बीएफ चुदाई देखना

छवि स्रोत,बालवीर दिखाएं

तस्वीर का शीर्षक ,

इंडियन सेक्सी बीफ: बीएफ चुदाई देखना, इस धक्के से प्राची की चीख निकल गयी और उसकी आंखों से पानी निकलने लगा- आह आह … धीरे करो!प्राची बड़बड़ा रही थी.

लेडीज पायल

वो बोला- मेम अगर आपकी जगह कोई पुरुष अधिकारी होता, तो मेरा काम इतनी जल्दी नहीं होता. सेक्सी गुरुमैं अभी यामिना को घोड़ी बना कर और चोदना चाहता था इसलिए एकबार चुदाई फिर रोक दी और लण्ड अंदर किये किये यामिना के पेट और चुचों पर लेट गया.

देवर जी मेरी सारी मलाई चाट गए और मेरी चुत को चूस चूस कर फिर गर्म कर दिया. विद्या सेक्स वीडियोमैं बारी बारी से प्राची के स्तनों को चूसने लगा और उनका दूध पीने लगा.

इसके बाद उसने मेरी बीवी की गांड के छेद को देखा और अपनी जीभ मेरी बीवी की गांड के छेद पर लगा कर चाटने लगा.बीएफ चुदाई देखना: मेज पर एक क्रीम की शीशी रखी थी, उसे खोल कर उंगलियों में क्रीम लेकर मेरी गांड पर मलने लगे.

वो मेरी चुत को चौड़ी करके अपनी ज़ुबान से चुत की फांकों को खींच खींच कर बाहर कर रहा था और चुत के दाने को भी धीरे धीरे काट कर चुत को पूरी तरह से गर्म कर रहा था.इससे दोस्ती बना कर रखूंगा, तो हो सकता है किसी दिन बात करने का मौका मिल जाए … और शायद बात आगे बढ़ जाए.

देसीचुदाई - बीएफ चुदाई देखना

उस दिन मैंने पहली बार संजना के शरीर को ध्यान से देखा।उसकी कमर पतली सी 28 इंच की थी.मैं- मैं क्यों बताऊँगा?चाची- नहीं, तू बता देगा, पहले प्रॉमिस कर कि किसी को बताएगा नहीं.

उसकी ऊंची और कामुक सिसकारियां इस माहौल को और ज्यादा गर्म कर रही थीं और इस लाइव सेक्स चैट सेशन का मजा दोगुना हो गया था. बीएफ चुदाई देखना बुआ को ये अनुभव शायद पहली बार हो रहा था और मैं भी पीछे रहने के किसी मूड में नहीं था.

दोस्तो, मैं महेश एक बार फिर से अपनी प्रेम से लबालब सेक्स कहानी में डुबोने हाजिर हूँ.

बीएफ चुदाई देखना?

आम तौर पर कोई भी लड़की अपने वर्क स्पेस में इस तरह इतनी जल्दी पीने के लिए नहीं मानती. मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी आपसे सीधे कहने की मगर उसने ही मुझे प्रोत्साहित किया।मैंने भी कहा– मुझे नहीं पता था कि एक औरत के साथ भी इतना मजा आता है, मैं बहुत संकोच कर रही थी, मगर तुम्हारी सुंदरता देख मुझसे रहा नहीं गया और ये इच्छा कविता ने ही मेरे अंदर पैदा की।प्रीति बोली- आप भी बहुत सुंदर हो. तो भाभी बोलीं- ऐसे क्या देख रहे हो … क्या मैं कुछ ज्यादा हॉट लग रही हूँ!मैंने कहा- भाभी आप हॉट लग नहीं रही हो … आप हॉट हो.

बात करते-करते उसने अपनी पिक्चर भी भेज दी और मेरी भी फोटो मंगवा ली।फिर मैंने उसका साइज पूछा तो बोली कि मेरे बूब्स 32 के हैं और कमर 28 है. मैं चूत में रगड़-रगड़ कर लंड पेलने लगा और रंजू ने मस्ती में अपनी गांड उठा-उठा करके मेरे हर धक्के का माकूल ज़बाव देना शुरू कर दिया. मैंने यामिना के चूतड़ों और कमर पर हाथ फिराया, कुछ देर उसकी कमर पर झुककर अपनी छाती चूतड़ों पर और ठुड्डी उसकी कमर पर रखी और अपने दोनों हाथों से उसकी गोल चूचियों को सहलाया.

जिस दिन मैं अशोक से चुदवाने जाती तो बोल देती कि आज मीटिंग है, देर हो जाएगी. तुझमें किसी सेक्सी औरत को पटाने की हिम्मत तो है नहीं इसलिए मेरे जैसी सेक्सी औरत की गांड तेरे लिए बहुत ही बढिया ऑप्शन है. ” उसने निराशा भरे स्वर में कहा।मैं खड़ी हुई और उसकी पीठ को दीवार के साथ सटा दिया.

बिना कोई जोर लगाए मेरे बेटे का मोटा लंड पूरी तरह मेरी चुत में डूब गया था. मगर आज मुझे उन सबका ऐसे घूरना उत्तेजित कर रहा था।काफी देर तक वे लोग मुझे ऐसे ही घूर के हंसते रहे और मुझे भी आज उनके हंसने से मजा आने लगा था.

जितना सुख तुम दोनों ने मुझको दिया है … आज तक वैसा सुख किसी से भी नहीं मिला.

मेरे देवर ने मुझसे कहा- भाभी भरोसा रखो … यह मैंने आपकी खुशी के लिए ही किया है.

भाभी बोलीं- मुझे भी और करना है!मैंने कहा- थोड़ा आराम करने के बाद … खाना खाने के बाद. उनकी चुत के नमकीन रस से मैंने शराब की कड़वाहट को खत्म किया और उनके निप्पल पर फिर से मुँह लगा दिया. आअहह राहुल्ल्ल … तू बड़ा मस्त चोदता है … तूने मेरे से पहले कितनी को चोदा है बता.

दोस्तो, आपको याद ही होगा पहली बार मैंने भाभी जी को एक लैटर दिया था. कुछ पल बाद मैंने उसको फिर से जोर से पकड़ा और मुँह पर मुँह का ढक्कन लगाते हुए लंड को उसकी चूत में पूरा अन्दर तक पेल दिया. कभी मैं अपनी पूरी जुबान उसकी चूत में घुसेड़ देता, तो कभी मेरी दो उंगलियां.

वह कहने लगी- शुरू में तुमने मुझे बहुत दर्द दिया था मगर अब बड़ा अच्छा लग रहा है.

मैंने कहा- तुम्हारी वैसी हो तो दिखाओ?वे बोले- दिखा दी तो क्या दोगे?मैंने कहा- जो कहो. फिर तो मैंने आँटी के मम्मों को जगह जगह से चूस और काट कर लाल नीला बना दिया. फिर ज्योति ने पल्लवी की तरफ देखते हुए पूछा और आंख मार दी- क्यों पल्ली?सब जानते थे कि पल्लवी विराज को लाईक करती थी.

यामिना लण्ड के सुख से पिछले चार सालों से वंचित थी अतः वह लण्ड पर टूट पड़ी. जैसे ही मैंने उसकी कमर पर हाथ रखा तो मेरे पूरे शरीर में करंट दौड़ गया. लेकिन एक दिन मैंने देखा कि मेरे पापा, मम्मी के ऊपर नंगे होकर चढ़े हुए हैं और वो अपने शरीर को ऊपर नीचे कर रहे थे.

उस दिन मेरी वाइफ को कहीं अर्जेंट काम से जाना था, तो वो सुबह ही निकल गई.

मैंने पूछा- लेकिन तुम तो कंपनी की यूनिफॉर्म में हो, इसे पहन कर मसाज कैसे कर सकती हो?यामिना- साहब, अभी तो मेरे पास दूसरे कपड़े भी नहीं हैं, ऐसे ही कर देती हूँ. अब अगली बार मैं प्रभात के साथ आए सुधीर जी … और उनके साथ एक नए शख्श असलम की गांड चुदाई की कहानी लिखूंगा.

बीएफ चुदाई देखना ढीली टी-शर्ट पहनी होने की वजह से जब भी वो झुकती, तो उसकी काली ब्रा से ढके उसके गोरे गोरे बोबे दिख जाते. वो बस आहें भरे जा रही थी- सीसी … सीस्स … आह्ह … आई … आह्ह … सीसी … श्स … आह्हऐसे करके वो अपनी उत्तेजना को कंट्रोल करने की कोशिश कर रही थी मगर मेरा हाथ उसकी चूत को रगड़ता हुआ उसके जिस्म में आग को और ज्यादा भड़का रहा था.

बीएफ चुदाई देखना जैसे ही मैं लण्ड को अंदर डालने के लिए जोर की ठोक लगाता, आँटी ऊपर खिसक जाती. तीनों स्टाफ़ की लेडीज़ की दफ्तरी चुदाई का कार्यक्रम बहुत दिनों तक चलता रहा, मैंने उन तीनों के साथ सम्बन्धों को पूरी तरह से गोपनीय बनाये रखा.

मैंने उसको समझाया कि जब मेरे पति आएंगे तो उनसे ये मत बोलना कि मैं तुमको सड़क से उठाकर लायी हूं.

बंगाली रंडी सेक्स

सोनम भी अब पूरे जोश में नीचे से अपनी गांड उठाते हुए उसके लौड़े का स्वागत अपनी चुत में कर रही थी. मैं- तूने ही तो अभी बोला कि पहली रात के …सीमा- अरे दिन में ही जाना है. असल में उसकी चुदाई के समय मेरी खुद गांड फट रही थी, इससे मैं देर से छूटा … वह मस्ती में लंड ले रही थी.

रंजू का दूधिया जिस्म कमरे की रोशनी में किसी संगमरमर की तरह चमक रहा था. फिर उसने पति को नीचे लिटाया और उसके लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी. नसीम भाई भी उन्हें खूब मक्खन लगाते ताकि वे दुबारा गांड मरवाने को तैयार हो जाएं.

फिर उसने वह जगह बताई, जहां हम दोनों को रात को 9:00 बजे के बाद जाना था.

पड़ोसी सेक्स की कहानी में पढ़ें कि कैसे एक बाप बेटे ने एक साथ अपने पड़ोसी की बीवी को उसी के सामने पूरी नंगी करके चोद दिया. वो बोली- प्रकाश के आने का वक़्त हो गया। मुझे शॉर्ट्स भी चेंज करनी है।ये बोलकर अनीता नीचे चली गयी और रमण इस जुगाड़ में लग गया कि कैसे आज की छुट्टी ली जाये।तभी अनीता का फोन रमण के पास आया और वो बोली- आज रात को प्रकाश की ड्रिंक पार्टी है घर पर, तो मैं प्रकाश को झूठ बोल दूंगी मुझे मूवी देखने जाना है. ऊपर से सफेद शर्ट पहनी हुई थी मैंने और पसीना आने के कारण मेरी शर्ट भीगने के बाद मेरी ब्रा को भी उजागर करने लगी थी.

तभी उनकी जेठानी आ गयी और चार दिन की चुदाई मस्ती का हमारा कार्यक्रम ठप्पा होता दिखा. अब आगे गंदा सेक्स:मैंने शराब की बोतल देखते हुए कहा- भाभी जी इसकी क्या जरूरत है … हम दोनों पहले ही इतनी ज्यादा पी चुके हैं … प्लीज अब और नहीं!भाभी जी- डोन्ट वरी … इसमें ज्यादा नशा नहीं होता. कुछ ही देर में लंड से चुत की दोस्ती हो गई और मोना भाभी ने अपनी गांड हिला कर इसका संकेत भी दे दिया.

अब फच्च फच्च … की आवाज के साथ लंड उसकी चूत में अंदर बाहर हो रहा था. निखिल मुझसे अलग होकर कमरे से निकल गया और थोड़ी देर बाद ही उसकी आवाज आई- जल्दी चलो, बरसात बंद हो गयी है.

मैं उसकी आंखों में झांकता हुआ उसके एक दूध को अपने होंठों में दबा कर चूसने लगा था और दूसरे को हाथ से दबा रहा था. लिफ्ट के पास पहुंचते ही उसे कुछ याद आया और बोली- सर, एक बार रूम में वापिस चलना है, कुछ रह गया. मुझसे रहा नहीं जा रहा था तो मैं भाभी के ऊपर चढ़ गया और उनके बोबों को जोर जोर से निचोड़ने लगा और पीने लगा.

मैं घर आया, तो सोनल भाभी अपने कमरे में थीं और विधि भाभी मेरे इन्तजार में पलक पांवड़े बिछाए बैठी थीं.

उन्होंने सड़कछाप शोहदों जैसे गाली दी और अपने पैर की मांसपेशियों को कसते हुए अपनी गंदी जुबान से आवाज दे दी. एक दिन मुझे अपने स्कूल में साथ पढ़ने वाली फ्रेंड की फ्रेंड रिक्वेस्ट आई. चुदाई का असली मजा तो तेरे साथ आया है मुझे!उसके बाद वो जाने लगी और बोली- अब तूने जो ये मजा दिया है वो मुझे बार बार चाहिए।मैंने कहा- ठीक है, जब भी तेरे पास मौका हो तो बता देना.

हम दोनों ने खुद को साफ किया और जल्दी से मामी ने खाना बना कर मुझको खाना परोस दिया और मैं खाना खाकर मामा के लिए खाना ले कर चला गया. कहानी के दूसरे भागदोस्त की भतीजी की सील पैक चूत मिली- 2में आपने पढ़ा था शगुफ्ता से मेरी मुलाकात हुई तो वो झिझक रही थी.

आदतन श्वेता की खिड़की में झांका तो देखा कि श्वेता कुछ काम कर रही थी, लेकिन वो कुछ उदास लग रही थी. मैंने देखा भाभी बेड पर करवटें बदल रही थीं, उन्हें शायद कोई दिक्कत थी. मैं ट्रेन से अपने घर गया और उधर एक दिन रुक कर उधर से बस से उसके गांव गया.

नई दुल्हन के साथ सेक्स

वो सरसों के तेल की शीशी लेकर आईं और मेरे लंड पर तेल टपकाते हुए उसकी मालिश करने लगीं.

मैं पूरा नंगा था और ज्यादा थक जाने के कारण कब मेरी नींद लग गयी, पता ही नहीं चला. कुछ देर बाद मैंने कहा- क्या देख रहे हो?वो शर्मा कर बोला- कुछ भी नहीं मैडम. मेरा लंड भी और जोश में आ गया था और चाची की चुत में घुसने की कोशिश करने लगा.

कुछ देर बाद संगीता मयंक को लिप किस करने लगी और उसने मुझको भी अपनी तरफ खींच लिया. अब मेरा भी पानी निकलने वाला था तो मैंने उसको अपने लंड के सामने आने को कहा. सेक्सी पत्नीपर मानस अपने काम में पूरा फोकस करके उसकी जंगली किस्म की चुदाई कर रहा था.

जिंदगी में आज पहली बार किसी ने सोनम की संगमरमर सी चुत की ये हालत की थी. पास आने पर पता लगा कि वो एक मोटा डिल्डो था जिसे उसने फर्श पर रख दिया।तान्या- मैं अपनी बॉडी को शेप में रखना पसंद करती हूं.

लेकिन फिर भी मेरे अंदर एक झिझक बनी हुई थी कि कहीं चाची मुझसे बेटे वाला प्यार तो नहीं निभा रही है?लेकिन मुझे यह बाद में समझ आया कि चाची भी एकदम खुलने में झिझक रही थी और वह नीचे लौड़े पर हाथ मार कर यह पक्का कर लेना चाहती थी कि मेरे ऊपर सेक्स का कोई असर है या मैं भी बेटा ही बना हुआ था. अब मेरे विचार एकदम बदल गए थे। अब मेरी इच्छा अपनी गांड मरवाने की हो रही थी. पैग लेने के बाद वो बोली- थैंक्स पंचम, आज बहुत दिनों बाद मैंने सेक्स का एंजाय किया.

तो ना तो प्राची किचन में थी … और ना ही बेडरूम में, बच्ची भी बेडरूम में अकेले सो रही थी. लेकिन निधि अभी नहीं झड़ी थी तो उसने मुझे देखा और एक कंडोम मेरे हाथ में दे दिया. तभी उनकी जेठानी आ गयी और चार दिन की चुदाई मस्ती का हमारा कार्यक्रम ठप्पा होता दिखा.

मेरी बीवी का बॉस विदेशी से कहने लगा- डील पसंद आई?विदेशी बोले- आई लव देसी इंडियन … (मुझे देसी इंडियन की चुदाई बहुत पसंद है).

आह सच में क्या प्यारी सी चूत थी … एकदम गुलाबी और बिल्कुल चिकनी!चुत देख कर मेरे मुँह में पानी आ गया और मैं अपनी ज़ुबान धीरे से उसकी चूत की दरार पर घुमाने लगा. मैं- यार किसी को पता चल गया तो?सीमा- किसी को पता नहीं चलेगा, बोल क्या चलेगी आज?मैं- नहीं बाबा, आज नहीं.

तभी उसने अपना एक निप्पल मेरे मुँह में दे दिया और एक मिनट चुसवाने के बाद वो अचानक से नीचे झुक गई. दोस्तो, संगीता जैसी जवान और मस्त माल की मेल जिगोलो सेक्स कहानी को अगले भाग में लिखूंगा. ताई ने कहा कि तेरे पास इस ठंड से बचने का कोई और रास्ता है, तो बता!मैंने एक पल सोचा और बिंदास कह दिया कि तरीका बहुत ही कठिन है और गलत भी है … लेकिन अगर आपको नहीं आजमाना होगा, तो आप मना कर देना.

हम सबको कैंटीन खाना खाने के लिए ले जाया गया। हम सबकी तब तक आपस में पहचान हो चुकी थी. कुछ दिनों बाद ही मेरे कंपनी के एक लड़के के साथ मेरा टांका भिड़ गया और उस लड़के के साथ मेरा रिश्ता फलने फूलने लगा. अब वो जोर जोर से मोन कर रही थीं- अहह अर्नव … जोर से चूसो खा जाओ इन्हें!वो काफ़ी उत्तेजित हो रही थीं।पर अभी भी उनका आधा जिस्म साड़ी से ढका हुआ था.

बीएफ चुदाई देखना उसने कमरे में आकर दरवाजा बंद कर दिया था तो मैं उसकी प्यास को समझ गया. चाची ने बेड पर बैठकर एक अंगड़ाई ली और मुस्कारते हुए मुझे देखकर एक पतली चादर अपने पेट तक ऊपर कर ली.

बीएफ सेक्सी बीएफ चलने वाला

लेकिन कुछ भी समझ नहीं आया।अगर थोड़ा और उजाला होता तो शायद किसी निष्कर्ष पर पहुँचा जा सकता था. वह जोर जोर से बोल रही थी- अअहह … उईई अमन आह क्या कर दिया तुमने … आह बड़ा मजा आ रहा है … आह सक मी. उसका हाथ पकड़ कर मैंने कहा- माफ करना भाभी, मैं भावनाओं में आकर ये सब बोल गया.

फिर दो दिन बाद शाम को उसका कॉल आया और उसने पूछा- अभी क्या कर रहे हो?मैंने कहा- ईव्निंग वॉक कर रहा हूँ. मैं चुपचाप वहीं पर भाभी जी को याद करने लगा कि भाभी बाथरूम में कैसे बैठी होंगी. चूड़ी वाला मेहंदीकमरे में अंधेरा था, सो कुछ दिखाई तो नहीं दिया … मगर उसके बोबे कुछ ज्यादा ही बड़े लग रहे थे.

फिर कार पार्क करके एक आदमी उसकी बांहों में हाथ डालकर रिशेप्सन की ओर बढ़ा.

उसने मुझे खड़े होने को बोला और अपने हाथ में एक बाउल लेकर आया और मेरे हाथ में पकड़ा दिया।अब वो मेरे बूब्स पर हाथ फेरने लगा और बोला- क्या संगमरमरी हुस्न है!मैं बोली- यार ये सब फिर कभी कर लेना. बिना कोई जोर लगाए मेरे बेटे का मोटा लंड पूरी तरह मेरी चुत में डूब गया था.

साक्षी की चूत अब सूजी हुई सी लग रही थी लेकिन वो बहुत खुश लग रही थी. फिर अचानक मेरी लाइफ में एक ऐसा दिन आया, जिसने मेरी पूरी दुनिया ही बदल कर रख दी. मेरी आवाज कमरे में गूंजने लगी और मेरे नाखून उनकी पीठ पर खरोंचने लगे जिसकी वजह से उनमें और जोश आने लगा.

उसने कहा- बेटी मैं इस घर की नौकरानी हूँ … साब जब कहीं बाहर जाते हैं, तब मैं घर का ख्याल रखती हूँ.

मैं- हां, तुम्हारे ये सेक्सी अंदाज और टाइट गांड देखकर तो किसका खड़ा नहीं होगा. मैंने प्राची से पूछा- कहां निकालूं?तो उसने इशारे से ही मुँह में निकालने के लिए बोल दिया. ये किस हमारे एक होने का सबूत था क्योंकि इस किस से हम दोनों को प्यार मिल रहा था‌.

भाई की चूतमैंने अपना मुँह हटाकर हाथ से उसका पानी उसकी चूत और गांड पर मसल दिया. बुआ मुस्कुरा रही थीं, जैसे कह रही हों कि अब आया मज़ा?मैं अब और खतरा मोल नहीं ले सकता था इसलिए मैंने पूनम को 69 अवस्था में आने को कहा.

राजस्थानी बीएफ एचडी

जयपुर टूर से पहले मैंने अपनी उस प्रोफाइल पर स्टेटस डाला कि मैं दो दिन के लिए जयपुर में ठहरूंगा, किसी को मस्ती चाहिए तो हाजिर हूं. उन्हें देख कर मैं थोड़ा झिझका क्यूंकि मुझे ऐसी उम्मीद बिलकुल न थी कि दरवाजे पर कोई खड़ा मिलेगा।उस दिन पहले पहल मैंने भाभी को देखा था।उन्होंने लाइट ब्लू कलर की साड़ी और बैकलेस मैचिंग ब्लाउज पहन रखी थी. पापा का गुस्सा देखकर मैं अपने पलंग पर चला गया और चुपचाप आंखें बंद करके लेट गया.

मैंने उसे उठाया और कमरे में ले जाकर बेड पर लिटा दिया, उसकी चूचियों को मसलने लगा. फिर मैंने संगीता की दोनों टांगों को चौड़ा किया और घोड़ी बनाकर उसकी चूत पर लंड को फिराने लगा. अभी भी भाभी दिखावा करने के लिए आराम आराम से बोल रही थीं- यश कोई देख लेगा.

तो मैंने लंड को पूरा बाहर निकाल कर पूरे जोश के साथ फिर से अन्दर पेल दिया. मैं- तो मेरी मारोगे?वह जोर से हंसा- आप मेरे से बड़े हो … मुझे करने में मजा नहीं आएगा. मैंने भी कह दिया- हां मेरी जान, पीस कर रख दो मुझे … तुम्हारे भैया तो मुझे महीनों तक नहीं छूते हैं.

उसने मुझे कॉल करके कहा- यार अगर मैं प्रेगनेन्ट हो गई, तो क्या करोगे … तुमने मुझे कोई गोली भी नहीं दी और ना कंडोम लगाया. मैं बोला- मगर आप इतनी रात को कैसे जाओगी? यहां से कोई साधन नहीं मिल रहा.

”मैम की टांगें उठाकर मैंने अपने कंधों पर रखकर मैम को ठोकना शुरू किया तो हर ठोकर पर मैम आह आह करतीं- बस करो राबर्ट, बस करो, आज मेरी बुर का भुर्ता बन गया है.

दोनों लड़कियां किसी मशहूर रंडी के जैसे लंड पर उछल उछल कर गांड पटकने लगी. बड़े भाई को बर्थडे विशबड़ी भाभी को मैं पहले भी चोद चुका हूँ मगर छोटी भाभी को मैंने कभी नहीं चोदा था. বাংলা ব্লু ফিল্ম ভিডিওफिर चुदाई के बाद मेरी चुत गांड मुँह और शरीर पर जो भी पानी निकलेगा, वो उसको चाट कर साफ करता है. उसने मेरी चूची दबाकर मुझे गिरने से रोका और उसके कड़क हाथ में मेरा बोबा मसला गया तो मेरे मुंह से एक जोर की आह्ह … निकल गयी.

उसका पति अभी नशे में था और वो दोनों एक दूसरे को पकड़ कर किस करने लगे.

मुझे ये मौक़ा कैसे मिला … और उसके बाद से आजकल मैं कैसे अपनी भाभियों को चोद पा रहा हूँ. गांव में मेरे परिवार में मेरे अलावा मेरे मम्मी-पापा और मेरी दादी रहते हैं. मैंने एक नजर वेंटिलेशन पर डाली और वहां पड़ी एक टेबल उसके नीचे लगा कर ऊपर चढ़ कर देखा, तो मैं वहां तक पहुंच ही नहीं पाई थी.

उस दिन मुझे घर के लिए निकलना था, इसलिए मैं कॉलेज से जल्दी घर आ गया. उसने मुझे जकड़े रखा और मेरे वीर्य की हर एक बूंद माल को अपनी चुत से चूस लिया. मुझे फ़लक की नंगी, गोरी, भारी गांड, गदराई कमर, सुड़ौल टाँगें और उसके घुटनों के पीछे का चौड़ा सेक्सी भाग फिर दिखाई दिया और मेरा मन ललचाने लगा, मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया.

सेक्सी दे बीएफ

जीजू का इतना बड़ा लंड आपकी छोटी सी चूत में कहां गुम हो गया … पता ही नहीं चला. उसको मैंने एक तकिया दे दिया और कहा कि किसी चीज की जरूरत हो तो मुझे आवाज देकर कह दे. स्खलन के नाम पर उसमें से केवल तीन चार बूंदें ही बाहर ही आ पा रही थीं.

मैंने लिली को थोड़ा धक्का देकर बेड पर लिटा दिया और उसकी जांघों को खोल दिया.

कुछ देर यानि लगभग दो मिनट के बाद उसके पति का पानी साक्षी की चूत में निकल गया और वो चोदता हुआ रुक गया.

फिर क्या हुआ?नमस्कार दोस्तो, देसी नंगी भाभी की सेक्स कहानी के दूसरे भागपूरी नंगी भाभी के जिस्म का मजामें आपने देखा कि कैसे मैंने रेनू की योनि का चोदन करने के बाद उसकी गुदा चोदने का भी पूरा आनंद लिया. मैंने हाथ से लंड को सैट किया और वो मेरे लौड़े पर चुत पेलती हुई धच्छ से बैठ गई. ब्लू पिक्चर देखने वाला वीडियो मेंउसने मुझे उसी बेड पर लिटा दिया और मेरे ऊपर सवार हो गया, मेरे चेहरे पर चुम्बनों की बरसात कर दी.

अब आगे मेरी प्यासी चुत की कहानी:प्रकाश शॉप से घर आया तो अनीता ने उसे दरवाजे पर ही चूम लिया।वह समझ गया कि मैडम आज मूड में हैं. भाभी जी- बस आरुष हो गया, अब आंखें खोलो … तुम एकदम ठीक हो जाओगे … बस दो मिनट रुकना. इससे दोस्ती बना कर रखूंगा, तो हो सकता है किसी दिन बात करने का मौका मिल जाए … और शायद बात आगे बढ़ जाए.

मैंने यामिना की शर्ट के सारे बटन खोलकर उसे बाजुओं में से निकाल दिया. उसने अपनी हालत को देखा और मैंने एकदम से उसकी लोअर में हाथ बाहर खींच लिया.

ऑफिस से आने के बाद मैं उसकी बेटी के साथ खेलने भी चला जाता, तो कभी छुट्टी के दिन उसके पति के साथ गप्पें लड़ाने बैठ जाया करता था.

उसने मुझे खड़े होने को बोला और अपने हाथ में एक बाउल लेकर आया और मेरे हाथ में पकड़ा दिया।अब वो मेरे बूब्स पर हाथ फेरने लगा और बोला- क्या संगमरमरी हुस्न है!मैं बोली- यार ये सब फिर कभी कर लेना. वह ये देख कर जोर से हंसने लगा- वाह … गुरू को चेले की नकल करते देख कर मजा आ गया. नेहा- हां तो अब बता कैसा लगा हमारा प्रोग्राम … मजा आया?स्नेहा- बहुत मस्त दीदू … क्या हॉट चुदाई थी यार … मैं तो सोच भी नहीं सकती थी कि आप इतनी बड़ी चुदक्कड़ निकलोगी.

चुड़ैल की कहानी एक मिनट बाद तो दीदी इतना अधिक झुक गईं कि उनकी चूचियों के निप्पल भी दिखने लगे. मैंने तुम्हारे साथ इतने हसीन लम्हों को जिया है कि तुमसे प्यार हो गया है.

इसी प्रकार उसे चुदाई की मस्ती में डुबो कर अपनी एक उंगली उसकी बेटी की छोटी सी बुर में घुसेड़ दी. मेरी ओर देख कर समझ गई- तुम घबरा रहे थे शायद … पहली या दूसरी बार ही है?उसकी इस बात से मुझे भी आत्मविश्वास आया. बार बार भाईजान का मोटा लंड प्रभात की गांड में जाता आंखों के आगे घूम रहा था.

लड़का वाला बीएफ

सोनम बोली- तेरी मां का भोसड़ा साले … इस तरह से कौन चोदता है भोसड़ी के … तूने तो सच में मां चोद दी मेरी चुत की हरामी … अब देख क्या रहा है कुत्ते, चोद मुझे … और जोर से चोद … दिखा हिजड़े कितना दम है तेरे इस छोटी सी लुल्ली में?छोटी लुल्ली बोलकर सोनम ने मानस के अहंकार को चोट मारी थी. उन्होंने मेरी गांड को गीला किया और मैं अभी कुछ समझ पाता कि बुआ ने एक अलग ही हरकत कर दी. निखिल ने अपने हाथों से मेरी साड़ी और पेटीकोट को कमर तक उठा दिया था और हाथों से मेरी चुत को स्पर्श करने लगा था.

मामी ने आह भरते हुए मुझसे कहा- हां मैं भी तुम्हें बहुत पसंद करती हूँ. फिर …लेखिका की पिछली कहानी:जवान लड़की की वासना, प्यार और सेक्सहैलो फ्रेंड्स, मैं 36 साल की हूँ और मेरा नाम रूपा है.

फिर धीरे से मैंने उसका हाथ अपनी जांघों के बीच में अपने लंड पर रख दिया.

कुछ देर बाद मोना भाभी बोलीं- आआह्ह्ह्ह यश … ऊओह्ह्ह मेरा होने वाला है. और जैसे ही हमारी आँखें एक दूसरे से टकराती तो रूपाली के मुंह पर मुस्कान तैर जाती और फिर से अपनी आँखें बंद कर लेती।कुछ देर बाद मैंने धक्के लगाने बंद कर दिए तो रूपाली ने आँखें खोल के प्रश्नवाचक दृष्टि से रुकने का कारण पूछा. हम दोनों ही प्यार की आग में जल रहे थे … इसलिए हम ऐसे ही प्यार करते गए और एक दूसरे को चूमते चूमते बिस्तर पर लेट गए.

इस माउथ सेक्स की कहानी के दूसरे भागअमीर जवान विधवा के बेडरूम मेंमें आपने अब तक पढ़ा था कि संगीता ने मुझे चुदने का तय किया था और वो मेरा लंड चूसने लगी थी. कुछ ही देर में मामी एकदम से अकड़ गईं और मेरे मुँह में उनका पानी आ गया. पिछले भागछोटी बहन को चुदाई का नजारा दिखायामें अब तक आपने पढ़ लिया था कि नेहा ने अपनी छोटी बहन स्नेहा के इसरार पर उसे परिवार के बाकी सदस्यों की चुदाई की कहानी बताने का निश्चय कर लिया था.

मुझे भी लगने लगा कि मैं भी बाकी लड़कियों की तरह महंगे कपड़े, मोबाईल आदि यूज करूं, पर मेरे घर वालों की उतनी हैसियत नहीं थी कि वो मुझे मेरे शौक पूरे करने के लिए पैसे दे सकें.

बीएफ चुदाई देखना: जब उसकी मुनिया ने पानी छोड़ा, तब उसके मुँह से आआ… आ… आआह की लंबी सिसकारी निकली और वो नंगी पड़ी रही. इस धक्के से ममता जी के मुँह से एक जोरदार चीख निकल गयी- आह मर गई रे आआअहह … आहह हरामी कितनी तेज पेलता है … हायईई आराम से पेल साले.

फिर धीरे धीरे मैं उसकी गर्दन को चाटते हुए काटते हुए उभारों तक आया और उसके गुलाबी निप्पल को अपने दांतों के बीच लेकर जोर से भींच लिया और खींचने लगा. और मैं बाथरूम में चला गया।जुलाई का उमस भरा महीना था और बाथरूम के शॉवर में ठंडा पानी आ रहा था।इसलिये मैं काफी देर तक शॉवर लेता रहा जिससे मुझे नहाने में काफी टाइम लग गया।जब मैं नहा कर वापस आया तो देखा कि भाभी मेरे गेट पर खड़ी हैं. लण्ड चूत की गर्म दीवारों को फैलाते हुए अति आनन्द का अहसास दिलाते हुए बच्चेदानी के छेद पर जा लगा.

जैसे ही मैं उसके होंठ को खींचता तो वो मेरे और ज्यादा करीब आने की कोशिश करती.

जिससे शायरा मेरी बांहों में अब मचलने लगी मगर उसने खुद को मुझसे दूर नहीं किया. मगर जल्दी ही ममता जी का संयम जवाब दे गया और उनकी चुत ने कामरस का ज्वार उगल दिया. मैं नीचे से धक्का देने लगा, तो मेरा लंड ना तो एक इंच भी बाहर ना आया और ना ही अन्दर गया.