बीएफ वीडियो सनी लियोन के बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,लड़की की सील तोड़ने की सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

हीरोइन की बीएफ सेक्सी: बीएफ वीडियो सनी लियोन के बीएफ वीडियो, फिर बढ़ा दी और पाँच मिनट में पूरे ज़ोर से चोदने लगा। फिर मैंने लंड निकाल लिया और उसको अपने ऊपर कर लिया।अब मैं नीचे आ गया था और वो मेरे लंड के ऊपर बैठने लगी। उसकी चूत काफ़ी पानी छोड़ चुकी थी। वो दो बार झड़ भी गई थी। कुछ देर तक यूँ ही चोदने के बाद वो हाँफने लगी और बोली- अब मुझसे नहीं होता।मैं फिर से ऊपर आ गया.

सेक्सी औरत आदमी

मुझे अपनी अकेली दोपहर तो कॉलेज के लड़कों के साथ बांटना बेहद पसंद है। इनसे तो मैं अपने मम्मों की चुसाई करवाऊँगी और मेरी चूत की खुजली भी इन जवान लौंडों के लौड़ों से खूब मिटेगी।कुछ देर यूं ही बातचीत के बाद सविता भाभी अपने घर चली गईं।अगले दिन. क्रिकेट के सेक्सीमैं खड़ा हो गया और मैंने सुहाना मैम का गाउन उतार दिया। जब मैंने वो दिलकश नजारा देखा.

कितना लंबा और बड़ा था। यह लौड़ा तो मेरे पति के लंड से बड़ा और तगड़ा था।मैंने कहा- नैनी, कैसा है?उसने कहा- धत्त. picture of सेक्सी!जय सविता भाभी की मुस्कराहट में खोता जा रहा था।इस खेल को और आगे बढ़ाने की सोचते हुए सविता भाभी ने जय को अपनी दूध घाटी के मादक दीदार करवा दिए।सविता भाभी ने जय की तरफ अपनी मम्मों को उठाते हुए कहा- अभी कुंवारे हो.

तो मैं जल्दी आ गया।आंटी- चलो अच्छा तुम चाय पी लो फिर तुम मेरे साथ मेरे कमरे की थोड़ी सफ़ाई करा देना प्लीज़।मैं- ओके आंटी.बीएफ वीडियो सनी लियोन के बीएफ वीडियो: आपको और भी मजा दिलाने का मेरा वादा पक्का है।मुझे ईमेल जरूर भेजिएगा और बस मेरे साथ सुहाना मैम की चुदाई का मजा लूटते रहिएगा।[emailprotected]कहानी जारी है।.

हम लोग भीड़ में थे। सब लोग पूछने लगे- कहाँ थे, कहाँ थे तुम लोग?हमने भी बहाना बनाया और अपने-अपने घर चले गए.मुझे लगा जैसे सारा कुछ एक पल के लिए ठहर गया है। अगले ही पल लंड से एक पिचकारी सी छूटी और आंटी का मुँह भर गया।आंटी मेरे लंड को चाटते हुए बोलीं- यम्मी.

झोपड़ी में सेक्सी वीडियो - बीएफ वीडियो सनी लियोन के बीएफ वीडियो

मैं हैरान रह गया पर मैंने कुछ कहा नहीं।ऐसे ही कुछ दिन निकल गए, हमारे एग्जाम नज़दीक आ गए थे इसलिए हम दोनों रात को 12 बजे तक पढ़ाई करते थे।एक दिन लाइट नहीं थी.मेरी आंखों के सामने डॉक्टर साहब मेरी बीवी नेहा को ताबड़तोड़ चोद रहे थे और नेहा की चूत में दर्द बढ़ गया था।अब आगे.

क्योंकि यहाँ पर लड़कियों के नखरे बहुत ज्यादा होते हैं। मैंने भी कई लड़कियां पटाईं. बीएफ वीडियो सनी लियोन के बीएफ वीडियो ’मैं सुहाना की गांड को उंगलियों से फ़ैला कर जीभ को गांड में घुसेड़ कर चूस रहा था। जैसे ही मैं जीभ को अन्दर ठेलता.

वो डर कर खड़ी हो गईं और बोलीं- ये क्या कर रही हो?वो कुछ नहीं बोली और उनकी चूत चाटती रही।तभी मैंने पीछे से जाकर दीदी के मम्मों को दबाना चालू कर दिया।अब वो भी मुस्कुरा दीं और साथ देने लगीं, कुछ ही पलों में वो वहीं ज़मीन पर लेट गईं।मैं उनके मम्मों को दबा रहा था तो मेरा लंड उनकी आँखों तक जा रहा था.

बीएफ वीडियो सनी लियोन के बीएफ वीडियो?

मैं जयपुर नहीं गया।मैंने अपनी होली मामा के यहाँ मनाना ही सही समझा।मैं अपने दोस्तों के साथ होली मनाने लग गया और मेरे दोस्तों ने उस दिन मुझे कुछ ड्रिंक करवा दी।पीने से मेरा दिमाग घूम गया और मैंने अपने दोस्तों से कहा- अब मैं जा रहा हूँ. रोज़ क्या हर दिन दो-तीन बार मज़ा दूँगा।इसके बाद रिया और मैं रोज़ ही ऑफिस चुदाई का मज़ा लूटने लगे।आपको यह सेक्स कहानी कैसी लगी. मुझे लगा कि मैं झड़ने वाला हूँ। मैं उससे अलग हो गया और उसकी चूत में उंगली करता रहा।मुझे लगा कि जैसे कुछ आहट सी हुई हो.

अभी बच्चा स्कूल से आएगा तो अच्छा होगा कि तुम्हीं घर आ जाओ।मैं दिन में फिर उसके घर पहुँच गया और जाते-जाते मैंने बाज़ार से उसके लिए एक ड्रेस भी ले ली थी। मैंने जाते से ही उसे वो ड्रेस गिफ्ट में दी. पर तुम उल्टा और ज्यादा तेज़ी से चुदाई शुरू कर देते हो, मुझे बिल्कुल एक कुतिया की तरह चोद देते हो।यह सुनते ही पापा का जोश दुगुना हो गया और बोले- ले कुतिया ले. तुझे भी मजा आएगा और मुझे भी आसानी होगी। टाइट रखने से तुझे भी दर्द होगा मुझे भी दिक्कत होगी। अब अन्दर तो चला ही गया है.

ताकि कहीं सीमा चिल्लाने न लगे, दूसरे हाथ से मैंने अपने लौड़े का टोपा सीमा की कुंवारी चूत के मुहाने पर टिकाया और निशाना साध कर एक लंबी गहरी साँस लेकर जोरदार प्रहार किया।मेरा पहला प्रयास सफल रहा। मेरा लंड ‘घप्प्प्’ की आवाज के साथ सीमा की चूत फाड़ते हुए 2 इंच अन्दर घुस गया। सीमा के मुँह से चीख निकल गई. ’इस तरह की आवाज़ मुझे पागल सा किए दे रही थी। अब मेरी चार उंगलियां मेरी चूत में अन्दर-बाहर हो रही थीं। मेरे मुँह से भी दबी आवाज में ‘अया. मैं हर समय इसके बारे में ही सोचती रहती हूँ। मुझे लगता है जैसे जीवन में कुछ नया जोश वाला मस्ती भरा कुछ हो रहा है.

और करो।मैं बस बड़बड़ाए जा रही थी।उसने पास ही पड़ी तेल की बोतल ली और तेल अपने लंड पर लगाने लगा। मेरी चूत इतनी गीली हो चुकी थी कि उसे किसी तेल की नहीं बल्कि लंड की जरूरत थी।उसने अपना लंड मेरी चूत के होंठों पर लगाया और रगड़ने लगा। मैं तो पागल हो उठी और बड़बड़ाने लगी- डाल दो जल्दी अन्दर. उसके हाथ मेरी बेटी की लाल मिडी को ऊपर सरका कर सफ़ेद मुलायम पतली-पतली जांघों को सहला रहे थे। मेघा टांगों को खोलकर सहयोग कर रही थी।मुझे बहुत अजीब सा लग रहा था, मेरी नन्ही सी मासूम बेटी के जिस्म को मेरे ही सामने मेरा बॉस छू रहा था।कुछ ही देर में वह मेघा को स्मूच करने लगा.

अब कुछ नहीं होगा।वो चुपचाप आँखें मूंद कर पड़ी थी।एक कहावत है चमड़ी से चमड़ी को घिसने में कोई दोष नहीं होता है।मैं भी तो वही कर रहा था। कुछ देर रुकने के बाद मैं धीरे से लंड को अन्दर-बाहर करने लगा और फिर धीरे-धीरे रफ़्तार बढ़ने लगी।‘उउम्म्म्मह.

और उससे चिपक गया।मेरा लंड बुरी तरह फनफना रहा था और उसके पेट में गड़ रहा था।वह बोला- तेरा बहुत बेचैन हो रहा है.

अमित ने मुझे पीछे से जोर से पकड़ लिया।मैं बोला- ये क्या कर रहे हो आप?वो बोले- कुछ नहीं. तब भी 65 हज़ार बच रहे थे।हम दोनों पीछे बैठे थे, रहेजा आगे बैठा था और ड्राईवर कार चल रहा था।‘संजय मैं सोच रहा था कि तुमको कंपनी का GM बना दिया जाए. लेकिन खामोश थी।‘सर हमको बहुत देर हो चुकी है अब हमको निकलना चाहए।’‘संजय आपकी बेटी से मिलकर अच्छा लगा.

बहुत दिन बाद किसी ने चोदा है।मैं धकापेल झटके मार रहा था, कुछ मिनट बाद मैं झड़ गया और खाला के ऊपर ही ढेर हो गया. उसने मुझे फिर से खींचकर मेरे गालों को अपने दांतों के बीच दबाकर उसे काट लिया।मैं- माया. इतनी अच्छी मालिश भी तो की थी।फिर उन्होंने मेरा शॉर्ट्स उतार दिया और मेरा लंड भाभी के सामने नंगा था। मेरा लंड भैया के लंड से लम्बा था।भाभी ने देखा और बोला- आह्ह.

मेरे पूरी चूत अविनाश ने हाथ में थाम ली और मेरी पूरी चूत को दबा दिया, चूत को सहलाता हुआ अविनाश बोला- हाय मेघा… मेरी जान… क्या चीज़ है तू… क्या मस्त माल है… हहमम्म ससस्स हहा.

मज़ा आ रहा है ना?वाकयी मुझे भाभी की इस मस्ती भरी हरकत में बहुत मज़ा आ रहा था- भाभी मुझे सब औरतों का तो नहीं पता. ये इतनी टाइट कैसे है?उसने बताया- मैं अभी तक किसी से चुदी ही नहीं हूँ।मैं सुन कर हैरान रह गया. मोटी गांड ब्लैक चड्डी में और भी ज्यादा मस्त लग रही थी। मैं आईने के सामने अपने आपको और अपनी जवानी को देख रही थी। साथ ही मैं अपने मम्मों से खेल रही थी।तभी रचित आ गया ‘मेरी जान उतावली ना हो.

तो उन्होंने शायद अपने घर की हालत देखते हुए ज्यादा बात नहीं की और इजाजत दे दी।ये सारी बातें मेरे लिए कुछ राहत भरी थीं. पर आप बहुत फनी हो।मैं- चलो मैं आप को पूरा सिटी दिखाता हूँ।निकोल- नहीं. और एक-एक करके दोनों चूचे को अपनी मुट्ठी में भर कर मसलने लगा और उनके निप्पलों को चूसने लगा। इससे उसे भी बहुत मज़ा आ रहा था.

मुझमें इतनी ताकत कहाँ से आ गई थी।जब मैं झड़ने वाला था आंटी ने मेरा लौड़ा निकाल अपने मुँह से लगा लिया। मेरे माल के एक-एक कतरे को आंटी शहद की तरह चाट-चाट खा गईं।आंटी मेरे स्टैमिना की दाद देती नहीं थक रही थीं।फिर कुछ देर रुककर मैंने और अंकल ने आंटी को एक साथ चोदा.

वह उसे घूर रही थीं, पर उसके मुँह से आवाज नहीं निकल रही थी।चंदर ने कुछ कहना चाहा कि चाची बोलीं- तू घर चल आज. क्योंकि आज तक मेघा मेरा वीर्य मुँह में लेने में बहुत नखरे करती थी। वो कहती थी कि बहुत गंद करता है, उल्टी हो जाएगी।सर ने अपना लंड चूत से निकाल कर मेघा के मुँह में डाल दिया।मेघा बोली- सर आपका लौड़ा अभी भी बहुत ज़्यादा मोटा और कड़क है।वो बेतहाशा लंड को चूसने लगी.

बीएफ वीडियो सनी लियोन के बीएफ वीडियो इसलिए अपने आप ही मेरा लिंग भाभी के मुँह में फिसलने लगा।भाभी भी मेरे लिंग को अपने होंठों के बीच दबाकर कभी ऊपर-नीचे कर रही थीं तो कभी उसे जोरों से चूस रही थीं। भाभी कभी सुपारे के ऊपर जीभ को गोल-गोल घुमा देतीं. उसने अपनी आंखें खोल लीं। मैंने उसे देखा तो अब वो शर्मा रही थी।उसने अपना चेहरा घुमा लिया। मैं उसके कान के करीब गया।मेरे मुँह से फिर एक स्वाभाविक वाक्य निकल पड़ा- आई लव यू.

बीएफ वीडियो सनी लियोन के बीएफ वीडियो ’ जान में जान आई।वह छत की रेलिंग पर आगे झुका तो रानी चाची और दूसरी औरतों पर नजर पड़ी। या नहीं. जो होगा देखा जाएगा, आज तो पकड़ ही ले इसे।भाभी लस्सी लेकर जाने लगी, जैसे ही वो मुड़ी.

भाभी!भाभी कुछ नहीं बोलीं तो मैंने जोर-जोर से मम्मों को दबाना शुरू कर दिया। भाभी एकदम से कराह उठीं ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’इससे मुझे समझ आ गया कि भाभी को मजा आ रहा है.

देवर भाभी का बीएफ फिल्म

इसलिए मेरा दिल तो नहीं कर रहा था। मगर फिर भी भाभी का दिल रखने के लिए मैं योनि के पास चूमने लगा. उस पर हल्के से बाल उगे हुए थे। मैंने चूत की पुत्तियों को दो उंगलियों से फैलाया और जीभ से चूत के अन्दर चखा।तभी उसकी सिसकारी निकली- अहह. ताकि मेरी योनि की और गहराई में उनका लिंग जा सके।मैंने थोड़ा और उठा दिया और वो धक्के लगाने लगे। मेरी तो जैसे जान निकलने जैसी हो रही थी क्योंकि अब मैं झड़ने वाली थी। बस 2-3 मिनट के धक्कों में ही मैंने कराहते हुए.

तो मैंने कहा- एक काम करो कि तुम आज यहीं रुक जाओ मेरा आज तुम्हारे साथ रुकने का मन है।वो मान गया और बोला- ठीक है. मैं तो मर ही जाऊँगी।मैं आपको बता दूँ कि मेरा लंड औसत भारतीय लौड़ों से काफी लंबा और मोटा है, यह एक बड़े साइज़ के खीरे जैसा है।मैंने हँसते हुए लौड़ा हिलाया और उसको मुँह में लेने को कहा।तो वो नहीं मानी. इससे थोड़ी राहत मिलेगी।’मेरी तो जैसे लॉटरी लग गई। दीदी उल्टी लेट गईं.

जो मशीन द्वारा एक छोटे से आपरेशन से खोलना पड़ेगा।चाची बोलीं- उसमें खर्चा कितना आएगा और समय कितना लगेगा। मुझे तो बाजार जाना है।मैंने कहा- चाची खर्चा बिल्कुल नहीं आएगा। आप बाजार जाइए.

वाशरूम में ऊपर की तरफ अँधेरे में होने के कारण मैंने उसका चेहरा नहीं देखा था।‘अरे संजय, तुम यहाँ?’‘सर यह मेरी बेटी मेघा है. पर फिर मैंने उसका मूत पी लिया।उसने कहा- तुमने जो मेरी सलवार ख़राब की थी. पर उस दिन मैंने चादर ओढ़ रखी थी और चादर के अन्दर मैं पूरा नंगा था।भाभी ने चादर के अन्दर से ही मेरी तनी हुई मशीन को देख लिया था। उन्होंने मुझे आवाज़ देकर उठाया और चली गईं।ऐसा 3 दिन चला.

लेकिन मेरे पास कंडोम सुरक्षा न होने की वजह से मैं उसकी बुर में अपना लंड नहीं डाल पाया। हम दोनों काफी देर तक चूमा-चाटी करते रहे।फिर मैंने कहा- तुम अपने हाथ से मेरे लंड को हिलाओ. मैं झड़ जाऊँगा।मगर वो बिना रुके लौड़ा चूसती रहीं और जब मेरा माल निकला. पर मुझे शौहर कब मानोगी?वो कुछ ना बोली।मैंने शावर चालू किया और सुहाना को लिए शावर के नीचे आ गया।हमारे उबलते जिस्मों पर ठन्डा पानी पड़ रहा था और हम दोनों को फ़िर से गर्म कर रहा था।सुहाना फ़िर से मुझसे लिपट कर मेरे होंठ चूसने लगी थी। मैं सुहाना के गद्देदार चूतड़ों मसल रहा था और उसकी गांड को उंगली से कुरेद रहा था। सुहाना जान गई कि अब उसकी गांड की बारी है।सुहाना ने कहा- आज जो चाहो कर लो आकाश.

यह अपने आप ही हो जाता है।दीदी- ऐसे-कैसे अपने आप हो जाता है? जरूर आपने ही किया होगा।मैं- नहीं दीदी सच में. आपके ईमेल का इन्तजार रहेगा।[emailprotected]कहानी जारी है।कहानी का अगला भाग:दिल्ली की अनजान लड़की से ट्रेन में मुलाकात और दोस्ती-2.

पर किसे डर था।वो बोल रही थी- और अन्दर तक उंगली डालो।मैं और तेज-तेज करने लगा।फिर वो बोली- राजा, मेरी चूत फाड़ डालो।इतना सुनते ही मैंने उसे लिटा दिया और अपना लंड उसकी चूत पर रख दिया। मैं लौड़ा डालने से पहले उसकी तरफ देखने लगा तो वो बोली- डालो न. जहाँ से झाँकने पर उसका बिस्तर नज़र आ रहा था।मैंने देखा डॉक्टर और नेहा दोनों बिस्तर पर थे। डॉक्टर पीठ के सहारे पलंग पर बैठा था और नेहा उसकी जाँघों पर सर रख लेटी थी।यह देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया।कबीर उसके बाल सहला रहा था। कबीर ने नेहा को किस किया. चलो चलते हैं।हम दोनों वहाँ पहुँचे।मैंने कहा- इस कुएं में देखने लायक ऐसा क्या है?उसने कहा- तुम चुप रहो, तुम्हें कुछ नहीं पता।अब मैं क्या कहता.

’ भी निकल गई थी।पीछे से उसकी कमर इतनी मस्त लग रही थी। उसकी गोरी-गोरी गांड को देख कर मुझे और भी जोश आ रहा था। अब सुमन की चूत में मैं हल्के-हल्के से लंड को अन्दर-बाहर करने लगा। कुछ देर धीरे-धीरे चुदाई करने के बाद मैं उसकी चुदाई जोर-जोर से करने लगा। हम दोनों की आवाज पूरे कमरे में गूंज रही थी।‘ओह्ह.

पता ही नहीं चला।इस बीच प्रिया से पूछने पर पता चला कि प्रिया इतनी देर में 4 बार झड़ चुकी थी। प्रिया के चेहरे से ख़ुशी साफ़ दिख रही थी, वो बोली- थैंक यू आर्यन. जो मुझसे लगातार जुड़े रहते हैं और अन्तर्वासना की कहानियों को और दूर तक भेजते हैं. इतना मज़ा मुझे कभी नहीं मिला।मैंने अपने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी और लगातार कई मिनट तक चुदाई करने के बाद मैंने अपना पानी उसकी चूत में छोड़ दिया और उसके ऊपर लेट गया।थोड़ी देर बाद मैंने उसको अपने मुँह पर बैठाया और उसकी गांड चाटने लगा। क्या मस्त गांड थी उसकी.

वे मेरी प्यास नहीं बुझा पाते हैं।मैंने उनके बड़े मम्मे अपने मुँह में ले लिए और उनकी चूचियों को चूसने लगा।भाभी की सिसकारियों की आवाज मुझे और सेक्सी बना रही थी।प्रिया भाभी- उमम्म्. हैलो, मैं ब्लैक हार्ट हूँ।मैं सब भाभियों को और गर्ल्स को अपने छोटे भाई (लंड) के साथ खड़े हो कर प्रणाम करता हूँ। मैं दिल्ली के एक पॉश एरिया से हूँ। आज मैं आपको अपनी चुदाई का किस्सा बताना चाहूँगा जो मैंने एक लखनवी भाभी के साथ ट्रेन में की थी।हुआ यूं कि मुझे एक आवश्यक मीटिंग के लिए ट्रेन से दिल्ली से लखनऊ जाना था। अचानक सूचना मिलने की वजह से मुझे रिज़र्वेशन नहीं मिला.

वो तो अलग ही एक महक थी, जो बस उसी के जिस्म से आती थी। वैसे वो काफी साफ-सुथरा रहने वाला लड़का था।ऐसे ही चूमते हुए मैंने उसके पूरे बटन खोल दिए और उसने जो जैकिट पहनी थी. पर साहस की कमी के कारण मैं कभी किसी के पीछे नहीं जा सका।यह स्टोरी मेरी और मेरी गर्लफ्रेण्ड किरण (बदला हुआ नाम) के बीच की है। मैं किरण को काफ़ी समय से देखता था. मैं बाहर ही खड़ा होकर सब देख रहा था कि वो क्या ले रही है। उसने एक ब्रा-पेंटी ली जो कि ब्लैक कलर की थी। जब वो ब्रा और पेंटी ले रही थी तो मैंने उसे देख लिया था और उसने मुझे भी देखा था।फिर वो मेरे पास आई और चलने के लिए कहा.

सेक्सी पिक्चर बीएफ सेक्सी पिक्चर बीएफ

तो वो चीख पड़ती। मुझे उसके बूब्स दबाने में बहुत मज़ा आ रहा था।मैं खड़ा हो गया और उसने मेरा पैन्ट उतार दिया और मैंने भी उसका टॉप उतार दिया। उसने अन्दर सफेद रंग की ब्रा पहनी हुई थी। मैं उसके मम्मों को ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा और वो सिसकारियां लेने लगी।उसने मुझे रुकने को बोला.

डार्लिंग मैं तुम्हें बाद में फोन करती हूँ।’फोन के बाद सविता भाभी ने देख कि तरुण और वरुण खाना खत्म करके जाने लगे थे।सविता भाभी- अरे तुम दोनों तो जाने लगे. ’ मैंने दोनों हाथ से उसके चूतड़ पकड़ कर उसकी नंगी चूत पर चूम लिया। जीभ से चूत की घुंडी को रगड़ दिया।रिया उछल पड़ी- हाय… उई… मर जाऊँगी सर. जब तुमने मेरी गांड पर हाथ फिराया था।मामी बैठी थीं और मामा साड़ी के ऊपर से ही उनके मम्मों को हौले-हौले दबा रहे थे।मामा ने कहा- तुम्हारे चूचे तो अभी भी मस्त कड़क हैं.

मुझे लिखिएगा जरूर। मैं जल्द ही आपके लिए एक और कहानी लिखूँगा।[emailprotected]. जो किराए के मकान में रहता था।मैं उसे लेकर उस दोस्त के घर पहुँचा। जब मैंने अपने दोस्त को सारी कहानी बताई तो वो विश्वास नहीं कर रहा था कि मैं उस लड़की को उसके कमरे में चोदने के लिए लाया हूँ। क्योंकि मैं पहले से ही बहुत सीधा-साधा शर्मीला सा लड़का था।मेरे उस दोस्त ने शर्त रखी कि पहले वो सुचिता को चोदेगा, तभी मुझे चोदने देगा।मैंने सुचिता से पूछा. डॉट कॉम सेक्सी व्हिडीओ डॉट कॉमलेकिन अब उससे मेरा ब्रेकअप हो गया है।उसने मुझसे पूछा- क्या तुम्हारी कोई गर्लफ्रेंड है?मैंने कहा- नहीं.

जैसे वे कोई रास्ता ढूँढ रही हों।उसके मन में उत्तेजना बढ़ती जा रही थी और उसकी उंगलियां उस कामुक एहसास को बढ़ा रही थीं।उसका दिमाग उसे हाथ को रोकने के लिए कह रहा था. मैंने आठ-दस गरम-गरम पिचकारियां उसकी चूत में मार दीं। वो भी साथ में झड़ गई और उसका पूरा बदन झटके खाने लगा।दो मिनट तक हम दोनों झड़ते रहे और आख़िर में निढाल होकर मैं शिविका के ऊपर ही ढेर हो गया, मेरा लंड नर्म होने लगा, मैंने उठ कर लंड बाहर निकाला, पूरा लंड कामरस से भरा हुआ चमक रहा था।आपको मेरी यह कहानी कैसी लगी। मुझे जरूर लिखें.

मतलब कांतिलाल की पत्नी थीं।रामावतार और बबिता कानपुर से आए थे। कांतिलाल और रमा जी गुजरात से. चंदर को रास्ता मिल ही गया। इस घस्से में लंड फिसलकर गर्म मुलायम गुफा में सरका तो उसका रोम-रोम जन्नत में डूब गया।उसके लंड का एक-एक जर्रा. पर जो भी कह रही थीं बड़ा मादक था।करीब 5 मिनट की चुसाई में आंटी अकड़ने लगीं, वो बोलीं- समर जल्दी जल्दी चूस.

आदि इत्यादि।मैं सोचने लगा कि जब इनका लड़का दसवीं में पढ़ता है तो वो कम से कम 15 साल का तो होगा ही. पर उम्मीद है आपको पसंद आएगी।यह घटना एक महीने पहले की है। मैं अपने वर्कशॉप से फ्री था. क्योंकि उसमें कोई परेशानी नहीं हो रही थी।करीब पांच मिनट बाद वह झड़ गई। फिर मैंने अपना लंड उसकी बुर में से निकाल कर दूसरी वाली की चूत में डाल दिया।मैं भी अब झड़ने वाला था। मैंने अपनी रफ्तार बढ़ा दी। कुछ समय बाद मैं कन्डोम में ही उसके बुर में ही झड़ गया और उसी पर लेट गया।इस प्रकार मैंने एक लंड से ही दो लड़कियों की बुर की सील तोड़ीयह मेरी पहली चुदाई थी।आप सभी के मेल के इन्तजार में हूँ।[emailprotected].

कन्धों में तेल लगवाती रही।फिर बोली- तुम तेल बहुत अच्छा लगाते हो।उसने अब मुझसे आगे अपनी चूचियों पर भी तेल लगवाया।अब मुझसे रहा नहीं जा रहा था.

तुमको एंजॉय करना है तो करो।अब डॉक्टर साहब भी निशिन्त हो गए और उन्होंने भी नेहा को अपने से चिपका लिया।फिर डॉक्टर साहब बोले- मैं एक मिनट में आता हूँ।वो जल्दी से बाहर गए और नेहा के लिए बहुत सुन्दर रेड कलर का ब्रा-पेंटी और एक बेबी डॉल ड्रेस ले आए। ये ड्रेस एक झीनी से फ्रॉक नुमा थी, जो मुश्किल से चूतड़ों के थोड़ा नीचे आधी जाँघों तक आती है।नेहा बोली- ये क्या है?बोले- जानेमन तुम्हारे लिए ली है. उसकी उम्र 18 से 19 साल की रही होगी।मैं उसे देखता ही रहा।वो फिर से बोली- कहाँ खो गए आप?मैंने कहा- हाँ बोलिए.

आंटी- वो कैसे?मैं- मुझे पता है कि अंकल आपकी प्यास नहीं बुझा पाते हैं. फिर मैं देखता हूँ।फिर सुमित जॉब के बारे में बताने लगा और बोला- मैंने तो कितनी ही चूतों तो अपने घर पर ही लाकर चोदी हैं।मैंने कहा- फिर यार मेरी भी कोई सैटिंग करवा दियो।सुमित बोला- ठीक है।मैं बोला- यार सुमित एक बात और पूछनी है. जैसे वो मुझे छूते हुए कर अपने अन्दर घुसने के रास्ते की तलाश कर रहा हो।मेरे दिमाग में तो अब दोहरी नीति शुरू हो गई थी, मैं अब सबको देखना चाहती थी, मैंने अपनी चाल चलनी शुरू कर दी। मैं यह बात तो समझ रही थी कि सभी लोग यहाँ जिस्मों का मजा लेने आए थे.

तो इस बार मेरा पूरा लंड उसकी चूत में जड़ तक समा चुका था।वो ज़ोर-ज़ोर से करहाने लगी।थोड़ी देर मैं रुका और फिर धीरे-धीरे आगे-पीछे होने लगा।अब मैं उसके एक चूचे को मुँह में लेकर चूसने लगा।वो भी कुछ शांत होने के बाद मेरा साथ देने लगी।अब सिर्फ़ मादक आवाजें आ रही थीं ‘आह्ह. नहीं तो हम लोग मिलकर इस साली का जोरदार चोदन कर देंगे।मैं यह बात सुनकर डर गई और संतोष से बोली- चलो. वो हल्ला करने लगी, मैं एकाध मिनट शांत रहा, फिर जब मैडम अपनी गांड ऊपर उठाने लगी.

बीएफ वीडियो सनी लियोन के बीएफ वीडियो उसने मेरा सहयोग करते हुए जीन्स को अपने जिस्म से अलग हो जाने दिया।अब वो मेरे सामने बस एक ब्लैक कलर की पैंटी में थी। मैंने अपना हाथ उसकी बुर पर डाला. तो उसकी उंगलियां अब सलवार के बाहर आकर उस नाड़े के बंध को ढूँढने लगीं। जब सलवार का नाड़ा मिल गया.

सेक्सी बीएफ हिंदी भोजपुरी वीडियो

जो हमारे लिए फायदेमंद था। हम चुपके से लॉन में मिलते और चुम्मा-चाटी करते थे। कॉलेज में एक हाल था. फ़िर आंटी ने मुझे देखा तो वो भागते हुए जल्दी से अपने कमरे में चली गईं।थोड़ी देर बाद आंटी ने कपड़े पहन कर बाहर आईं और बोलीं- तुम आ गए थे तो मुझे आवाज क्यों नहीं दी?मैंने बड़ी मासूमियत से आंटी को बोला- मैंने आवाज लगाई थी. इसको ऐसा सबक सिखाना है कि ये जिन्दगी भर याद रखे।काली चरण ने कहा- तू ही बता कैसे सबक सिखाएं?निशा घबरा गई थी, उसने लड़खड़ाती जुबान से कहा- च.

तो रिया को भी बहुत मज़ा आता और वो भी बहुत तेज-तेज सिसकारियाँ लेने लग जाती ‘उई आह आह. तो उसने मुझे अपने कमरे में बिठाया और बात करने लगी।उसने कहा- मैं तुमसे प्यार करती हूँ।मुझे तो जैसे यकीन ही नहीं हुआ लेकिन मैंने उससे कहा- लेकिन तुम्हारी तो शादी हो गई है. सेक्सी कुछ-कुछबोलो क्या चाहिए?मैं बोली- यह सब मेरे पास पहले से ही है।जीजू बोले- फिर क्या चाहिए मेरी रानी.

क्योंकि अब छिपाने को कुछ बचा ही नहीं था।सुबह उठा तो फिर सबको मैंने फिर अपनी गांड का नाश्ता परोसा। उन लोगों ने यह धारावाहिक मोबाइल में क़ैद कर लिया था, बाद में मुझे इसके दर्शन भी कराए था।बाद में मुझे पेट्रोल दिला दिया और जाने दिया।अपनी वो गांड चुदाई मैं आज तक नहीं भूला।कैसी लगी आपको मेरी गांड चुदाई की दास्तान.

कैसी हो?जूही थोड़ा शर्मा कर बोली- मैं अच्छी हूँ।मुझे भी थोड़ी शर्म आ रही थी क्योंकि हम फर्स्ट टाइम मिल रहे थे। वैसे चैट तो हम दोनों हर तरह की करते थे. ’तभी मैंने पाया कि उसने तो पेंटी ही नहीं पहनी है, मैंने उससे पूछ ही लिया तो वो बोली- कल रात को एक चोर मेरी पेंटी चुरा के आज सुबह भाग गया था।यह कह कर उसने मेरी पैंट का हुक भी खोल दिया और वो मेरी पैंट को नीचे सरकाने लगी।अब मैं उसके सामने सिर्फ़ अंडरवियर में पड़ा हुआ था और वो बिस्तर पर मेरे दोनों तरफ टांगें करके मेरे ऊपर खड़ी हुई थी।आअहह.

वो एकदम जन्नत की हूर लग रही थी।मैं उसको देखकर बेकाबू हो रहा था, मेरा लंड पूरे जोश में आकर जैसे फटने वाला था।उसके मम्मों से नीचे आकर मैं उसकी नाभि को चूमने लगा। वो पूरी मस्ती में चिल्ला रही थी. लेकिन उसने नहीं करने दिया, उलटे उसने उठ कर कमरे का दरवाजा बंद कर दिया और मेरे पास आकर बोली- मुझे किस करो ना?मैंने ‘ना’ कहा तो वो उठ कर बिस्तर से जाने लगी और कुछ दूर से वापस आ कर जबरदस्ती मेरा हाथ पकड़ कर किस करने लगी।पहले तो मुझे अजीब सा लगा. और मैंने उसे पकड़ा ना होता तो वो फ़र्श पर निश्चित ही गिर पड़ती।मैंने सुहाना की गांड में जड़ तक लंड डाल कर उसे जोर से पकड़ लिया। सुहाना के पैर हवा में थे। मैं जोर-जोर से झड़ने लगा और अपना गर्मागर्म गाढ़ा माल सुहाना की गांड में डालने लगा।करीब दो मिनट तक मैं झड़ता रहा। कुछ देर वैसे ही खड़े रहने के बाद मैंने सुहाना की गांड से लंड जैसे ही बाहर निकाला ‘फ़क्क.

वो सविता भाभी से कह रही थी- सविता, मुझे अपने साथ ले जाने के लिए धन्यवाद.

ताकि भाभी को शक ना हो।भाभी ने कहा- पूरी कमर पर मालिश करो।मैंने कहा- पर ये ब्लाउज?यह सुनते ही भाभी ने वो किया. फिर डॉक्टर साहब ने नेहा को लिटा दिया और उसकी टाँगों पर किस करने लगे, फिर नेहा की जाँघों पर आ गए।डॉक्टर साहब बोले- यार, तुम्हारी ये गोरी-गोरी चिकनी जांघें तो इतनी मस्त हैं कि पूछो मत!नेहा बोली- हाँ पतिदेव, मालूम है. वो अभी पूरे नंगे थे। उनके बदन पर एक भी कपड़ा नहीं था। मुझे देख कर वो चौंक गए ‘आप गई नहीं थीं.

सेक्सी दिखा दे भाईमैं भी तुमसे मिलने को बहुत तड़प रही हूँ।मैं- तड़प तो मैं भी रहा हूँ।रिया- तो आ जाओ मेरे पास. अभी दर्द बन्द हो जाएगा और मजा आने लगेगा। दो-तीन झटकों में तेरी ढीली हो जाएगी.

क्सक्सक्सई नंबर

पर अब देर करने का सवाल ही नहीं था।मैंने उनकी ठोड़ी को अपनी उंगलियों से पकड़ कर अपने करीब खींचा और अपने होंठ सुहाना मैम के होंठों के करीब ले गया।एक पल मेरी आँखों में देख कर सुहाना मैम ने अपनी बाँहें मेरे गले में डालते हुए अपने रसीले लाल होंठ मेरे होंठों पर रख दिए।जैसे ही सुहाना मैम ने अपनी आँखें बन्द की. तुमने इस सुहागसेज को खाली न रहने दिया और मुझे तुम जैसी हॉट लड़की के साथ सुहागदिन मनाने का मौका मिला।मैं मन ही मन सोच रही थी कि शायद यह सुहागसेज मेरी चूत के लिए ही सजाई गई थी। इसलिए सुहागरात अंकल के साथ और सुहागसेज अपनी दोस्त के पति के साथ साझा कर ली।जीजू ने मुझे लम्बा किस किया और मैं वहाँ से चल दी।दोस्तो, मुझे उम्मीद है कि आप को मेरी यह सत्य कथा अच्छी लगी होगी।अब आगे मैं किस-किस के साथ चुदी. मैंने ब्रा के ऊपर से उसके मम्मे सहलाए और उसकी गर्दन के पास अपने मुँह से गर्म साँसें छोड़ीं तो वो थोड़ा गर्म हो गई।मैंने उसे अपने सीने से लगा लिया, मैंने अपने हाथ उसकी ब्रा के अन्दर डाल दिए। मैंने उसकी ब्रा को बिना उतारे.

मगर यह समझ गया कि आज की रात चूत चुदाई का पूरा पूरा मौका है।फिर हमने खाना खाया और साथ में बीयर भी पी. मेरी पड़ोसन भाभी ने दीव में एकान्त समुद्र तट पर अपने पति को नशा देकर मुझसे चूत चुदवाई और रात को भी होटल में भाभी ने चूत चुदाई करवाई। अगले दिन वे सब वापिस आ रहे थे पर मैं अपनी दोस्त की प्रतीक्षा में बहाने बना कर रुक गया।अब आगे. पर वे मुझे ऐसे रखते हैं कि जैसे अभी कल ही हमारी शादी हुई हो।मेरे स्तन अभी तक कसे हुए हैं और उन पर मेरे लाल निप्पल ऐसे लगते हैं जैसे कि रसगुल्ले पर गुलाब की पत्ती चिपकी हो। मेरे नितम्ब भी बहुत कसे हुए और गोल हैं.

इतनी जल्दी?‘हाँ भाभी हमको क्लास ज्वाइन करने जाना ही होगा।’वरुण आगे निकल गया और तरुण ने पीछे से सविता भाभी की गांड पर हाथ फेरते हुए कहा- भाभी आज मेरी क्लास वरुण से एक घंटा पहले ही खत्म हो जाएगी. पर वो उसके साथ प्यार से नहीं मानी।उस रात उसने माया पर पूरी रात जबरदस्ती की, उससे नोंचा, काटा पर माया नहीं मानी। क्योंकि माया की पसंद अपने से छोटे मर्द थे. तभी कुछ आवाज़ सी आई।मैंने दरवाजा खोला तो समीष्ठा खड़ी थी।दरवाजा खुलते ही वो जल्दी से अन्दर घुस आई और मुझे किस करने की कोशिश करने लगी।मैंने उसे धक्का दे दिया और ये सब करने से मना किया।वो मुझे कहने लगी- तुम कैसे लड़के हो.

जरूर बताइएगा। इसके लिए आप मेरे ईमेल पर लिख सकते हैं।[emailprotected]. और कहा- बुआ, शायद यह हम गलत कर रहे हैं, कोई देख लेता तो हम बदनाम हो जाते। मेरे दिल में आपके लिए बहुत प्यार और सम्मान की भावना है, परन्तु हमें ऐसा नहीं करना है। आप चिंता न करो सब ठीक हो जाएगा, मैं आपके साथ हूँ। आज से आपके सारे दुःख मेरे.

जो कभी कभी ही आता था।ऐसे करते-करते लगभग 8 महीने गुजर गए लेकिन नॉर्मल बातों के अलावा हमारे बीच कुछ नहीं हुआ। उसका पति जब आता तो मैं उससे ज़रूर मिलता।मैं लगभग डेली ड्रिंक करता था.

मेरा किसी काम में भी मन नहीं लगा। जब मैं शाम को घर आया तो कम्मो ने मुझे चाय लाकर दी और धीरे से कहा- आई लव यू!मैंने भी कहा- आई लव यू टू. सेक्सी एचडी इंग्लिश फिल्मतो उसने कहा- मैं पहनूंगी क्या? मैं और कोई दूसरे कपड़े भी नहीं लाई हूँ।मैंने बहाना किया- परेशान मत हो मेरे पास इंतजाम है।मैंने उसे एक लाल रंग की साड़ी देते हुए कहा- मैंने आपको जन्म दिन का तोहफा देने को कहा था. पंजाबी सेक्सी पिक्चर चोदी चोदागुलाबी पेंटी के अन्दर गीली हो चली चूत उसकी चुदास को बयान कर रही थी।ओह माय गॉड. उसकी उम्र 18 से 19 साल की रही होगी।मैं उसे देखता ही रहा।वो फिर से बोली- कहाँ खो गए आप?मैंने कहा- हाँ बोलिए.

मुझे लिखिएगा जरूर। मैं जल्द ही आपके लिए एक और कहानी लिखूँगा।[emailprotected].

मैं आर्यन (rocko) दिल्ली का रहने वाला हूँ, अभी बीए फाइनल इयर में हूँ। मेरी हाइट 5. अब अगर तुमने मैसेज किया तो मैं पुलिस को तुम्हारा नंबर दे दूँगी।अब मैं बहुत डर गया कि रहने दे यार साली लफड़ा कर सकती है।आप सोच रहे होंगे कि इस कहानी में होना क्या है. चल अपने कपड़े उतार।मैं सिर्फ लुंगी और बनियान पहना हुआ था, मैंने फ़ौरन कपड़े उतार दिए।आंटी मेरा लंड देख कर चौंक गईं.

चलो इसके साथ ही चला जाता हूँ। तब तक मेरा कोई गलत इरादा नहीं था।मैं बोला- ठीक है. तो मैं देखता ही रह गया। बस की हल्की लाइट में वो बहुत ही खूबसूरत लग रही थी। उसका रंग बहुत गोरा था. साथियो, आप सभी की मस्त सविता भाभी आज फिर आपके बीच में हैं, उनकी कामुक जवानी की चुदाई की रसभरी कहानियों में से एक कहानी प्रस्तुत है।एक दिन फुर्सत के क्षणों में सविता भाभी अपने घर पर अपनी बचपन की सहेली उपासना के साथ बैठी चाय की चुस्कियां ले रही थीं, उन दोनों में पुराने बीते दिनों की याद को लेकर चर्चा हो रही थी।सविता भाभी- उपासना तुमसे दुबारा मिल कर बहुत प्रसन्नता हुई.

हिंदी ब्लू पिक्चर सेक्स वाली

ज़रा जाकर उसकी मदद कर दो।मैंने भी आज्ञाकारी बच्चा बनते हुए ‘हाँ’ कहा और जाने लगा।तब माँ ने कहा- अभी नहीं. तो नेहा भुनभुना कर बोली- रात को भी इस फुसफुस के साथ ही सोना!डॉक्टर सचिन ने नेहा को चिपका लिया बोले- आ तो गए जानेमन!यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!अब उन दोनों ने किस करना चालू कर दिया। रात के 8 बज गए थे।मैं बैक मिरर को पीछे देखने के लिए सैट करने लगा. पर ज्यादा नहीं घुस सका, केवल लंड का सुपारा ही उसकी बुर में घुस सका था, बाकी लंड अभी बाहर ही था।मैंने थोड़ा धक्का लगाया.

डॉक्टर साहब ने दो मिनट और बहुत जोर से चोदा और अपने लंड का पानी नेहा की चूत छोड़ में दिया और डॉक्टर नेहा के ऊपर गिर गए।एक मिनट भी नहीं हुआ था कि नेहा की आवाज आई- कहाँ गया तू?मैंने कहा- क्या हुआ?वो बोली- जा कर हैण्ड टॉवल ले आ.

मेरी तो आंखें फटी की फटी रह गईं।करीब एक बड़े केला जितना होगा।शुभम ने कहा- स्वीटी, इसे ही लंड कहते हैं.

’ बोलते हुए इतना जोर से मुझे जकड़ लिया कि शायद मेरी पीठ को भी उन्होंने खरोंच दिया था।वो अपनी गांड ज़ोर-ज़ोर से मेरे झटकों की रिदम के साथ हिलाने लगीं।यह उनका दूसरा स्खलन होगा।मैं भी अपने स्खलन के करीब था, मैंने अनिता चाची को किस करते हुए अपनी धक्कों की तीव्रता बहुत ही बढ़ा दी थी।मैं उनकी जीभ को चूसते हुए तेज़ धक्के मार रहा था. बाहर निकालो!मैंने उसकी एक ना सुनी और धक्के मारता ही गया। थोड़ी देर मैं वो शांत हो गई।फिर मैंने उससे पूछा- कैसा लग रहा है?तो उसने कहा- बहुत मज़ा आ रहा है।इस तरह मैंने उसकी गाण्ड और चूत दोनों मारी. हिंदी सेक्सी चुदाई चुदाई वीडियोतो रात को उनके साथ सोने के लिए मैं चला जाता था, ताकि कोई एमर्जेन्सी में उनके साथ कोई हो। आंटी मुझसे बहुत प्रेम करती हैं।उस वक्त जब भी वो नौकरानी मुझे बाहर कभी मिलती.

जो रिया के गालों से बहता हुआ उसके मम्मों से होकर चूत के ऊपर से नीचे बहने लगा। उसे देख कर मैंने भी उसके मुँह पर अपने मुरझाए लंड से पेशाब की धार छोड़ दी। रिया ने अपना मुँह खोल कर हमारा पेशाब पी भी लिया। वो हम दोनों की पेशाब को अपने जिस्म के अलग-अलग अंगों पर ले भी लेती जा रही थी।जैसे ही हमने पेशाब करना ख़त्म किया. तो वो और इंतजाम करने गए हैं।मैं चुप रहा।वो बोली- चलो जीजू हम लोग खाना खा लेते हैं. तो मैंने उससे कहा- मैं आने वाला हूँ।तो उसने कहा- मेरे फेस पर गिरा दो।ये सुनकर तो मैं और ज्यादा तेज शॉट मारने लगा। जैसे ही गिरने वाला था मैंने उसके होंठ के पास सारा पानी छोड़ दिया, वो माल चाटते हुए पूरा पी गई और फिर मैंने उसकी चूत चाट-चाट कर पानी निकाल दिया।मैं उठ कर बाथरूम के पास जाने लगा.

तुम मुझे बहुत पसंद हो।मैंने उसके करीब आकर उसे अपनी बांहों में भर लिया। तभी मेरे जिस्म में बिजली का झटका सा महसूस हुआ।क्या हसीन लम्हा था वो. पर पता नहीं क्यों तुम पर गुस्सा ही नहीं आ रहा है।अब सुमन खुद ही मेरे पास आ कर खड़ी हो गई और बोली- कल जो तुमने किया था.

तो सुचिता के मुँह से थोड़ी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाज आई। चिकनी चूत होने के कारण बिना कोई दिक्कत के चुदाई चालू हो गई।वो साला बहुत धीमी गति से लंड अन्दर-बाहर करके बस हल्के झटके दे रहा था। मैंने फिल्मों में देखा था कि लड़कियां चुदवाते समय बहुत आवाज़ करती हैं.

’तभी मैंने भी पीछे से पूरा लौड़ा उसकी गांड में आगे-पीछे तेज-तेज स्पीड से करना शुरू कर दिया. हाइट 5 फीट 9 इंच है। मैं देखने में काफ़ी खूबसूरत और स्मार्ट हूँ, ऐसा सभी कहते हैं। मेरे लंड का साइज़ भी लम्बा और मोटा है। यह कहानी मेरी प्यारी बेटी मेघा की और मेरी है. ’मैंने कहा- मैं परसों से आता हूँ।सुमन बोली- ठीक है।फिर मैंने अगले दिन सुमित से बात की- यार सुमन तो परसों बुला रही है।सुमित बोला- तो आ जा।मैंने कहा- ठीक है.

अभिनेत्री रेखा सेक्सी वीडियो स्कर्ट ऊपर करके मार लो।लेकिन वह नहीं माना और उसने मेरा टॉप उतार दिया और साथ में ब्रा भी खींच कर निकाल दी। मेरी चूचियों के नंगे होते ही वह अंधेरे में ही पागलों की तरह मेरे रसीले मम्मों को पीने लगा और काटने लगा।मुझे ऐसा लग रहा था कि यह आज मेरी चूचियों को काट कर ले जाएगा। कभी वह मेरे गाल चूसता. तो देखा कि राहुल और रेशमा एक कॉर्नर में खड़े हुए धीरे-धीरे कुछ फुसफुसा रहे थे।रेशमा मुझे देखते ही मेरे पास आ गई और उसने मुझसे कहा- राहुल आज फिर से तेरी चूत चोदने के लिए कह रहा है.

’ बोला ही था कि वो पूछने लगी- कहाँ हो?मैंने जवाब दिया- नाश्ता करने जा ही रहा था कि आपका फ़ोन आ गया।मैडम ने कहा- चलो, आज मैं भी आपके साथ नाश्ता करती हूँ।मैंने कहा- ठीक है सामने ‘पराग’ में मिलते हैं। मेरे पहुँचने के ठीक 5 मिनट बाद मैडम भी पहुँच गई।आज मैडम ब्लू जींस और ब्लैक टॉप पहन कर आई थी. नहीं तेरे मुँह पर ही मल दूंगी सब!मैंने तौलिया बाथरूम में डाल कर भिगो दी।जब मैं वापस लौटा. मुझे बहुत अच्छा लगा। मैं सोचती हूँ कि तुम मेरे लिए बिल्कुल सही दोस्त रहोगे।मैंने कहा- अच्छा तुम्हारा कोई और भी बॉयफ्रेंड है?वो बोली- हाँ 12वीं क्लास में था.

इंडियन बीएफ दिखाओ

कुछ जरूरत हो तो मुझे बताना मैं मदद कर दूँगा। अब तक तो मैं उससे प्यार करने लगी थी और शायद वो भी मुझे पसंद करने लगा था. सॉरी मैं तुम्हारी कोई मदद नहीं कर सकता हूँ!’सविता कमरे के दरवाजे के पास गई और दरवाजे की कुंडी लगाने लगी।‘यह क्या कर रही हो तुम?’सविता ने अपनी शर्ट के ऊपर के बटन खोले और अपनी मदमस्त चूचियों का नजारा पेश करते हुए सर के पास वापस आई।सविता ने अपनी शर्ट को खोलते हुए अपने रसीले मम्मों की झलक दिखाते हुए प्रोफेसर से कहा- सर. क्योंकि मुझे किसी और पर भरोसा नहीं था।वो रोज मुझसे मिलने की बात करते.

या अन्दर भी हाथ डालेगा।मैं- जरूर दीदी।अब मैंने दीदी की पैन्टी के अन्दर हाथ डाल दिया। दीदी की चूत बिल्कुल साफ़ थी. मैं तो तुम दोनों से मजाक कर रही थी। सालों तुम्हारे सहमे हुए चेहरे तो देखो.

धीरे-धीरे हो जाएगा।वो फिर से मेरे लिंग को सहलाने लगी और थोड़ी देर बाद मुँह में डाल कर चूसने लगी। इससे मेरा लिंग फिर से कड़क हो गया। अब उसने इशारे से उठने के लिए कहा और अपनी दोनों टाँगें फैला दीं और बोली- अपना लिंग मेरी योनि में डालो.

’मैंने सीमा की चूची मसलते हुए उसके कान में कहा- सीमा तुम अपने सर के बालों को खोल दो।दोस्तो, आपको बता दूँ कि मुझे सीमा के सर के बाल बहुत पसंद हैं. तो इतना तो हक बनता है ना अपने को भी की अपनी मन पंसद से चुदाई करवा सकें।’अब वो और मैं दोनों हँसने लगीं।‘और सुना अपने उनका. आराम से प्लीज़।मैंने कहा- ओके डियर।अब हम लोग उठ कर बैठ गए।मेरा तना हुआ लंड देखकर वो ललचाई नज़रों से देखने लगी।उसके चूचे भी तनकर पपीते से कड़क हो गए थे।मैंने उसकी मैक्सी को अपने हाथों से उतारनी चाही तो उसने शर्मा कर थोड़ा सा विरोध किया.

मैंने नजर हटा ली। उस टाइम सुमन ने जीन्स और टॉप पहना हुआ था।आज हम दोनों नीचे वाले कमरे में ही थे, शायद आज सुमित चाभी दे कर गया होगा।अब सुमन और मैं सोफे पर बैठे थे, सुमन बोली- मैं अभी चाय लाती हूँ।कुछ ही देर में वो चाय बना कर लाई और बोली- यश तुम यहीं रुको. मुझको कॉलेज छोड़ आओ!वो बोला- ठीक है।जब हम घर से निकल आए तो रचित बोला- क्या सोचा मेरी पत्नी ने?मैं बोली- ठीक है. तभी पूजा आंटी उठीं और मेरे मुँह के पास अपनी चूत ले आईं।मुझसे कहने लगीं- चूत चटवानी है।मैं उनकी चूत चाटने लगा, वो कहने लगीं- मादरचोद चाट.

तो मैंने भाभी को अपना फ़ोन नंबर दिया और उनसे उनका नंबर ले लिया।यह हिंदी सेक्स स्टोरी आप अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं!अगले दिन मैंने उनको फ़ोन किया तो उन्होंने उठाया तो हम बात करने लगे।कुछ दिन हम नार्मल बात करते रहे।एक दिन उन्होंने मुझसे पूछा- तुम मुझे उस दिन ऐसे क्यों देख रहे थे.

बीएफ वीडियो सनी लियोन के बीएफ वीडियो: तो वो आँखों से एक अजीब सी स्माइल पास करती। उसकी आखों की अदा देख कर लगता था कि ऐसी अदा तो कोई प्रोफेशनल रंडी भी ना बिखेर पाए।मैंने तो मन ही मन में सोच लिया था कि इसको चोद कर ही रहूँगा।मेरे कॉलेज की छुट्टियाँ चल रही थीं तो मैं ज्यादातर बाहर दोस्तों के साथ घूमता था. मैं बिल्कुल भीग चुका था। तभी अचानक मेरी गाड़ी का पेट्रोल खत्म हो गया। अब मैं बहुत परेशान हो गया कि इतनी रात में पेट्रोल कहाँ मिलेगा.

’ चल रही थी, उसकी नशीली आंखें मेरी आँखों में तड़पते हुए देख रही थीं।गजब की प्यास थी और बड़ा गर्म था उसका शरीर. जब मैं अपनी मौसी के घर आया था। मेरी मौसी बहुत ही सेक्सी और हॉट हैं। मैं पहले उनको देख कर अपने लंड का पानी निकालता था। उनका साइज़ 32 डी है. पैर जरा से खोले हुए वह राक्षस की तरह रगड़ के साथ धक्के लगा रहा था कि पल भर में उसे तारे दिखने लगे और इतनी जोर से झड़ा.

मैंने ब्रा के ऊपर से उसके मम्मे सहलाए और उसकी गर्दन के पास अपने मुँह से गर्म साँसें छोड़ीं तो वो थोड़ा गर्म हो गई।मैंने उसे अपने सीने से लगा लिया, मैंने अपने हाथ उसकी ब्रा के अन्दर डाल दिए। मैंने उसकी ब्रा को बिना उतारे.

तो प्रिया क्या सोचा तुमने?प्रिया- सर मुझे इस नौकरी की बहुत जरूरत है. और जब उसका दर्द कुछ कम हुआ तो मैंने एक झटके में सारा लंड उसकी चूत में पेल दिया और ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने शुरू कर दिए।अब उसको भी मज़ा आने लगा था और वो अपने चूतड़ उठा-उठा कर मेरा साथ दे रही थी।तभी एकदम से उसका शरीर अकड़ गया. मुझे क्या दिक्कत है?नेहा ने डॉक्टर साहब का मुँह पकड़ कर जोरदार किस किया और बोली- आई लव यू माय जानू सचिन.