बिहारी हॉट बीएफ

छवि स्रोत,मोती एंटी बीएफ

तस्वीर का शीर्षक ,

सेक्सी देसी भाभी चुदाई: बिहारी हॉट बीएफ, जो उन्होंने ही मुझे बाद में बिस्तर में कबड्डी खेलते समय मेरे पूछने पर बताया था.

इंग्लिश बीएफ बीएफ सेक्सी बीएफ

कुछ देर निधि की चूचियों को दबाने के बाद मैंने निधि के कंधों पर से साड़ी का पल्लू नीचे गिरा दिया।निधि की चूची को ब्लाउज के ऊपर से दबाने के बाद उसके ब्लाउज का हुक खोलकर उसके ब्लाउज को निकाल दिया।मैंने निधि के ब्रा का हुक खोलकर उसे निकाल दिया. सेक्सी ब्लू फिल्म बीएफ मूवीकरीब 5 मिनट बाद वो शांत हुई, तो मैंने उसकी गांड मारना शुरू कर दिया.

आकांक्षा फिर से चीख उठी- आआईईई मां उफ़्फ़ ओहह हह उईईई मार डाला … आराम से कुणाल. सेक्सी फिल्म एक्स एक्स एक्स बीएफमाँ उसका लंड मुंह में लेने की कोशिश कर रही थी लेकिन उसका लंड मां के मुंह तक नहीं पहुंच पा रहा था.

बस यहाँ ऑफिस में छुट्टी नहीं मिलती है जल्दी!फिर शाम की चाय के बाद सब खाना खाके रूम में चले गए.बिहारी हॉट बीएफ: मैंने उसकी चूत के दोनों होंठों को अलग करके अन्दर देखा, तो कमाल की गुलाबी रंगत वाली चूत के दीदार हुए.

इस कहानी की नायिका का नाम मैं नहीं लूँगा, ऐसा उसकी प्राइवेसी बनाए रखने के लिए कर रहा हूँ.गदराया हुआ शरीर 34″ के उभार और मटका सी गांड! कुल मिलाकर ऐसी लगी कि मैं उसे देखता ही रह गया!मैं थोड़ी देर बाद अपने काम में लग गया, सारे काम चलते रहे.

देसी सेक्सी बीएफ वीडियो देसी - बिहारी हॉट बीएफ

अगर आपका रेस्पोन्स ठीक रहा तो फिर मैं दिल्ली में चुदाई की घटनाएं भी आप लोगों के साथ शेयर करूंगा.तभी बहू बोली- वैसे रानी सारा काम कर गयी?मैंने कहा- हाँ वो तो आधे घंटे पहले ही चली गयी थी.

मैंने अपना होश संभालते हुए, अपने बाएं पैर को पकड़ते हुए उससे कहा- मुझे बहुत जोर से लग गई है. बिहारी हॉट बीएफ मेरा लण्ड मम्मी की चूत के अन्दर था और मम्मी की चूची मेरे मुंह के अन्दर.

भाभी गर्म तो पहले से ही थी तो उसने भी अपनी टांगें चौड़ी के थोड़ी और फैला दी।थूक से लथपथ लंड को उसकी गांड पर घिसने लगा और उसे उसका छेद दिखाते हुए हल्के के लंड को एक झटका दिया जिससे लंड की सुपारी उसके छेद में आराम से घुस गई। उसने एक हल्की सी सिसकारी ली।मैंने एक बार फिर हल्का सा जोर लगाया और अपना मेरा लंड रगड़ खाता हुआ उसकी गांड की गहराई मापने को उतरने लगा.

बिहारी हॉट बीएफ?

फोन काटते हुए पंकज ने मुझसे कहा- यार, तू उसके पास एक बार जा तो सही, फिर तुझे असली जन्नत का मजा आएगा. इसे अनुभवी चिन्ना ने तुरंत भांपते हुए अपने हाथों को करोना बेटी के दोनों जांघों पर रखते हुए नीचे की और खींच लिया और अपना हथियार ढंग से करोना बेटी की नाजुक चूत की फांकों के बीच लम्बवत फंसा दिया. कल की सारी बातें मुझे वापस सपने की तरह बार बार दिखाई दे रही थीं और मुझे वापस कल्पना की चुदाई करने का मन होने लगा.

फिर ब्रा उसके जिस्म से एक झटके में अलग करके एक दूध को मुँह में लेकर चूसने लगा. अब मेरी बारी है इसलिए तुम ऊपर आ कर मेरा खड़ा लण्ड अपनी चूत में ले लो और अपनी दोनों चुटकियों में पकड़ कर मेरे निप्पलों को मसलो. भाभी मेरे दोनों गोटों को एकदम प्यार से सहला रही थीं और मेरे सात इंच के लंड को पूरा निगल रही थीं.

कक्षा 12 उत्तीर्ण करने के बाद मैं अपने पापा के साथ दुकान पर बैठने लगा. और मैं उससे भी ज्यादा विस्तार से लिखूंगा जिससे मेरा यह लेख सार्थक हो जाए. मैंने थोड़ा ज्यादा जोर लगाया तो मेरा 2 इंच लवड़ा मेरी ममेरी बहन की चूत के अंदर चला गया.

उस दिन पहली बार मैंने उसकी बीवी दीपिका को अपनी आंखों के सामने देखा. लण्ड के इस रूप को देखते ही करोना बोली- ओह इतनी बड़ी सू सू!उसकी इस बात को सुन कर चिन्ना की हंसी निकल गई और वह हँसते हुए बोला- बेटी, सुसु तो बच्चों की होती है, इसे तो लण्ड या लौड़ा कहते हैं.

इसके आगे की कहानी में क्या होता है, यह जानने के लिए आप इस स्टोरी से जुड़े रहें.

एक जगह थोड़ी सी जगह खाली थी वहीं पर मैंने निधि को रोक कर उसके सामने घुटनों के बल बैठ कर उसका हाथ पकड़ कर उसे आई लव यू बोला।जवाब में निधि ने भी मुझे आई लव यू बोला.

इसके बाद मैंने उसकी बुर को पूरी हथेली से सहलाया, तो उसने अपनी आंखें बंद कर लीं. लेकिन वास्तव में वह एक पक्का औरतखोर है।अपने शोध के दौरान उसे पता चला कि उसके निर्वाचन क्षेत्र के सामान्य लोग उससे बहुत खुश हैं और कोई भी उसके खिलाफ नहीं बोलता है।अपनी कहानी जारी रखने से पहले मैं अपनी कहानी मुख्य पात्रों करोना और चिन्ना खान का परिचय करना चाहता हूं।करोना एक वरिष्ठ आईएएस अधिकारी की इकलौती बेटी है. बहू और मैं एक दूसरे के सामने खड़े थे मगर पता नहीं क्यों मैं हिम्मत नहीं कर पा रहा था.

तभी नवीन जी मेरे मम्मों पर हाथ घुमाने लगे और मेरे दूध मस्ती से दबाने लगे. जब भी हमें अकेले में मौका मिलता, मैं कज़िन सिस्टर के साथ सेक्स का मजा लेता. मैंने कहा- मैं तेरी गांड मार तो दूंगा, पर क्या तू दर्द सह पाएगी? क्योंकि गांड में ज्यादा दर्द होगा.

रचना बोली- इस जीवन में मैंने अपना पूरा शरीर अबन … तुमको हमेशा के लिए सौंप दिया.

बाद में निशान भी पड़ जायेंगे, इसका ख्याल किये बिना मैं उसकी गर्दन को चूस रहा था. सीमा ने भी अपनी चूत के दरवाजे को खोल दिया और खड़े खड़े ही मेरे लंड को अपनी चूत के अन्दर समां लिया. रियल लाइफ में तुम जैसे कहोगे, वैसे मैं करूंगी … और सेक्स लाइफ मेरे हिसाब से … प्लीज़ जान.

मैं जोर से चिल्लाते हुए बोली- हराम के पिल्ले … भोसड़ी के काट क्यों रहा है … मादरचोद मजे से चूस न. भाभी ने कपड़े पहनने को कहा और खुद भी मैक्सी पहन कर अपनी पैंटी को बाथरूम में डाल आईं. रानी की आँखें बंद थी और हल्की सी प्यार भरी आवाज ‘आह’ उसके मुँह से निकली.

… कि आप यहां क्या कर रही थीं?उसकी इस बात को सुनकर मैं एकदम से चुप रह गयी.

अब तो मुझे रात में उन दोनों की चुदाई देखने का मौका भी नहीं मिलने वाला था. मैंने पूजा से पूछा- वो कहाँ गयी?तो उसने कहा कि आपके लिए सरप्राइज है।वो लाल कलर की साड़ी पहन कर मेरे सामने आई, उस साड़ी में वो बहुत ही खूबसूरत लग रही थी.

बिहारी हॉट बीएफ इस वजह से पूरे कमरे में ठप-ठप की आवाज़ और भाभी की सिसकारियों की मस्त आवाजें गूंज रही थीं. फिर में डांस फ्लोर पर जाकर बियर पीते पीते डांस करते हुए उस लड़की को देखे जा रहा था.

बिहारी हॉट बीएफ पर अनुभवी चिन्ना स्थिति को भांपते हुए संभाल ली और ऐसे दिखावा किया जैसे कुछ नहीं हुआ हो. माँ ने उसको बोला- तुम मुझे बहुत अच्छे लगते हो, तेरे लिए मैं बहुत दिनों से इंतजार कर रही थी अब देख, हम तेरे घर में ही तेरे ही बिस्तर में सेक्स करेंगे।विशु बोला- हां आंटी, मैंने आपके लिए ही अंकुर से दोस्ती की थी.

तभी बगल वाले घर में, जिनकी छत मेरी छत से लगी हुई थी, उसमें एक आदमी आया वो करीब 6 फुट का था लम्बा चौड़ा … देखने में किसी जिम का ट्रेनर लग रहा था.

𝒉𝒊𝒏𝒅𝒊 𝒙𝒙𝒙.𝒄𝒐𝒎

मैंने उसे किस किया और कहा- जानेमन एक क्या … मैं तुम्हारे लिए सौ काम भी करूंगा. कुछ देर किस करने के बाद मैं खड़ा हुआ और मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिए. भाभी ने अपनी आंखों में वासना के डोरे तैराए और मुझसे सरगोशी से बोलीं- मोहित, क्या तुम मुझे चोदोगे?मैं उनके होंठों को चूमा और दूध मसल कर बोला- मैं तो कब से लंड खड़ा किए हूँ मेरी जान.

दस मिनट की मेहनत के बाद मैंने अपनी बहन की कुंवारी बुर को एकदम चिकना कर दिया. भाभी भी शायद मूड में थीं तो वो भी बिंदास अपनी चूचियों को दिखा कर मजा ले रही थीं. मैंने देखा कि मेरा कंडोम उसकी चूत में फंस गया है और मेरा पांच इंच का लंड एक इंच का हो गया है.

अब उसने मां के बालों को पकड़ा और अपनी ओर खींचा और अपने लंड को सटासट मां की चूत के अंदर घुसाता चला गया.

उसे पता नहीं था हस्तमैथुन कैसे करें।वह बस दूसरे कमरे से आने वाली आवाज़ों को सुनती रही. मैं उसके चेहरे और उसके होंठों को पागलों की तरह चूमने लगा और वो अपने मुँह से ‘सीई ससीईई सससीईईई. अम्मी उसे देखते हुए बोलीं- बेटी तू इस मुद्दे पर गंभीरता पूर्वक विचार कर.

तीसरे दिन सभी के जाने के बाद मैं उसके पास गया और डांटते हुए उसे खड़े होने का कहा. मैंने समय बर्बाद ना करते हुए उसको हल्का सा ऊपर खींचा … वो जैसे ही ऊपर देखी … मैं उसको किस करने लगा … वो भी मेरा साथ दे रही थी … फिर मैंने उसकी 2 और पोजीशन में 45 मिनट कर चुदाई की. वो मुस्कुराई और बोली- वो आपको पैसे देने के लिए बोल कर गए हैं कि आप पैसे लेने आओगे.

इसके बाद उन्होंने मेरे दोनों हाथ सिर के ऊपर रखवा दिए और मेरे पैरों को भी फैला दिया. इसका मतलब यह नहीं कि आप घर के आसपास किसी पार्क में चले जाएँ या नुक्कड़ पर इकट्ठे होकर कोरोना पर चर्चा करें.

मैं अपने बारे में बता दूं कि मैं एक बहुत ही मस्त और सेक्सी शरीर की मालकिन हूं. चाची के मुंह से अब धीरे धीरे आवाजें आने लगीं- आह्हह … आह … ओह … आई … आह्ह… आराम से राज… ऊन्ह … हाह् … धीरे से, उफ्फ…। ऐसा करते हुए चाची मेरे लंड से चुदने लगी. दोनों बाप-बेटे मेरे दूधों को चूसते रहते हैं इसलिए शायद इतने बड़े हो गये हैं.

मैंने सोचा कि जो यहां पीजी या कमरा किराए पर लेकर काम करने वाले रहते हैं, उनके वहां जाकर कुकिंग आदि काम करने लगूँ.

तुम लोग सिर्फ देखते हो या कुछ करते भी हो?”शगुन के घर में उसका चाचा रहता है, वो अपने चाचा के साथ करती है. उसके दोनों मम्मे ब्रा के खुलने से एकदम से फुदक कर ऐसे बाहर आ गए, जैसे दो पंछी पिंजरे से बाहर आ गए हों. पिछले 4 महीनों से प्यासी हूँ।मैंने भी पिछले दो महीनों से कुछ नहीं किया था तो बरदाश्त करना अब मेरे भी बस में नहीं था.

उनकी इन हरकतों से मेरी जान निकल रही थी और कुछ ही देर में मैं संभोग की चरम अवस्था पर जा पहुंची. 5 फीट की हाइट का एक बड़े डीलडोल वाला आदमी है जिसका रंग काला है और बहुत प्रभावशाली वक्ता है।जब चुनाव की तारीखों का ऐलान हो गया और चिन्ना को उनकी पार्टी ने लगातार चौथी बार टिकट दे दिया, तब करोना ने किसी तरह अपने पिता के प्रभाव का इस्तेमाल करते हुए चिन्ना से मुलाकात की।वह शाम को लगभग चार बजे चिन्ना कार्यालय पहुंची.

कल्पना निढाल से स्वर में बोली- तुमने तो सच में मेरी प्यास बुझा दी … मैं भी तुम्हें अभी जन्नत की सैर करवाती हूँ … रुको. मैंने देखा कि मेरे जाने से पहले मेरे मामा की लड़की वर्षा ऊपर छत पर सो रही थी एक बच्चे के साथ. उसको प्यार से समझाते हुए कहा- कोई बात नहीं, आज के लिये इतना ही बहुत है.

पोर्न फिल्में हिंदी में

कमरे को ताला लगा कर मैं जैसे ही नीचे उतरने के लिए मुड़ा, तो देखा कि भाभी के पति कहीं बाहर जा रहे थे.

तभी बहू बोली- वैसे रानी सारा काम कर गयी?मैंने कहा- हाँ वो तो आधे घंटे पहले ही चली गयी थी. फिर भाभी उठी और बोली अपनी सहेली से- तू उसका लंड चाट, मैं इसके मुंह पर बैठकर चूत चटवाती हूं. दस मिनट बाद वापस आया तो सारिका सो रही थी, मेरा फोन वहीं रखा था लेकिन फोन का बदला हुआ स्थान बता रहा था कि उसे उठाया गया था.

जब उसने अपनी चूत को देखा तो चूत की दोनों फाकों के बीच दो उँगलियों का गैप हो चुका था. मेरा लंड उछाले मार रहा था तो मैंने उसे धीरे से बिस्तर पर लिटा दिया और उसके बगल में लेटकर उसे फिर से और ज्यादा गर्म करने लगा. बीएफ फोटो चुदाईउनकी चूचियों में जो तनाव मैं इस वक्त महसूस कर रहा था वो मैंने सिनेमा हॉल में दीदी के साथ मूवी देखने के टाइम पर नहीं किया था.

रचना की हालत एक बेकाबू जानवर की तरह हो गई थीउसने मुझे एक जोर का धक्का दिया और खुद से अलग कर दिया. मैंने कहा- तुझे ऐसा क्यों लगता है?रानी बोली- अरे बाबूजी, अगर किसी का आदमी सही से चोदे तो उसे इस सब की क्या जरूरत है?उसकी बात में सच्चाई थी.

अगले कुछ ही पलों में मैंने उसकी पैंट उतार कर उसे पूरा नंगा कर दिया. मैंने कहा- तुम यहां रोज आती हो क्या?वो बोली- हां, तो फिर रोज ही इस तरह बकरा और बकरी के मजे लेती हो देख कर?ये सुन कर उसका चेहरा शर्म से लाल हो गया और मेरा लंड मेरी पैंट में एकदम से सख्त हो गया. जीवन में पहली बार मरदाना हाथों के सख्त मगर प्यार भरे स्पर्श से करोना के बदन में एक झुरझुरी सी दौड़ गई और एक अजीब से सनसनाहट होने लगी.

मैंने नसरीन की ठोड़ी को पकड़ कर उठाते हुए कहा- नसरीन … बोलो ना … आई लव यू … डू यू लव मी?वो शर्म से सर झुकाए हुए खामोश थी. मम्मी का हाथ अपने हाथों में लेकर उसको चूमते हुए मैं बोला- आई लव यू, रेनू. मैं अभी कुछ संभल पाता कि उन्होंने जल्दी से मेरे पूरे लंड को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगीं.

और करोना ने चिन्ना अंकल के लण्ड पर बैठ कर गप से अपनी खुल चुकी चूत में जड़ तक ले लिया.

तभी तो इसकी प्यास बुझेगी।”मैंने उन्हें कस कर पकड़ लिया और जोर जोर से झटके लगाने लगा. मानवी जैसे ही मुझे उठाने वाली थी, तो उसकी नजर मेरे लोअर पर पड़ी … वहां तम्बू बना हुआ था.

थोड़ा बाहर निकला पेड़ू, और गहरी, बड़ी और बिल्कुल गोल नाभि, जिसकी गहराई 1 इंच होगी और गोलाई 2 इंच! उसके चारों तरफ पानी की छोटी छोटी बूंदें चमक रही थी, कटिप्रदेश से नीचे काले रंग छोटी सी पैंटी कसी हुई थी, जो भीग कर बिल्कुल चिपक गयी थी. रास्ते में निधि ने कहा कि आज प्रपोज़ डे है, किसी को प्रपोज़ करना है या नहीं?मैंने उसकी बात काटते हुए कहा- पहले तुम बताओ।निधि ने कहा- हाँ, आज मुझे किसी को प्रपोज़ करना है अगर वो मुझे नहीं करता है तो!तब मैंने उससे कहा- ऐसे ही जाकर किसी भी लड़के को प्रपोज़ कर दोगी?निधि ने कहा- इशारा तो उसे बहुत करती हूँ पर वो मेरी बात ही नहीं समझता है. लंड जब चूत पर पड़ रहा था तो ऐसा लग रहा था मानो कोई मिसाइल आसमान से जमीन पर गिर रही हो.

फिर अटेंडेंट ने करोना की और देखते हुए कहा- साहब, आप मसाज के लिए करोना से मदद ले सकते हैं क्योंकि यह आपकी पर्सनल सेक्रेटरी है और ये आपकी मदद जरूर करेगी। मैं सही कह रहा हूँ ना करोना मैडम?अटेंडेंट के इस प्रपोजल से करोना को बहुत धक्का लगा। अब करोना को कुछ कुछ समझ आने लगा कि नेताजी खाने के बाद बस से नीचे क्यों गए थे. दो मिनट इंतजार करने के बाद जब मुझे सब कुछ सही लगा तो मैंने फिर से उसकी चूचियों को दबाना शुरू कर दिया. पर मैडम ने मेरे खड़े लंड को नोटिस कर लिया था। वो बार बार मुझे झुक कर अपने बूब्स दिखा रही थी और मैं पागल हुआ जा रहा था।बातों बातों में उन्होंने बताया कि वह अपने हस्बैंड को बहुत मिस करती हैं.

बिहारी हॉट बीएफ कुछ देर बाद मम्मी भी आ गयी। हमने मिल कर खाना खाया और सब अपने काम में बिजी हो गए।मम्मी का बाहर रहने का प्रोग्राम चलता रहता था और अब हम भाई बहन भी खुल चुके थे. आज की रात मेरे लिए बहुत रंगीन होने वाली थी।उस दिन मेरा शाम को छुट्टी का टाइम आ ही नहीं रहा था … इंतजार की घड़ियां खत्म ही नहीं हो रही थी.

ब्लू सेक्सी मूवी फिल्म

मैं ये भी सोच रहा था कि दीदी अब तक अपने ब्वॉयफ्रेंड से चुद चुकी हैं या नहीं. वे तीनों पूरी माल जैसी लड़कियां एक साथ आपस में चूमाचाटी के मजे ले रही थीं. तभी मैं रानी से थोड़ा जोर से बोला- रानी, जल्दी से मेरा पानी निकल दे, बहू आने वाली होगी.

और अबकी बार किसी सहेली या दोस्त को मत लेकर आना!उसने कहा- ठीक है, अरेंज करो … मिलते हैं कभी!फिर हमने प्लान बनाया कि एक हफ्ते बाद हमें इस जगह मिलना है। मिलने के लिए हमने मेरे दोस्त की मदद ली जो एक होटल में काम काम करता है।अब मेरा ये एक हफ्ता नहीं कट रहा था; बस दिन रात उसकी चूत के सपने देखने लगा. मैंने उसकी चूत में दो-चार धक्के तेजी के साथ लगाये और जब माल एकदम आने लगा तो मैंने जल्दी से लंड को निकाल कर उसके मुंह में दे दिया. बीएफ विदेव बीएफवह भी अपना कमर हिलाकर मेरा साथ देने लगी, मुझे जोर से धक्का लगाने के लिए बोलने लगी।मैंने अपनी स्पीड बढ़ा दी।बीस पच्चीस धक्के के बाद वह झड़ गई.

पर मैंने उसे उठने नहीं दिया और थोड़ी देर बाद मैंने उसे ऊपर नीचे होने को कहा.

मैं उसके पास जाकर बैठ गया और माया को देखने लगा और धीरे धीरे उसके होंठों की तरफ अपने होंठों को बढ़ाने लगा. यहां पर गौर करने वाली बात ये भी है कि एक पुरूष का स्पर्श आपके जिस्म को ऑर्गाज्म का अनुभव करने के लिए ज्यादा संवेदनशील बनाने में सहायक होता है, खासकर कि जब आप योनि मसाज का विकल्प चुनती हैं.

मेरे दोस्त ने मेरी नंगी मम्मी को बेड पर लिटाया और उनके पैरों से चूमना चालू किया. मगर रात में ये भी मेरे लंड से खुजली मिटवाने की बात कर रही थी, तो उससे मुझे कोई डर नहीं था. अब उसने मां के पैरों को दोनों हाथों से पकड़ा और अपनी कमर का पूरा जोर लगाते हुए मां की चूत को चोदना चालू किया.

मैं बहुत थक चुकी थी, तो मैंने दूल्हे की मम्मी से ये बोला, तो उन्होंने मुझे एक छोटी लड़की के साथ गेस्ट रूम में भेज दिया.

मम्मी की रंगरेलियाँ मैंने अपनी जवानी की शुरुआत से ही देखनी शुरू कर दी थी। अब मेरी भी सेक्स की आग भड़कने लगी थी। पहले तो उंगली से फिर गाजर मूली, लेकिन असली मजा तो असली चीज से ही आता है. एक बड़ी बात ध्यान रखें कि कोरोना वायरस का वाहक कोई भी हो सकता है चाहे वो खुद बीमार हो या ना हो. और मेरी रंडी माँ अन्ह्ह उफ्फ अन्नह विशु और चोदो मुझे! की आवाज में निकालकर सुखद अनुभूति की प्राप्ति कर रही थी.

बीएफ वीडियो चुदाई करते हुएमैं कोलकाता का रहने वाला हूं पर अभी मैं दिल्ली में हूं और मैं किसी बैंक का कर्मचारी हूं. क्या तुम भी मुझे पसंद करती हो?निधि ने कहा- रात में दस बजे कॉल करने जवाब तभी मिलेगा.

सेक्सी मूवी ब्लू मूवी

तो यारो, आप सभी को मेरी मस्ती भरी हॉट सेक्स कहानी कैसी लगी … प्लीज़ मुझे मेल करें. मैंने सही मौका देखते हुए उनकी टांगों को चौड़ा किया और चूत पर लंड को सही जगह पर लगाकर अपना पूरा भार उनके ऊपर रख दिया. रानी को चूत चटवाने में मज़ा आ रहा था, वो मेरा सर पकड़ के अपनी चूत पर दबा रही थी- और जोर से चूसो बाबूजी!थोड़ी देर चूसने के बाद उसका पानी निकल गया और रानी ठंडी हो गयी.

अगले दिन सुबह मेरा कॉलेज था और कॉलेज की ड्रेस नीला शर्ट और सफ़ेद सलवार पहन कर सिटी की लोकल बस पकड़ कर कॉलेज पहुँच गयी. दोस्तो, मैं बताना चाहता हूँ कि अगर आपको किसी भी और की चीखें निकलवानी हैं, उसे पूरी तरह से संतुष्ट करना है, तो दोस्तों मेरे पर्सनल अनुभव से कह रहा हूँ कि आप उसकी कान की लौ को हल्के से काटो. मुझे बिना चादर ओढ़े नींद नहीं आती है, तो मैंने चादर अपने ऊपर कर ली और आधा पैर सीधा करके बैठ गया.

मामी से मैंने पूछा- मामी, लड़कियां भी अपनी चूत को अपने हाथ से मजा देती हैं क्या?वो बोली- तुम्हारी उम्र के सब लड़के-लड़कियां करते हैं. जब मैंने घुटनों के बल बैठ कर उसे प्रपोज़ किया, तब वो बहुत खुश हो गई थी. मगर एक बार मेरी एक सहेली ने मुझे मर्दों को मसाज देने का आईडिया दिया.

फिर मैंने ठान लिया कि मैं पता करके रहूंगा कि ये दोनों सेक्स कब करते हैं. दो अंजान मर्द मुझे धकापेल चोद रहे थे और मैं उन दोनों से एक साथ चुद कर मजा ले रही थी.

मैंने माया को पार्थिव को बुलाने के लिए बोला तो बोली- आप मुझे काम बता दीजिए, मैं उन्हें बोल दूंगी.

फिर मैंने उन्हें हैंग आउट पर आने को कहा फिर हमारी हैंग आउट पर बात होने लगी. हिंदी सेक्सी बीएफ पेली पेलाऐसा करने से कल्पना मुझे और जोर से कसके अपने गले लगा कर लंड पर धीरे धीरे अपनी चूत रगड़ने लगी. बीएफ सेक्सी जानवरों के साथउसने जाते वक़्त कहा- मैं तुम्हें बाद में जरूर फ़ोन करूंगी … तुम बताना. पापा मेरी मां की पीठ पर पीछे से चूम रहे थे और उसकी चूचियों को दबाते हुए उसकी चूत पर लंड को घिस रहे थे.

उसकी कड़क चूची और उन पर तने हुए निप्पल देख कर मेरे लंड में झटके लग रहे थे.

पांच-सात मिनट तक मैंने दीदी को लंड चुसवाया तो दीदी की सांस फूलने लगी. शायद वो भी मेरी तरह पहला वीर्य अपने अंदर ही महसूस करना चाहती थी।वो फिर से झड़ने को हो रही थी और फिर 10-15 झटकों के बाद वो झड़ने लगी और मैं भी उसकी चूत में ही सारा माल छोड़ने लगा। आज तक मेरा इतना माल कभी नहीं निकला था जितना अभी निकला।मैं 2 मिनट वैसे ही उसकी चूत में अपना लंड डाल कर पड़ा रहा … फिर मैं उठ कर उसकी बगल में लेट गया. इस सेक्सी आवाज से बाथरूम गूंज रहा था और मैं पूरा जोर लगा कर सीमा को चोद रहा था.

ये मेरी पहली सेक्स कहानी है, बाद की कुछ याद भरी चुदाई की कहानियों के साथ मैं फिर मिलूंगा. मुझे इधर अकेले रहना पड़ता था, तो मैं बड़ी कामवासना से ग्रसित रहता था. अब इस तरह से काम चलने वाला नहीं था, सो मैं अपने आपको ठीक करके बैठ गया.

ब्लू पिक्चर सेक्सी देखनी है

उसने मेरे लंड को अपनी चुत पर महसूस कर लिया और एकदम से मुस्कुराने लगी. इतने में पापा ने एक झटके में अपना लंड मेरे मुँह में दे दिया और मेरे मुँह को चोदने लगे. सिर्फ आपको अपने मन से मजबूत रहने की इच्छाशक्ति की आवश्यकता होती है.

आह्ह … इस्स … आह्हा … करके मेरे मुंह से मजे के मारे सिसकारियां निकलने लगीं.

उसकी चूत से निकलता हुआ अमृत और चॉकलेट का एक बहुत मस्त स्वाद आ रहा था.

मतलब वो मुझे आज भी दूर से तड़पाना चाह रही थी।मैंने भी सोचा कि चलो अभी तो इसने चुदना ही है. सैम ने अपना लंड आगे किया और मुझे घुटने पर बिठा कर लंड चूसने को कहा. वीडियो चुदाई वाली बीएफमेरा लंड फिर से उसे देखकर खड़ा होने लगा जिसे मैंने अपने हाथ से कवर किया.

यह बोलते ही मैंने उसे गले से लगाया और उसके होंठों पर अपने होंठ टिका दिए. मैंने अपना लंड उसके मुँह के पास किया तो उसने अपना मुँह खोल के लंड मुँह में ले लिया और उसे चूसने लगी. बहू बोली- डैडी जी, कभी अपने गांड चाटी है?मैंने कहा- नहीं बहू कभी नहीं चाटी है.

फिर मुझे कैसे मौक़ा मिला अपने दोस्त की बीवी की चूत को चोदने का?मेरा नाम सुमित है. पांच मिनट बाद मुझे लगा कि मैं अब झड़ने वाला हूँ, तो मैंने अपनी रफ्तार बढ़ा दी और जोर जोर से कल्पना की चूत में लंड पेलने लगा.

मैंने उसके उसके ड्रेस के पीछे की चैन खोल दी और उसका ड्रेस उसके जिस्म से अलग कर दिया.

वो जब भी नीचे झुकती थी तो साली के चूचे ऐसे डोल जाते थे कि अभी उसके सूट से बाहर निकल आयेंगे. दोनों हाथों को ऊपर नीचे रखने के बावजूद लण्ड का बड़ा सा भाग हाथों के ऊपर-नीचे बाकी रह गया था. ” मैंने उसकी चूत को सहलाते हुए कहा।वो मेरी और देख कर मुस्कुराने लगी.

बीएफ सेक्सी हैदराबाद फिर बहू अपने रूम में चली गयी और थोड़ी देर में वही कपड़े पहन के वापस आयी जिसमें मैंने बहू को पहली बार देखा था. हल्के से आह कहकर सारिका ने मोबाइल रख दिया, अपनी आँखें बंद कर लीं और सिसकारियां भरने लगी.

कल्पना ने झड़ते ही अपनी बांहें मेरी गर्दन में लपेट दीं और मुझे किस करना शुरू कर दिया. वैसे पापा ने तुम्हें कुछ नहीं कहा?बहू बोली- नहीं, उन्होंने मुझे कुछ नहीं कहा. दीदी- ओहह राज … धीरे पेलो … उहह आहह याह उह याह राज … मुझे दर्द हो रहा है … रुक जाओ … प्लीज़ तुम्हारा लंड बहुत बड़ा है.

मारवाड़ी ओपन वीडियो

भाभी की सहेली ने मुझसे कहा- तो तुम अपनी चीज का कमाल दिखाओ?मैंने कहा- आप 10 मिनट और रुको, भाभी को आने दो. उस वक्त मैं अपने बोर्ड्स के एग्जाम देकर छुट्टियों में अपने मामा के यहां जा रहा था. पर घर की एक चाबी मम्मी के पास थी और वो कभी भी आ सकती थी तो मैंने भाई को मना किया और फिर कभी के लिये राजी किया।हम नहा कर गीले बदन एक दूसरे के गले मिले और बाथरूम से बाहर निकले। बाहर कमरे में हमने अपने बदन पौंछे और फिर अपने कपड़े पहने.

मैंने लुंगी इसलिए उतारी कि कहीं तुम्हारी मालिश करते समय इसमें तेल न लग जाये. अब निधि फिर आँखें बंद कर मस्ती में आहें भरने लगी।निधि की चूचियों के निप्पल मसलने के बाद मैं उसकी बायीं चूची के निप्पल को अपने मुंह में लेकर चूसने लगा और दायें हाथ से उसकी दायीं चूची को दबाने लगा।कुछ देर बायीं चूची को चूसने के बाद मैं उसकी दायीं चूची को मुख में लेकर चूसने लगा और बायीं को दबाने लगा।अब तक निधि फिर से चुदासी हो गयी थी.

शरीर के छुपे हुए अंगों पर इस तरह के डिजाइन देखने वाले के मन में एक अलग ही रोमांच पैदा कर देते हैं.

यह कहानी आज से 6 महीने पहले उस समय की है, जब मैं प्रेग्नेंट थी और मेरा नवां महीना चल रहा था, जो कि आखिरी महीना होता है. लेकिन तभी वो मुझसे अलग हो गई।उसने बताया कि यहाँ चालीस किलोमीटर दूर एक सुंदर सा गाँव है, जहाँ की वादियाँ बहुत ही मनमोहक हैं. नितिन लगातार मेरे मम्मों को देख रहा था, जो टॉप टाइट होने के कारण और बड़े लग रहे थे.

वो फिर से चिल्ला उठीं- आं आंह मर गई … बाहर निकाल ले … मेरी जान चली जाएगी … मार ही डालेगा क्या मुझे … प्लीज लंड बाहर निकाल … वर्ना मेरी चूत फट जाएगी. मुझे मालूम था कि दीदी का एक ब्वॉयफ्रेंड है, मगर उससे उनकी किस हद तक की दोस्ती है, ये मैं नहीं जानता था. अचानक मुझमें ये हिम्मत कहाँ से आयी, मैंने सिम्मी की ठोड़ी उठा कर उसे किस कर दिया.

तभी मेरे लंड ने उबकाई करना चालू कर दिया और नसरीन भी मुझसे चिपक कर मेरे वीर्य की बौछार से अपनी चुत को ठंडा करने लगी थी.

बिहारी हॉट बीएफ: चूत का जुगाड़ करने के लिए मैंने कई सारी डेटिंग साइट पर ट्राई किया लेकिन बात नहीं बन पा रही थी. पहले तो मैंने उसके दोनों पैरों को फैलाया और बड़े प्यार से उसकी बुर को सहला कर उसकी बुर के दोनों लबों को अलग करके देखा.

न वो कुछ कह रही थी और न मैं कुछ कह रहा था लेकिन दोनों के ही मन में वही आग सी उठी हुई थी शायद. इसमें मां-बेटा, भाई-बहन, बाप-बेटी के बीच हुए सेक्स की कहानी लिखी होती थीं. उस दिन के बाद से अम्मी और परवीन अक्सर मेरे लंड को चूत में लेने लगी.

फिर उसने मेरे लंड पर ऊपर नीचे ऊपर नीचे कूदना शुरू किया, तो मैंने उसके चुचों को अपने हाथ में थाम लिया, जो हर एक झटके के साथ ऊपर नीचे ऊपर नीचे झूल रहे थे.

बहू और मैं एक दूसरे के सामने खड़े थे मगर पता नहीं क्यों मैं हिम्मत नहीं कर पा रहा था. करीब 15 मिनट तक चली इस चुदाई में हम दोनों थक गए और पसीना पसीना हो गए थे. तो रेकॉर्डिंग सुनकर मेरे होश उड़ गए।पुष्पा आंटी कह रही थी- रेनू, अगले संडे को मूवी चलेंगे हम दोनों.