अनुष्का शर्मा का बीएफ वीडियो

छवि स्रोत,मिया खलीफा की फोटो

तस्वीर का शीर्षक ,

देसी बीएफ वीडियो भेजें: अनुष्का शर्मा का बीएफ वीडियो, फिर मैंने उसकी छाती पर हाथ रख दिया, उसने भी मेरी छाती पर हाथ रख दिए.

जॉनी सिंस कौन है

उनके नंगे बदन को देख कर रात की घटना अब मेरे दिमाग में आने लगी थी और मेरा ध्यान मामी जी की चिकनी चमकती हुई गुलाबी चूत पर केंद्रित हो गया. सेकस सेकसबहुत छोटी उमर से ही सेक्स का ज्ञान हो गया था मुझे … और अपने लंड को पकड़ कर मूठ मारने की आदत पड़ गई थी, हर लड़की को देख कर मैं उसके नाम की मूठ मारता था.

आहना कहने लगी- मैंने उन्हें बहुत समझाया, लेकिन वो मेरी कोई बात नहीं सुनते हैं. हमारे सेक्ससोना को देखा तो वो सो रही थी, मुझे बेहद गुस्सा आ रहा था, शादी के बाद हम लोग घूमने गये.

मैं थोड़ी हिन्ट दे रही हूँ कि अब आप इन्हीं दो जगहों पर अपने मुंह और जीभ से सॉरी महसूस करायें।मैं (सुधा) बोली- मामी इनसे कहिये कि पहले ये पूरे नंगे हो जाएं उसके बाद ही माफी मांगने के लिए आगे बढ़ें.अनुष्का शर्मा का बीएफ वीडियो: यानि उसने मेरे तने हुये लंड को अपनी फुद्दी के नीचे इस तरह से सेट किया कि वो उसकी दोनों जांघों की गहराई में बड़े अच्छे से फिट हो गया।मैंने उस से पूछा- तुम्हें पता है कि इस वक़्त किस चीज़ पर बैठी हो?उसने हाँ में सर हिलाया।मैंने पूछा- क्या है?वो धीरे से बड़ी मीठी सी आवाज़ में बोली- लंड।कितनी मिठास थी उसकी आवाज़ में। अब मुझे बड़ी तसल्ली सी हुई कि ये भी पूरी तरह से मन बना कर आई है.

सासू माँ- ठीक है बेटा, आराम से सोच ले इस बारे में, तेरा जो भी फैसला होगा, हमें वो सब मंजूर है.मैं और मोहित दोनों को बस हर जगह सुमन ही दिखती। आते जाते हम दोनों सिर्फ उसको ही घूरते रहते। उसके मम्मे, उसकी गांड। उसका हँसना, बोलना, बात करना, चलना, चहकना। बस हम दोनों तो उसी को देख देख कर दीवाने हो रखे थे।कहानी जारी रहेगी.

सेक्सी सीन दिखाना - अनुष्का शर्मा का बीएफ वीडियो

इसलिए मैं पानी पीने जब अन्दर गया, तो सरोज भाभी और उनके साथ दो भाभियां और थीं, जो आपस में बातें कर रही थीं.गलत था उसका इतनी जोर जोर से कमर हिलाते हुए झड़ना और कपड़े गन्दा करना क्यूंकि मेरा फ्लैटमेट भी आने वाला था.

जमा तो ठीक वरना मायके चली जाऊंगी- ठीक है मम्मी जी, मुझे आपकी सलाह ठीक लग रही है … बाद का बाद में देखेंगे. अनुष्का शर्मा का बीएफ वीडियो थोड़ी देर बाद जब मेरा लंड सिकुड़ने लगा, तो मैंने उसपे से कंडोम निकाल कर साइड में रख दिया और हर्षिता के बगल में आकर लेट गया.

यह बोल कर मैं उनकी चुत को अपनी उंगली से मसलने लगा और मैंने अपना लंड उनके हाथ में दे दिया.

अनुष्का शर्मा का बीएफ वीडियो?

फिर मेरी बीवी वापस आ गयी, तो मैंने अपना ध्यान उसके संतरों से वापस टीवी पर लगा लिया. आगे क्या हुआ, क्या नानाजी ने हमें आपत्तिजनक स्थिति में देख लिया और किस तरह हमने अपने आपको बचाया और क्या इसके बाद हम लोग कभी अपने जिस्मों का मिलन कर पाए या नहीं, जानेंगे कहानी के अगले भाग में. तीस मिनट की चुदाई के बाद अनुष्का मैडम की गांड को मैंने चोद-चोद कर उसकी ठुकाई कर डाली.

फिर मैंने अपना एक हाथ से आहना के बालों को पकड़ कर उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए. और न ही आपके जैसे चूचे हैं उसके …भाभी- ये तो आपके भैया के झूठे हैं, कही और मुँह मारो. और फिर थोड़ा सॉरी बोलते हुए बोली- मेरी चूत अब टाइट नहीं है बच्चा होने के बाद और इसी वजह से तुम्हें मज़ा नहीं आ रहा और तुम झड़ नहीं रहे.

इधर मेरे सास ससुर को अपने गांव जाना पड़ा, तो वे मुझे भी साथ लेकर गए. हम दोनों के ऊपर के कपड़े उतर चुके थे, गुलाबी रंग की ब्रा पहनी हुई थी मैंने, बैडमैन ने उसे भी अपने दांतों से पकड़ कर उतार दिया और मेरे चूचों को चूसने लगा. लेकिन उसका लिंग साफ बता रहा था कि वह बेड पर तकिया लगाकर नकली चुदाई का खेल खेल रहा था.

टांगों को अपने कंधों पर रखा और मोड़ने से उनकी चूत और भारी चूतड़ मेरे बिल्कुल नीचे आ गए. उसने अपनी ऊपर वाली ड्रेस उतार दी तो मैं उठ खड़ा हुआ और उसकी कमर पे हाथ रख कर कहा- अब मैं उतारूंगा.

सच में दोस्तो, वो मेरा पहला सेक्स था और उसमें बस आनन्द ही आनन्द था.

उसकी बहुत तेजी से चीख निकल गयी, पर वो शायद जानती थी कि क्या होने वाला है इसलिए उसने अपने दोनों हाथों से अपने मुँह को दबा लिया.

थोड़ी देर आराम करने के बाद सीमा भाभी उठने की कोशिश कर रही थीं, पर उनसे उठा नहीं जा रहा था. मैंने अपनी फुल स्पीड कर दिया, जिससे मिसेज पाटिल की आवाजें तेज़ हो गई थीं. इस तरह से प्रसंग का लंड मेरी चूत के हर एक कोने में चोट मार मार कर चूत की धज्जियां उड़ा रहा था.

मैंने गुलाबो को अपनी तरफ किया और अपने होंठ गुलाबो के होंठों पर रख दिए और उन्हें चूसने लगा। मैं बहुत जोश में था और गुलाबो के होंठों पर ही टूट पड़ा।गुलाबो के सफ़ेद बड़े-बड़े खरबूजे देख कर मेरी तो जुबान रुक गई। गुलाबो ने डीप गले की फ्रॉक पहनी थी, उसकी आधी चूचियां और क्लीवेज झाँक रही थी. इधर मैं भी अपने मित्रों को एडल्ट साईट में देख और बातें कर कभी कभी उत्तेजित हो जाती और संभोग की कमी महसूस करती, पर मेरे लिए ये सब कुछ फिलहाल सपने की तरह था. अगर आप लोगों को लगता है कि चोदना चाहिए तो प्लीज मुझे कमेंट्स करके बताएं.

जिसे देखते ही वो बहुत डर गई और बोली- देख यार, यह बात किसी से ना कहना … वरना मेरी सारी जिंदगी बर्बाद हो जाएगी.

वह उम्मीद कर रहा था कि मैं खुद ही उसके लंड को पकड़ लूंगा लेकिन मैं तो नशे में था. कुछ देर बाद वो मेरे ऊपर आ गई थी … तो उसके चुचे मेरे मुँह पर ही रगड़ रहे थे. मगर मैंने आरती से साफ़ साफ़ कहा हुआ था कि बस वही लंड मेरी चूत में जाएगा जो तुम्हें मेरे सामने चोदेगा.

… रात को तो बहुत मजा आया अहहहहाआ…मामी जी- जानू धीरे से उईईई … अभी भी आपके लंड से मेरी गांड की दोस्ती थोड़ी कम ही हुई है. अब मैं बिंदास मैडम के मुँह में लंड को पेलने में लग गया और कुछ ही पलों में मेरे लंड का जूस उसने अपने हलक में उतार लिया. जब मेरे लंड ने उसकी चूत की तलहटी को छुआ, तब मुझे पता चला कि ये तो साली खेली खायी लौंडिया है.

मम्मी जी- बेटा, दो दिन बाद हम सूरत जा रहे है, तुझे साथ में नहीं ले जाऊँगी, बोल तो किसी को बुक करूँ तेरे लिए या तो तू खुद किसी को ढूंढ लेगी?मैं- मैं किसे ढूंढूंगी मम्मी जी यहां, यहां तो कोई पहचान का है भी नहीं, आप ही देख लो क्या करना है आपको.

फिर भी मैंने खुद को संभालते हुए कल्पना से पूछा- आप क्या चाहती हैं?कल्पना- ये कैसा सवाल है आपका कि मैं क्या चाहती हूँ? मैं क्या चाहती हूँ आपसे … ये आपको मालूम है और आपको और मेरे लिए कुछ करने की जरूरत भी नहीं है. वो बोली- बैठो … क्या लोगे … चाय या कॉफ़ी?मैं उसकी तरफ देख कर मुस्कुरा दिया.

अनुष्का शर्मा का बीएफ वीडियो अब मैं पूरी रफ़्तार से उनके मुंह को चोद रहा था, उनके गले से घुटी-घुटी आवाज़ निकलने लगी थी और आँखों से पानी बहने लगा था. उनके वक्ष पर हाथ रखते ही मैंने किस करना बंद कर दिया और अपना चेहरा ठीक उनके चेहरे के सामने करके रुक गया.

अनुष्का शर्मा का बीएफ वीडियो मैं- मैडम, मैं जिस काम के लिए आया हूँ, उसे शुरू करें?कल्पना- हां, चलो बैडरूम में चलते हैं. मैं दीवार की तरफ था, मामी नीचे की तरफ मुँह करके लेट गईं और मैं पेट के बल लेटा था, जिसकी वजह से मेरा हाथ मामी के नीचे दब गया.

हालांकि इस समय मुझे इस तरह से चुदाई करने में मैडम को झाड़ने की कोई जल्दी नहीं थी.

चोदते हुए की वीडियो

अब हमारी स्थिति ऐसी थी कि उसके स्तन मेरे चेहरे पर थे और हाथ मेरे ऊपर था. मैं- अच्छा जी, मेरे लंड की फोटो बहुत सी लड़कियों के पास है, उसमें से एक तुम भी हो. मैं उसके ऑफर को सुन कर पहले तो दंग रह गया … बाद में यह सोच कर कि हाथ लगी मुर्गी को ऐसे कैसे चला जाने दूँ … और बस उसके साथ अन्दर चला गया.

जब मैं उसको चोद रहा था, तब उसने अपनी चुत से दो बार पानी छोड़ा और मुझको पता लग गया कि ये भी चुदाई का मजा ले रही थी. साथ ही साथ उसने मुझसे पूछकर मना कर दिया और बोली कि उसके पति ने मना किया है. उसने कॉन्डम को मेरे हाथ से ले लिया और बोली कि मैं अपने हाथों से इसको पहनाऊंगी.

मैं पार्क में 9 बजे चला गया, मैंने पार्क में जाकर सारी जगहों का मुआयना किया.

उसकी काली नशीली आंखें, गुलाबी पतले पतले होंठ मुझे उसकी तरफ मोहित किये जा रहे थे. उसका लंड ज्यादा मोटा तो नहीं था लेकिन संजीव से लगभग 2 इंच ज्यादा लम्बा था. ननकू ने दो-एक बार चिन्टू को कहा भी कि मौसी के घर में पड़े रहने से बेहतर है वो कोई कामधंधा करे, दो पैसे कमा कर अपने माँ बाप का सहारा बने.

मेरे लंड में बहुत ज्यादा तनाव था क्योंकि पहली बार मैं किसी लड़की के साथ इस तरह का आनंद ले रहा था. हमने मिलने का प्लान बनाया और मैं एक हफ्ते बाद उससे मिलने पहुंच गया. चूत के अन्दर लंड के अलावा सिर्फ मर्द की जीभ जाते ही लड़की का पागलपन झलक जाता है.

और इतना सब होने के बाद भी तुम …इतना कह कर वो कुछ बोलते बोलते रुक गई. जैसे ही जीवन में पहली बार किसी चूत को छुआ, शरीर एक तेज़ बिजली की तरंग का प्रवाह हुआ.

आशीष मेरी समीज को देख कर बोला- बंध्या तू तो पागलपन की हद है … वाह क्या मस्त उठे हुए तेरे बूब्स हैं … वो भी कड़क. मैंने उससे पूछा- कब मिलोगी?तो उसने कहा- परसों मेरे सब घरवाले शादी में जा रहे हैं, तो तुम मेरे घर आ जाना. मैंने भाभी के बालों पर हेयर रिमूवल क्रीम लगा दी और भाभी को किस करने लगा.

मुझे ज्यादा मस्ती छाने लगी थी, मैं उसकी पैन्ट की चैन खोल के उसके लंड को बाहर निकल कर हाथ से हिलाने लगी, जिससे वो और जोर जोर से मेरे चूचों को काटने लगा और चूसने लगा.

एक तरफ भाभी की चूत मेरे होंठों पर थी और दूसरी तरफ भाभी मेरे लंड को चूस कर मुझे मजा दे रही थी. सीढ़ियों पर वह आगे चल रही थीं जिससे उनकी सुन्दर मचलती हुई गाण्ड और मोटी गुदाज गोरी पिंडलियाँ दिखाई दे रही थीं. ये लंड का दीवाना है, चलो आज इसको प्राइवेट प्रॉपर्टी से पब्लिक प्रॉपर्टी बना देते हैं.

मुझे लगा कि मैं सच में ही मैं सिर्फ किसी एक लड़के का नहीं मगर सभी के लंड का दीवाना हूँ. उसने अपने एक हाथ से मेरी शर्ट के बटन खोल दिए और मेरी जीन्स का बटन भी खोल दिया.

इतना कहने के बाद मैंने ज़ोर से धक्का मारा तो मेरा पूरा लंड माँ की गांड को फाड़कर अन्दर तक घुस गया और फिर मैं धीरे-धीरे अपनी सगी माँ की गांड को मारने लगा. इसलिए मैंने जल्दी से नाइटी पहनी और लाइट बंद करके कमरे से बाहर आ गई. वो बोले- तू एक काम कर … दारू के एक दो पैग और बनाने की व्यवस्था कर … मैं इसे थोड़ा और रंग के आता हूँ.

संभोग करने के बाद

कभी मैं उसकी चूत की फांकों को काट लेता था, तो कभी उसकी चूत में फिर से जीभ चलाना शुरू कर देता था.

इस मालिश में मुझे मामी कमर पर हाथ फेरने के अलावा उनकी टांगों को भी नंगा करके ऊपर तक हाथ चलाना होता था. कुछ देर तक लंड चूसने के बाद वह बोली- तुम कुछ नहीं करोगे क्या?उनका इतना कहने की देर थी कि मैंने उसको अपनी बांहों में उठा लिया और सोफे पर ले जाकर आराम से प्यार से लेटा दिया. मेरी साँस बंद हो गई, पर मैं बदस्तूर उनकी बुर को ज़ोर-ज़ोर से चाटता, चूसता रहा.

वो … मैं … कह रही थी कि उसका भी पेपर खराब हुआ है … अगर आप …” मैं बीच में ही रुक गयी, ये सोच कर कि समझ तो गये ही होंगे।चल ठीक है. रिश्तों में चुदाई की मेरी कहानी के पहले भागमामी की जवानी को लूटा-1में अब तक आपने पढ़ा कि मैं मामी के साथ शादी में जाने वाला था और इसी वजह से मामी मेरे साथ बाजार शॉपिंग करने गई थीं. रीना सेक्स वीडियोपरिवार की आर्थिक हालत अच्छी न होने से मैंने अपनी पढ़ाई बीच में छोड़ दी और पिताजी की खेत के काम में मदद करने लगा.

नीचे की तरफ विनय जीजू ने दीदी की चूत में अपनी जीभ डाल दी और चूत में उसको अंदर बाहर करने लगे. अब कैसी तबियत है आपकी?मैं- अब ठीक है कल इलाज के लिए चंडीगढ़ ही आ रहा हूँ.

उन्होंने थोड़ा नर्म-चिकने कपड़े का सिला हुआ फॉर्मल पेंट पहन रखा था, जिस पर से लंड को सहलाना मानो लंड को छूने के ही समान था. वहां एक 34 की ब्रा भी टंगी थी, उसको ऐसे दबा रहा था, जैसे भाभी के दूध दबा रहा होऊं. जितनी तेज़ी से मेरा लण्ड चूत के अन्दर जाता उतनी तेज़ी से सलोनी अपनी गांड मेरी जांघों से पीछे करके सटा देती,सलोनी बार-बार अपनी गांड को पीछे करके लण्ड को चूत में ले रही थी, कभी मैं उसकी चूचीमसलता तो कभी पीठ पर चुंबन करता तो कभी उसके चूतड़ पर चांटे लगाता.

उन्होने मेरी पैंट के ऊपर से मेरे लंड को पकड़ कर दबाया, उसे लोहे की तरह सख़्त देख हँसने लगी. दूसरे इतनी देर की पेलमपेल के बाद नीना की चूत प्रशांत के लंड को पूरा गटक जाने लेने के लिए तैयार भी हो चुकी थी. चार पांच मिनट तक मैंने उसे ऐसे देखा, फिर उसने कपड़े पहन लिए और मैं वहां से चला गया.

क्या आप मेरे से बात करोगे ताकि मैं अपनी सील तुड़वाने सम्बन्धी जानकारी प्राप्त कर सकूं।इस प्रकार मेल पर हमारी बात शुरू हो गयी.

जैसे ही बनियान उतारना शुरू किया, उसका नंगा पेट और सीना मेरे सामने आ गया. थोड़ी देर बाद इंदु उठी, उसकी चुत से उसका और मेरा पानी नीचे उसकी जांघों पर नीचे बह रहा था.

मगर मैं कैसे इस तरह की बन गई, इसकी भी एक पूरी कहानी है जो मैं आज सब के सामने बिना कुछ भी छुपाए बताने जा रही हूँ. अपने साथ क्यूँ चिपका रखा है?मैंने कहा है सर … पर वो कह रही है कि मेरे साथ ही जाएगी … अब बाकी बच्चे भी जा चुके हैं … मैं उसको फिर से बोल कर देखती हूँ. मैंने जरूर कुछ अच्छे कर्म किए होंगे पिछले जन्म में जो उसकी चूत के दर्शन मुझे हुए.

इस सेक्सी माहौल के दौरान प्रशांत खुद को किस्मत वाला समझने लगा और मन ही मन मुस्कुरा उठा. मैं- हां मम्मी जी, आप ही कोई सलाह दो मुझे …सासू माँ- तू 2-3 महीने तक रुक जा यहां और जैसा मैंने बताया वैसी लाइफ जी कर देख ले, अगर तुझे ठीक ना लगे तो चली जाना अपने मायके … और वसीयत अपने ही पास रख या तो अपने मायके भिजवा दे. उसके बाद हम अच्छे दोस्त बन गए, फिर मैंने उससे उसका फ़ोन नंबर मांगा और उसने बिना कुछ सोचे दे दिया.

अनुष्का शर्मा का बीएफ वीडियो मैंने दिशा से कहा- देखो मैडम, मुझे पैसों की ज़रूरत है इसलिए मैं यह सब काम करता हूँ।उसने कहा- कितने पैसे चाहिएं तुम्हें, मैं दे देती हूँ।मैंने कहा- मुझे किसी का अहसान नहीं चाहिए. हम जब भी अकेले में मिलते, तो मैं उसे किस करता, उसके होंठों को छूता, जिसकी वजह से वो नशे में आ जाती और मुझे भी जोर जोर से किस करती.

सेक्सी पिक्चर ब्लू सेक्सी पिक्चर

… सच में बहुत मजा आ रहा है … हां…ऐसे ही … ओह्ह्ह सैयां जी … मैं आज से आपकी पत्नी बन गयी. कुछ देर बाद मैंने किताब को पढ़ना शुरू किया तो मुझे ऐसा लग रहा था कि मुझे बुखार चढ़ने लग गया है और मेरे बूब्स जो अभी तक पूरी तरह से विकसित भी नहीं हुए थे, उनमें और बुर में पता नहीं क्या होने लगा. मामी जी- अह्ह्ह्ह … ऐसे ही मन लगा कर बीबी की सेवा करना … हाय … सीईईईई … उफ्फ्फ … मेरे राज्जाअ … राहुल … और तेज़ … अओउरर्रर तेज.

चार दिन बाद मैंने पानीपत से सुबह की बस पकड़ी और दिल्ली बस स्टैंड आ पहुंचा. मगर क्या आपने सोचा कि यदि कोई आपकी पसंदीदा हिरोइऩ किसी दिन आपके सामने ऐसे लिबास में आ जाए, जिसमें से उसका मलाई बदन करीब से निहारा जा सके तो आप पर क्या गुजरेगी. लौंडिया लंदन से लाएंगे वीडियो गानामैंने उनकी तरफ देखा तो उस गाड़ी में 4 लड़के बैठे थे … सभी 25-26 साल के यंग थे.

जब भी आता, मीणा के लिए कुछ खाने पीने को लाता और कुछ बिंदी सुर्खी चूड़ी भी ले आता.

मैं झट से मैडम के मुँह की तरफ अपना लंड करके हो गया और खुद अपने मुँह को मैडम की रसीली चूत पर लगा दिया. वो बोली- दोपहर को मार्किट में मिलना मुझको, मुझे कुछ दिलवाना है आपको.

मैंने अजय को शुक्रिया भी कहा, क्योंकि अपने घर में अपनी बीवी के लिए किसी अनजान आदमी, भले ही उसका मित्र ही कह लो, उसको बुलाकर अपनी बीवी भी उसके हवाले कर देना, हर किसी के सामर्थ्य में नहीं होता है. ”अच्छा चल मैं भी कभी कभी तुझे आइसक्रीम को पैसे दे दूंगा, पर तू किसी को बताएगी तो नहीं. मैं ऐसे ही उसके ऊपर ही लेटा हांफता रहा और वो मेरी कमर और मेरे बालों को सहलाती रही.

आज मेरी चूत को फाड़ दो, आज कुछ भी हो जाए लेकिन मेरी चूत फाड़े बगैर मत झड़ना … आआह और ज़ोर से … उउउईईई अम्मी … आहह.

ह्हम्म!मैंने शरमाते हुए कहा- क्या बताएं काका हमें तो आदत ही है, अच्छी अच्छियों की चाल ढाल बदलने की. मैंने भी जरा बेशर्म होकर अपना पल्लू ढलका दिया, जिससे मेरी चूचियों की दरार उजागर हो गई. मेरे कदमों की आहट सुनते ही उपिंदर ने उसे खींच के अपनी जांघों पे बिठा लिया और होंठों से होंठ जोड़ दिए.

वीडियो पेपरमैंने कहा- क्या जानती हो तुम?वह बोली- जब मेरी साड़ी दाल में गिर गई थी तो तुम क्या देख रहे थे. मैं उसके चूचों को पूरा ज़ोर लगाकर दबा रहा था जिससे उसके जवान चूचे जल्दी ही तनकर टाइट हो गए थे और उसके मुंह से कामुक आवाज़ें निकलने लगी थीं.

पुलिस वाले की चुदाई

मेरी इस चुदाई की कहानी पढ़ कर किसी ने अपना लंड हिलाया हो या चूत में उंगली की हो, तो मेरा कहानी लिखना सफल होगा. उसके मुंह में जाते ही लंड ने पिचकारी मारी और सारा वीर्य उसके मुंह में जाने लगा. मैं मुंबई में अपने घर में जहां रहता हूँ, वहां हम लोग सात साल पहले रहने आए थे.

मैं राजस्थान के झुंझुनू जिले के एक गांव का रहने वाला हूँ और अभी अजमेर में रहता हूँ. इसी बीच मेरे अण्डकोष मामी जी की गांड पर लगते और थप थप की आवाज़ आती. मैंने उसके निप्पल छोड़ कर उसके होंठों को चूसना शुरू कर दिया और धकापेल चुदाई करने लगा.

वो मेरे ऊपर धीरे से झुक कर मेरे दोनों चूचों को दबा कर चुदाई कर रहा था, मज़ा भरपूर आने लगा था. चिन्टू खाट से उठा और मीना के पास जाकर उसके गले में अपनी बाहें डाल दीं. दीपक- तुम कुछ भी कहो विचित्र, लेकिन सच तो यह है कि मेरी भाभी का कोई जवाब नहीं … वह लाजवाब है.

मैं बोली- आशीष तूने रंडियों को किया है क्या?तो बोला- नहीं रे पगली … सुना है … वीडियो में देखा है और मेरे कुछ दोस्त रंडियों संग सेक्स कर चुके हैं, तो वह बता चुके हैं मुझे. माफ़ी चाहूँगा ऐसा मेरा मानना है।घोष बाबू- बात तो आपकी बिल्कुल सही है.

फिर उसने मुझसे पूछा- ये बताओ तुम अभी कहां पर हो?मैंने कहा- मैं तो अभी काम कर रहा हूँ।उसने कहा- तो एक काम करो, कि मेरे घर पर आ आजो, हम साथ में बैठकर कॉफी पीते हैं और इस बहाने मैं तुम्हारा शुक्रिया अदा भी कर दूंगी.

मैंने भाभी के पांवों को थोड़ा चौड़ा किया और पीछे से लंड को उनकी चूत में डाला और उनकी कमर के ऊपर लेट कर लंड अंदर-बाहर करने लगा और उनकी गर्दन और उनके कानों को चूमता रहा. ब्लाउज के सुंदर डिजाइनतभी कल्पना अपने रूम से आईं और रत्ना से पूछा- घर का सारा काम हो गया या कुछ बाकी है?रत्ना- जी दीदी, सब हो गया है. सबसे खतरनाक वीडियोअब भाभी भी गर्म हो गईं, उन्होंने भी रंग लिया और फटाफट भैया की पेंट और चड्डी नीचे करके उनके लंड पर रंग मल दिया. माला को पिछले एक महीने से लंड की खुराख नहीं मिली थी, तो वो वैसे ही चुदवाने को मचल रही थी.

उधर उसका यार मेरी चूत का बुरा हाल कर रहा था, अपनी ज़ुबान को मेरी चूत खोल कर जितनी अंदर कर सकता था, करके अपनी ज़ुबान को घुमा रहा था.

सिर्फ उह … आह … उह्ह … आअह … हम्म … हम्म … बस … जैसी आवाजें हम दोनों के ही मुंह से निकल रही थीं. जैसे जैसे मैं उन नंगी फोटो को देखती जाती थी, मेरे दिल की धड़कन बढ़ती जाती थी. पूनम मेरी माँ के साथ रसोई में काम करवाने चली गई और मैं नहाने के लिए चला गया.

अब मैंने हिम्मत को एकजुट किया और अपने दिल से कहा कि मौका है और दस्तूर भी. भाभी मेरे लंड को पकड़ कर बोली- तू तो सच में बड़ा हो गया है, इतना बड़ा लंड तो तेरे भाई का भी नहीं है. अब मैं भी उस घर में कभी नहीं जाऊंगा, अगर उस गांव आया भी तो सिर्फ अपनी बंध्या डार्लिंग से मिलने आऊंगा.

एक्स एक्स एक्स भारत

मैं खुद भी लंड चुसाने के बाद उसके मुँह में मुँह लगाकर उसके मुँह में पड़ा, मेरा रस चाट कर उसको मजा देने लगा. फिर उसने मुझे अपनी बांहों में भर कर मेरे बालों में जो बैंड लगा था, उसे खोल दिया और बोला- तुम्हारी जुल्फें बहुत खूबसूरत हैं, इन्हें खोल दो बंध्या … तुम बहुत सेक्सी हो. सेक्स करने के बाद हम दोनों यूं ही नंगे ही बिस्तर पर लेट कर एक दूसरे को किस करने लगे.

मैंने जैसे ही उसकी चूत के पास हाथ रखा, तो उधर उसका लोअर गीला हो चुका था.

वो रुआंसे मन से बोली कि उसका पति उसे बिल्कुल टाइम नहीं देता, इतना पैसा किस काम का, न मुझे प्यार देता है ना मेरे पास रहता है.

उससे ऐसा लग रहा था कि भाभी भी सेक्स के लिए प्यासी है।मैं भाभी के होंठ 10 मिनट तक चूसता रहा. उधर अब्बू लहंगे में खुद कारीगरी में लग गए, अम्मी और भाभी किचन में जाकर खाना बनाने लगी. चिकन करी बनाने का तरीकाफिर वो उठी और उसने मुझे पीठ के बल लेटा कर लंड को किस किया और मेरे लंड पे कंडोम लगा कर उसपे बैठ गयी.

मस्त चूचियां, पतली कमर, गदराया बदन, गांड भी पीछे से बहुत ही सुन्दर. इस सेक्सी माहौल के दौरान प्रशांत खुद को किस्मत वाला समझने लगा और मन ही मन मुस्कुरा उठा. अब तो चूत को छूने से ही वह दर्द कर रही थी। अजय ने मेरी चूत को फाड़ कर रख दिया था.

उसने लाल रंग की ही ब्रा पहन रखी थी, जिसमें उसके बूब्स बहुत सेक्सी लग रहे थे. दीदी की सासू माँ बोलने लगी- ये एक हफ्ते से चल रहा है ना … पूछो मुझे कैसे मालूम … याद है मैं एक दिन जब सुबह मंदिर से आयी, तुमने दरवाजा खोला और तुम्हारी दीदी बाथरूम में थी.

जल्दी ही वो शर्ट लेकर आ गया और मेरे पास ही खड़ा होकर मुझे साड़ी खोलते हुए देखने लगा.

मामी की जवानी को किस तरह से लूटा, इस घटना को पूरे विस्तार से लिखने के कारण कहानी का अगला भाग जल्द ही आपकी खुजली को दूर कर देगा. इससे मेरी हिम्मत बढ़ गयी और मैं भाभी को घुमा कर उनके होंठों को चूमने लग गया. मैंने अपने स्कूल टाइम में ही कई लड़कियों की चूत मारी थी और किसी को पता नहीं, पर मैं अपने चाचा की लड़की को भी पेलता था.

तिरंगा वीडियो पिक्चर मैं अपने दोनों हाथों से उसके सिर को पकड़ कर उसके मुँह की चुदाई कर रहा था. तीसरी बात उसने ये अच्छी की कि सुखबीर के झड़ने के बाद उसे फिर से उत्तेजित किया और पारंपरिक तरीके से बदल कर खुल कर संभोग में भागदारी निभाई.

अब मैंने अपने लंड को उसकी चुत पे सैट करके एक तेज झटका दिया, जिससे मेरा लंड उसकी चुत में सरसराते हुए घुस गया और वो जोर जोर से कामुक आवाजें निकालने लगी- आह ओह मीनूऊऊ … और तेज चोदो … मुझे चोद दो … आह फाड़ दो मेरी चुत को … आह मजा आ गया … मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है … आह आज तो तुम मेरी चुत का भोसड़ा बना दो. कई बार वहां कोई लड़की मिल जाती है, लेकिन ज्यादातर लड़कियों के नाम पे वहां सब लड़के ही होते हैं. उसका टॉप इतना झीना था कि उसके मम्मे ही नहीं, उसके नुकीले निप्पल्स भी दिख रहे थे.

छोडा छोड़ि वाला फिल्म

भाभी की चूत ने पानी छोड़ना चालू कर दिया था, जिससे ऐसा लग रहा था कि मेरे लंड में अब चिकनापन आने लगा हो. भाभी भी मुझसे खुल गई और खुद अपने आप अपने बारे में बताने लगी कि किस किस ने उन पर ट्राइ मारी है. वो आवाज मेरे बगल से आई थी; जैसे ही मैंने उसके चेहरे पर देखा, मेरी हवा निकल गई.

बच्चे बड़े हो रहे हैं और तुझे रोमांस सूझ रहा है?तो क्या अब हम बूढ़ीया गये हैं?” मीना ने कहा. मेरा उनको दबा के शांत करना बहुत जरूरी हो गया था और मैंने भी वही किया.

करीब 10 मिनट तक चूसने के बाद उन्होंने मुझे मेरे होंठों पे किस किया और अपने लौड़े पर कंडोम चढ़ाया.

मैं दोबारा से उनके चुचे दबाने ओर चूसने लगा, तो वो बोली- अब कंट्रोल नहीं हो रहा है. ननकू के नौकरी छोड़ गाँव में रहने की बात सुन मीना परेशान हो गयी क्योंकि अब उसे चिन्टू से मिल कर अपनी कामवासना शांत करने का अवसर नहीं मिल सकता था. अब मैं हर रोज जिम से आते ही सीधा भाभी के घर जाने लगा और रसोई में भाभी के साथ खड़ा होकर अंडे उबालता था.

जैसे ही वह कपड़े पहनने लगी तो मैंने सोनू से कहा- सोनू, अभी कपड़े मत पहनो, तुम मेरा तो काम पूरा कर दो. अब मैं अपनी चूत में बैंगन डालूं या खीरा?यह कहते-कहते नीना रोने का नाटक करने लगी. मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में दबा लिया और और अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दी.

मैंने कहा- यही तो जिंदगी का असली मजा है, अब तुम नहीं लेती तो बात दूसरी है.

अनुष्का शर्मा का बीएफ वीडियो: ”उन्होंने मेरे हाथ में एक बड़ी कैडबरी रखी, उसे देख कर मैं भी पिघल गयी. मैं उसे कोई अपनी निजी जानकारी नहीं देना चाहती थी, सो मैंने कह दिया कि सब सही है.

मैं तैयार हुआ, स्कूटर बाहर निकाला और हेमा भाभी को पीछे बैठाकर मार्केट की ओर निकल गया। बाहर जाते हुए लता भाभी ने हमें देख लिया था और उनके चेहरे से लगा कि वह जलकर खाक हो गई थी. मैंने कुछ महीनों पहले अपनी सेक्स कहानी पेश की थीदोस्त को जन्मदिन का तोहफ़ाजिसमें मैंने अपनी मंगेतर वैशाली को अपने दोस्त बृजेश को उसके जन्मदिन के तोहफ़े के तौर पर चोदने के लिए गिफ्ट की थी, उसके बारे में बताया था. तभी बातों बातों में पता चला कि वो भी एक कंपनी में जॉब करता है, किराए के रूम में अकेला ही रहता है और अपने लिए एक रूम पार्टनर ढूंढ रहा है.

क्योंकि यह पहली सर्दी है, जो अपने साथ समलैंगिकता का अधिकार भी लेकर आयी है और हर लिंग को अपनी बांहो में भरने के लिए बांहें फैलाये खड़ी है.

मैं इस शहर में कोचिंग के साथ साथ जिम भी करता था, जिसके वजह से मुझे खुराक में अंडे खाने की इच्छा होती थी. तभी अन्दर से सोनम की मम्मी ने आवाज दी, तो सोनम अन्दर अपने आंगन में गई और आशीष को बोली- आप दोनों बात करो भैया, मैं आई. वो भी दर्द से चिल्ला उठी- आह्ह्ह्ह … आराम से डार्लिंग … थोड़ा आहिस्ता!हाय मेरी प्यारी बीवी … अब कहाँ आहिस्ता … इतने दिन बाद तेरी ठुकाई कर रहा हूँ, थोड़ा बर्दाश्त कर ले मेरी रानी!” और पीछे से जोर से पकड़ कर उसकी चोदाई जारी रखी.