देहाती एक्स एक्स बीएफ

छवि स्रोत,पति पत्नी का देसी सेक्सी वीडियो

तस्वीर का शीर्षक ,

छोटी भाभी सेक्सी: देहाती एक्स एक्स बीएफ, पहली गेम थी कि कौन सबसे तेज़ अपनी साड़ी पेटीकोट, ब्लाउज उतार सकती है.

सेक्सी वीडियो चुदाई वाली इंडियन

मैंने जीभ पर काबू करते हुए उनसे पूछा कि यह इतना ही लम्बा रहता है … मतलब सूजन वगैरह से तो नहीं है?वे बोले- नहीं इतना ही है … अब मुझे कोई कष्ट नहीं है. सेक्सी पिक्चर हिंदी हॉटकोई पांच मिनट बाद लंड की चूत से दोस्ती हुई, तब चाची को मजा आना शुरू हुआ.

मैंने दो मिनट तक कुछ नहीं किया, बस ऐसे ही उसकी चूत में लंड को डाल कर उसके ऊपर लेटा रहा. भाभी सेक्सी दिखाइएअब मैंने सौम्या को देख लिया था, तो आपको सौम्या के बारे में बता देता हूं.

क्या तुम मेरे सिर भी मालिश कर दोगे?मैंने बोला- हां आंटी बिल्कुल कर दूंगा.देहाती एक्स एक्स बीएफ: अंत में उसका सुपारा मेरी बच्चेदानी के मुँह से जा टकराया, मैं मीठे दर्द में कराह उठी.

मैंने खाने को टेबल पर एक तरफ रख दिया क्योंकि अभी खाने की नहीं बल्कि हवस की भूख लगी हुई थी.उसके हिलने से मैं थोड़ा हिचक गया और मैंने सोचा कि आज बस यहीं तक ठीक है.

मिया खलीफा सेक्सी एचडी वीडियो - देहाती एक्स एक्स बीएफ

फिर उन्होंने अपना दूसरा हाथ मेरी गर्दन के नीचे से निकाल मेरे सर को सहारा दे दिया व पीठ पर मोड़ कर और करीब कर लिया.वो मेरी चूत में जोर जोर से अपना लंड अन्दर बाहर कर रहा था और बाद में वो भी नार्मल हो गया और हम दोनों लोग आराम से सेक्स करने लगे.

उसका जवाब सुन कर मेरे मन को तसल्ली हो गई कि अब बात हम दोनों के बीच में ही रहने वाली थी. देहाती एक्स एक्स बीएफ यहां पर मेरा मतलब मामी के फोन नम्बर से नहीं बल्कि मामी की चूत से था.

हम दोनों किस में ऐसे खोये कि 10 मिनट तक किस ही करते रहे।उसके बाद उसने अपना मुंह हटा लिया और कहने लगी- बहुत ज़िद्दी हो … हो गयी इच्छा पूरी? अब मैं जाऊँ?मैंने कहा- अभी कहाँ … अभी तो बहुत कुछ बाकी है.

देहाती एक्स एक्स बीएफ?

उसने धीरे धीरे थोड़ा थोड़ा करके पूरा 6 इंच का लंड अपने मुँह में ले लिया और फिर जल्द ही बाहर निकाल दिया. बेड के पास जाकर उसने उर्वशी को धीरे से बेड पर बिठाया और एक बार फिर से उर्वशी के होंठों को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा. इस वजह से मेरी दुकान में हमेशा औरतों और लड़कियों की भीड़ सी लगी रहती है.

मैंने कई मिनट तक तेज झटके मारने के बाद कहा- बोल रस कहां निकालूं?तो चाची रंडी ने बोला- आह मेरी चूत में ही निकाल दे कमीने. चूंकि मैं भी थोड़ा सा मजाकिया किस्म का बंदा हूं तो मेरी और तन्वी की काफी बनती है. फिर उसने खुद ही अपने हाथ से मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के मुंह पर रखवा लिया.

एक बार ख्याल आया कि सुरेश को फोन कर बहुत गालियां दूं, पर फिर रुक गयी. उसके जिस्म को खूब सहला सहला कर मैंने चुप करवाया और उसका मोबाइल लेकर मैंने अपने नम्बर पर रिंग करके उसका नम्बर ले लिया. तुमको चड्डी देखना है?मैंने झुझलाते हुए कहा- चड्डी के अन्दर जो छुपा रखा है न … उसको देखना है.

चलते समय आंटी ने पूछा कि खाने का इंतजाम कैसे करोगे? मैंने कह दिया कि जब तक कुछ इंतजाम नहीं होता तब तक बाहर ही कहीं दुकान या ढाबे पर खा लूंगा. मैंने कमर को खूब चूमा और धीरे से उसकी कमर के गुन्दाज हिस्से को अपने दांतों से दबा कर हल्के से काट लिया.

मीनू की पहली चुदाई के बाद तो जैसे हम दोनों एक दूसरे के लिए प्यासे ही रहने लगे थे.

जब चाची ने देखा कि मैं उनको दूध दुहते हुए बड़ी ध्यान से देख रहा हूँ, तो चाची ने कहा- तुम्हें भी दूध दुहना सीखना है कि थन से दूध को कैसे निकाला जाता है?मैं कहा- हां लेकिन मुझे से सीधे थनों से दूध पीना सीखना है.

उसने जानबूझ कर अन्दर ब्रा नहीं पहनी थी, जिससे मुझे उसके चूचे साफ़ साफ़ नजर आ रहे थे. उसने जो लंबे लंबे और जोरदार धक्के मुझे मारे कि बिस्तर तक हिला जा रहा था. मैंने मेन गेट खोला तो प्रमिला आंटी बाहर बरामदे में बैठी थी और ऐसा लग रहा था कि मेरा ही इंतजार कर रही थी.

मेरे घर वाले जब भी गाँव जाते हैं तो हम लोग सेक्स करते हैं या विभोर का तो घर दिन में हमेशा खाली रहता है. मैंने लंड पर बुआ का हाथ महसूस किया तो मैंने कहा- मेरा लंड चूसो ना बुआ. मैंने तुरंत मैडम के होंठों पर होंठ रख दिये और उसके होंठों के रस को पीने लगा.

मैंने लंड उसके मुँह से निकाल लिया और आकर उसकी बुर पर मुँह रखकर उसे चाटने लगा.

उसके बाद मैंने उसे अपनी बांहों में लिया तो वो भी मेरी बांहों में लता सी लिपट गई. घर में मेरे अलावा, मम्मी पापा के साथ प्रिया भाभी और बहन ही रहती थीं. तभी मोसी ने मुझे फोन किया और अपने घर में अकेले होने का बहाना बनाकर अपने यहां सोने के लिए बुलाया।मैं झट से उनके घर पहुंच गया।हम साथ में खाना खाने के लिए बैठ गए। मोसी ने नाइटी पहन रखी थी.

पायल को मैंने बेड पर गिरा लिया और उसकी टांगों को उठा लिया उसकी चूत में लंड को लगा दिया और उसके ऊपर दबाव बनाने लगा. मिहिर को एक मिनट भी नहीं हुआ था कि उर्वशी ने अपनी बेसब्री दिखाते हुए मिहिर के मुंह को अपने हाथों से उठाते हुए उसके होंठों को जोर से चूस डाला. फिर मैंने बोला- आंटी अब मैं आपके घर आता रहूंगा, जब आपके पति नहीं होंगे.

जब मैं अपनी बहन के लिए लड़का देखने गया था तो मुझे वहाँ पर उस लड़के की बहन पसंद आ गयी और मुझे लड़का भी पसंद आ गया.

उसने बैठते हुए मेरे लंड पर हाथ रखा और लंड सहलाते हुए मेरा अंडरवियर उतार दिया. एक दिन मैं ऑफिस नहीं गई थी और रूम पर अकेली ही थी। और वहां पर दोपहर को साफ सफाई के लिए एक लड़का अचानक से आ गया.

देहाती एक्स एक्स बीएफ दस मिनट तक चुत की चुसाई करने के बाद मैंने बुआ के चूचों को जम कर चूसा. ” बेडरूम से बाहर आते वक्त मेरे कान पर शब्द पड़े, पर मैं सीधा अपने घर चली आयी.

देहाती एक्स एक्स बीएफ करीब 10 मिनट तक उसकी बुर चूसता रहा मैं और वो अपने हाथों से मेरा सिर उसकी बुर पर दबाये जा रही थी।थोड़ी देर में उसकी बुर ने रस छोड़ दिया जो मैं सारा का सारा पी गया. तो उन्होंने हाथ से इशारा करके कहा- सुपर।मैं फिर कुर्सी पर बैठ गया और अपने लंड को धीरे-धीरे मसलने लगा तो प्रमिला आंटी मुस्कुराने लगी.

थोड़ी देर बाद में फिर से ऊपर आया और उसके गुलाबी होंठों पर किस करते हुए पीछे हाथ डाल कर उसकी ब्रा के हुक को खोल दिया.

दादी के मरने पर शायरी

चूंकि चूत पर तेल लगा था और उसके लंड पर भी तेल लगा था इसलिए लंड आसानी से चूत में घुस गया. कोई पांच मिनट बाद मैंने कहा- मेरा छूटने वाला है रेनू … मैं क्या करूं?भाभी बोली- चिंता मत करो मेरे राजा … मेरी चूत में ही अपना माल निकाल दो. उस वक्त सेक्सी ख्याल आ रहे थे इसलिए लंड मेरे अंडरवियर में खड़ा हो चुका था.

कजरी बोली- ठीक है … शाम को 4 बजे इसी सरसों में आपके लंड का काम तमाम कर दूंगी. फिर उसने सिसकारियां लेते हुए मेरी कमर में अपने नाखूनों से नोंचना शुरू कर दिया. एकाएक उसके लंड से वीर्य की पिचकारी निकलने लगी और मेरे गले में गिरने लगी.

मुझे उनकी चुदास देख कर लग रहा था जैसे उन पर जैसे चुदाई का नशा सा चढ़ गया था.

वह सारा वाकया मैं आपको अपनी अगली स्टोरी में बताऊंगा कि कैसे मैंने दीदी की चूत को चोदा और दीदी ने मेरे लंड को कैसे मजा दिया. आपको बता दूं कि हम लोग मेरे दादा दादी से दूर शहर में रहते हैं क्योंकि मुझे गांव में रहना पसंद नहीं था. उसने हंस कर हाथ हिलाया और कहा- ओ हैलो!मैं एकदम से झेंप गया और मैंने उसकी तारीफ की … जिस पर वो मुस्कुरा दी और थैंक्स बोल कर बाइक पर बैठ गई.

मैं तो सिर्फ चड्डी में था, इसलिए मैंने जल्दी ही लंड निकाला और उसकी बुर पर रखकर रगड़ने लगा. जैसे कि जब भी मैं लंड डालता उसकी चूत के अंदर तो वो बोलती- आहह हहहह आअह हांहह उई माँ मर गयी … और करो और!और मैंने लगातार दस मिनट तक उसे चोदा कि वो थक कर निढाल हो गयी. मामी ने बिना कहे ही मेरे लंड को मुंह में भर लिया और मस्ती से मेरे मोटे लौड़े को चूसने लगी.

फिर उसने मुझे आंख मारते हुए दूसरे हाथ की उंगली को अपनी चुत में डाल लिया. गांव में घर में शादी भी थी, इसलिए मुझे इस कारण कुछ दिन रुकना भी था.

आपको मेरी यह बुर की चुदाई की सेक्स कहानी कैसी लगी, प्लीज मुझे मेल करें. चूंकि तुम मेरे ब्वॉयफ्रेंड के दोस्त हो, तो मेरे भी दोस्त हुए ना!मैंने कहा- चलो अच्छी बात है कि तुम मिलने आ गयी … मेरा तो रात भर से तुम्हारे बिना मन ही नहीं लग रहा था. मेरी वो तमन्ना अभी भी थी कि मैं उसके मुँह को लंड से चोदूंगा और लंड का माल भी उसको पिलाऊंगा.

हालंकि आज उन्होंने जब मुझे अपनी चूचियां देखते हुए पकड़ लिया, तो शायद वे मेरे जवान होने के अहसास से कुछ सोचने लगी थीं.

मैंने रोनिता से कहा कि तुम्हारे बूब्स तो बहुत मस्त लग रहे हैं … एक बार दिखाओ न. उसके जिद्द करने से मैंने भी हां बोल दिया और सुरेश उठकर मेरी टांगें फैला कर मेरी योनि पर हाथ फेरने लगा और बोला. फिर मैं घुटनों पर बैठी और पैंट के अंदर से उसका लण्ड पकड़कर बाहर निकाला.

मेरे कपड़े निकल गए।मैंने देखा कि उसका हाथ मेरे लंड पे था और मेरा हाथ उसके 2 गोल मटोल स्तनों को दबा रहा था।फिर सुशी अपने हाथों से मेरे लंड को मुठ मारने की तरह से हिलाने लगी लेकिन मेरा जल्दी ना छुट जाए तो मैंने उसको ऐसा करने से मना किया।थोड़े ही देर तक हम दोनों एक दूसरे के बॉडी पार्ट्स से खेलते रहे थे. मैंने आज तक जितनी भी भाभियों की गांड मारी है ना … वो ज़रूर मेरी तारीफ करती हैं.

मोनिषा आंटी ने कहा- नवीन मेरी चूत में जल्दी से अपने इस मूसल लंड को उतार दो … मैं चाहती हूं कि तुम्हारा लंड मेरी चूत की गहराई को नापे. मैं उसकी चुत पर लंड रगड़ने लगा, तो उसने अपनी चुदास के चलते जल्दी से मेरे लंड को अपने हाथ में पकड़ा और अपनी चुत के छेद में डलवा लिया. दोस्तो, आप सब जरूर बताना कि आपको मेरी ये चाची सेक्स की गंदी कहानी कैसी लगी.

इंडियन सेक्स एचडी

इस समय मम्मी एक मासूम गुड़िया सी लग रही थीं, जिसे कल्लू जैसा पहलवान धमाधम चोद रहा था.

अब आगे:मैं अपना हाथ रजनी के कुर्ते के गले तक ले गया और मैंने अन्दर हाथ डाल दिया. उसकी हल्की हल्की चीखें निकलने लगी थीं- आह ओऊऊऊ ऊऊऊ ओह अमित आह धीरे उईईईईईई माँ. वहां की प्रिंसिपल को देख पहले दिन से ही मेरे मन में उसकी चुदाई के अरमान मचलने लगे थे.

चूंकि हमारी दोस्ती बचपन से ही थी तो हम दोनों एक दूसरे के घर पर आते जाते रहते थे. मम्मी सिसिया सिसिया कर नीचे से चूतड़ों को उठा उठा कर उसका साथ दे रही थीं. हिंदी सेक्सी वीडियो फ्री वालीउनकी सेक्स की बातें सुन कर मैं उत्तेजित हो जाता था और अब मुझे भी अपने लिए कम से कम एक गर्लफ्रेंड की आवश्यकता थी जिसे मैं प्यार कर सकूँ और मौक़ा मिले तो चोद सकूँ.

मैं इस बात से खुश था कि यदि नाटक कर रही हैं, तो मेरी पूरी लाइन क्लियर है. वो अपनी छत से मुझसे बात करता था और मैं अपनी छत से उससे बात करती थी.

मैंने पूछा कि ये किसके लिए है?वो बोला- आज मैं तेरे साथ सुहागरात मनाऊंगा. बड़ी बात तो ये थी कि मेरी दीदी भी ऐसे ग्रुप सेक्स वाले वीडियो को पसंद करती थी. करीब 5 मिनट बाद उसने एक हाथ से मेरा सर दबाया और मेरे मुँह में झड़ गया.

और फोन रख दिया।अब तो मैं भी बेताब हो गया था, अब एक पल भी दोस्तों के साथ मन नहीं लग रहा था. उसने कहा- कैसे लूं मुँह में … जैसे दीदी ने लिया था विद्यालय में … वैसे?मैं हैरान था कि उसे कैसे पता चला. मेरे अच्छे व्यवहार से उनके घर में धीरे धीरे उनके मम्मी पापा को अच्छा लगने लगा.

मैं फिर से झड़ने लगी और योनि के भीतर से पानी, एक पतली धार बन कर लिंग के साथ बाहर निकलने लगा.

मेरे स्कूल में एक लड़की थी, जो मुझसे एक साल बड़ी थी, मतलब वो 12 वीं क्लास में थी. भाभी बोलीं- ऐसे क्या देख रहा है … क्या पहली बार देख रहा है?मैं बोला- आपकी खूबसूरती देख रहा हूँ, रोज तो छुप छुप कर देखता था ना … आज खुलकर देख रहा हूँ.

वो नीचे को आ कर मेरे लंड को चड्डी के ऊपर से अपने मुँह में लेने लगी. जॉयश बोली- सिर्फ ये हम लोगो की किटी पार्टी के समय मौजूद रहेगा, ड्रिंक, लंच, गेम में हेल्प और सब काम ये करेगा. आपको मेरी यह आपबीती सेक्सी स्टोरी पसंद आई या नहीं … मेरी इस कहानी पर प्रतिक्रिया दें और मुझे मैसेज करने के लिए नीचे दी गई मेल पर अपने संदेश भेजें। मैं अपनी अगली सेक्सी स्टोरी जल्दी ही लेकर आऊंगी.

उसने मेरी दोनों चूचियों को मन भर चूसा और मेरा हाथ अपने लंड पर रखवा दिया. मेरे प्यारे दोस्तो, आप सभी को मेरा नमस्ते, मेरा नाम दीपू वर्मा है। मेरी उम्र 28 वर्ष है और मेरी लंबाई 5 फीट 10 इंच है. ऊपर से मैं बुर में झटके मार रहा था और नीचे से वो कमर उठा उठा कर मेरे लंड को अपनी बुर में ले रही थी.

देहाती एक्स एक्स बीएफ खाते पीते और बातें करते 10 बज गए और फिर पता नहीं, वो बात घुमा फिरा कर अपनी बीवी और अकेलेपन की बात करने लगा. मुझे याद आया कि मैंने टॉयलेट में पानी फ्लश नहीं किया था और मेरा वीर्य पूरे कमोड पर और फर्श पर पड़ा होगा.

छत्तीसगढ़ी सेक्सी ओपन

जलेबी खिलाते समय मैं उसको खुद के पास होने की ख़ुशी में कहते हुए जलेबी खिला रहा था. उस चाहत को मैंने पूरा करने के लिए क्या किया?मेरा नाम सुधीर है और मैं उत्तर प्रदेश के पीलीभीत का रहने वाला हूं. कल्लू मम्मी के पास आ गया था और उसने अपने होंठ माँ के होंठों से जोड़ दिए थे.

मैंने दस्तूर की टांगों को फैला कर उसमें थोड़ा थूक डाल कर गीला कर दिया. अपनी हिंदी बेस्ट सेक्स स्टोरी पर आपकी प्रतिक्रिया के इंतजार में आपका आर्यन. सेक्सी इंग्लिश वीडियो देखनाआज उसने भी मेरा रस पूरा पी लिया और मेरी लंड चुसवाने की चाहत को पूरा कर दिया.

उसकी फ़ोटो देख कर कहीं से नहीं लगता था कि वो एक बच्चे की माँ भी बन चुकी है.

फिर उसने पूरा लंड मेरी गांड में ठोक कर मेरी गांड को चोदना शुरू कर दिया. मैंने आंटी को बोला- अरे आंटी ऐसी कोई बात नहीं है, ये तो मेरा फर्ज़ था.

मेरी जीभ के उसकी चूत पर टच होते ही उसके बदन में एक झटका सा लगा और उसकी चूत से चूतरस निकल आया. अगर मैं आज की समझ के हिसाब से बोलूँ, तो उसने माँ की पेंटी को अपने लंड पर रखी हुई थी. कोई 5-7 मिनट तक लगातार एक ही रफ्तार से धक्के मारने के बाद वो अपनी मर्दानी आवाज में कराह उठा और पूरी ताकत से एक जोर का धक्का दे मारा.

दो मिनट तक गांड चाटी और फिर उनकी गांड मारने के लिए मैंने आंटी को घोड़ी बना दिया.

ये कामुक सीन देख कर मेरा लंड मेरी पैंट में पूरा टाइट खड़ा हो गया था. भाभी ने कहा- जल्दी करो … जो करना है … नहीं तो मेरे सास-ससुर आ जाएंगे. फिर कल्लू ने अपना अंडरवियर उतार दिया और उसके अंडरवियर उतारते ही माँ उसके काले और विकराल लंड को सहलाने लगीं.

सोती हुई बहन की सेक्सी वीडियोलंड को मैंने चूत पर रगड़ा, तो ये अदा रागिनी को बहुत पसंद आई- हां … अपने लंड से मेरे वहां सहलाओ … आह बहुत अच्छा लग रहा है. उन्होंने मुझे फिर से प्यार से कहा- नवीन प्लीज़ ये सब गलत है … ऐसा मत करो.

कुत्ते कितने प्रकार के होते हैं

मैं पहली बार समलैंगिक चुम्बन कर रही थी हालांकि बहुत सी स्त्रियों ने पहले भी मेरे स्तन और योनि का स्वाद लिया था, पर आज ये पहली बार था, जिसमें मैं चुम्बन कर रही थी. पर मुझे पता था कि मोसी भी मुझसे चूत चुदवाना चाहती थी। बस मुझे यही सही मौका लगा और बिना देर किये मैं झट से मोसी को पीछे से जकड़ के उनकी टाईट चूचियाँ दबाने लगा और उनकी गर्दन पर चूमने लगा. फिर मैंने दूसरे चूचे को मुंह में भरा और पहले वाले को हाथ से दबाने लगा.

जब मैंने ढंग से नहीं किया, तो दीदी ने मुझे हटा दिया और खुद ही करने लगी. सेक्स तक तो बात सही थी, पर बच्चे पैदा करने के लिए पैसे लेना सही नहीं लग रहा था. अब मैंने अपना लंड सीधे उनकी गांड में फिट किया और एक ही बार में घुसा दिया.

फिर मैंने 10-12 झटके देने के बाद भाभी की चूत में अपना पानी छोड़ दिया. एक बच्चे की मां होने के बाद भी उसके स्तनों में ऐसा तनाव था जैसा किसी 22-23 साल की जवान लड़की के चूचों में कसाव होता है. वैसे भी ये मर्द क्या बाहर मुँह नहीं मारते? ये करें, तो सब चलता है … हम औरतें करें तो पाप!मैं- हां सही किया और सही कह भी रही हो.

मैं जैसे ही अन्दर घुसा, उसी समय उसने ज़रीना पर हाथ उठा दिया और उसको बहुत गंदे तरीक़े से मारने लगा. एक हाथ से वो प्रिंसीपल मेरी दीदी की चूत में उंगली कर रहा था और दूसरे हाथ से दीदी के मोटे चूचों को दबा रहा था.

वॉचमैन से लेकर पान वालों तक सबको मैंने अपनी फूफी की लड़की की चुदाई दिखाई.

अब मैं उसके मम्मों को चूसने लगा और वो ‘आह आआअहह आआ…’ करते हुए सिसकारियां लेने लगी. सेक्सी फिल्म एचडी सेक्सी एचडीसरस्वती- तो तू कौन सी अठारह साल की कुंवारी है, अब भी तो चुदने को बैठी है. मोटी सेक्सी ब्लूउसके बाद मैंने उसके घर का नम्बर लिया और उससे बातें करना शुरु कर दी. उसने कहा- हां जब तुमने मुझे चोद कर कली से फूल बनाया था, तो मेरे बूब्स क्यों नहीं बढ़ते.

उन्होंने मेरा रिजल्ट देखा और अंग्रेजी में अच्छे नम्बर देख कर मुझे शाबाशी दी.

मैंने आगे बढ़ कर उसके कंधे पर हाथ रखते हुए कहा- मैं ऐसा क्यों करूंगा … आप तो मेरी भाभी हैं … और कोई देवर अपनी जवान भाभी का बुरा क्यों करेगा. पर उसकी आंखों से आँसू बहने लगे।वो मुझे पीछे धकेलने और मुक्के मारने लग गयी. [emailprotected]देसी हिंदी सेक्स स्टोरी का अगला भाग:पड़ोसन भाभी को मदमस्त चोदा-3.

मैं ज़रीना के पास गया और आंटी, जो ज़रीना के पास बैठे रो रही थीं, मैंने उनको वहां से उठा कर असगर के कमरे में भेज कर आया. मैंने कहा- भाभी अगर आप बुरा न मानो, तो मैं आपकी समस्या को दूर कर सकता हूँ. कूलर ऑन करते ही उसने अपने साड़ी के पल्लू को निकाल दिया, जो कि वैसे भी ऊपर से पूरा नीचे आ चुका था.

वीडियो ओपन सेक्सी पिक्चर

सोनू के मुंह से चीख निकल गई लेकिन मैंने तुरंत उसके होंठों पर होंठ रख दिये. चंदन ने एक बार मजाक में कहा था कि साले तू अपनी भाभी को पटा ले … फिर उसे जब चाहे, तब चोद सकता है. उसके जाने के बाद मैंने अपनी बहन से बात की तो उसने बताया कि वो उसके कॉलेज की सहेली है और उनके एग्जाम आने वाले हैं.

अपनी बहन के मुंह से 10-12 लंड से चुदने की बात सुन कर मैं भी हैरान रह गया.

मैं उत्तेजना में छटपटाने सी होने लगी और कभी निर्मला के स्तन, तो कभी उसके चूतड़ों को दबाने लगी.

कई दिनों तक मैं अन्तर्वासना सेक्स स्टोरी साइट पर सेक्सी कहानियां पढ़ कर लंड को हिलाता रहा लेकिन मुझे चुत चाहिए थी. मैं अपनी बाइक लेकर मूवी देखने चला गया, लेकिन मेरा एक दोस्त और बाकी लड़के वहीं रुक गए. सेक्सी चुदाई देसी लड़की कीमैं नीचे से कच्छी नहीं पहनती थी तो उसने एकदम से मेरी चूत को मसलना शुरू कर दिया.

मैं बोला- देख भाई विक्की, एक बात बोल रहा हूँ, कड़वी है, तुझे बुरी लगेगी. हम दोनों पानी पीने के बाद एक दूसरे को किस करने लगे और उसके बाद फिर से चुदाई करने लगे. अरुण[emailprotected]कहानी का अगला भाग:सेक्स फेंटेसी किटी पार्टी में पूरी हुई.

फिर उसने मेरी ब्रा और पेंटी निकाल दिए और मैं उसके सामने नंगी हो गयी. उसकी टाइट चूत को चोद कर मुझे भी आनंद आता है और हम दोनों खूब मस्ती करते हैं.

उनकी चूचियां औऱ गांड मॉम की तरह ही सेक्सी है, लेकिन चाची की गांड मेरी मॉम थोड़ा कम चौड़ी है.

मैंने फिर उसके माथे पर चूमा, तो उसने एकदम से मेरे सीने पर अपने सर को रख दिया. वह मेरा हाथ अपने पैंट के ऊपर से ही लंड पर रख कर बोला- थैंक्यू तो ठीक है … पर मेरा क्या … आप तो मजे से मेरे मुँह में अपना रस छोड़ कर बैठ गई हो … पर इसका क्या होगा?”उसका लंड पैंट में ही फड़फड़ाने लगा था. फिर आंखों में इशारे हुए और हम दोनों सेक्स करते करते अपनी चरम सीमा पर पहुँच गए.

भाभी की चुदाई सेक्सी वीडियो दिखाइए इधर मैं अपने नए पाठकों को बता दूँ कि हाई प्रोफाइल सर्विस के लिए हम लोग कोड का इस्तेमाल करते हैं … ताकि झूठ से बचा जा सके. उसने कहा- अब हमें चलना चाहिए … क्योंकि यहां गांव में लोग जल्दी उठ जाते हैं.

उसकीनंगी जवानीदेख कर मेरे मन में फिर से चुदाई का ख्याल आने लगा मगर उसने मना कर दिया. मैंने उससे बोला- सुरेश जोर जोर से चोदो न मुझे … झड़ने वाली हूँ मैं … आह … आह … ओह्ह … ओह्ह …बस फिर क्या था. हम दोनों का पानी बिस्तर पर गिर गया और उसके बाद हम लोग अपने अपने कपड़े पहने और उसके बाद विभोर अपने घर चला गया.

सेक्सी सेक्सी पिक्चर भेजो

एक तरफ मेरा पति था, जिससे मुझे दो साल तक कोई शारीरिक सुख नहीं मिला था और आगे भी मिलने की कोई गारंटी नहीं थी. ससुर बहू की चुदाई की इस गंदी कहानी में पढ़ें कि कैसे ट्रेन के सफर में भीड़ के कारण मुझे अपनी बहू से सट कर खड़ा होना पड़ा तो मेरी कामवासना जाग उठी और …दोस्तो, मैं अन्तर्वासना की कहानियां पढ़ने का काफी समय से शौकीन हूं. मैं मॉम को गंगा के दूसरी तरफ वाले घाट पर ले गया, जहां बहुत कम लोग नहाते हैं.

मामा जी ने उसे मेरी जांघों पर बिठा दिया- नखरे नहीं … पेल दे … ये तैयार है और तू बहाने कर रहा है?उसने तेल की शीशी उठाई, लंड पर चुपड़ा और लंड को मेरी तड़पती गांड पर टिका दिया. मगर उसके लिए मुझे मामी को यह बताना होगा कि मैं उसकी चूत को चोदना चाहता हूं.

और इतने मैं भाई ने एक झटका और मारा तो उनका पूरा लन्ड मेरी बुर में समा गया। मेरी आँखें बाहर आने को हो गयी, मेरी हालात बेहोश सी हो गयी।फिर भाई कुछ देर ऐसे ही रहे, मुझे किस करते रहे, मेरे चुचों को चूसा मसला, खूब प्यार किया.

मैं- हम्म … वही सोचूँ कि विमला से तो इन सबके बारे में बात नहीं होती कभी … न ही उसे दिलचस्पी है. वो मुझसे कहने लगी- आह … चोदो … मुझे चोद दो … आह हां ऐसे ही … मम्मी रे … मम्मी मर गई रे. जब भी वो मेरे पीछे बाइक पर होती थी तो अपने चूचों को मेरी पीठ पर ऐसे दबा देती थी कि जैसे यही उनकी जगह है.

सरस्वती- सच बता न … कुछ हुआ या नहीं सुरेश के साथ?तभी सुरेश बोल पड़ा- अरे सरस्वती रखो यार फ़ोन … कल बात कर लेना. तो प्लीज़ मुझे मेल ज़रूर करें जिससे आगे भी मैं मेरी रिश्तों में चुदाई की स्टोरी आप लोगों के साथ शेयर करता रहूँ!मेरी मेल आई डी है[emailprotected]. आप मेल करके मुझे बताइए कि आपको मेरी ये चुदाई हिंदी स्टोरी कैसी लग रही है.

उसने अपने काम के वेग को विराम देकर मेरी पत्नी के योनि भेदन के लिए उसको पूरा समय देते हुए तैयार किया.

देहाती एक्स एक्स बीएफ: एक दो बार मैंने कोशिश की है कि मम्मी की फुद्दी में अपना लंड डाल कर देखूँ, मगर जैसे उनकी फुद्दी से कुछ लगता है, वो झट से हिल जाती हैं. फिर उसने मेरी ब्रा और पेंटी निकाल दिए और मैं उसके सामने नंगी हो गयी.

वो कहने लगीं- आह … केशव आज मेरी प्यास बुझा दे … मैं बहुत प्यासी हूँ. अब बताओ दोस्तो … मैं क्या करूँ जिससे उसको ज्यादा तकलीफ भी न हो और सेक्स हो जाये।कृपया अपना सुझाव अवश्य दे क्योंकि मैं वर्जिन हूँ … मैंने आज तक कभी किसी के साथ कोई सेक्स नहीं किया है।सुझाव देने के लिए ईमेल करें-[emailprotected]पर!आगे की कहानी:दोस्त की बहन मुझे लव करती है-3. इसके बाद मैंने लंड का टोपा उसकी बुर के मुँह पर रखा और धीरे धीरे रगड़ने लगा.

वो धमकाने वाले स्वर में बोला- धंधा करना है ना … बोल दिया तो बोल दिया.

जब मैं होश में आयी, तब देखा कि सुनील फर्श पर लेटा था और मेरी चूत ने उसका मुँह पूरी तरह से ढंक दिया था. मैं तब समझ गई कि वो अचंभित इसलिए हुई होगी क्योंकि इस उम्र में शायद ही किसी महिला के स्तनों से दूध आता हो. एक में मेरी मां और मौसी ठहरे हुए थे और दूसरे में मैं और मेरी बहन व अन्नु रुके हुए थे.