2028 का बीएफ

छवि स्रोत,पारिवारिक सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

हिंदी सेक्स पिक्चर फिल्म: 2028 का बीएफ, ला दूसरा भी दे।थोड़ी देर बाद दोनों 69 के पोज़ में हो गए और सुधीर जीभ से मोना की चुत को चाटने लगा। इधर मोना भी उसके लंड को मज़े से चूस रही थी। दस मिनट तक ये चुसाई चलती रही और फिर मोना की चुत बहने लगी.

मराठी ओपन व्हिडिओ सेक्सी

’मैंने उसकी चूत के रस से उंगली गीली की और उसके पीछे धीरे-धीरे डालने लगा. कोलकाता सेक्सी लड़कीइसके बाद चन्दन ने सिर हिला कर उनके स्तनों को टटोला और उनके खुले हुए गोरे पेट पर चुम्बन कर दिया.

मुझसे ग़लती हो गई, अब मैं कभी ऐसा नहीं करूँगी।सुमन के चेहरे की खुशी देख कर गुलशन जी भी बहुत खुश थे।गुलशन- अच्छा ठीक है अब तुम भी आराम कर लो बेटा. सेक्सी चोदा वीडियो मेंमैंने स्मृति को पिछली रात के लिए सॉरी बोला और दुख जताना शुरू किया तो वो मेरे मुखड़े को फूल की भाँति अपने हाथों में लेते हुये बोली- तू बहुत अच्छा है.

थोड़ी देर तक हल्की हल्की किस के बाद उसने मेरा लेफ्ट चूचा पूरा का पूरा अपने मुँह में ले लिया और चूस लिया.2028 का बीएफ: मैंने उन्हें धक्का दिया और उनकी पेंटी उतार कर फिर से उनकी चुत को उंगली से रगड़ने लगा.

एक दिन जब मैं 12वीं क्लास को टयूशन पढ़ा रहा था, तभी एक आंटी आईं और बोलीं- बेटा तुम मेरी बेटी को टयूशन पढ़ा दो, उसके 11वीं में बहुत कम नम्बर आए हैं इसलिए 12वीं में मैं उसको टयूशन के भेजना चाह रही हूँ.वो नजरें झुकाए खड़ी रही।सब सामान लेकर गुलशन जी ने कार में रखा और घर की तरफ़ चल पड़े। पूरे रास्ते सुमन सोच रही थी कि पापा ने मुझे कुछ भी लेने को नहीं कहा, क्या वो मुझसे प्यार नहीं करते। अरे मॉर्डन नहीं तो कोई सिंपल ड्रेस ही दिलवा देते।गुलशन- क्या सोच रही है मेरी लाड़ली? घर आ गया है, चलो उतरो.

इंग्लिश सेक्सी मूवी सेक्सी मूवी - 2028 का बीएफ

एक दिन बातों-बातों में चाची ने मुझसे मेरे बॉयफ्रेंड के बारे में पूछा, पहले तो में शर्मा गई लेकिन चाची के पूछने पर मैंने उन्हें अपने एक दोस्त के बारे में बता दिया.मैंने हाथ मुँह धोकर कपड़े चेंज किए और लुंगी बनियान में कमरे में बैठकर टीवी देखने लगा.

पहले उन्होंने अपनी जीभ निकाल कर मेरे होंठों पर घुमाई और फिर मेरे को जोरदार किस की. 2028 का बीएफ नीतू को बाद में भी चोद लेना और रही बात मेरी, तो उसका बाद में देखेंगे.

मैं अन्दर आकर सोफे पर बैठ गया, वो मेरे पास आई और बोली- चाय पियोगे या पानी लोगे?मैंने कहा- कुछ नहीं.

2028 का बीएफ?

ऑफिस में मैंने दो तीन लड़कियाँ भी रख रखी थी, उनकी पहली शर्त ये थी कि काम के साथ साथ चुदाई भी करवानी पड़ेगी. कहानी से सम्बन्धित शहर और अस्पताल का नाम तो मैं नहीं बता पाऊँगा बस ये मान लीजिये उज्जैन के पास का ही कोई शहर है, वो और मैं उस अस्पताल में एक पूरी रात रुकने वाले थे. शायद मेरे इतनी तेज़ी के साथ लंड घुसने के कारण उसे दर्द हो गया था मगर उसने अपने आप को संभाल लिया और मुझे कस कर अपनी बाँहों में चिपटा लिया.

मेरी ऐसी हालत देखकर वह मन ही मन मुस्कराती थी, उसके चेहरे पर नई चमक उभर आती थी. गोपाल ठंडा होने के बाद घबरा गया उसको अहसास हुआ अगर मोना आ जाती तो क्या होता. कुछ ही देर में उसका शरीर अकड़ने लगा औरउसकी चूत ने पानी छोड़ दिया… मैंने उसका सारा पानी पीकर साफ कर दिया.

मुझे पता था कि अदिति घर में अकेली ही होगी क्योंकि मेरे बेटा तो पिछली शाम को ही बंगलौर निकल लिया होगा. उधर स्वान ने मेरी नन्ही सी बीवी के चूतड़ों पे दो-तीन चपत लगा दी जिससे वो और उत्तेजित हो उठी और हम दोनों के लंडों को और अन्दर तक अपने मुंह में लेकर चूसने लगी. मैं- चाची, तुम इसके खाने पीने का क्यों इतना सोचती हो? ये तो वैसे ही मोटी है.

अभी तक आपने पढ़ा कि मैंने चाची को चोदा, चचेरी बहन को चोदा तो माँ ने हमें चुदाई करते देख लिया. मैं कुछ समझी नहीं?टीना- सुन संजय ने तुझे चुत चूस कर मज़ा दिया और तुझे इतना तड़पाया.

जीभ का स्पर्श चूत में पाते ही रानी के मुंह से कामुक कराह निकली- आह, प्यारे अंकल… आज पहली बार किसी मर्द की जीभ ने मेरी चूत को छुआ है.

अब तक की इस सेक्स स्टोरी में आपने पढ़ा कि संजय और टीना समेत सभी लोग पार्टी का मजा ले रहे थे। एक प्लानिंग के तहत फ्लॉरा और टीना में सेक्स को लेकर चर्चा होने लगी और सभी इसका मजा ले रहे थे।अब आगे.

मैंने मानो उसके दिल की बात कह दी हो, वह जल्दी से बिस्तर पर बैठी और बोली- आ जा तो कर ले किस. मैंने तो प्राची भाभी की उम्र भी नहीं पूछी थी, बस अनुमान लगाया था कि वे 28-29 की होंगी. अब गुलशन जी भी अपने चरम पे थे, किसी भी पल उनका लावा भी फूटने वाला था.

अब फ्लॉरा हाथ नहीं आएगी मगर टीना ने उसको बातों में ऐसा उलझाया कि वो उनके जाल में फँस गई।फ्लॉरा- नहीं यार टीना. बदले में मैंने उसके निप्पल खींच कर कहा- तू भी पूरी की पूरी बाजारू लग रही है. फिर मैं सोचने लगा कोई भूत तो नहीं आ गया मगर आपकी आवाज़ सुनी, फिर सुमन दीदी की आवाज़ सुनी.

ऑफिस में मैंने दो तीन लड़कियाँ भी रख रखी थी, उनकी पहली शर्त ये थी कि काम के साथ साथ चुदाई भी करवानी पड़ेगी.

कुछ देर दोनों एक दूसरे को पकड़े रहे, फिर मैं माँ के ऊपर से लुढ़क कर उनके बगल में लेट गया. पहले दिन से ही मेरा दिमाग इस भाभी की चूत के गुलाबजामुन को खाने के लिए मचल रहा था. उसकी माँ सरिता परेशान होने लगी तारीख से 2 दिन पहले रोहन ने बोला कि मेरा एक दोस्त है रोहित वह भी मुंबई से लखनऊ जा रहा है, हम चाहें तो उसके साथ चल सकते हैं, उसके एक दोस्त का प्लान कैंसिल हो गया है तो अब उसके पास एक सीट बची है.

सासू माँ जमाई के सर को जोर-जोर से अपनी चुत पर दबाने लगीं और जमाई भी जोश में आकर सास की चूत को चूसने लगा. उसके बाद मैं उसके होंठों को अपने होंठों से लगा कर चूसने लगा… धीरे-धीरे वो भी मज़ा लेने लगी. ऐसे ही चलता रहा और दो दिन की छुट्टी में भी मैंने उनके साथ रोज ऐसा ही किया.

मैं फिर दोस्तो में बिज़ी हो गया, वहाँ मेहमान खाना ख़ाकर चले गये थे, मेरे दोस्त की फॅमिली और दुल्हन की फॅमिली के लोग ही बचे थे, हम सबको खाना खाने बोला गया मुझे ज़ोर से पेशाब लगी थी तो मैं अपने दोस्तो से बोला- तुम लोग प्लेट्स लो, मैं आता हूँ.

फिर उन्होंने धीरे से मेरे लंड के ऊपर हाथ फेरा, मेरा लंड काफी लंबा है और इसकी मोटाई भी अच्छी है. चाची की आहें और मस्त मादक कराहें निकलती रही और वे मुझसे पूरी मस्ती से अपनी चुत चुदाई करवाती रहीं.

2028 का बीएफ आख़िर में तो उसकी चुत बिल्कुल चुदने को तैयार हो गई थी और मेरा लंड शेर हो गया था. मैं एक दिन बहुत उत्तेजित थी तो मैंने अपने पति अशोक से ऑफिस से छुट्टी लेकर पूरे दिन घर ही रहने के लिए कहा ताकि मैं उनके साथ बिस्तर में मजा कर सकूँ.

2028 का बीएफ जवाब में पूजा भी मुस्कुरा दी और वो अब अपने सामने के नज़ारे के मजे लेने लगी. मगर आज मैं अपने ब्राजील की नहीं, अपनी मामी के घर में हुई की चुदाई बताने जा रही हूँ.

उधर सुमन भी घर आ गई थी और रात की उसकी नींद पूरी नहीं हुई थी तो वो सो गई.

प्रेग्नेंट कैसा होता है

मुझे अपनी प्रतिक्रिया भेजें!आपका अपना शरद[emailprotected][emailprotected]यह सेक्स कहानी अभी जारी रहेगी. मेरी परेशानी बढ़ रही थी, मेरे दोनों छेद में दो लंड थे अब ये तीसरा क्या कर रहा था, यह मैं जान नहीं पा रही थी. गुलशन जी ने फ्लॉरा के पैरों को कंधे पर डाला और लंड के सुपारे को चुत पे टिका कर जोरदार झटका दे मारा.

मैं उनकी चूत को चूसते चूसते इस तरह हो गया कि 69 पोजीशन में आ गया अब उनका जादू शुरू हो गया।उन्होंने मेरे लंड को पहले सहलाया, उसके बाद उस पर पता नहीं कुछ लगाया, शायद शहद ही होगा. इस वक़्त मुझे बिल्कुल डर नहीं लग रहा था कि कोई जाग गया तो क्या होगा. पहले तो वो नहीं ले रही थी, लेकिन मेरे फोर्स करने पर उसने गिफ्ट ले लिया.

उसकी योनि से गरम रक्त निकल कर मेरे लंड से होता हुआ जांघों पर बह रहा था.

नीतू- क्या हुआ दीदी, आप मुझे ऐसे क्या देख रही हो?मोना- देख रही हूँ तेरे अन्दर कितनी गर्मी है. मेरी पहली धार सीधे ऋतु के चेहरे से टकराई और वो थोड़ा पीछे हटी और फिर दूसरी धार सीधे पूजा के खुले हुए मुंह के अन्दर और तीसरी और चोथी उसके गालों और माथे पर जा लगी. मीना- यार एक बात समझ नहीं आ रही, तू तो बड़ी सीधी है फिर तुझमें इतना सेक्स कहाँ से आया, जो तेरी प्यास मिटती ही नहीं?मोना- ये सब भी गोपाल ने किया है.

मेरे हाथों की कलाबाजियों ने प्राची भाभी की वासना को जागृत करना शुरू कर दिया. ‘अबे आधा घंटा से ऊपर हो गया है, सर बोल रहे हैं कि कितनी देर और लगेगी?’‘जब ये मुझे छोड़ देगा?’फिर मेरी तरफ देखते हुए बोला- यार, जल्दी निपटा इस रंडी को!मैं चोदे जा रहा था, अब रोहिणी थकने लगी थी और मेरा निकलने का नाम ही नहीं ले रहा था, मुझे इतना अहसास जरूर हो रहा था कि कुछ फंसा सा हुआ है. लेकिन फिर भी वे बार-बार मुझे मेल कर रही थी कि कुछ ऐसी बातें हैं जो मैं सिर्फ आपको सामने से ही बताकर शेयर कर सकती हूं।जब बार-बार उनका ईमेल आया तो मैं भी सोच में पड़ गया क्या बात है क्योंकि वो दूसरे शहर से थी।तो मैंने उन्हें साफ बोला- अगर आपको मुझे बुलाना है तो आपको मुझे आने जाने का खर्चा देना पड़ेगा। अन्यथा मैं नहीं आऊंगा.

फिर उसने हम दोनों से सॉरी बोला और कहा कि यार अब करने का मन तो होता है ना. मैं बाथरूम में जाकर अपनी योनि को धोकर वापस पण्डित जी के बगल में लेट गयी.

’चूचे चूसते-चूसते मैं उसके निप्पल काट भी लेता था और दूसरे हाथ से मसल भी देता था. सेकेण्ड में कोई जगह नहीं मिली 18 वेटिंग आ रही थी, आप सबको तो पता ही है कि ऐ. ‘हाँआआआ… बहुत मन है इसकी गुलाबी चूत मारने का!’ अर्धविक्षिप्त सी आवाज में स्वान बोला.

कुछ देर बाद मैं उनके ऊपर से उठा, चाची की चूत से मेरा वीर्य निकल रहा था.

ऐसे ही शादी का दिन आ गया, हम सब नाचते हुए मंडप में पहुँचे तो दूल्हे के स्वागत के लिए दुल्हन की पूरी फॅमिली बाहर खड़ी थी जिसमें दुल्हन की सिस्टर भी थी जो बहुत प्यारी लग रही थी. रमेश ने भी एक हाथ उसकी पैंटी के अंदर डाल कर एक अंगुली बुर के पास ले गया और बुर पर हल्के हल्के रोंयेदार बालों को सहलाने लगा तो सरिता भी कमर को इधर इधर कर बड़बड़ाने लगी- आह ह ह ह ह्हीईई आअह्ह्ह्ह!तो रमेश अंगुली से बुर के छेद को सहलाने लगा. मैंने कॉफ़ी बनाई और उसके बाद उसने बोला- लैपटॉप कहाँ है तुम्हारा? कुछ देखते हैं.

उन्होंने कहा- क्यों पहले नहीं लगती थी क्या?तो मैंने भी कह दिया- पहले कभी इतने गौर से नहीं देखा. !भाभी- अच्छा जी, आपको फ्रेंडशिप का बड़ा शौक है!मैं- हाँ मुझे न्यू फ्रेंड्स बनाना बहुत पसंद है.

मैंने हेल्पर नितिन से पूछा- छोटू, मेरे वाले कैमरा की बैटरी कहाँ पे है?तो वो बोला- भैया, बैग में आपके कैमरा की दोनों बैटरीज हैं. दोस्तो, मेरी कहानी जिसमें मैंने अपनी सगी बहन को चोदा, के छः भाग आ चुके हैं, मुझे काफी मेल आ रहे हैं, सभी ने मेरी सेक्स कहानी की तारीफ की है पर मैं आपको बता दूं कि यह कहानी पूरी तरह से काल्पनिक है. फच्च की आवाज़ के साथ लौड़ा बाहर निकाला, जिस पर खून और वीर्य लगा हुआ था.

निशा की राशि क्या है

मैंने मामा से पूछा- इतनी जल्दी कैसे खड़ा हो गया?मामा बोले- तुम्हारी गांड और नींबू जैसी चुचियां देख कर लंड खड़ा हो गया.

‘मम्मी, आज इनको पालक छोले की सब्जी खानी है जैसी आप बनाती हो, आप मुझे गाइड करो कैसे बनाना है’; ‘मम्मी आम का अचार डालना है आज, आप बता दो कैसे क्या क्या करते हैं’ इत्यादि इत्यादि. माँ के पतले गुलाबी होंठों को चूसते हुए मैंने अपनी जीभ उनके मुँह में घुसा दी और उनकी चूचियों को कस कर दबाने लगा. वो भी उस वक़्त ऑनलाइन ही थी और उन्होंने मुझसे मेरे बारे में जानने की इच्छा ज़ाहिर कि अगर मुझे ऐतराज़ न हो तो.

फिर मैंने उसको बेड पे लिटा दिया और उसके पूरे बदन को चूमने लगा और धीरे-धीरे नीचे आकर उसके पेट को चूमा, उसकी नाभि में जीभ डाल कर चूसने लगा. कभी फिर मौका मिला तो सारे अरमान अच्छे से पूरे करूंगी अगली बार!’ वो बोली और लंड को चूसने लगी. देवर भौजाई की सेक्सी वीडियो फिल्मतू बस मेरी बातों को मानती रहना और हाँ, सबसे पहले तू अपनी मॉम से सुलह कर ले और उनसे प्यार जता.

गांड कितनी बार भी मरवा लो लेकिन गांड मरवाने में हर बार बहुत दर्द होता है. मेरा तो दिमाग चकरा रहा था कि ये सब हो क्या रहा है।अब चाचा उठे और मेरी माँ को देख कर मुस्कुराते हुए घूम कर नीचे बैठ गये और आरती चाची को अपनी वाली जगह पर वैसे ही लिटा दिया। मेरी माँ ने भी चाचा को निहारा और एक सेक्सी सी स्माइल दी।चाचा ने अपना मुंह आरती की सुलगती हुई चूत पर लगा दिया ‘आआआआ आआअह्ह्ह.

मैं फिर दोस्तो में बिज़ी हो गया, वहाँ मेहमान खाना ख़ाकर चले गये थे, मेरे दोस्त की फॅमिली और दुल्हन की फॅमिली के लोग ही बचे थे, हम सबको खाना खाने बोला गया मुझे ज़ोर से पेशाब लगी थी तो मैं अपने दोस्तो से बोला- तुम लोग प्लेट्स लो, मैं आता हूँ. मेरे पास टयूशन में पढ़ते हुए आरती को एक महीना हो चुका था इसलिए वो मुझसे काफ़ी घुल-मिल गई. ऋतु ने जल्दी से अपना गाउन खोला, हमेशा की तरह आज भी वो अन्दर से पूरी तरह से नंगी थी, उसके भरे हुए मम्मे और तने हुए निप्पल देखकर मेरे लंड ने एक-दो झटके मारे और मैंने नोट किया कि आज उसकी चूत एकदम साफ़ और चिकनी थी.

जब भी सैर करते वक्त मैं उसके पीछे चलता था तो अक्सर मेरा लंड खड़ा हो जाता था और मैं सोचता था कि उससे किसी तरह बात शुरू करूँ और उसकी चूत मारने को मिल जाए तो जिंदगी सफल हो जाए. ”मेरी आँखों में आँखें डाल के कहिये कि आप मुझसे प्यार नहीं करती, आप मेरे साथ ख़ुशी के दो चार पल बांटना नहीं चाहती?” मैंने फ़िल्मी स्टाइल में डायलोग बोल दिया. मेरी चूत में तो पहले से ही दो लड़के का वीर्य था, उसने वैसा ही किया, लंड निकल कर मेरी चूत में घुसा दिया और चोदने लगा और 5-7 मिनट बाद मेरी चूत में वीर्य की बाढ़ आ गयी, वीर्य निकल रहा था और वो मुझे गालियों के साथ चोदे जा रहा था, उसने अपने लंड की एक एक बूंद वीर्य मेरी चुत में समाहित कर दिया और मेरे ऊपर ही निढाल होकर सो गया.

जिसे देख कर गोपाल की वासना चरम पे पहुँच गई क्योंकि यही एक उसकी कमज़ोरी थी कि उसके सामने एक कच्ची कली बिना कपड़ों के आ जाए.

यदि एक बार थोड़ा सा पीछे चलकर देख लो ताकि अच्छे से कहानी समझ आ जाएगी. चाची एकदम से उठ कर बैठ गईं और एक हाथ मेरे मुँह पे लगा लिया और दूसरे से मेरा लौड़ा पकड़ लिया.

और तू अपनी कामवाली को तो जानती ही है कितनी मक्कार है काम करने में, उसके सिर पर खड़े होकर काम करवाओ तभी करती है; अगर मैं तेरे पास आ गई तो समझ लो घर का क्या हाल करेगी वो और सबसे बड़ी बात तू तो जानती हीहै मेरे घुटने का दर्द; स्टेशन की भीड़ भाड़ में पुल चढ़ना उतरना मेरे बस का अब नहीं रह गया. मैं- अगर मैंने दवाई खाई हो, तो तुम्हारी चूत को कोई ऐतराज़ होगा क्या?इस पर भाभी ने हंस कर कहा- अरे नहीं ऐतराज़ कैसा … बल्कि मैं तो खुद दवाई खाकर आई हूँ … ताकि आज रात का पूरा मजा ले सकूं. जब देखा पूजा गहरी नींद में सो रही है तो मैं धीरे से उठा और उसके शरीर को देखने लगा, उस समय उसने मेरी बहन का लोवर और टी शर्ट पहन रखा था जिससे उसके उभार साफ दिखाई पड़ रहे थे.

रात के दस बज चुके थे, मैं मामा जी से बोली- उठिए जल्दी, आपको भी भूख लग गयी होगी, मुझे भी लग रही है. मैं उसको बोलूंगी कि मेरा भाई रोज इसी समय बजे अपने रूम में मुठ मारता है और मैं इस छेद से रोज उसको देखती हूँ. पांच मिनट बाद मैंने उसके मुख से हाथ हटाया तो वो मुझे गाली देती हुई कहने लगी- तुम बहुत गंदे हो!मैंने प्यार से उसके मुखड़े को सहलाया, फिर समझाया- पहली बार में सभी को यह तकलीफ होटी है.

2028 का बीएफ वैसे भी मेरे बेटे और बेटी का कमरा ऊपर है इसलिए कभी कभार एमर्जेन्सी में वो मेरा बाथरूम यूज कर लिया करते थे. राहुल जितना पैसे वाला था, उतना ही साधारण जिन्दगी जीने वाला!आप सबको मेरी इंडियन सेक्स स्टोरी कैसी लगी मुझे मेल कीजियेगा.

शादी की कानूनी उम्र 2020

मगर दीदी इन्होंने कपड़े क्यों निकाले हुए थे?टीना- वो इलाज ऐसे ही होता है, अब तू सवाल करना बंद कर. फिर मैंने उनकी ब्रा भी खोल दी और उसके दोनों बूब्स को जोर जोर से दबाने लगा, वो चीखने लगी, वो भी मजे ले रही थी. जैसे मक्खन में गर्म छुरी घुस जाती है वैसे उसका लंड जड़ तक मेरी गांड में घुस गया.

गर्लफ्रेंड की अदला बदली करके चुदाई की तमन्ना-1मेरी हिन्दी सेक्सी स्टोरी के पिछले भाग में आपने पढ़ा था कि मेघा का मन मेरे सामने किसी और लंड से चुदने का था तो हम लोग एक डिस्को में गए थे. मेरी ऐसी हालत देखकर वह मन ही मन मुस्कराती थी, उसके चेहरे पर नई चमक उभर आती थी. सेक्सी विडियो हिंदी में देहातीअसल में वो दोनों प्यार करने लगे थे मगर अपनी माँ के लिए अनिता ने प्यार को कुर्बान कर दिया.

वो जब खाने की टेबल पर जॉय के सामने बैठी तो उसके झुकने से उसके खरबूजे आधे से ज़्यादा बाहर निकल आए.

वो ढीली हो गई थी, मैं उसे जोर-जोर से चोदने लगा और कुछ मिनट बाद मैं उसकी चुत में झड़ने को हो गया. फिर मैं किचन में पानी पीने गया और जब वापस आया तो आरती ब्लू फिल्म देख कर मस्त हो चुकी थी और वो अपनी चूचियों को दबा रही थी.

अन्तर्वासना के पाठकों को रिशू का कामुकता से भरा नमस्कार, मैं सभी पाठकों को धन्यवाद देती हूँ जिन्होंने मेरी पहली कहानीसेक्सी कहानी मेरी चुत की पहली अधूरी चुदाई कीको पढ़ा और बहुत ही चुदास से भरी ईमेल भी कीं. सुमन बिना कुछ बोले अन्दर आ गई और जिस कमरे में चुदाई होनी थी, टीना ने सुमन को वहीं एक अलमारी के पीछे छुपने को कह दिया. कुछ ही देर में मुझे एहसास हुआ कि मेरी चूत के अन्दर गुदगुदाते हुए कुछ तो गर्म सा निकल रहा है, उस वक़्त कुछ अलग सा आनन्द मिलने लगा था.

हमारी फोन पर देर रात तक बातें होने लगीं जो कि धीरे-धीरे सेक्स तक पहुँच गई.

मैंने मानो उसके दिल की बात कह दी हो, वह जल्दी से बिस्तर पर बैठी और बोली- आ जा तो कर ले किस. फिर मैं उसके घर चला गया, वहाँ पर हमने बहुत सारी बातें की, वो फिर से मुझे प्यार से देखने लगी तो मैंने फिर बोला- ऐसे मत देखो!तो बोली- तुम पागल हो!मैंने कहा- क्यों?तो बोली- कुछ नहीं समझते हो!मैंने बोला- क्या?तो बोली- कुछ नहीं. कोई भी उसे देखकर उसको प्रपोज़ करके चोदने की ज़रूर सोचेगा क्योंकि वो एक मस्त माल है.

सेक्सी विडियो हीनदी‘और ऊपर से हम भी तो हैं आपकी मदद के लिए हर वक़्त तैयार, अपना हथियार हाथ में लिए हुए… आप जब चाहें हमें अपनी खातिरदारी के लिए बुला सकती हैं, आपको पेल कर हमें कितनी ख़ुशी मिलेंगी हम आपको बता नहीं सकते. दोस्तों अब विदा लेती हूँ, आगे की गांड मराने की कहानी अगले भाग में लिखूँगी.

wwwwwwww xx vidéos2021

जल्दी ही मेरी और भी सेक्स स्टोरी आपके सामने आने वाली हैं तो मेरी इस सेक्स स्टोरी एन्जॉय कीजिएगा. ‘इन्हीं होठों ने मेरे लंड को न जाने कितनी बार चूसा है, चूमा है मैंने मन ही मन सोचा. बस फिर क्या था… वो समय आ चुका था, जिसका मुझे बहुत दिनों से इंतजार था.

बहुत तड़पाया हैं आपने, कितने दिनों से मैं सोच रहा था कि सासू माँ को कैसे चोदा जाए. इतनी देर शर्माने वाली पूजा मेरी जुबान को अपनी जुबान से चूस कर मेरा साथ देने लगी. अब वो अपनी सग़ी बेटी, सौतेली बेटी और भांजी की नज़रों में गिर गए थे.

मैंने भी वैसे ही किया, उसे अपनी बांहों में उठाया और बिस्तर पर लेटा दिया. मैंने कहा- तुम तो क्या जान … तुम्हारा पूरा खानदान दवा खाकर आ जाए, मैं सब पर भारी पडूंगा. मैं अपनी चुत की गहराई में पापा के लंड का गर्म गर्म पानी महसूस कर रही थी.

लेकिन मैंने उसकी परवाह ना करते हुए एक और ज़ोर का धक्का दिया और पूरा का पूरा लंड उसकी चूत में डाल दिया. फिर दीपक ने मुझे अपने घर पर जो मेरे होटल से थोड़ी सी ही दूर था, खाने पर बुलाया.

इसके जवाब में वो बोले- जी, मुझे कोई आपत्ति नहीं होगी, आप जैसा चाहे वैसा भोजन बनायें, मैं खुद भी तो बनाता हूँ अपने घर में.

मेरी बात सुन कर स्मृति मुस्काई और कमरे में चली गई तो मेरी जान में जान आई, मैं वापिस ऊपर वाले कमरे में पहुँच गया. हिंदी सेक्सी वीडियो comबस मौका मिलना चाहिए फिर नहीं देखते कि सामने कौन की चुत है।संजय- क्या बात कर रही है साली पूरा लंड ले सकती है. लड़कों की सेक्सी पिक्चरमेरे दिल की धड़कन बहुत तेज़ी से चल रही थी पर मुझे पता था कि अगर मलाई खानी है तो मुझे थोड़ा संयम बनाये रखना होगा. उन दिनों, मैं चंडीगढ़ की एक सोसाइटी में रहता था तथा एक एमएनसी में एग्जीक्यूटिव की पोस्ट पर था.

देखते ही देखते अपनी मर्दानी चाल से वह हमारे वार्ड तक पहुँच कर रुक गया और फाइल में कुछ देखकर गेट खोलकर अंदर घुस गया.

जैसा कि आप सभी को पता है कि मैं घर पर ज्यादा समय नंगी ही रहती हूँ या कभी कभी ब्रा और पैंटी में ही रहती हूँ. मैं इससे आज बहुत खेलूँगी।ये कह कर उन्होंने मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया और चाटने लगीं।बहुत अच्छा फील होता है, जब एक औरत आपके लंड को मुँह में लेके अन्दर-बाहर करे, उसे चाटे। उसमें आपके सिसकारियां कम निकलती हैं और गुदगुदी ज्यादा होती है, पर अच्छा लगता है।भाभी वैसे ही मेरे लंड को चूसती रहीं। दस मिनट तक लंड चूसने के बाद भाभी बोलीं- मैं अब तुम्हारे ऊपर आ रही हूँ. पिंकी तो ऐसे ही कह दिया अब सुबह सुबह चूत शब्द बोलना अच्छा भी तो नहीं लगता न!” मैंने कहा.

उनके बीच वो मर्यादा का परदा अभी भी था और टीना को तो सुमन ने अभी तक कुछ बताया भी नहीं था. ऐसी चुदाई मैंने पॉर्न स्टार की देखी थी, मैंने कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि मैं कभी ऐसे चुदूँगी. आरती के जाने के बाद उसकी चुचियों को याद करके उस दिन मैंने 4 बार मुठ मारी और फिर सो गया.

सेक्स सेक्स डॉट कॉम वीडियो

यह सब देखकर मुझे भी थोड़ी हिम्मत आई और मेरी जान को सुकून आया कि मुश्किल से ही सही लेकिन लंड मिलने की उम्मीद तो जागी. सुमन- ये आप क्या बोल रही हो ऐसा कैसे मुमकिन है दीदी?टीना- अरे मैं बातों के दौरान संजय को ब्लाइंड सेक्स के लिए राज़ी कर लूँगी. उसकी रफ्तार बहुत धीमी थी, मगर हर बार ऐसा लगता था, जैसे वो मेरे लंड को अंदर तो एकदम आराम से लेती है, मगर बाहर निकालते वक़्त जैसे अपनी चूत को टाइट कर लेती है.

मैंने वापस अपने कमरे में आकर अपने कंप्यूटर पर कुछ पोर्न साइट्स खोलीं और तभी मुझे अन्तर्वासना सेक्स स्टोरीज.

गोपाल ने चादर हटा दी और लंड पे हाथ घुमा कर कहा- ठीक है बिना चादर के कर दे.

मैं उसको सांत्वना देते हुए बोला- किसी भी हाल में अपनी दोस्ती यूँ ही बनी रहेगी जैसी है, पर शायद मैं ही कुछ ज्यादा उम्मीद लगा बैठा. मैंने कहा- अब मेरा लंड खड़ा हो चुका है और तेरी चूत तो मार कर रहूँगा. आदिवासी सेक्सी वीडियो चुदाई कीमैं- वाह, मैं तो तुम्हारी अक्ल का कायल हो गया… तुम तो मुझसे भी दो कदम आगे हो.

तभी मेरी नजर खिड़की के बाहर गई जहाँ एक लड़की खड़ी थी और वो मेरे खड़े लंड को देख रही थी. मैं अपना परिचय एक बार फिर से दे देती हूँ ताकि नए पाठकों को भी पढ़ने में मजा आए. उसकी दाईं टाँग बिल्कुल सीधी मेरी बाईं टाँग से चिपकी हुई थी तथा उसकी बाईं टाँग मुड़ी हुई थी और उसका घुटना मेरी दोनों टांगों के बीच में था.

अगले दिन जब वो स्कूल से घर आई तो मैं पहले से उसका इंतजार कर रहा था. निकाह की पहली रात ही मैं समझ गई थी कि मेरा शौहर मुझे चुदाई का पूरा सुख नहीं दे सकता है.

अब आगे पढ़ें वर्जिन चुत की कहानी:दोस्तो, उम्मीद है कि इस ग्रुप सेक्स में आपको मज़ा आया होगा.

मैंने अपनी एक उंगली सुलेखा की गांड में कर दी, सुलेखा चुदाई के मज़े से सिसकार रही थी और बोले जा रही थी- उफ़ उई आह आह चोद चोद साले चोद. मेच्योर औरत और जवान लड़कों की क्लिप्स… मैं समझ गया कि जीजाजी के मन में क्या है. उसके बाद आपने मेरी चौथी कहानीकॉलब्वॉय के साथ अमेरिका में सुहागरात के मजेमें आप लोगों ने पढ़ा था कि कैसे मैंने अपने कॉलब्वॉय को दस दिन के लिए अमेरिका ले जाकर उसके सुहागरात और हनीमून के मजे लिए और उसके लंड से दस दिन तक लगातार चुदाई के मजे लिए थे.

म्यूजिक वाला सेक्सी वीडियो मैंने नीचे होकर मैंने उसकी जीन्स का बटन खोला, ज़िप नीचे की और उसकी चुत की महक को फील किया. मैं भी उल्टा मुड़ कर मामा के लंड पर बैठ गई, मुझे भी अच्छा लग रहा था.

तिवारी को भौंचक्का सा देख विभूति से रहा न गया और उसने भी कारण पूछ ही लिया. दूसरे दिन रिसेप्शन का प्रोग्राम था, सारा काम मॅनेजमेंट वालों के पास था तो मेरे लिए करने को कुछ नहीं था, बस थोड़ी बहुत अरेंज्मेंट चेक करनी थी तो मैं एक राउंड लॉन का लेकर आया और आराम करने के इरादे से घर आ गया. तो मैं थोड़ा मोटा बैंगन ले आई और उसे चुत में डालने की कोशिश करने लगी.

राजस्थान जोधपुर सेक्सी वीडियो

2 मिनट तक उसने चूसा, फिर मुझसे रहा नहीं गया तो मैं उसके सर को पकड़कर अपने लंड को धीरे धीरे उसके मुँह में धकेलने लगा और कुछ देर के बाद मेरा माल उसके मुँह के अंदर निकलने लगा और उसने भी बड़े मज़े से सारा माल पी लिया. यह दो महीने पहले की बात है, जब कॉलेज की छुट्टियाँ थीं, तब मेरे घर के पास एक फैमिली ने मकान खरीदा था. वो बात जाने दो उसके बाद होश संभालने के बाद भी तो कुछ किया होगा?फ्लॉरा- हाँ यार, पहले तो पता नहीं था मगर बाद में तो तुम जानती ही हो मज़ा आने लगता है।टीना- हाँ यार, ऐसा मज़ा आता है कि सब मज़े उसके सामने फीके होते हैं।फ्लॉरा- मज़ा तो मैंने भी बहुत किया मगर एक साल से ये सब बंद हो गया।टीना- क्यों यार क्या हुआ कि पूरा एक साल निकाल दिया.

सामने एक परी खड़ी थी रेड कलर की साड़ी और बैकलैस ब्लाउस पहने हुई राज की बीवी मुस्कुरा रही थी. हम 69 की पोज़िशन में आ गये, वो मेरा लंड चूस रही थी और मैं उसकी चूत.

अभी तक आपने मेरी इंडियन गे सेक्स स्टोरीज में पढ़ा कि मैं मां के साथ सोनीपत वाली बस में अपने घर बहादुरगढ़ जा रहा था और उसी में साथ वाली सीट पर एक लड़का-लड़की जिनको देखकर लग रहा था कि नई-नई शादी हुई है, रंगरेलियाँ मनाते हुए आ रहे थे, लड़का चलती बस में अपना लंड लड़की को चुसा चुका था और बस खरखौदा बस स्टैंड पर कुछ देर के लिए रूकी थी.

आज हम एक खेल खेलेंगे, तुम बस अंधे बने रहो और हम ऐसे ही मज़ा करेंगे. तभी मैं चौंका, मुझे खिड़की के बाहर कोई साया हिलता महसूस हुआ… कहीं कोई चोर तो नहीं?मेरा खून सूखने लगा. अब गुलशन जी भी अपने चरम पे थे, किसी भी पल उनका लावा भी फूटने वाला था.

इस पर वो हल्का सा मुस्कराई और खुद ही मेरे कपड़े उतारने के लिए मेरे करीब आते हुए जुट गई. मेरे शौहर का लंड 4 इंच का था पर अब 6 इंच का लंड मेरी चुत में घुसा तो मुझे दर्द होने लगा था. आआआआअ… मेरा होने वाला है!” मेघा तड़पने लगी और उस की चूत ने पानी छोड़ दिया.

दोस्तो, मैं पहली बार चोदन की कहानी लिखते-लिखते इतनी चुदास सी महसूस करने लगी कि मुझे बर्दाश्त नहीं हुआ और मैं पड़ोस के अपने से 4 साल छोटे लड़के से चुदवा बैठी, जिसकी कहानी मैं बाद में कभी लिखूँगी.

2028 का बीएफ: मेरे प्रिय पाठको, आप सबका धन्यवाद जो आपको मेरी पिछली हिन्दी सेक्स स्टोरीजमेरी बीवी की सहेली के साथ डर्टी सेक्सऔरबस के सफर में मिली कामुकता भरी एक अनजान भाभीअच्छी लगी. तब मैंने उससे कहा कि मैं जैसा कहूँ, तू वैसा ही करेगा तो मैं तेरे अब्बू को कुछ नहीं बोलूँगी.

अब डिनर करके जाओगे क्या?चलो थोड़ा सुमन के होम सेक्स को भी देख लो, आज उसकी सील टूटने वाली है तो उसने क्या किया है. माँ की चूचियाँ सीमा और चाची की चूचियों की अपेक्षा ज्यादा बड़ी और मुलायम थीं. सुमन आगे कुछ बोलती तब तक गुलशन जी ने उसके मम्मों को अच्छे से दबा दिया और उसके निप्पलों को भी मरोड़ दिया.

वो मेरे लंड को साफ़ करती हुई बोली- मेरी तो अपने ली ही नहीं!मैं हैरानी से बोला- तो यह क्या था?वो आँख मार कर बोली- मैं फोटो की बात कर रही हूँ.

फिर मैंने उनकी ब्रा भी खोल दी और उसके दोनों बूब्स को जोर जोर से दबाने लगा, वो चीखने लगी, वो भी मजे ले रही थी. तभी जो मेरे मुँह को चोद रहा था, उसने मेरे मुख में ही अपना वीर्य छोड़ दिया और मुझे एक एक बूंद पीना पड़ा. उसकी सॉफ्ट गांड मेरे लंड को टच करने लगी तो मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया.