बीएफ मालिश

छवि स्रोत,मारवाड़ी सेक्स वीडियो दिखाइए

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी फिल्म गाना वाली: बीएफ मालिश, मामी ने मुझे बहुत धमकाया कि मैं तुम्हारे मामा को बता दूँगी कि तुमने मेरी ऐसी वीडियो बनाई है.

नागालैंड सेक्स वीडियो

अभी मैं ये सब सोच ही रहा था कि भाभी ने अपने पैर से पीछे से मुझे टच किया और अपने ऊपर आने का इशारा किया. हिंदी सेक्सी वीडियो हदमैं फुल पागल हो रही थी क्योंकि मुँह में मनोहर का लंड पूरा घुसा था, दिनेश चूत बेहद गंदे तरीके से चाटने में लगा था, चाचा मेरी गांड को फैलाए चाटे जा रहे थे.

मैंने देखा कि मामी अपनी पेंटी उतार कर अपनी उंगलियों को चुत में घुसा रही हैं और अपनी बुर को रगड़ रही हैं. सेक्सी भंडारइसका टेस्ट थोड़ा नमकीन था, लेकिन मुझे बहुत पसंद आया और मैंने उनका सारा वीर्य चाट लिया.

उसने मुँह में 2 मिनट ही चोदा कि मैंने निकाल दिया।फिर वो कभी मेरी चूत फाड़ता तो कभी गान्ड… दोनों की बैंड बजा बजाकर चोदता रहा और तो मैं तो दर्द से सुन्न सी हो गयी थी।वो ऐसे ही 15-20 मिनट चोदता रहा। फिर उसने और स्पीड बढ़ा दी और बोला- रानी, मेरा अब निकलने वाला है।यह सुनकर मेरी दिल को सुकून आया और मैं भी उसके झटके का जवाब देने लगी.बीएफ मालिश: मैंने जोर से एक झटका मारा और मेरा 8 इंच का 3 इंच मोटा लंड उनकी चूत फाड़ते हुए अन्दर घुस गया, जिससे उनकी चीख़ निकलने को हुई.

मुझे लड़कों के लंड देखने में बहुत रुचि थी, लेकिन कभी लंड देखने का चांस नहीं मिला था.मुझसे चिपक कर उनका और मेरा दोनों लंड खड़े होके आपस में टकरा रहे थे, मुझे बहुत अच्छा लग रहा था.

सेक्सी डॉट कॉम मूवी - बीएफ मालिश

और ऐसा कहते ही अशोक ने मयूरी की चूत पर अपना मुँह रख दिया और और अपनी जबान से उसको चाटने और चोदने लगा.वह अलमारी में वैक्स हीटर, वैक्स, वैक्स स्ट्रिप्स, टैल्कम पाउडर, स्ट्रिंजर और कोल्ड क्रीम रखी है, सब यहाँ टेबल पे रख लो और समझ लो कि एक चीज़ तो यह कि वैक्स हल्का गर्म ही लगाना है तो उसके लिये स्पेटुला पे बहुत हल्की लेयर ले कर एकाध सेकेंड हवा में रख कर फिर स्किन पे गिराते ही फ़ौरन फैलानी है.

उसने मस्ती में अपनी आँखें बंद कर रखी थीं, जिसे मेरे कई बार खोलने के लिए कहने पर भी उसने नहीं खोला. बीएफ मालिश थोड़ी देर बाद मैंने देखा भाभी सो रही हैं, तो मैंने धीरे से भाभी की साड़ी ऊपर करके उनकी गांड के ऊपर हाथ फेरने लगा और अपने खड़े लंड को बाहर निकाल कर उनकी गांड पर टच करने लगा.

बस तुम हां में हां मिलाते रहना, बाकी सब मुझ पर छोड़ दो।शाम को खाने के बाद हम चारों बात करने के लिए छत पर इकट्ठे हुए। खुशगवार मौसम था, ठंडी हवा चल रही थी।सीमा -अब बता भी दीजिए कि बाबा ने क्या कहा था हम दोनों सोच सोच कर बहुत परेशान हो रही हैं.

बीएफ मालिश?

उसने जाने के थोड़ी देर बाद मैं पायल को अपनी बांहों में उठा कर बेडरूम में ले गया. मैंने अपना मन मजबूत करते हुए उससे पूछ ही लिया कि क्या उसे ये करना अच्छा नहीं लगा?वो चुपचाप बैठी रही. कुछ देर तक मुनीर, माइक और तारा के बीच अंग्रेजी में संवाद चले, जो मैं आपके साथ साझा करती रहूँगी.

मैं खुद उठ कर बाथरूम में चला गया और उसने नौकरानी से चाय नाश्ता तैयार करवाया. हालांकि अपनी गर्लफ्रेंड को भूलना मेरे लिए उतना आसान नहीं था, तब भी मैंने किसी तरह मन लगाना शुरू किया. प्रिया ने भी अब अपनी सांसें रोक लीं और वो अब धक्के खाने के लिए पूरी तरह से तैयार थी.

यह सुनते ही पुलिस वाले दोस्त सुनील बोला- डर मत … सोहेल ने कुछ किया तो मैं हूँ ना. मूवी के दौरान मैं साहिल और आयेशा के बीच में बैठी थी, तो थोड़ी देर बाद ही उन दोनों ने हरकत करनी शुरू कर दी. उन्होंने अपनी दो सहेलियों की भी चूत दिलाई है। वो सब बाद मैं बताऊंगा। आपको मेरी सेक्स कहानी कैसी लगी.

मधु भाभी ने जब ट्यूशन के पैसों की बात की तो हिमानी की मम्मी सुजाता कहने लगी- अरे जो राज कहेगा, दे देंगे. क्योंकि हमेशा कोई न कोई काम करने वाला या मालिक सामने ही रहते ही थे.

उसने मुनीर के होंठों को चूमा और उससे अंग्रेज़ी में पूछा कि क्या वो झड़ गयी? मजा आया?मुनीर ने उत्तर दिया- हाँ बहुत मजा आया, तुम ही वो इंसान हो, जो समझता है कि मुझे क्या चाहिए.

मैंने सोने का नाटक करते हुए उसकी छाती पर हाथ रख दिया और सूट के ऊपर से ही मैं उसके दूध को कभी धीरे से मसलता, कभी थोड़ा सा दबा देता.

तो देखा वो नंबर लिख रही थीं। मैंने जल्दी-जल्दी नंबर दिमाग में बिठा लिया। इतने में मेरा स्टॉप आ गया और मैंने उतरते ही नंबर डायल किया।रिंग गई तो मोबाइल पिक हुआ।मैं- हैलो. उसने मेरे सुपारे को पहले तो होंठों से चूमा‌ और‌ फिर अपनी जुबान को बाहर निकालकर हल्का सा सुपारे को छूकर देखा. इतने में अंकित ने अपना हाथ मेरी समीज के अंदर घुसा दिया और मेरे पेट मेरी नाभि को हाथ से रगड़ने लगा, मेरी नाभि में उंगली भी डाल कर घुमाने लगा, मुझे अजीब सा कुछ होना शुरू हो गया.

मुनीर ने उस व्यक्ति को कुछ कहा और वो व्यक्ति अपनी अवस्था से उठ कर पीठ के बल लेट गया. मैं उठा और अपना लंड उसकी चूत पर रगड़ने लगा तो प्रिया को बहुत मजा आ रहा था. अशोक- कपड़े पहन लूँ?मयूरी- जरूरत नहीं है? हम उनको बताएँगे नहीं कि हम उनको देख रहे हैं.

सर बोले- ऐसा बस एक दो बार ही होता है, फिर जब तुम पूरा मुँह में लेने लगोगे, तब कोई तकलीफ नहीं होगी.

जल्दबाजी में पोस्टर को बंद करने और मैगजीन को बंद करने के चक्कर में वो हाथ से छूट कर नीचे गिर गयी. मुझे मालूम हो चुका था कि मनीषा जाग रही है, फिर भी मैंने अपना लंड उसकी चूत के मुँह पर रखा और हल्का सा ज़ोर लगाया. फिर इसने तो अपना शरीर तक तुम्हें बेहोशी की हालत में इस्तेमाल करने दिया.

इस भीड़ में मुझे नहीं पता कितनी बार लोगों ने मेरे कूल्हों को दबाया. इतना सुनते ही मैंने मनीषा को पूरी तरह से अपनी बांहों में जकड़ लिया और अपनी कमर को थोड़ा ऊंचा किया. कसरत करने के कारण मेरा जिस्म किसी पोर्न एक्टर की तरह गठीला और मस्त दिखता है.

मैंने भी आव देखा न ताव मामी की खिले गुलाब सी सुन्दर गुलाबी व फूली चूत के होंठों को खोल कर अपने लंड का सुपारा उस पर लगाया और पूरी ताकत के साथ जोर का धक्का दे मारा.

उन्होंने अपनी टांग को सीधा करते हुए साड़ी उठा दी और कहा- शायद जाँघों पर है. उनको हमने अपने घर पर बुलाया और कहा कि आप लड़की को देख लीजिए फिर बात पक्की करेंगे.

बीएफ मालिश खैर जैसे-तैसे शाम हुई, अशोक घर आया और अपने कमरे में आराम करने चला गया. एकदम क़यामत सा उसका फिगर कुछ 32-32-34 का रहा होगा, उसकी आवाज़ ऐसी मीठी, जैसे कानों में मिश्री घोल रही हो.

बीएफ मालिश अगर मैंने कुछ पहल दिखाई और उसने मना कर दिया तो मैं उससे फिर नज़र नहीं मिला पा सकूँगी. जैसे तैसे उसकी चूत को ढीला करके लंड ने खुद के आने जाने के लिए रास्ता बनाया और हमारी धकापेल चुदाई शुरू हो गई.

स्कूटी के झटकों से वो मेरे लंड पर अपनी मस्त गर्म गर्म और नर्म नर्म गांड भी घिस रही थी.

ब्लू पिक्चर सेक्सी में भेजो

जैसा मैंने कहा था कि पिछली कहानी में अब कुछ मजेदार रहा नहीं, तो अब मैं उस कहानी को वहीं रोकता हूँ, बस इतना बताऊंगा कि वर्तमान समय में मैं चाची और मैडम दोनों के संपर्क में हूँ और वो दोनों एक दूसरे को जानने लगीं हैं. ये मेरा अंतिम फैसला है… तुम चाहो तो अपने कमरे में जाकर आपस में बातचीत कर के सुलह कर सकते हो… मैं यही तुम्हारा इंतज़ार करुँगी. मैंने उसको टेबल से उठाया और दीवार के साथ खड़ा करके उसकी एक टांग उठाई और चुत में अपना लंड सीधा डाल दिया, जैसे ही मेरा लंड उसकी चूत में घुसा, वो दर्द से चीखने लगी.

चाची जैसे ही सुपारा मुँह में डाला कि चाचा के मुँह से सीत्कार निकल गई और वो नीचे से कमर चलाने लगा. शीतल पता नहीं क्यूँ … पर आज थोड़ा घबरा रही थी मयूरी से ये कहने में कि अपना तौलिया उतार दे. उसने पूछा- क्या तुम चंडीगढ़ में ड्राइव कर सकते हो?मैंने कहा- हां, मैं कर सकता हूँ.

चाची अपने मोटे चूतड़ उछाले जा रही थीं और मैं चुची चूसते हुए चाची की चूत में लंड पेल रहा था.

वह कभी डिल्डो को देख रही थी और कभी मेरे लण्ड को पकड़ कर भींच रही थी. अशोक भी कहाँ पीछे रहने वाला था, वो भी उसकी चूचियों और दूसरे हाथ से कभी उसकी कोमल गांड तो कभी माखन जैसी जांघें तो कभी मलाई जैसी चूत को मसलता रहा. यह सुन कर वो बहुत खुश हुईं और बोलीं कि कल शाम को ही हम लोग आते हैं.

इस प्रक्रिया में मोटे तौर पर अगर देखा जाए तो सिर्फ हमारे टोपे ही एकसाथ नताशा के मुंह में घुस पा रहे थे, लेकिन हसीन नताशा पूरी लगन के साथ उन्हें अपनी नर्म गर्म गुलाबी जीभ से चाटती जा रही थी. घर जाकर मैंने उन लैटर्स को पढ़ा तो मेरे पैरों के नीचे से जमीन ही खिसक गयी. लेकिन फिर भी कुछ बातें ऐसी हैं जो मैं प्रीति से शेयर नहीं कर पा रही थी.

भाभी के बदन की आग और मेरी वासना के चलते मुझसे कंट्रोल नहीं हो रहा था. शौर्य एकदम गर्म हो चुका था और बोलने लगा- सैम, और कितना तड़पाओगे? जल्दी से अपना लंड मेरी गांड में डालो और उसकी आग बुझाओ.

अंकित बोला- जरा सब्र रख वन्द्या … तू इतनी खूबसूरत और सेक्सी है कि कोई तुझे सामने बैठा कर सारी उम्र बस देखता रहे. बस मैं समझ गया कि आज तो इसकी चुत की खुजली मेरे लंड के लिए ही जागी हुई है. उससे मैंने कहा- तुम अभी चलो मेरे घर पर … सब कुछ तुम्हारे सामने ही बोलूंगी, तुम्हें पता लग जाएगा।उसने कहा- नहीं, कल चलूँगा आज नहीं.

मेरी कहानी आपको कैसी लगी? और कोई सुझाव देना चाहते हो तो मुझे मेल कर सकते हैं.

ऐसा आज तक मेरे मर्द के साथ भी नहीं आया।फिर चाची ने सब पूछा और उसको बोली- मुझे भी चुदना है और तू प्लान बना!एक दिन गौरी मुझे मौका देखकर बोली- मेरे घर पे आ जाओ चुदाई करने!उसने चाची को भी बोल दिया- आप मेरे घर आ जाओ!और समय भी बता दिया. फिर तीनों उठे और शीतल अपने कपड़े ठीक करती हुए कमरे से मुस्कुराती हुई बाहर निकल गयी. आपको सिर्फ एक काम करना है कि बारात निकलने के बाद सारे कमरे आपको लॉक करने हैं बस.

मैं अब लंड के सपने देखने लगी कि कब कोई लंड वाला मेरी चूत की गर्मी शान्त करेगा. अब मुझसे रहा नहीं गया और न जाने मुझे क्या हुआ, मैं हाथ ले जाकर खुद जगतदेव अंकल का लंड पकड़ कर अपनी चूत में फिट करने लगी और अपनी चूत के छेद में लंड सैट कर भी दिया.

वो चुपचाप मेर नीचे पड़ी थी और खुद अपने हाथ से मेरा लिंग अपनी चुत पर सैट कर रही थी. उसने बड़े मजे से मेरे लंड के रस को निगल लिया और फिर से चूसना चालू रखा. मैंने अपने लंड के सुपारे को उसकी चूत की दोनों फांकों के बीच में लगाकर पहले तो धीरे धीरे घिसकर उसकी चुत को सहलाया और फिर धीरे से सुपारे को उसके प्रवेशद्वार पर लगा दिया.

हिंदी देशी सेक्सी

मैंने उसके आंसू पी लिए और उसे किस करते हुए चूचों को मसलता रहा, जिससे उसे दर्द कम हुआ.

उसने मुझे एक बार और किस किया और बोला- बताओ, तुम मुझसे कई दिन से क्यों नहीं बातें कर रही हो?मैं उसको बोली- तुम तो अपनी गर्लफ्रेंड के साथ बिजी हो! तो मैंने सोचा कि तुमको परेशान नहीं करूँ. शाम को 8 बजे जब मैं घर वापस आया और फ्रेश हुआ, तो भाभी ने आवाज दी और बोली- भूख लगी हो तो खाना तैयार है. मैंने भी अपने पूरे कपड़े निकाल दिया और अपना लम्बा लंड उनकी नजरों के सामने हिलाने लगा.

उसके लिप्स पे लगी हल्की लिपस्टिक मानो मुझसे कह रही थी कि आ जाओ और होंठों के पूरे रस पी लो. हाँ ये हो सकता है कि इसने गांड में लंड लिए हों, मुँह में लिए हों और बाकी सब किया या करवाया हो, पर यह पक्का है कि वन्द्या ने आज के पहले किसी को अपनी चूत चोदने को नहीं दी है, ये पक्की बात है. दुबई की सेक्सी वीडियोमुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था, फिर भी समझा गया कि दीदी सेक्स चाहती है.

इससे पहले कि मैं कुछ करता, डोर बेल की आवाज़ ने हम दोनों की मशगूलता में जैसे पूरी तरह खलल डाल दी. चूंकि गांव में सब जल्दी सो जाते हैं, तो मुझे ज्यादा इंतज़ार भी नहीं करना पड़ा.

उसको दर्द के साथ साथ मजा भी आ रहा था, इसलिए वो दर्द को सहती हुई साथ देने लगी. बहूरानी भी बेकरार थी तो उसने भी अपनी बांहें मुझे पहना कर अपने ऊपर झुका लिया. मेरी गांड में बहुत सारा थूक लगा के मौसी ने मेरी गांड में उंगली डाल दी.

इस तरह से चुसाई करने में ऐसे लगता है, जैसे दोनों लोग कोई रसीली चीज को चूस रहे हैं. पहले वाले के लंड से चुदाई के कारण मेरी चूत का मुँह फैला हुआ था और अब तक मेरी चुत भी दो बार पानी छोड़ चुकी थी, तो रसीली हुई पड़ी थी. पोर्न साईट देखने एवम् विडियो देखने के बाद मेरा जिस्म एक गर्म भट्टी की तरह तप रहा था जो बिना प्यास बुझे ठंडा नहीं हो सकता था।मैं भी अब अपनी आँखें बंद करके अपनी चूत रगड़ने लगी और फिर से ‘आआअहह ओओओह उफ़फऊहह…’ की आवाज़ें निकालने लगी।मैंने धीरे से अपना हाथ प्रीति के बूब्स पर रखा तो वह कहने लगी- प्लीज़ भाभी, ये सही नहीं होगा.

इसी बीच रशीद अपना एक और पैग खत्म करके आ गया और बोला- अब मैं इस गजब माल को चोदता हूँ.

मीडियम कद की चाची अच्छों अच्छों का लंड खड़ा कर देने वाले जवानी की खान लगती हैं. आज उनकी बातें कुछ ज्यादा ही वासना भरी हुई थी और कल की चुदाई से वो दोनों कुछ ज्यादा ही खुल गयी थीं।यह खुलापन, ये बिगड़ी बातें … यही तो याराना था और यही तो हमें चाहिए था।सायंकाल को सामूहिक चुदाई का आयोजन होना था।कहानी जारी रहेगी.

पेट पे गहरी नाभि … भरी हुई चिकनी जांघों से दमकता हुआ उसका शरीर मेरी कामवासना को अधिकता की हद से भी ज्यादा भड़का रहा था. जानते ही हो कि मैं बड़े दिनों से लंड लेना चाहती थी, लेकिन डरती थी कि कुछ गड़बड़ न हो जाए और ना ही मेरा कोई दोस्त था. मैं हल्के हाथ से उसकी चूत में डूबी उंगलियों से चूत की दीवारों को सहलाने लगा.

मैं उसे देख कर एकदम से उत्तेजित हो कर सोचने लगा कि क्या माल है और ऐसा लग रहा है कि जैसे ये भी मेरे साथ मस्ती करना चाहती है. अब मैं वैसे ही आधे लंड को सपना की चूत में अन्दर बाहर करने लगा और एक हाथ से उसके स्तन दबाने लगा. कम्मो बताओ न लंच में क्या क्या खाने का मन है तेरा?” मैंने अपने हाथ का दबाव उसकी जांघ पर बढ़ाते हुए पूछा.

बीएफ मालिश तू ठीक उसी समय एकदम से सामने आ जाना और अपनीमम्मी को चुदते हुए देख लेना. मैंने अपने ऊपर से रज़ाई हटाई और दोनों तकियों के साथ सेक्स शुरू कर दिया.

काजोल देवगन सेक्सी वीडियो

मैं झट से बिस्तर से उठा और दबे पांव खिड़की के पास चला गया और खिड़की से कान सटा कर सुनने लगा. मैंने फिर से सॉरी बोला, तो वो बोलीं- अगर कोई और होता तो जान से मार देती, तुम्हें ऐसा नहीं करना चाहिए, मैं तुम्हारी सगी मौसी हूँ, तुम्हारी माँ जैसी हूँ. उसने कोई हरकत नहीं की तो मैं धीरे धीरे अपना लंड उसकी गांड से रगड़ने लगा.

जब वो जाने के लिए मुड़ी तो उसका पिंक लोवर और वाइट टॉप में उसके चूचे देखने लायक थे. पिछले साल मेरी जीएफ से मेरा ब्रेकअप हुआ, मैं उससे बहुत प्यार करता था और शादी करना चाहता था, लेकिन कुछ संयोग ऐसे हुए कि वो मुझे छोड़ कर चली गई और मैं गम के अंधेरे में डूबता चला गया. सेक्स moveउसकी दोनों टाँगें खुली हुई थीं और चुत का मुँह ऐसे खुल बन्द हो रहा था, जैसे सांस ले रहा हो.

इधर दूर दूर तक कोई नहीं था, केवल पेड़ों पर बंदर और चिड़ियों की हलचल हो रही थी.

वासना से मेरी आवाजें थोड़ी तेज होने लगी और मैं बहुत ज्यादा गर्म हो गयी थी चुदवाने के लिए और मैं उसको बोलने लगी- अब मुझसे नहीं रहा जाता है बस, मेरी चूत नहीं चाटो … मेरी चूत में लंड भी डालो!और उसने मुझे बिस्तर पर चित लिटा दिया और मेरी चूत में अपना लंड डालने लगा. कहाँ हो तुम?मैं- जी 17 सेक्टर की मार्किट में हूँ।साक्षी- ओह मैं भी वहीं आ रही हूँ.

दो मिनट में मेरा भी पानी निकल गया, लंड पहले ही काफ़ी गर्म हो चुका था … तो उसे पानी निकालने में ज्यादा टाइम नहीं लगा. उस दिन हम 3-4 घंटे साथ रहे, जिससे सोनिया भी मुझसे खुल कर बात करने लगी. मैंने लवड़ा आगे किया तो भाभी ने पहले लंड के सुपारे पर जीभ घुमाई और कहा- बहुत मस्त स्वाद है.

वो खुद भी गर्म सांसें जोर जोर से लेते हुए मुझे चूम रही थी, मैं उसके चुम्बनों का जवाब देते हुए लगातार चूमे जा रहा था.

मैंने हिम्मत करके भाभी से पूछ ही लिया- भाभी भइया घर पर नहीं रहते तो कैसे रहती हो. मैं- हा … ह … हा … साली पूरी रंडी है। पाँच भी अगर इसे चोदें तो कुछ नहीं होगा इसका … ये तो मजा ले रही है. अब मेरा लंड मेरे कंट्रोल से बाहर हो रहा था तो मैंने मौसी की फुद्दी पर अपना लंड सैट किया और धीरे से अन्दर डाला.

इंग्लिश सेक्सी डाउनलोडिंगफिर मैंने उसकी उम्र पूछी तो उसने बताया कि वो 28 साल की है और अभी तक उसका को बच्चा नहीं है. और जिसने एक बार लंड का मजा ले लिया, वो तो बिना इसके रह ही नहीं पाएगी.

மலையாள செக்ஸ் பிலிம்

प्रत्युत्तर में मैं उसकी पीठ सहलाने लगा और उसकी ब्रा के स्ट्रेप्स से खेलने लगा. अब दीमा संग हमारे लंड और सरलता से रूसी सुन्दरी की गांड में अन्दर-बाहर होने लगे. फिर मैंने उसको 15 मिनट तक चोदा और फिर हमने कपड़े ठीक किए और किस करने लगे.

वो उसके शरीर में कुछ नयी भावनाओं और तरंगों को जागते हुए महसूस कर पा रही थी. मैं रोज़ वॉशरूम में जाकर मौसी की ब्रा और पैंटी को सूँघता, मुझे इसमें बहुत मजा आता था. जब वापिस 11 बजे घर की तरफ़ जाने लगे, तो उसने मेरे कंधे पे अपना सर रखा.

जैसे मैंने अपने मुँह में उनका लंड लिया, उनके मुँह से अहह की आवाज़ निकल गई. क्या आपकी इजाजत है मेरी प्यारी स्नेहा रानी?वो शरमा गयी, फिर मीठी स्माइल करके उसने हां में सिर हिला दिया. ” नौकरानी ने कहा और वो पलट कर जाने लगी।उसके लौटते ही मैंने दरवाज़ा बंद कर दिया, वापस सोफ़े पर बैठ गया और सिगरेट सुलगाकर कश लेने लगा।कहानी जारी रहेगी.

जब हम दोनों नहा लिये तो सर मुझे अपनी गोद में उठा कर कमरे में ले गए. भाभी ने बोला- पास में एक झाड़ है, उसके पत्ते ले आओ, उनके रस से मालिश करूँगी, तो ठीक हो जाएगा.

ये बात अबकी बार होली की है और हमारे यहाँ होली के 7-8 दिन पहले ही माहौल बनना शुरू हो जाता है.

करीब दस मिनट तक एक दूसरे पर इसी तरह प्रहार करने के बाद दोनों ने 69 की पोजीशन ली और अब मयूरी अपने पापा का लंड चूस रही थी और अशोक अपनी जवान बेटी की चूत को जोर-जोर से चाट रहा था. ट्रिपल सेक्स वीडियो मेंखैर ये तो अभी पता चल ही जाएगा, मैंने फिर से अपने लंड को ठीक जगह पर लगाया और अबकी बार मैंने थोड़ा जोर से धक्का दे दिया. बॉडी मसाज आयलमुझे थामकर सत्यम मन्दिर से बाहर आये और ऑटो में बैठाकर अपने घर ले आये. तभी चाची और जोर से लिपटती हुई एक लम्बी सीत्कार के साथ बोलीं- मैं गई रे … चोद … जोर से आह … आह!तभी चाची की चूत एक साथ ढेर सारा पानी उगलने लगी.

मयूरी आंखें बंद करके इन सुखद पलों का आनंद लेने लगी, साथ ही साथ वो रजत के लंड के साथ खेलती रही.

उसने झट से मुझे सहारा देते हुए उठाया और पूछा- अरे क्या हुआ?मैंने कमजोरी का दिखावा करते हुए कहा- पता नहीं. मुझे थोड़ा यकीन आया क्योंकि मेरे घर वाले तारा से मिल चुके थे, तो बाहर जाने से मना नहीं करेंगे. उसकी चूत बहुत टाईट थी, जिसकी वजह से मेरा लंड उसकी चूत में नहीं घुसा.

फिर मैंने उसके पेट पर चुम्बन किया और जीभ फेरने लगा, कभी चूमता तो कभी जीभ फेरता और वो मदहोश हो जाती. मैंने भी जल्दबाजी नहीं की और धीरे धीरे उसकी छाती को चूमना सहलाना शुरू कर दिया. तभी मुझे पता लगा कि भाई तो भाभी की आग नहीं बुझा सके तभी भाभी इतनी गरम मसाला है.

होली एचडी सेक्सी वीडियो

तभी समाली अंकल और तेजी से मेरी गांड में अपना लंड अन्दर बाहर करने लगे. उसने मेरा पूरा पानी किसी रंडी की तरह पी लिया और लंड को चूसचूस के साफ करने लगा. विक्रम गुस्से से- मतलब?मयूरी- मतलब कि मैं तुम दोनों पर एक-साथ अपनी जवानी लुटाना चाहती हूँ.

भाभी ने मुझे जाने को बोला, पर मैं एक राउंड और चाहता था लेकिन उन्होंने मना कर दिया.

रशीद ने पीछे से दांतों से उस ड्रेस की नॉट को निकाला और वो ड्रेस निकल गई.

अचानक दीदी ने एक हाथ से मेरे लंड को पकड़ लिया और दूसरे हाथ से मेरे बालों को. प्रिया फोन पर बोली- हैलो!मैं बोला- हां बोलो!प्रिया बोली- आई मिस यू बेबी. जांघ में खुजली की दवामैंने कैब का दरवाजा खोल कर पहले कम्मो को बैठने दिया फिर खुद जा बैठा और हम चल दिए लाल किले की ओर.

तो मैंने भी उनकी इसी बात का फायदा उठा लिया और बोला कि मेरे पास भी कुछ ऐसा है, जो मैं सबको दिखा दूँगा. वैसे भी ऱश्मि के साथ मेरे सेक्स संबंध चालू थे, इसका किसी को पता नहीं चला था. लगभग 20 मिनट तक चोदने के बाद उसने अपना लंड बाहर निकाला और अपना सारा पानी मेरे मम्मों पर गिरा दिया.

मेरा लंड वैसे तो 7″ का है पर मोटा बहुत है इसलिए उसके मुँह में जा नहीं रहा था. फिर दो दिन बाद उसका कॉल आया, उसने अपना नाम ऋचा (बदला हुआ नाम) बताया.

इस मस्त सेक्स कहानी में अब तक की आपने पढ़ा कि मैंने प्रिया की चूत को चूस कर उसे झड़ा दिया था.

अपने चौपायों पर लेटी हुई शानदार ब्लोंड लड़की का दैदीप्तिमान चेहरा हमारी आँखों को चौंधिया दिए जा रहा था, उसके शरीर से निकलता तेज कमरे के वातावरण को उसी के रंग में रंगे जा रहा था. [emailprotected]आप हैंगआउट पर मुझसे वीडियो सेक्स चैट भी कर सकते हो. मेरी पत्नी ने अभी हमारी बेटी को जन्म दिया था, वो अपने मायके में थी.

चरित्र कोर्स क्या है लिखिए आप पूरी बारात लेकर आइएगा ताकि उसको भी पता लगे कि उसकी हम लोग कितनी इज्जत करते हैं. करीब 15 मिनट तक मयूरी की चूचियों का आनन्द लेने और उनपर जुल्म ढाने के बाद अब अशोक पूरी तरह बेशरम और उत्तेजित हो चुका था.

थोड़ी देर के बाद उन्होंने मेरा सर अपनी जांघों के बीच अपनी टांगों से कसकर दबाया और पानी छोड़ दिया, जिसे मैंने पास रखे एक कपड़े से साफ कर दिया. फिर पोज़िशन चेंज हो गई, अब मुझे उसके पीछे से लंड पेल कर चुदाई करना था. वो पायल का एक चूचा अपने हाथों से रगड़ने लगा और दूसरा मुँह में लेकर खाने लगा.

मुंबई में कमरे का किराया कितना है

अंकित ने कहा- वन्द्या … मेरी बहना … मैं तेरी चूत की खुशबू से मस्त हो गया हूँ. तभी मैं उठकर बाहर के कमरे में जाकर लेट गया और वहां चाय पीने लग गया. मैंने दुबारा अपने लंड के टोपे पर थूक लगाकर उसकी चूत में लंड के टोपे को घुसा कर घुसाने लगा.

वो जब काम करतीं तो मैं उनके सामने खड़ा हो जाता और वो झुकतीं, तब मैं उनके हिलते हुए मम्मों को देखता रहता था और उनके सामने ही अपने लौड़े को सहलाने लगता था. अभी मेरे पति गुज़रे कुछ ही दिन हुए थे कि मेरे चाचा और चाची मेरे पास आए और बोले कि लाला तुम्हारे नाम से सब कुछ कर गए है या नहीं.

रौशनी की लिए अच्छे डेकोरेटिव वाल लैम्प्स लगे थे जो पर्याप्त रोशनी बिखेर रहे थे.

नेहा कपड़े छोड़ कर मेरे कमरे में आ गई और बोली- हाय राम राजू, आज तुझे क्या हो गया, बहुत जोर से घूर रहा है? उसके सुन्दर चेहरे पर सेक्सी चंचल चुलबली मुस्कान थी. मैं उसकी चुत में अन्दर तक चाटने लगा और कुछ ही देर में उसने अपनी चूत से पानी छोड़ दिया. मैंने उनसे अपना हाथ छुड़ाया और कमरे से जाने लगी तो उन्होंने रोक के कहा- निशा, आई लव यू।मैंने कुछ भी नहीं कहा और कमरे से बाहर निकल कर रसोई में चली गई जहाँ मम्मी चाय बना रहीं थीं।भैया के लिए भी चाय ले जा!” मम्मी ने कहा.

मैंने भी नीचे से लंड की चोट मारी तो मौसी मजे से दूध पिलाते हुए लंड की सवारी गांठने लगीं. वो आज भी जब घर पर आती है तो मुझसे पहले की तरह ही हंस के बात करती है. मैंने प्रिया को अपने गले से लगा रखा था और उसके बदन के साथ ठिठोली भी कर रहा था.

उसने हैरान होते हुए पूछा- तुम! तुम यहां क्या कर रहे हो?मैं अपने लंड को सहलाते हुए बोला- अरे मेरी जान, तेरे मम्मी पापा और मेरा छोटा साला बाइक से बाहर गया है, तो मैं अपनी डार्लिंग से मिलने चला आया.

बीएफ मालिश: उसने अपने मोटे टोपे को अन्दर घुसेड़ कर अभी दो-चार धक्के ही मारे थे कि मेरी बीवी ने अपने दाहिने हाथ से उसके लंड की गति को ब्रेक लगाया और फिर अपनी रसीली, गुलाबी चूत से बाहर निकाल कर अपनी गांड के छेद से सटा दिया! इसके उपरांत उसने अपनी गांड को पीछे की ओर चला कर दीमा के मोटे-गोरे लंड को अपने छोटे छेद में घुसवा लिया!इसके बाद वो अपनी बोझिल आँखों से मेरी तरफ देखती हुई कहने लगी- आओ प्रिय. अगले दोपहर मेरे पास संदेश आया कि सब तैयार है और तारा मुझे अपने साथ दिन भर के लिए ले जाएगी.

दिल्ली की भीड़, ट्रैफिक, गगनचुम्बी इमारतें और सजे धजे बाज़ार ये सबकुछ अचंभित कर रहा था उसे. फिर कुछ 5 मिनट चुप रहने के बाद वो चुपचाप गाड़ी में बैठ गयी और बोली- अकेले अकेले ही मजा ले रहे थे. लेकिन अगर तुम्हारे घर किसी को पता चल गया तो मुझसे कहेंगे कि मैंने इस बारे में उनको क्यों नहीं बताया तो मैं क्या जवाब दूँगा.

पर फिर भी मैं तो उसे एकदम घूर घूर के देखने लगा लेकिन वो इतना नहीं देख रही थी.

इस मुखचोदन में पायल के रेशमी बालों पे, गालों पे, लगभग सारे बदन पर ही रशीद ने अपना वीर्य गिराया था … इतनी भारी मात्रा में वीर्यपात हुआ था. फिर दूसरे दिन बॉस का मेल आया कि भाई जरा घर जाकर आना, तेरी भाभी का लैपटॉप बन्द हो गया है. मामी जी का शरीर अब अकड़ने लगा था, उन्होंने मुझे कस कर पकड़ा और ‘ह्ह्ह्हह… अह्हह.