिलाल ने अपने घुटने मोड़े और कविता की जांघों को अपनी जांघों के ऊपर रख कर कविता के ऊपर लेट कर उसके होंठों को चूमने लगा.

आंटी मुझसे छुड़ाने की कोशिश करने लगी और कहने लगी- तुम उम्र में बहुत छोटे हो. कुछ देर ऐसा करने के बाद मैंने उसे उठ कर घुटनों के बल घोड़ी बन कर बैठने को बोला. मेरी चूची भी बड़ी बड़ी है और मैं खाते पीते घर की हूँ तो मेरा फिगर बहुत अच्छा है.

रमा की बात खत्म होते होते रवि ने अपना लिंग एक झटके में मेरी योनि में घुसा दिया. मैं भी अपना लंड और जोर जोर से हिला कर उन्हें कामुक निगाहों से देखने लगा और वो भी कामुकता से मुझे देखने लगीं. इसी बीच मुझे पता लगा कि भाभी अपनी सहेली के भांजे से भी चुद चुकी हैं.

मैंने भी आंटी के मम्मों को बातों ही बातों में कभी टच किया, तो कभी हाथ लगा दिया. मैं धीरे-धीरे किस करते करते हुए मैं निधि के चूचे दबा रहा था और वह मेरे लण्ड को सहला रही थी, हम दोनों बहुत मजे ले रहे थे।निधि के चुचे को दबाते दबाते मैंने उसका टॉप उतार दिया और उसकी मुलायम चूची को चूसने लगा। वो पूरे मस्ती में अपनी कामुक आवाज उम्म्ह … अहह … हय … ओह … निकाल रही थी.

उसकी चूत की फांकों से रगड़ खाते हुए मेरे उस्ताद को आनंद की असीम अनुभूति होने लगी.

जब वो वापस आई, तो उसने बोला- छीई … पहली बार किसी ने मेरे मुँह में गिराया है. सनी लियोन के सेक्स वीडियोतब मुझे फेसबुक पर पता चला कि बहुत सारे लोगों ने कपल टू कपल सेक्स, ककॉल्ड और तरह-तरह के न्यूड फोटो वाले फेक (नकली) अकाउंट बनाये हुए हैँ. मारवाड़ी चुदाई सेक्सी वीडियोफिर मैंने अपना लंड हाथ में लिया और उसकी दोनों चुचियों के बीच में रख कर ज़ोर ज़ोर से रगड़ने लगा. मैं भी ताबड़तोड़ मम्मी की चुदाई रहा था, लेकिन मेरा पूरा लंड मम्मी की चूत में जा नहीं रहा था.

मैंने बोला- पता नहीं मैं अभी बिस्तर से उठ पाऊंगी या नहीं … दो दिन तो बहुत दूर की बात है.

फिर मैंने दूसरा धक्का मारा और अपने टट्टों तक को उसकी चूत से चिपका दिया. ऐसा करते करते मैं उसको अपने गांड के छेद तक ले गया और बोला- मेरी गांड को जीभ से चाटो. गेम खेलते खेलते कभी कभी मैं उसकी जांघ पर अपना हाथ रख देता … तो वो मुझसे और भी सट जाती.

काव्या हंस कर बोली- सच में यार, उफ्फ़ … अभी तो मज़ा आना शुरू ही हो रहा था कि पता नहीं कौन आ गया. ‘आह उई आई मर गई अम्मा … चोद दे मादरचोद … अपनी मॉम की चुत का सारा पानी पी ले … आह आई आई रे … मर गई मैं तो. वो जब-जब प्लेट में खाना डालने के लिए झुकती तो मैं भाभी के कबूतरों को अंदर तक ताड़ जाता था.

लड़की को सेक्सी चुदाई

विकास कई बार मेरे घर पर भी आ जाते थे और उनको मैं अच्छी तरह जानती थी. आराम से मार न … फाड़ ही देगा क्या अब?कांतिलाल ने सांस रोक तेज़ धक्के मारते हुए कहा- बस ऐसे ही झुकी रह … मेरा निकलने वाला है. नमिता ने अपने मुँह से मेरा लण्ड निकाला और मुझे प्यास लगी है, पानी पीकर आती हूँ.

वैसे दोस्तो, मैं लिखने के मामले में थोड़ा आलसी हूँ इसलिए कोई गलती कहानी में हो जाए तो माफ कर देना.

मेरी सहली मौली मुझे बताती थी कि वो अपने बॉयफ्रेंड से कैसे चुदाई का मजा लेती है तो मुझे भी चुदवाने का मन करता था और मेरी चूत भी गीली हो जाती थी.

स्खलन के बाद का समय तो योनि सिकोड़ने और ढीली करने से वीर्य बाहर निकलने लगता था, पर अब तो मुझसे कुछ भी नहीं हो पा रहा था. उसको भी मेरा इस तरह से अपनी चूचियों को मसलवाना जम रहा था और वो खुद भी मुझे कंधे पर हाथ रख कर अपने आपको मुझसे चिपकाए दे रही थी. चुदाई सेक्सी चुदाईफिर उसने मेरी गर्दन को चूमना शुरू कर दिया और मेरे चूचों को दबाने लगा.

पर अब उनके कई सारे देसी और विदेशी मित्र हैं, जो इस तरह की जीवन शैली पसंद करते हैं. एक पिचकारी ऊपर हवा में जाने के बाद बाकी का माल युक्ता के हाथ से होता हुआ उसकी उंगलियों में भर गया. फिर उसकी मां ने कहा- तुम शाम को सात बजे के करीब हमारे घर ही आ जाना और यहीं पर खा लेना.

मेरा सोचना सही निकला और अभी तक राजशेखर ने मेरे साथ एकल संभोग नहीं किया था, तो उसकी नज़र मुझ पर बहुत पहले से ही थी. हम दोनों एक दूसरे से एकदम चिपके हुए अपने दिलों की चाहत को अपनी मंजिल तक ले जाने के लिए पूरी तरह से कामुक हो उठे थे.

मैंने ये भी नोटिस किया कि चुदाई के वीडियो देख कर फरजाना के चेहरे पर भी रंग बदल गया था.

आखिरकार कमलनाथ जोर से गुर्रा उठा और एक जोरदार झटके में अपना सम्पूर्ण लिंग राजेश्वरी की योनि में अंत तक धंसा कर रुक रुक झटके खाने लगा. भाबी धीरे से मेरे कान के पास आकर बोली- मुझे चुदाई करवाए हुए एक अरसा हो गया था. मेरी योनि में ऐसा लग रहा था मानो कोई आग लगी हो, बराबर पानी रिस रहा था और अब या तब पानी छूट जाएगा ऐसा लग रहा था.

अंग्रेजी चोदा चोदी कांतिलाल ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे उठाया और बोला- आओ अब तुम मेरे ऊपर आ जाओ. चाची से मेरी निगाह मिली, तो उनकी कामुक आँखों ने मुझे काफी कुछ बता दिया था कि ये माल चंचल है और लंड ले सकती है.

वो धक्के तो मार ही रही थी, साथ साथ रवि को बीच बीच में चूम भी रही थी ताकि लय बनी रहे. मेरी बीवी भी घुटनों के बल बैठी थी, वो अपनी जीभ से दोनों लंड के टोपे एक साथ चाटने की कोशिश करने में लगी थी. अंदर पहुंच कर मैंने उससे पूछा- आज बाकी के लोग नहीं हैं क्या घर में?वो बोली- नहीं सर, आज छुट्टी का दिन था तो सब लोग घूमने के लिए गये हुए हैं.

सेक्सी फिल्म कुमारी

अब मैंने उसके ब्लाउज को उतार दिया और उसकी ब्रा को खींच कर निकाल दिया. कांतिलाल ने मेरे चूतड़ों को ऐसे चूमना और काटना शुरू कर दिया कि मेरी सिसकियां रोके नहीं रुक रही थीं. फेसबुक पर दोस्त बने एक आदमी की बीवी की चुदाई की मैंने … उसने अपनी बीवी की फोटो भी डाल रखी थी.

वो थोड़ा थोड़ा जीभ से टटोलता रहा और धीरे धीरे मुझे खींचते हुए मेरे चूतड़ उठाने लगा. फिर मैंने उनको उनकी ननद की चुदाई के लिए बोला तो वो बोली- मैं उससे बात करूंगी.

मुझे नहीं पता था कि मौसी सच में सो रही थी या फिर वो यह सब नाटक रही थी.

पर मुझे पता था कि लंड कैसे डालना है।मैंने कुछ देर और आधे लंड को अंदर बाहर किया और उसके बूब्स से खेलता रहा।जब मुझे लगा कि अब सोनम सामान्य हो चुकी है और दर्द सहने के लिये तैयार है. तीनों ने बहुत जोर लगाया, पर किसी के लिए ऐसी अवस्था में पेशाब करना संभव नहीं था. अगर मुझे आज उसकी बेटी की चुदाई नहीं करनी होती तो मैं उसको और चोदता.

जब उससे कंट्रोल नहीं हो पा रहा था, तो उसने कहा- निहाल, उफफ्फ़ … अब ये खेल का बस करो. कविता की योनि की दरार को कांतिलाल ने हाथों से फैला कर जहां तक संभव था, अपनी जीभ को उसमें घुसाने का प्रयास किया. उसने मुझसे कहा- बेटा तो नहीं, पर आज की रात तुम्हारा पति मैं ही हूँ.

मैं भी उसको देख कर ऐसे मचल जाता था कि अगर इसकी गांड चोदने के लिए मिल जाये तो बस मजा ही आ जाये.

हिंदी बीएफ बढ़िया: मैं अपने भाई के सामने पूरी की पूरी नंगी लेटी हुई थी और उसके लंड को अपने हाथ में पकड़ कर जोर से सहलाते हुए मजा ले रही थी. तभी मुझे ध्यान आया कि एक और दूसरा कमरा, जो हमने लिया था … वो खाली पड़ा है.

वहां जाकर हम दोनों ने साथ में ही स्नान किया और आंटी की चूत को मैंने अपने हाथों से ही साफ किया. मेरा लण्ड बड़े आराम से एक बार में ही पूरा अंदर चला गया। लेकिन निधि ने झूठ का दर्द होने का दिखावा किया और मना करने लगी, रुकने को कहने लगी. फिर एक बार बातों बातों में मैंने उन्हें सेक्सी कहते हुए उनके साथ सेक्स करने के लिए उन्हें प्रपोज कर दिया.

फिर उन लोगों के जाने के बाद हम दोनों ने समुद्र किनारे बैठकर एक बियर मंगवाई.

दूसरी तरफ मुझे ऐसा लग रहा था जैसे उसे बहुत लम्बे समय बाद आज नींद आई हो. और मैंने उसे आगे कर दिया।जब मैंने उसकी गांड को देखा तो मुझे लगा कि ये बिल्कुल सील पैक है। फिर मन में आया कि आज भी कोई बिना चुदे रह सकती है क्या भला?उस दिन तो वो मुझे फिर नहीं दिखी।पर अगले दिन मैंने उसे सीढ़ियों पर मेरी ही क्लास में जाते हुए देखा. जब उसने मेरे लंड को देखा तो वह अपने हाथ को मेरे लंड पर लायी और उसको अपने हाथ से हिलाने लगी।मैंने उसे कहा- रेवा, मैं तो तुम्हें बड़ी शरीफ लड़की समझता था लेकिन तुम तो बड़ी ही ठरकी हो?वह मुझे कहने लगी- मेरा भी तो दिल है, मेरे अंदर भी कामुकता है.