गाना पर की बीएफ

छवि स्रोत,बीएफ वीडियो सेक्सी वीडियो चुदाई

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्स सेक्सी वीडियो मूवी: गाना पर की बीएफ, रोहन सो रहा था तो उसने दरवाज़ा खोलने में जरा देर कर दी। रोहन के दरवाज़ा खोलते ही मैं कमरे के अंदर आई, तब तक रोहन भी वापिस बिस्तर पर लेट गया.

छोटे बच्चन की बीएफ

लेकिन हो सकता है आपके साथ अकेले कमरे में होने से मैं अपने आपको रोक नहीं पाऊँगा. न्यू बीएफ हिंदी वीडियोएक उंगली को उसकी चूत में अन्दर-बाहर करने लगा और एक हाथ से उसके मम्मों को दबाने लगा।करीब दस मिनट तक ऐसा लगातार बिना रुके करता रहा।‘ओह ओह.

मैं मदहोश हो रहा था।चाची मेरे लण्ड का सुपाड़ा मुँह में लेकर ऊपर से जीभ फेरने लगीं।चाची का चूसना इतना क़यामत था कि मैं तो सातवें आसामान पर जा चुका था।चाची जोर-जोर से लवड़ा चूसने लगीं और मैं ‘आअह. घोड़ा लेडीस के बीएफ वीडियोएक तो अँधेरा और ट्रेन की आवाज़ से अब सब आसान हो गया था।फिर उसके मुँह से ‘आअहह.

मैं बोला- पहले अन्दर वाले कमरे में चल … उधर ही तेरी बिल्ली की चैकिंग करता हूं.गाना पर की बीएफ: चाचा ऐसे समय पर मुझे छोड़ कर हटे कि मैं अपनी चूत को ढक भी नहीं पाई थी कि जेठ जी मेरे पास आ गए।मैंने चारों तरफ निगाह दौड़ाई पर चाचा अंधेरे की वजह से कहीं नजर नहीं आ रहे थे।जेठ मेरे करीब आकर मुझे इस हाल में देख कर कुछ कहने ही जा रहे थे कि मैं जेठ को खींच कर उनके होंठों को किस करने लगी।मैं यह सब मैंने जानबूझ किया क्योंकि मैं ऐसा नहीं करती और जेठ बोल पड़ते तो चाचा को शक हो जाता.

मेरा लंड तो मेरी जॉकी में ही नहीं समा पा रहा था और लगभग आधा बाहर निकल आया था। मौके का फायदा उठा कर रोज़ी ने मेरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और धीरे-धीरे अपनी जीभ लण्ड पर घुमाने लगी।मैं भी बिल्कुल पागल सा होने लगा। आग दोनों तरफ लगी हुई थी और लगता था कि वो काफ़ी दिनों के चुदासी है।मैंने भी उसके लोवर और पैन्टी को उतार फेंका.उसकी चूत भी गीली हुई पड़ी थी और मेरे लंड को उसकी गर्मी पूरी तरह से महसूस हो रही थी.

कर्नाटक के बीएफ - गाना पर की बीएफ

जिससे उसे भी मज़ा आने लगा।मैंने लंड पर भी अच्छे से तेल लगाया और कोमल की गांड पर रख दिया और ज़ोर लगाया.भाभी ब्रश करते हुए कुछ सोच रही थीं, बीच में अपनी चुत को फैला कर कुछ चैक कर रही थीं.

मैंने पीछे से लंड एक ही झटके से चूत में डाल दिया। कोमल की दर्द के मारे चीख निकल गई और वो ‘आआह्ह. गाना पर की बीएफ तभी अंकल बोले- थोड़ा और चौड़ा करो और अपने जीभ को बाहर निकाल कर लटका कर आँखें बंद कर लो.

पर ग़लती से हुआ समझ कर जाने देती थी।वो रोज़ रात को खाना खाने के बाद छत पर घूमती थी.

गाना पर की बीएफ?

मेरी आवाज लगाते ही पत्नी तुरंत कमरे में आ गई और वहाँ हम दोनों जीजू साली को पूरी नंगी हालत में देख कर मेरी पत्नी ने कहा- ओ माय गॉड …कहानी जारी रहेगी. अगली कहानी में आपको बताऊँगा कि मैंने स्नेहा को कैसे अपनी गुलाम बनाया. उसने कहा- अगर तुम्हें कभी ठंडा पानी या कुछ और चाहिए हुआ करे तो तुम मेरे घर से ले लिया करो.

उसने दरवाज़ा खुला छोड़ा हुआ था।मैं बाथरूम की दहलीज से अंदर झांका तो वो नंगे बदन और नंगे पाव नीचे फर्श पर केवल फ्रेंची पहन कर बैठा हुआ था। उसके सामने बेडशीट थी जिसपर वो पानी डाले जा रहा था और पानी डालते ही बेडशीट से लाल रंग का पानी बाहर निकल रहा था. मेरी जिंदगी कीपहली बार सेक्सकी कहानी है यह … यह कहानी मेरी और मेरे चाचा की बेटी की है. मगर हां उसकी एक बात मैंने जरूर ध्यान की थी, उसने अब वो पतली सी चैन पहनना बन्द कर दिया था.

मूतकर मैं वापस आया और नंगी स्वाति को देखकर मेरा लौड़ा फिर खड़ा होने लगा। उस पर दवाई का असर अभी भी कुछ घंटे तक रहना था। मैं फिर स्वाति के ऊपर चढ़ गया। मैंने फिर से उसकी चूत पर अपना लौड़ा लगाया और उसकी चुदाई शुरू कर दी।इस बार मैंने स्वाति को जमकर चोदा और फिर से अपना माल उसके अन्दर ही छोड़ दिया। स्वाति जैसी परी को छोड़ने का मन ही नहीं कर रहा था। मैं बाथरूम से तौलिया लाया और स्वाति की चूत साफ करने लगा. मैं इस कहानी में कुछ जगहों के नाम और मेरी भतीजी का नाम बदल रहा हूँ क्योंकि अब उसकी शादी हो गयी है. वहां जाकर मैंने देखा कि प्रिया अभी थोड़ा बिजी है, तो मैं टेंट से बाहर निकला और कैमिस्ट की दुकान पर जा कर सेक्स ज्यादा देर तक करने के लिए एक गोली ले ली.

शीतल ने उसको कुछ नहीं बोला तो उसका हौंसला बढ़ गया और वो फिर बड़े आराम से अपनी माँ की गांड में साबुन लगाने के बहाने उसको जोर-जोर से मसलने लगा. मैं आज आप सबको अपनी एक रियल सेक्स कहानी सुनाने वाला हूँ, जो मेरे साथ हुआ.

बस 5 मिनट हुए ही होंगे कि उसकी गांड आगे-पीछे होने लगी, मैं समझ गया कि अब मामला ठीक हो गया है।फिर मैं चूचों को चूसता ही रहा.

पर वो वहीं अपनी पजामा और पैन्टी खोल कर मेरे सामने ही बैठ गई और पेशाब करने लग गई।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने कहा- आवाज मत कर.

कुछ ही देर में मेरा लंड फिर से फिर से टाइट हो गया और अब तक प्रिया भी पूरी तरह से गर्म हो चुकी थी. मैं अपने दोनों हाथों से उसके दोनों मम्मों को ब्रा के ऊपर से ही दबाने लगा और फ़िर उसके निप्पल को ब्रा के ऊपर से ही चूसने लगा।उसके मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थीं. तो मैंने कहा- तो तुम खुद ही अपने हाथों से मुझे कंडोम पहना दो!उसने मुझे कंडोम पहनाया और अपनी चुत पर मेरे लंड को रख दिया।मैंने भी उसके स्तनों को दबाते हुए उसको चूमना शुरू कर दिया और अपने लंड को उसकी चुत पर लगातार रगड़ता रहा.

यह सब कुछ किस किस ने किया और कैसे कैसे किया आप जान सकते हैं, मैं सब बता भी सकती हूं. मैंने और मेरे देवर ने एक दूसरे को किस किया और उसके बाद अपने अपनी साड़ी पहन कर घर का काम करने लगी. नीचे चूत चुद रही थी और आगे से मेरे मम्मे चुस रहे थे, मेरी जवानी मेरे सर चढ़ कर बोल रही थी।मैंने भी अपनी जवानी का खूब मज़ा लूटा।दीप्ति ने भी मुझे मस्त कर रखा था और सुनील नीचे से जोरदार धक्के लगा रहा था, उसका पूरा लंड मेरी चूत में पिला हुआ था और हर बार उसका लंड मेरी बच्चेदानी को टच करके वापिस आता था।मेरे मुँह से सिसकारियाँ निकल रही थीं, सुनील मुझ पर गालियों की बरसात कर रहा था और कह रहा था- उन्ह.

तो मेरी नजर उनकी हरकतों पर पड़ी और उस दिन मेरे मन में कोमल के प्रति सेक्स करने की इच्छा करने लगी.

अब मुझसे चुपचाप नहीं रहा जा रहा था, मैं समझ नहीं पा रही थी कि मैं क्या करूं … मेरा पूरा जिस्म टूटने लगा और मैं कसमसाने लगी. उसने मुझे मुठ्ठ मारते हुए देख लिया।मैं बहुत डर गया और जल्दी से बाथरूम में भाग गया। भाभी ज़ोर से हँसने लगी और कहने लगी- मैं तो तुझे ये पूछने आई थी कि मैंने चाय बनाई है अगर तुमको पीनी है. उसके इतना कहने की देर थी कि मैंने सोनी के होंठों पर होंठों रख कर 5 मिनट तक चूसा.

मेरे लिए यही गिफ्ट है। आओ अब सब मिल कर पार्टी करते हैं और आपको एक सरप्राइज़ भी देती हूँ।उसने ये कहते हुए संजय और मेरा हाथ पकड़ा और हम दोनों उसके आजू-बाजू होकर उसके बेडरूम की तरफ जाने लगे। बेडरूम का डोर जैसे ही उसने खोला. जब आप लोगों के ईमेल मुझे मिलेंगे। अपने ईमेल भेज कर मेरा उत्साह बढ़ाइएगा. मैंने वी पहले उसकी मोटी जाँघों को सहलाया और फिर अपना हाथ उसकी फुद्दी पर ले गया.

मैं अब अपने बॉयफ्रेंड से चुदवा नहीं पाती थी और हम दोनों लोग ऐसे ही ब्रेकअप हो गया और वो किसी दूसरी लड़की के साथ सम्बन्ध में आ गया.

कुछ देर बाद लौड़ा ‘पक-पक’ की आवाज़ के साथ स्पीड से अन्दर बाहर होने लगा।अब मुझे भी दर्द कम महसूस हो रहा था, मेरी चूत टपकना शुरू हो गई थी, मैं जोश में आ गई- आ आह्ह. ’पर वह मेरी बात सुन ही नहीं रहा था। मुझे वहीं बाँहों में कस कर मेरे होंठ चूसने लगा.

गाना पर की बीएफ अगर कोई आदमी ज़रूरत से ज़्यादा परेशानी और उत्पीड़न सह रहा हो और उसके बाद भी अपनी चाहत पूरी ना कर पा रहा हो. जैसे कुछ अलग से लगा हो। यह तो मेरी बुर में जाकर फंस जाएगा और खूब चुदाई होगी। मैं उस अजनबी की बाँहों को पाकर.

गाना पर की बीएफ मैं और मेरी चाची दोनों छत पर सोते थे। मैं कभी चाची के बारे में ग़लत नहीं सोचता था. कॉलेज मत जाना।मैंने उससे ‘हाँ’ बोल दिया… इस बात से बेख़बर कि जिस को में संतरे का जूस समझ रहा हूँ.

साथ ही दूसरे हाथ से मसाज के स्टाईल में सख्ती से उसके नर्म और फैले हुए वक्ष दबाने लगा।इसी अवस्था में धीरे-धीरे धक्के लगाने लगा।दूसरी बार इस आसन में चुद रही हूँ।” बीच में उसने भारी सांसों के साथ कहा।अच्छा लग रहा है?”बहुत ज्यादा। जोर जोर से धक्के लगाओ जानेमन.

एचडी बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ बीएफ

वो मेरी बाँहों में थी और मैं उसको किस कर रहा था। उसके बदन की सिहरन मैं महसूस कर रहा था. प्रिया के इतनी जोरों से मेरे होंठों को चूसने और काटने पर मुझे दर्द होने लगा था. अब राजीव अंकल पूरी ताकत से जोर जोर से मेरी गांड में अपना लंड पूरा डाल कर जमकर चोदने लगे और मुझे बहुत गालियां देने लगे.

तो झट से पानी छोड़ देती हैं।दूसरी सांवली औरतें जो चुदने में बहुत सारा नखरा दिखाती हैं। लेकिन जब भी चुदती हैं तो आदमी को पानी पिला देती हैं।तीसरा प्रकार होता है काली औरतों का. सच में उन लोगों ने मेरा बहुत ख्याल रखा और जब मैं वहाँ से आई थी तो मेरे अकाउंट में पैसे भी काफी डाल दिए थे. फिर ज्योति बोली- तो रवि, इतना मोटा अन्दर जाएगा कैसे?मैं बोला- जैसे तुम्हारी उंगली जाती है.

कमरे तक पहुँचते पहुँचते पूजा बुरी तरफ से भीग गयी और उसकी गोल गोल चूचियां भीगे टॉप के ऊपर से ही साफ साफ दिखने लगीं.

उसके बाद किस करके और फिर से मिलने का वादा करे चली गई।दोस्तो, मेरी इस सच्ची कहानी पर आपके कमेंट्स का इन्तजार कर रहा हूँ।[emailprotected]. अगले दिन मैंने प्लान बनाया और उसका इंतजार करने लगा कि कब वो बाहर आए. सच में यह मेरा पहला अनुभव था कि ज़्यादा चिल्लाने से चुदाई में ज़्यादा मज़ा आता है.

मैंने उससे पूछा- तुम्हें अच्छा लगा था या नहीं?पायल- एक बार पूरा दिखाओ, फिर बताऊँगी. मैंने उसे अपने गोद में उठाया और खड़े होकर अपने तने हुए लौड़े को उसकी चूत में पेल दिया. भाई ने मंगलसूत्र मेरे गले में डाल दिया और मुझे अपनी बाँहों में भर लिया, मैंने उनके पैर छुए.

मैं बहुत जोश में आ गया था। मैंने उसे लिटाया और उसके ऊपर मैं लेट गया। मैं अपना लण्ड उसकी चूत में डालने लगा. मैं और तेज़-तेज़ चाटने लगा और जीभ अन्दर-बाहर करने लगा, सुनयना अपनी चूत मेरे मुँह पर ज़ोर-ज़ोर से मारने लगी- अहह ओह.

मैंने बहन की गांड पर 5-6 झापड़ जड़ दिए और उसको बोला- अब तू रंडी बन गई है. दरवाजा मीता ने ही खोला और मुझे देख वो कातिल लेकिन एक अधूरी प्यास वाली मुस्कान के साथ मुस्कुराई- आओ अंदर!कहकर उसने मुझे अंदर बुलाया और फिर किचन से ट्रे पर एक ग्लास पानी भरकर लाई और मेरे सामने खड़ी हो गयी. मैंने एक झटके में ही अपना लौड़ा उसकी चूत में पेल दिया और दनादन शॉट लगाने लगा.

मुझे जरूर बताना ताकि मैं अपनी कुछ और कहानियां आपके सामने ला सकूँ।आप फेसबुक पर भी मिल सकते हैं।[emailprotected][emailprotected].

नहीं तो तोहार लाड़ला देवर वहाँ से खाना लेकर निकल जाएगा।बिहारी ने एक फ़ोन किया और कहा- एक लड़का खाना लेने आएगा. इसी लिये मैं जानबूझ कर उन तीनों भाई बहन के कमरे चला जाता ताकि अधिक से अधिक प्रिया के पास रह सकूं और हो सकता है प्रिया से अकेले में बात करने का कोई मौका ही मिल‌ जाए. इधर गौरव पशोपेश में था कि आखिर उसकी मम्मी ने घूंघट क्यों नहीं किया और दोनों एक दूसरे को देखकर मुस्कुरा क्यों रहे थे? उसका मन इन्हीं बातों में उलझा हुआ था.

मैंने जब उसे देखा तो मेरा दिल उसकी जवानी को भागने के लिए मचलने लगा. पहल उसने ही की और उसने मुझे खुद से कहा- तुम्हारा नाम सूरज है ना?‘हाँ.

लेकिन मैंने चुपके से फेंक दी।तब तक हम तीनों में बातें होने लगीं। खूसट ने अपनी स्टोरी बताई कि उसकी बीवी नहीं है. इधर मैं भी उसकी फुद्दी को कभी जीभ से अन्दर तक चाटता और कभी उसकी फुद्दी के होंठों को दांतों से काटता. करीब 10 मिनट के बाद मैंने उनके मुँह में अपना पानी छोड़ा और उन्हें पिला दिया। फिर हम नंगे ही नहा कर बाहर आए और मैंने उन्हें बिस्तर पर पटक दिया और कहा- अब तुम्हारी चूत चोदूँगा।वो बोलीं- प्लीज़ चूत में मत डालो.

एचडी सेक्सी ब्लू बीएफ

उसने कहा- भैया मैं अपने कपड़े उतार लूं?मैं खुश हो गया और कहा कि हां बिल्कुल.

फिर वो मेरे ऊपर बैठ गई और मेरा लंड अपनी चूत के छेद पर रखने लगी। मैंने थोड़ा सा ऊपर को झटका मारा।‘अहह. जिस कारण मेरा लण्ड भी हल्का-हल्का नम हो रहा था।उसकी चूचियाँ इतनी नर्म थीं कि रुई भी ज्यादा सख्त हो सकती है।फिर मैंने देखा कि उसकी चूत काफी गर्म हो गई थी, कोमल का शरीर इतना गर्म हो गया था कि पूछो मत. इससे अब कुछ ही देर में मेरा लंड अकड़ कर फूल गया और मेरे सुपाड़े से प्रिया का पूरा मुँह भर गया.

पर उस दिन मैंने उससे अपने दिल की बात कह दी और उसने ‘हाँ’ भी कर दिया।मुझे विश्वास नहीं हो रहा था कि वो मान गई है।फिर क्या था. लंड कई दिनों तक चोदने लायक ही नहीं रहता।इसलिए नए चुदक्कड़ों से ये गुजारिश है कि ऐसी औरतों से संभल कर रहें। वैसे सोनू सांवले रंग की चुदैल है जो मेरे तमाम कयासों से परे. बीएफ देवर भाभी का सेक्सउस दिन के बाद से तो मैं और मेरा देवर हम दोनों का जब भी चुदाई करने के मन करता था और जब भी हम दोनों घर में अकेले रहते थे तो चुदाई करते थे.

पर लंड मोटा था और मेरी गांड का फूल सुकड़ा हुआ था, इसलिए लंड अन्दर जा ही नहीं रहा था. मेरी पत्नी की चूत के लिए। पता नहीं भगवान ने मुझे ऐसा दोहरा क्यों बनाया है।राजेश ने मेरी गाण्ड के छेद की चुम्मी लेते हुए कहा- ताकि मेरे जैसे गाण्ड के दीवानों का काम बन जाए। मैं तो बस अब सिर्फ तुम्हारी गाण्ड मारने के लिए ही अपना लौड़ा यूज करूँगा।मैंने कहा- मैं भी अब बस तुमसे ही अपनी गाण्ड मरवाऊँगी.

मानो मेरे अन्दर करंट सा लग गया।लेकिन मैंने चाची को अच्छी तरह रंग लगाया।फिर चाची ने मुझे रंग लगाया. तो चाची भी अपनी घर की छत पर कपड़े लेने के लिए आई थीं।तब उन्होंने मुस्कुराते हुए बोला- और. अब मेरी दोनों तरफ से चुदाई हो रही थी … मुँह से भी और चूत से भी … इसी तरह दादा पोता ने मिलकर मेरी चूत को करीब 4 घंटे तक चोदा.

और कान में मीठी आवाज पड़ने से पहले लण्ड को भनक हो जाती है कि कोई मस्त माल बाहर तेरा इन्तजार कर रहा है।वैसा ही मेरे लण्ड के साथ भी हुआ. मेरे मुँह से सिसकारियां भी निकल रही थीं- आह … इहह … ओहह … ओहह… आहह हह इहह्ह… सीसी… सी सी सी… अंकल!मैंने अंकल की उंगली को पकड़ कर चुत पर लगा दिया. वह मेरी कराह देख कर काफी देर तक चूत में लण्ड डाले पड़ा रहा।मुझे ही कहना पड़ा- चोदो ना.

और मैं भी उसके पीछे से उसके गले को चूमने लगा और पीछे से ही होंठों को चूसने लगा।उसके ब्लाउज और ब्रा खोल कर उसके मदमस्त मम्मों को देख कर तो मेरा बुरा हाल हुए जा रहा था, उसके मोटे-मोटे मम्मों और ब्राउन निप्पलों देख कर मैं खुद को रोक नहीं पाया और मम्मों को मसल-मसल कर निप्पलों को चूसने लगा।वो बस सिसकारियाँ लिए जा रही थी और मुझे कस कर पकड़ कर बोल रही थी- प्लीज़ खा जाओ इनको.

संतोष आणि निलिमा या सर्व प्रकाराकडे पाहत होते, उद्या सूरु होणारा कार्यक्रम आजच सुरु झाला होता. पर मैंने आपसे यह बात छिपा ली लेकिन नायर यह जान चुका था कि मैं आपसे चुदती हूँ और वह मुझे बोला कि नेहा मैं आपके राज को राज रख सकता हूँ.

मैं चाहती तो हूँ कि तुम्हें यही दे दूं मगर इसके बिना मेरा काम नहीं चलेगा इसलिए तुमको अगले एक हफ्ते में तुम्हारे अपने घर पर ही गिफ्ट मिल जाएगा. डाल दो ना…’शायद मेरी फरियाद सुन कर चाचा को मेरे ऊपर दया आ गई। मेरी फड़कती चूत को देखकर चाचा ने मेरी बुर में अपना लण्ड घुसाने के लिए मेरी चूत के मुहाने पे लण्ड लगा कर. इसलिए मैंने खुद ही अपने चूतड़ों को थोड़ा ऊपर उठा कर अपनी चूत को दादा जी लंड के ऊपर सैट किया और फिर धीरे धीरे उनके लंड पर अपना वजन डाल कर बैठने लगी.

इससे वो फिर गर्म हो गई और मेरे लंड पकड़ कर अपनी फुद्दी पे रगड़ते हुए कहने लगी- अब और मत तड़पाओ. मैंने प्रीति आंटी को दीवार के सहारे खड़ा किया और उनकी चूत में खड़े-खड़े ही लंड डाल दिया. जैसे कुछ अलग से लगा हो। यह तो मेरी बुर में जाकर फंस जाएगा और खूब चुदाई होगी। मैं उस अजनबी की बाँहों को पाकर.

गाना पर की बीएफ पर उससे पहले मेरा जन्मदिन था।उस दिन के लिए मुझ से ज्यादा वो उत्साहित थी. उसने मेरे सिर को पकड़ कर अपनी चुत में दबा लिया और दोनों टांगों से जकड़ लिया.

देहाती बीएफ पिक्चर वीडियो में

सभी खूबसूरत पाठिकाओं से अनुरोध है कि जिन्होंने भी अपनी चूत पर मेरी गर्म सांसों को महसूस किया हो, मुझे जरूर लिखें. मैं उसकी इस हरकत से आपे से बाहर हो गई और कुछ ही पलों की चूत चुसाई से मैं झड़ गई. उधर मेरी काफी पुरानी जान पहचान है, जिस वजह से मेरे को जाते ही एक बढ़िया कमरा मिल जाता है जिस पर मेरा कोई खर्चा भी नहीं होता.

यहां पर रुक कर पहले मैं आपको मेरी भतीजी के बारे में बता देना चाहता हूँ. उसका पजामा और मेरा कच्छा इतने पतले थे कि ऐसा महसूस हो रहा था, जैसे दोनों ने कुछ नहीं पहना हुआ है. बीएफ भेज दे बीएफ सेक्सीवो और उछल-उछल कर नाटकीय अंदाज़ में अपनी विशाल चूचियां हिला-हिला कर विक्रम का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने का प्रयास करने लगी.

आपकी प्रसंशा या टिप्पणी दोनों ही मेरे लिए बहुमूल्य हैं।चलिए अब अपने बारे में कुछ बता दूँ।मेरा नाम राज है.

?मेरी बात सुन कर उसने धीरे-धीरे धक्के लगाने शुरू कर दिए। मुझे मज़ा आने लगा और मैं भी अपने चूतड़ों को हिला-हिला कर उसका साथ देने लगी। मेरे मुँह से बड़ी ही मादक आवाजें निकल रही थीं।मैं सिसकारी लेकर कहने लगी- आहह्ह्ह सीईईई. तो किसी को कोई शक भी नहीं होगा।मुझे लगा कि कहीं वो ‘न’ न कर दे इसलिए मैंने उसकी वासना को जगाना शुरू कर दिया, फिर से उस पर लेट कर उसे चूमना चाटना शुरू कर दिया।थोड़ी ही देर में वो फिर से पिघलने लगी और मैं उसकी टी-शर्ट में हाथ डाल कर उसकी पीठ को सहलाने लगा। अपने हाथों में उसकी ब्रा की स्ट्रिप को मैं महसूस कर रहा था। वो मुझको कस के बाँहों में पकड़ रही थी.

मगर अचानक ही पूरा लौड़ा एक साथ गाण्ड में चला गया तो दर्द होना एक आम बात है।भाई कुछ देर वैसे ही मेरे ऊपर लेटा रहा. लग रहा था जैसे मेरा ही इन्तजार कर रही हो।उसने मुस्कुरा कर मेरा स्वागत किया और मुझे अन्दर बैठा कर. अब वो घर जाने की बजाए मुझे हॉस्पिटल ले जाने लगी, जिसके लिए मैंने मना किया.

तब तक भाभी तीन बार झड़ चुकी थी।‘आहह्ह्ह… सीसीई…’ कहते हुए हम दोनों चिपक कर आराम करने लगे।वो उठ कर बाथरूम में गई.

सन्नी का गुस्सा देख कर निधि डर गई और तोते की तरह एक ही बार में सारी दास्तान उसको सुना दी।सन्नी- वाह. मगर में दाँत भींच कर चुप रही।भाई बड़े प्यार से उंगली थोड़ी अन्दर डालकर गाण्ड में तेल लगा रहा था और मैं बस आने वाले पल के बारे में सोच कर डर रही थी।भाई- अब तेरी गाण्ड को चिकना बना दिया है. इशारों-इशारों में हम दोनों ने ही बात क्लियर कर दी थी कि क्या करना है।फिर मैंने कहा- डोर लॉक कर दो.

अंग्रेजी बीएफ सेक्सी हिंदी मेंअब भाभी कपड़ों के ऊपर से मेरा लंड पकड़ कर कहने लगीं- राहुल, प्लीज आज मुझे अच्छे से रंग दो. अब आप‌ ये सोच रहे होंगे कि सुमेर भैया और सुलेखा भाभी की उम्र में तो इतना फासला हो सकता है मगर जब उनकी बड़ी लड़की बी.

बीएफ सेक्सी नई नई बीएफ

उनका एक हाथ प्रीति के बालों में तो दूसरा हाथ उसकी पीठ पर घूम रहा था. मैंने अब उससे पूछा कि क्या हुआ?” तो उसने मेरी बात का तो कोई जवाब नहीं दिया मगर उसने अब अपनी ब्रा को उठा लिया और मेरे लंड पर ढेर सारा थूक कर उसे अपनी ब्रा से साफ करने‌ लगी. मैंने उसे 2-3 छोटे-छोटे काम से बुलाया और हर बार टिप दी।अब वो मुझ से बहुत खुश हो गया था।शाम को जब मैं काम से वापस लौटा.

किन्तु अपनी मस्त झाँटू भाभी को देख कर कुछ भी करने को तैयार था।फिर मैंने उसकी चूत पर अपना मुँह रख दिया. मैं बहुत तेज़-तेज़ झटके मार रहा था और वो भी मेरा साथ दे रही थी।‘आह्ह. एक्साम्स की टेन्शन की वजह से इस तरफ ध्यान ही नहीं गया।मैंने आगे बढ़कर उसे किस किया और कहा- इसीलिए तेरा इतना ज्यादा निकला.

और दर्द भी बहुत हो रहा है। देखो बिस्तर पर ठीक से गाण्ड टिक भी नहीं रही. उसके चीकू जैसे छोटे छोटे नुकीले चूचे, उन पर एकदम पिंक कलर ने अनारदाने से निप्पल, पतली सी कमर, गहरी नाभि, और चुत एकदम फूली सी थी. इसलिए मेरी बुर को अपने पानी से भर दिया।’मैंने अपनी बुर में उंगली करना चालू रखी थी कि बाहर से संतोष की आवाज आई- मेम साहब चाय ले आया हूँ।मैंने बुर से उंगली निकाल कर चाटते हुए तौलिया लपेटकर बाहर आ गई। मुझे ऐसी हाल देख कर संतोष आँखें फाड़ कर मुझे देखने लगा।मैंने बेड पर बैठ कर संतोष की तरफ देखा, वह अब भी वहीं खड़ा था और मेरी अधखुली चूचियों को घूर रहा था।‘संतोष चाय दोगे कि यूँ ही खड़े रहोगे?’‘हह्ह्ह्ह्हा.

थोड़ा तेल लगा दो।अनु अपने कमरे में पढ़ रही थी और मौसा जी को आने में अभी देर थी।मौसी बोलीं- बेटा मेरे कमरे में जा कर बैठ. मैं किसी को भी नहीं बताऊँगी।’‘ये किताबें सोनू लेकर आता है।’‘हे भगवान.

मेरी जीभ भी तुम्हारी गाण्ड में आसानी से जाती है और तुम्हारी गाण्ड तो अन्दर से साफ हैं.

जबकि अंजलि अब तक सो चुकी थी।रात के 12 बज चुके थे और तब तक उसकी चूचियाँ के उभारों ने मेरा लण्ड मेरे आपे से बाहर कर दिया था। लण्ड मेरा पज़ामा फाड़ने के लिए तैयार था।मैं काफ़ी देर तक लण्ड सहलाता रहा और फिर अंजलि को आवाज़ दी. एक्स एक्स एक्स फुल एचडी वीडियो बीएफक्योंकि मेरी किसी असली लंड से पहली चुदाई थी, इसलिए मैं कुछ ज़्यादा ही उछल रही थी. बीएफ वीडियो चोदने वाला दिखाइएउसी के साथ पहली बार सेक्स भी किया था।लेकिन कुछ कारणों से हम अलग हो गए थे पर मुझे फ़ुद्दी का चस्का पड़ गया था. मैंने सेक्स की गोली भी ले लीं। ऊपर से दो गिलास दूध पी लिया और उसके घर शाम को 7 बजे पहुँच गया।वो सेक्सी कपड़े पहन कर चुदने को तैयार थी, उसने सफ़ेद रंग की पोशाक पहनी हुई थी।एक तो वो इतनी गोरी थी कि दूध भी उसके सामने पीला लगे.

एकदम हँसमुख और एक्टिव औरत है।बातें करते-करते उसने मेरा मोबाइल नंबर माँगा और मैंने दे दिया.

’चाचा का हाथ मेरे खुले जोबन को धीरे-धीरे सहला रहा था और होंठ मेरी बुर को चाट रहे थे।‘आहह्ह्ह. मैंने उसके दूध सहलाए और चूमते हुए पूछा- ये सब तुमने किससे जाना है?बोली- मेरी एक सहेली ने बताया है और वो इस सुख को पा भी चुकी है. मैं अभी होटल से लेकर आता हूँ।फिर मैं होटल से बटर चिकन लेकर 10 मिनट में घर पर आया.

अब मैं बदहवास की सी हालत में चल रही थी। नीलेश सीधा लेट गया और मुझे अपने ऊपर बिठा लिया और लौड़ा मेरी चूत में घुसेड़ कर बोला- ले साली धक्के मेरे. पर उसने इसका कोई विरोध नहीं किया।फिर मैं उसके मम्मों को दबाने लगा अब उसके मुँह से मादक आवाज़ निकलनी शुरू हो गई थी।वो ‘आहह आहह. पानी पीकर रेवती ने मुझे धन्यवाद दिया तथा वो दुबारा मुझसे अनुरोध करने लगी.

सेक्सी बीएफ कव्वाली

मैंने पूजा से पूछा- क्या हुआ?पूजा बोली- रोड में एक टैंकर के साथ एक बस और एक ट्रक का एक्सिडेंट हो गया है और इसलिए पुलिस ने रोड ब्लॉक कर दिया है. फिर वो हुआ जो मैंने सोचा नहीं था।सुनील ने एकदम से अपनी निक्कर उतार दी और उसका तना हुआ लंड सामने आ गया. तो लौड़ा अपने आप ही अकड़ जाएगा।पायल- अरे भाई, ये आपके लौड़े को क्या हो गया.

हालाँकि मैं रिया भाभी को किस तो बहुत बार कर चुका था और अब मेरा उनको चोदने का मन कर रहा था.

उसकी चुत पर छोटे छोटे बाल मुझको चुभते हुए और भी ज्यादा मजा दे रहे थे.

और कमरे की लाइट्स बंद कर दे।उसने जल्दी से लाइट बंद कर दी और बिस्तर पर बैठ कर देखने लगा। अब वो फिर से पैन्ट के ऊपर से लंड मसलने लगा। मैंने एकदम से उसका लंड पकड़ लिया. फिर उसे अपने दोनों हथेलियों पर रखकर आहिस्ते-आहिस्ते फूँक मारने लगीं।‘टीचर. उस लड़की का बीएफराजू- आज से मैं तुझे अकेले में बीवी ही कहूँगा।मैं- आपका हुकुम सर आँखों पर।फिर हम लोगों ने खाना खाया खाते समय भी हम दोनों एक-दूसरे को खूब छेड़ रहे थे। तभी राजू भाई के फोन पर एक कॉल आया.

मैं जयपुर का रहने वाला हूँ। मैं अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। मेरी उम्र 26 साल है और मेरी कद-काठी भी अच्छी है। खासा 46 इन्च चौड़ा सीना मजबूत बाँहें. तब तक में उसकी चूत की सलामी ले लेता हूँ।बस यही सोच कर मैंने अपना लंड सीधा उसकी गीली चूत पर रखकर एक धक्का दे दिया. दादा जी भी अपने लंड को तैयार ना देख कर मुझ पर से लुड़क कर बेड पर लेट गए.

और बलखाती कमर तो इतनी लाजवाब थी बस बिना मुठ्ठ मारे नींद ही नहीं आती थी।कुछ ही दिन में वो हमसे काफ़ी घुल मिल गए।यह बात 2 महीने बाद की है. लगा, मेरे मुँह से आवाजें निकलने लगीं और मेरे लंड से इतना अधिक पानी गिरा कि मुझे लगा कि ये सूसू इतना मज़ा क्यों दे रहा है.

क्या मस्त सीन था।हम सभी एकदम नंगे चुदाई में मगन थे।अब हम सभी ओर्गास्म के बहुत करीब थे।मैंने गीत से पूछा- बो.

उसके होंठों का स्पर्श पाते ही ऐसा लगा जैसे मेरे होंठ से ओस की बूँदें चिपक गई हों।मैंने पहले भी दूसरी लड़कियों को किस किया था. एक रविवार को उसका फ़ोन आया कि घर पर कोई नहीं है, आप मुझसे मिलने आ जाओ. यदि मेरे जीवन से सम्बन्धित सभी कहानियाँ लिखूं तो कोई पांच सौ कहानियां तो ही ही जायेंगी.

छत्तीसगढ़ी में बीएफ पिक्चर तो किरण और पूजा दोनों बैठ कर टीवी देख रही थीं।मैंने मकान मालकिन से पूछा- आज पूजा घर नहीं गई?तो बोली- अभी पढ़ रही थी न. लेकिन मेरे दूसरे नीचे वाले मुँह की प्यास अभी बाकी है।राजेश का ढीला लंड अब बाहर आ गया था और किसी बच्चे जैसा दिखाई दे रहा था, उसने उसे सहलाते हुए कहा- मेरी रानी.

प्रीति ने सोचा कि क्यों न दादाजी से कुछ बातें करूं ताकि उसका मन हल्का हो जाए और जल्दी से नींद आ जाये. तो मैं भी मदहोश थी और गरम हो रही थी।अब नीलेश ने डीवीडी प्लेयर ऑन कर इंग्लिश की पॉर्न मूवी लगा दी। हम सब शराब भी पी रहे थे. पर लण्ड फिसल गया। मैंने फिर कोशिश की इस बार जोरदार धक्का मारा और लण्ड का सुपारा अन्दर घुस गया।रेणु जोर से चिल्ला उठी और मेरी पकड़ से छूट गई। मैंने फिर से उसे कस के पकड़ा और एक ही धक्के में आधा लण्ड उसकी चूत में उतार दिया। उसके आंसू आ गए और उसके नाखून मेरी पीठ पर गड़ गए।मैंने थोड़ा रुक कर एक और धक्का दिया.

बीएफ फिल्म हिंदी में बढ़िया वाली

मैंने एक झटके में ही अपना लौड़ा उसकी चूत में पेल दिया और दनादन शॉट लगाने लगा. ऐसा लगा रहा था जैसे कि प्रिया की चुत अब अपने आप ही मेरे लंड को अन्दर खींच रही हो. मैं उस समय तो करण को कुछ नहीं बोल सकता था, क्योंकि इससे मेरी बहन का इज़्ज़त खराब होने का डर था.

तो गर्म-गर्म वीर्य से मुझको बड़ा सुकून मिला।फिर हम दोनों एक दूसरे से लिपटकर सो गए और जब तक माँ पापा नही आये, तब तक हमने जी भरकर चुदाई की।मेरी पोर्न कहानी अभी बाकी है मेरे दोस्तो, मुझे मेल करते रहिये और मजे लेते रहिये।[emailprotected]कहानी का अगला भाग:भाई ने मेरी गांड का उदघाटन किया-3. मैं भी कभी उसकी सलवार में हाथ डालकर उसकी गांड दबाता, तो कभी उसकी कमीज में हाथ डालकार उसके चुचे दबाता.

और ज़बरदस्ती पीछे से सेक्स कर रहे थे।मैंने कहा- मैं दिन भर की भूखी-प्यासी हूँ.

मैं उस औरत की खूबसूरती से बहुत ही प्रभावित हो गया था और आंखें फाड़ फाड़ कर उसको देख रहा था. पर उससे पहले मेरा जन्मदिन था।उस दिन के लिए मुझ से ज्यादा वो उत्साहित थी. पूजा ने कुछ मस्त सा सेंट लगा रखा था और उसकी खुशबू पूरे कमरे में फैल रही थी.

सभी खूबसूरत पाठिकाओं से अनुरोध है कि जिन्होंने भी अपनी चूत पर मेरी गर्म सांसों को महसूस किया हो, मुझे जरूर लिखें. बल्कि बुआ की चूत के रस से चूत में मेरा लंड सटासट अन्दर बाहर होने लगा था. मैंने भी देरी ना करते हल्के सा धक्का लगाया तो मेरे लंड का सुपारा अन्दर घुस गया.

उसने भी बदले में मुझे किस किया।तभी मुझे याद आया कि दरवाजा खुला है और उसके मम्मी-पापा बगल वाले कमरे में सो रहे हैं।तो मैंने जाकर दरवाजा बंद कर दिया।मैं बस उसके साथ कुछ समय अकले गुजारना चाहता था। फिर मैं उसके बगल में बैठ गया.

गाना पर की बीएफ: मैंने इसी के साथ उनकी चूचियों को दबाना शुरू कर दिया।मुझे ऐसा लगा कि उनको इतना दर्द हो रहा था जैसे किसी ने उनकी बुर में चाकू घुसा दिया हो। वो लगातार रो रही थीं और मुझे लंड बाहर निकालने को कह रही थीं. शाम को मुझे मालूम हुआ कि आज रिया भाभी के पति एक हफ़्ते के लिए बाहर जा रहे थे.

वो मछली की तरह झटपटाने लगी।उसकी चूत में बहुत तेज परपराहट के साथ दर्द होने लगा. कौन चोदेगा मुझे?‘शायद नायर ने चोद दिया हो?’‘यह आप क्या कह रहे? मैं थोड़ा गुस्से में बोल उठी।‘ऐसा कुछ नहीं है. पर इस बार मैं आप सबको अपनी पहली सेक्स स्टोरी बताने जा रहा हूँ।मेरी उम्र 27 साल है.

चूत के दोनों होंठ खोल कर मैंने पूरी चूत ऊपर से नीचे तक चाटता ही रहा और दाने को अपनी जीभ से हिलाने लगा।अब मैंने चूत के छेद में अपनी पूरी जीभ डाल कर अन्दर-बाहर करने लगा।सुनयना- अहह.

अगले दिन मुझको मां को लेकर मामा को जाना पड़ा क्योंकि नाना जी गुजर चुके थे. त्याच्या शिव्या पहीलेतर मला खराब वाटल्या, पण नंतर नंतर त्या शिव्यांमध्ये मला मजा यायला लागली. तो एकदम से लंड अन्दर घुसता चला गया।फिर से लौड़ा घुसने के बाद मैं अपने आप ऊपर-नीचे होने लगी। करीब आधे घंटे की चुदाई के बाद उसने मुझसे कहा- रानी मेरा निकलने वाला है.