बीएफ चुदाई चूत चुदाई

छवि स्रोत,शेर का शिकार मूवी

तस्वीर का शीर्षक ,

कुत्ता सेक्सी सेक्सी: बीएफ चुदाई चूत चुदाई, कभी किस नहीं कर पाता था, तो मेरे दूध मसल देता था या मेरी गांड दबा देता था.

चोदने वाली मूवी

मैं अपनी हथेली से उनकी चूत सहला रहा था और एक हाथ से उनकी ब्रा को खोलने की कोशिश कर रहा था, पर ब्रा थी कि खुलने का नाम ही नहीं ले रही थी. मम्मी पापा की चुदाई का वीडियोमैं गर्म तो थी ही मगर सामने मेरा मौसेरा भाई था तो थोड़ी हिचक हो रही थी.

वो बात तो कर रहा था, लेकिन उसकी तिरछी नज़रें मेरे शरीर की नाप लेने में लगी थीं. अंग्रेजी में ब्लूकुछ ही देर में उसका लंड फिर से खड़ा हो गया तो उसने अपना लंड चमेली की चुत में डाल दिया.

मैंने तुरन्त गौतम से पूछा- डिलीवरी बॉय कैसा है?वो बोला- क्यों?मैं बोली- बोल ना.बीएफ चुदाई चूत चुदाई: फ़लक- पास हो जाऊँगी न?मैं- यदि ऐसे ही साथ देती रही तो बहुत अच्छे नम्बरों से पास करुँगा.

उन्होंने कहा- मैं खुद तुझे नहीं भगाना चाहता हूँ, बस आज रात को अपने अंकल को प्यार करने दे.मैंने प्रशांत को अपने से अलग किया और उन दोनों को वासना भरी नजरों से देखने लगी.

मीया खलीपा - बीएफ चुदाई चूत चुदाई

फिर मैंने भाभी की चुत के अन्दर जीभ पेल दी और जीभ से भाभी की चुत चोदने लगा.कुछ दिन वह यूं ही उदास बनी रही, इसलिए उसका दिल बहलाने के लिए मैं उसे एक पार्टी में ले गया.

झड़ते ही वह तो एक कुर्सी पर ऐसे बैठ गया जैसे कि उसकी सारी जान निकल गई हो. बीएफ चुदाई चूत चुदाई वो काफ़ी देर मेरी चुचियां चूसने के बाद मेरी चुत की तरफ आ गया और बोला- सच में तेरी चुत एकदम चिकनी है.

दोनों अपनी दो उंगलियां मेरी चूत में डाल रहे थे और जोर-जोर से अंदर बाहर कर रहे थे.

बीएफ चुदाई चूत चुदाई?

हैलो फ्रेंड्स, मैं मनोज कुमार उर्फ़ किंग आपको अपनी पड़ोसन दीदी की सेक्स कहानी सुना रहा था. उसी समय सैम ने मुफीद मौका समझते हुए एक पल की देर न की … और तुरंत अपना बॉक्सर निकालकर सीधे आगे बढ़ गया. पिंकी आह उम्मह ऊह हह हाँहह करके लंड लेने लगी।मैंने उसकी चूचियों को मसलना शुरू कर दिया और होंठों को चूसने लगा और झटके मारने लगा।अब पिंकी भी ज्यादा उत्तेजित हो गई थी और हहह आहह हहह करके अपनी गांड चलाने लगी।मैंने पीठ के बल लेट कर पिंकी को इशारा किया तो वो मेरे लंड पर बैठ गई और उछलने लगी।मेरा लंड सट्ट सटृ अंदर बाहर होने लगा.

क्योंकि मैं ज़ारा को समझा-बुझा कर उसकी शादी करवा चुका था तो मैंने उस सेक्सी टीचर को अपने पास ही बुला लिया. ये कहते समय मुझे यह पता नहीं था कि उन दोनों ने कभी चुत चटवाई ही नहीं थी. स्नेहा- ये ऐसी ड्रेस पहन कर कहां जा चली … और ये तेरी पैंटी इतनी गीली क्यों है साली!स्नेहा उसकी उतारी हुई पैंटी को चूत वाली जगह को देखती हुई बोली.

मैंने दुःख जताया तो वो बोले- हमारे घर से किसी का जाना जरूरी है क्योंकि शर्मा जी के यहां से हमारे बहुत घरेलू संबंध हैं. अब वो भी मचलने तो लगी थीं, लेकिन न जाने क्यों मुझे दूर हटाना चाहती थीं. उसकी चूचियों के निप्पलों को मरोड़ मरोड़ के मानस ने चुत की आग और बढ़ा दी थी.

मैंने उनके हाथ को अपने तनतनाते हुए लंड पर रखा तो वो होश खो बैठीं और मेरे लंड को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगीं. आंटी ने मेरा लोअर चड्डी उतार दी और मेरा लंड मुंह में लेकर चूसने लगीं.

सोनम की धमकी सुन कर उस चपरासी ने अपने हाथ जोड़े और वो सोनम से माफ़ी मांगने लगा- मैडम, गलती हो गयी आगे से नहीं होगा मैडम, प्लीज गरीब की नौकरी पर लात मत मारो, आप जो चाहें, मैं करने के लिए तैयार हूँ … पर किसी को मत बोलो, प्लीज मैडम.

अब शायद शीना की भी चुदास बढ़ने लगी थी, वो भी मेरे होठों को पूरी शिदत से चूस रही थी.

शुरू में अंकल पूरा लंड अन्दर नहीं डाल रहे थे तो ज्यादा दिक्कत नहीं हुई. उसने मुझे अपना लंड चूसने को कहा, जिसको मैंने लगभग पांच मिनट में चूस कर खड़ा कर दिया. इसकी जगह उन्होंने मेरा बुल्ला अपने हाथ में लिया और उसे अपनीचूत के छेदपर रख कर रगड़ने लगीं.

थोड़ी देर बाद फिर मुझे अहसास हुआ कि फिर कोई मेरे लंड के साथ खेल रहा है. जो लोग मुझे पहले से जानते हैं, वो एक बार फिर अपने लंड को हिलाने के लिए अपने हाथों में थाम लें … और जो लोग नए हैं, उनके लिए मैं अपना परिचय दे देती हूँ. अब निखिल ने समय ना गंवाते हुआ रीमा को अपनी बांहों में ले लिया और उसे चूमने लगा.

जब मैंने मोबाइल को देखा तो मेरा माथा ही घूम गया क्योंकि उसने इन दोनों की चैट हद से बहुत आगे की बातचीत थी.

लेकिन उनको क्या पता कि ये उनकी बेटी की फुद्दी लेने के चक्कर में है. ज्योति- यार जोर की भूख लगी है, चल देखते हैं कुछ इंतजाम हुआ या नहीं. अब टेलर मास्टर ने अपना मुँह पीछे करके मेरी गांड के छेद को चाटना शुरू कर दिया और उसमें अपनी उंगली को भी अन्दर बाहर करना चालू कर दिया.

मैं सोचने लगी कि सारे भाई एक जैसे ही होते हैं … बहन भी शायद अपना पहला बीएफ अपने भाई में ही देखना चाहती है. उसने एक बार मेरी आंखों में देखा और तुरंत ही मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी. फिर मैंने अपने हाथों से उसके दोनों मम्मों पकड़े और उनको सहलाते हुए धीरे धीरे दबाने लगा.

वो बोली- राज तुम मुझे ऐसे चोदोगे, तो मैं सड़कछाप रंडी बन कर चुदवा सकती हूं … चार कुत्तों से चुदने वाली आवारा कुतिया भी बन सकती हूं.

वो भी चुदाई के लिए तरस रही थी तो मेरे थोड़े प्रयत्न के बाद वो सेक्स के लिए तैयार हो गई. ऐसा नाटक कर रही थी कि मानो उसे पता ही न हो कि उसके नाइटी उतारने से मेरे लन्ड की हालत क्या हुई है लेकिन उसकी आँखों में शराब का नशा छाने लगा था.

बीएफ चुदाई चूत चुदाई ये देखते हुए प्रिया ने अपनी चुत पर हाथ लगा कर फिर से चिल्लाना शुरू कर दिया. तभी मैंने उन चारों को रोक दिया और उनसे कहा- बस बस … इतने उतावले हो जाओगे तो पैन्ट में ही झड़ जाओगे.

बीएफ चुदाई चूत चुदाई फिर निखिल ने मम्मी को अपनी गोद में खींचा और उनके होंठों को अपने होंठों से चिपका लिया. ये कह कर उसने फिर से एक और झटका दे मारा और इसी के साथ मां की चूत में उसका लंड पूरा घुस गया.

सेक्स विद बॉस इन ऑफिस की कहानी का अगला भाग:जवान लड़कों से चूत गांड फटवायी- 3.

हिंदी में सेक्सी जंगली

पिछले भागदोस्त की दीदी रण्डी निकलीमें अब तक दीदी ने मुझे बता दिया था कि वो एक रंडी कैसे बनी थीं. मुझे झड़ता देख रोहित से भी नहीं रहा गया और उसने भी अपना सारा पानी मेरी चूत में निकाल दिया. उसी दरमियान मैंने अपना हाथ उसकी निक्कर में डाल दिया और उसकी चूत को मसलने लगा.

अपनी जीभ को मेरे मुँह में डाल कर जीभ से मेरे मुँह की चुदाई करने लगे. तो भाभी बोलीं- आज मेरे हाथ की चाय पीकर देखो … न जाने चाय से क्या दुश्मनी पाल रखी है. उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी ओर खींचते हुए कहा- तू ऐसे मत शर्मा … मुझे पता है कि तू मेरी बात मानेगी.

अब मैंने उसको बोला कि सबसे पहले तुम मुझको मालकिन बोलना बन्द करो वर्ना सब वहां जान जाएंगे कि तुम मेरे नौकर हो.

फरियाल लम्बी सांस लेती हुई बोली- आह … हां, आज न जाने कितने टाइम बाद ये हो रहा है … तो मेरा जल्दी निकल गया. उसने बाहर नजर करके देखा, तो निखिल ने उसके पूरे नंगे बदन को घूर कर देख रहा था. उन्होंने मुझे नीचे बैठा दिया और अपनी डेस्क की नीचे कर दिया ताकि किसी भी आने वाले को पता ही ना चले कि मैं कहां बैठी हूं.

फ़लक की हाइट छोटी होने से फ़लक मेरे दाहिने बाजू के आगोश में लगभग इकट्ठी हुई, झुककर खड़ी थी. सारी बात समझते ही मैं इतना खुश हुआ कि कुछ बोलने ही वाला था कि चाची ने उंगल होंठों पर रखकर चुप रहने का इशारा कर दिया. मां मेरा हाथ छोड़कर लेट गईं और उन्होंने अपने दोनों पैर थोड़े से खोल दिए.

धारा इस लगातार हो रहे खेल से 2 मिनट के अंदर ही फिर से गर्म होने लगी लेकिन इस बार वो यूँ उंगलियों से झड़ना नहीं चाहती थी. लेकिन उस वक़्त मैं एक बहुत प्यासी औरत भी थी और कहीं न कही मुझे शहज़ाद के मोटे लौड़े से अपनी प्यास भी शांत होती दिख रही थी.

वो गगन के लंड को अपने दोनों पैरों के बीच में फड़फड़ाती चुत के अन्दर लेकर धच्च से बैठ गई और गांड हिलाती हुई लंड से चुदने लगी. कभी वह अपने दोनों हाथों से मुझे अपने अंदर समा लेने की कोशिश कर रही थी. लेबर सेक्स कहानी में पढ़ें कि कैसे मेरी जॉब लगी और मुझे चूत चुदवानी पड़ गयी। मैंने किराए का घर लिया और पहली रात को ही एक घटना घट गयी, मेरी चुदाई हो गयी.

उसकी रोटियां जैसे ही बन कर खत्म हुईं, मैं उसे उठाकर बाहर ले आया और हॉल में पड़े सोफे पर झुका दिया, उसकी गांड में लंड डालकर चोदने लगा.

तो मैंने क्या किया?नमस्कार मित्रो, मेरा नाम चन्दर है और मैं जयपुर की एक बड़ी कंपनी में हेड मार्केटिंग मैनेजर हूँ. मुझको सार्थक से ही काम होता था और मैं उर्वशी को अपनी बड़ी बहन की तरह मानता था तो मेरे मन में उसके लिए कोई गलत फीलिंग नहीं थी. मानो उसका स्वाद पता कर रहा है वो कि वो जीभ पर लगने से कैसा टेस्ट देता है.

मैंने स्मृति से खाने का पूछा कि क्या खाओगी तो उसने बोला कि कुछ भी खा लेगी।बाई सुबह ही आलू के पराँठें बना कर गई हुई थी और दही मैं रात को लेकर ही आ गया था।मैं अंदर रसोई में गया और 2 प्लेट में नाश्ता लगाकर आया। साथ में 10-12 स्ट्राबेरी भी एक प्लेट में लेकर आया. मैंने कहा- साली हल्ला हल्ला करके चुदाई करवा रही है कुतिया छिनाल … अम्मी … ले लौड़ा खा.

शेखर ने अपनी कमर से हाथ हटाकर अपने हाथ सामने हवा में लहरा कर धारा के सर को पकड़ने की कोशिश की ताकि उसके मुँह में अपना लंड ठूँस सके लेकिन उसकी कोशिश बेकार गयी. चिराग- आआआह जान … ऐसा जुल्म मत करो … इस बेचारे पर अंडरवियर के साथ पैंट भी गीली हो जाएगी. मौक़े की नज़ाकत को देखते हुए शेखर ने धारा की चूचियों और अपने सीने के बीच फँसे हुए हाथ को धीरे से सरका कर बाहर निकाला और धारा को अपनी बांहों में पूरी तरह से भरके अंदाज़ा लगाते हुए अपने होंठ धारा के होंठों से मिला दिए.

तेलगु सेक्सी तेलगु सेक्सी तेलगु सेक्स

जब कहीं से कुछ मदद नहीं मिली, तो मेरे बड़े चाचा सामने आए और मम्मी से बोले कि भाभी आप अपना हिस्सा मुझे बेच दो और पैसे लेकर कहीं और चले जाओ.

काफी विचार विमर्श के बाद पता चला कि ये गलत हुआ है और प्रिया को इसकी सजा मिलनी चाहिए. मेरी पहली कहानीकिस्मत से मिली चुदाई की जॉबदो साल पहले आयी थी, जिसे आप लोगों ने बहुत प्यार दिया था. धारा ने अब बिना देर किए सुपारे को पूरी ताक़त से थामा और अपनी चूत के छेद में अटका कर उस पर अपने बदन का भार देने लगी.

मैं एक मीठी आवाज़ में बोला- अभी से पनिया रही है … अभी तो मैं और बहुत कुछ करूंगा. अब उसने अपना हाथ आगे करते हुए मेरा पल्लू गिरा दिया और अपने दोनों हाथों को मेरे दोनों मम्मों पर रख कर मेरे दूध सहलाने लगा. बिरयानी बनाना बताइएमैंने कहा- हां मुझे खुद समझ नहीं आ रहा है भाभी … जब मैं हाथ से मुठ मारता हूँ … तो 15 मिनट में ही निकल जाता है … आज पता नहीं क्यों नहीं निकल रहा है.

अब अगली बार मेरी कोशिश रहेगी कि उससे अपनी गांड की ओपनिंग भी करवा लूं. हॉट लव सेक्स कहानी का अगला भाग:मेरी प्यारी चाची का बर्थडे गिफ्ट- 5.

मैंने उसके हाथ से पैसे लिए और उसका टॉवल खींच कर अपने ऊपर लपेट लिया. मेरा शरीर एकदम से ढीला पड़ गया था और मेरी आंख दर्द से बंद होने लगी थीं. एक दिन की बात है, वो बीमार थी, तो दो दिन तक मैं उसको नहीं देख पाया था.

फिर मैंने उसे कहा कि अब हमारे बीच जिस्मानी रिश्ता बनने लगा है तो आज से तुम मेरे लिए अपनी चूत को बिल्कुल साफ सुथरी और चिकनी करके रखोगी. मैंने चुत में शॉट मारने शुरू किए और पांच मिनट बाद मैं भी भाभी की चुत में झड़ गया. तो मैंने उसे पूछा- ऐसा करना तुमने कहाँ से सीखा?वो बोली- आप भी पूरे बुद्धू हो अंकल! आपकी और मम्मी की वीडियो में देखा था.

एक रात में मामा जी ने मेरे कच्छी को नीचे कर दिया और अपना लंड मेरी जांघों के बीच डाल कर अपनी प्यास बुझाने लगे थे.

अब मैंने सुनीता को सीधा किया और उसे हाथों के पीछे करके वाशबेसिन को पकड़ने के लिए कहा जिससे मैं उसकी सामने से चुदाई कर सकूं. एक छोटे बैग में अपने दो जोड़ी कपड़े रखे ताकि अगर कोई इमरजेंसी हो तो बदलने के लिए हो जाएंगे.

इस बार मैंने ताई की गांड को चोदने के लिए कहा, तो उन्होंने मना कर दिया. इतना कह कर वो पूल से बाहर निकली और साईड में बने शॉवर रूम की तरफ चली गई. धीरे धीरे निखिल के लंड की चाहत को भी मीरा समझ गयी थी क्योंकि जब भी वो ऐसी कोई हरकत करती तो निखिल का लंड फूल कर उसकी इस क्रिया का अभिवादन करने लगता था.

वे मुझे किस करने लगे और थोड़ी देर उनकी बांहों में ऐसे ही लेटकर मैंने अपने कपड़े पहने शुरू कर दिए. उसकी आंखें वासना के जाल में फंस गई थीं और मुझे अपनी चूत की चुसाई के लिए आमंत्रण दे रही थी. चाची- हाय तौबा कितने बड़े मादरचोद हो, मैं कम पड़ रही … जो मेरे साथ साथ मेरी मां को भी चोदोगे कमीने … आह मेरे राजा और जम कर चोदो अपनी रंडी को.

बीएफ चुदाई चूत चुदाई फिर मैंने कहा- क्यों बहन के लोड़े … माँ चुद गयी ना … क्या तेरे लंड में इतना दम है कि तू मेरी प्यास बुझा सके?साहिल बोला- मां की चूत तेरी … बहन की लोड़ी … हमें छोड़ कर तो देख … फिर बताते हैं तुझे हम!फिर मैंने उसका लंड सहला दिया और उसके होंठों पर किस करना शुरू कर दिया. वैसा ही हुआ गगन ने अपना लंड रोमा की चुत में जड़ तक पेला और धकाधक करके अपना लंड रोमा की चुत में ही झाड़ दिया.

सेक्सी वीडियो एक्स एक्स एक्स फुल

तो मम्मी से कैसे लूं?तो मैं बोला- तुम चुपके से अपनी माँ के फ़ोन से ट्रांसफर कर लो और देख लो. थोड़ी देर बाद मैं फिर से उसकी जाँघों को चाटने लगा।जिसका मुझे अंदाजा था … नीतू ने वही किया. उस दूध वाले ने धीरे से मेरे कान में बोला- बीबी जी, एक बात बोलूं?मैंने हां में अपना सिर हिलाया.

इस बार लंड कुंवारी लड़की की सेक्सी चुत की फांकों में सैट हो गया था और उसके हाथ मुझे रोकते हुए कोशिश कर रहे थे. मैंने उनके हाथ को अपने तनतनाते हुए लंड पर रखा तो वो होश खो बैठीं और मेरे लंड को ज़ोर ज़ोर से दबाने लगीं. आज का ताजा सेक्समेरे भाई की शादी दो साल पहले एक बहुत खूबसूरत लड़की से हुई थी, जिनका नाम स्नेहा है.

मैंने कुछ नहीं कहा और मैं रूम में चला गया, उर्वशी भी कमरे में आ गई.

तो तन्वी हंसते हुए बोली- अरे यार अनलिमिटेड … बट इसके पहले मुझे तुझसे एक बात पूछनी थी. मैंने आशारा की चुत की फांकों को फैलाकर एक एक को मुँह में भरकर जी भर कर चूसा.

शिवम बोला- अनिकेत भैया, आप मां को कब से चोद रहे हैं?अनिकेत भैया बोले- बहुत लंबी कहानी है. मैंने कहा- तेरा तो बॉयफ्रेंड था न?उसने कहा- था तो सही … पर साला खाली उंगली करवाता था. वो बोली- हां जब तू तेज झटका लगाता है … तो नाम ज़ुबान पर आ जाता है यार!मैंने कहा- साली लंड का झटका तेरी गांड नहीं झेल पा रही क्या?वो बोली- कुत्ते, तू एक औरत को जब कुतिया बनाकर इतनी तेज तेज चोदेगा तो वो हल्ला करके चिल्लाएगी ही.

कमरे में बस धारा की सिसकारियां ही सिसकारियां सुनायी दे रही थीं।साथ में शेखर के मुँह से निकल रही गर्म साँसों की आवाज़ भी उन सिसकारियों के साथ मिलकर वासना का गीत गा रही थीं.

वो मुझे एक किनारे ले गया और जब मैंने उसके सामने अपना बुरका उतारा, तो वो तो मुझे देखता ही रह गया. भाभी ने जल्दी से लंड वापस निकाला और बोलीं- मादरचोद मारेगा क्या … रंडी नहीं हूँ मैं बहन के लौड़े … साले मेरी सांस रुक गयी थी कमीने!मैंने थूक लौड़े पर डाला और जड़ से एक हाथ से लंड पकड़ा, दूसरे हाथ से भाभी का सर पकड़ कर फिर से मुँह में देने लगा- ले तेरी मां का भोसड़ा … लंड चूस मां की लौड़ी. दोस्त की बीवी की चूत मिली फ्री सेक्स स्टोरी में पढ़ें कि मैं अपने दोस्त की बहन को चोद चुका था और उसकी बीवी को चोदना चाहता था.

सोनाक्षी सिन्हाxxxxआंटी बोली- हां ठीक है, मगर पहले मेडिकल स्टोर पर जाओ और कंडोम ले आओ. वो बोली- इस बात का क्या मतलब हुआ?मैंने कहा- इसका मतलब ये हुआ कि कल के दिन किसी को कुछ आपत्ति हुई तो मैं क्या कहूंगा?वो बोली- अच्छा जब की तब देखी जाएगी, आप तो अभी की बात करो कि मैं आपको कैसी लगती हूँ.

हीरोइन पिक्चर सेक्सी

मैं भी चाची के चिकने और रसीले होंठों पर टूट पड़ा और उन्हें चूसने लगा. मुझसे बर्दाश्त नहीं हो रहा था, तो मैं मुठ मार कर घर के बाहर चला गया. मैंने भी देर न करते हुए उर्वशी को बेड पर थोड़ा नीचे को खींचा, जिससे उसकी गांड बेड के एक सिरे पर टिक गई.

Xxx भाभी हिंदी कहानी में पढ़ें कि पड़ोस की एक भाभी से मेरी दोस्ती है. मगर उस टाइम मुझे पता चला कि लड़कियों के चूत और कांख में भी बाल होते हैं. मैं एकदम उससे सट कर बैठ गयी और उसकी जांघ पर हाथ रखे हुए उससे बातें करने लगी.

शाम के क़रीब 4 बजे तक शेखर और धारा एक दूसरे से ऐसे ही इधर-उधर की बातें करते रहे. अपनी गांड मटकाती हुई वो सोफे पर बैठ गई और आते ही उसने अपने बैग में से एक स्कॉच की बोतल निकाल ली. ललित को इस बात से कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता कि मेरे मन में क्या चल रहा है या फिर मैं क्या चाहती हूँ!शायद ये पहला मौक़ा है जब मैं किसी से ये सारी बातें शेयर कर रही हूँ.

मेरी रंडी चूत की प्यास नहीं बुझ रही थी क्योंकि मेरे शौहर दुबई में थे. मैंने लंड भाभी के मुँह से लगा दिया और सारा वीर्य भाभी के मुँह में ही छोड़ दिया.

मगर तेज चुदाई से उसे फिर से दर्द होने लगा और वो तेजी से ‘आह्ह ह … उह्ह्ह … ईह्ह … मर गई अगम स्लो चोद … आह आई …’ की आवाजें निकाल रही थी.

आंटी बॉय सेक्स कहानी में पढ़ें कि मैं मुझे शौहर के दोस्त के घर की शादी में अकेली जाना पड़ा। वहां मुझे अकेली देख दो जवान लड़के मुझसे बात करने लगे। उसके बाद …दोस्तो, मैं जानिसार अपनी आपबीती कहानी आपके सामने ला रही हूं।मेरी हाईट 5 फीट 4 इंच, फिगर 36-30-36 है। ब्रा 36 सी की पहनती हूं। मेरे बूब्स काफी बड़े हैं। रंग भी गोरा है। मेरे बाल मेरी पीठ तक आते हैं।मेरे शौहर का बिजनेस है भोपाल में!यह कहानी सुनें. गाना सेक्सी वीडियोमैं ऐसे ही धक्के लगाते रहा, फिर वो झड़ गई और 2 मिनट के लिए निढाल हो गई. गर्ल हस्तमैथुनफिर मैंने अपना लंड मामी की चूत टिकाया और धीरे धीरे पूरा लंड मामी की चूत में उतार दिया और पूरी दम से चोदने लगा. उसके 42 इंच के चूतड़ों को देख कर ऐसा लगता है, जैसे 2 तरबूज काट कर गांड के छेद के दोनों तरफ चिपका दिए गए हों.

इधर एक बार फिर शेखर ने अपने एक हाथ से चूत के दाने को कुरेदते हुए दूसरे हाथ से धारा की चूचियों को मसलना शुरू कर दिया.

रास्ते में मेरी और चाची की कोई ज्यादा बात नहीं हुई, हम दोनों बस एक दूसरे को देखकर मन ही मन खुश हो रहे थे. उसने मुझे भी सेक्स का भूखा समझ लिया होगा।ऐसे अनगिनत सवाल और ख़्याल शेखर के मन में दौड़ रहे थे. मगर मैंने भी एक शर्त रखी थी कि ना तो मैं किसी की नज़र के सामने आऊँगी और ना ही मैं उसे अपनी नज़रों से देखना चाहूँगी.

फिर उसने हंसते हुए मुझे मेरी फोटो दिखाई, जिसमें मेरे गाल पर लिपस्टिक लगी हुई थी. कुछ देर बाद मैं भी उसी कमरे में आ गयी और देखा … तो वहां पहले से सब लेट चुके थे. लेकिन नीतू ने मुझे इतनी जोर से पकड़ा हुआ था कि उसके नाखून अब मेरी पीठ में कुछ अंदर तक गड़ गये थे।नीतू की चूत से इतना ज्यादा रस निकला था कि उसने बेड की चादर के एक बड़े हिस्से को गीला कर दिया था।कुछ देर बाद जब वो पूर्णरूप से झड़ कर शांत हुई तो वैसे ही आँख बंद करके पड़ी रही।इधर मेरा लंड भी फूल कर बड़ा हो गया था.

सुहागरात की सेक्सी फिल्म दिखाओ

मेरी मम्मी ने मुझे बैठाया और बोली- राज, तुम्हारे नाना नानी अर्थात रश्मि के मम्मी पापा तीन चार दिन के लिए किसी जरूरी काम से आज बाहर गए हैं. मैंने जैसे ही अपनी पैंट नीचे की तो चाची मेरे अंडरवियर में उठे उभार को देखकर मुस्कराने लगी और बोली- ये क्यों तना हुआ है?मैं चुप रहा और टॉवल लेकर लपेट लिया और अंडरवियर भी निकाल दिया. मैंने उससे कहा- फरियाल, मैं कार से आपके यहां आ रहा हूँ, तो कब आना है … ये बताओ.

एक दिन मैंने भी सोचा कि मैं भी अपनी सच्ची सेक्स स्टोरी आप सभी के सामने रखूं.

स्मृति कभी अपनी जीभ को लंड के अगले हिस्से पर घुमाती तो कभी नीचे गोलियों पर।फिर स्मृति ने मेरे लंड को मुँह में ले लिया और चूसने लगी।स्मृति बड़े मज़े से मेरे लंड को चूस रही थी.

मैं उसके पास गया तो उसने मेरे नंगी पीठ पर हल्के-हल्के हाथ फिराया और मेरे होंठों से चूमते हुये नीचे की ओर आने लगी. तो पढ़ें सेक्स टॉक कहानी:स्नेहा- दीदू अब आगे किसकी चुदाई देखी है … उसकी बात बताओ?नेहा- मैंने मामा की लड़की ममता की चूत और उसी की भोसड़ी भी देखी है. मेहंदी का रंग काला कैसे करेवो वासना से सिसकारियां भरने लगी और ‘आह आहह …’ करके गर्मी पैदा करने लगी.

तब तक ज्योति ने शॉवर लेकर बाथरोब वापस पहन लिया और दोनों रूम की तरफ चल दीं. अब आगे डर्टी चुदाई कहानी:प्रिया ने जया और चमेली को कपड़े निकालने के लिए कहा और वो खुद भी नंगी हो गई. अब आगे कॉलेज लवर्स सेक्स कहानी:उधर दूसरी तरफ आकाश और स्नेहा आपस में बात कर रहे थे.

इतने में सनी बोला- क्या बात है मेरी छिनाल बहना … आज उन दोनों को भी अपनी जवानी टेस्ट करवा दी. फिर पिंकी बाहर चली गई और मैं बाथरूम चला गया।इस तरह मैंने अपने दोस्त की मदद से उसके सामने उसकी बीवी को जमकर चोदा।कैसी लगी आपको यह फ्री सेक्स स्टोरी?[emailprotected].

तो उन्होंने कहा कि मैंने शादी से पहले किसी भी लड़के से दोस्ती नहीं की थी.

आशा है कि इस सेक्स कहानी को पढ़ कर मर्दों के लंड और भाभियों की चुत से झरना बह जाएगा. बस यही देखते और सोचते सोचते पूरा महीना बीत गया लेकिन मेरे दिमाग से वो निकल नहीं पा रही थी. मैंने थोड़ा समझाने के बाद उनसे फिर से पूछा, तो बोलीं- मेरे पति मुझे खुश नहीं कर पाते हैं.

भाई बहन सेकस उसके मुँह से आह आहआह आःह्ह हम्म्म महाह आह की कामुक आवाजें फिर से तेज हो रही थीं. मैंने उससे कहा- फरियाल, मैं कार से आपके यहां आ रहा हूँ, तो कब आना है … ये बताओ.

ससुर बहू Xxx कहानी मेरी चूत को लंड की जरूरत की है। मेरे ससुर की नजर मेरे गर्म बदन पर थी. इस साड़ी में उनके चूचे बड़े ही मदहोश करने वाले और कातिलाना लग रहे थे. कभी मैं अपनी सीट पर सो जाता, कभी उठ जाता, कभी अपनी पुस्तकें पढ़ने लगता, कभी कुछ खा लेता, कभी इधर-उधर टहलने लगता.

हिंदी सेक्सी वीडियो सेक्स सेक्सी

अब टेलर मास्टर ने अपना मुँह पीछे करके मेरी गांड के छेद को चाटना शुरू कर दिया और उसमें अपनी उंगली को भी अन्दर बाहर करना चालू कर दिया. नीचे हाई हिल्स की सेंडल्स, कानों में लम्बे झुमके, आंखों में काजल था. जैसे ही फ़लक बाथरूम का दरवाजा बंद करने लगी मैंने उससे कहा- फ़लक तुमने इन दोनों कपड़ों के नीचे कुछ नहीं पहनना है.

अब आगे हॉट मौसी सेक्स कहानी:एक रात हमेशा की तरह जब रीमा निखिल को पढ़ाने के लिए आई और हर दिन की तरह वो पढ़ने से पहले अपने सेक्स के खेल में लग गए तो उसी समय मीरा भी अपने चोदू यार से मिलने छत पर पहुंच गई थी. मैंने अपने चूतड़ों को जोर जोर से ऊपर नीचे करके लण्ड को चूत की जड़ तक चलाना शुरू किया.

अब धक्के मारो मेरे लाड़ले देवर जी!मुझे भाभी की चूत बहुत गर्म गर्म महसूस हो रही थी और सनसनी सी हो रही थी.

लेकिन मेरी मजबूत पकड़ के आगे वो हिल भी न सकी इसलिये अंत में मुझसे कहा- राहुल प्लीज रुक जाओ. मयंक ने धीरे से लंड को गांड के अन्दर से आधा बाहर खींचा और फिर अन्दर घुसा दिया. इसी तरह कुछ और देर घूमने के बाद हम दोनों वहां से आ गए और शहज़ाद मुझे मेरे घर छोड़ते हुए अपने घर चला गया.

फिर मैं बोली- ये कैसे होगा यार … एक साथ तो मैं दोनों का गांड में नहीं ले सकती. उभरी हुई चूत का मुँह नीचे चाची की एड़ियों की ओर हो गया जिससे मेरे पेट की तरफ खड़ा मेरा लौड़ा चूत को उसी पोजीशन में अच्छी तरह ठोक सकता था. मौसी- आआह्ह्ह … तू तो मुझे पागल कर रहा है पार्थ … आह आगे बता न जल्दी से.

अन्दर आते ही उसको पता चल गया कि कोई मोबाइल पर चुदाई का वीडियो देख रहा था और शायद लौड़ा हिला रहा था.

बीएफ चुदाई चूत चुदाई: उसने मेरी टांगों को फैला दिया और उनके बीच में बैठ कर मेरी चूत चाटने लगा. मैं नंगा ही ऊपर आ गया, मेरे कपड़े पलंग पर पड़े थे, मैंने पहन लिए और शन्नो की मैक्सी बैग में रख दी.

ये कह कर भाभी मेरे पास आईं और मेरे लोअर के ऊपर से लंड पर हाथ रख दिया. शीना के मम्में उसकी माँ से छोटे थे पर कड़क थे, और उसकी ब्रा से आधे से ज्यादा बाहर निकले हुए थे. तभी उन्होंने एक हाथ मेरे सर के पीछे रखा और मेरे सर को स्थिर कर मेरे होंठों को चूमने लगे.

मैंने हम तीनों के गिलासों में व्हिस्की के पैग बना लिए और पानी भी मिला दिया.

आज मैं मेरी ही बेटी के उस लंड को अपने मुँह में लेने जा रही थी जिस लंड को काफी दिनों से मेरी बेटी चूसती आ रही थी. फिर वे दोनों मेरे बदन को मेरे कपड़ों से अलग करने लगे और धीरे-धीरे करके मेरे सारे कपड़े निकाल दिए. ”अब मैं एक हाथ भाभी की चुत में डालकर हिलाने लगा, भाभी की भोसड़ी से पानी बरस रहा था.