बीएफ हिंदी सेक्सी राजस्थानी

छवि स्रोत,तृषा का मधु का बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

बीएफ सेक्सी भेजिए सेक्सी: बीएफ हिंदी सेक्सी राजस्थानी, ”नीतू … इधर भी बाल हैं क्या?”मैं नहीं बताऊंगी … आप खुद ही पता कर लो.

रानी के सेक्सी बीएफ

जब वो मेरे बदन के साथ चिपक कर लगी हुई थी तो मेरे अंदर की हवस और ज्यादा जागने लगी थी. बीएफ एक्स एक्स एक्स एचडी वीडियोजहाँ तक मेरा अंदाजा था और जितना मैं मोनी को अब तक जान पाया था उससे मुझे पता चलने लग गया था कि शायद मोनी सलवार सूट के नीचे पेंटी पहनती ही नहीं थी.

पायल की शरारत मेरे मन को अब भी गुदगुदा रही थी, पर मुझे प्रतिभा की कमर को छूने का अहसास भी बेचैन कर गया था. इंग्लिश वीडियो बीएफ हिंदीकुछ देर बाद वो मुझसे आकर बोली- खाना तो केवल आपके लिए ही बनाया था, ये कम पड़ रहा है.

उसके ख़िलाफ़ जो बातें थीं वे ये थी कि एक तो वह दो जवान बच्चों की माँ थी.बीएफ हिंदी सेक्सी राजस्थानी: मम्मी आयी, उपिंदर ने दरवाज़ा खोला, उसे देख कर मम्मी हैरान हो गयी- अरे उपिंदर तुम?और फिर चुप हो गयी।उपिंदर ने धीरे से मम्मी के चूतड़ों को सहलाया।मम्मी फुसफुसा के बोली- यहां कुछ मत करो, ये अंशु का घर है.

अंकल से चुदते वक्त पेट से रहने का ख्याल मेरे दिमाग में नहीं आया, पर दो तीन दिन बाद उसका डर मुझे सताने लगा था.अगर उनको पता चल गया कि हम भाई-बहन में चुदाई चल रही है तो वो हमारे बारे में पता नहीं क्या सोचेंगे.

बीएफ फिल्में देहाती - बीएफ हिंदी सेक्सी राजस्थानी

इस बीच गुप्ताइन बोली- डॉली का तो अच्छा हो गया, गोलू की भी नौकरी लग जाती तो चिन्ता खत्म हो जाती.ये वाचमैन था- ये आपका पार्सल है, कल शाम घर में कोई नहीं था, तो मैंने रख लिया था.

सोनल अन्दर से ब्लैक कलर की मोटे कपड़े की पट्टी लेकर आई और उसने मुझे पट्टी बांध दी, जिससे मुझे कुछ नहीं दिख रहा था. बीएफ हिंदी सेक्सी राजस्थानी वह मेरे होंठों को चूम कर कहने लगी- जैसा मेरी इस सौतन ने कहा था कि पहले तुम उसको बच्चा दे दो, बाद में मुझे दे देना … तो मैं अपनी प्यारी सहेली की वही ख्वाहिश पूरी करना चाहती थी … इसलिए मैंने यह सब किया.

फिर भाभी ने मुझे धक्का दिया और बोलीं- छोड़ो मुझे कोई आ जाएगा, तुम्हारे भैया आ जाएंगे.

बीएफ हिंदी सेक्सी राजस्थानी?

वो मेरे ऊपर चढ़ गया था और मेरी चूचियों को दबाते हुए मेरे होंठों को चूसने लगा. फिर अंकल जी ने मेरी चूत का वो बाजा बजाया कि मेरी पोर पोर दुःख गयी और उस रात तीन बार चुद कर मैं तृप्त हो गयी और उनसे लिपट कर नंगी ही सो गयी. उनके बोबों को तो मैं लगातार दबा ही रहा था और भाभी को बहुत मजा आ रहा था.

उसने मेरे अंडरवियर को नीचे किया और खुद ही मेरे लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी. मैं उसकी कमर को पकड़कर अब लगातार तेजी से धक्के लगाता रहा जिससे मोनी की कराहटें अब और भी तेज हो गयीं और कुछ ही देर बाद मेरा सँयम टूट गया. जब गांड मारने लायक हो जाएगी, तो मेरी गांड भी अंकल के लंड से ही खुलेगी … उसका किस्सा आपको जरूर सुनाऊंगी.

फिर मैं उसकी जींस के पास आ गयी और उसकी जींस का हुक खोल कर मैंने उसकी जींस उतार दी. मैंने उसके गाल पर एक किस करते हुए हंस कर कहा- हम्म … मुझे लग रहा है अब तू मेरा ब्वॉयफ्रेंड बनने लायक हो गया है. वो बार बार मादक सिसकारियां ले रही थीं, लेकिन कुछ बोल नहीं पा रही थीं.

फिर खुद ही झुक कर अपना खूबसूरत एक स्तन मेरे मुँह में दे दिया और कमर चलाने लगी. उनके जाने के बाद अब मेरे मामा के घर पर मेरी मामी, उनकी बड़ी बेटी मनीषा और उससे छोटी बेटी जागृति व सबसे छोटा बेटा मनोज रहते थे.

मैं जानता था कि जब तक मानसी मामा के लड़के राज का लंड अपनी चूत में नहीं लेगी वो हेतल को यहां से नहीं जाने देगी.

मैं बोली- ओह हो मेरे लाल … मेरे लिये भी मलाई बचा के रखना … मैं भी तेरी गांड को ऐसे ही चाटूंगी.

वो मुझसे छुड़ाने की कोशिश कर रही थी लेकिन मैं उसकी चूत को धमाधम पेलने में लगा हुआ था. मैरी बोली- मैंने पहली बार किसी इंडियन का डिक (लौड़ा) अपनी चूत में लिया है. उसने एक बार किसी के आने की बात कही तो मैंने उसे सब बता दिया कि आज कोचिंग के दरवाजे बंद हो गए हैं और अन्दर सिर्फ हम दो ही हैं.

वो बहुत जोर जोर से मेरे चुचे दबा रहा था मुझे दर्द भी हो रहा था और मजा भी आ रहा था. दस मिनट की चुदाई के बाद भाभी मेरे ऊपर आ गई, चूत में लंड खुरस कर बोलीं- देख साले … कैसे चुदाई करते हैं … चूत कैसे चोदते हैं, तू देख भोसड़ी के. डॉक्टर हैरानी से देखती रह गयी बोली- उफ़ इतना बड़ा इतना मोटा तो कभी नहीं देखा.

मैं उनके लण्ड को पूरी तन्मयता के साथ चाटने चूसने लगी, अंकल जी चुपचाप बुत बने खड़े रहे.

”और वहाँ यार का लौड़ा फ़नफना रहा था। गहराई में घुसने को तैयार- चल मालिनी, अब मैं तुझे पेलूँगा, आ जा मेरे लंड के नीचे. अब वो अपनी खाट के एकदम किनारे पे आ गई थी और ऐसे ही मैं भी उसकी तरफ अपनी खाट के किनारे पे आ गया था. जीजा जी की जीभ मेरी चूत की खुदाई करने में लगी हुई थी और कुछ ही देर के बाद मेरी चूत से कामरस का फव्वारा फूट पड़ा.

जब दिन इतना उत्तेजक था, तो रात कितनी कामुक होगी … यही सोच कर मेरा लंड उफान मार रहा था. चूंकि मैं समय का बड़ा पाबन्द हूँ और मुझे कहीं पर देर से जाना बिल्कुल भी पसंद नहीं है. रात की ट्रेन थी, अगले दिन मुझे ज्वाइन करना था तो वहां पहुँच कर हम स्टेशन पर ही वेटिंग रूम में फ्रेश हो कर तैयार हुए और हम ठीक दस बजे ब्रांच जा पहुंचे.

एक दिन सीमा जी ने कहा- मुझे इस तरह छिप कर मिलना अब अच्छा नहीं लगता, हमें शादी कर लेना चाहिए.

तब उसने कहा- नहीं … जब वो बिना पिये आता है, तब पूरा अन्दर पेल चोद लेता है, पर उसका लंड तुम्हारी तरह नहीं है तुमने सच कहा है कि उसकी लुल्ली है. मगर मैंने उसकी चूचियों के निप्पल को दबा कर उसको गर्म करना शुरू कर दिया.

बीएफ हिंदी सेक्सी राजस्थानी जरा भी रहम ना दिखाते हुए मैंने और दो-चार धक्के लगा दिए और उसके बाद मैंने धक्के लगाने थोड़ा धीरे कर दिये लेकिन बंद नहीं किया. उसने मेरा मोबाईल मुझे दिया अपने ब्लाउज में से मोबाईल निकाल कर मेरा नम्बर देखा मोबाईल को वापिस ब्लाउज में डाल कर मुस्कराई.

बीएफ हिंदी सेक्सी राजस्थानी अंकल ने एक हाथ मेरी पीठ पर रखा, तो दूसरा मेरे चूतड़ पर रखा और मुझे और करीब खींचा. मैं एक दिन कॉलेज से जल्दी स्टेशन पहुँच कर ट्रेन में बैठ गया और आदतन खिड़की साइड की सीट पर बैठ कर बगल में अपना बैग रखकर एक सीट एक्सट्रा काबू कर ली, ताकि कोई हसीना सीट नहीं मिलने पर आए, तो उसे यह सीट देकर पूरे सफ़र में आंखों की सिकाई कर लूँ.

वो कभी मुझे बिस्तर पर लिटा कर चोद रहा था, तो कभी सोफे पर घोड़ी बनाकर चोद रहा था.

मिया खलीफा का बफ

उसने लाल रंग की पारदर्शी नाइटी पहन रखी थी जो कि उसके शरीर को छुपा कम और दिखा ज्यादा रही थी।लाल रंग की जालीदार नाइटी के अंदर गोरे रंग की चमड़ी मेरे शरीर में सिरहन पैदा करनी लगी. इस बात को सोच कर मैं थोड़ा गर्म होने लगा था। उसके चेहरे पर एक अजीब सा उमंग भरा भाव था. मैंने अपने एक हाथ से दीपिका के पेट का निचला हिस्सा सहलाना शुरू किया तो दीपिका बोली- आह्ह … स्सस … आई … फिर … चुदवाने का दिल कर रहा है.

मैं अपनी किसी स्टूडेंट के साथ गलत रिश्ता बना कर बदनामी लेना नहीं चाहता था. मेरी कार सेक्स पोर्न स्टोरी में पढ़ें कि कैसे मैंने अपनी सहेली के दो दोस्तों से चलती कार में अपनी चूत की चुदाई करवाई. थोड़ा बहुत ब्राउनिश कलर के साथ उसकी चूत की पुत्तियां भी ऐसी लग रही थीं कि जैसे कि कच्ची सब्जियों के बीच दो कलियां फंसी हों.

रमेश ने गांड के अंदर ही थूक दिया। वो ये दृश्य देखकर जैसे मदहोश हो रहा था.

… सहन नहीं हो रहा … आप जोर से करो … और जोर से चोदो मेरी चुत को, चोद चोद कर पूरी हेकड़ी उतार दो साली की. तो कभी किसी जोक पर भाभी भी मेरे ऊपर पूरा गिर कर मुझे गर्म कर देती थीं. यह कहानी उस समय की है जब मैं 22 वर्ष का था और यूनिवर्सिटी में एमबीए की पढ़ाई कर रहा था.

मेरी ये निगोड़ी चूत कबसे तुम्हें चोदने के लिए पागल है और तुम पता नहीं क्या कर रहे हो तब से … आआह … अह … जल्दी से आ जाओ. करीब दस मिनट गांड मारने के बाद मैं भी झड़ गया और गहरी नींद में सो गया. हम दोनों लोग बिना एक दूसरे से कुछ बात किये एक दूसरे के कपड़े निकाल रहे थे.

इस दौरान मैं चूत का दाना सहलाती रही थी जिस वजह से मैं 3 बार झड़ चुकी थी. मैंने कहा- आप ड्यूटी पर नहीं जा रहे हो क्या?वो बोले- नहीं, आज तबियत कुछ ठीक नहीं लग रही.

मुझे जब लगातार बहुत बार चुदाई करनी होती है, तभी मैं इसका सेवन करता हूँ. मैं- हम्म …मैं समझ गया कि लड़की चुदना चाहती है, पर इसे लड़के पर विश्वास नहीं है और इसे डर भी लग रहा है. भाभी ने अपनी झांट थोड़े दिन पहले ही साफ की थीं, इस कारण थोड़े थोड़े बाल थे … लेकिन क्या कमाल की चूत थी.

पर ये आह इतनी ज्यादा तेज नहीं थी, जितनी पहले उसकी चूत चुदाई के वक्त में आई थी.

फिर बोली- पहले तो आप इसे मेरी चूत में डाल दो, फिर बाकी सब बाद में करेंगे. मैंने माँ को मैंने जगा कर उनसे पूछने की कोशिश की, मगर माँ गहरी नींद में सोई हुई थीं, तो माँ जागी ही नहीं. फिर रंजना ने मेरा लिंग पकड़ा और तेजी के साथ सहलाने लगी। उसके हाथों द्वारा मेरे लिंग को सहलाने से मुझे और जोश आने लगा.

फिर अचानक एक दिन उसका फोन आया और मैंने उससे कहा- जानू, मैं तुम्ह़ारे बिना रह नहीं सकता. मनीषा के साथ इतना सब कुछ होने के बाद अब मैं उसको चोदने के बारे मैं प्लान करने लगा.

मैंने उसके कमीज को ऊपर उठा दिया और उसकी ब्रा के अंदर दबे चूचों को दबाने लगा. मैं रेखा के ऊपर गिर गया और खुद को पलटाते हुए रेखा को अपने ऊपर कर लिया और फिर अपनी कमर उठा-उठाकर धक्के लगाने शुरू कर दिए. लेकिन जब जमीन पर बैठे-बैठे उसके पैर दर्द करने लगे, तो वो खड़ी हुई और पंलग पर बैठ गयी.

फैक्स वीडियो

लेकिन जितने विश्वास के साथ मैं आगे कदम बढ़ा रहा था मोनी मेरे उस भरोसे को पीछे धकेल देती थी और वह शायद नहीं चाहती थी कि मैं उसकी चूत को भी हाथ लगाऊं.

मैंने वसुन्धरा की आँखों में झांका, आँखों में बेहिसाब ख़ुशी, बेइंतहा प्यार और कुछ-कुछ डर के अहसास छलक रहे थे. आप मुझे नीचे दी गई ईमेल पर मैसेज कर सकते हैं अथवा कहानी के नीचे दिये गये टिप्पणी वाले खाने में अपने कमेंट्स छोड़ सकते हैं. कोई 10-15 मिनट बाद फिर से मेरे हर अंग को चूसने के बाद वो उठा और मेरी सहेली के बेड के दराज में क्रीम देखने लगा.

कभी सीमा नितिन की जीभ चूसने लगतीं, तो कभी नितिन सीमा के मुँह में अपनी जीभ डाल के उनकी जीभ चूसने लगता. मेरी ऐसी तेज ठुकाई से शीना फिर से एक बार झड़ने लगी और उसका बदन पूरी तरह से ऐंठने लगा. सेक्सी हिंदी में बीएफ हिंदी मेंफिर मैं वापस उसके साथ किस करने में व्यस्त हो गया और मैं दोनों हाथों से उसकी गांड को मसलने लगा.

वसुन्धरा का अपने माँ-बाप से इतर रहना, उसके व्यक्तित्व में समायी तमाम बत्तमीज़ी, दबंगई, ख़ुद-पसंदगी और उसके तनहाई-पसंद होने का और मेरे प्रति अनबूझे अनुराग़ का और अभी तक अविवाहित होने का कारण उसके पिता जी का उसकी मुझसे शादी के ख़िलाफ़ लिया गया एक फ़ैसला ही था. वो अपनी गांड पटक कर चूत को मेरे मुँह में ऐसे टिकाने लगी, जैसे वो भी मेरे मुँह को चोदना चाहती हो.

लेकिन वो बिना बोले मेरी कुर्ती में हाथ डालकर मेरी चूचियों को ब्रा के ऊपर से मसलने लगा. बिना समय गंवाए मैंने लंच के समय रेस्ट रूम को अन्दर से लॉक करके अर्चना को जोर से कस कर बांहों में भर लिया. मैं- क्या तुमको सुबह की बात को लेकर कुछ कहना है?मीता- सॉरी वो बहुत ज़िद कर रहा था तो क्लास बंक करके मैं उसके साथ चली गई थी.

मेरे बोलते ही मौसी ने अपना हाथ हटा लिया और अपने साड़ी में पौंछने लगीं. मेरी चोदन स्टोरी के पिछले भागमकान मालकिन की रण्डी बनने की चाहत-2में आपने पढ़ा किएक दिन मेरी बीवी घर पर नहीं थी और उसका पति भी घर पर नहीं था. मैं फिर से बोला- बोलो न … क्या अपना लंड तुम्हारी इस पनियाई चूत में डाल दूं.

फिर 6 महीने बाद मुझे वापस अपने घर आना पड़ा और पूनम से फिर कभी मिलना नहीं हुआ.

इस फोरप्ले से नितिन का लंड अकड़ने लगा और सीमा की चूत पानी पानी हो गई. मेरा जिस्म तुम्हारी शादी का उपहार होगा … और संदीप का लंड मेरे लिए रिटर्न गिफ्ट.

मैं एक हाथ से उसकी बुर में उंगली कर रहा था और दूसरे हाथ उसकी चूचियों के निप्पल की घुंडी मसल रहा था. इसी लिए दीपाली की चुत पर मुँह रख के बहुत जोर से चूसा और ढेर सारा थूक उसकी चुत पर मल दिया. बात तो उसकी सही थी इतनी छोटी सी बुर में इतना मोटा लंड जाएगा, तो उसने फटना ही था.

अपने हाथों से ही ब्रा को ऊपर खींच कर उसने दूसरी चूची को भी आज़ाद कर दिया. एक हफ्ते बाद मैं जो करना चाहूंगी, वो सब मैं करूँगी, बस तुम्हारा साथ चाहिये. शाम को वह करीब 08:00 बजे आई और उसे वापस जाने में रात के 10:30 बज गए.

बीएफ हिंदी सेक्सी राजस्थानी परन्तु मैंने सोचा कि यदि मैं इसके बारे में बताऊंगा तो ये मुकर जाएगी और मुझे ही झूठा बना देगी. एक-दो बार मैंने अपने आपको पीछे भी किया लेकिन अंदर का सीन देखने का जुनून सवार जो सवार हुआ था उसने मुझे बाकी सभी ख्यालात से बाहर कर दिया.

पीरियड में सेक्स करने से क्या होता है

उसने एक बार किसी के आने की बात कही तो मैंने उसे सब बता दिया कि आज कोचिंग के दरवाजे बंद हो गए हैं और अन्दर सिर्फ हम दो ही हैं. अन्तर्वासना जीजा साली सेक्स स्टोरी का अगला भाग:दीदी की चुत में मेरे पति का लंड-2. जब सोनल जोरों से सिसकार रही थी, तब दिशा अपने मम्मे दबा रही थी, तो राधिका अपनी चुत सहला रही थी.

थॉमस ने मुझे बेड पर सीधा लेटा दिया और मेरे मम्मों पर आकर उन्हें चूसने और मसलने लगा. तुम दोनों तो एक दूसरे में इतना खोये हुए थे कि कुछ होश ही नहीं था तुम्हें!फिर वो जूली को पकड़ कर वॉशरूम में ले गयी और उसे नहलाया. ट्रिपल स्टार बीएफमैं जानती हूं कि काफी दिन से मेरी कोई सेक्स कहानी नहीं आई है जिस वजह से आप सभी के लंड तने हुए हैं.

मैंने उसकी उम्र पर तरस खाया और बात आगे ना बढ़ाकर हाथ जोड़ लिए- अच्छा बाबा तुम ही जीती, मैं हारा.

मेरी सिसकारियां सुन कर प्रिंसीपल सर को और ज्यादा जोश आ गया और वो मेरी चूत के बालों को नोचते हुए मेरी चूत के छेद में अपनी जीभ से लपलपाने लगे. दवाई की ठंडक अन्दर गई … तो मैंने देखा कि भैया ने वही ट्यूब अपने लौड़े पर भी लगा ली है.

मैंने भाभी की गांड पर अच्छे से थूक लगा दिया और अपने लंड को चांदनी भाभी की गांड के छेद पर सेट कर दिया. आज मैं अपने किसी मित्र की आपबीती आपके समक्ष सेक्स कहानी के रूप में प्रस्तुत कर रहा हूँ. चूंकि नींद की गोली के असर से निखिल सुबह से पहले जागने वाला नहीं था.

बदले में मैंने भी सबकी नजरों से बचते हुए अपने लंड पर हाथ फेरकर और होंठ को गोल करके नम्रता को जवाब दिया.

कैसी लड़की हो? कुछ देर रुक जाती कहीं!मुझे भी समझ नहीं आ रहा था कि क्या करूँँ? यहाँ तो कोई कपड़े भी नहीं थे मेरे पास. वसुन्धरा के शरीर में रह रह कर सिहरन की लहरें उठ रही थी और उसने अपना निचला होंठ अपने दांतों में कस कर भींच रखा था. जब मेरा दर्द कम हुआ, तो उसने अपने पूरे लंड से एक जोर से धक्का मारा.

सनी लियोन सेक्स वीडियो बीएफ सेक्सीउन्होंने अपने धक्कों की गति कम कर दी और मेरे स्तन को मुँह में लेकर चूसने लगे. कुछ देर आराम करने के बाद हमने नाश्ता किया तो दिलिया बोली- आमिर, डॉक्टर को दिखा लो, कहीं कोई दिक्कत न हो गयी हो?मुझे भी उसकी बात जंची.

उसका प्यारा सा लण्ड

वो मुझे और गर्म कर रहा था ताकि मैं उसकी किसी भी बात के लिए उसे रोक ही न सकूँ। और इसी तरह मुझे गुदगुदाते हुये, तड़पाते हुये उसने अपना हाथ मेरे मम्मे से उठा कर सीधा मेरे दोनों जांघों के बीच में फंसा दिया. मैं और जोर जोर से चिल्लाने चीखने लगी- आह आह उम्म थॉमस रुको रुको बेबी!मगर थॉमस नहीं रुका. मैंने नम्रता को कपड़े पहनने से मना किया और थोड़ा सा दूर खड़े होने के लिए कहा.

जब मां नीचे को झुकतीं, तो उनके दोनों चूतड़ों के बीच वाली दरार साफ दिख रही थी. जैसे घनघोर बारिश के बाद सारी प्रकृति निखरी-निखरी सी दिखती है वैसे ही अब वसुन्धरा निखरी-निखरी सी दिख रही थी. हॉल में देखा तो जीजू वहां पर सो रहे थे और उनके खर्राटों की आवाज जोर से सुनाई दे रही थी.

इनके जिस्म पर पड़ती हुई अकड़न संकेत देने लगे थे कि कभी भी उनका लंड उल्टी कर सकता है. अब रानी ने दोनों हाथों से लंड को जड़ से पकड़ लिया और लंड के नीचे की तरफ वाली मोटी नस को उंगली से ऐसे टंकारने लगी जैसे सितार बजाने वाले सितार के तारों को टंकारते हैं. एक बार फिर हम लोग नंगे ही छत पर हो लिए, देखा तो आस-पास के लोग नीचे जाने लगे.

मैंने पूछा- वर्जिन हो क्या?वो बोली- इस ज़माने में वर्जिन कौन रहता है?ये बोल कर वो हंसने लगी. यदि कल आपने मेरी बात मान ली होती तो आप किसी और स्कूल में होतीं, जो आपकी सुविधा के दायरे में होता.

जैसे ही वसुन्धरा अपना बैग लेकर कार से उतरी तो मैंने कहा- अच्छा … वसुन्धरा जी!क्या मतलब?”मैं चलता हूँ वसुन्धरा जी! मैंने बहुत दूर जाना है.

खैर, अपने मन की करने के बाद मैंने अपने मुँह के अन्दर ढेर सारा थूक समेटा और फिर उसकी गांड के अन्दर उड़ेल दिया. गांडू बीएफ सेक्सीउन्होंने हंसते हुए कहा- काश रात में भी तुम अपनी दीदी की जगह की आ जातीं. हिंदी बीएफ मूवी एक्स एक्स एक्सथैंक्यू अंकल जी, पर इत्ती भी सुन्दर नहीं हूं मैं … जो आप इतनी तारीफ़ कर रहे हो. मैं दीदी से मिल चुकी थी और उनकी सास से दीदी के घर रुकने की बात भी हो चुकी थी.

उनको पता लग गया था कि मैं बहुत ज्यादा गर्म हो गयी हूं और जल्दी ही झड़ने वाली हूं.

”क्या करोगे, चूत मारोगे?”उनके मुँह से साफ़ चूत मारने की बात सुनकर मैं भी खुल गया- नहीं … आपकी गांड भी मारूंगा और आपके मुँह को भी चोदूँगा. अब मैंने मौका ना गंवाते हुए उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और उन्हें बेदर्दी से चूसने लगा. ओह हाय क्या बताऊं … क्या नज़ारा था कितनी मुलायम रबड़ी सी चूत भाभी बिल्कुल खुली पड़ी थी.

मैंने देखा कि उनके बूब्स साफ दिखाई दे रहे थे लेकिन दी के निप्पल देखने में थोड़ी परेशानी हो रही थी. मेरी चूची बहुत बड़ी हैं तो उनको मेरी चूची को दबाने में मजा आ रहा था. बगल में सोये दूसरे लोगों के उठने का भी डर था क्योंकि मां तो सुबह में जल्दी ही उठ जाती थी.

देहाती लड़कियों के वॉलपेपर

मीता- मतलब?मैं- मेरा मतलब तुम इतनी सुन्दर हो और तुम्हारा दोस्त तुम्हारे सामने कुछ भी नहीं है. और कल की चुदाई अब तक की बेस्ट चुदाई थी, मैंने सच में बहुत एन्जॉय किया. बस उसका इतना कहना ही था कि मैंने आव देखा न ताव लंड को गांड में एक ही झटके में पेबस्त कर दिया.

मैं, सीमा और प्रियंका एक साइड बैठे थे और हमारे सामने सतीश, मोनू और मुस्कान बैठे थे।हम सभी आपस में बातें करने लगे और अपने आप को आया मज़ा शेयर करने लगे।मैंने प्रियंका को कहा- साली तू क्यों हमसे जल रही थी?वो मुस्कराते हुए बोली- जल मैं नहीं, तुम्हारी ये साली चुदकड़ कुतिया सीमा जल रही थी, ये मुझे बार बार छेड़ रही थी.

मैंने उसकी गांड पर लंड को रगड़ना शुरू किया तो उसने मुझे पकड़ कर आगे की तरफ खींचने की कोशिश की.

हीना जितने लंड को अपने मुँह में गले तक ले सकी, वो उतने से ही अपने काम में तल्लीनता से लग गई. अंगूठा उनकी मखमली और चिकनी चूत में आगे पीछे करते हुए मुझे बहुत मजा आ रहा था. बीएफ बीएफ बीएफ दिखाएंमैंने देखा कि भाभी अपनी गांड में लंड लग जाने के बाद भी कोई हरकत नहीं कर रही हैं, तो मैंने अपना लंड उनकी गांड में और अन्दर पेलने लगा.

अब वो 69 की पोजीशन में आ गई और मेरे लंड को हाथों में लेकर सहलाने लगी … चूमने लगी. मैं नीचे लेट गया, मैंने अब अपनी बेटी आरज़ू को उठाकर अपने लंड पर बैठा दिया और उसे चोदने लगा। वो मेरे लंड पर उछलते हुए बहुत सेक्सी लग रही थी और उसके उछलने की वजह से मेरा लंड उसकी चूत के आखरी हिस्से तक छू रहा था. अब मैंने अपनी टी शर्ट उतारी और उसके ना ना करते करते साड़ी, ब्लाउज, पेटीकोट और ब्रा सब उतार दिया, तमाम कोशिशों के बावजूद उसने पैन्टी नहीं उतारने दी.

अपने पति की बात सुनात सुनाते नम्रता मेरी तरफ देखते हुए बोली- तुम्हारे वीर्य ने मुझे वीर्य पीने का ऐसा दीवाना बनाया कि मैं राजेश के वीर्य के रस के एक बूंद को भी छोड़ना नहीं चाहती थी, इसलिए मैंने थोड़ा ऊपर की तरफ होते हुए राजेश के मुँह में अपनी चूची को चूसने के लिए दे दिया और खुद उनके वीर्य से सने मेरे हाथ को चाट-चाटकर साफ करने लगी. उसकी सीत्कारों की वजह से पंद्रह-बीस मिनट में ही मेरे लंड ने उसकी गांड में थूक दिया.

मेरी दीदी हॉस्पिटल में भर्ती थी और रात में कभी उनकी सास दीदी के पास रहती थी तो कभी जीजा जी वहाँ पर रुक जाते थे.

मैंने भाभी से कहा- भाभी सच में जैसी सपनों में आपकी चुत को याद करता था, ये बिल्कुल वैसी ही है. जब दूध बिल्कुल खत्म हो गया, तो मैंने उसकी चूत और जांघ को अच्छे से चाटकर साफ किया और उसके पैरों के बीच से हटकर उसके बगल में बैठ गया. फिर मैं धीरे धीरे धक्के देने लगा और अब अपने मुँह से उसकी चुची को ऊपर सही से चूसने लगा.

सेक्सी डीजे बीएफ डॉक्टर ने मेरी मम्मी से पूछा- क्या आपका सेक्स के प्रति आकर्षण कम है या अधिक?मम्मी सोचने लगी. तब तक मेरे मन में ऐसा कुछ नहीं था, पर अब मुझे अपनी सलहज काजल का पूरा जिस्म मेरे आंखों के सामने आ गया, जिसमें मेरे लाए ब्रा और पैन्टी पहन कर वो मेरे सामने खड़ी थी.

साथ ही लंड घुसते ही मेरी जांघें मोनी की जांघों से टकरा गईं और एक पट्ट की सी आवाज हो उठी. मैंने उसको देखते ही कहा- बड़ी खुश लग रही हो?नम्रता- हां है ही खुशी वाली बात. इसके लिए आजकल वे मेरी चूत में लंड पेलने के समय अपनी उंगली को थूक से गीला करके मेरी गांड में चलाते रहते हैं.

अनुष्का सेक्सी वीडियोस

मेरे साथ हुई ये घटना सत्य है इसलिए मैंने ऐसे शब्दों का प्रयोग किया. मैंने मेरी वाइफ को आईडिया दिया कि एक काम करो, तुम ये सैट अपनी भाभी को दे दो, शायद इसकी फिटिंग तुम्हारी भाभी की साइज की हो. यह सब इतनी जल्दी में हुआ कि ना मुझे कुछ सोचने का वक्त मिला और ना ही उन दोनों को समझ आया.

फिर 12 बजे तक इसी तरह अन्दर बाहर करता रहा, लेकिन इस बीच मैं एक बार भी नहीं झड़ी. मेरा इतना कहना था कि वो बड़े प्यार से बोली- मेरे राजा, मैं भी कह रही हूं.

आख़िर भाभी को बोलना ही पड़ा और वो बोल उठीं- तुम शांत नहीं लेट सकते, रात भर से परेशान कर दिया, ना सो रहे हो ना सोने दे रहे हो.

इसके कुछ दिन बाद गुप्ता जी का प्रमोशन हुआ और उनका ट्रांसफर मेरठ हो गया. और मेरे बूब्स को जोर से मसल दिया अपने हाथों से!मैंने अपने बैग से दूसरे कपड़े निकाल कर पहने और कार स्टार्ट करके उससे विदा ले अपने मायके को निकल गई और शादी में बिजी हो गई. मेरी बेटी भी आह्ह्ह ह्हह्ह … आय्ह्ह… अय्य्य्ह ह्ह्ह करके हिल रही थी और अब मस्त चुदवा रही थी.

रात को बेड पर लेटे हुए मेरे मन में दिन में हुई घटना के बारे में ही विचार आ रहे थे. शादी के पहले कि मेरी बीवी सेक्सी कपड़े में कैसे दिखेगी, बस उस इच्छा को पूरी करने के लिए मैं ले आया करता था. अंकल जी के चुम्बन का जवाब मैं भी तत्परता से देने लगी और उनके होंठ चूसने लगी.

रिया- मगर गांड में तो आपने खीर भर रखी है डैडी।रमेश- लण्ड अपनी जगह बना लेगा साली रंडी। तू कुतिया बन जा।रिया फिर चौपाया हो गयी और रमेश के सामने अपनी भूरी छेद वाली गाँड परोस दी।रमेश ने उसके भारी भरकम चूतड़ों पर पहले थूका और तीन चार करारे थप्पड़ मारे। रिया थप्पड़ से उठे दर्द से ज्यादा आनंद महसूस कर रही थी। उसने खुद ही अपने चूतड़ पर तमाचे मारे- सटाक … सटाक … और मारो.

बीएफ हिंदी सेक्सी राजस्थानी: हम इस पोज में करीब 20 मिनट तक चुदते रहे, फिर मैं झड़ गया और हमने ब्रेक लेकर थोड़ा खाना खाया।खाना खाने के बाद चाची बेड पर लेट गई, मैं भी चाची के पीछे लेट गया। मैंने चाची की पैंटी उतारकर लंड चाची की चुत में डाल दिया और कंचन चाची के सामने लेट कर उनकी चूचियाँ चूसने लगी. मैंने अपने हाथ उसकी कमर पर ही घुमाने शुरू किए और धीरे-धीरे उसका शरीर मेरे हाथ की थिरकन पर नाचने लगा.

ये कहते हुए उसने मेरे हाथ से मोबाइल ले लिया और उसे आगे की सीट पर मोबाइल चार्जिंग के लिए लगा कर रख दिया. मेरे होंठ चूसने से और मम्मे दबाने से मेरी जांघों के बीच आग भड़कने लगी थी. उन लोगों को एक पार्टी में जाना था, तो मैं उन सबको छोड़ने के लिए रेलवे स्टेशन गयी.

अब मैं अदिति को पूरे वेग से चोद रहा था और अदिति भी अस्स आह उह कर रही थी.

फिर वो भी वक्त आया कि रेखा के सब्र का बांध के टूटने का असर मेरे लंड पर पड़ने लगा था कि तभी मेरे लंड ने भी मुझे चेतावनी देनी शुरू कर दी. मैं- तुम्हें पोर्न में सबसे अच्छा क्या लगता है?दीपाली- जो चुत चाटते हैं ना, वह बहुत पसंद है मुझे. उफ़! कितना सहा था इस प्रेम की मारी ने!वसुन्धरा! तू है तो तो बेपनाह प्यार के काबिल लेकिन मैं एक शादीशुदा, बाल-बच्चेदार आदमी, तेरे प्यार का जबाब प्यार से नहीं दे सकता.