बीएफ फिल्म सेक्सी फुल एचडी में

छवि स्रोत,सेक्सी दिखाएं फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

बड़ी गण्ड की चुदाई: बीएफ फिल्म सेक्सी फुल एचडी में, उल्टा गुस्से में आकर खुद मेरी पैंट उतार दी और अंडरवियर के ऊपर से ही मेरे लण्ड पर पागलों की तरह स्केल से मारती रहीं। मैं पीड़ा से चिल्लाता रहा.

हीरोइन काजल की सेक्सी वीडियो

और मुन्ना अंकल सीधे मेरे दोनों टांगों के बीच अपना मुंह रख कर अपने होंठ, जीभ पूरी नाक घुसाकर मेरी चूत में रगड़ने लगे. सेक्सी मराठी मराठी सेक्सऔर उस सीट पर बैठ गया।मैंने उससे कहा- ये सीट किसी और की है।उसने मुझसे कहा- उन्होंने ही मुझे कहा है यहाँ बैठने के लिए.

आह … क्या मीठा रस था साली का … मैंने मस्ती में भर कर उसकी चूचियों को दबा दिया. ममता भाभी की सेक्सी पिक्चरमेरी कम्प्यूटर कक्षा सुबह आठ बजे से एक बजे तक ही होती थी, उसके बाद मैं घर आ जाता था.

लेकिन मैं उसे सांड की तरह चोदे जा रहा था। लगभग 5 मिनट बाद उसकी चीख सिसकारियों में बदलती चली गईं और उसे भी मज़ा आने लगा।अब मैं और तेज़ी से चोदने लगा.बीएफ फिल्म सेक्सी फुल एचडी में: अब तुझे मेरा लण्ड चूसना गंदा लग रहा है।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने उसके बाल पकड़ कर उसको नीचे किया और उसके मुँह में लण्ड डाल दिया और आगे-पीछे करने लगा।वो ‘गूं-गूं’ करने लगी।मैंने उसके मम्मों पर एक और जोरदार थप्पड़ मारा.

अब मैं आगे का प्लान बनाने में लग गया कि कैसे इस कच्ची कली को पा सकूं.और हाँ मैंने इसी रात उसकी गाण्ड भी मारी, वो पहले से ही गाण्ड मरवाने की शौकीन थी।मैंने उसकी गाण्ड कैसे मारी.

लोकांचे सेक्सी व्हिडिओ - बीएफ फिल्म सेक्सी फुल एचडी में

मैंने उन्हें अपने हाथों में ले लिया और उसकी एक निप्पल को चूसने लगा.तो उसका लंड तो खड़ा होना लाजिमी ही है।दोस्तो, वो थोड़ी सी स्थूल हैं.

वैसे मुझे चूत चाटना अच्छा लगता था और मैं अपनी पत्नी की भी चूत बहुत चाटता था. बीएफ फिल्म सेक्सी फुल एचडी में उन्हें मजा आने लगा और साथ ही वह गांड उचका उचकाकर मेरा साथ देने लगीं.

मैं इतनी गर्म हो चुकी थी कि मेरी चूत से पानी की बौछार हो रही थी जिससे दादा जी का लंड भी भीग चुका था.

बीएफ फिल्म सेक्सी फुल एचडी में?

जो मैं आपको बताने जा रहा हूँ। यह मेरी ट्रेन में चुदाई की कहानी है।मैं दीवाली की छुट्टियों में घर जा रहा था. ’ की आवाज़ आने लगी। फिर मैंने उसकी साड़ी को नीचे से भी खोल दिया।अब वो मेरे सामने सिर्फ़ ब्लाउज और पेटीकोट में खड़ी थी।मैं भी खड़ा हुआ और उसके पीछे जाकर अपने लण्ड को उसकी गाण्ड में सैट किया और उसकी गर्दन को चूमने और चाटने लगा। मैं अपने हाथों से उसके मम्मों को दबा रहा था। उसके मुँह से लगातार ‘ हा. कौन चोदेगा मुझे?‘शायद नायर ने चोद दिया हो?’‘यह आप क्या कह रहे? मैं थोड़ा गुस्से में बोल उठी।‘ऐसा कुछ नहीं है.

उसकी छूने की इच्छा और मेरे तड़पाने का अंदाज उसे बहुत उत्तेजित कर रहा था।शायद चुदाई के समय लड़की को गले लगाने या उसके बूब्स दबाने से उसे आराम मिलता या उस संतुष्टि का अनुभव होता है. मैंने भी तुरंत उन्हें अपनी ओर खींचा और उनकी कमर में हाथ डाल कर किस करने लगा।पहले तो वो थोड़ा हिचकिचाईं फिर बाद में साथ देने लगीं. जब उसने मुझे उठाया तो मैं खुद को बिस्तर से बंधा हुआ पाया, मधु ने मेरे दोनों हाथ, दोनों पैर बिस्तर के चारों तरफ बांध दिए थे.

उस पर अपने मंगेतर से मिलने को लेकर बहुत ही खुश थी।लेकिन उसके साथ अच्छा नहीं हुआ. और तुम्हारा पानी पिया, बस उसी दिन से मैं तुम्हें चोदना चाहता था। तुम बोलो कि कैसा लगा?वो बोली- मुझे भी बहुत मज़ा आया. मेरे तने हुए लंड का प्यारा सा गुलाबी टोपा देख कर उसको लंड टच करने की इच्छा हुई.

तो मैं गीत की चूत से अपना लौड़ा बाहर निकाल लेता।इस तरह हम बैलेंस बना कर गीत को जबरदस्त मज़ा दे रहे थे, गीत भी बहुत खुश होकर एक साथ हमारे दो-दो लंडों का मज़ा ले रही थी।अरे वाहह. मैं तो पिछले दो सालों से देख रहा हूँ… आप कब से?’वो बोली- अभी कल रात से.

मेरा भी होने को था, मेरी भी आवाज निकली- और ले भोसड़ी की … ले … साली …यह बोल कर गपागप लंड उसकी चूत मैं पेलता रहा और बस- अअअअअ अअअअअ ये ले मेरी जान … ये ले पानी पी.

पर ब्लू-फ़िल्म बहुत देखी थीं।मैंने उसे कस कर पकड़ लिया और उसके होंठ चूसने लगा.

ओफ्फ … माँआ … उईईई … मररर गईई … अब और नहीं सह पाऊंगी … प्लीज बाहर निकालिएए!” मैं रोनी सूरत बनाते हुए बोली. मैंने उन्हें गले से लगाया और बोला आपका ये सपना आज और अभी पूरा होगा चाची. अपने गुलाबी होंठ गोल किए और लौड़े को किस किया।मोनू के बदन मैं झुरझुरी से दौड़ गई।फिर धीरे से लंड की चमड़ी हटा दी.

और वो मुस्कुराती हुई चली गई।थोड़ी देर बाद मैं भाभी के पास गया और कहने लगा- भाभी, प्लीज़ आप भैया को ना बताना मेरे बारे. ’मैंने अपने मन की बात सच-सच बता दी।चाचा के होंठ अब मेरे गालों पर थे- और क्या करवाने को कर रहा है?मेरे गालों को काटते हुए चाचा ने पूछा।‘वही सब करवाने को. यह मेरा असली आकार ही है और मुझे मेरे इसी लंड के आकार के वजह से ही ज्यादातर चूतें मिलीं। यह आपको आगे कहानी में पता चल जाएगा।घटना एक साल पहले की है.

शायद मेरी किस्मत में आज चुदाई लिखी ही नहीं है।’मैं पति से जानबूझ कर थोड़ा गुस्सा होकर बोली।‘नहीं मेरी जान.

यह उसके लिए पहली बार था जब वो किसी औरत का चूत चाट रही थी, लंड तो वो कई बार चूस चुकी थी अपने पति का … पर यह अहसास थोड़ा अलग था और इसी वजह से उसको कुछ ज्यादा ही मजा आ रहा था. मैं कुछ समझ पाता, इसी बीच उन्होंने मेरे सीने को दबाना और सहलाना शुरू कर दिया और धीरे से मेरे कान में बोले- बेटा तुम बहुत सुंदर हो. फिर वो मेरे नजदीक आई और धीरे से मेरे कान में बोली- मैडम जा चुकी हैं.

मैंने कहा- पहले गीत भाभी से तो पूछ लो कि भाभी भी तैयार हैं या नहीं इसके लिए?तो पास बैठी गीत शरमाकर उठ कर चली गई।तभी संजय उसके पीछे भागा… उसे पकड़ कर हमारे पास ले आया।हम ड्राइंग रूम में बैठे थे… तो गीत बोली- आप बेडरूम में चलो. दस मिनट उसकी चुत को चूसने के बाद मैंने अपनी छोटी बहन की चुत में अपना लंड लगाया और एक ही झटके में पूरा लंड घुसा दिया. मोनू को जोश आ गया और ज़ोर-ज़ोर से धक्के मारने लगा, मैंने उसे अपनी चूचियों पर भींच लिया, मोनू मेरी चूचियाँ चूसने लगा.

दर्द होगा।लेकिन सरिता के कहने पर वो मान गई।फ़िर मैंने धीरे-धीरे अपना लन्ड उसकी टाइट गाण्ड में डाला.

उन्होंने मुझे अपनी बाँहों में ले लिया और चूमने लगे।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैं- आप तो अभी से शुरू हो गए. चूंकि उनकी चुदाई भी बहुत कम होती थी क्योंकि उनके पति साल में बड़ी मुश्किल से एक बार घर आ पाते थे.

बीएफ फिल्म सेक्सी फुल एचडी में हम दोनों ने मौक़ा देखा तो प्लान बना लिया था कि हम दोनों सम्मेलन में नहीं जाएंगे. !कुछ देर बाद भाभी का शरीर अकड़ने लगा। मैं समझ गया कि वो झड़ने वाली है।तभी मेरे लण्ड ने भाभी की चूत का बांध तोड़ दिया और वो झड़ गईं.

बीएफ फिल्म सेक्सी फुल एचडी में मेरे हर झटके पर उसका सारा बदन हिलता था, जिसे मुझको और जोश आ जाता था. मैं इंदौर से हूँ, मुझे सेक्स में बहुत रूचि है।मैं आपको अपनी आपबीती के बारे में बता रहा हूँ.

क्या बकवास कर रहा है यार? भला अपनी मम्मी को कोई चोद सकता है क्या?” गौरव गुस्से में बोला.

सेक्सी पिक्चर नंगी खपाखप

मैंने उसकी परवाह किए बगैर उसके होंठों को अपने होंठों से क़ैद करके लगातार 3-4 झटके में अपना लण्ड उसकी चूत की गहराई में पेल दिया। उसकी आँखों से आँसू निकल आए और मुझे अपने लण्ड पर कुछ गरम तरल सा महसूस हुआ. जो मैंने पहली बार अन्तर्वासना पर शेयर की है।जल्दी ही अपनी दूसरी स्टोरी भी पोस्ट करूँगी. तब तक भाभी तीन बार झड़ चुकी थी।‘आहह्ह्ह… सीसीई…’ कहते हुए हम दोनों चिपक कर आराम करने लगे।वो उठ कर बाथरूम में गई.

प्रिया की चूत में लंड जाते ही उसके होंठ और भी रसीले हो गए और अब मैं उसके होंठों का रस भी पी रहा था और धीरे धीरे अपने लंड से उसकी चूत की चुदाई भी कर रहा था. उसे श्यामा ने ही कहा हुआ था कि सारे कपड़े उतार कर बैठे सिवा चड्डी के. वह काम कर रहा है।कोमल- सर अब हल्का-हल्का सा आराम है।मैं- कुम्हारिन रानी तुझे आज इस तरह चोदूँगा कि तू कभी भी भूल नहीं पाएगीइस तरह मैंने एक कुम्हारिन को सच में चोदा है.

कभी कानों पर किस कर रहा था। थोड़ा नीचे आकर मैंने उसकी चूची पर हाथ रखा और हल्के से दबाया.

इसलिए मैंने वहाँ से जाना ही बेहतर समझा।दूसरे दिन पिताजी को लेकर मैं स्कूल में गया, पिताजी टीचर से मिल कर गुस्से में ही घर चले गए।दिन भर मैं जैसा-तैसा स्कूल में बैठा रहा, स्कूल छूटा. वो सब मुझे बहुत बोल्ड लग रहा था। मैंने कभी भी कीर्ति के बारे ऐसा सोचा नहीं था. आखिरकार मैं उसके मुँह में झड़ गई ‘अअआहहह उउफ हहह ओहहह रीतिका अअआ इईई …’ फफॅच्च से उसके मुँह में सारा पानी छोड़ दिया और उसने भी बड़े मजे से मेरी चूत का रस दोबारा पिया।फिर हम दोनों एक-दूसरी से चिपक कर लेट गयी और हम दोनों सो गयी.

मेरे लौड़े की साइज़ 7″ है और ये एक मोटा-तगड़ा एवं टिकाऊ किस्म का लण्ड है।यह कहानी एक साल पुरानी है। उन दिनों मैं दिल्ली में जॉब ढूँढ रहा था. मैं- क्या कहा?सिम्मी ने बात को बदलते हुए कहा- ऑल्मोस्ट अपना फ़्री टाइम तो तुम मेरे साथ बिताते हो, ज़्यादातर फ़ोन पे और कभी कभार शॉपिंग और या कहीं आना जाना होता है तो. मैंने उसके दूध मसलते हुए बोला- आज तूने दिल खुश कर दिया जान, देख सामने कैसे तेरी टांगों के बीच में मेरा मूसल घुसा है.

और मुझे मना कर रही हो।और ये कह कर मैं मौसी के जिस्म पर चढ़ गया और अपना लंड उनने मुँह में ज़बरदस्ती देकर उनके मुँह को ही चोदने लगा और धीरे धीरे वो भी लौड़ा चूसने लगीं।करीब 10 मिनट के बाद मैं उनके मुँह में ही झड़ गया और उन्हें पहले अपना पानी फिर धीरे-धीरे उनके मुँह में मूत कर उन्हें अपना मूत भी पिला दिया. मेरे आनन्द की अब कोई सीमा नहीं थी क्योंकि प्रिया को अपना लंड चुसाते हुए मैं खुद भी अब मजे से उसकी रसीली चुत के रस को गटक रहा था‌.

हालाँकि मेरी कोशिश यही थी कि मेरा वजन मेरे ही पैरों और हाथों पर रहे।उसने चेहरा घुमा रखा था ताकि मुझे देख सके और मैं भी अपना चेहरा उसके इतने पास ले आया था कि मेरे होंठ उसके होंठों को छू सकें। उसने ही मेरे होंठों को पकड़ लिया और दोनों एक दूसरे के मजे लेने लगे।उफ. हम दोनों कांच के आगे खड़े होकर आपस में एक दूसरे को देखने लगे और मुस्कुरा उठे. मैंने रिया भाभी से कहा- मेरा लंड तुमको अच्छा नहीं लगा क्या?रिया भाभी ने कहा- अच्छा है यार … बहुत बड़ा भी है.

फिर मैंने उसके मुँह को ऊपर किया और धीरे-धीरे अपने होंठ उसके होंठ पर रख दिए।हम इस पोजीशन में कम से कम 10 मिनट तक एक-दूसरे के होंठों को चूमते रहे।फिर अचानक वो खड़ी हो गई और मुझसे लिपट गई।जब मैंने उसकी तरफ देखा तो उसकी आँख में आँसू थे।मुझे कुछ समझ नहीं आया।तभी उसने कहा- राहुल.

मेरा लैपटॉप रखे हुए ही चाची ने टाँगें सीधी से एकदम मोड़ लीं और मेरा हाथ पकड़ लिया. भाभी बाहर हैं और कुछ देर में अर्जुन भी आता ही होगा।सन्नी- अरे भाभी तो चुदवा कर मज़ा ले चुकी है. बदन कांप रहा था और फटी फटी आंखों से वो मुझे घूर घूर कर देखे जा रही थी.

शायद अपनी उत्तेजना के वश मेरे लंड को खड़ा करने के लिए या फिर नेहा से जलन के कारण वो मेरे लंड को चूस रही थी. तो भुला नहीं पाए। मैं अन्तर्वासना को 3 साल से पढ़ रहा हूँ। ऐसा कोई दिन नहीं गया.

पता ही नहीं चला।अब मैं और वो दोनों नंगे एक-दूसरे के जिस्म की गर्मी को महसूस कर रहे थे। उसकी गरम साँसें मेरी छाती पर लग रही थीं. तो हम दोनों साथ ही चलते हैं।आंटी ने कहा- मैं भी वहाँ अपनी लड़की का एग्जाम दिलाने के लिए फ़ैजाबाद जा रही हूँ।अब मैंने चौंकते हुए उनसे कहा- मगर आंटी आप तो अकेली दिख रही हो?तो आंटी ने कहा- मेरी लड़की जरा फ्रेश होने गई है. तुम जल्दी से बाथरूम में जाकर चूचों और चूत को साफ़ करके आ जाओ।सोनी चली गई और करीब 5 मिनट बाद आई।मैंने कहा- कपड़े नहीं उतारे?तो सोनी अदा से बोली- नहीं जी.

हिंदी में सेक्सी इंग्लिश पिक्चर

’मेरी तरफ से कोई उत्तर न पाकर चाचा ने पीछे मेरी मिनी स्कर्ट उठा कर लण्ड मेरी चूत पर लगा दिया। अब वे एक हाथ से कूल्हों को और चूचियों मसल रहे थे और दूसरे हाथ से चूतड़ों की दरार और चूत पर लण्ड का सुपारे को दबाते हुए रगड़ने लगे।चाचा के ऐसा करने से मैं तड़प कर सीत्कार उठी- अह्ह ह्ह्ह्ह्ह ह्ह्ह.

यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मैंने पूछा- आपको कितनी देर और लगेगी. कुछ ही देर में मैंने उसके कपड़ों को उतार दिया और साथ ही अपने कपड़े भी निकाल दिए. उसकी बालों भरी छाती को सौम्या चाहत भरी नजरों से ऐसे देखने लगी जैसे अभी लिपट ही जाएगी।मैंने उसे उसकाया- थोड़ा रुको तो जानू.

मयूरी- तो यही मौका है… अपने बेटों का लंड अपने चूत में लेने का… छोड़ना मत…शीतल- पक्का… तू तैयार हो और कॉलेज जा. मेरा लंड उनके मुँह में पूरा आ ही नहीं रहा था।करीब 10 मिनट तक वो लण्ड चूसती रहीं फिर बोलीं- तू तो असली मर्द है. सेक्सी फिल्म नंगी ब्लू फिल्मजिस वजह से चूत गीली हो गई थी।अभी मेरा लौड़ा तोप की तरह खड़ा था और काबू के बाहर होता जा रहा था। इतनी चिकनी और प्यारी चूत देखकर लौड़ा सलामी दे रहा था।मैंने भी देर ने करते हुए चूत के मुँह पर अपना लौड़ा रख दिया.

मैंने भी देर न करते हुए हल्का सा पीछे हुए और एक जोरदार धक्का लगा दिया. मधु की चूत फिर से पनियाने लगी और वो जोर जोर से मेरा लन्ड पकड़ के मसलने लगी और बड़ी ही कामुक आवाजें निकालने लगी.

वैसे तो मैं अपनी बहन के बारे में कोई निगेटिव बात दिमाग़ में नहीं लाता था, पर एक घटना ने मुझको झकझोर के रख दिया. मुझे बिस्तर पर औरतों के साथ तरह तरह के एक्सपेरिमेंट करने में बहुत मज़ा आता है. ’ की तेज आवाज करती हुई मेरी मुनिया मूत्र त्याग करने लगी।सूसू करने से मुझे काफी राहत मिली और फिर मैं फुव्वारा खोल कर नहाने लगी.

मैं ला दूँगा।तो वो बोली- नहीं मैं खुद ही लाऊँगी।मैं उसको एक शॉप में ले गया. उसे बहुत मज़ा आया।फ़िर कुछ दिन बाद मैंने हॉस्टल छोड़ कर बाहर एक रूम ले लिया. वो हंसने लगी और बोली- एक साथ कैसे चूस सकते हैं?उसको 69 की जानकारी नहीं थी, तो मैंने उसे समझाया.

फिर वो उठी और मुझे बेड पर लिटा लिया और किस करने लगी और मेरी साड़ी उतारने लगी.

वो मुझे मेल के द्वारा ही मिली थी, उसका नाम अदिति है और मेरी उससे मेल से ही बातें शुरू हुईं।पूरे दिन घंटों तक हम लोग बातें करते रहते और कई बार तो चैट सेक्स भी कर लेते थे. पर वो इसके पहले की अपनी माँ के साथ अपने बेटों से चुदवाने की बात करे, वो पूरी तरह आश्वस्त हो जाना चाहती थी.

उसका पता चले। तभी पति ने दरवाजे पर दस्तक की। मैंने उठकर दरवाजा खोला. भाभी की सास की आवाज़ आई- क्या हुआ बहू?मैं तो डर ही गया।भाभी ने कहा- कुछ नहीं मम्मी जी. कभी सेक्स नहीं किया है?मैंने कहा- थोड़ा थोड़ा पता है, पर कभी किया नहीं.

इतने में टी टी आ गया उसने टिकट चैक करी और मेरे से दूसरे टिकट के बारे में पूछा, तो मैंने बता दिया कि वो सीट खाली है. मैंने उससे कहा कि मेरी बात सुनो, प्लीज चिल्लाना मत … पहले मेरी पूरी बात सुन लो. ये भी तो बॉडी का पार्ट ही है।मैंने घबराते हुए दीप्ती की ओर देखा तो वो बोली- हाँ यार दीपिका.

बीएफ फिल्म सेक्सी फुल एचडी में बस 5 मिनट हुए ही होंगे कि उसकी गांड आगे-पीछे होने लगी, मैं समझ गया कि अब मामला ठीक हो गया है।फिर मैं चूचों को चूसता ही रहा. मेरे लाख मना करने पर भी भैया मुझे रामेसर चाचा के लड़के के घर लेकर पहुंच गए.

झारखंडी सेक्सी ब्लू फिल्म

लेकिन हम दोनों पति-पत्नी जानते थे कि वह जाग रही है और सोने का नाटक कर रही है. हैलो दोस्तो, अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा खड़े लंड से नमस्कार।मेरा नाम प्रेम शर्मा है. [emailprotected]कहानी का अगला भाग:अपने चोदू को माँ का पति बनवाया-2.

और देखना कि क्या वो बार- बार अन्जान बन कर हिलने की कोशिश में तुम्हारी चूचियों को दबा रहा है. उसके मुँह से अजीब से आवाज आ रही थी ‘आअहह आहह आआच्च आअहह…’फिर मैंने उसकी पेंटी के ऊपर से ही उसकी चुत चाटनी शुरू कर दी. भाऊ-बहीण सेक्सी व्हिडिओपर डर लगता था।मेरे घर में में मेरी विधवा चाची और मेरे बूढ़े बाबा रहते थे। मेरी चाची की उम्र करीब 29 साल की होगी। बाबा घर के बाहर बरामदे में सोते थे.

मेरा लैपटॉप रखे हुए ही चाची ने टाँगें सीधी से एकदम मोड़ लीं और मेरा हाथ पकड़ लिया.

दोस्तो, मैं आपको बताना भूल गया कि मेरी पत्नी बहुत खुले विचारों की है, हम दोनों किसी भी विषय पर खुलकर बात कर लेते हैं. कहानी सन 2005 की है जब मैंने झांसी के एक इन्जीनियरिंग कालेज में कंम्पयूटर इन्जीनियरिंग में दाखिला लिया। उस समय मेरे पास लैपटॉप था.

मैं बिस्तर पर साइड में बैठ गया। हल्की-हल्की सर्दी होने के कारण उसने कहा- रजाई में पैर ढक लो. तब मैंने उसे किस किया और उसकी चूचियों प्रेस करने लगा।वो बोली- अभी नहीं. फ़िर मैंने उसे झुकाया और उसका पैन्ट और पैन्टी थोड़ी नीचे की और पीछे से अपना लन्ड उसकी चूत पर रख कर रगड़ने लगा।उसकी चूत भी गीली हो चुकी थी.

उसने कुछ टाइम मुंह में लेने के बाद निकाल दिया और बोली- जीजू, मेरा मुंह दुख रहा है.

वो दस मिनट तक मेरी चुत चुसाई झेल नहीं पायी और उसकी चुत ने पानी छोड़ दिया. हम लोग कैसे लग रहे हैं?शीशे में मुझे नंगा और उसमें मेरा खड़ा हुआ लंड और अपने आप को पूरे कपड़े पहना देखकर पूजा पहले बहुत शरमाई, फिर हंसकर वो मुझे कसकर अपने बांहों में भींच कर मुझे चूमने लगी. बहुत तेजी के साथ वह मेरे मुँह में अपनी चूत को ऊपर नीचे करते हुये झड़ गई और उसकी चूत का सारा पानी मेरे मुँह में चला गया.

भाभी सेक्सी सुहागरातकोशिश ये करना कि तुम्हारे कपड़े नींद में घुटनों के ऊपर हो जाए और तुम्हें इस पोज़ में पैर को रखना है कि तुम्हारी पैन्टी तुम्हारे भाई को दिखे। तुम्हारा टॉप कुछ ऊपर को हो जाए. तो झट से पानी छोड़ देती हैं।दूसरी सांवली औरतें जो चुदने में बहुत सारा नखरा दिखाती हैं। लेकिन जब भी चुदती हैं तो आदमी को पानी पिला देती हैं।तीसरा प्रकार होता है काली औरतों का.

बीपी सेक्सी कुंवारी दुल्हन

मैंने जल्दी ही उसकी चुत में लंड को डाला और उसकी जोर जोर से चुदाई करने लगा. दूसरे से चादर को जोर से पकड़ रखा था, उसका सर उत्तेज़ना से इधर-उधर हो रहा था।ममता- राजी. बीवी कहूँ या फिर बहन बोलूँ?मैं उनके पास बैठती हुई बोली- कुछ भी कहो.

इस बार वो और मेरी चूत दोनों ही झड़ गए। देर तक चुदाई होने के कारण मेरी भी सांस फूल रही थी और उसकी भी. फिर मैंने उसके मुँह को ऊपर किया और धीरे-धीरे अपने होंठ उसके होंठ पर रख दिए।हम इस पोजीशन में कम से कम 10 मिनट तक एक-दूसरे के होंठों को चूमते रहे।फिर अचानक वो खड़ी हो गई और मुझसे लिपट गई।जब मैंने उसकी तरफ देखा तो उसकी आँख में आँसू थे।मुझे कुछ समझ नहीं आया।तभी उसने कहा- राहुल. दूसरे हाथ से मैं अपने लंड को लगातार हिलाता जा रहा था।मुझे ये सब करते-करते लगभग दस मिनट हो चुके थे।एकाएक उसने जोर की अंगड़ाई सी ली.

क्या तुमको इतनी सेक्सी लगती हूँ मैं?’‘क्यों पिछली बार जब मेरे नीचे सोयी थीं, तो क्या कहा था मैंने तुम्हें?’‘क्या कहा था. पता ही नहीं चला।सुबह हम दोनों ने एक राउंड और खेला। उस दिन बहुत तरीके से चुदाई का मज़ा लिया।अब आप सबकी इज़ाज़त चाहता हूँ, कोई ग़लती हुई हो तो माफ़ कर दीजिएगा।मैं आपको अब अगली कहानी में बताऊँगा कि कैसे भाभी ने मुझे अपनी कुछ रिश्तेदारी की औरतों से और अपनी सहेलियों से भी मिलवाया। कुछ को तो ग्रुप में भी चोदना पड़ा।आप सबको मेरी कहानी कैसी लगी. कुछ देर चूसने के बाद जब मैं थोड़ी नॉर्मल हुई तो अंकल ने मेरे होठों को कस के चूसते हुए अपना लंड पीछे खींचा और बिना कहे धक्का दे मारा.

जब चाची ने कुछ नहीं कहा तो मैंने सलवार की सिलाई उधेड़ दी और चिकनी सलवार में से सीधा उनकी चूत में उंगली डाल के अन्दर बाहर करने लगा. जैसे मानो मुझे इशारा कर रही हो कि उसके मुँह में कोई स्वादिस्ट चीज़ हो और मुझे भी लेना चाहिए.

चाहे जो हो जाए।इसलिए सबका सोना जरूरी था। करीब आधी रात को मैं उठी और बेडरूम की लाईट जलाकर देखा कि पति बहुत गहरी नींद में थे। मैं लाईट बंद करके बाहर निकल आई और हॉल में मद्धिम प्रकाश में मैंने टोह लिया.

तो बताती हूँ कि उदासी की वजह क्या है।उसने बताया कि प्राइवेट कंपनियों में काम का बोझ तो बहुत होता ही है. कार्टून सेक्सी विडियोमैं तो जैसे जन्नत में चला गया था।यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !मामी के मुँह से ‘अहह. मानसी नाईक सेक्सफिर मैंने प्रिया को खड़ा कर के उसे दीवार की तरफ उसकी पीठ कर के उसके होंठों पर जोर जोर से चूमा चाटी करना शुरू किया. अब तक की इस मस्त सेक्स कहानी में आपने पढ़ा कि प्रिया ने मुझे फिर से उसके साथ सेक्स करने के लिए मजबूर कर दिया था और वो मेरे कपड़े उतारने के लिए उन्हें फाड़ने पर उतारू थी.

तो वो सब मेरे बारे में क्या सोचेंगे।मैं- किसी को क्या पता चलेगा और फिर हम दोनों रोज़-रोज़ थोड़े कर रहे हैं.

आज मैं आपके सामने अपनी एक रियल सेक्स स्टोरी लेकर आया हूँ।बात सन 2001 की है. जो मॉम को और सेक्सी बना रही थीं। फिर मैं कभी भीगे बदन को मलता और कमर के पीछे से हाथ डाल कर उनके मम्मों पर साबुन मलने लगता. मैंने उनकी कमर पर हाथ फेरते हुए उनको बोला- चाची आप बहुत सेक्सी हैं, इस दिन का इंतजार मुझे कई सालों से था.

कितना मजा आ रहा है। मैं सोच भी नहीं सकती थी कि यहाँ से भी इतना मजा मिल सकता है।”इससे ज्यादा मिलेगा. खाने के बीच में कभी वो पैर से मेरे लंड को दबाती तो कभी मैं अपने पैर के अंगूठे को उसकी चूत में डालता. तो कहाँ सर्दी का पता चलता है।उसकी साँसें धौंकनी की तरह चल रही थी और मेरा भी हाल कुछ ऐसा ही था.

देवर भोजाई सेक्सी फिल्म

इतने में मुझे प्यास लगी तो मैं उनके फ्रिज से पानी की बॉटल लेने चला गया. वो बोले जा रही थी- चोदो बेबी … और जोर जोर से!मैंने और तेजी से उसको चोदना जारी रखा. मैं उसका ऊपर वाला होंठ चूसने लगा।करीब 15 मिनट तक होंठ चुसाई और जीभ चुसाई चली.

उधर ही लेके आ जाओ।सुधा- ठीक है दो घन्टे में आते हैं।वो मेरे पास आई और उसने मुझे पीछे से पकड़ लिया और मेरी ब्रा के ऊपर से ही मेरी दोनों चूचियों को दबा दिया। मैं एकदम से सिहर उठी और मुँह से निकलने लगा- आउच.

जैसे कि तुम्हारी है। मुझे लगता है कि 8-10 बार गाण्ड मार लेने के बाद तुम्हारी गाण्ड बर्दाश्त करने लग जाएगी। फिर तुम्हें दर्द नहीं.

मैंने शीतल की सलवार का नाड़ा खोलकर उसको नंगी कर दिया, उसकी पैंटी को भी उतार दिया। पहली बार उसकीचूत के दर्शनहुए. मैंने कुण्डी लगाई और हम एक-दूसरे से लिपट गए। ऐसा लग रहा था बरसों का इंतज़ार खत्म हो गया हो।मित्रों मेरा मन तो नहीं था कि इस प्रेम की रस धार में आपको बीच मंझधार में छोड़ कर चला जाऊँ. सेक्सी मूवी वीडियो कॉलमित्रहो, आज या क्लब मध्ये मी नवीन अनुभवांसाठी आली आहे आज मला जो सटीस्फाई करेल त्याला पुढचा महिनाभर तो म्हणेल तेव्हा आणि म्हणेल तिथे मी अवलेबल असेल तो म्हणेल त्या प्रमाणे चोदवुन घेईल.

मुन्ना अंकल मेरे दूधों को चोदने में लगे हुए थे, राज अंकल मुझे इस तरह से चुदते हुए देख कर बोले- अगर लड़की की चीख न निकली. जब मैंने उसे देखा मेरे होश उड़ गए क्योंकि वह अपनी शर्ट उतार कर सुखा रहा था और उसका पूरा शरीर पानी से भीगा हुआ चमक रहा था. उन्होंने मुझे डॉक्टर के पास ले जाने से भी मना कर दिया। मैं अपने कमरे जा कर रोती रही और मैंने अपनी सहेली मधु को बुलाया.

मैंने सोचा इतना अच्छा मौका मिला है और मैं बजाए इसे चोदने के, सो रहा हूँ. तब मैं आपत्ति जताते हुए आक्रोश में आ गया।तो उसने बोला- यहाँ लोगों का ध्यान खींचेगा तो इज्जत का फालूदा ही होगा.

हम एकदम से अलग हो गए और दीवार से बाहर आ गए।मेरी मम्मी ने मुझे खाने के लिए आवाज़ दे दी। खाना खाने के बाद मैं पिंकी के बारे में ही सोचता रहा। अब मुझे उसको नंगी देखने का मन था।अगले दिन मैं जब पिंकी के घर गया.

उस दिन शाम को थोड़ी हल्की बूंदा बूँदी हुई थी और इसलिए मौसम सुहाना था. उनके पति दिखने में ठीक हैं और वे अपने काम के कारण ज्यादातर आउट ऑफ सिटी ही रहते हैं. धीरे-धीरे उसने भी रिस्पॉन्स देना शुरू किया और उसकी आँखें बंद होने लगीं। ऐसा लग रहा था मानो हम एक-दूसरे में खो जाना चाहते थे।कुछ देर बाद मेरा हाथ उसकी कमर से होता हुआ.

अंगूरी भाभी की सेक्सी वीडियो फिर मैंने धीरे से हाथ घुमाना शुरू किया तो बुआजी मेरी आँखों में देखते हुए अपने मुँह से मादक सिसकारियों की आवाज़ सी निकालने लगीं. तो मैं धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करने लगा।फ़िर एक झटके में पूरा अन्दर डाल दिया.

जिससे मेरी काफी अच्छी दोस्ती होने लगी। उसका नाम अंजलि था और वो काफी भरे-पूरे बदन की थी, उसका 34-30-36 का साइज़ रहा होगा. मैंने रेवती की तरफ देखते हुए कहा- शादी करने के लिए कोई आपके जैसी खूबसूरत लड़की भी तो मिले. उसकी टाँगों के बीच में आ गया।अब मैंने एकदम से चूत को चाटना शुरू कर दिया और मैं इस बार जोर-जोर से चूत को पूरा मुँह में भर कर चाट रहा था। उसका पानी और चाकलेट का टेस्ट बहुत मस्त लग रहा था। कभी-कभी तो मैं उसकी चूत के दाने को अपने होंठों में दबा कर खींच लेता.

सेक्सी वीडियो इंग्लिश हिंदी में

’सुनील के मुँह से लगातार ऐसी आवाजें आ रही थीं।फिर मैंने सुनील को उल्टा करके उसके कूल्हों पर काफी आयल लगा कर उसकी गांड की मसाज की जैसा कि अक्सर काफी लड़कियाँ और औरतें मुझ से ऐसा करवाती रहती थीं।इससे सुनील को काफी मज़ा आ रहा था।तभी सुनील भी मेरी चूत में एक उंगली और दो उंगलियाँ मेरी गांड में डाल कर. हाँ… माँ… आह…शीतल- तुम्हारी चूत तो बहुत खूबसूरत है… एकदम गुलाबी… टाइट… रसीली…मयूरी- तुम्हें अच्छी लगी माँ?शीतल- हाँ बेटा… जी करता है कि इसको चूम लूँ. तो कोई शारीरिक दिक्कत होने पर पार्ट्नर एक-दूसरे से अपनी समस्या को लेकर कोई भी डिस्कस नहीं कर पाते हैं और दिक्कत और भी बढ़ जाती है.

कुछ दूर बाद एक छोटा ढाबा मिला, हम लोगों ने रुक कर पूछा कि रात भर रुकना है कोई व्यवस्था है?ढाबे में सिर्फ़ दो लोग थे. मैं तुम्हारी बात पूजा के घर वालों को बताऊँगा।तो वो थोड़ा शॉक्ड हो गई और पूछने लगी- कौन सी बात?तो मैंने कहा- तुम जो रात को पूजा के साथ कर रही थीं वो बात.

मैं वहाँ बैठ कर वेट करने लगा और ऐसे ही 11 बज गए। फिर उस सेक्रेटरी को अन्दर से कॉल आया और मुझे अन्दर बुलाया गया।दोस्तों क्या बताऊँ.

यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !तो उन्होंने मुझसे बोला- तुमने छत से क्या देखा?मैं समझ गया कि आंटी क्या कहना चाहती हैं, मैंने कहा- आप जहाँ से मूतती हो. मैंने जब ये भैया को बताया तो उन्होंने ये कहते हुए मुझे काफी डांट सुनाई कि तुमने पहले से ध्यान क्यों नहीं रखा कि कोर्स कब से शुरू हो रहा है, तुम्हें अपने भविष्य की कोई चिंता है कि नहीं? बस सारा दिन घूमते फिरते रहते हो. तो ऐसा लगा कि मेरा लण्ड उसकी चूत में कहीं अटक गया है।तभी घुटी आवाज में वो चीख पड़ी और कहने लगी- उई माँ.

तब रीतिका बोली- दीदी, मैंने लेस्बीयन सेक्स देखा बहुत है, कभी किया नहीं है. जब उसने हिलना शुरू किया तो मैंने भी जोर-जोर से धक्के लगाने शुरू कर दिए। वो भी उछलने लगी और ‘आह्ह. तभी उस औरत ने कहा- तुम रुको … मैं तुम्हारे लिए चाय बनाती हूँ, पी कर जाना.

अपनी तो जैसे ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा।फिर उससे कुछ दिन इसी तरह मैसेज से बात चली और फिर मैंने उसे एक दिन प्रपोज कर दिया और उसने एक्सेप्ट भी कर लिया।फिर क्या था.

बीएफ फिल्म सेक्सी फुल एचडी में: मैंने उससे पूछा- तुमने पहले किसी के साथ सेक्स नहीं किया था क्या?रीतिका बोली- नहीं दीदी, मैं इन सब में नहीं रही! यार आप कैसी बातें कर रही हो?मैं तो सिर्फ पूछ रही हूँ।”और उसकी नंगी चूत को देख कर मुझसे रहा नहीं गया और मैंने अपनी उंगली उसकी चूत में पेल दी. थोड़ा कंट्रोल रखो।मैंने बिना झिझक के चाची का हाथ पकड़ कर दुबारा खड़े हुए लंड पर रखा और कहा- चाची जान KLPD मत करो।वे हँस कर बोलीं- सोच से ज्यादा जवान हो गए हो बेटा जी.

मैंने भी संजय की उंगली के साथ एक अपनी एक उंगली गीत की चूत में डाल दी।अब एक उंगली संजय की और एक मेरी. चूंकि उनकी चुदाई भी बहुत कम होती थी क्योंकि उनके पति साल में बड़ी मुश्किल से एक बार घर आ पाते थे. मुनीर ने तुरंत ही अपना कैमरा ऑन कर दिया और जो मैंने देखा, उस पर यकीन करना थोड़ा मुश्किल सा था.

’ करते हुए चाचा से लिपट कर पूरी चूत चाचा के हवाले करके मैं बुर को चाचा की तरफ करके दूसरे शॉट का इंतजार करने लगी।चाचा मेरी चूचियों को मुँह में भरकर लण्ड को चूत पर दबाने लगे।तभी मेरे कानों में पति के बुलाने की आवाज सुनाई पड़ी- नेहा कहाँ हो.

अन्दर ही झड़ो।मैं रस छोड़ा और मेरे पूरे माल को गीतिका ने गटक लिया।हम दोनों चिपक कर लेट गए। कुछ ही देर में उसकी गर्मी से मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया. पता ही नहीं चला।अब मैं और वो दोनों नंगे एक-दूसरे के जिस्म की गर्मी को महसूस कर रहे थे। उसकी गरम साँसें मेरी छाती पर लग रही थीं. मैं शर्मा गई और बोली- आप मुझे इस तरह बोल कर मेरा अपमान कर रहे हो।भाई- चलो तो ठीक है.