सनी लियोन की बीएफ फुल एचडी वीडियो

छवि स्रोत,गांव की देसी सेक्सी कहानी

तस्वीर का शीर्षक ,

पंजाबी सेक्स मूवी: सनी लियोन की बीएफ फुल एचडी वीडियो, मैं उसके पास गया और उससे हाल-चाल पूछने के बाद मैं सिगरेट पीने लगा और बातों-बातों में उसने बताया कि उसकी फैमिली वाले वापस गांधीनगर आ गए हैं।तो मैंने उसे मोबाइल नंबर दिया और उसका मोबाइल नंबर लिया.

कार्टून वाला सेक्सी वीडियो दिखाओ

कि पहले सीन में एक आदमी का बड़ा सा लंड लड़की के मुँह में दे कर खड़ा था और लड़की लंड ज़ोर-ज़ोर चूस रही थी।मैंने सीडी बंद करनी चाही. सेक्सी स्टोरी videoतो मैंने उसे कॉल लगाया और अपनी कल की बात के लिए माफी माँगी।उसने पूछा- कल इतना गुस्सा क्यों थे?मैंने उसे अपनी गर्लफ्रेंड वाली बात बताई तो वो समझ गई।उस लड़की का नाम कशिश था, वो कानपुर की रहने वाली थी। धीरे-धीरे हमारी दोस्ती हो गई और फिर प्यार भी हो गया। रोज ही हमारी बातें रात-रात भर होने लगी.

जोर से करो।अब मैं जोर से करने लगा। कुछ देर बाद मैंने अपना लण्ड उनकी चूत में से निकाल लिया तो उन्होंने पूछा- क्या हुआ?मैंने कहा- मैं अपने तरीके से करना चाहता हूँ।चाची ने कहा- तुम जैसे मर्जी करो. सेक्सी करोना वीडियोलेकिन स्नेहा ने मेरा वीर्य बूँद-बूँद पीकर साफ़ कर दिया।उसे ओरल सेक्स का पूरा अनुभव था।थोड़ी देर आराम करने के बाद हमारा मुख्य कार्यक्रम शुरू हुआ। उसने मेरे होंठों को चूसना शुरू कर दिया। हम दोनों का रक्त प्रवाह फिर से तेज हो गया।अब स्नेहा ने मुझे नीचे कर दिया और मेरे ऊपर आकर अपने लटकते आमों को मेरे होंठों से स्पर्श कराने लगी.

दूसरी सीट पर मैं और डॉली थे। अंकल और तीसरा दोस्त एक अलग सीट पर बैठे थे।सर्दी होने के कारण डॉली ने बैग से एक चादर निकाली और हम दोनों ने ही ओढ़ ली।कुछ देर ऐसे ही रहने पर मैंने डॉली से कहा- मुझे एक चुम्मी करनी है।तो उसने कुछ नहीं कहा.सनी लियोन की बीएफ फुल एचडी वीडियो: बोली- मैं ज्यादा देर नहीं रुक पाऊँगी।मैं थोड़ा चूसने के बाद रुक गया।वो बोली- मुझे तुम्हारे ऊपर पेशाब करनी है।मैंने कहा- मुँह को छोड़कर.

जिनको अक्सर मैंने अपने पति को निहारते हुए देखा था।आज कल मेरी और विमल की सेक्स लाइफ बोरियत भरी हो चुकी थी.तभी मैंने सोचा कि उसको कैसे मालूम हो कि मैं भी अन्दर से नंगा हूँ।तब मैंने उससे कहा- तुम्हारे पास डंडा है?इस पर वो प्रश्नवचक नज़रों से देखने लगी.

अफ्रीका की सेक्सी फोटो - सनी लियोन की बीएफ फुल एचडी वीडियो

मैं धीरे-धीरे दीवाना हो गया था। वो इतना सुंदर थी कि मैं कई बार उसको देखते हुए ये भी भूल जाता था कि आस-पास में कोई और भी बैठा हुआ है।मेरे दिल की हालत उससे ज़्यादा दिनों तक नहीं रह सकी। अब मैं जब भी उसे घूरता रहता.जार सब्र तो कर।इतने में जाने कैसे ऊपर से कुछ चीज की आवाज आई और भाभी ने रोशनदान की तरफ देखा तो मैं सकपका गया.

लेकिन कह नहीं सकती थी।मैंने उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए।वो भी मेरा साथ देने लगी।मुझे लगा कि वो कामवासना की आग में जल रही है. सनी लियोन की बीएफ फुल एचडी वीडियो चूत पूरी रस से भीगी हुई थी।उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था, लगता था कि उसने आजकल में ही शेव की हो, उसकी चूत पूरी पावरोटी की तरह फूली हुई थी।फिर मैंने उसे अपना लण्ड चूसने के लिए बोला.

उसे ‘स्तन’ वर्ड समझ में नहीं आया, उसने फिर पूछा- ये ‘स्तन’ कौन सा अंग होता है?अब मैं भी कन्फ्यूज़ हो गया.

सनी लियोन की बीएफ फुल एचडी वीडियो?

अब रोज अंकल और कमल के स्कूल जाने के बाद मैं रीता के घर चला जाता। उसकी सास कमजोर और ज्यादा न चल पाने से अपने कमरे में ही रहती थी।हम बातें करते एक महीने में इतने क्लोज हो गए थे कि वो कभी-कभी मेरे सामने ब्रा और पैन्टी में ही आ जाती और जब वो मेरे कमरे में आती तो मैं उसके सामने फ्रेंची में ही आ जाया करता था।एक दिन की बात है. पहले मैंने गालों पर चुम्बन किया और फिर होंठों पर चुम्बन किया। उसने अपने होंठों खोल दिए और मैं उसके होंठों को चूसने लगा. मुझे भी ग्रीन सिग्नल मिल गया और मैंने अपने होंठों को उसके होंठों पर रख कर चूसने लगा।अंजलि भी मेरा साथ देने लगी.

मैं भी पागल हो गया था। अब मैंने उसकी चूत का दाना पकड़ लिया और उसे दबाने लगा।उसकी चूत लगातार पानी छोड़ रही थी जो बहकर बुर के नीचे बहता जा रहा था। मैंने उसकी चूत के बहते पानी को हाथ में लिया और अपना मुँह डेस्क के नीचे करके चाट लिया। वो एकदम नमकीन से स्वाद का था।तब मैंने अपना लण्ड एक मिनट को बाहर निकाला. वांट टू डू सम फन?मैंने मौन रह कर अपनी मुंडी हिला दी।अब उसने मेरे लंड पर हाथ रख दिया जो कि पहले से ही खड़ा हो रखा था। उसने मेरी चैन खोलकर अंडरवियर में हाथ डाला और उसे सहलाने लगी।अब तक मैंने भी बहुत शराफत दिखा ली थी. पर अगर मैं उसके साथ जाता तो पैसे थे नहीं।मैंने बहाना किया- मुझे जरूरी काम है अतः मैं नहीं चल सकता।वो मौसी के घर चली गई, मैं इलाहाबाद चला आया।अब इलाहाबाद आने के बाद उससे फोन पर हमारी बात होने लगी। एक दिन उसने बताया- मैंने SSC की कोचिंग ज्वाईन कर ली है।उस समय रात के 9:30 बज रहे थे, मैं गोदाम में सामान रखवा रहा था।मैं सोचने लगा.

आप दोनों गाण्ड और मुँह में अपना हथियार डाल दो…अब वे अपने मोबाइल को सैट करके मेरी चुदाई की रिकार्डिंग करने के लिए रखने लगे।दूसरे अंकल बोले- मैं तो इसकी गाण्ड का दीवाना हूँ. फिर पेटीकोट भी उतार दिया।अब चाची सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में खड़ी थीं। उस समय ऐसा लग रहा था कि जैसे कोई हूर जन्नत से उतर आई हो और मेरे सामने खड़ी हो।तभी मुझे लगा दरवाज खुला है. राधे उसके होंठों को चूसने लगा और लौड़े पर दबाव बनाता रहा। उसको लौड़ा घुसड़ेने में बहुत ज़ोर लगाना पड़ रहा था.

क्या?छग्गन ने इतना सुनते ही ढेर सारा थूक निकाल कर अपने लंड पर मल लिया।अब वो अपना लौड़ा हिलाता हुआ बैठ गया और उसने मेरी बुर में अपनी ऊँगली डालकर उसको चौड़ा किया। फिर लंड को मेरी चूत की दरार पर टिका कर एक झटके में ही पूरा पेल दिया।मेरी कुंवारी बुर ककड़ी की तरह चरचरा गई. शिइइ… शहअह…’ की ध्वनि उसके मुँह से निकलने लगी।दोस्तो, सच में उस समय मेरी थूक ने उसके साथ बिल्कुल एंटी बायोटिक वाला काम किया और जब वो मस्तिया के फिर से मेरा लण्ड चूसने लगी.

अब मैं ओर डॉली रोज ही मिलने लगे और चुपचाप अकेले ही घूमने लगे। हमारा प्यार परवान चढ़ने लगा। मैं डॉली को किसी भी तरह के धोखे में नहीं रखना चाहता था.

फिर वे मेरे पास आकर बैठ गईं, मेरे हाथ को अपने हाथ में लेकर सहलाने लगीं। मैं आँखें बंद करके सब महसूस कर रही थी.

उसकी सिसकारियां छूट पड़ीं।वो तो जैसे पागल सी हो गई और वो मुझे बेतहाशा चूमने लगी।मैंने मौका देख कर उसका नाड़ा खोल दिया। उसने अन्दर काले रंग की पैन्टी पहनी हुई थी. ’ निकल गई।मेरे लण्ड-रस को माया ने मुझे देखते हुए बड़े चाव के साथ बहुत ही सेक्सी अंदाज़ में गटक लिया।मैंने भी अपनी स्पीड के साथ-साथ अपने हाथों की कसावट को भी छोड़ दिया. मैंने कहा हाँ बताओ प्लीज़ मेरी बेटी कहाँ है? तो बोला कि कल सुबह पूरी बात बताएगा और उसने फ़ोन काट दिया।मीरा- बस इतना ही बताया.

ऐसा लग रहा था कि अभी जाकर पकड़ लूँ।लेकिन कल की बात याद आते ही मेरी गांड फटने लगी।फिर वही डर कि आज ये कहीं मम्मी को बता ना दे. पर अभी तो मैं पूरी जवानी में आई हूँ। उन्हें मेरी कोई फिक्र ही नहीं है। राज तुम इसी तरह मेरा साथ देना।मैं- ठीक है भाभी चलो एक राउण्ड और हो जाए. तो उसके उठे हुए मम्मे कयामत ढा देते थे।उसकी याद में सारी रात करवटों में ही गुज़र गई।वो रविवार का दिन था.

वो मेरे मुँह से ‘यार’ शब्द सुनकर खिल उठीं।फिर हमने साथ मिलकर खाना खाया और सासूजी बर्तन धोने लगीं। हम दोनों सोच रहे थे कि कैसे एक-दूसरे से बात करें।मेरी नज़रें सासूजी की मटकती गाण्ड पर टिकी थीं.

’इधर मैं भाभी जी के बारे में कुछ बताना चाहूँगा कि वो अकेली ही रहती हैं। मेरे मुँहबोले भाई यानि उनके पति कनाडा में रहते हैं। मेरा ज़्यादातर वक्त भी भाभी जी के घर ही बीतता है। मैं कॉलेज से सीधा उनके घर चला जाता था और उनके छोटे-मोटे काम यानि बाज़ार से सामान वगैरह ला कर दे देता था। वो भी मेरी पढ़ाई में मदद कर देती थीं।भाभी जी के बारे में कुछ और भी बताना चाहूँगा। उनका नाम भावना (बदला हुआ नाम) है. घर में नई भाभी आई थीं।सारे रिश्तेदार भैया की शादी के बाद अब मेरी शादी की बातें करने लगे थे। लेकिन मैं अभी शादी नहीं करना चाहता था।भाभी का पग-फेरा होना था. वो मैं करूँगी।फिर मैं उसके ऊपर चढ़ गया और अपने लंड को उसकी चूत के मुँह पर रगड़ना शुरू कर दिया और वो फिर से सिसकारियाँ भरने लगी और बीच-बीच में अपने चूतड़ को उचकाने लगी।जब वो मुझे ज़्यादा ही मदहोश होने लगी.

फिर मैंने धीरे से उसके गालों पर एक चुम्बन किया।हम दोनों को डर भी लगा हुआ था कि कहीं रसोई में से उसकी मम्मी न आ जाएं. चाची फोरप्ले में ही झड़ चुकी थीं।मैंने उनके मुँह में अपना लण्ड लगा दिया वो ‘गप्प’ से मुँह में पूरे लौड़े को ले गईं. मेरी ओर देखा और फिर मुझे चिपक कर सो गईं।वो ऐसा अक्सर करती थीं और वो उनका प्यार था।उन्होंने तीन-चार बार मेरी पीठ पर हाथ घुमाया.

मैंने हल्के-हल्के जोर लगा कर लौड़े को पूरा अन्दर घुसा दिया। वो इस दौरान हल्की-हल्की दर्द मिश्रित सीत्कार करती रही.

मुझे बड़ा अजीब सा लगा।उसका पति घर पर ना होने की वजह से अगले दिन दीप्ति को डॉक्टर के पास मुझे ही ले जाना था। मेरे को कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि ये क्या चक्कर है।आज रिपोर्ट मिलने का दिन था। दीप्ति की आँखें सूजी हुई थीं. मैं उनके पास में गया तो उनको लगा कि मैं उनसे बाहर जाने का रास्ता माँग रहा हूँ।वो बोली- बस 2 मिनट रूको.

सनी लियोन की बीएफ फुल एचडी वीडियो निशा थी। उसे वहाँ असिस्टेंट डायरेक्टर बना दिया गया था।निशा- शॉट रेडी है सर…मैं- अब तुम तो मुझे ‘सर’ मत कहो।बारिश का सीन था. वो कभी मेरे होंठों को चूम रही थी कभी गालों को अपने हाथों से वो मेरा पूरा बदन सहला रही थी और मैं जैसे ही ज़ोर से धक्के देने लगता था तो वो अपने नाख़ून मेरे पीठ में गाड़ कर मुझे कस कर पकड़ लेती थी.

सनी लियोन की बीएफ फुल एचडी वीडियो ’ करके पानी छोड़ देता है। क्या तुमने किसी से सेक्स किया है?मैंने कहा- नहीं।तो उन्होंने कहा- आज मैं तुम्हें एक नया गेम सिखाऊँगी. इन कपड़ों में उसका फिगर बहुत ही मस्त लग रहा था।वो तौलिया लेकर आई और मेरा सर पौंछने लगी, उसने कहा- कहीं तुम्हें सर्दी ना लग जाए.

इसके बाद तो मैंने सभी को व्हिस्की के लार्ज पैग बना दिए और खुद कम पीने लगा।मस्ती से दारू का मजा लेने के बाद हम सभी ने डिनर किया और उसका ब्वॉय-फ्रेण्ड खाना खा कर बोला- मैं लेट हो रहा हूँ.

सेक्सी वीडियो भेजो सेक्सी वीडियो चाहिए

मैं बहुत पहले से अन्तर्वासना का नियमित पाठक हूँ। मुझे अन्तर्वासना की करीब-करीब सारी कहानियाँ अच्छी लगी हैं. मैंने उसके माथे पर एक हल्का सा चुम्बन लिया और फिर धीमे-धीमे नीचे की ओर बढ़ता गया।उसके होंठ लगभग 10 मिनट तक चूसने के बाद. मैंने अपना लंड उनकी गाण्ड पर रख कर एक जोरदार धक्का दे दिया।मेरी इस कामरस से भरपूर कहानी को लेकर आपके मन में जो भी विचार आ रहे हों.

मुझसे अब सहन नहीं हो रहा था। मैंने जल्दी से उसकी ब्रा निकाली और सीधा होकर उसको किस करने लगा।वो मेरी आँखों में नहीं देख रही थी. इससे वो ज़ोर-ज़ोर से चिल्लाने लगीं और रोने लगीं। वो रोते हुए दर्द से कराह रही थीं।फिर मैं मौसी को होंठों पर चूमने लगा और बीच-बीच में लौड़े से लगातार उनकी मक्खन जैसी चूत को भी चोद रहा था।ठीक उसी समय मैंने फिर पूरी ताकत से एक जोरदार धक्का फिर लगा दिया। वो फिर से चिल्लाने लगीं- प्लीज़… प्लीज़. मुझे भी अपने ऊपर पूरा भरोसा था क्योंकि मेरे शुक्राणु बहुत पॉवरफुल हैं।मैंने भी बोला- आज के बाद बच्चे की खातिर चुदाने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी मेरी जान.

और मैंने उनका पूरा नमकीन पानी गटक लिया।मुझे बड़ा अच्छा लगा और अब मैं उन्हें अपना लौड़ा मुँह में लेने के लिए बोल रहा था.

जहाँ एक लड़का लड़की को देख कर ही पागल हो जाता है, चाची की उम्र ज्यादा ना होने की वजह से मेरा उनकी तरह आकर्षित होना स्वाभाविक था।चाची के बारे में अगर कहूँ. तो मैं देखता ही रह गया।इस समय उसने भी रात के कपड़े पहन लिए थे।आज के कपड़े कुछ ज्यादा ही सेक्सी और बोल्ड थे. यह माजरा क्या है?राधे और मीरा ने ममता को पास बिठाया और शुरू से अब तक की सारी बातें बता दीं।ममता- साहेब जी.

वो मेरे ऊपर से होते हुए आगे आ गई।अब मैं उसके पीछे चिपका सा उसके सर के ऊपर से देखने लगा।मेरा बायाँ हाथ उसके सर के नीचे तथा दायाँ हाथ उसके बगल से होते हुए सीने के आगे लगे बस की छड़ को थामे हुए था।बस अपनी पूरी गति से लहराते हुए चली जा रही थी और हम हौले-हौले हिचकोले खा रहे थे।हर हिचकोले पर इधर मैं उसकी पीठ से लगता और वो आगे को लचक जाती. तो उसको मैंने उंगली से इशारा किया कि वो कोशिश करे कि उसका लण्ड भी मेरी गाण्ड में आ जाए।मुझे थोड़ा डर भी लगने लगा कि पता नहीं यह हो पाएगा या नहीं. आज पीने का मन हो रहा है।तृषा- ठीक है। यही पास एक रेस्ट्रोबार है। हम वहीं चलते हैं।मैं- मैं तो तुम्हारी निगाहों के जाम की बात कर रहा था और तुम यह समझ बैठी। खैर.

आज तक मैंने लगभग सभी कहानियाँ पढ़ीं हैं।मैं सोनीपत हरियाणा का रहने वाला हूँ और मेरा नाम राहुल है। मेरा लण्ड जो 2. फिर वो शीतल को अन्दर ले गया और एग्जाम में बैठा दिया।मुझे रवि की आँखों में एक वासना भरी कामुक चमक दिख चुकी थी।बारह बजे शीतल बाहर आ गई.

तृषा मेरे घर में आई हुई थी।आखिर वो इतनी खुश कैसे हो सकती है। मेरा दिल अब तक उसे बेवफा मानने को तैयार नहीं था। मुझसे अब बर्दाश्त नहीं हुआ, मैंने वो छोटी वोदका की बोतल खोली और उसे ऐसे ही पी गया। जितनी तेज़ जलन मेरे गले में हुई उससे कई ज्यादा ठंडक मेरे सीने को मिली।मेरी साँसें बहुत तेज़ हो चुकी थीं। दिल की धड़कनें इतनी तेज़ हो गई थीं. चुम्बन वगैरह करते रहे।उसके बाद मैंने उससे एक दिन पूछ ही लिया- क्या तुम मेरे साथ सेक्स करोगी?उसने ‘हाँ’ कर दी. मैंने एक तरकीब सोची और हाथों में तेल लेकर उनकी बुर के आजू-बाजू में तेल लगाने के लिए अपनी ऊँगलियां चलाने लगा.

मेरी भाभी और रविंदर ही हैं। रविंदर अकसर कॉलेज और अपनी पढ़ाई में व्यस्त रहती है।मेरी भाभी तीन साल से शादीशुदा हैं और उसे माँ ना बन पाने का गम है। इसलिए हम दोनों में तय है कि जब तक वो गर्भ से नहीं हो जाती.

इसी दौरान उसने मुझे देखना शुरू किया और मैं भी उसे ही देखता रहा। उसने उठ कर एक मस्त अंगड़ाई ली और इसी के साथ उसके मम्मे ऊपर को उठे और मेरा लंड भी साथ में उठ गया।मैं तो उसे देखता ही रह गया. वो अपनी आँखें बंद करके चुदाई का मज़ा ले रही थी।उसने अपना हाथ मेरी पैन्ट पर रखा और मेरी जिप खोल कर लण्ड को बाहर निकाल लिया और चूसने लगी।मैंने चन्ना को बिस्तर पर चित्त लिटा कर उसकी टांगें फैला दीं और उसकी चूत चाटने लगा।तभी बेबो ने भी अपनी सलवार उतार दी और मेरी दूसरी तरफ़ लेट गई।उसे देखा कर चन्ना बोली- बेबो तू भी चाहे. अब मैं भी उसके मुँह से खेलते हुए आनन्द के सागर में गोते लगाने लगा था और अचानक ही मैंने देखा कि ये क्या मेरे लण्ड में खून की इतनी मात्रा आ चुकी थी कि वो पूरा लाल हो गया था.

मैंने दरवाजा खोला तो बाबूजी आए थे। बाबूजी कपड़े बदल कर हॉल में टीवी पर प्रोग्राम देखने बैठ गए।विलास भी नहाकर टी-शर्ट और हाफ पैन्ट पहन कर हॉल में बाबूजी के साथ बातें करते हुए बैठ गए।अपना काम निपटाकर मैं भी हॉल में आकर विलास के बाजू में बैठ गई।थोड़ी देर के बाद बाबूजी बोले- बहू खाना लगा दो।तो विलास ने कहा- बाबूजी आप खाना खा लो. तो वो तुरंत मान गई।वो हम दोनों से चुदने को राजी थी।अब हमने खाना खाया और अपना पुराना काम शुरू कर दिया.

दोस्तो, मेरा नाम मनोज है, मैं इलाहाबाद में रहता हूँ। इस घटना के समय मैं 23 साल का था।इंटर के बाद मैं एक जनरल स्टोर पर काम करने लगा था। एक बार SSC स्टोरकीपर का फार्म भरा और पेपर देने गोरखपुर गया।पेपर देकर वापिस आने के लिये इलाहाबाद का टिकट कटाया और प्लेटफॉर्म पर ट्रेन का इन्तजार करने लगा।एक ट्रेन आधे घंटे बाद आई. मैं अहमदाबाद की रहने वाली हूँ। एक गुजराती समझ से हूँ, गुजराती लोग काफ़ी मिलनसार और मीठे होते हैं।मैं काफी मर्यादाओं को मानने वाले परिवार से हूँ। पापा, मम्मी, दीदी और भाई. नाश्ते के बाद मीरा स्कूल चली गई और राधे अपने कमरे में वापस चला गया।चलो नीरज का हाल जान लेते हैं।गुरूवार की दोपहर को नीरज ने कुछ अच्छे कपड़े लिए.

सेक्सी वीडियो 12 साल लड़कियों की

वो उसकी जाँघों में स्कर्ट के ऊपर रगड़ लगा रहा था और इधर मेरी कलाई उसकी चूचियों पर रगड़ लगा रही थी।अचानक उसने हरकत की और मेरी तरफ करवट बदली.

मैंने अपना लौड़ा बाहर निकाला और कन्डोम उतार कर उसके मुँह में दे दिया।मैंने अपना माल उसके मुँह में छोड़ दिया. चूतड़ों और मम्मों को सहलाते हुए गाउन को नीचे गिरा दिया।रजनी अब सिर्फ पैन्टी में बची थी। मैं पूरी तरह से रजनी के गदराए हुए जिस्म के नशे में मदहोश हो रहा था। उसके होंठ चूसते हुए मैं उसके कान के पास. इससे मेरा और भी मनोबल बढ़ गया। अब मैंने धीरे से डॉली के गालों को चूम लिया।उस दिन बस मैंने 3-4 चुम्बन ही उसके गालों पर किए थी कि उसकी बहन अंजना की आवाज़ आई- डॉली.

ये ठीक है।अब हम चल पड़े। मैंने उसे उसके घर के पास छोड़ा और अपने कमरे पर चला गया। मैं कमरे पर पहुँच कर खाना खाकर सो गया।जैसे कि मुझे सुबह जल्दी उठने की आदत है. मेरी चाहत कर दो न पूरी।दिल तो ये ही चाहे… तेरा और मेरा हो जाए मुकम्मल ये अफसाना।दूर ये सारे भरम हो जाते. सेक्सी पोर्न वालीअगर आपने मेरे साथ एक बार सेक्स कर लिया तो आप भी मान जाओगी कि आपने आज तक सेक्स का असली मज़ा नहीं लिया।फिर उन्होंने मुझसे कहा- मैं एक सम्भ्रान्त परिवार से हूँ.

ये किसी को दिखाई नहीं देगा।मैं भाभी के दिमाग को मान गया। भाभी रात में कोई झंझट ना हो इसलिए वो साड़ी पहन कर आई थी।मैंने भाभी को लेटने को कहा और खुद उनके बगल में लेट गया और धीरे-धीरे उनके मम्मे दबाने लगा। भाभी तो पहले से ही बहुत गरम और चुदासी थी। वो सीधे मेरे से चिपट गई और मेरा लौड़ा पकड़ते हुए बोली- प्लीज राज जो भी करना है. नहीं तो मैं झड़ जाऊँगा।यह कह कर मैंने उन्हें लिटा दिया और मैं उनके ऊपर आ गया। मैंने लंड को उनकी बुर के मुहाने पर रख कर बिना पूछे ही एक जोरदार धक्का लगा दिया.

राधे बिस्तर पर लेट गया और कंबल अपने ऊपर डाल लिया।राधे- हाँ अब आँख खोल लो।मीरा ने पट्टी हटाई और राधे को देख कर थोड़ा गुस्सा हो गई।मीरा- ये क्या दीदी. तेरा इससे कुछ नहीं हो सकता।मुझे ये बात सुनकर बहुत गुस्सा आया और मैंने अपने दोस्त से कहा- मुझसे शर्त लगाओ. तुम तब तक मेरे साथ जो चाहे कर सकते हो।अब मैं आपको उसके साथ बिताया हुआ वो एक दिन की दास्तान सुनाता हूँ कि मैंने उसके साथ कितनी बार और कैसे चुदाई की।मैं उसका जवाब सुनते ही उसके थोड़ा और करीब खिसक गया और उसके हाथों को पकड़ लिया।वो चुपचाप थी.

वो रोमा को सलामी देने लगा। रोमा तो लंड देखते ही बेताब हो गई और झट से अपने घुटनों पर बैठ कर लंड को चूसने लगी।दोस्तो, उम्मीद है कि आप को मेरी कहानी पसंद आ रही होगी. उसने उठकर मेरा लंड पकड़ लिया और उसको बिना कोई वक्त जाया किए मुँह में पूरा डाल लिया।फिर मेरा साढ़े छः इंच का लौड़ा उसके गले तक पहुँच गया।करीब 5 मिनट तक उसने मेरे लंड को चूसा. सब लोग पढ़ते हैं।फिर उन्होंने मुझे सेक्स की थोड़ी जानकारी दी और बताया कि कैसे बच्चा पैदा होता है और मुझसे पूछा- क्या तुम ब्लू-फिल्म देखना पसंद करोगे?तो मैंने जल्दी से ‘हाँ’ कर दी। दरअसल मैं भी यह अनुभव करना चाहता था कि यह सब कैसा लगता है?फिर एक दिन वो मुझे अपनी सहेली के घर ले गईं.

अब तो कल ही आ पायेंगे!मैं- और आपने अपना हनीमून प्लान कर लिया।तृषा मुझे रोकते हुए बोली- तुम्हारा हर इलज़ाम कुबूल है मुझे.

इसलिए मैंने धोखे से उसकी गाण्ड मारने की सोची।मेरा लौड़ा तो एकदम फिर से कड़क हो गया। मैं खड़ा हुआ और उसके पीछे जाकर उसकी गाण्ड की दरार में अपना मूसल लण्ड रगड़ने लगा और मैंने उसे बाँहों में भर लिया।वो मुस्कुराने लगी. जाते हुए जब मैंने पीछे पलट कर देखा तो चाचा जी मेरे हिलते हुए चूतड़ों को देखते हुए अपने लौड़े पर हाथ फेर रहे थे।मैं समझ गई थी कि चाचा का लंड बहुत ही प्यासा है।रात को महिला संगीत था और हम सब खाना खाने के बाद तैयार हो गए।मैंने लहंगा और चोली डाली.

वो लगभग 32 साल की हैं और बहुत ही सुंदर और गोरी हैं। उनकी हाईट करीब 5’4″ होगी और फिगर 38-30-38 का रहा होगा। वो टीचर हैं और मेरी मम्मी की अच्छी दोस्त हैं। उनका कोई बच्चा नहीं है. एनजीओ की मैडम एनजीओ में एक या दो घंटे के लिए ही आती थीं और लंच टाइम तो खास कर दोनों लड़कियों का ही होता था. इस वजह से मैं अब तक गुस्से में लम्बी-लम्बी साँसें ले रहा था। अपने कदम बढ़ाता हुआ मैं उन दोनों की तरफ बढ़ रहा था।कैमरे ने मेरे चेहरे को फोकस किया और मैं बस तृषा की ओर ही देखे जा रहा था, मेरी नज़रें उसकी नज़रों से जा मिली।मेरे अन्दर जितनी भी नफरत थी.

उसके बाद मैं उतने ही लण्ड को चूत में धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करने लगा।वो अब भी दर्द से कराह रही थी और मैं चोदता जा रहा था।वो चिल्ला रही थी- एयेए ऊ माँ. पर वहीं दूसरा पहलू हर दिन गर्लफ्रेंड बदलता है।कहानी में ट्विस्ट तब आता है जब उस लड़के को एक ही परिवार की दो बहनों से प्यार हो जाता है।’मैं उन्हें रोकता हुआ बोलने लगा- दो लड़कियों से एक साथ सच्चा प्यार. और फिर उसने मेघा की योनि को ऐसे अपने मुँह में भरकर चूसना शुरू किया जैसे कोई रसीले आम को चूस रहा हो!मेघा पागल होती जा रही थी, उसके हाथ अर्जुन के बालों को खींच रहे थे.

सनी लियोन की बीएफ फुल एचडी वीडियो मैंने भी सारा पानी पी लिया, उनकी चूत की खुश्बू ने मेरी चुदाई की भूख और बढ़ा दी।अब मैंने उनको घुमाया और उनके ऊपर लेट कर उनके मम्मों और चूचुकों को चूमने लगा. तब इसके साथ चोदने में मज़ा आएगा…तो दूसरे वाले अंकल बोले- ऊपर के कपड़े मैं उतारूँगा…दादाजी ने कहा- ठीक है.

बाप बेटी का सेक्सी वीडियो जबरदस्ती

नीरज के हाथ रोमा की कमर पर घूम रहे थे और रोमा की साँसें तेज़ होने लगी थीं।रोमा ने काँपते होंठों से धीरे से नीरज के कान में कहा- आई लव यू नीरज. तो मेरी हर बुरी याद फ़्लैश बैक की तरह मेरे सामने से गुज़र जाती है।आज भी वैसा ही हो रहा था। मेरी आँखों से आंसू रुकने का नाम ही नहीं ले रहे थे और मैं पागल हुआ जा रहा था। जैसे-तैसे मैंने खुद को काबू में किया और अन्दर जहाँ श्वेता और निशा बैठे थे. इसलिए मेरा लण्ड फिसल रहा था।उसकी चूत काफी गीली हो चुकी थी फिर उसने मेरा लण्ड पकड़ा और उस पर धीरे से जोर डाल दिया तो मेरा सुपारा उसकी चूत में फंस गया।वो ऒफ़्फ़.

अब इनको भी निकाल दो और कुछ कहो।रोमा ने ब्रा के हुक खोले और उसे निकाल कर नीरज की तरफ़ फेंक दिया।अब वो पैन्टी को धीरे-धीरे नीचे सरकाने लगी. जोर से करो।अब मैं जोर से करने लगा। कुछ देर बाद मैंने अपना लण्ड उनकी चूत में से निकाल लिया तो उन्होंने पूछा- क्या हुआ?मैंने कहा- मैं अपने तरीके से करना चाहता हूँ।चाची ने कहा- तुम जैसे मर्जी करो. सुपारी सेक्सीमैं समझ गया कि नेहाचुदासी हो उठी है।मैंने गाड़ी रुकवाई और उसकी सलवार चड्डी को सरका कर अपनी पैन्ट और चड्डी नीचे की ओर कर दी। अब मैंने अपने लौड़े को थूकसे गीला करके उसकी गान्ड में रख दिया.

क्यों बिन्दू से दिल नहीं भरा?विमल ने शशि को होंठों पर किस किया और फिर पजामे का एलास्टिक नीचे को खींच दिया।जब वो एलास्टिक नीचे सरका रहा था तो उसने जानबूझ कर उंगलियाँ उसकी फूली हुई चूत पर रगड़ डालीं।अवी मुस्कराते हुए बोला- विमल.

सो मैं तृषा से अपने प्यार का इज़हार करता हूँ। उसे पाने की ख़ुशी से मेरी आँखें भर जाती हैं और मैं उसे चूमता हूँ. पर उसकी बातों से मेरे अन्दर का शैतान जाग रहा था।हेमा भी मेरे उस शैतान को जगाने पर लगी हुई थी। हेमा ने हल्का सा मेकअप किया था। उसकी आँखों में काजल बहुत अच्छा लग रहा था.

मैंने उससे बात की तो वो शीतल को पहले तो घूरने लगा उसने शीतल के मम्मों और उठी हुई गांड को ऐसे देखा कि अभी पटक कर चोदने के मूड में हो. मैं सब संम्भाल लूँगी।राधे ने ममता को अपने सीने से चिपका लिया और बस दोनों वैसे ही सोए रहे।उधर नीरज बातों के दौरान रोमा को सहला रहा था और उसको चुदाई के लिए मना भी रहा था- जान. वो मदहोश सा हो गया।मीरा की डबल रोटी जैसी फूली हुई बिना झाँटों की चमचमाती चूत उसकी आँखों के सामने थी।मीरा की चूत एकदम सफेद.

वहाँ कोई नहीं था।मैं अन्दर आ गया और रीतू अपने कपड़े चेंज करने बाथरूम में चली गई।वो बाथरूम से शॉर्ट्स और स्लीवलेस टॉप पहन कर आई थी.

मैं ही निशा की डॉक्यूमेंट्री की हिरोइन हूँ और जब निशा मुंबई जा रही थी तो मैं भी उसके साथ चल दी। मुझे तो बॉलीवुड का ‘सुपरस्टार’ बनना है।’फिर मेरी ओर देखते हुए निशा बोली- अब तो कुछ बताओ अपने बारे में. जब तक उसका लौड़ा झड़ नहीं गया।हालांकि उसका मोटा लण्ड मेरी छोटी सी गाण्ड के छिद्र में प्रवेश नहीं कर सका था फिर भी 4 दिन शौच करने में बहुत तकलीफ हुई।अब मैं उसके पास नहीं सोता था। फिर कुछ दिनों बाद उन्हें कंपनी की तरफ से कॉलोनी में घर मिल गया. दिलीप जी ने पैसों का बंदोबस्त किया और बड़ी बेताबी से नीरज का इन्तजार करने लगे।उधर नीरज और राधे ने पूरी तैयारी कर ली थी.

सुहागरात वाला हिंदी सेक्सीतब कहीं मुझे चैन आया।अब धीरे-धीरे मौसी भी मुझे कामुक नजरों से देखने लगीं।एक दिन मौसा और उनकी बेटी दोनों रविवार को अपने गाँव गए थे. तो मैं भी एक बजे उनके लंच टाइम तक खाली हो जाता था।धीरे-धीरे बात करते-करते अब मैं भी लंच टाइम पर एनजीओ में आ जाता था और उधर से मंजू का ब्वॉय-फ्रेण्ड भी आ जाता था।कुछ महीने ऐसे मिलते रहने में ही बीत गए।मेरी शादी की तारीख 7 नवम्बर 2010 निकल चुकी थी और एक नवम्बर की मेरी सगाई थी.

हिंदी सेक्सी कॉल गर्ल्स

फिर मैंने रवि को बोला- दोनों हाथों से शीतल को कमर के पीछे से अच्छे से पकड़ लो।मैंने सुन्न करने वाली क्रीम ली और आधी क्रीम शीतल की गांड में लगा दी. तो मैं दंग रह गया।प्रीति बिलकुल मेरे बाजू में खड़ी थी और बड़े गौर से ब्लू-फिल्म देख रही थी।मैं एकदम से हड़बड़ा कर उठा और जल्दी से तौलिया खींच कर अपने आप को ढंका. कुछ देर हम दोनों चुप रहे और वो मेरी आँखों में यूँ ही कामुकता से देखती रहीं। उनकी निगाहें मुझे चूत चुदाई के लिए बुला रही थी.

मैंने अपनी नजरों को नीचे झुका लिया और वहाँ से सीधे ड्राइंगरूम में चला गया, मैं वहाँ बैठ कर टीवी देखने लगा. म्म्मम्म्मै गई… ह्म्म्मम्म…’ यूँ लड़खड़ाते शब्दों के साथ वंदना ने अपने बदन को पूरी तरह से सख्त करते हुए कामरस छोड़ दिया।अब तो चूत की वो दीवारें जिन्होंने मेरे लंड को जकड़ रखा था वो और भी गीली हो गईं और मेरा लंड बड़ी आसानी से आने-जाने लगा।चिकनाई और रस से भर जाने की वजह से वही मधुर ध्वनि निकलने लगी जिस ध्वनि को सुनने के बाद लंड महाराज और भी मस्त हो जाते हैं और पूरे तन-बदन में सिहरन सी दौड़ जाती है।‘फच. मैंने भी सारे कपड़े उतार दिए।फिर उसने बताया कि आज वो बाजार से एक मोटी मोमबत्ती लाई है और मुझसे कहने लगी- अब हस्त-मैथुन करो.

जो मेरे पीछे-पीछे आ रही थी। लेकिन उसकी हेड लाइट्स सीधा मेरे या कहो कि हम दोनों के चेहरे पर थी। मुझे कुछ अजीब सा लगा. तो मैं और नेहा अपनी बुआ, चचेरी बहन और जीजाजी के साथ अपनी बुआ के गांव जा रहा था।हम गांव ट्रेन से गए। लेकिन गांव स्टेशन से 3 किमी दूर था सो बुआ ने गांव से किराए की टैक्सी का इन्तज़ाम किया था।जब हम सब लोग टैक्सी में जा रहे थे तो नेहा मुझे जीजाजी के साथ मिल कर मुझे छेड़ने लगी। मैं बुआ और चचेरी बहन के साथ में होने के कारण चुप था. वो धीरे-धीरे गरम हो रही थी।मेरा भी लंड खड़ा हो गया था।वैसे भी मैंने एक अंडरवियर के अलावा कुछ नहीं पहना हुआ था।मैं धीरे-धीरे उसके मस्त-मस्त मम्मों को दबाने लगा.

मैं उसे देखते ही परेशान हो गया और मन में सोचा इतनी सुंदर लड़की से मैं फोन पर बात करने को मना कर रहा था।उसने मुझसे पूछा- क्या तुम ही आर्यन हो?मैंने कहा- हाँ. सम्भोग भी करती हैं और उनके पति भी खुले दिमाग के इंसान हैं। उन्होंने पहले भी दिल्ली में और गुडगाँव में.

और बोलीं- अब डालो महारथी…मैंने एक हल्का सा शॉट मारा तो लौड़े का क्राउन चूत के अन्दर चला गया… वास्तव में भाभी की चूत अब भी बहुत कसी हुई थी.

लेकिन हर बार उसने मेरा हाथ पकड़ लिया। फिर मैंने अपना हाथ रज़ाई से बाहर खींच लिया। उस दिन मेरी गाड़ी इतना ही आगे बढ़ पाई।अगले दिन जब नीलम और पिंटू स्कूल चले गए और अंकल अपने ऑफिस चले गए. सेक्सी बीपी कॉलेज वालीऔर उसने कहा है कि तुम दोनों भी साथ चलो।तो मैं और राहुल चले गए।निहारिका पठानकोट के पास थी हमको वहाँ पर पहुँचने में 5 घंटे लगे। वहाँ हमने दो कमरे ले लिए होटल में और पुनीत को निहारिका का फोन आया और वो उसे लेने चला गया।हम दोनों ने उसके कमरे में खूब पर्फ्यूम छिड़का. सेक्सी पिक्चर स्पुतनिकवो बाहर चले गए।मैं दरवाजा बंद करके विलास के पास गई विलास ने झट से मुझे पकड़ कर अपनी बाँहों में ले लिया और मेरे होठों पर होंठ रख कर चुम्बन करने लगा। मैं भी उसका साथ देने लगी।फिर उसने मेरे गाउन को निकाल कर फेंक दिया. आज का दिन तू कभी नहीं भूल पाएगी।मैं उत्साहित हो कर आधी खड़ी हो गई। उसने कस कर मेरे होंठों को चूम लिया.

वो बहुत ही सुंदर घर था।हम लोग थोड़ी देर बात करते रहे और इसी बीच उसने चाय बना ली हम दोनों ने बात करते-करते चाय भी पी।फिर उसने मुझसे पूछा- आर्यन.

मैंने देखा कि शशि ने भी मेरी तरह अपनी चूत ताज़ी शेव की हुई थी।जब मैंने अपनी साड़ी और ब्लाउज उतारा तो वो मस्ती से भर गई. मैं भी बोर हो रही हूँ।तो मैंने भी उनकी ‘हाँ’ में ‘हाँ’ मिलाते हुए अपने प्लान को सफल बनाने के लिए अपनी इच्छा प्रकट की- हाँ यार. तो तुम्हें यहाँ बुला सकती हूँ।मैंने उसे अपने दिल की बात बतलाई कि मैं उससे प्यार करने लगा था। उसने पता नहीं क्यों.

मैंने उनका लंड अपने हाथ में लेकर मुँह में डाल लिया।उनका लंड बहुत गरम हो गया था और मैं कुतिया की तरह चाचा का लंड चाट रही थी और चूस रही थी। करीब 5 मिनट तक लंड चाटने के बाद चाचा का गरम-गरम वीर्य निकला. ताकि मैं उन्हें मेरा नंगा बदन दिखा सकूँ।थोड़ी देर बाद जब मैं पानी लेने रसोई में गया तो मुझे सामने वाली छत पर जहाँ 2 साल पहले 4 लड़कियाँ खड़ी थीं. मैंने घर पर आके देखा तो सास ने ज्योति की नाईटी पहनी हुई थी और वो बहुत अच्छी और सेक्सी लग रही थीं। मैं अचानक से आया था.

गुड्डू सेक्सी वीडियो

शायद वो भी मेरे हाथ का मज़ा ले रही थीं। फिर मैंने तेल अपने हाथ में लिया और साड़ी के अन्दर हाथ डालकर उनकी जाँघों पर तेल लगाने लगा।ओह्ह. लेकिन मेरी गाण्ड इतनी टाइट थी कि उंगली भी ठीक से अन्दर-बाहर न हो पाती और मैं बस अपने गाण्ड में उठी गुदगुदी के नशे में डूब कर किसी ब्लू-फिल्म की हीरोइन की तरह ‘आह. तो मैंने खुद पर काबू किया। कुछ ही देर में हम सभी शादी में पहुँच गए। वहाँ खाना आदि खाने लगे लेकिन मेरा मन खाना खाने का नहीं था।मेरे नजरें तो रूपा को ही ढूँढ रही थीं.

? मैंने सुना था कभी कि बांटने से दर्द हल्का होता होता है।मैंने उससे कहा- कभी मैंने भी किसी को चाहा था.

पर वो यहीं थी। खास बात तो यह थी कि मुझे उसका नाम भी नहीं पता था तो मैंने पूछा- आप सुबह क्या लेती हैं.

इस वजह से मैं अब तक गुस्से में लम्बी-लम्बी साँसें ले रहा था। अपने कदम बढ़ाता हुआ मैं उन दोनों की तरफ बढ़ रहा था।कैमरे ने मेरे चेहरे को फोकस किया और मैं बस तृषा की ओर ही देखे जा रहा था, मेरी नज़रें उसकी नज़रों से जा मिली।मेरे अन्दर जितनी भी नफरत थी. और मैंने उसके पपीतों को दम से मसलता रहा।उस रात हम दोनों ने 4 बार चोदन किया हम लोग उस रात को 2 मिनट को भी सो नहीं पाए. पोर्न सेक्सी फिल्म हिंदीतुमको लड़कियों की भावनाएँ भी समझ में नहीं आती हैं।अब मैंने थोड़ा शरमाते हुए जवाब दिया- मैंने कभी भी आपके बारे में ऐसी बात सोची ही नहीं और वैसे भी आपकी शादी हो चुकी है.

तो 2 बज चुके थे। अब हम दोनों ने एक साथ खाना खाया और फिर बिस्तर पर आ गए।करीब 5 मिनट लेटने के बाद मैंने मौसी को अपनी ओर घुमाया और उनके गाल पर चुम्बन करने लगा और उनके मम्मों सहलाने लगा।फिर मैंने उनके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और चुम्बन करने लगा। मैं उनका होंठ चूस रहा था और वो मेरा. मैं निशा और आप?मेरा ध्यान अब तक बाहर ही था, मैंने कुछ नहीं कहा, मुझमें कुछ भी बोलने की हिम्मत नहीं थी, मैं अब तक अपने शहर को ही देख रहा था।निशा- हाँ यार. उस दिन मेरे मन के सारे मलाल दूर हो गए और मैंने मौका ताड़ते हुए भाभी से कह दिया- भाभी तुम भी तो एकदम माल हो… मेरा तो क्या.

और रगड़ने लगा।नेहा मस्त हो उठी उसने गाड़ी में चुदाई ठीक नहीं समझी और गाड़ी को घर ले आई। घर में आकर मैंने उसे गोद में उठाया और उसकेबेडरूम में ले गया।मैंने जल्दी से नेहा का सूट उतार दिया उसकी काली ब्रा और पैन्टी को भी उतार फेंका और उसे वहीं लेटा दिया। टेबल पर पास में एकशहद की शीशी रखी थी. नाश्ते के बाद मीरा स्कूल चली गई और राधे अपने कमरे में वापस चला गया।चलो नीरज का हाल जान लेते हैं।गुरूवार की दोपहर को नीरज ने कुछ अच्छे कपड़े लिए.

मगर ये अपने काम से काम रखती है सुबह आती है शाम का खाना बना कर वापस चली जाती है।दोस्तो, उम्मीद है कि आप को मेरी कहानी पसंद आ रही होगी.

मैंने अपने दोनों हाथों में उनको थाम लिया और बड़े ही प्यार से सहलाने लगा। मेरी ये हरकत ममता को बहुत अच्छी लग रही थी। वो आँखें बंद किए हुए बिस्तर पर लेटी हुई थी। उसने उस समय चिहुंक कर अपनी दोनों आँखें खोल दीं. तो लोअर के साथ जांघिया भी घुटने तक आ गया।इससे मेरा लौड़ा खुल कर सामने आ गया। उन्होंने मेरे झाँटों से भरे लंड देख लिया और वो मुस्करा दीं। मुझे शर्म सी आने लगी. उसकी चूत इतनी गीली थी कि एक बार में ही मेरा लंड अन्दर चला गया।वो चीख उठी और बोली- धीरे डाल बहनचोद फाड़ेगा.

दिखाइए सेक्सी वीडियो दिखाइए ’कुछ देर ऐसे ही चूसने और चाटने के बाद उसका जिस्म अकड़ने लगा और उसने मुझे अपनी चूत में दबाते हुए अपना पानी छोड़ दिया. अभी और नहीं, अब तो मैं सिर्फ तुम्हारी हूँ। अभी तो खेल शुरू हुआ है, सब्र रखो सब्र का फल मीठा होता है।मैंने हंसते हुए कहा- हाँ.

इससे मेरा एक इन्च लंड मेरी प्यारी मौसी की गाण्ड में घुस गया और वो फिर चिल्लाने लगीं- नहीं बेटा… प्लीज़ छोड़ दो मुझे. घर वापस आते वक्त रोड क्रॉस करने पर उन्होंने मेरा हाथ फिर पकड़ा और रोड क्रॉस की। फिर मुझे एक अजीब सी ख़ुशी मिली. जो अभी थोड़े महीनों पहले ही घटी है।यह कहानी मेरी और मेरी एक दोस्त प्रिया की है। प्रिया की उम्र 18 साल है.

बीपी सेक्सी ओपन झवाझवी

इसलिए मैंने तय किया कि अब इसको नहीं पहनूँगी और मैं बिना पैन्टी पहने ही बाथरूम से बाहर आ गई।मैं चुपचाप अपनी सीट पर आकर बैठ गई। पता नहीं उस लड़के को कुछ समझ में आया या नहीं. फिर पेटीकोट भी उतार दिया।अब चाची सिर्फ़ ब्रा और पैन्टी में खड़ी थीं। उस समय ऐसा लग रहा था कि जैसे कोई हूर जन्नत से उतर आई हो और मेरे सामने खड़ी हो।तभी मुझे लगा दरवाज खुला है. राधे ने कमरे में जाते ही दरवाजे को लॉक किया और अपने कपड़े निकालने शुरू कर दिए।मीरा बस उसको देख कर मुस्कुरा रही थी.

आज तो मज़ा आएगा।फिर मैंने भी उसका साथ दिया और उसे तुरंत नीचे करके उसके ऊपर चढ़ गया और उसे चूमने-चाटने लगा। हमारे होंठ एक-दूसरे के होंठों में फंसे हुए थे. आयुष ने दरवाजा खोला और रोमा को सामने देख कर उसके चेहरे की खुशी देखने लायक थी।रोमा- टीना घर पर है क्या.

मैं अन्दर ही अन्दर जलती रहती हूँ… कभी-कभी तो मुझे अपनी चूत में उंगली डाल कर शान्त होना पड़ता है।मैंने कहा- यार मैं भी तुम्हारी सुंदरता का दीवाना हूँ और कब से तुम्हारी चूत का मज़ा लेने का सपना सोचे जा रहा था.

मैंने भी उनकी चूत का पानी और पेशाब पिया।मैंने ऐसा इतनी बार किया कि उनकी चूत और मेरे लंड में उफान मच गया। मैंने अपनी प्यारी मौसी को हर पोज़ में चोदा और कुछ नए पोज़ में भी चोदा। हम दोनों को इतना मज़ा आ रहा था कि क्या कहूँ।हम लगातार चुदाई करके थक चुके थे। हमें पता ही नहीं चला कि कब दस दिन गुजर गए। फिर मौसा जी का फोन आया कि मैं कल आ रहा हूँ. और शीतल मेरे बालों में और सिर पर अपना दूसरा हाथ फेर रही थी।अब दीदी ने पीछे से हल्के-हल्के धक्के देने लगी. मैंने हल्के-हल्के जोर लगा कर लौड़े को पूरा अन्दर घुसा दिया। वो इस दौरान हल्की-हल्की दर्द मिश्रित सीत्कार करती रही.

वो भी पूरा सहयोग करने लगी और अपने मम्मों पर मेरा सर पकड़ कर ज़ोर से दबाने लगी। ऐसा लग रहा था कि चुदाने के लिए ज़न्मों की भूखी है।अब मैंने उसकी जीन्स को भी उतार दिया. वो अपने ब्वॉय-फ्रेण्ड के यहाँ रुकेगी और वो होटल में कमरा लेकर रहेगी।मैंने उसको अपने यहाँ रुकने के लिए मना लिया. मैंने उसको चुम्बन करने शुरू किए और बिस्तर पर सीधा लेटा दिया। अब मैंने लंड को उसकी चूत के मुँह पर रगड़ना शुरू किया.

आज तो आप बहुत सुंदर लग रही हैं।उसने ‘थैंक्स’ कहा।मैंने कहा- काला रंग तो मुझे बहुत ही पसंद है।वो खुश हुई.

सनी लियोन की बीएफ फुल एचडी वीडियो: क्योंकि उस वक्त मेरे लण्ड का बुरा हाल था वो चूत चुदाई चाह रहा था।मैं उनकी पारदर्शी नाईटी में से उनके चूचुक और बड़ी-बड़ी गोरी जांघें. लगते हो।’ ये कहते हुए शशि मेरे पति के गले लग गई और विमल ने उसको अपने आलिंगन में ले लिया।दोनों ऐसा मिल रहे थे जैसे बिछड़े आशिक मिल रहे हों.

और रगड़ने लगा।नेहा मस्त हो उठी उसने गाड़ी में चुदाई ठीक नहीं समझी और गाड़ी को घर ले आई। घर में आकर मैंने उसे गोद में उठाया और उसकेबेडरूम में ले गया।मैंने जल्दी से नेहा का सूट उतार दिया उसकी काली ब्रा और पैन्टी को भी उतार फेंका और उसे वहीं लेटा दिया। टेबल पर पास में एकशहद की शीशी रखी थी. मीरा समझ गई कि पापा क्यों रो रहे हैं।उसने जल्दी से अख़बार पापा से छीन लिया और गुस्सा हो गई।मीरा- पापा हद हो गई. आप नाश्ता कर लो।राधा सुकून से सो रही थी। दिलीप जी और मीरा को नास्ता करवा कर ममता साफ-सफ़ाई में लग गई।दिलीप जी किसी काम से बाहर गए और ममता को हिदायत दे गए कि राधा को परेशान मत करना.

मैं भी एक दिन दोस्तों के साथ मेला घूमने गया।मैं नया-नया स्कूल से आया था और बाहर का माहौल देख कर मैं बहुत खुश था.

तो वो भी कहीं और काम ढूँढने जा रहा है।यह बोल कर उसने एक झोपड़पट्टी में अलग जगह ले ली। अभी वो एक कोठे पर बैठा शराब पी रहा था।शीला- अरे मेरे राजा शराब ही पीता रहेगा या कुछ करेगा भी. मैं बस एक काम-आतुर की तरह उसके सम्मोहन में गिरफ्तार हुआ उस कामिनी के पीछे चल पड़ा।हम लोग अन्दर गए तो मालूम हुआ कि उसकी दोस्त एक नोट छोड़ गई थी कि वो अपने रिश्तेदार के घर जा रही है और रात को वहीं रुकेगी।मेरी खुशी का ठिकाना ही नहीं रहा. नैनीताल का रहने वाला हूँ।मैंने अन्तर्वासना की हर एक कहानी पढ़ी है। मैं काफी समय से सोच रहा था कि अपनी कहानी आप लोगों से शेयर करूँ.